विज्ञापन
विज्ञापन
क्या कहती है आपकी जन्मकुंडली आपके भविष्य के बारे में
Astrology

क्या कहती है आपकी जन्मकुंडली आपके भविष्य के बारे में

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

उज्जैनः श्री महाकालेश्वर मंदिर के नंदी हॉल में चार दिनों तक प्रवेश वर्जित, बाहर से ही होंगे दर्शन

नए साल के आगमन के पूर्व से ही श्री महाकालेश्वर मंदिर में दर्शनार्थियों बढ़ती संख्या को देखते हुए मंदिर प्रबंधन ने बड़ा निर्णय लिया है। प्रबंधन समिति ने 30 व 31 दिसम्बर तथा 1 व 2 जनवरी को दर्शनार्थियों के नंदी हॉल में प्रवेश पर रोक लगा दी है।

प्रबंधन ने भक्तों को बेरिकेट्स के माध्यम से बाहर से ही दर्शन करवाने का निर्णय लिया है। कलेक्टर एवं अध्यक्ष मंदिर प्रबंधन समिति आशीष सिंह ने इस आदेश का पालन कड़ाई से करवाने के निर्देश दिए हैं।

प्रवेश के लिए नया गेट
मंदिर में दर्शन करने आने वाले वीआईपी प्रोटोकॉल ढाई सौ रुपए से दर्शन करने वाले को अब भस्म आरती गेट के पास नए गेट से प्रवेश दी जाएगी। यह गेट भस्म आरती गेट के बिल्कुल करीब बनाया गया है, जहां पर प्रोटोकॉल वीवीआइपी ढाई सौ रुपए प्रसिद्ध काउंटर जूता चप्पल स्टैंड बनाया गया है। नियमित श्रद्धालु भी इसी गेट से आ जा सकेंगे।
... और पढ़ें

खंडवा: गला दबा पत्नी को मार डाला, फिर नहर में गिरा दी कार, ऐसे हुआ पर्दाफाश

Madhya Pradesh Weather Update: मध्यप्रदेश में बारिश होने का अनुमान, बिगड़ सकता है मौसम का मिजाज

देश के मैदानी इलाकों में कड़ाके की सर्दी पड़ने लगी है। इस बीच मौसम वैज्ञानिकों ने अनुमान जताया है कि साल बीतने से पहले एक बार फिर मौसम का मिजाज बिगड़ने का अनुमान जाहिर किया है। मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि एक-दो दिन में बारिश हो सकती है, जिसके बाद सर्दी बढ़ने का अनुमान है। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक, उत्तर भारत में एक पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय है। इसके अलावा एक और पश्चिमी विक्षोभ 26 दिसंबर को उत्तर भारत में दाखिल हो सकता है, जिससे पहाड़ी इलाकों में जबरदस्त बर्फबारी होने का अनुमान है। 

वरिष्ठ मौसम विज्ञानिकों ने बताया कि इस वक्त एक कमजोर पश्चिमी विक्षोभ उत्तर भारत और आसपास के इलाकों में सक्रिय है। उसके प्रभाव से हवा का रुख उत्तर और उत्तर-पूर्व दिशा में हो रहा है। इस वजह से दिन और रात के तापमान में इजाफा हो रहा है। मौसम वैज्ञानिकों के मुताबिक, 26 दिसंबर को एक अन्य पश्चिमी विक्षोभ उत्तर भारत पहुंच सकता है, जिससे उत्तर भारत के पहाड़ों पर बर्फबारी होने लगेगी। साथ ही, इसकी वजह से प्रति चक्रवात या प्रेरित चक्रवात बन सकता है। इससे हवा का रुख बदलकर दक्षिण-पूर्वी भी हो सकता है। ऐसे में नमी आने के कारण बादल छाने लगेंगे।

इस दौरान मध्य प्रदेश में भी बरसात होने का अनुमान है। इसके बाद 28 दिसंबर को हवा का रुख उत्तर दिशा की ओर होने लगेगा, जिससे 29 दिसंबर से भोपाल सहित मध्यप्रदेश के अधिकांश शहरों के न्यूनतम तापमान में तेजी से गिरावट आ सकती है। इससे ठंड बढ़ने लगेगी। मौसम वैज्ञाानिकों ने बताया कि 31 दिसंबर तक मध्यप्रदेश के कई शहरों में शीतलहर चल सकती है। इससे पाला पड़ने की आशंका भी बढ़ जाएगी।

बता दें कि सीजन में सबसे अधिक ठंड दिसंबर और जनवरी माह में ही पड़ती है। इस साल अब तक सबसे कम न्यूनतम तापमान तीन डिग्री सेल्सियस दतिया और उमरिया में दर्ज किया जा चुका है। अब हवा के रुख में हुए बदलाव से न्यूनतम तापमान में भी इजाफा होने लगा है। इसके चलते 23 दिसंबर को प्रदेश में सबसे कम तापमान पांच डिग्री उमरिया और मंडला में दर्ज किया गया।
... और पढ़ें

इंदौर के हर्ष चौहान बने राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग के सदस्य, काफी समय से कर रहे 'वनवासी कल्याण'

हर्ष चौहान, अध्यक्ष राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग हर्ष चौहान, अध्यक्ष राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग

राहुल समेत कृषि कानूनों को वापस करने की मांग करने वालों को इनके बारे में कुछ नहीं पता: कृषिमंत्री

कृषिमंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी पर हमला बोलते हुए कहा, जो लोग कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग कर रहे हैं, वे इनके बारे में कुछ जानते तक नहीं हैं। चाहे राहुल गांधी हो या राजनीतिक दलों के लोगों को इन कानूनों से कुछ लेना देना नहीं है।

उन्होंने कहा कि जहां तक किसान आंदोलन का सवाल है तो सरकार किसानों के साथ चर्चा कर रही है ताकि उन्हें बेहतर प्रस्ताव दिया जा सके। जब वह अपना मत देंगे तो हम चर्चा को आगे बढ़ाएंगे। 

तोमर ने उज्जैन में भाजपा विधायकों के लिए आयोजित दो दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम से इतर कहा, मैं राहुल को कहना चाहता हूं कि जो वंशवाद की राजनीति करते हैं, उन्हें किसी पर टिप्पणी करने का कोई अधिकार नहीं है। यहां तक कि कांग्रेस पार्टी भी अपने नेता को गंभीरता से नहीं लेती। उनके नेतृत्व में कांग्रेस तीन गुना गति से गिर रही है, जो चिंता का विषय है। एक कमजोर विपक्ष लोकतंत्र के लिए अच्छा नहीं होता। 
... और पढ़ें

मध्यप्रदेश:  उज्जैन जिले में एक कार नदी में गिरने से महिला सहित दो लोगों की मौत

मध्यप्रदेश के उज्जैन जिले में रविवार को एक कार के एक पुल से नदी में गिरने की घटना में कार सवार एक महिला सहित दो लोगों की डूबने से मौत हो गई। पुलिस ने इसकी जानकारी दी ।

जिले के इंगोरिया पुलिस थाने के निरीक्षक अशोक शर्मा ने ‘भाषा’ को बताया कि यह घटना उज्जैन जिला मुख्यालय से करीब 20 किलोमीटर दूर बड़नगर रोड पर हुई।

उन्होंने बताया कि हादसे में मरने वालों की पहचान प्रियंका तिवारी (25) एवं अनुराग तिवारी (27) के रूप में की गई है। ये दोनों बिहार के सिवान जिले के रहने वाले थे।शर्मा ने बताया कि नदी से दोनों शव एवं कार बरामद कर लिये गये हैं । उन्होंने बताया कि आगे की कार्रवाई की जा रही है।
... और पढ़ें

नेताजी को 125वीं जयंती पर दिया जाए 'भारत रत्न', भाजपा सांसद ने पीएम मोदी को लिखी चिट्ठी

सांकेतिक तस्वीर

खंडवा: हनुवंतिया जल महोत्सव के दौरान दो युवकों की मौत, डीएम ने दिए जांच के आदेश

मध्यप्रदेश के खंडवा में बुधवार शाम हनुवंतिया जल महोत्सव के दौरान दर्दनाक हादसा हुआ था। दरअसल, यहां हनुवंतिया जल महोत्सव चल रहा था, जिसमें अचानक एक पैराग्लाइडर क्रैश हो गया। इस दर्दनाक हादसे में दो युवक गंभीर रूप से घायल हो गए जिनकी अस्पताल ले जाते समय मौत हो गई। बताया जा रहा है कि यह हादसा पैराग्लाइडिंग मशीन के अचानक टूटने की वजह से हुआ था। करीब 100 फीट की ऊंचाई से दोनों युवक जमीन पर आ गिरे थे। इतनी ऊंचाई से गिरने पर वे दोनों गंभीर रूप से घायल हो गए। मामले की जानकारी मिलने के बाद जिला के कलेक्टर अनय द्विवेदी ने न्यायिक जांच के आदेश दे दिए।

ऐसे हुआ हादसा
जानकारी के मुताबिक, बुधवार शाम करीब 5:30 बजे राजगढ़ निवासी बालचंद (32) और पाली जिला निवासी गजपाल सिंह (28) हनुवंतिया में पैराग्लाइडिंग कर रहे थे। जब दोनों युवक करीब 100 फीट की ऊंचाई पर थे, उनकी मशीन अचानक टूट गई। 

इनमें से एक बालचंद नाम के व्यक्ति पैराग्लाइडिंग कंपनी सन ड्रेजर्स में कर्मचारी था, जबकि गजपाल सिंह कंपनी के ठेकेदार श्रवण सिंह की बुआ का लड़का था। बता दें कि इस साल सन ड्रेजर्स ने हनुवंतिया जल महोत्सव में पैराग्लाइडिंग का ठेका ले रखा था।

नहीं बचा पाए आसपास मौजूद लोग
बताया जा रहा है कि जब पैराग्लाइडिंग मशीन जब टूटी तो दोनों युवक मदद के लिए चीख-पुकार मचाने लगे। आसपास मौजूद पर्यटक और कंपनी के कर्मचारी जब तक मौके पर पहुंचते, दोनों युवक खेत में गिर गए। इस हादसे के बाद हनुवंतिया में भगदड़ मच गई।

जिलाधिकारी ने दिए न्यायिक जांच के आदेश
मामले की जानकारी मिलने के बाद जिलाधिकारी अनय द्विवेदी ने न्यायिक जांच के आदेश दे दिए हैं। अपर जिलाधिकारी नंदा भलावे कुशरे ने बताया कि इस मामले की जांच एसडीएम पुनासा को सौंपी गई है। घटनास्थल पर मौजूद लोगों से हादसे से संबंधित तथ्य, सबूत, फोटो और वीडियो मांगे गए हैं। जिससे की जांच करने में मदद मिल सके।
... और पढ़ें

चरित्र शंका पर पति और सास-ससुर की क्रूरता; महिला के स्तन, जीभ गाल काटे, प्राइवेट पार्ट में बेलन डाला

उज्जैन से सटे नागदा जिले के विद्यानगर में एक वीभत्स मामला सामने आया है। एक महिला के चरित्र पर शक होने पर उसके पति, सास-ससुर और एक महिला रिश्तेदार ने क्रूरता की हद पार कर दी। इन सभी ने मिलकर महिला का स्तन, जीभ और गाल काट दिया। इस पर भी इनकी हैवानियत शांत नहीं हुई तो महिला के मुंह और प्राइवेट पार्ट में बेलन डाल दिया।

रूह कंपा देने वाले इस कृत्य की वजह से पीड़ित महिला बेहोश हो गई। इस पर उसे मरा हुआ समझकर उसे घर से बाहर फेंक दिया और मौका ए वारदात से फरार हो गए। इस घटना से भी ज्यादा दर्दनाक यह बात रही कि आस पड़ोस के लोग यह सब देखते रहे लेकिन किसी ने भी महिला को बचाने की हिम्मत नहीं दिखाई।

शैतान परिजनों के फरार होने के बाद दस मिनट तक महिला सड़क पर पड़ी तड़पती रही और मदद की गुहार लगाती रही। लेकिन किसी का दिल नहीं पसीजा। अंतत: किसी ने पुलिस को घटना की जानकारी दी, जिसके बाद उसे पहले स्थानीय अस्पताल और फिर वहां से इंदौर के लिए रैफर कर दिया गया है। महिला की हालत नाजुक बनी हुई है। बिरलाग्राम थाना पुलिस ने पति, सास-ससुर और महिला रिश्तेदार के खिलाफ प्राणघातक हमले का प्रकरण दर्ज कर उनकी तलाश शुरू कर दी है।

घटना मंगलवार 12 जनवरी की है, जब सुबह विद्यानगर की मुख्य सड़क के पास बने एक मकान से एक महिला के चीखने-चिल्लाने की काफी आवाजें आ रही थीं। इसके बाद परिवार के सदस्य उसे पीटते हुए बाहर लेकर आए। खून से लथपथ महिला को मरा हुआ समझकर उसे घर के बाहर फेंककर वे सभी फरार हो गए।

मंडी थाना पुलिस के मुताबिक महिला को पहले जनसेवा अस्पताल पहुंचाया गया था, जहां से उसे उज्जैन भेजा गया। स्थिति गंभीर होने पर महिला को इंदौर रैफर किया गया। पुलिस ने तीन अलग-अलग टीमें बनाकर आरोपियों की तलाश शुरू कर दी है।

पहले भी की थी मारपीट
महिला की शादी 15 साल पहले राजेश के साथ हुई थी। इनके दो बच्चे हैं। एक की उम्र 14 तो दूसरे की उम्र पांच साल है। राजेश पेशे से ट्रक ड्राइवर है और ज्यादातर समय घर से बाहर ही रहता है। घटना के कुछ दिनों पहले महिला अपने रिश्तेदार के साथ कहीं गई थी। सोमवार 11 जनवरी को राजेश उसे वापस लेकर आया था।

कटे हुए अंग बाहर मिले
पुलिस को शक है कि राजेश काफी समय से अपनी पत्नी को मारने की योजना बना रहा था। कुछ दिनों पहले ही राजेश एक तलवार लेकर आया था। घटना को अंजाम देने में उसने तलवार का ही उपयोग किया था। घर के अंदर पुलिस को महिला का खून और कटे हुए अंग भी मिले हैं। हालांकि फरार होने से पहले आरोपियों ने खून को साफ करने की कोशिश भी की थी।
... और पढ़ें

Uttar Pradesh News Today 12 Jan: स्कूलों के टाइमटेबल समेत यूपी की बड़ी खबरें

Uttar Pradesh News Today 12 Jan: नमस्कार। आज है मंगलवार 12 जनवरी और आप सुन रहे हैं अमर उजाला आवाज़ का मॉर्निंग बुलेटिन। अब हम नजर डालते हैं उत्तर प्रदेश की अब तक की बड़ी खबरों पर...

1. यूपी: 9वीं से 12वीं तक की कक्षाएं एक ही पाली में लगेंगी, सुबह 10 बजे से होगी पढ़ाई

शासन की ओर प्रदेश के सभी बोर्ड के नौवीं से बारहवीं तक के स्कूलों को एक पाली में सुबह 10 से अपराह्न तीन बजे तक खोलने के निर्देश दिए गए हैं। विशेष सचिव आर्यका अखौरी की ओर से जारी दिशा निर्देश में कहा गया है कि यह आदेश यूपी बोर्ड, सीबीएसई, आईसीएसई सहित सभी बोर्ड पर लागू होगा। सभी जिलाधिकारियों, निदेशक माध्यमिक शिक्षा, सचिव यूपी बोर्ड, संयुक्त शिक्षा निदेशकों तथा जिला विद्यालय निरीक्षकों को पत्र भेजकर इस आदेश का पूरी तरह से अमल कराने को कहा गया है।

2. मनोरोगी किशोरी के साथ पड़ोसी गांव के युवक कई महीनों से करते थे दुष्कर्म, गर्भवती हुई तो खुली पोल

जौनपुर के शाहगंज कोतवाली क्षेत्र के एक गांव में मनोरोगी किशोरी के साथ सामूहिक दुष्कर्म का मामला सामने आया है।  किशोरी के गर्भवती होने के बाद घरवालों को जानकारी हुई। पीड़िता के पिता की तहरीर पर पुलिस छानबीन में जुटी है। एक आरोपी और दूसरे के पिता को हिरासत में लेकर पुलिस पूछताछ कर रही है। 

3. किसान आंदोलन: राकेश टिकैत ने सुप्रीम कोर्ट की पहल को सराहा- बोले, सरकार को वापस लेने होंगे तीनों कानून

भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने किसानों के आंदोलन पर सुप्रीम कोर्ट के रुख को सराहा है। उन्होंने कहा कि सरकार को तीनों कृषि कानून वापस लेने होंगे। किसान मायूस न हों, आंदोलन में जिन किसानों ने अपने प्राणों का बलिदान दिया है वो व्यर्थ नहीं जाएगा। 
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X