विज्ञापन

जालंधर

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

मौत की वजह बना हेडफोन: महिला को न ट्रेन का हॉर्न सुनाई दिया, न लोगों की आवाज, पल भर में चली गई जान

हेडफोन लगाकर पटरी पार करती महिला की ट्रेन की चपेट में आकर मौत हो गई। हादसा मंगलवार दोपहर 1:40 बजे पंजाब के जालंधर में हुआ। आसपास के लोगों ने आवाज देकर महिला को रोकने की कोशिश भी की लेकिन उसने न तो ट्रेन का हॉर्न सुना, न लोगों की आवाज। 50 मीटर तक ट्रेन उसे घसीटते ले गई। जीआरपी ने शव को पहचान के लिए सिविल अस्पताल में रखवा दिया है। 

चश्मदीद अमरीक सिंह ने बताया कि मकसूदां फ्लाईओवर डीएवी हाल्ट जालंधर से 100 मीटर दूर फाटक बंद था। दोपहर 1:40 बजे जालंधर से लोहियाखास की ओर जा रही ट्रेन दूर से ही हॉर्न बजा रही थी। तभी कानों में हेडफोन लगाए एक महिला आई और बंद फाटक को पार कर पटरी पर पहुंच गई। 

फाटक के दोनों ओर खड़े लोग जोर-जोर से चिल्लाए लेकिन महिला ने न तो ट्रेन का हॉर्न सुना और न लोगों की आवाज। इससे पहले कि कोई कुछ कर पाता, ट्रेन महिला को अपने साथ 50 मीटर तक घसीटते ले गई। महिला का चेहरा बुरी तरह बिगड़ गया। इस कारण उसकी पहचान भी नहीं हो सकी। ट्रेन करीब 500 मीटर आगे जाकर रुकी और हादसे की जानकारी विभागीय अधिकारियों को देने के बाद रवाना की गई। 

एक घंटा देरी से पहुंची जीआरपी, शव के ऊपर से एक ट्रेन और गुजर गई
हैरत की बात तो यह है कि हादसा दोपहर 1:40 बजे हुआ और जीआरपी एक घंटे बाद 2:40 बजे मौके पर पहुंची। अभी जीआरपी ठीक से मुआयना भी नहीं कर पाई थी कि एक और ट्रेन महिला के शव के ऊपर से गुजर गई। 

क्या कहते हैं अधिकारी
थाना जीआरपी के इंस्पेक्टर बलवीर सिंह घुम्मन ने सफाई देते हुए कहा कि ट्रेन से किसी की मौत हो जाने पर ड्राइवर और गार्ड डिवीजन को सूचना देते हैं। यह सूचना पटियाला पहुंचती है फिर हमारे पास आती है। इस प्रक्रिया में समय तो लगता ही है। 

उधर, थाना एक की पुलिस के मुताबिक घटनास्थल पर पहुंचने में घंटे भर की देरी इसलिए हुई क्योंकि उन्हें लगा कि घटनास्थल किसी चौकी में तो नहीं आ रहा। पहले कंफर्म किया, इसके बाद वहां पहुंचे। पुलिस के सामने ही दूसरी ट्रेन शव के ऊपर से गुजर गई। 
... और पढ़ें

हैवान चाचा की करतूत: दो साथियों संग 13 साल की भतीजी से किया सामूहिक दुष्कर्म, नशे का इंजेक्शन लगाया

पंजाब के जालंधर में 13 वर्षीय नाबालिग से सामूहिक दुष्कर्म का मामला सामने आया है। नाबालिग से उसके सगे चाचा ने दो साथियों के साथ नशे का इंजेक्शन लगाकर दुष्कर्म किया। पुलिस ने तीनों के खिलाफ धारा 376 और पॉस्को एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया है। पुलिस को नाबालिग ने बताया कि कुछ दिन से चाचा उस पर बुरी नजर रख रहा था।

एक दिन जब वह बीमार हुई तो चाचा ने इलाज के बहाने हाथ में इंजेक्शन से दवाई लगाई। इसके बाद वह बेहोश हो गई। जब उसे होश आया तो चाचा और उसके दो अन्य साथी उसके साथ गंदी हरकतें कर रहे थे। जैसे ही उसने चिल्लाने की कोशिश की तो उन्होंने मुंह में कपड़ा लगा दिया और गलत काम किया। लड़की ने बताया कि पिता नशे का आदी है और मां विदेश में रहती है। दादी उसे पढ़ा रही है।

इस वारदात में ताया की लड़की भी शामिल है, जो लालच देकर घर बुलाती थी और उससे गंदे काम करने को कहती थी। नाबालिग ने बताया कि चाचा और उसके दोस्तों ने दो बार नशे की हालत में उसके साथ गंदा काम किया। नशे का बच्ची पर असर यह हुआ कि उसे बांधकर रखना पड़ रहा है।

जब नाबालिग ने दादी को सारी कहानी बताई तो उसने कुछ समाजसेवी संस्थाओं को मामले की जानकारी दी। इस मामले में पहले पुलिस ने छेड़छाड़ की धाराओं के तहत मामला दर्जकर चाचा को गिरफ्तार कर लिया था लेकिन समाज सेवी संस्थाओं और पीड़ित नाबालिग ने न्याय के लिए कमिश्नर का दरवाजा खटखटाया तो मामले में 376 और पॉस्को एक्ट की धारा जोड़ी गई। चाचा के दोनों साथियों को भी नामजद किया गया है। चाचा पुलिस गिरफ्त में है, जबकि उसके दो साथी फरार हैं, जिन्हें पकड़ने का पुलिस प्रयास कर रही है।
... और पढ़ें

जालंधर में दरिंदगी: तीन साल की मासूम से दुष्कर्म, मां ने पिता, दादा और चाचा पर लगाए आरोप, सभी फरार

जालंधर में तीन साल की बच्ची के साथ दुष्कर्म करने का मामला सामने आया है। थाना रामामंडी के एरिया में घर में अकेली मासूम से दुष्कर्म के मामले की सूचना मिलते ही पुलिस ने जांच शुरू कर दी है। घटना छह दिन पहले की है। बच्ची को गंभीर अवस्था में जालंधर के एक निजी अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। बच्ची की मां ने बच्ची के पिता, दादा और चाचा पर आरोप लगाए हैं। उसके अनुसार, वह रात को काम पर जाती है, पीछे घर में तीनों ही मौजूद रहते हैं। वहीं मां के बयान के बाद बच्ची के पिता, दादा और चाचा फरार हैं। पुलिस उनकी तलाश कर रही है। 

मासूम की मां एक निजी अस्पताल में नर्स है और रात को ड्यूटी करती है। जब रविवार सुबह घर लौटी तो बच्ची के कराहने की चीखें उसके कानों में पड़ी। पहले उसने इतना गंभीरता से नहीं लिया। सोचा कि कहीं गिर गई होगी। चोटिल होने के कारण रो रही होगी। जब बच्ची बार-बार दर्द होने की बात कहने लगी और उसका रोना बंद न हुआ तो बच्ची की मां को शक हुआ। उसने चेक किया तो बच्ची के प्राइवेट पार्ट में खून के निशान मिले। वह बच्ची को जांच के लिए एक निजी अस्पताल में लेकर गई। जहां चिकित्सकों ने जांच में पाया कि बच्ची के साथ दुष्कर्म हुआ है। परिजनों ने तुरंत इस बारे में पुलिस थाना रामामंडी को शिकायत दी। मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस ने भी तुरंत जांच शुरू कर दी। 

वहीं इस मामले में पुलिस कमिश्नर ने थाना रामामंडी के इंस्पेक्टर नवदीप सिंह को तलब किया है। बच्ची के साथ दुष्कर्म और 6 दिन बाद घटनाक्रम का पता चलने के बाद जबाव-तलब किया गया है। बच्ची के साथ दुष्कर्म 6 दिन पहले हुआ है इसका पता तब चला जब डॉक्टरों ने जांच के बाद मां को बताया। मां का आरोप है कि बच्ची को डराया गया है और वह कुछ भी नहीं बोल रही है। 

एएसआई ने मां से कहा- अगर कार्रवाई करवाई तो परेशान हो जाओगी

बच्ची से दुष्कर्म के बाद बयान दर्ज करने पहुंची पुलिस ने महिला को कार्रवाई करवाने पर परेशानियां गिनवाई तो वह पीछे हट गई। महिला को लगा कि उसकी 3 साल की बच्ची का भविष्य दांव पर लग जाएगा। उसे थाना रामामंडी के एएसआई ने कई और भी बातें कहीं थी। जब ये मामला मीडिया में उछला तो देर रात पुलिस ने अस्पताल जाकर मां के बयान दर्ज किए। फिलहाल बच्ची की हालत ठीक है पर वह कुछ भी नहीं बोल रही।
... और पढ़ें

Jalandhar: पंजाब आर्म्ड पुलिस परिसर की दीवार पर लिखे अलगाववादी नारे, पुलिस ने पेंट से मिटाया

जालंधर में पंजाब आर्म्ड पुलिस (पीएपी) परिसर में दीवारों पर अलगाववादी नारे लिखने का मामला सामने आया। इससे पीएपी में अफरा तफरी मच गई। तेजी से मुलाजिमों ने नारे पर नीला पेंट फेरकर मिटा दिया। सिख फॉर जस्टिस के गुरपतवंत सिंह पन्नू ने पीएपी की दीवार पर लिखे नारे की वीडियोग्राफी करवाने के बाद सोशल मीडिया पर धमकी दी।

डीसीपी जांच जसकरणजीत सिंह तेजा का कहना है कि जांच की जा रही है। कुछ सीसीटीवी फुटेज चेक किए जा रहे हैं। जिसके बाद आरोपियों को पकड़ा जाएगा। लेकिन पीएपी हाई सिक्योरिटी जोन है, वहां की दीवारों पर अलगाववादी नारे लिखा जाने से दहशत का माहौल है और वहां की सुरक्षा कटघरे में है।
 
... और पढ़ें

जालंधर: संतोखपुरा में शरारती तत्वों ने दुकानों के बाहर खड़ी छह गाड़ियों के शीशे तोड़े, पुलिस सीसीटीवी फुटेज खंगालने में जुटी

Punjab Police: पिंदा निहालुवालियां गैंग का नेटवर्क ध्वस्त, 13 शार्प शूटर समेत 19 आरोपी गिरफ्तार, हथियार और नकदी भी बरामद

जालंधर देहात पुलिस ने पंजाब के बड़े गैंगस्टर नेटवर्क को ध्वस्त करते हुए पिंदा निहालुवालियां गैंग के 13 शार्प शूटरों और उन्हें पनाह देने वाले छह आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपियों के पास से 11 रिवाल्वर, आठ लाख रुपये की विदेशी करेंसी और दो वाहन बरामद किए गए हैं। एसएसपी देहात स्वप्न शर्मा ने यह जानकारी दी। 

एसएसपी देहात स्वप्न शर्मा ने बताया कि थाना लोहियां की पुलिस ने गुप्त सूचना पर गैंगस्टरों को पकड़ा है। सभी 13 गैंगस्टर हिस्ट्रीशीटर हैं, जिनके खिलाफ हत्या, फिरौती और लूटपाट के जालंधर, कपूरथला, फिरोजपुर, तरनतारन और बठिंडा में 24 के करीब आपराधिक मामले दर्ज हैं। एसएसपी ने बताया कि पुलिस पिछले तीन हफ्तों से गैंगस्टरों की लोकेशन ट्रेस कर रही थी जो अक्सर ट्रेसिंग एप का इस्तेमाल कर वारदात को अंजाम देकर निकल जाते थे। इस बार पुलिस पार्टी पूरी तरह से सजग थी और नाके से ट्रैप लगाकर आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया। 

गैंगस्टरों में 13 शूटर सुनील मसीह उर्फ जीणा, रविंदर उर्फ रवि, प्रदीप सिंह, मनजिंदर सिंह उर्फ शवी, सुखमन सिंह उर्फ सुभा वासी लोहियां जालंधर, संदीप उर्फ डल्ली, मेजर सिंह, अप्रैल सिंह उर्फ शेरा, बलविंदर सिंह उर्फ गुड्डा, सुलिंदर सिंह सभी वासी नकोदर जालंधर, सतपाल उर्फ सत्ता वासी मक्खू फिरोजपुर, दविंदर पाल उर्फ दीपू और सतवंत सिंह उर्फ जग्गा वासी शाहकोट जालंधर शामिल है। पनाह और लॉजिस्टिक स्पोर्ट देने वाले छह आरोपियों में अमरजीत उर्फ अमर, बलवीर मसीह, ऐरक तीनों वासी लोहियां, हरविंदर सिंह वासी शाहकोट और बचित्तर सिंह वासी कपूरथला शामिल हैं। 

गौंडर गैंग का करीबी रहा है पिंदा

पुलिस ने गैंगस्टरों के पास से छह पिस्टल 32 बोर, तीन पिस्टल 315 बोर, एक बंदूक 315 बोर, एक बंदूक 12 बोर कुल 11 हथियार, आठ लाख रुपये की विदेशी करंसी और दो कारें बरामद की हैं। एसएसपी ने बताया कि पिंदा निहालुवालियां गैंग का सरगना पुलिस की वर्दी में नाभा जेल ब्रेक करने वाला पलविंदर सिंह पिंदा गौंडर गैंग का करीबी रहा है और ग्रीस में बैठे साथी परमजीत उर्फ पम्मा वासी शाहकोट जालंधर के साथ मिलकर गैंग को चला रहा है। उन्होंने बताया कि परमजीत उर्फ पम्मा ही पिंदा गैंग को फाइनेंस करता है और अमरजीत सिंह उर्फ अमर को हवाला के जरिए विदेशी करंसी भेजता था जो आगे अलग-अलग वारदात को अंजाम देने के लिए हथियार, रहने के लिए जगह और आने-जाने के लिए वाहनों के इंतजाम में खर्च होती थी।

नाभा जेल ब्रेक के बाद पिंदा ने बनाया अपना गैंग, 6 साल से सक्रिय

एसएसपी स्वप्न शर्मा ने बताया कि नाभा जेल ब्रेक के बाद गैंगस्टर पिंदा ने नए लड़कों को जोड़ना शुरू किया और विक्की गौंडर गैंग से अलग पिंदा गैंग बनाया। पिंदा ने नाभा जेल ब्रेक के बाद 2013 में पुलिस के पकड़ने पर एएसआई को गोली मार दी थी और फरार हो गया था। पिंदा 2018 में गौंडर की मौत के बाद और एक्टिव हो गया और उसने जालंधर के लोहियां, शाहकोट और नकोदर के लड़कों को साथ लेकर मजबूत गैंग बना लिया। उसके बाद जालंधर और बठिंडा में कत्ल, जबरी वसूली, हाईवे आर्म्ड डकैती, लूटपाट और फिरौती के लिए काम करना शुरू कर दिया।
... और पढ़ें

Firing in Phagwara: रात 12 बजे हत्या के आरोपी ने जालंधर में नाका तोड़ा, फगवाड़ा पुलिस पर फायरिंग की

कार सवार हत्या के आरोपी ने देर रात 12 बजे पहले जालंधर में नाका तोड़ा और फिर आगे महेड़ू रोड पर फगवाड़ा पुलिस के नाके पर खड़े पुलिस कर्मियों पर फायरिंग करता हुआ फरार हो गया। बचाव में डीएसपी फगवाड़ा व एसआई ने भी कई राउंड फायर किए। इस क्रास फायरिंग में किसी के जख्मी होने की सूचना नहीं है। थाना सतनामपुरा की पुलिस ने आरोपी के खिलाफ इरादा-ए-कत्ल व आर्म्स एक्ट की धाराओं के तहत केस दर्ज कर धरपकड़ तेज कर दी है।

थाना सतनामपुरा के एसएचओ इंस्पेक्टर जतिंदर कुमार ने बताया कि वह गुरुवार को देर रात 11:30 बजे महेड़ू रोड अंडरब्रिज पर मौजूद थे और नाकाबंदी कर वाहनों की चेकिंग कर रहे थे। इसी दौरान उन्हें सूचना मिली कि एक सफेद रंग की इटियोस कार को राजन निवासी गांव अहमदपुर कपूरथला चला है, जिस पर थाना सदर में हत्या का केस दर्ज है। इस समय वह जालंधर की तरफ से नाका तोड़कर भागा है, उसे तुरंत दबोचा जाए।

सूचना के 10 मिनट बाद कार सर्विस रोड से महेड़ू रोड अंडरब्रिज के नीचे से महेड़ू की ओर मुड़ी तो पुलिस ने उसे रुकने का इशारा किया। लेकिन उसने रुकने के बजाय बैरिकेड के बीच में से गाड़ी निकालने की कोशिश की और पुलिस पर मार देने की नीयत से फायरिंग कर दी। आरोपी पुलिस पर तीन-चार राउंड फायर करते हुए तेज रफ्तार में गाड़ी लेकर आया। इस पर बचाव को पहुंचे डीएसपी फगवाड़ा अछरू राम शर्मा ने अपनी सर्विस पिस्टल से तीन और एसआई सुखविंदर सिंह ने अपनी सर्विस रिवाल्वर से आरोपी पर छह राउंड फायर किए लेकिन आरोपी गाड़ी फगवाड़ा की तरफ लेकर फरार हो गया। 

एसएचओ के अनुसार किसी भी पुलिस कर्मी को गोली नहीं लगी है। आरोपी के खिलाफ पुलिस पर इरादा-ए-कत्ल व आर्म्स एक्ट की धाराओं के तहत केस दर्ज कर लिया है। उधर, एसपी (देहात) कपूरथला जगजीत सिंह सरोआ ने बताया कि सीआईए स्टाफ के इंचार्ज इंस्पेक्टर जरनैल सिंह पुलिस फोर्स के साथ ट्रैप लगाकर आरोपी राजन का पीछा कर रहे थे, क्योंकि 19 जून को सुबह कपूरथला के गांव अहमदपुर के खेतों में होशियारपुर निवासी बख्शी राम का शव मिला था। 

उन्होंने यह भी बताया कि बख्शी राम के हत्यारे और उसकी इटियोस कार की तलाश में पुलिस टीमें जुटी हुई थी। इसी दौरान शक के आधार पर एक कार का पीछा पुलिस टीमें कर रही थी। जब कार फगवाड़ा की ओर गई तो फगवाड़ा पुलिस को अलर्ट किया गया लेकिन आरोपी राजन फगवाड़ा पुलिस पर फायरिंग करता हुआ फरार हो गया। 

एसपी ने बताया कि राजन बख्शी राम की इटियोस कार पर जाली नंबर लगाकर घूम रहा है। उन्होंने यह भी बताया कि इन आपराधिक मामलों में आरोपी के साथ उसकी महिला मित्र भी शामिल है, जिसकी फोटो भी पुलिस की ओर से जारी की गई है। उन्होंने जनता से अपील की है कि दोनों आरोपी कहीं भी नजर आएं तो तुरंत पुलिस को सूचित करें। सूचना देने वाले की जानकारी गोपनीय रखी जाएगी। एसपी के अनुसार राजन अपनी महिला मित्र के साथ टैक्सी ड्राइवरों की गाड़ियां छीनता है। कुछ समय पहले ही वह ऐसे ही एक मामले में जेल से छूटकर आया है। उन्होंने दावा कि आरोपी राजन को जल्द ही उसकी महिला मित्र के साथ दबोच लिया जाएगा।
... और पढ़ें

Jalandhar: इंटरनेशनल नंबर से आई जालंधर ड्रग कंट्रोल अफसर की रिश्वत मांगने की वीडियो, विभाग ने किया सस्पेंड

सांकेतिक तस्वीर

Jalandhar News: लुधियाना के कार डीलर को अगवा करने वाले चार आरोपी काबू, मांगी थी 9.50 लाख रुपये की फिरौती

जालंधर कमिश्नरेट पुलिस ने गुरुवार शाम लुधियाना के हैबोवाल इलाके से एक कार डीलर कुलविंदर सिंह को अगवा करने के आरोप में चार आरोपियों को गिरफ्तार किया है, जो पीड़ित परिवार से 9.5 लाख रुपये की फिरौती मांग रहे थे। आरोपियों की पहचान कैलाश नगर निवासी मंजीत सिंह (42), सुभाष नगर निवासी चमकौर सिंह (29), भौरा कॉलोनी लुधियाना के भजन सिंह और मधुबन कॉलोनी जालंधर निवासी राहुल (21) के रूप में हुई है। 

हकीकत नगर, लुधियाना के पीड़ित कार डीलर कुलविंदर सिंह (30) को भी सीआईए स्टाफ -2 जालंधर की पुलिस पार्टी ने सुरक्षित बचा लिया है। खुलासा करते हुए डीसीपी जसकिरणजीत सिंह तेजा ने बताया कि कुलविंदर सिंह का कार सवार अज्ञात व्यक्तियों ने गुरुवार शाम को उनकी वर्कशॉप से बंदूक दिखाकर अपहरण कर लिया था। 

इसके बाद उन्होंने पीड़ित की पत्नी अमनप्रीत कौर से 9.5 लाख रुपये की फिरौती मांगी। उन्होंने बताया कि अमनप्रीत कौर की शिकायत पर हैबोवाल थाने में आईपीसी की धारा 365, 34 के तहत मामला दर्ज किया गया था। लुधियाना पुलिस ने जांच शुरू कर दी और शहर में आरोपियों की आवाजाही के बारे में जालंधर कमिश्नरेट पुलिस को तुरंत सूचित किया।

लुधियाना कमिश्नरेट पुलिस द्वारा साझा इनपुट पर तेजी से कार्रवाई करते हुए सीआईए स्टाफ- 2 की एक टीम को तुरंत मधुबन कॉलोनी भेजा गया, जहां अपहरणकर्ता पीड़ित के साथ छिपे थे। डीसीपी ने बताया कि टीम ने इस घटना में शामिल चार आरोपियों को गिरफ्तार कर पीड़ित को छुड़ा लिया। उन्होंने कहा कि लुधियाना कमिश्नरेट पुलिस की एक पार्टी आरोपी और पीड़ित को लुधियाना शहर ले गई है।
... और पढ़ें

Sidhu Moose Wala Murder: पंजाब के वो पांच गैंगस्टर, जो मारे जा चुके, मगर गिरोह और आतंक अब भी जिंदा

Punjab News: जालंधर में दीवार पर लिखे अलगाववादी नारे, फिरोजपुर में भी हो चुकी ऐसी घटना

पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के जालंधर पहुंचने से पहले ही टांडा रोड पर दीवारों पर अलगाववादी नारे लिखे जाने का मामला सामने आया। इन्हें देखकर सुरक्षा एजेंसियां सतर्क हो गई हैं। सुरक्षा व्यवस्था को और बढ़ा दिया गया। अधिकारियों में हड़कंप मच गया और इन नारों को मिटाया गया।

मुख्यमंत्री के आगमन से पहले पुलिस प्रशासन ने तमाम बैठकें कीं। रात भर पुलिस की तरफ से सुरक्षा के सख्त बंदोबस्त किए गए लेकिन सुरक्षा प्रबंधों को धता बताते हुए दीवारों पर रात को अलगाववादी नारे लिख दिए गए। खालिस्तानी समर्थकों ने नारे भी टांडा रोड और श्री देवी तालाब मंदिर के आसपास के क्षेत्रों की कुछ दीवारों पर पेंट स्प्रे से लिखे हैं। 

प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि यह नारे पहले के नहीं लिखे हैं बल्कि मंगलवार रात ही किसी ने यह कारनामा किया है। मौके पर पहुंचे पुलिस अधिकारियों से बातचीत की गई तो उन्होंने सिर्फ इतना कहा कि इलाके में लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज को कब्जे में लेकर खंगाला जाएगा। उसके बाद अराजक तत्वों की धरपकड़ की जाएगी।

इससे पहले पिछले रविवार को आतंकी संगठन सिख फार जस्टिस (एसएफजे) ने रेल मंडल कार्यालय फिरोजपुर (डीआरएम) की दीवार पर खालिस्तान जिंदाबाद के नारे लिखे थे।

संगठन के सरगना गुरपतवंत पन्नू ने एक वीडियो भी जारी किया है। डीआरएम आफिस की दीवार पर खालिस्तान जिंदाबाद के नारे लिखने के बारे में फिरोजपुर डिप्टी कमिश्नर अमृत सिंह के नाम एक पत्र भी लिखा है, जो हर मीडिया कर्मी की मेल पर भी भेजा गया था। सुबह वहां से गुजरने वाले लोगों ने ये नारे लिखे देख पुलिस को सूचित किया था।

स्टेशनों पर धमाकों की मिल चुकी है धमकी
उल्लेखनीय है कि कुछ दिन पहले डीआरएम के नाम का धमकी भरा पत्र मिला था जिसमें स्टेशनों पर धमाके करने की बात कही गई थी। पूरे डिवीजन में दौड़ने वाली ट्रेनों का कंट्रोल आफिस भी डीआरएम दफ्तर में बना है। ये दिन रात खुला रहता है और अधिकारी व कर्मी कार्य करते रहते हैं। फरीदकोट में दो बार ऐसी वारदात हो चुकी है। बताया जा रहा है कि डीसी दफ्तर की दीवारों पर भी खालिस्तान जिंदाबाद के नारे लिखने थे लेकिन सुरक्षा के कड़े प्रबंध होने के कारण वे नहीं लिख सके।

पन्नू ने भेजी मेल
पन्नू ने मीडिया ग्रुप में एक मेल और वीडियो भेजी है। इसमें 13 जून की तड़के फिरोजपुर स्थित डीआरएम आफिस की दीवार पर खालिस्तान जिंदाबाद के नारे लिखे जाने का एक वीडियो फुटेज जारी किया। पन्नू ने पंजाब के सीएम भगवंत मान को चेतावनी देते हुए कहा कि खालिस्तान जनमत संग्रह मत रोको। एसएफजे ने घोषणा की है कि पंजाब में खालिस्तान जनमत संग्रह 26 जनवरी 2023 को भारत के गणतंत्र दिवस के साथ शुरू होने वाला है।
... और पढ़ें

Punjab: जालंधर के आप विधायक शीतल अंगुराल के गनर ने एके 47 से गोली मारकर की खुदकुशी, कुछ दिन पहले ही हुई थी शादी

जालंधर वेस्ट के विधायक शीतल अंगुराल के बस्ती दानिशमंदा स्थित घर पर गनमैन पवन ने संदिग्ध परिस्थितियों में एके-47 से गोली मार ली, जिसकी मौके पर ही मौत हो गई। यह वारदात तब हुई जब विधायक परिवार के साथ मंदिर माथा टेकने गए थे और गनमैन पवन घर में अकेला था। वहीं उसके ससुर का कहना है कि मेरा दामाद इतना कमजोर नहीं था कि आत्महत्या कर ले। उसे धमकाया गया है। उसे टाइफाइड था और ठीक से चल भी नहीं पा रहा था। वह छुट्टी के लिए बात करने गया था, बंद कमरे में क्या बात हुई, पता नहीं। छोड़ने आए मौसेरे जवांई को सिर्फ इतना कहा था कि तुम दवा लो, मैं छुट्टी की बात करके आता हूं। 

जानकारी के मुताबिक गनमैन पवन निवासी मेहतपुर कुछ दिन पहले ही विधायक शीतल अंगुराल की सुरक्षा में तैनात किए गए थे और पिछले एक हफ्ते से बीमार होने के कारण छुट्टी पर चल रहे थे। वह इससे पहले थाना-5 में तैनात थे। ससुर और पत्नी के कहने पर गुरुवार को वह मौसेरे जवांई के साथ दवा लेने और टेस्ट करवाने जालंधर आए थे और छुट्टी की बात भी करनी थी। पवन ने मौसेरे जवांई को दवाई लेने के लिए भेज दिया और छुट्टी की बात करने के लिए अंदर चले गए। उसकी बंद कमरे में किससे क्या बात हुई कुछ नहीं पता। विधायक शीतल अंगुराल के परिवार सहित पूजा पर जाते ही कुछ देर बाद उन्होंने खुद को गोली मार ली। 
 
पुलिस की प्राथमिक जांच में सामने आया है कि गनमैन के घर परिवार में किसी बात को लेकर विवाद था। इस बात से वह परेशान थे। गुरुवार सुबह ही वह ड्यूटी पर लौटे थे। पुलिस ने घटनास्थल को सील कर दिया है। एसीपी वेस्ट करण सिंह संधू, थाना-5 और थाना भार्गव कैंप की पुलिस ने एके-47 को कब्जे में लेकर शव को पोस्टमार्टम के लिए सिविल अस्पताल में रखवाया है। पवन दो भाई हैं। बड़ा भाई राजीव कुमार और पिता जसविंदर सिंह दुबई में है और पत्नी जालंधर में ही नौकरी करती है। पवन की एक साल पहले शादी हुई थी और बीमार होने के कारण वह गांव मेहतपुर में मां के साथ रह रहे थे। फिलहाल पुलिस ने आत्महत्या की धाराओं के तहत कार्रवाई की है।

एके-47 रिस्ट सीना चीर देती है, लेकिन ऐसा नहीं था, किसी को गोली की आवाज तक नहीं आई: ससुर 

मैं और मेरी पत्नी अक्सर दामाद से वीडियो कॉल पर बात किया करते थे, खासकर तबसे जबसे उसे टाइफाइड हुआ था। पिछले एक हफ्ते से काफी बीमार था। वह ठीक से चल नहीं पा रहा था। घर में कोई परेशानी नहीं थी, मेरी बेटी भी जॉब करती थी। बुधवार रात को दामाद को फोन किया था, लेकिन बेटी ने उठाया और कहा कि कल (यानी गुरुवार) को दिखाने आ रहे हैं और ब्लड टेस्ट जरूर करवा लेना। दामाद ने एक हफ्ते की छुट्टी ले रखी थी और दोबारा छुट्टी मांगने के लिए वेस्ट विधायक शीतल अंगुराल के दफ्तर पहुंचा था, जिसे मौसेरा जवांई छोड़ने आया था। उसे पवन ने यह कहकर भेज दिया कि तुम दवा लो मैं बात करके आता हूं। उस बंद कमरे में क्या बात हुई, किसी को नहीं पता और कुछ देर बाद दामाद ने खुद को एके-47 से गोली मार ली। आत्महत्या पर शक जताते हुए ससुर ने कहा कि अगर एके-47 से गोली मारी है तो उसका रिस्ट सीना चीर देता पर ऐसी नहीं हुआ, गोली चलने की आवाज भी आसपास के लोगों को नहीं आई और ज्यादा खून बहने से दामाद पवन ने मौके पर ही दम तोड़ दिया। उन्होंने ब्लड टेस्ट करवाने के लिए फोन किया तो जवाब मिला कि पवन ने खुद को गोली मार ली है, जिससे उसकी मौत हो गई है और वह तत्काल विधायक के दफ्तर आ जाएं। इस घटना से मेरी बेटी का जीवन बर्बाद हो गया, जिसकी एक साल पहले ही शादी हुई थी। 

तेरे बगैर में किद्दां जीवांगी, मैंनूं भी नाल ले जा

पवन की मां का रो रोकर बुरा हाल है, छाती पीट-पीटकर वह सिर्फ एक ही बात कह रही थीं कि मेरा छोटा मेरी झोली बिच पा दियो, तेरे बगैर मैं किद्दां जीवांगी, जे तू नहीं आ सकदा, तां मैंनूं भी नाल ले जा। एक तू ही तो मेरा सहारा था, ऐस खातिर तैनूं पेयो ते भ्रा नाल दुबई नी भेजा। मैनूं कि पता सी कि ए दो पैसे दी नौकरी मेरे पुत्त दी जिंदगी छीन लेवांगी।

आराम करने के लिए कहा था, इसलिए दूसरे गनमैन के साथ मंदिर गए

विधायक अंगुराल ने गनमैन पवन की मौत पर गहरा शोक जताते हुए कहा कि उनका गनमैन बहुत ही शांत स्वभाव का और बढ़िया इंसान था। वह अपनी ड्यूटी बहुत ही शांति के साथ करता था, उसने यह कदम क्यों उठाया, इस पर वह भी हैरान हैं? पवन बीमार था, इसलिए उसे आराम करने की बात कहकर अन्य गनमैन के साथ चले गए। पवन ऐसा कदम उठा सकता है सोचा नहीं था। वह बस्तियों में स्थित बाबा बालक नाथ मंदिर गए थे, जहां कार्यक्रम और शोभायात्रा निकाली जानी थी। विधायक मंदिर में माथा टेकने के बाद शोभायात्रा में शिरकत करने वाले थे, इससे पहले ही पवन की मौत की सूचना मिली।
... और पढ़ें

जालंधर में तिहरा हत्याकांड: घरेलू विवाद में पत्नी, सास और ससुर की गोलियां मारकर हत्या, पति हिरासत में

पंजाब के जालंधर में पारिवारिक विवाद में एक व्यक्ति ने अपनी पत्नी, सास व ससुर की गोलियां मारकर हत्या कर दी। घटना देर रात शिव नगर इलाके की है। इसके बाद इलाके में सनसनी फैल गई। सूचना पाते ही थाना एक की पुलिस मौके पर पहुंची और पति को हिरासत में ले लिया। एडीसीपी सिटी सोहेल मीर ने बताया कि जिस रिवाल्वर से तीन लोगों का कत्ल हुआ है, उसे भी कब्जे में ले लिया है। रिवाल्वर लाइसेंसी हैं या अवैध, इसकी जांच की जाएगी।

एसएचओ ने बताया कि सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी करने वाले सुनील ने तीसरी शादी करीब तीन साल पहले शिल्पी नामक युवती से की थी। इसके बाद उसके यहां बेटा भी पैदा हुआ। सुनील ने पहली दो पत्नियों को तलाक दे रखा था। तीसरी पत्नी शिल्पी से भी उसका विवाद व मनमुटाव चल रहा था। सोमवार को सुनील ने मामला निपटाने के लिए अपने ससुर अशोक कुमार और सास कृष्णा को अपने निवास शिव नगर में बुला रखा था।

इस दौरान उसकी कहासुनी हो गई और उसने रिवाल्वर से शिल्पी, कृष्णा व अशोक कुमार को गोलियां मारकर मौत के घाट उतार दिया। पुलिस ने मौके पर आकर सुनील को हिरासत में ले लिया है। पुलिस ने आरोपी पर हत्या का मामला दर्जकर लिया और शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।
... और पढ़ें
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00