विज्ञापन
विज्ञापन
बनवाएं फ्री जन्मकुंडली और जानें , कही आपकी कुंडली में कोई दोष तो नहीं ?
astrology

बनवाएं फ्री जन्मकुंडली और जानें , कही आपकी कुंडली में कोई दोष तो नहीं ?

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

विज्ञापन
Digital Edition

कासगंज जिले में पहली बार रिकॉर्ड 78 कोरोना मरीज मिले, कई छात्र भी संक्रमित

कासगंज में रविवार को एक साथ 78 कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। एक साथ इतने कोरोना संक्रमित मिलने से स्वास्थ्य महकमे में हड़कंप मच गया है। कोरोना संक्रमण की यह पुष्टि आरटीपीसीआर जांच में हुई है। स्वास्थ्य विभाग ने सभी संक्रमितों को कोरोना अस्पतालों में आइसोलेट करा दिया है।

सबसे अधिक संक्रमित ग्रामीण क्षेत्र में पाए गए हैं। शहरी क्षेत्र में मात्र 17 और ग्रामीण क्षेत्रों में एक साथ 60 मरीज मिले हैं। कोरोना अब ग्रामीण इलाकों में पैर पसार रहा है। रिपोर्ट के मुताबिक गंजडुंडवारा ब्लॉक क्षेत्र में 13, सोरों ब्लॉक क्षेत्र में 6, पटियाली ब्लॉक क्षेत्र में 9, सिढ़पुरा ब्लॉक क्षेत्र में 10, अमांपुर ब्लॉक क्षेत्र में 13, सहावर क्षेत्र में 13 और कासगंज में 15 संक्रमित पाए गए हैं। स्वास्थ्य विभाग ने सभी संक्रमितों को कोरोना अस्पतालों में आइसोलेट कर दिया है। स्वास्थ्य विभाग संक्रमितों के संपर्क में आने वाले लोगों की भी जांच करा रहा है। विभाग ने रिपोर्ट उच्चाधिकारियों को भेज दी है। 

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने दो दिन पहले जताई थी चिंता 
दो दिन पूर्व शुक्रवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने उत्तर प्रदेश के 10 जिलों में बढ़ रहे कोरोना के मामलों को लेकर चिंता व्यक्त की थी। उन्होंने वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से कासगंज जिला प्रशासन के अधिकारी सीडीओ एवं सीएमओ सेे बढ़ रहे कोरोना के मामलों को लेकर जानकारी ली। उन्होंने कोरोना गाइडलाइन का पालन सुनिश्चित कराने और जांच बढ़ाने व अन्य जरूरी कदम उठाने के निर्देश दिए। प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग रिकॉर्ड मामले में एक साथ मिलने के बाद से सक्रिय हुआ है और कोरोना प्रोटोकॉल का पालन सुनिश्चित कराने पर जोर दे रहा है।
 
... और पढ़ें

संक्रमण के चलते नहीं हुए मुख्य आयोजन, कॉलोनियों में धू-धू कर जले दशानन के पुतले

संक्रमण के कारण रामलीला मैदान और सेंट जोंस पर भले ही रावण, मेघनाथ और कुंभकरण के पुतलों का दहन न हो पाया है लेकिन शहर में विजयदशमी पर पुतला दहन की परंपरा कायम रही। लोगों ने कॉलोनियों में में दशानन के पुतलों का दहन किया। उनका उत्साह देखने लायक था।

शाम से ही जय श्रीराम के नारे गूंजने लगे। बल्केश्वर, कमला नगर, आवास विकास, घटिया आजम खां, छावनी सहित 50 से अधिक कॉलोनियों में पुतले दहन किए गए। कैंट में तो परंपरा को कायम रखने के लिए राम-रावण युद्ध का मंचन भी किया गया।

राम के बाणों से जल उठा रावण

आगरा कैंट रेलवे संस्थान के मैदान पर विजयादशमी पर रामलीला के कलाकारों ने शाम को श्रीराम और रावण के बीच हुए युद्ध की लीला की। राम के स्वरूप विनोद मौर्य और रावण के स्वरूप मनोज सिंह वेशभूषा में मैदान पर आए। उनके साथ लक्ष्मण के स्वरूप में राहुल जयकर, हनुमान के स्वरूप भूरी सिंह यादव भी थे। युद्ध के पश्चात मैदान पर बनाए गए रावण के पुतले का दहन किया गया। मंच निर्देशक राकेश कनौजिया ने बताया कि विजयादशमी पर युद्ध व पुतला दहन बेहद सादगी के साथ किया गया। विमल वर्मा, अर्जुन प्रजापति, विभांशु कोहली, रामकुमार, डीपी राठौर, अमित कुमार, डॉ. राजीव शर्मा, अभय कुलश्रेष्ठ, राजकुमार श्रीवास्तव, बृजेश मौर्या, अखिलेश दुबे आदि मौजूद रहे।
... और पढ़ें

नवरात्र के दौरान आगरा में जन्मीं 1370 'दुर्गा-गौरी', बेटियों के जन्म पर परिजनों ने मनाया उत्सव

वृंदावन में बांकेबिहारी की जय-जयकार, भक्तों की लगी कतार, आज दर्शन करेंगे दो हजार

दर्शन के लिए आए भक्त दर्शन के लिए आए भक्त

भाजपा नेता हत्याकांडः सुपारी देकर भाड़े के शूटर से कराई थी हत्या, पुलिस ने किया खुलासा, खुले चौंकाने वाले राज

टूंडला के नगला बीच में भाजपा के मंडल उपाध्यक्ष दयाशंकर उर्फ डीके गुप्ता हत्याकांड का पुलिस ने रविवार को खुलासा कर दिया। हत्या के पीछे जमीन को लेकर रंजिश की बात सामने आई है। हत्या पड़ोसी ईश्वरदेव गुप्ता ने चार लाख रुपये के साथ-साथ 50 गज के प्लाट की सुपारी देकर भाड़े के शूटरों से कराई थी। पुलिस ने हत्या की साजिश रचने वाले ईश्वरदेव गुप्ता, उसके भाई सहित सात को गिरफ्तार कर जेल भेजा है। हत्या में प्रयुक्त तीन तमंचा, दो बाइक बरामद की है। एसएसपी ने खुलासा करने वाले टीम को 25 हजार एवं एडीजी आगरा जोन ने 25 हजार पुरस्कार देने की घोषणा की है। भागे शूटर दुर्वेश पर 25 हजार का इनाम घोषित किया है। ... और पढ़ें

खतरनाक हुई ताजनगरी की हवा, धूल कणों की संख्या सामान्य से सात गुना अधिक

खराब चल रही ताजनगरी की हवा रविवार को खतरनाक  स्थिति में पहुंच गई। वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 309 दर्ज किया गया। यह इस सीजन का उच्चतम स्तर है। धूल कणों की संख्या सामान्य से सात गुना ज्यादा है। शहर में कई जगह एक्यूआई 400 के पार गया। यहां लोगों को सांस लेने में दिक्कत हुई।

विशेषज्ञों के अनुसार प्रदूषण के खतरनाक स्तर पर पहुंच जाने की वजह आसपास पराली जलाए के साथ ही शहर में लगातार धूल उड़ना भी है। शहर में 450 किमी सड़कों की खोदाई चल रही है। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा शाम को जारी की गई सूची में आगरा का एयर क्वालिटी इंडेक्स 309 रहा। यह 24 घंटे का औसत है जबकि शहर में लगे पर्यावरण उपकरणों की रिपोर्ट के मुताबिक फतेहाबाद रोड पर स्मार्ट सिटी की खुदाई के कारण पुरानी मंडी और बसई तिराहे पर प्रदूषण इससे कहीं ज्यादा है।

पुरानी मंडी पर एक्यूआई 448
ताजमहल के पास पुरानी मंडी चौराहे पर एयर क्वालिटी इंडेक्स 448 दर्ज किया गया। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के मानकों के मुताबिक 400 से 500 के बीच हालात बेहद खराब माने जाते हैं और इमरजेंसी जैसी स्थिति बनती है। ईदगाह चौराहे पर एयर क्वालिटी इंडेक्स 418 और शाहगंज क्षेत्र में 401 है। यह बेहद खतरनाक हालात है। सामान्य से 7 गुना ज्यादा धूल कणों के कारण इन क्षेत्रों में रहने वाले लोगों का सांस लेना भी मुश्किल हो गया है।
... और पढ़ें

Corona In Agra: ताजनगरी में सात हजार पार हुआ आकंड़ा, 423 सक्रिय मरीज

आगरा में 35 नए मरीज और मिलने से रविवार को संक्रमितों का आंकड़ा सात हजार पार कर गया है। डीएम प्रभु एन सिंह ने बताया 142 संक्रमितों की मृत्यु हो चुकी है। कुल संक्रमितों की संख्या 7015 है।


उपचार के बाद 6450 संक्रमित ठीक हो चुके हैं। 423 मरीज उपचाराधीन हैं। जिले में 2.52 लाख से अधिक लोगों के सैंपल टेस्ट किए जा चुके हैं। मरीजों के ठीक होने की दर 91.95% है।


एसएन के जूनियर डॉक्टर सहित 35 और संक्रमित
एसएन मेडिकल कॉलेज के जूनियर डॉक्टर, टेलीकॉम ऑफिसर और नौ साल के बच्चे समेत कोरोना वायरस के 35 नए मरीज मिले हैं।  एलाइंस शेल्टर अपार्टमेंट में भाई-बहन की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इनकी उम्र 15 और 17 साल है। तुलसी विहार दयालबाग, विमल वाटिका कर्मयोगी, भरतपुर हाउस, ट्रांस यमुना कॉलोनी में एक ही परिवार के दो-दो लोग संक्रमित मिले हैं।


पुष्पदीप बोदला, नयाबांस लोहामंडी, खंदारी, सदरभट्टी, शास्त्रीपुरम, शाहगंज, कालिंदी विहार यमुनापार, ताजगंज, गैलाना रोड सिकंदरा, नगला रामबल, लॉयर्स कॉलोनी, कमला नगर, दयालबाग, गैलाना, मानस नगर, नेहरू नगर, पाय चौकी, इंजीनियर्स कॉलोनी, रायभा में भी कोरोना वायरस के मरीज मिले हैं। 
 
... और पढ़ें

ताजमहलः विजयदशमी पर उमड़ी भीड़, समय से पहले बिके टिकट, मायूस होकर लौटे सैलानी

कोरोना वायरस

कार की टक्कर से दो लोग घायल, हादसे के बाद रेलिंग पर लटका युवक, आरोपी चालक पकड़ा

आगरा में भगवान टॉकीज चौराहे पर रविवार रात 11:00 बजे तेज रफ्तार कार की चपेट में आकर दो लोग घायल हो गए। टक्कर इतनी जबरदस्त थी कि एक युवक उछल कर फ्लाईओवर के नीचे बनी रेलिंग पर लटक गया। कार फुटपाथ से टकरा गई। घटना के बाद भागते चालक को लोगों ने पकड़ लिया। सूचना पर पहुंची पुलिस ने घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया है। 


चौकी प्रभारी योगेंद्र कुमार ने बताया कि दयालबाग के प्रकाश एंक्लेव निवासी नितिन गुप्ता फाइनेंस कर्मी है। वह अपनी स्विफ्ट डिजायर कार लेकर घर की तरफ जा रहा था। एमजी रोड से भगवान टॉकीज चौराहे पर आया। कार की स्पीड अधिक थी। इस कारण टर्न लेने के दौरान नियंत्रण नहीं रहा। कार की चपेट में दो लोग आ गए। 

घायलों की पहचान शीतला गली निवासी 55 वर्षीय राजकुमार और शहजादी मंडी निवासी 22 वर्षीय प्रताप सिंह के रूप में हुई। टक्कर की वजह से उछलकर प्रताप सिंह रेलिंग पर लटक गया। लोगों ने उसे किसी तरह उतारा। हादसे के बाद चालक नितिन भागने लगा। लोगों ने पीछा करके उसे पकड़ लिया। दोनों घायलों को निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उनकी हालत गंभीर बनी हुई है। सूचना पर परिजन पहुंच गए। तहरीर के आधार पर मुकदमा दर्ज किया जाएगा। 
 
... और पढ़ें

हाईटेक हुए सटोरिये, एप से लगा रहे सट्टा, एसएसपी ने कहा- बंद कराने के लिए कंपनी को लिखेंगे पत्र

मोबाइल एप से 50 से ज्यादा सटोरिये सट्टा लगा रहे हैं। ये कमला नगर, सदर और न्यू आगरा के हैं। हाल ही में गिरफ्तार सटोरियों के मोबाइल फोन से इनके बारे में जानकारी मिली। इनमें से 10 से ज्यादा ऐसे हैं जो दिखावे के लिए नौकरी और व्यापार करते हैं लेकिन उनका असली काम सट्टा लगाना ही है।

ये सभी मोबाइल एप से सट्टा लगाते हैं। एसएसपी बबलू कुमार का कहना है कि उन एप की भी जानकारी हो गई है जिनके माध्यम से सट्टा लगाया जा रहा है। इन्हें बंद कराने के लिए कंपनी को पत्र भेजा जाएगा। 

एसएसपी ने बताया कि हाल ही में 20 से ज्यादा सटोरिए गिरफ्तार हुए हैं और भी कई के बारे में सूचना आई है। आईपीएल (इंडियन प्रीमियर लीग) के दौरान ये सटोरिए सक्रिय हुए हैं। कई ऐसे हैं जो पूर्व में आगरा से जेल गए लेकिन अब दिल्ली, देहरादून, नोएडा, गुड़गांव आदि जगहों पर रहकर सट्टा लगा रहे हैं। इनके बारे में संबंधित जिलों की पुलिस को सूचना दे दी गई है। एप को प्ले स्टोर से हटाने के लिए भी पत्र लिखा जाएगा। 
 
... और पढ़ें

डॉ. भीमराव आंबेडकर विश्वविद्यालयः परास्नातक में प्रवेश के लिए वेब रजिस्ट्रेशन जारी

डॉ. भीमराव आंबेडकर विश्वविद्यालय प्रशासन ने परास्नातक पाठ्यक्रमों के प्रवेश के लिए वेब रजिस्ट्रेशन और आवेदन फॉर्म भरने की तिथि बढ़ा दी है, अभी तक यह जानकारी सार्वजनिक नहीं की गई है। विवि की वेबसाइट पर वेब रजिस्ट्रेशन की अंतिम तिथि रविवार शाम छह बजे तक 20 अक्तूबर ही दिख रही थी।

विश्वविद्यालय ने वेब रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया 20 अक्तूबर के बाद भी बंद नहीं की है। जो छात्र वेब रजिस्ट्रेशन कराने का प्रयास कर रहे हैं, उन्हें सफलता मिल रही है। तमाम छात्र ऐसे भी हैं जो रजिस्ट्रेशन कराने के लिए तिथि बढ़ने का इंतजार कर रहे हैं।

समाजवादी छात्रसभा के महासचिव रवि यादव व एनएसयूआई के जिलाध्यक्ष विलाल अहमद का कहना है कि जब स्नातक अंतिम वर्ष के परीक्षा परिणाम जारी नहीं किए गए हैं तो अंतिम तिथि निर्धारित ही नहीं करनी चाहिए। इसे 15 अक्तूबर तक बढ़ानी चाहिए। अंतिम तिथि बढ़ाने की जानकारी न देने से स्थिति स्पष्ट नहीं हो रही।
... और पढ़ें

यहां विजयदशमी पर हुई रावण की पूजा, हवन कर आरती उतारी, पुतला दहन का विरोध

विजयदशमी पर जगह-जगह रावण का पुतला दहन किया जाएगा, लेकिन आगरा में दशानन की पूजा की गई। लंकापति दशानन रावण महाराज पूजा आयोजन समिति ने रविवार को भगवान महादेव और रावण की पूजा अर्चना हवन कर आरती की। इस दौरान समिति के लोगों ने रावण के पुतला दहन का विरोध किया। 



सिकंदरा के रामलाल वृद्ध आश्रम का बद्धेश्वर महादेव शिव मंदिर में भगवान महादेव की पूजा अर्चना की गई। साथ ही लंकेश के स्वरूप महाराज दशानन की आरती हुई। लंकापति दशानन रावण महाराज पूजा समिति के सदस्य डॉ. मदन मोहन शर्मा ने बताया कि भगवान राम ने रामेश्वरम में स्वयं रावण से पूजा कराई थी। 


रावण का पुतला दहन राम का अपमान

उन्होंने कहा कि ऐसे प्रकांड विद्वान रावण का प्रतिवर्ष पुतला दहन भगवान राम का अपमान है। चूंकि भगवान राम ने लंकेश को अपना आचार्य माना था। भगवान के आचार्य का प्रतिवर्ष पुतला दहन एक कुरीति है, जिससे वातावरण प्रदूषित होता है। आने वाली नई पीढ़ी को गलत संदेश मिलता है। हिन्दू संस्कृति में एक व्यक्ति का अंतिम संस्कार एक बार ही होता है और उसका बार-बार पुतला दहन करना एक अपमान है।
... और पढ़ें
Test
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X