विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
मात्र 2 दिन शेष ,गंगा दशहरा पर कराएं गंगा आरती एवं दीप दान, पूरे होंगे रुके हुए काम
Puja

मात्र 2 दिन शेष ,गंगा दशहरा पर कराएं गंगा आरती एवं दीप दान, पूरे होंगे रुके हुए काम

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

खूनी संघर्ष में बदला जमीन विवाद, छोटे भाई और भतीजे ने पीट-पीटकर बुजुर्ग को मार डाला

अमलोह के गांव माजरा मन्ना सिंह वाला में जमीन विवाद को लेकर बड़े भाई की पीट-पीट कर हत्या कर दी गई है। मृतक की पहचान बलवंत सिंह (75) निवासी गांव मन्ना सिंह वाला के तौर पर हुई है। थाना अमलोह पुलिस ने मृतक के बेटे मनिंदरजीत सिंह की शिकायत पर चाचा और उसके बेटे के खिलाफ केस दर्ज किया है। 

एसएचओ कुलविंदर सिंह ने बताया कि माजरा मन्ना सिंह वाला गांव में बलवंत सिंह और बलदेव सिंह सगे भाई हैं। दोनों के बीच जमीन का विवाद पिछले काफी समय से चल रहा था। शिकायतकर्ता मनिंदरजीत सिंह ने बयान दर्ज करवाया है कि 28 मई की शाम को वह अपने खेत में आड़ की बहाई करके घर को लौट रहा था।

इस दौरान उसके चाचा बलदेव सिंह और चचेरा भाई रोबिन सिंह मोटर साइकिल पर सवार होकर उसके घर में आ धमके। पिता बलवंत सिंह घर के बाहर बैठे थे। चाचा और उसके बेटे ने आते ही उसके पिता बलवंत सिंह के साथ मारपीट शुरू कर दी। इससे पिता बलवंत सिंह गंभीर जख्मी हो गए। जख्मी हालात में उन्हें अमलोह सिविल अस्पताल में ले जाया गया। जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत करार दे दिया। पुलिस ने आरोपी बलदेव सिंह और रोबिन सिंह के खिलाफ केस दर्जकर जांच शुरू कर दी है। 

एचएचओ कुलविंदरर सिंह ने बताया कि मृतक बलवंत सिंह समेत चार सगे भाई हैं, जिनकी गांव में जमीन है। खेत में आड़ की बहाई को लेकर बलदेव सिंह और रोबिन सिंह बलवंत सिंह का विरोध कर रहे थे, जिससे झगड़े के हालात पैदा हुए और गुरुवार शाम को दोनों परिवारों में झगड़ा हुआ। इसमें बलवंत सिंह जख्मी होने के बाद दम तोड़ गया। अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है।
... और पढ़ें

मोगा: सरकारी स्कूल में दाखिल हुए चोर, चौकीदार ने किया विरोध तो कर दी निर्मम हत्या

मोगा से करीब आठ किलोमीटर की दूरी पर स्थित डाला में गुरुवार की रात चोर गिरोह ने सरकारी स्कूल में चोरी की वारदात को अंजाम देने के दौरान अधेड़ चौकीदार की निर्मम हत्या कर दी। शुक्रवार की सुबह लोगों ने स्कूल में चौकीदार का शव देखा तो पुलिस को सूचना दी गई। थाना मेहना पुलिस ने शव पोस्टमार्टम को भेजकर मामले की जांच शुरू कर दी है। 

जानकारी के अनुसार बचित्तर सिंह (75) निवासी डाला गांव के सरकारी स्कूल में पिछले कुछ समय से चौकीदार की नौकरी कर रहा था। गुरुवार की रात को वह स्कूल के गेट पर ड्यूटी कर रहा था। इस दौरान चोरों का गिरोह चोरी करने के लिए पहुंच गया। चौकीदार के साथ चोरों की हाथापाई हुई। चोरों ने तेजधार हथियार से बचित्तर सिंह के सिर पर प्रहार कर उसकी हत्या कर दी। 

घटना की सूचना मिलते ही शुक्रवार की सुबह थाना मेहना की पुलिस टीम व सीआईए स्टाफ प्रभारी किक्कर सिंह समेत डीएसपी निहाल सिंह वाला मंजीत सिंह मौके पर पहुंचे। मामले की जांच को मौके पर फॉरेंसिक व डॉग स्क्वायड टीम को भी बुलाया गया। थाना प्रभारी कश्मीर सिंह का कहना है कि फिलहाल हत्यारों का कोई सुराग नही मिल पा रहा है। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है और मामले की जांच शुरू कर दी गई है। वहीं अभी तक स्कूल में कोई सामान चोरी होने संबंधी पता नहीं चला है।
... और पढ़ें

मोहालीः नाका देखकर वापस मोड़ने लगे थे कार, पुलिस ने होशियारी दिखाकर दबोचे तीन तस्कर

भले ही कोरोना के चलते शहर में लॉकडाउन और रात को कर्फ्यू चल रहा है और पुलिस जिले की सीमाएं सील करने का दावा करती है लेकिन नशा तस्करों में खौफ पूरी तरह से खत्म नहीं हो पाया है। ताजा मामला थाना फेज-एक के अधीन दारा स्टूडियो के पास का है। जहां पर पुलिस ने तीन कार सवारों को 90 ग्राम हेरोइन समेत दबोचा है। साथ ही थाना फेज-एक में आरोपियों के खिलाफ एनडीपीएस एक्ट के तहत केस दर्ज किया है।

आरोपियों की पहचान मनोज कुमार यादव निवासी रामदरबार फेज-दो चंडीगढ़, सचिन निवासी जट्टा वाला मोहल्ला मनीमाजरा चंडीगढ़ व जतिंदर सिंह लुधियाना देहात के रूप में हुई है। थाना फेज-एक के एसएचओ मनफूल सिंह ने आरोपियों को दबोचने की पुष्टि की है। उन्होंने कहा कि मामले की जांच चल रही है। 

जानकारी के मुताबिक पुलिस ने दारा स्टूडियो के पास स्पेशल नाका लगाया था। इसमें चंडीगढ़ की तरफ से आने वाले वाहनों की चेकिंग की जा रही थी। तभी एक मानसा नंबर की कार आई। कार चालक नाके पर गाड़ियों की चेकिंग देखकर घबरा गया व कार को पीछे की तरफ मोड़ने लगा। लेकिन वहां पर गाड़ियों की भीड़ होने के चलते वह ऐसा नहीं कर पाया। इसके बाद पुलिस ने उक्त कार सवारों को दबोच लिया। गाड़ी की तलाशी लेने पर 90 ग्राम हेरोइन बरामद हुई। पुलिस ने तीनों को गिरफ्तार कर लिया है।
... और पढ़ें

चीन छोड़ने वाले उद्योग पंजाब में जताएंगे भरोसा, उद्यमियों ने पेश किए सुझाव: कैप्टन अमरिंदर सिंह

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने उद्योगपतियों को अगले कुछ दिनों में उद्योगों के सौ प्रतिशत खोलने में राज्य सरकार का सहयोग देने का भरोसा दिया है। उन्होंने विश्वास जताया कि चीन छोडने वाले उद्योग पंजाब में इकाइयां स्थापित करने में भरोसा जताएंगे। उन्होंने कहा कि इन उद्योगपतियों को आकर्षित करने में पंजाब सफल होगा।

सूबे में औद्योगिक इकाइयां स्थापित करने और निवेश के संबंध मेें उनकी सरकार पहले से ही कई मुल्कों के संपर्क में है। कैप्टन अमरिंदर सिंह शुक्रवार को औद्योगिक दिग्गजों से ‘कोविड लॉकडाउन के बाद पंजाब की अर्थ व्यवस्था की बहाली के लिए कार्य योजना’ विषय पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बातचीत कर रहे थे। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कहा कि कोविड 19 के लॉकडाउन के बाद राज्य की अर्थव्यवस्था की बहाली के लिए उद्योगपतियों के सुझावों को ध्यान रखा जा रहा है।

साथ ही उन्होंने पंजाब के विकास में उद्योगों द्वारा निभाई जा रही भूमिका और इस कठिन समय में भी आम कारोबार को बहाल करने के लिए उनके निरंतर प्रयासों का जिक्र किया। उन्होंने महामारी की मुश्किलों के बावजूद औद्योगिक गतिविधियां फिर से शुरू करने के लिए उद्योगपतियों का धन्यवाद किया।

कैप्टन ने बताया कि सूबे में 78 प्रतिशत औद्योगिक गतिविधियां बहाल हो चुकी हैं और 68 प्रतिशत प्रवासी मजदूरों ने यहीं रुकने का फैसला लिया है। उन्होंने उद्योग विभाग को कारोबार को आसान बनाने और जरूरी मंजूरी की प्रक्रिया में तेजी लाने के आदेश दिए ताकि लॉकडाउन की बंदिशों के बीच उद्योग को फिर से पटरी पर लाया जा सके।

कामगारों को वापस लाने के लिए ट्रेनों की करेंगे व्यवस्था
उद्योग मंत्री सुंदर शाम अरोड़ा ने बताया कि बड़ी संख्या में कामगारों ने पंजाब में ही रुकने का फैसला लिया है। इसके साथ ही बड़ी संख्या में उद्योगों के खुल जाने के चलते और भी बहुत से मजदूर वापस आना चाहते हैं। उन्होंने बताया कि दूसरे राज्यों से प्रवासी मजदूरों को लाने के लिए रेलगाड़ियों की व्यवस्था के उद्देश्य से राज्य सरकार ने केंद्र सरकार से सिफारिश की है।
 
... और पढ़ें
कैप्टन अमरिंदर सिंह कैप्टन अमरिंदर सिंह

गायक मनकीरत औलख के कजन को तेज आवाज में स्टीरियो बजाना पड़ा महंगा, पुलिस ने जब्त की मर्सिडीज

पंजाबी गायक मनकीरत औलख की मर्सिडीज में तेज आवाज में स्टीरियो बजाना उनके कजन शमरीत को भारी पड़ गया। चंडीगढ़ पुलिस ने नाके पर उनकी गाड़ी रुकवा ली। शमरीत पूरे कागजात भी नहीं दिखा सके तो पुलिस ने मर्सिडीज को जब्त कर लिया। जानकारी के अनुसार, सेक्टर- 49 थाना प्रभारी सुरिंदर सिंह, हेड कांस्टेबल अवतार सिंह ने टीम के साथ जेल रोड की पिछली साइड नाका लगा रखा था। 

शुक्रवार शाम करीब 6.30 बजे मोहाली की तरफ से तेज गति से सफेद रंग की मर्सिडीज (पीबी-11 बीटी 0001) चंडीगढ़ की तरफ आ रही थी। मर्सिडीज में ऊंची आवाज में स्टीरियो बज रहा था। इस पर पुलिसकर्मियों ने गाड़ी रुकवा ली। पुलिस ने चालक से ऊंची आवाज में बज रहे म्यूजिक को बंद कराया और उससे पूछताछ की तो उसने अपना नाम शमरीत बताया और कहा कि वह मशहूर गायक मनकीरत औलख का कजन है। पुलिस ने गाड़ी के कागजात मांगे तो वह दिखा नहीं सका। इसके बाद पुलिस ने चालान काटकर मर्सिडीज जब्त कर ली। बाद में पुलिस को पता चला कि यह गाड़ी मनकीरत औलख की है। 


यह भी पढ़ें-
शादी के लिए नई शर्त, प्रदेश से बाहर गई बरात तो दूल्हा-दुल्हन समेत बराती होंगे होम क्वारंटीन

मोहाली से जाना था चंडीगढ़
शमरीत को किसी काम से मोहाली से चंडीगढ़ जाना था। लेकिन चंडीगढ़ पुलिस ने रास्ते में ही गाड़ी जब्त कर ली। मर्सिडीज सेक्टर-49 थाने में खड़ी है। सेक्टर 49 पुलिस का कहना है कि ट्रैफिक नियमों की धज्जियां उड़ाने पर गाड़ी को जब्त किया गया है।

पांचवें दिन छूट रही हैं गाड़ियां
बता दें कि चंडीगढ़ ट्रैफिक पुलिस ने पिछले महीने एक आर्डर जारी किया था। इसमें लॉकडाउन के दौरान अगर किसी की गाड़ी जब्ज होती है तो 4 से 5 दिन बाद सेक्टर 29 ट्रैफिक लाइन से छुड़ाया जा सकता है। ऐसे में अब मशहूर पंजाबी सिंगर मनकीरत औलख की गाड़ी भी 5 दिन के बाद ही छूटने की संभावना है। 
... और पढ़ें

पंजाब के स्वास्थ्य मंत्री ने कहा- मुंबई-अहमदाबाद से राज्य में आने वाली उड़ानों की संख्या घटाई जाए

पंजाब के स्वास्थ्य व परिवार कल्याण मंत्री बलबीर सिंह सिद्धू ने कहा है कि राज्य में कोविड -19 के फैलाव को रोकने के लिए खासकर मुंबई और अहमदाबाद से घरेलू उड़ानों की संख्या घटाने की जरूरत है, क्योंकि यहां बड़ी संख्या में कोरोना संक्रमण के मामले सामने आए हैं। उन्होंने कहा कि पंजाब में लिए गए 72,468 नमूनों में से सिर्फ 2.8 प्रतिशत पॉजिटिव आए हैं।

स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा मीटिंग की अध्यक्षता करते हुए बलबीर सिद्धू ने कहा कि पंजाब में रिपोर्ट किए गए ज्यादातर मामले अन्य राज्यों और देशों की यात्रा इतिहास से संबंधित हैं। इसलिए इस वायरस के समूह में फैलाव को रोकने के लिए विशेष तौर पर उच्च जोखिम वाले राज्यों और देशों में से आने वाले यात्रियों पर ध्यान केंद्रित करने की जरूरत है। 


यह भी पढ़ें-
शादी के लिए नई शर्त, प्रदेश से बाहर गई बरात तो दूल्हा-दुल्हन समेत बराती होंगे होम क्वारंटीन

उन्होंने कहा कि वह शनिवार को कैबिनेट मीटिंग में मुख्यमंत्री पंजाब के साथ इस अहम मुद्दे पर चर्चा करेंगे। उन्होंने कहा कि यह रिकॉर्ड में है कि राज्य में सिर्फ 151 कोरोना पॉजिटिव ऐसे हैं, जिनका कोई यात्रा इतिहास नहीं है। 99.9 प्रतिशत संपर्क ट्रेसिंग से 1476 व्यक्ति पॉजिटिव पाए गए हैं जोकि लगभग 8 फीसदी है। बलबीर सिंह सिद्धू ने डायरेक्टर स्वास्थ्य सेवाएं डॉ. अवनीत कौर को निर्देश दिया कि वह मेडिकल और पैरा मेडिकल स्टाफ के खाली पदों की फाइल पेश करें, ताकि उसे अगली कैबिनेट बैठक में रखा जा सके।
... और पढ़ें

पंजाब में कोरोना से 44वीं मौत, 43 नए पॉजिटिव मिले, अब तक 2201 लोग संक्रमित

पंजाब में कोरोना पीड़ितों की संख्या फिर से तेजी से बढ़ती जा रही है। शुक्रवार को राज्य में इस महामारी के 43 नए पॉजिटिव केस आए। इसके साथ ही राज्य में कोरोना पीड़ितों की संख्या 2201 तक पहुंच गई। वहीं राज्य में कोरोना से 44वीं मौत हुई है। इस बीच 23 अन्य पॉजिटिव केस भी सामने आए, जो अन्य राज्यों से संबंधित हैं। शुक्रवार को कपूरथला में 3 मरीज ठीक भी हुए, जिससे राज्य में कोरोना को मात देने वालों की संख्या 1949 हो गई। 

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, 24 घंटे में अमृतसर 12, जालंधर 8, पठानकोट 5, बठिंडा और लुधियाना 4-4, गुरदासपुर व मोहाली में 3-3 और पटियाला व रोपड़ में 1-1 पॉजिटिव केस सामने आए हैं। खास बात यह है कि ये सभी कोरोना वायरस के नए मामले हैं। मोगा में सामने आए 2 केस विदेश से लौटे लोगों के हैं। 


यह भी पढ़ें-
शादी के लिए नई शर्त, प्रदेश से बाहर गई बरात तो दूल्हा-दुल्हन समेत बराती होंगे होम क्वारंटीन

राज्य में अब तक 81021 संदिग्ध मरीजों के सैंपल लिए गए हैं। राज्य के विभिन्न अस्पतालों में इस समय 206 लोगों का इलाज चल रहा है, जिनमें से एक मरीज ऑक्सीजन सपोर्ट पर और एक अन्य मरीज वेंटिलेटर पर है। वहीं, कोरोना से अब तक 44 लोगों की मौत हो चुकी है।
... और पढ़ें

पंजाब से 375 विशेष ट्रेनों के जरिए 4.84 लाख प्रवासी घर लौटे, कल नौ रेलगाड़ियां होंगी रवाना

कोरोना वायरस।
पंजाब से 375 विशेष ट्रेनों के जरिये अब तक 4.84 लाख से अधिक प्रवासी मजदूरों को गृह राज्य वापस भेजा गया। इसी कड़ी में शनिवार को राज्य के अलग-अलग स्थानों से 9 और ट्रेनें चलेंगी। लोक निर्माण विभाग के प्रमुख सचिव और अभियान के नोडल अधिकारी विकास प्रताप ने बताया कि राज्य से 5 मई से अब तक लगभग 375 विशेष श्रमिक ट्रेनें चलाईं गई हैं। 

यह मूल्यांकन अब तक किए प्रयासों की समीक्षा करने और आने वाले दिनों में जरूरी ट्रेनों के बारे में सही जानकारी हासिल करने के लिए किया गया है। 375 में से सबसे अधिक 226 ट्रेनें उत्तर प्रदेश और उसके बाद बिहार 123 ट्रेनें प्रवासी कामगारों को लेकर रवाना हुई हैं। इसी तरह झारखंड को 9, मध्य प्रदेश को 7 और छत्तीसगढ़ को 3 और पश्चिमी बंगाल को 2 ट्रेनें रवाना हुई हैं। 


यह भी पढ़ें-
शादी के लिए नई शर्त, प्रदेश से बाहर गई बरात तो दूल्हा-दुल्हन समेत बराती होंगे होम क्वारंटीन

इसके अलावा महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, मणिपुर, तामिलनाडु और उत्तराखंड को एक-एक रेलगाड़ी प्रवासी मजदूरों को लेकर रवाना हुई। राज्य सरकार यह ट्रेनें चलाने के लिए पहले ही 26 करोड़ खर्च कर चुकी है, जोकि फिरोजपुर और अंबाला डिवीजन के रेलवे अधिकारियों के सहयोग से डिप्टी कमिश्नरों द्वारा चलाईं जा रही हैं। 

लुधियाना से रवाना हुईं सबसे ज्यादा ट्रेनें 
सबसे अधिक 188 ट्रेनें चलाने के साथ लुधियाना पहले नंबर पर है। इसके बाद जालंधर (76), अमृतसर (29), पटियाला (24), मोहाली (23) के अलावा फिरोजपुर (15), दोराहा (7), सरहिन्द (6), बठिंडा (3), गुरदासपुर (2) और होशियारपुर और पठानकोट से एक-एक रेलगाड़ी चलाई गई है। 

पंजाब सरकार प्रवासी मजूदरों को हरसंभव सहायता कर रही है। घर लौट रहे सभी लोगों को भोजन-पानी और अन्य जरूरी चीजें प्रदान की जा रही हैं। इसके अलावा, इन सभी राज्यों के लिए नोडल अधिकारियों की नियुक्ति की गई है।
... और पढ़ें

पंजाब: मास्क न पहना तो 500, कार में सोशल डिस्टेंसिंग न रखी तो 2000 जुर्माना

पंजाब सरकार ने कोरोना वायरस के मद्देनजर विभिन्न जुर्माना राशि बढ़ा दी है। अब मास्क न पहनने पर 500 और कार में सोशल डिस्टेंसिंग के नियम का पालन न करने पर 2000 रुपये जुर्माना लगेगा। स्वास्थ्य मंत्री बलबीर सिंह सिद्धू ने विभाग की उच्चस्तरीय समीक्षा मीटिंग के दौरान इसका खुलासा करते हुए कहा कि राज्य को महामारी से सुरक्षित रखने के लिए यह जरूरी है।

पहले सार्वजनिक स्थानों पर मास्क न पहनने पर 200 और थूकने पर 100 रुपये जुर्माना लगता था जिसे बढ़ा दिया गया है। वहीं होम क्वारंटीन का उल्लंघन करने पर 500 रुपये दंड लगाया जाता था। 


यह भी पढ़ें-
शादी के लिए नई शर्त, प्रदेश से बाहर गई बरात तो दूल्हा-दुल्हन समेत बराती होंगे होम क्वारंटीन

ये लगा सकते हैं जुर्माना 
स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि बीडीपीओ, नायब तहसीलदार और डिप्टी कमिश्नरों द्वारा अधिकृत कोई भी अधिकारी महामारी रोग अधिनियम, 1897 की धाराओं के अंतर्गत जुर्माना लगा सकता है। 

अगर जुर्माना न दिया तो...
यदि उल्लंघन करने वाले द्वारा जुर्माना नहीं दिया जाता तो उसके विरुद्ध आईपीसी की धारा 188 के अंतर्गत कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

यह होगी जुर्माने की नई राशि- 
  • होम क्वारंटीन तोड़ने वालों पर 2000 रुपये 
  • सार्वजनिक स्थान पर थूकने पर 500 रुपये
  • सोशल डिस्टेंसिंग न रखी तो दुकानदार पर 2000 रुपये
  • सामाजिक दूरी न रखी तो बस मालिक पर 3000 रुपये
  • ऑटो और दोपहिया वाहनों पर 500 रुपये
... और पढ़ें

फैसलाः ट्रेन चलने से 45 मिनट पहले यात्रियों को पहुंचना होगा, कंफर्म टिकट पर ही मिलेगी एंट्री

मोहाली रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म पर अब उन्हीं लोगों की एंट्री हो पाएगी जिनके पास कंफर्म रेलवे टिकट होगी। इतना ही नहीं अब ट्रेन चलने से 45 मिनट पहले यात्रियों को स्टेशन पर पहुंचना होगा। यह फैसला सेहत विभाग की गाइड लाइन पर कोरोना को मात देने के लिए लिया गया है।

इसके पीछे कोशिश यही है कि स्टेशन पर ज्यादा भीड़ न हो साथ ही लोगों के बीच सामाजिक दूरी कायम रहे। यह आदेश डीसी गिरीश दियालन ने दिए हैं। उन्होंने कहा कि स्टेशन पर उनके किसी सहायक को जाने की अनुमति नहीं दी जाएगी। इस संबंधी स्टाफ को हिदायत दे दी गई है। नियम तोड़ने वालों पर सख्त कार्रवाई होगी।

कोवा एप न होने पर दिखाना होगा पहचान कार्ड
जानकारी के मुताबिक कोरोना वायरस से लोगों को बचाने के लिए जिला प्रशासन ने तय किया है कि रेल पर चढ़ने से पहले सभी यात्रियों को मास्क पहनना होगा। सामाजिक दूरी को कायम रखा जाएगा। प्लेट फार्म में दाखिल होने से पहले सभी की सेहत जांच होगी। बिना लक्षण वाले यात्रियों को ही रेल में जाने की अनुमति दी जाएगी।

वहीं, मंजिल वाले स्टेशन पर पहुंचने पर यात्रियों को अपने मोबाइल पर कोवा एप डाउनलोड करनी होगी जो कि जरूरी तौर पर क्रियाशील होनी चाहिए। रेलवे स्टेशन से बिना किसी किसी रुकावट निकलने के लिए कोवा एप से खुद ही पास बनाना जरूरी होगा।

डीसी ने बताया कि यदि किसी यात्री के पास मोबाइल नहीं है या ई-पास बनाने में असमर्थ है तो अपना पहचान पत्र जैसे ही ड्राइविंग लाइसेंस, वोटर आईडी या सरकार द्वारा जारी कोई भी आईडी कार्ड दिखाने के बाद वह रेलवे स्टेशन से किसी निर्धारित स्थान पर स्क्रीनिंग के लिए तैनात हेल्थ टीम को स्व घोषणा पत्र देना होगा।

बाहरी राज्य से आने वाले होंगे क्वारंटीन
बाहर से आने वाले जिन मुसाफिरों को स्क्रीनिंग के दौरान लक्षण या उच्च जोखिम वाला पाया जाता है उनका कोरोना टेस्ट के लिया जाएगा। इस दौरान अगर वह पॉजिविट पाए जाते है, तो प्रोटोकॉल के मुताबिक उनका इलाज होगा। बाकि सारे यात्रियों को 14 दिन के लिए क्वारंटीन किया जाएगा।

किसी में भी कोविड से जुड़े लक्षण नजर आते हैं तो मेडिकल हेल्पलाइन 104 पर कॉल करनी होगी। वहीं, जिन यात्रियों की वापसी टिकट उनकी क्वारंटीन समय अवधि से पहले है। ऐसे में उन लोगों को ही वापस जाने की अनुमति दी जाएगी जिनमें किसी तरह के कोई लक्षण नहीं पाए जाते हैं।
... और पढ़ें

पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड ने पांचवीं, आठवीं व दसवीं का परीक्षा परिणाम घोषित किया, यहां देखें रिजल्ट

पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड की ओर से शुक्रवार को पांचवीं, आठवीं और दसवीं कक्षा के विद्यार्थियों का वार्षिक परीक्षा परिणाम ग्रेडिंग के आधार पर घोषित कर दिया गया। यह रिजल्ट बोर्ड की वेबसाइट http://www.pseb.ac.in और http://www.indiaresults.com पर उपलब्ध है। स्कूल शिक्षा मंत्री विजय इंदर सिंगला ने बताया कि यह नतीजे सिर्फ रेगुलर और रजिस्टर्ड विद्यार्थियों की कंटीन्यूस कंप्रीहेंसिव इवैल्यूएशन (सीसीई) के आधार पर जारी किए गए हैं। 

शिक्षा मंत्री ने बताया कि बोर्ड द्वारा ओपन स्कूल, गोल्डन चांस, सप्लीमेंटरी और अतिरिक्त विषयों वाले मैट्रिक स्तर के विद्यार्थियों की परीक्षा जल्द ली जाएगी, क्योंकि उनके मूल्यांकन के लिए सीसीई के तहत कोई व्यवस्था नहीं होती। इनकी परीक्षाओं की डेटशीट जल्द जारी कर दी जाएगी। इसके अलावा बारहवीं की बाकी बची परीक्षाओं की डेटशीट माहौल ठीक होने पर जारी करेंगे। 


यह भी पढ़ें- शादी के लिए नई शर्त, प्रदेश से बाहर गई बरात तो दूल्हा-दुल्हन समेत बराती होंगे होम क्वारंटीन
... और पढ़ें

दादी से मिलने निकला 12 वर्षीय बच्चा दो माह बाद लखनऊ में मिला, ऐसे जिला प्रशासन ने परिवार से मिलाया

लॉकडाउन के दौरान 12 वर्षीय बच्चा अपनी दादी से मिलने मालगाड़ी पर बैठकर बिहार को निकला। लेकिन वह उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ पहुंच गया। इधर, पंजाब में बच्चे के अभिभावक उसकी तलाश में भटकते रहे। इस बीच लखनऊ प्रशासन की बाल कल्याण समिति ने पंजाब के फिरोजपुर जिला प्रशासन से संपर्क किया और बच्चे के लखनऊ में होने की जानकारी दी।

इसके बाद फिरोजपुर के डिप्टी कमिश्नर कुलवंत सिंह ने 27 मई को एक कार लखनऊ को रवाना किया। यह कार शुक्रवार को बच्चे को लेकर फिरोजपुर पहुंच चुकी है। डिप्टी कमिश्नर कुलवंत सिंह ने बताया कि यह बच्चा बिहार में रह रहीं अपनी दादी से मिलने को मालगाड़ी में बैठ गया था।


परिवार वाले उसे ढूंढते रहे लेकिन वह लखनऊ पहुंच गया। जैसे ही प्रशासन को सूचना मिली कि बच्चा लखनऊ में सलामत है। वापस लाने के लिए फिरोजपुर से एक गाड़ी में बाल भलाई कमेटी के कर्मचारियों को रवाना किया। 

कमेटी के कर्मचारी गाड़ी में बच्चे को वापस फिरोजपुर लेकर आए। जिसे डिप्टी कमिश्नर कुलवंत सिंह ने उनके पिता को सुपुर्द किया। डिप्टी कमिश्नर ने बच्चे को चॉकलेट बॉक्स भी दिया। साथ ही उसे भविष्य में इस तरह अपने आप घर से नहीं निकलने के लिए समझाया।

डिप्टी कमिश्नर ने सभी अभिभावकों से अपने बच्चों पर नजर बनाए रखने की अपील की, ताकि इस तरह की घटनाओं से बचा जा सके। बच्चे के पिता उदय शंकर कुमार ने डिप्टी कमिश्नर का इस सहायता के लिए आभार व्यक्त किया। दो महीने बाद वह अपने बच्चे को वापस पाकर वह बेहद खुश हैं। 
... और पढ़ें

बापूधाम में नहीं आया कोई नया केस, कालका में दंपती पॉजिटिव, डेराबस्सी में युवती मिली संक्रमित

चंडीगढ़ के लिए शुक्रवार का दिन राहत भरा रहा। बापूधाम में कोरोना के मरीजों की तेजी से बढ़ती संख्या पर काबू मिला और 24 घंटे के दौरान एक भी नया मामला सामने नहीं आया। इससे प्रशासन के साथ स्वास्थ्य विभाग ने राहत महसूस की। ऐसा माना जा रहा है कि बापूधाम में संक्रमण पर धीरे-धीरे काबू मिलने लगा है।

क्योंकि वहां बनाए गए सैंपल कलेक्शन सेंटर पर प्रतिदिन 100 से ज्यादा लोगों का नमूना लिया जा रहा है। पिछले 3 दिनों में लगभग 400 मरीजों का नमूना लेकर जांच के लिए भेजा गया था। इसके बाद शुक्रवार को एक भी रिपोर्ट पॉजिटिव नहीं आई। हालांकि, अभी 31 संदिग्धों की जांच रिपोर्ट आना बाकी है।

यह भी पढ़ें-
शादी के लिए नई शर्त, प्रदेश से बाहर गई बरात तो दूल्हा-दुल्हन समेत बराती होंगे होम क्वारंटीन

सेक्टर- 15 के संपर्क वाले सभी निगेटिव, पंजाब का मरीज निकला पॉजिटिव
सेक्टर-15 निवासी जिस वृद्ध महिला में गुरुवार को कोरोना की पुष्टि हुई थी, उसके बेटे, बहू और पोते की रिपोर्ट निगेटिव आई है। वृद्ध महिला मोहाली के एक निजी अस्पताल में भर्ती है। वहीं, दूसरी तरफ सेक्टर- 30 के जिस नवजात की गुरुवार को संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी, उसकी रिपोर्ट भी निगेटिव आई है। 

उधर, पीजीआई में इलाज करा रहे एक पंजाब से आए मरीज की रिपोर्ट में कोरोना की पुष्टि हुई है। मरीज का ट्रॉमा सेंटर के सीटी स्कैन यूनिट में एक्स-रे और सीटी स्कैन किया गया। उसके एक घंटे के बाद ही उसकी कोरोना की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। इसके बाद सीटी स्कैन यूनिट को एक घंटे के लिए बंद कर सैनिटाइज किया गया। 
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन