विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विनायक चतुर्थी पर कराएं मुंबई के सिद्धि विनायक में पूजा विघ्नहर्ता हरेंगे सारे विघ्न : 27-फरवरी-2020
Astrology Services

विनायक चतुर्थी पर कराएं मुंबई के सिद्धि विनायक में पूजा विघ्नहर्ता हरेंगे सारे विघ्न : 27-फरवरी-2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

मध्य प्रदेश

मंगलवार, 25 फरवरी 2020

कमलनाथ सरकार ने वापस लिया कर्मचारियों को नसबंदी का टारगेट देने का आदेश

मध्यप्रदेश की कमलनाथ सरकार ने कर्मचारियों को नसबंदी का टारगेट देने वाला आदेश वापस ले लिया है। मध्यप्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट ने कहा कि राज्य सरकार ने आदेश वापस ले लिया है। भाजपा ने कमलनाथ के इस आदेश की आलोचना करते हुए उनपर हमला बोल दिया था। 
 



प्रदेश सरकार ने नसबंदी को लेकर स्वास्थ्य कर्मचारियों को टारगेट दिया था। सरकार ने कर्मचारियों के लिए हर महीने 5 से 10 पुरुषों के नसंबदी ऑपरेशन करवाना अनिवार्य कर दिया था। सरकार ने कहा था कि अगर कर्मचारी नसबंदी नहीं करा पाते हैं तो उनको नो-वर्क, नो-पे के आधार पर वेतन नहीं दिया जाएगा। 

महिला अफसर को पद से हटाया

इस संबंध में आदेश देने वाली राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की निदेशक छवि भारद्वाज को उनके पद से हटा दिया गया और बाद में ऑफिसर ऑन ड्यूटी नियुक्त किया गया है। 

मध्यप्रदेश में अघोषित आपातकाल- शिवराज

मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कमलनाथ सरकार के आदेश को आपातकाल-2 बताया। पूर्व सीएम ने #MP_मांगे_जवाब के साथ ट्वीट किया, 'मध्यप्रदेश में अघोषित आपातकाल है। क्या ये कांग्रेस का इमर्जेंसी पार्ट-2 है? एमपीएचडब्ल्यू के प्रयास में कमी हो, तो सरकार कार्रवाई करे, लेकिन लक्ष्य पूरे नहीं होने पर वेतन रोकना और सेवानिवृत्त करने का निर्णय, तानाशाही है।' 
 

भाजपा शासन में भी जारी किए गए आदेश: कांग्रेस

इससे पहले राज्य के जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा ने सफाई देते हुए कहा था कि यह नियमित आदेश है। इस तरह के आदेश भाजपा शासन के दौरान भी जारी किए गए थे। इन दिनों लोगों में जागरुकता बढ़ रही है कि छोटा परिवार सुखी परिवार है। किसी पर इसके लिए दबाव नहीं बनाया जाएगा।
... और पढ़ें

इंदौर से वाराणसी रवाना हुई महाकाल एक्सप्रेस, भाजपा सांसद ने लोकोपायलट कैबिन पर बनाया स्वास्तिक

यह रेलगाड़ी भारतीय रेलवे की सहायक कंपनी इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉर्पोरेशन (आईआरसीटीसी) की संचालित देश की तीसरी कॉर्पोरेट ट्रेन है।

इंदौर क्षेत्र के भाजपा सांसद शंकर लालवानी ने किसी नए काम के शुभारंभ से जुड़ी हिन्दू रीति के मुताबिक इस ट्रेन के लोकोपायलट (ट्रेन ड्राइवर) कैबिन के बाहर कुंकुम से स्वास्तिक का पवित्र निशान बनाया और यात्री रेलगाड़ी के आगे नारियल फोड़ा। फिर ढोल की थाप के बीच इसे हरी झंडी दिखाकर वाराणसी के लिए रवाना किया गया।

यह ट्रेन देश में भगवान शिव के तीन ज्योर्तिलिंगों-ओंकारेश्वर (इंदौर के पास स्थित), महाकालेश्वर (उज्जैन) और काशी विश्वनाथ (वाराणसी) को जोड़ती है। ट्रेन के उद्घाटन सफर के दौरान रविवार को इसके बी-5 डिब्बे में सीट नंबर 64 को भगवान शिव के लिए आरक्षित किए जाने पर विवाद हुआ था। इसके बाद ऊपर की इस सीट (अपर बर्थ) पर अस्थायी तौर पर लगाए गए भगवान शिव के चित्र पहले ही हटा दिए गए हैं। अब रेल कर्मचारियों ने ट्रेन की पैंट्रीकार में देवी-देवताओं के चित्र लगाए हैं।

इस बारे में पूछे जाने पर लालवानी ने संवाददाताओं से कहा कि यह भावनाओं की बात है। रेल कर्मचारियों ने अपनी भावनाएं व्यक्त करते हुए पैंट्रीकार में महाकाल का मंदिर बनाया है। इंदौर से ट्रेन के शुक्रवार को रवाना होने से पहले भी इस मंदिर में पूजा-अर्चना की गई है। इस मंदिर में रोज पूजा-अर्चना की जाएगी।

इस बीच, आईआरसीटीसी के एक प्रवक्ता ने बताया कि जब यह ट्रेन इंदौर से वाराणसी के लिए रवाना हुई, तब इसकी 648 में से 510 सीटें बुक हो चुकी थीं। यात्री ट्रेन के आगे के सफर के दौरान भी इसमें सीट बुक करा सकते हैं।
... और पढ़ें

मध्यप्रदेश के मंत्री बोले- इंदिरा गांधी के दो हाथ, संजय गांधी और कमलनाथ

खुद को मध्य प्रदेश का राज्यपाल बताकर दो विधायकों को ठगने की कोशिश

मध्य प्रदेश में खुद को राज्यपाल बताकर दो विधायकों को ठगने की कोशिश करने का मामला सामने आया है। यह घटना सागर जिले की है। पुलिस ने विधायकों की शिकायत पर अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ केस दर्ज किया है।  

शिकायत में कहा गया है कि ठग ने फोन कर सात-सात लाख रुपये देने की मांग की। इस राशि को एक बैंक खाते में ट्रांसफर करने को कहा। खुद को राज्यपाल बताने वाले शख्स ने नरयावली के विधायक प्रदीप लारिया और बीना के विधायक महेश राय को फोन किया। 

शुरुआती जांच में पुलिस को पता चला है कि जिन फोन नंबरों से फोन कर इन विधायकों से रकम मांगी गई है, वे फोन नंबर ओडिशा के हैं। लारिया ने बताया कि सोमवार को सुबह करीब 11 बजे उनके मोबाइल पर एक फोन आया। फोन करने वाले व्यक्ति ने खुद का परिचय मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन के रूप में दिया।

प्रदीप लारिया ने बताया कि फोन पर बात करने वाले अज्ञात व्यक्ति ने पहले मुझ से सात लाख रुपये की मांग की और फिर मांगी गई धनराशि एक खाते में ट्रांसफर करने के लिए कहा। लारिया ने बताया कि उस व्यक्ति ने भाजपा विधायक महेश राय का मोबाइल नंबर भी मांगा।

विधायक महेश राय ने कहा, 'मुझे एक अज्ञात व्यक्ति ने आज मोबाइल पर फोन कर खुद का परिचय लालजी टंडन के रूप में देते हुए मेरे से सात लाख रुपये की मांग की और इस पैसे को एक बैंक खाते में जमा करने को कहा।'
... और पढ़ें
मध्य प्रदेश पुलिस(लोगो) मध्य प्रदेश पुलिस(लोगो)

मासूम बच्ची को अगवा कर दुष्कर्म को दिया अंजाम, कोर्ट ने आरोपी को सुनाई मौत की सजा

मध्यप्रदेश के इंदौर में अपहरण और दुष्कर्म के बाद चार वर्षीय बच्ची की हत्या करने के जुर्म में यौन मनोविकृति के शिकार 28 वर्षीय एक व्यक्ति को जिला अदालत ने सोमवार को फांसी की सजा सुनाई। विशेष सत्र न्यायाधीश (पॉक्सो एक्ट) वर्षा शर्मा ने मामले को विरल से भी विरलतम प्रकरण की श्रेणी में रखते हुए अंकित विजयवर्गीय (28) को मृत्युदंड सुनाया।

विजयवर्गीय को भारतीय दंड विधान की धारा 376 (ए) (दुष्कर्म के दौरान आई चोटों से पीड़ित की मृत्यु) और इसी विधान की धारा 302 (हत्या) के तहत सजा-ए-मौत सुनाई गई। उसे भारतीय दंड विधान की ही अन्य संबद्ध धाराओं और लैंगिक अपराधों से बच्चों का संरक्षण अधिनियम (पॉक्सो एक्ट) के तहत भी दोषी करार दिया गया।

जिला अभियोजन अधिकारी अकरम शेख ने बताया कि अदालत में विजयवर्गीय पर जुर्म साबित करने में डीएनए रिपोर्ट और सीसीटीवी फुटेज ने अहम भूमिका निभाई। सीसीटीवी फुटेज में मुजरिम मौका-ए-वारदात के आस-पास टहलता और अपहरण के बाद बच्ची को गोद में उठाकर भागता दिखाई दिया था।

उन्होंने बताया कि अभियोजन पक्ष ने मुकदमे में अदालत के सामने 29 गवाह पेश किए थे। इनमें जघन्य वारदात की शिकार बालिका के माता-पिता शामिल हैं।

विजयवर्गीय ने नजदीकी कस्बे महू में चार वर्षीय बच्ची को एक दिसंबर 2019 को देर रात उस समय अगवा किया, जब वह अपने माता-पिता के साथ पेड़ के नीचे सो रही थी। बच्ची का बेघर परिवार भीख मांगकर गुजारा करता है।
... और पढ़ें

कृषि विज्ञान केंद्र का कमलनाथ सरकार को सुझाव, IIFA में फिल्मी सितारों को 'कड़कनाथ' परोसें

मध्यप्रदेश की कमलनाथ सरकार को कृषि विज्ञान केंद्र झाबुआ (कड़कनाथ रिसर्च सेंटर) के एक वैज्ञानिक ने आईफा अवार्ड समारोह में आने वाले फिल्मी सितारों को कड़कनाथ मुर्गे का मांस परोसने का सुझाव दिया है। बता दें कि प्रदेश के इंदौर में अगले महीने होने वाले आईफा अवार्ड में भाग लेने के लिए कई बॉलीबुड सितारों के पहुंचने की संभावना है। 

कृषि विज्ञान केंद्र झाबुआ के प्रमुख एवं वरिष्ठ वैज्ञानिक आई एस तोमर ने शनिवार को मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ को पत्र लिख कर कहा है कि आपने एक ब्लॉग में इंदौर में 27-29 मार्च को होने वाले आईफा अवार्ड 2020 को प्रदेश के आदिवासियों को समर्पित किया है।

इस संबंध में मेरा सुझाव है कि पश्चिम मध्यप्रदेश के आदिवासी अंचल झाबुआ के प्रसिद्ध कड़कनाथ मुर्गे का मांस इस कार्यक्रम में भाग लेने वाले फिल्मी सितारों को कम से कम एक दिन परोसा जाए। क्योंकि यह मुर्गा कम मात्रा में फैट और भरपूर मात्रा में प्रोटीन एवं आयरन के लिए पूरे देश में अपनी अलग पहचान बना चुका है।
... और पढ़ें

मध्यप्रदेशः 'नैतिक पुलिसिंग' के नाम पर छात्रा को पीटने के आरोप में बैंक प्रबंधक गिरफ्तार

इंदौर में नैतिक पुलिसिंग के नाम पर गर्ल्स हॉस्टल में घुसकर एक छात्रा से बदसलूकी और मारपीट के आरोप में पुलिस ने 37 वर्षीय बैंक प्रबंधक को रविवार को गिरफ्तार किया। इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर पहले ही वायरल हो चुका है।

भंवरकुआं थाने के प्रभारी संजय शुक्ला ने बताया कि मामले में एक निजी बैंक की राऊ स्थित शाखा के प्रबंधक अमरजीत सिंह (37) को गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने बताया, सिंह ने शुक्रवार रात गर्ल्स हॉस्टल में घुसकर एक छात्रा को पीट दिया था।

उसने अपशब्दों का इस्तेमाल करते हुए हॉस्टल की अन्य छात्राओं से भी बदसलूकी की थी। शुक्ला ने बताया कि गर्ल्स हॉस्टल की पीड़ित छात्राओं के मुताबिक आरोपी ने यह कहते हुए उनसे बदसलूकी की थी कि वे उसके घर के सामने लड़कों से मिलकर क्षेत्र में अश्लीलता फैला रही हैं।पुलिस मामले की विस्तृत जांच कर रही है।
... और पढ़ें

मध्यप्रदेश: वाणिज्यिक मंत्री ने कहा- घरों में ऑनलाइन शराब पहुंचाने का कोई प्रावधान नहीं

सांकेतिक तस्वीर

मध्यप्रदेश: खेत में बनी झोपड़ी में सो रहा था सात साल का बच्चा, उठा कर ले गया तेंदुआ, मौत

धार जिला मुख्यालय से करीब 50 किलोमीटर दूर अमझेरा थाना के भेरू घाट में तेंदुए के हमले में सात साल के बच्चे की मौत हो गई। अनुविभागीय वन अधिकारी राकेश कुमार डामोर ने बताया कि घटना शनिवार-रविवार रात करीब 11 बजे हुई। मृतक की पहचान आनंद के रूप में हुई है।

वन विभाग के अधिकारी ने बताया कि शनिवार-रविवार रात आनंद जब अपने परिजन के साथ खेत पर बनी झोपड़ी में सो रहा था तभी अचानक तेंदुए ने हमला किया और वहां सो रहे आनंद को उठा कर ले गया।

डामोर ने बताया कि बच्चे को तेंदुए के चंगुल से बचाने के लिए परिजन ने शोर मचाया, लेकिन उसे बचा नहीं पाए। तेंदुए के हमले से बालक के सिर एवं पैर में गंभीर चोट आई थी जिसके कारण उसने दम तोड़ दिया।

डामोर ने बताया कि बाद में तेंदुआ उसके शव को करीब 700 सौ फुट दूर छोड़कर जंगल में चला गया। उन्होंने कहा कि घटना की सूचना मिलते ही तत्काल वन विभाग और पुलिस की टीम मौके पर पहुंची और मामले का पंचनामा बनाया। उन्होंने बताया कि मृतक के परिजन को चार लाख रुपये की सहायता दी जाएगी। और तेंदुए को पकड़ने के लिए इंदौर से बचाव दल बुलाया जा रहा है, ताकि ऐसी घटना की दोबारा न हो।

... और पढ़ें

दिग्विजय ने ट्रंप के दौरे को लेकर कसा तंज, कहा- देखते हैं मोदी के मित्र क्या शिक्षा देकर जाते हैं

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर संविधान का पालन नहीं करने का आरोप लगाया और तंज कसते हुए कहा कि अब देखते हैं कि मोदी को उनके परम मित्र अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अपने भारत दौरे के दौरान क्या शिक्षा देकर जाते हैं।

दिग्विजय ने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लेकर ‘बीबीसी.कॉम’ पर 20 फरवरी को प्रकाशित खबर 'नागरिकता संशोधन कानून चिंताजनक : अमेरिकी आयोग' को टैग करते हुए ट्वीट किया। दिग्विजय ने लिखा कि बराक ओबोमा जी अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति, भारत के प्रधानमंत्री मोदी जी को जनवरी 2015 में संविधान का पालन करने का अनुरोध कर गए थे, लेकिन संपूर्ण राजनीतिक शास्त्र के ज्ञाता हमारे मोदी जी ने ठीक विपरीत काम किया।

दिग्विजय ने कहा कि अब देखते हैं मोदी जी के परम मित्र डोनाल्ड ट्रंप जी क्या शिक्षा देकर जाते हैं। भारत की अर्थ नीतियों का तो वे विरोध कर चुके हैं।

गौरतलब है कि अमेरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अपने दो दिवसीय दौरे पर 24 फरवरी को भारत आ रहे हैं। लेकिन उनके दौरे से ठीक चार दिन पहले अंतरराष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता पर नजर रखने वाली अमेरीकी एजेंसी यूएससीआईआरएफ ने अपनी रिपोर्ट में भारत के सीएए और एनआरसी पर चिंता जताई थी।
... और पढ़ें

मध्यप्रदेश: युवक की हत्या कर आंखें निकालीं, फंदे पर लटकाया शव, पत्नी लापता

मध्यप्रदेश के महू के मानपुर के सौंधिया मोहल्ले में किराए के मकान में रह रहे युवक की आरोपियों ने बेरहमी से हत्या कर दी। आरोपियों ने हत्या के बाद उसकी आंखें निकाल लीं और घटना को आत्महत्या का रूप देने के लिए शव को फंदे से लटका दिया। मृतक का नाम रवि बताया जा रहा है।

शॉर्ट पोस्टमार्टम रिपोर्ट के अनुसार युवक की पहले हत्या की गई फिर उसकी दोनों आंखों को निकाला गया। इसके बाद शव को फंदे से लटका दिया गया। मृतक के शरीर पर लगभग पांच जगहों पर चोट के निशान मिले हैं। जिससे यह साफ हो जाता है कि आरोपियों ने हत्या को आत्महत्या का रूप देने की कोशिश की है।

घटना के बाद से उसकी पत्नी कविता गायब है। मृतक के पिता रमेशचंद्र पंवार का शव शुक्रवार को फांसी के फंदे पर लटका होने की सूचना मिली थी। मृतक के कान के पिछले हिस्से और अन्य जगहों पर चोट के निशान पाए जाने पर प्रथम दृष्टया यह मामला हत्या का नजर आ रहा था।

बेटा बोला- मम्मी ने पापा को चाकू से मारा

शादी के बाद पारिवारिक झगड़े की वजह से रवि मानपुर में अपनी पत्नी और दोनों बच्चों के साथ रहता था। मृतक के पांच साल के बेटे डग्गू ने बताया कि मम्मी ने झगड़े के बाद पाप को चाकू से मारा था।

ताला खुला हुआ देखकर मिली मौत की सूचना

मृतक के पिता को बेटे की मौत की खबर पड़ोसियों से लगी। वहीं पड़ोसियों ने जब अंदर जाकर देखा तो फांसी के फंदे पर युवक का लटका हुआ शव मिला। पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम कराने के बाद रिजनों को सौंप दिया।
... और पढ़ें

सिंधिया के रास्ते में नहीं आएंगी प्रियंका, वे भी नहीं लांघेंगे लक्ष्मण रेखा

कांग्रेस पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा दोनों चाहते हैं कि मध्यप्रदेश के युवा नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया राज्यसभा के लिए चुनकर संसद भवन पहुंचे। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी भी इसके खिलाफ नहीं है।

प्रियंका की टीम के एक सदस्य की मानें तो कांग्रेस महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया के रास्ते में बिल्कुल नहीं आना चाहतीं। सूत्र बताते हैं कि ज्योतिरादित्य, प्रियंका और राहुल के बीच की केमिस्ट्री भी कुछ इसी तरह की है कि चाह कर भी ज्योतिरादित्य सिंधिया अपनी लक्ष्मण रेखा नहीं लांघने के पक्ष में नहीं रहेंगे।
 
प्राप्त जानकारी के अनुसार प्रियंका गांधी वाड्रा को राजस्थान से राज्यसभा में लाया जा सकता है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत भी यही चाहते हैं। सचिन पायलट और राजस्थान कांग्रेस संगठन भी इसके पक्ष में है।

हालांकि प्रियंका गांधी वाड्रा उत्तर प्रदेश में ही कांग्रेस की जमीन तैयार करने में पूरा ताकत लगा देने के पक्ष में हैं। बताते हैं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान से कांग्रेस को राज्यसभा में आठ सीटें मिल सकती हैं। इसलिए कांग्रेस पार्टी भी संगठन के स्तर पर बड़ा भूचाल लाने के पक्ष में नहीं है।

क्या कहते हैं सिंधिया के करीबी

ज्योतिरादित्य के करीबी, उनके पिता माधवराव सिंधिया के जमाने से परिवार के शुभचिंतक का कहना है कि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी से सिंधिया का अच्छा रिश्ता है। बताते हैं ग्वालियर-चंबल संभाग समेत मध्यप्रदेश के अनेक इलाकों में ज्योतिरादित्य सिंधिया का खासा जनाधार है।

यदि वह कमलनाथ सरकार के खिलाफ सड़क पर उतरेंगे, तो इसे संभाल पाना राज्य सरकार के लिए आसान नहीं होगा, लेकिन सिंधिया फिलहाल लक्ष्मण रेखा लांघने से बचना चाहते हैं। इसकी वजह कांग्रेस के प्रति निष्ठा और राहुल प्रियंका के साथ दोस्ती के समीकरण हैं।

बताते हैं लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान भी प्रियंका गांधी अकसर ज्योतिरादित्य के आवास पर जाकर चुनाव अभियान को धार देती रही हैं। सूत्र का कहना है कि मध्यप्रदेश में वरिष्ठ नेताओं के बीच में अपने राजनीतिक जमीन की लड़ाई है।

दो बड़े नेता अपने वारिसों के लिए राजनीति में षडयंत्र रच रहे हैं। मुख्यमंत्री कमलनाथ अपने बेटे नकुलनाथ के लिए तो दिग्विजय सिंह अपने बेटे के लिए जमीन तैयार कर रहे हैं। इसके चक्कर में सिंधिया के साथ केमिस्ट्री बिगड़ रही है।

कांग्रेस को अपनों से ही खतरा

ग्वालियर घराने से संपर्क रखने वाले एक अन्य सूत्र का कहना है कि वह चर्चा में नहीं आना चाहते। सच यह है कि कांग्रेस को अपने ही नेताओं से खतरा है। सूत्र का कहना है कि राहुल गांधी ने जम्मू-कश्मीर में सिंधिया को जिम्मेदारी देकर भेजा था, एक वादा भी किया था। कमलनाथ भी वहां जिम्मेदारी के साथ गए थे।

दिग्विजय सिंह ने भी राज्य में कांग्रेस सरकार बनवाने में कड़ी मेहनत की, लेकिन जब राज्य में सरकार बनने की स्थिति आई तो कमलनाथ का नाम आगे आया। सूत्र का कहना है कि तब ज्योतिरादित्य सिंधिया को खुद राहुल गांधी ने चर्चा के लिए दिल्ली बुलाया था। चर्चा में प्रियंका गांधी शामिल हुई थीं।

राहुल गांधी की बात पर भरोसा करके ज्योतिरादित्य सिंधिया ने मुख्यमंत्री पद के दावे को छोड़ दिया था। इस दौरान ज्योतिरादित्य सिंधिया से कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने एक वादा किया था, लेकिन अभी वह पूरा नहीं हो पाया।

आखिर कैसे युवा रहेंगे कांग्रेस के साथ

ज्योतिरादित्य पर कांग्रेस के अंदरखाने में चर्चा के दौरान बड़ा सवाल उभरकर आया कि आखिर युवा कांग्रेस पार्टी के साथ कैसे रहें? राजस्थान के एक बड़े नेता का कहना है कि कांग्रेस इस सवाल पर कोई काम नहीं कर रही है। पुराने नेताओं के षडयंत्र के आगे युवा नेता बेदम हो रहे हैं। सचिन पायलट नाराज थे, तो भंवर जितेन्द्र सिंह ने भी उन्हें मनाने में भूमिका निभाई थी।

राहुल गांधी के कुछ अन्य करीबी भी सचिन को मनाने आगे आए थे। लेकिन सचिन पायलट अब खुद को ठगा सा महसूस कर रहे हैं। कांग्रेस पार्टी की एक फायर ब्रांड महिला नेता का कहना है कि आप अपने उत्तर प्रदेश को देख लीजिए। कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष अजय कुमार उर्फ लल्लू बनाए गए हैं। लल्लू वहां लल्लू की तरह काम कर रहे हैं।

लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी हैं। वह रह-रहकर अधीरता खो देते हैं। चिंता की बात यह है कि सही लोग आगे नहीं बढ़ पा रहे हैं। इतना ही नहीं पार्टी में सही निर्णय भी बहुत देर से हो रहा है। युवा का स्वभाव पार्टी के इस मिजाज के खिलाफ होता है।
... और पढ़ें

मध्यप्रदेश सरकार के विभिन्न विभागों में नौकरी का सुनहरा अवसर, पीईबी जल्द करा सकता है परीक्षा

मध्यप्रदेश सरकार के विभिन्न विभागों में कई पदों पर भर्ती होनी है। ग्रुप-3 सब इंजीनियर और ग्रुप-2 (सब ग्रुप-4) वैकेंसी के लिए प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड (पीईबी) जल्द ही भर्ती परीक्षा करा सकता है। इसके लिए जल्द ही नोटिफिकेशन जारी किया जा सकता है। 

पीईबी ने ग्रुप-3 सब इंजीनियर और ग्रुप-2 (सब ग्रुप-4) भर्ती परीक्षा परीक्षा कराने के लिए इसे अपने वर्ष 2020 के शेड्यूल में शामिल किया है। लेकिन, इसे संभावित शेड्यूल बताया जा रहा है। शेड्यूल के अनुसार ग्रुप-3 सब इंजीनियर भर्ती परीक्षा छह और सात जुलाई को होगी।

ग्रुप-2 (सब ग्रुप-4) भर्ती परीक्षा 18 और 19 जुलाई को होगी। अभी तक यह साफ नहीं पो पाया है कि ये परीक्षाएं कितने पदों के लिए होंगी।

ग्रुप-3 के लिए योग्यता
सब इंजीनियर सिविल, मैकेनिकल, विद्युत आदि के लिए उम्मीदवारों का हाई स्कूल, हायर सेकंडरी परीक्षा के साथ संबंधित अभियांत्रिकी विषय में तीन वर्षीय डिप्लोमा या उच्च योग्यता प्राप्त करना अनिवार्य। 

ग्रुप-2 (सब ग्रुप-04) के लिए योग्यता
औषधि निरीक्षक, खाद्य सुरक्षा अधिकारी, संरक्षक, सहायक, प्रोग्रामर, कम्प्यूटर प्रोग्रामर, श्रम निरीक्षक आदि पदों के लिए उम्मीदवारों को विभागों के संबंधित भर्ती नियमों के अधीन जैसे किसी भी विषय में स्नातक उपाधि उत्तीर्ण होनी चाहिए।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन