विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
मात्र 2 दिन शेष ,गंगा दशहरा पर कराएं गंगा आरती एवं दीप दान, पूरे होंगे रुके हुए काम
Puja

मात्र 2 दिन शेष ,गंगा दशहरा पर कराएं गंगा आरती एवं दीप दान, पूरे होंगे रुके हुए काम

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

बीजेपी नेता की कनपटी पर मारी तीन गोलियां, सामने आई ये वजह

मध्यप्रदेश : कटनी के पुलिस थाने में युवक ने लगाई फांसी, जांच के आदेश

कटनी जिले के विजयराघवगढ़ थाने के अंदर बने शौचालय में एक युवक ने शनिवार-रविवार की मध्य रात को कथित तौर पर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। उसे एक युवती की हत्या के आरोप में शनिवार को ही गिरफ्तार किया गया था। मौके पर पहुंचे कटनी के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक विवेक कुमार लाल ने बताया, ‘‘रामकिशोर उर्फ अभिषेक गोड़ (24) ने विजयराघवगढ़ थाने में कल रात कंबल को फाड़कर रस्सी बनाई और उससे फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। 

उसे एक युवती की हत्या के मामले में कल गिरफ्तार कर पुलिस हिरासत में रखा गया था।’’ उन्होंने कहा कि पूरे मामले की मजिस्टीरियल जांच के आदेश दिए गए हैं। लाल ने बताया कि यदि जांच में कोई दोषी पाया जाता है तो उसके खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।

उन्होंने कहा कि मृतक के शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया गया है। विजयराघवगढ़ थाना प्रभारी राजेश तिवारी ने बताया कि रामकिशोर ग्राम उबरा थाना बरही का निवासी है। उस पर करीब 20 दिन पहले अपनी प्रेमिका का गला घोंटकर हत्या करने का आरोप था। उसकी प्रेमिका ने जब भाग कर शादी करने से इनकार किया तो उसने उसकी कथित तौर पर हत्या कर दी थी।
... और पढ़ें

'दृश्यम' फिल्म देखकर भाजपा नेता ने की महिला की हत्या, पांच गिरफ्तार

विवाहेतर संबंधों से पैदा कलह के चलते युवती के दो साल पुराने हत्याकांड का खुलासा करते हुए पुलिस ने शनिवार को स्थानीय भाजपा नेता और उसके तीन बेटों समेत पांच लोगों को धर दबोचा। पुलिस का दावा है कि आरोपियों ने अजय देवगन की प्रमुख भूमिका वाली मशहूर थ्रिलर फिल्म "दृश्यम" (2015) देखकर हत्याकांड की साजिश रची थी। पुलिस उप महानिरीक्षक (डीआईजी) हरिनारायणचारी मिश्रा ने संवाददाताओं को बताया कि बाणगंगा क्षेत्र में रहने वाली ट्विंकल डागरे (22) की हत्या के मामले में भाजपा नेता जगदीश करोतिया उर्फ कल्लू पहलवान (65), उसके तीन बेटों-अजय (36), विजय (38) और विनय (31) और उसके साथी नीलेश कश्यप (28) को गिरफ्तार किया गया है। 

उन्होंने बताया कि अन्य महिला से पहले से विवाहित करोतिया के ट्विंकल के साथ कथित तौर पर नाजायज रिश्ते थे। ट्विंकल भाजपा नेता के साथ उसके घर में रहना चाहती थी। इस बात पर भाजपा नेता के परिवार में आये दिन कलह होता था।  मिश्रा ने कहा, "कलह से परेशान करोतिया और उसके बेटों ने ट्विंकल की हत्या की साजिश रची। उन्होंने 16 अक्टूबर 2016 को रस्सी के फंदे से युवती का गला घोंट दिया। फिर उसकी लाश को जला दिया।" उन्होंने बताया कि जिस जगह युवती की लाश जलायी गयी थी, वहां से पुलिस ने उसकी बिछिया और ब्रेसलेट बरामद किया है। 

डीआईजी ने बताया, "हमें पता चला है कि आरोपियों ने हत्याकांड की साजिश रचने के दौरान दृश्यम फिल्म देखी थी। उन्होंने इस फिल्म के एक सीन की तर्ज पर कुत्ते के शव को एक स्थान पर गाड़ दिया था। फिर यह बात जान-बूझकर फैला दी थी कि उन्होंने गड्ढे में किसी का शव गाड़ा है।" उन्होंने बताया, "जब पुलिस ने इस स्थान की खुदाई करायी, तो वहां से कुत्ते के शव के अवशेष बरामद किये गये। इससे पुलिस की जांच कुछ समय के लिये भटक गयी।" 

मिश्रा ने बताया कि वैज्ञानिक तरीके से मामले की गुत्थी सुलझाने के लिये गुजरात की एक प्रयोगशाला में करोतिया और उनके दो बेटों का ब्रेन इलेक्ट्रिकल आसलेशन सिग्नेचर (बीईओएस) टेस्ट कराया गया। शहर के इतिहास में किसी आपराधिक वारदात को सुलझाने के लिये पहली बार बीईओएस टेस्ट कराया गया। 

ट्विंकल के परिजन प्रदेश की पूर्ववर्ती भाजपा सरकार के राज में इस पार्टी के तत्कालीन विधायक सुदर्शन गुप्ता पर करोतिया और उसके बेटों को पुलिस से "संरक्षण" देने का आरोप लगाते रहे हैं। हालांकि, इस बारे में पूछे जाने पर डीआईजी ने कहा कि मामले में गुप्ता की किसी भूमिका को लेकर पुलिस को अभी कोई भी सबूत नहीं मिला है।विस्तृत जांच जारी है।
... और पढ़ें

मध्यप्रदेश: लूट के आरोप में सेनाकर्मी सहित चार गिरफ्तार

जबलपुर पुलिस ने शहर के मधोताल इलाके में एक व्यक्ति को लूटने के आरोप में एक सैन्यकर्मी और एक नाबालिग सहित चार लोगों को गिरफ्तार किया है। मधोताल पुलिस थाने के प्रभारी निरीक्षक अनिल गुप्ता ने मंगलवार को बताया कि सैन्यकर्मी अमित रायकवार को उसके तीन साथियों के साथ लूट के आरोप में गिरफ्तार किया गया है।

उन्होंने बताया कि इस मामले में मुख्य आरोपी के अलावा समित रायकवार (24) राकेश बर्मन (21) और 17 वर्षीय एक लड़के के गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने शिकायतकर्ता जयराम साहू के हवाले से बताया कि लूटने वाले लोगों में से एक व्यक्ति ने सेना की वर्दी पहन रखी थी। इस जानकारी के बाद चारों आरोपियों को गिरफ्तार किया गया।

गुप्ता ने बताया कि सेना के जवान का विवरण जांचने के बाद पता चला है कि वर्तमान में वह हिसार, हरियाणा में पदस्थ है। उन्होंने बताया कि आरोपियों के पास से साहू से लूटा गया हैंडबैग, एक चाकू, लाठियां और दो बाइक बरामद की गईं हैं। गुप्ता ने बताया कि आरोपियों को भादवि की धारा 392 लूट तथा आर्म्स एक्ट की संबद्ध धाराओं के तहत गिरफ्तार किया गया है।
... और पढ़ें
सांकेतिक तस्वीर सांकेतिक तस्वीर

दरिंदे पति ने पत्नी के गुप्तांग में डाली छह इंच लंबी प्लास्टिक की ग्रिप, दो साल से सह रही थी दर्द

मध्यप्रदेश के इंदौर शहर में मंगलवार को डॉक्टरों ने एक महिला के गुप्तांग से मोटलसाइकिल के हैंडल की ग्रिप निकाली है। पुलिस ने बताया कि कथित तौर पर ये प्लास्टिक की ग्रिप पीड़िता के हैवान पति ने दो साल पहले उसके गुप्तांग में डाल दी थी। वह तभी से असहनीय पीड़ा का सामना कर रही थी। 

36 साल की आदिवासी पीड़ित महिला ने रविवार को शिकायत में कहा है कि अपने पति की दरिंदगी के कारण वह असहनीय दर्द सह रही थी। इस शिकायत के बाद आरोपी पति को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी एक म्यूजिक बैंड के साथ काम करता है। चंदन नगर पुलिस स्टेशन इंचार्ज राहुल शर्मा का कहना है, "धार जिले की रहने वाले ये महिला छह बच्चों की मां है और उसकी शादी 15 साल पहले हुई थी।

दो साल पहले बच्चों को लेकर दोनों पति-पत्नी का झगड़ा हो गया। पति ने पहले महिला के साथ मारपीट की और फिर गुस्से में उसके गुप्तांग में हैंडल की ग्रिप डाल दी। महिला ने शर्म और अपने बच्चों के भविष्य के बारे में सोचते हुए ये बात सबसे छिपाई।" 

शर्मा ने आगे बताया कि कुछ महीने पहले महिला को असहनीय दर्द हुआ। जिसके बाद वह एक निजी अस्पताल गई, वहां उससे डॉक्टरों ने कहा कि एक लाख रुपये जमा करने के बाद उसका तुरंत ऑपरेशन किया जाएगा। "गरीब महिला पैसों के बारे में सुनते ही अस्पताल से चली गई। रविवार को वह बुरी हालत में चंदन नगर पुलिस स्टेशन पहुंची।"

अधिकारी ने बताया कि पुलिस ने मामला दर्ज कर महिला को अस्पताल में भर्ती कराया। अस्पताल में सर्जरी विभाग के हेड डॉक्टर आरके माथुर का कहना है कि प्लास्टिक की ग्रिप ने महिला के गुप्तांग को काफी नुकसान पहुंचाया है। डॉक्टर ने बताया कि ग्रिप महिला की बच्चेदानी, पेशाब की थैली और छोटी आंत तक पहुंच गई थी। 

माथुर ने बताया, "ऑपरेशन चार घंटे तक चला और हमने प्लास्टिक की ग्रिप निकाली। अब हम क्षतिग्रस्त हिस्सों का इलाज कर रहे हैं। अब उनकी हालत स्थिर है।"



... और पढ़ें

25 लाख दहेज लेकर भी इंस्पेक्टर ने शादी से मना किया, जहर खाकर जान दी

कांग्रेस के पूर्व विधायक हेमंत कटारे पर यौन शोषण का आरोप लगाकर वापस लेने वाली पत्रकारिता की छात्रा प्रिंशु सिंह ने गुरुवार सुबह जहर खाकर जान दे दी। छात्रा ने ये कदम उत्तर प्रदेश में प्रयागराज जिले के झूंसी क्षेत्र में उठाया। यहां देव नगर में रहने वाले इंस्पेक्टर कालिका प्रताप सिंह (बॉबी) के साथ 12 दिन बाद उसकी शादी तय थी। प्रिंशु ने पांच पेज का एक सुसाइड नोट छोड़ा है।

लिखा है कि शादी की पूरी तैयारियां हो चुकी हैं। उन्हें दहेज के 25 लाख भी दे चुके हैं। अब बॉबी के भैया, चाचा मेरी शादी के खिलाफ हो गए हैं, जिनके कारण मैं जान दे रही हूं... 

उप्र के हलधरपुर की रहने वाली प्रिंशु (21) ने 2018 में भोपाल स्थित माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विवि से एमए इन ब्रॉड कास्ट जर्नलिज्म किया था। 15 मई को उसकी शादी फतेहपुर, उप्र में पदस्थ इंस्पेक्टर कालिका प्रताप सिंह से तय थी।

सात साल बड़े कालिका से प्रिंशू का परिचय अगस्त 2016 में फेसबुक के जरिए हुआ था। एक-दूसरे के मोबाइल नंबर आपस में शेयर हुए और दोस्ती प्यार में तब्दील हो गई थी। दहेज के तौर पर बीस लाख रुपए नकद और एक चार पहिया वाहन देना तय था। इसमें से 25 लाख रुपए प्रिंशू के पिता ने कालिका के परिवार को दे भी दिए थे।

दोनों के बीच संबंध भी बने, इसके बाद भी कालिका के परिवार वाले शादी से मुकर गए। इसी गम में प्रिंशू ने गुरुवार तड़के चार बजे जहर खाकर जान दे दी। एसएसपी प्रयागराज अतुल शर्मा के मुताबिक प्रिंशू के पिता की शिकायत पर दहेज अधिनियम के तहत केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है। 

आरोप लगाकर आई थी चर्चा में फरवरी 2018 में प्रिंशू ने कांग्रेस नेता हेमंत कटारे पर यौन शोषण का आरोप लगाकर सनसनी फैला दी थी। क्राइम ब्रांच ने उसके खिलाफ ही ब्लैकमेलिंग का केस दर्ज कर उसे जेल भेज दिया। बाद में प्रिंशू ने अपना आरोप वापस ले लिया था। साल के आखिर में एक प्रेस कांफ्रेंस कर प्रिंशू ने कुछ राजनेताओं के बहकावे में आकर आरोप लगाने की सफाई दी। इसके बाद से ही उसका सुर्खियों में रहना कम हो गया था। 

पांच पेज के सुसाइड नोट

नमस्ते, मेरा नाम प्रिंशु सिंह है। दो मई को ये लैटर मैं पूरे होशो-हवास में गाड़ी में बैठकर लिख रही हूं। मैं प्रयागराज कालिका प्रताप सिंह के घर जा रही हूं। जब आप ये लैटर पढ़ रहे होंगे, तब शायद मैं इस दुनिया में नहीं होऊंगी। कालिका को मैं बॉबी बुलाती हूं। अगस्त 2016 में बॉबी से मेरी पहचान फेसबुक पर हुई थी। हम दोनों एक-दूसरे को प्यार करते थे।

8-9 महीने बाद बॉबी मुझसे मिलने भोपाल आए। बॉबी ने मुझसे पूछा कि तुम्हारे घरवाले क्या गिफ्ट (दहेज) देंगे। मैंने कहा 20 लाख रुपए और एक फोर व्हीलर। मेरे पापा उनके घर रिश्ता लेकर गए, जिसे उन्होंने मंजूर कर लिया। उनके भैया झूंसी में मकान खरीद रहे थे। उनके कहने पर बॉबी ने मुझसे 35 लाख कैश और स्विफ्ट मांगी।

मेरे परिवार ने इसका विरोध किया, लेकिन मेरी जिद के आगे वे मान गए। पापा ने मथुरा जाकर उन्हें 25 लाख रुपए दे भी दिए। यहीं हमारे पहली बार संबंध बने। 15 मई को हमारी शादी है। शादी की पूरी तैयारियां हो चुकी हैं। कार्ड तक बंट गए हैं। 28 अप्रैल को बॉबी कहने लगे कि मेरे पापा और अरविंद भैया इस शादी के लिए तैयार नहीं हैं। मेरा जीवन इन सबने बर्बाद कर दिया है।

भगवान से गुजारिश है इन्हें इनके किए की सजा जीवनभर मिले। अरविंद प्रताप सिंह, बॉबी के चाचा जेपी सिंह, और उनके भैया विश्वनाथ प्रताप सिंह की वजह से मैं जान दे रही हूं। बॉबी ने भी ठीक नहीं किया और मुझे आत्महत्या करने जैसी स्थिति में लाकर खड़ा कर दिया। मुझे सिर्फ न्याय चाहिए। गुड बाय। -प्रिंशु सिंह।
... और पढ़ें

केबल टीवी विवाद में कारोबारी की हत्या, आरोपी गिरफ्तार

सांकेतिक तस्वीर
मध्यप्रदेश के एक केबल टीवी नेटवर्क के 19 करोड़ रुपये के विवाद में भाड़े के शूटरों से यहां कारोबारी की हत्या के सनसनीखेज मामले के मुख्य साजिशकर्ता को उत्तराखंड की राजधानी देहरादून से गिरफ्तार किया गया है। उसके कब्जे से चरस भी बरामद की गयी है।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) रुचि वर्धन मिश्र ने यहां सोमवार को संवाददाताओं को बताया कि कारोबारी संदीप अग्रवाल (42) की इंदौर के विजय नगर क्षेत्र में 16 जनवरी को गोली मारकर हत्या कर दी गयी थी। इस मामले के मुख्य साजिशकर्ता रोहित सेठी को उत्तराखंड पुलिस ने 112 ग्राम चरस के साथ देहरादून के एक पार्क से रविवार देर शाम पकड़ा।

उन्होंने बताया कि सेठी को इंदौर लाने के लिये देहरादून में कानूनी औपचारिकताएं पूरी की जा रही हैं। अग्रवाल हत्याकांड में उसकी गिरफ्तारी पर 30,000 रुपये का इनाम घोषित था। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि सेठी मध्यप्रदेश में एसआर केबल नेटवर्क चलाता था। अग्रवाल ने इस केबल नेटवर्क में 19 करोड़ रुपये निवेश किये थे। भागीदारों से विवाद होने पर वह यह रकम वापस मांग रहा था।

अधिकारियों के मुताबिक, आरोप है कि इस रकम की अदायगी से बचने के लिये सेठी ने कुख्यात गैंगस्टर सुधाकरराव मराठा की मदद से अग्रवाल की हत्या की साजिश रची और इसे भाड़े के शूटरों के जरिये अंजाम दिलवाया। मामले में मराठा और उसके तीन साथियों को 23 जनवरी को गिरफ्तार किया गया था।
... और पढ़ें

मध्यप्रदेश : बंदूक की नोक पर स्कूल बस से तेल कारोबारी के जुड़वां बेटों का अपहरण

चित्रकूट के नयागांव थाना क्षेत्र स्थित एसपीएस स्कूल की बस में सवार यूकेजी के दो छात्रों का मंगलवार दोपहर नकाबपोश बदमाशों ने पिस्टल की नोक अगवा कर लिया। दिनदहाड़े हुई इस वारदात से क्षेत्र में सनसनी फैल गयी। अगवा किए गए जुड़वां भाई ब्रजेश रावत के पुत्र हैं। बृजेश एक तेल व्यापारी हैं। 

रिपोर्ट्स के मुताबिक, दोनों बच्चे विद्यालय में अवकाश होने के बाद जैसे ही घर आने के लिए बस में चढ़ रहे थे तभी बाइक पर आए दो अज्ञात बदमाशों ने तमंचा दिखाकर दोनों को बाइक में जबरन बैठाया और ले गए। इनका परिवार यूपी के चित्रकूट जिला मुख्यालय के सीतापुर में रहता है। इस वारदात में साढ़े 5 लाख के इनामी अंतरराज्यीय गैंग सरगना बबुली कौल का हाथ होने की आशंका जताई जा रही है। 

चित्रकूट एसपी मनोज कुमार झा ने जिले की सीमा की नाकेबंदी कर सघन चेकिंग शुरू कराई। नयागांव मध्यप्रदेश थाना प्रभारी के पी त्रिपाठी ने जगह-जगह बच्चों की तलाश में चेकिंग अभियान शुरू किया। जानकारी के अनुसार स्कूल से अपहृत बच्चों के नाम श्रेयांश और प्रियांश रावत है। दोनों की उम्र 5 साल है।

वहीं सतना एसपी ने संतोष सिंह गौर ने कहा कि यूपी पुलिस की मदद से बच्चों को सुरक्षित रिकवर करने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि सीसीटीवी फुटेज में युवकों की गतिविधियों से मालूम चलता है कि दोनों प्रोफेशनल किस्म के बदमाश हो सकते हैं। 

दिनदहाड़े हुई इस वारदात पर पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने ट्ववीट कर लिखा, 'मुझे याद है, जब मैं पहली बार मुख्यमंत्री बना था तब मैंने कहा था मध्यप्रदेश में या तो शिवराज रहेगा या तो फिर डाकू...।'
 

... और पढ़ें

भोपाल में मिली महिला की सात महीने पुरानी लाश, घर का ताला लगाकर बेटा गायब

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में एक महिला की सात महीने पुरानी लाश मिली है। जिससे इलाके में दहशत का माहौल है। ये लाश राजधानी के विद्या नगर सी-सेक्टर के पास स्थित बीडीए कॉम्प्लेक्स के फ्लैट में मिली है। लाश के बारे में पुलिस को रविवार को जानकारी मिली।

बताया जा रहा है कि लाश को रजाई से लपेटकर दीवान में कपड़ों से ढंककर रखा गया था। मामले की जानकारी मिलते ही इसकी सूचना पुलिस को दी गई। मामले पर एसडीओपी दीशेष अग्रवाल ने बताया कि ये लाश विमला की है। विमला सड़क परिवहन निगम में कर्ल्क रह चुकी हैं। उनके पति का नाम बृजमोहन श्रीवास्तव था।

बेटा भी रहता था साथ

मृतक महिला के पड़ोसियों का कहना है कि विमला के साथ उनका 31 साल का बेटा अमित श्रीवास्तव भी रहता था। पड़ोसियों का कहना है कि वह 6 से 7 महीने से लापता है। ऐसे में माना जा रहा है कि ये लाश भी 6 से 7 महीने पुरानी हो सकती है।

लाश के बारे में ऐसे मिली जानकारी

बीते कई महीनों से विमला के बारे में किसी को कुछ पता नहीं चला। रविवार को फ्लैट के वर्तमान मालिक रामवीर सिंह का बेटा धर्मेंद्र सिंह दो लेबर के साथ पजेशन के लिए पहुंचा था। धर्मेंद्र ने जब फ्लैट का ताला खोला तो वहां बदबू आ रही थी। तभी उनकी नजर हॉल में रखे दीवान पर पड़ी। जब उन्होंने दीवान को खोला तो उसमें कुछ कपड़े पड़े थे।   

जब इन लोगों ने कपड़े हटाकर देखा तो उन्हें रजाई में लिपटी लाश मिली। जिसके बाद उन्होंने इसकी सूचना पुलिस को दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने लाश को बरामद कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। मामले में फिलहाल पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने का इंतजार किया जा रहा है।
 

पजेशन नहीं दे रहा था अमित

फ्लैट के मालिक रामवीर सिंह का कहना है कि उन्होंने 2 जून, 2018 को एक बीएचके फ्लैट की रजिसट्री बीडीए से करवाई थी। इसके लिए रजिसट्री से 15 दिन पहले विमला की सहमति भी ली गई थी। छह लाख रुपये में फ्लैट का सौदा हुआ। इसमें से ढाई लाख रुपये अमित को बाकी के बीडीए को दिए गए। लेकिन अमित पजेशन नहीं दे रहा था। 

मामले पर रिश्तेदारों का कहना है कि विमला की दोनों किडनी खराब हो चुकी थीं। अमित अपनी मां के इलाज के लिए लोगों से पैसे मांगता रहता था। इसी कारण वो डिप्रेशन में चला गया था। ऐसे में माना जा रहा है कि ये लाश विमला की ही हो सकती है।
... और पढ़ें

मध्यप्रदेश में संघ कार्यकर्ता ने रची थी खुद की हत्या की साजिश, पुलिस ने किया खुलासा

मध्यप्रदेश के रतलाम में आरएसएस कार्यकर्ता की कथित हत्या के मामले में पुलिस ने हैरतअंगेज खुलासा किया है। पुलिस के अनुसार हत्यारा खुद संघ कार्यकर्ता हिम्मत पाटीदार है और उसने ही बीमा राशि लेने के लिए अपने नौकर को मौत के घाट उतार दिया था।

बता दें कि 23 जनवरी को रतलाम जिले के कमेड़ गांव के एक खेत में एक शव मिला था। इसे संघ के पदाधिकारी रहे हिम्मत पाटीदार का बताया गया था। लेकिन पांच दिन की तफ्तीश के बाद सोमवार को पुलिस ने खुलासा किया कि उक्त शव पाटीदार का नहीं, बल्कि उसके नौकर मदन मालवीय का है।

पुलिस अधीक्षक गौरव तिवारी ने बताया कि 23 जनवरी को कमेड़ में मृतक के पिता ने ही पुलिस को सूचना दी थी कि उसके बेटे हिम्मत पाटीदार की हत्या कर चेहरा जला दिया गया है। मामले में प्रारंभिक रूप से परिजनों ने मृतक की पहचान कपड़ों, सामान के आधार पर हिम्मत के रूप में की थी, लेकिन जब जांच आगे बढ़ी तो यह बात पुलिस के सामने आई कि हिम्मत के खेत पर काम करने वाला मदन भी गायब है। 
... और पढ़ें

मध्यप्रदेश: नर्स ने एससी/एसटी एक्ट के तहत दर्ज कराया मामला, डॉक्टर ने की आत्महत्या

मध्यप्रदेश के सीधी जिले में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में काम करने वाले एक डॉक्टर ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है। मृतक डॉक्टर का नाम शिवम मिश्रा है। बताया जा रहा है कि एक नर्स ने उनके खिलाफ एससी/एसटी एक्ट के तहत मामला दर्ज कराया था। जिसके चलते वह तनाव में थे। ये सामुदायिक केंद्र चुरहट में स्थित है।  

उनकी आत्महत्या की खबर की सूचना स्थानीय लोगों ने पुलिस को दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। उनकी आत्महत्या के पीछे की वजह स्टाफ नर्स द्वारा प्रताड़ित करना बताया जा रहा है। शिवम के परिवार ने मौत की जांच सीआईडी से कराने की मांग की है। फिलहाल पुलिस मामले की जांच में जुटी हुई है।

मामले पर एसडीओपी शैलेंद्र श्रीवास्तव ने बताया कि मृतक डॉक्टर शिवम मिश्रा रीवा जिले के निवासी थे। वह बीते 4-5 सालों से जिले के विभिन्न स्वास्थ्य केंद्रों में काम कर चुके हैं। उन्होंने चुरहट स्थित सरकारी आवास में कपड़े से फंदा लगाकर आत्महत्या की है।

पुलिस ने बताया कि उनके खिलाफ 15 दिन पहले चुरहट थाने में एससी-एसटी के तहत मामला दर्ज हुआ है। ये मामला स्टाफ नर्स की शिकायत के बाद दर्ज किया गया था।  
 
सीएमएचओ आरएल वर्मा के अनुसार घटना की सूचना मिलते ही वह मौके पर पहुंचे और शिवम के परिवार वालों से बातचीत की। इसके बाद उन्होंने शिवम के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा। उन्होंने कहा कि पोस्टमार्टम की रिपोर्ट आने के बाद ही कुछ कहा जा सकता है। शिवम के पिता एलएम मिश्रा जल संसाधन विभाग में कार्यपालन यंत्री के पद पर हैं।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन