विज्ञापन
विज्ञापन
कैसा रहेगा वर्ष 2021, जानें अनुभवी ज्योतिषाचार्यों से
astrology

कैसा रहेगा वर्ष 2021, जानें अनुभवी ज्योतिषाचार्यों से

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

पंजाब: पूर्व डीजीपी सुमेध सैनी SIT के सामने पेश, IAS के बेटे के अपहरण और हत्या केस में घिरे

पंजाब के पूर्व डीजीपी सुमेध सिंह सैनी बलवंत सिंह मुल्तानी केस में सोमवार को विशेष जांच दल (एसआईटी) के सामने पेश हुए। सुबह 11:10 मिनट पर वे मटौर थाने पर पहुंचे। थाने के बाहर मटौर के एसएचओ ने उन्हें रिसीव किया। इसके बाद उन्हें अंदर ले जाया गया। जहां जांच दल पूर्व डीजीपी से पूछताछ करने में जुटा है। इस दौरान थाने के बाहर बड़ी संख्या में सुरक्षा बलों और मीडियाकर्मी तैनात रहे।

हालांकि इससे पहले भी एक बार उन्हें जांच में शामिल होने के लिए बुलाया गया था। लेकिन वह पहुंचे नहीं थे। उनकी ओर से दलील दी गई थी कि वह फिट नहीं हैं। डॉक्टर ने उन्हें आराम करने की सलाह दी है। बता दें कि यह मामला साल 1991 का है। जब सुमेध सिंह सैनी चंडीगढ़ में एसएसपी के पद पर तैनात थे। इस दौरान उन पर एक आतंकी हमला हो गया था। इसमें उनके तीन सुरक्षा कर्मियों की मौत हो गई थी। जबकि उनका बचाव हो गया था। 

आरोप है कि इस हमले के बाद उन्होंने सिटको में जेई के पद तैनात आईएएस के बेटे बलवंत सिंह मुल्तानी को उनके मोहाली फेज-7 स्थित घर से उठाया था। उसके बाद उसका कुछ पता नहीं चला। बलवंत सिंह मुल्तानी के परिजनों ने इस मामले में सुप्रीम कोर्ट तक जंग लड़ी थी। लेकिन उन्हें कामयाबी नहीं मिली। इसी बीच सैनी के साथी रहे एक पुलिस ने एक मैगजीन को इंटरव्यू दिया था। उसी के आधार पर परिजनों ने पुलिस को शिकायत दी, जिसके बाद पूर्व डीजीपी पर केस दर्ज हुआ था।
... और पढ़ें
सुमेध सिंह सैनी। सुमेध सिंह सैनी।

पुलिस की वर्दी में लुटेरों ने की वारदात, परिवार को बंधक बनाया फिर 30 तोला सोना लूटा

पंजाब में फिरोजपुर के मक्खू के मेन बाजार स्थित एक घर में रविवार की सुबह सवा छह बजे पुलिस वर्दी में घुसे तीन लुटेरों ने पिस्तौल के बल पर परिवार के सभी सदस्यों को बंधक बना लिया। लुटेरे घर से तीस तोले सोने के जेवरात लूटकर फरार हो गए। विरोध करने पर लुटेरों ने परिवार के मुखिया को किरच मारकर जख्मी कर दिया। लुटेरे जाते समय घर में लगे सीसीटीवी कैमरे का डीवीआर (डिजिटल वीडियो रिकॉर्डर) और मोबाइल फोन साथ ले गए। थाना मक्खू पुलिस ने सोमवार को मामला दर्ज कर लुटेरों की तलाश शुरू कर दी है। 

पुलिस को दी गई शिकायत में पीड़ित रणजीत सिंह निवासी मक्खू ने बताया उसका घर मेन बाजार में है। रविवार की सुबह सवा छह बजे घर की बेल बजी। उसके बेटे ने घर का गेट खोला। गेट के बाहर एक स्विफ्ट कार के पास तीन लोग खड़े थे। उन लोगों ने कहा कि पुलिस वाले हैं। घर में घुसते ही आरोपियों ने पिस्तौल निकाल ली और परिवार के सभी सदस्यों को एक कमरे में बंद कर दिया। रणजीत के मुताबिक उसने विरोध किया तो किरच से वार कर जख्मी कर दिया। 

लुटेरे घर से लगभग तीस तोले सोने के जेवरात, सीसीटीवी कैमरे का डीवीआर और मोबाइल फोन लेकर फरार हो गए। रणजीत सिंह को स्थानीय अस्पताल में दाखिल करवाया गया। मामले की तफ्तीश कर रहे एएसआई नरेंदर सिंह के मुताबिक पीड़ित रणजीत सिंह की शिकायत पर तीन अज्ञात लुटेरों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है। घटनास्थल के आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज लेकर लुटेरों का सुराग लगाया जा रहा है। जल्द ही लुटेरे गिरफ्तार कर लिए जाएंगे।
... और पढ़ें

सीएम की रैली से लौट रहे यूथ कांग्रेसी आपस में भिड़े, फायरिंग में दो जख्मी, छह नामजद

मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह की रैली से लौट रहे यूथ कांग्रेसियों के दो गुट रविवार को एनआईएस चौक के पास आपस में भिड़ गए। इस दौरान हुई फायरिंग में दो युवक घायल हो गए। उन्हें सरकारी राजिंदरा अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। एसपी सिटी वरुण शर्मा ने बताया कि मामले में हरविंदर जोई, अमर, शिबू, गोपी, गुरी और सोनू पेंटर समेत कुछ अज्ञात पर केस दर्ज किया गया है। आरोपियों की तलाश की जा रही है।
  
जानकारी के अनुसार, करीब पांच माह पहले पटियाला में यूथ कांग्रेसी नेता हरविंदर सिंह जोई के समर्थक शमशेर सिंह की हत्या हो गई थी। इस मामले में यूथ कांग्रेसी एसके खरोड़ समेत उसके गुट के 15 लोग नामजद किए गए थे। तभी से जोई और खरोड़ गुट में रंजिश चल रही थी। 

रविवार दोपहर सवा दो बजे सीएम की रैली खत्म होने के बाद एनआईएस चौक पर दोनों गुट भिड़ गए। इसमें दो युवक चरणजीत सिंह और रेहान गोली लगने से जख्मी हो गए। चरणजीत को दो गोलियां लगीं जबकि रेहान की पीठ पर एक गोली लगी है। 

आफिसर कालोनी पुलिस चौकी इंचार्ज गुरपिंदर सिंह ने बताया कि दोनों घायलों को राजिंदरा अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। घायल रेहान का कहना है कि हरविंदर सिंह जोई और उसके साथियों ने फायरिंग की थी जिससे वह घायल हो गया। वहीं, जोई का आरोप है कि दूसरे गुट ने उन पर गोलियां चलाईं। वहीं, सीएम की रैली के मद्देनजर जिले में चप्पे-चप्पे पर पुलिस तैनात थी। इसके बावजूद फायरिंग होना पुलिस प्रशासन पर सवालिया निशान लगाता है।
... और पढ़ें

अमृतसर: चर्च में गोलीबारी के मुख्य आरोपी कांग्रेस नेता रणदीप सिंह गिल समेत तीन गिरफ्तार

demo pic...
जिला पुलिस ने गिलवाली गेट स्थित एक चर्च में फायरिंग करने के मामले में मुख्य आरोपी कांग्रेसी नेता रणदीप सिंह गिल सहित तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। सीआईए स्टाफ की टीम ने होशियारपुर के टांडा के पास इन आरोपियों को पकड़ा। वारदात में रणदीप सिंह गिल ने सात-आठ अन्य लोगों के साथ चर्च में घुसकर अंधाधुंध फायरिंग कर प्रिंस नामक युवक की हत्या कर दी थी।

वहीं प्रिंस के भाई मनोज को गंभीर रूप से घायल कर दिया था। पुलिस के मुताबिक गिल व उसके साथियों ने चर्च में 15 से 20 राउंड गोलियां चलाई थीं। पकड़े गए आरोपियों में रणदीप का भाई बलराम सिंह गिल और उनका निजी सचिव सूरज शामिल हैं। आरोपियों के कब्जे से एक राइफल, एक रिवाल्वर, इनोवा और मोबाइल बरामद हुए हैं।

रणदीप सिंह गिल का आपराधिक रिकॉर्ड
  • 12 अगस्त 2003 : सी डिवीजन पुलिस ने पिस्तौल दिखाने और मारपीट का मामला दर्ज किया था।
  • 29 मई 2008 : सी डिवीजन पुलिस ने हत्या के प्रयास और मारपीट का मामला दर्ज किया था।
  • 31 मार्च 2014 : तरनतारन सिटी पुलिस ने धोखाधड़ी, वसूली और षड़यंत्र रचने के आरोप में केस दर्ज किया था।
  • 25 अगस्त 2016 : रामबाग पुलिस ने मारपीट और वसूली करने का मामला दर्ज किया था।
 
बलराम सिंह गिल का आपराधिक रिकॉर्ड
  • 13 मार्च 2018 : बी डिवीजन पुलिस ने फर्जी दस्तावेजों पर धोखाधड़ी करने का मामला दर्ज किया था।
  • 28 अगस्त 2019 : महिला थाने की पुलिस ने दहेज प्रताड़ना के आरोप में केस दर्ज किया था।
... और पढ़ें

पंजाब में बिगड़ी कानून-व्यवस्था, मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को देना चाहिए इस्तीफा : आप

आम आदमी पार्टी (आप) की महिला विधायकों ने पंजाब में बिगड़ती कानून-व्यवस्था के लिए मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को जिम्मेदार ठहराया है। राज्य में आपराधिक प्रवृत्ति के लोगों में कानून-व्यवस्था का भय नहीं रहा है। इसके बाद भी कैप्टन मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा नहीं दे रहे हैं। आप विधायकों ने केंद्रीय मंत्री निर्मला सीतारमण के बयान को भी शर्मनाक बताया है।

आप मुख्यालय से जारी संयुक्त बयान में उपनेता प्रतिपक्ष सरबजीत कौर मानूके, विधायक प्रो. बलजिंदर कौर और रूपिंदर कौर रूबी ने कहा कि राज्य में कानून-व्यवस्था नाम की कोई चीज नहीं बची है। पुलिस प्रशासन और बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार के मामलों में अधिकारियों के अत्यधिक हस्तक्षेप ने सब कुछ बर्बाद कर दिया है। हर तरफ भय का माहौल है। 

केवल असामाजिक तत्वों और अपराधियों का मनोबल ऊंचा है। इसके बाद भी सिसवां के शाही फार्म हाउस में मुख्यमंत्री को बच्चियों के रोने या माता-पिता के रोने की आवाज नहीं सुनाई दे रही है। उन्होंने कहा कि पंजाब में वर्ष 2018-19 के दौरान दुष्कर्म के 5,058 मामले दर्ज किए गए लेकिन केवल 30 प्रतिशत पीड़ितों को न्याय मिला। शेष 70 प्रतिशत न्याय के लिए अभी भी भटक रही हैं।

आप विधायकों ने केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा टांडा की घटना के बारे में की गई ‘पिकनिक’ टिप्पणी को राहुल गांधी और प्रियंका गांधी को संकीर्ण राजनीति के शिखर के रूप में करार दिया। महिला विधायकों ने मांग की है कि अमरिंदर सिंह को इसके लिए तुरंत मुख्यमंत्री पद त्याग देना चाहिए।
... और पढ़ें

पंजाब में किसानों और युवा कांग्रेस ने केंद्र सरकार और कारपोरेट घरानों के पुतले फूंके

पंजाब : होशियारपुर दुष्कर्म मामले में कैप्टन अमरिंदर सिंह बोले- इसी हफ्ते पेश किया जाएगा चालान

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने रविवार को कहा कि उनकी सरकार ने होशियारपुर के दुष्कर्म व हत्या के मामले में यूपी सरकार की तरह ढिलाई नहीं बरती। उन्होंने हाथरस मामले से उलट तुरंत कार्रवाई की है। इस मामले में चालान इसी हफ्ते अदालत में पेश कर दिया जाएगा।

पटियाला में पत्रकारों से बातचीत के दौरान कैप्टन ने केंद्रीय मंत्री निर्मला सीतारमण की टिप्पणी पर कहा कि यदि पंजाब सरकार या पुलिस होशियारपुर मामले में तेजी न दिखाती तो राहुल गांधी, प्रियंका गांधी और अन्य उसी तरह प्रतिक्रिया देते जैसे कि उन्होंने हाथरस मामले में दी थी। गौरतलब है कि होशियारपुर में छह साल की बच्ची की दुष्कर्म के बाद हत्या कर दी गई थी।

सिद्धू को दरकिनार नहीं किया
एक सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि कौन कहता है पंजाब कांग्रेस में नवजोत सिंह सिद्धू दरकिनार किए गएं। ऐसा कुछ नहीं है। ईडी द्वारा उनके बेटे रणइंदर सिंह को समन भेजे जाने संबंधी सवाल पर कैप्टन ने कहा कि यह कोई पहली बार नहीं है कि एजेंसी द्वारा उनके परिवार को समन भेजे गए हैं।

किसानों के संपर्क में हैं हमारे मंत्री
आर्थिक गतिविधियों को नुकसान पहुंच रहा है। राज्य के पास सिर्फ एक दिन का कोयले का स्टॉक और काफी कम यूरिया बचा है। राज्य के मंत्री किसान जत्थेबंदियों के साथ बातचीत कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय ग्रिड से बिजली नहीं खरीद सकते क्योंकि राज्य के पास पैसा नहीं है।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X