विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
मात्र 2 दिन शेष ,गंगा दशहरा पर कराएं गंगा आरती एवं दीप दान, पूरे होंगे रुके हुए काम
Puja

मात्र 2 दिन शेष ,गंगा दशहरा पर कराएं गंगा आरती एवं दीप दान, पूरे होंगे रुके हुए काम

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

कार से नशे की 25 हजार प्रतिबंधित गोलियां बरामद

कालांवाली। जिला पुलिस द्वारा चलाए जा रहे विशेष अभियान के तहत कार्रवाई करते हुए जिला की कालांवाली थाना पुलिस ने गश्त व चेकिंग के दौरान गांव जगमालवाली क्षेत्र में एक कार में से नशे की 25 हजार गोलियां बरामद की हैं। पुलिस ने आरोपी जशनदीप निवासी जगमालवाली की तलाश शुरू कर दी है। कालांवाली थाना के सहायक उप निरीक्षक पूनम चंद के नेतृत्व में एक पुलिस टीम ने देर रात गांव जगमालवाली क्षेत्र में नाकाबंदी की हुई थी। इसी दौरान सामने से आ रही गाड़ी में सवार जशनदीप पुलिस पार्टी को देखकर अंधेरे का फायदा उठाकर गाड़ी छोड़ कर फरार हो गया। उक्त गाड़ी को कब्जे में लेकर तलाशी लेने पर गाड़ी से नशे की गोलियां बरामद हुईं। आरोपी के खिलाफ थाना कालांवाली में मादक पदार्थ अधिनियम के तहत अभियोग दर्ज कर उसकी तलाश शुरू कर दी है। ... और पढ़ें

शादी के 70 घंटे बाद मातम में बदली खुशियां, अब दादी और पोती ही बची

बडागुढ़ा/डबवाली। वार्ड नंबर 10 में श्री कृष्ण प्रणामी सत्संग घर के पास स्थित बांसल परिवार के पुश्तैनी घर में दो दिन पहले तक मंगल गीत गाए जा रहे थे। लेकिन सोमवार को उसी घर से पांच सदस्यों की अर्थियां उठीं। नेशनल हाइवे नौ पर रविवार रात 11 बजे सड़क हादसे में जान गंवाने वाले बांसल परिवार के पांच पारिवारिक सदस्यों के बाद अब घर में शारदा देवी व सात वर्षीय छोटी पोती भुवी ही बची हैं।
मृतक विकास व घनश्याम दोनों भाई थे। हादसे में विकास की पत्नी शिल्पा, नीशू बंसल और उसकी बेटी भव्या की भी मौत हो गई। मृतक विकास घनश्याम से बड़ा था। डबवाली अनाज मंडी के बी-ब्लॉक में घनश्याम दास एेंड कंपनी के नाम से आढ़त का कारोबार करते थे। अपने पिता कृष्ण चंद बांसल की 23 जुलाई 2018 को हुई मृत्यु के बाद विकास व घनश्याम दोनों ने मिलकर आढ़त के कार्य को आगे बढ़ाया था। इस घटना के शोक स्वरूप डबवाली में आढ़तियों ने अपनी दुकानें बंद रखी।
बुआ के बच्चों के साथ खेल रही थी भुवी, इसलिए छोड़ गए
घनश्याम की शादी गत 27 जून को फतेहाबाद की शिल्पा के साथ डबवाली के ही पैलेस में हुई थी। इसके बाद 30 जून को शिल्पा की अपने मायके में पग फेरे की रस्म थी। शिल्पा के दोनों भाई रविवार को डबवाली आए व शाम करीब 4 बजे शिल्पा को साथ लेकर फतेहाबाद लौट गए। उनके साथ सात वर्षीय भुवी को भी जाना था, मगर वह अपनी बुआ के बच्चों के साथ खेल रही थी। इसलिए उसे घर पर ही छोड़ गए। फतेहाबाद में सब रस्में अदा करने के बाद रात को ही वापस डबवाली के लिए चल पड़े। रास्ते में साहुवाला गांव के पास उनकी कार ट्रक के पीछे जा टकराई। घर में नव नवेली बहू और बाकी पारिवारिक सदस्यों का इंतजार कर रही उनकी मां शारदा देवी सो गई। लेकिन रात के हादसे की खबर उसे सुबह मिली तो वह गुमसुम ही हो गई। घर से हंसते-खेलते गए सब परिजनों की मौत का शारदा देवी को अब तक विश्वास नहीं हो रहा।
शाम को शव पहुंचे तो पूरे डबवाली में छा गया मातम
सोमवार को शव पोस्टमार्टम उपरांत जब डबवाली में पहुंची तो घर में रोने की आवाजें ही सुनाई दे रही थी। घर में जब कफन में लिपटी एक साथ 5 लाशें पहुंची तो मौके पर मौजूद कोई भी अपने आंसू नहीं रोक पाया। घर में विकास की मां शारदा व 7 वर्षीय बेटी भावना उर्फ भुवी ही बचे हैं। मृतक विकास की 4 बहनें हैं जो डबवाली, कालांवाली, रावतसर व हनुमानगढ़ में विवाहित हैं। शादी संपन्न होने के बाद घनश्याम और विकास की तीन बहनें चली गई थी। लेकिन कालांवाली में विवाहित उसकी एक बहन अभी डबवाली में ही ठहरी हुई थी।

शिल्पा के परिजनों ने देर होने पर रुकने के लिए कहा था
जानकारी अनुसार शिल्पा के परिजनों ने उन्हें रात को नहीं जाने के लिए कई बार कहा था। विकास सहित पांचों लोग गाड़ी में सवार होकर रात करीब 9 बजे फतेहाबाद से डबवाली के लिए चल पड़े थे। हादसे की सूचना के बाद मौके पर पहुंचे शिल्पा के परिजन बार-बार एक ही बात कह रहे थे कि काश वे उनकी बात मानकर रात को रुक जाते।
... और पढ़ें

पत्नी पर कुल्हाड़ी से हमला कर पति ने कर ली आत्महत्या

कालांवाली। उपमंडल के गांव केवल में रविवार को सुबह घरेलू कलह के चलते पति ने अपनी पत्नी पर कुल्हाड़ी से हमला कर दिया। पत्नी के सिर पर गहरी चोट लगी। तत्पश्चात पति ने अपने घर के ही नजदीक धर्मशाला में पेड़ पर फंदा लगाकर फांसी लगा ली और अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली।
मृतक की पहचान शिवकरण सिंह निवासी गांव केवल के रूप में हुई हैैैै। जबकि उसकी घायल पत्नी सुखप्रीत कौर को घायलावस्था में सिरसा के सरकारी अस्पताल में भर्ती करवाया गया। जहां से उसकी गंभीर हालत को देखते हुए सिरसा से अग्रोहा रेफर कर दिया गया। घटना की सूचना मिलते ही कालांवाली पुलिस व सिंघपुरा चौकी पुलिस ने मौके पर पहुंचकर शव को कब्जे में ले लिया और घटनास्थल का जायजा लेकर कई जानकारियां हासिल की।
जानकारी अनुसार लगभग 32 वर्षीय शिवकरण सिंह जोकि मजदूरी का काम करता था। उसने रविवार सुबह अपनी पत्नी सुखप्रीत कौर पर घरेलू कलह के चलते कुल्हाड़ी से हमला करके जान से मारने का प्रयास किया और हमला कर वहां से भाग गया। हमले के बाद सुखप्रीत कौर सिर पर गहरी चोट लगने के कारण गंभीर रूप से घायल हो गई। जिसे पड़ोसियों व सगे संबंधियों ने सिरसा के सरकारी अस्पताल में भर्ती करवाया। जहां से उसकी गंभीर हालत को देखते हुए अग्रोहा के लिए रेफर कर दिया। लेकिन उसके रिश्तेदारों ने सुखप्रीत कौर को अग्रोहा न ले जाकर सिरसा के निजी अस्पताल में भर्ती करवा दिया। वहीं घटना के बाद शिवकरण सिंह के सगे संबंधी घायल सुखप्रीत कौर को संभालने में लग गए। इस दौरान उन्हें गांववासियों ने सूचना दी कि शिवकरण सिंह ने अपने घर के नजदीक बनी धर्मशाला में पेड़ पर फंदा लगाकर आत्म हत्या कर ली है। जब तक वहां उसके सगे संबंधी वहां तक पहुंचे, तब तक शिवकरण सिंह की मौत हो चुकी थी। जिसके बाद उन्होंने कालांवाली पुलिस को घटना की सूचना दी। सूचना मिलते ही कालांवाली पुलिस व सिंघपुरा चौकी पुलिस ने मौके पर पहुंचकर शव को कब्जे में लेकर कानूनी कार्रवाई करते हुए शव को पोस्टमार्टम के लिए सिरसा भेजा।

पत्नी को मजदूरी करने से कर रहा था मना
बताया जा रहा है कि शिवकरण सिंह का सुखप्रीत कौर निवासी रोड़ी से करीब दस वर्ष पूर्व विवाह हुआ था। शिवकरण सिंह और सुखप्रीत कौर दोनों साथ-साथ मजदूरी का कार्य करते थे और उनका विवाहिक जीवन सही चल रहा था। शिवकरण सिंह के लगभग 8 वर्षीय व 6 वर्षीय दो लड़के हैं। लेकिन कुछ सालों से शिवकरण सिंह की ओर से अपनी पत्नी को मजदूरी करने से रोकने पर दोनों में कलह रहने लगी। जिसको लेकर सुखप्रीत कौर ने महिला थाने में शिवकरण सिंह पर नशा करने और नशे की हालत में उसके साथ मारपीट करने की शिकायत भी दे रखी थी। जिसका लगभग एक माह पूर्व पंचायत सदस्यों ने राजीनामा करवा दिया था। लेकिन उसके बाद रविवार सुबह फिर से दोनों में झगड़ा होने के कारण शिवकरण सिंह ने ऐसा कदम उठाया। शिवकरण सिंह के 5 भाई और 3 बहनें थीं। जिसमें से एक बड़े भाई ने 3 साल पूर्व मानसिक रूप से परेशान होकर फांसी लगाकर आत्म हत्या कर ली थी।

शिवकरण सिंह के भाई बलकरण सिंह के बयान पर पुलिस ने इत्तफाकिया कार्रवाई कर शव का पोस्टमार्टम करवा दिया है और शव उसके परिजनों को सौंप दिया है। वहीं सुखप्रीत कौर के पिता दर्शन सिंह निवासी रोड़ी ने बयान दिए हैं कि उसका दामाद पिछले करीब 6 साल से मानसिक रूप से परेशान चल रहा था। जिसके चलते वह नशा करता था और उसकी बेटी के साथ मारपीट करता था। वहीं उन्होंने बताया कि दर्शन सिंह की दो ओर बेटियां भी शिवकरण के भाईयों के साथ विवाहित हैं।
- सतबीर सिंह, चौकी इंचार्ज, सिंघपुरा
... और पढ़ें

देश में पाकिस्तानी आतंकियों को ड्रग्स, हथियार पहुंचाने वाला कुख्यात तस्कर रणजीत सिरसा से गिरफ्तार

भारत में घुसे पाकिस्तान के आतंकियों के लिए ड्रग्स पहुंचाने वाला कुख्यात तस्कर रणजीत सिंह और उसके भाई गगनदीप उर्फ भोला को पंजाब पुलिस ने हरियाणा पुलिस तथा एनआईए के साथ संयुक्त अभियान में शनिवार अलसुबह सिरसा के बेगू गांव के एक मकान से धर दबोचा। उनके मददगार और रिश्तेदार गांव वैदवाला निवासी गुरमीत को भी सिरसा पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पंजाब पुलिस के सफल ऑपरेशन पर पंजाब पुलिस की पीठ थपथपाई और डीजीपी दिनकर गुप्ता को बधाई दी। पंजाब के डीजीपी दिनकर गुप्ता ने बताया कि उन्होंने हरियाणा के डीजीपी मनोज यादव से शुक्रवार देर रात इस जानकारी को साझा किया। इसके बाद पुलिस टीम को गांव बेगू के लिए रवाना कर दिया गया। पुलिसकर्मियों ने इस ऑपरेशन को दो टीमें बनाकर अंजाम दिया। 

उन्होंने बताया कि पंजाब पुलिस को अमृतसर में पांच मई को गिरफ्तार विक्रम उर्फ विक्की और उसके भाई मनिंदर सिंह उर्फ मनी से पूछताछ में रणजीत उर्फ चीता और उसके भाई गगनदीप उर्फ भोला के संबंध में जानकारी मिली थी। फिर इस संबंध में एनआईए की मदद से आरोपियों के बारे में जानकारी जुटाई गई। उनकी लोकेशन सिरसा में पता लगाने के बाद संयुक्त ऑपरेशन में दोनों को गिरफ्तार कर लिया गया।

... और पढ़ें
नशा तस्कर को पकड़ने के लिए पुलिस का संयुक्त ऑपरेशन नशा तस्कर को पकड़ने के लिए पुलिस का संयुक्त ऑपरेशन

दिल्ली से हेरोइन खरीदकर लाए मां-बेटे, नाके पर पुलिस ने रोका तो कार से कुचलने की कोशिश

सीआईए टीम ने गश्त व चेकिंग के दौरान डिंग मोड़ क्षेत्र से कार सवार मां-बेटे को करीब दस लाख रुपये की 105 ग्राम हेरोइन के साथ गिरफ्तार किया है। पकड़े गए आरोपियों की पहचान हन्नी उर्फ गेज्जू व उसकी मां कमलेश निवासी कीर्तिनगर सिरसा के रूप में हुई है। पुलिस ने दोनों के खिलाफ मामला दर्जकर कोर्ट में पेश किया। कोर्ट ने हन्नी को दो दिन के पुलिस रिमांड व महिला को जेल भेज दिया। दोनों मां बेटा शहर के एक पूर्व पार्षद की बहन व भांजा है।

सीआईए सिरसा प्रभारी इंस्पेक्टर रविंद्र कुमार ने बताया कि मंगलवार शाम को सीआईए सिरसा पुलिस के सहायक उप निरीक्षक तरसेम सिंह के नेतृत्व में एक पुलिस टीम नाकाबंदी डिंग मोड़ क्षेत्र में मौजूद थी। सीआईए टीम को गुप्त सूचना मिली कि कमलेश व उसका लड़का हन्नी उर्फ गेज्जू निवासी कीर्ति नगर सिरसा दोनों दिल्ली से चिट्टा लेने गए हुए हैं। 

कुछ समय बाद कार में दिल्ली से चिट्टा लेकर आने वाले हैं। थोड़ी देर बाद एक सफेद रंग की कार फतेहाबाद की तरफ से आती दिखाई दी। सीआईए टीम ने कार को रुकने का इशारा किया तो तस्करों ने अपनी कार से सीआईए टीम को कुचलने की कोशिश की लेकिन सीआईए पुलिस टीम ने रोड से नीचे कूदकर अपनी जान बचाई। 
... और पढ़ें

सिरसाः एक लाख की नकली करेंसी के साथ दो लोग गिरफ्तार, 500 और दो हजार रुपये के हैं नोट

सीआईए सिरसा व शहर थाना की पुलिस टीम ने गश्त व चेकिंग के दौरान रविवार रात सूचना के आधार पर जगदंबे पेपर मिल के पास एक लाख रुपये की नकली करेंसी के साथ दो लोगों को गिरफ्तार किया है। पकड़े गए लोगों की पहचान आरोपी बलजीत सिंह उर्फ बग्गा निवासी कीर्ति नगर सिरसा व बब्बू निवासी झनीर जिला मानसा पंजाब के रूप में हुई है। इस संबंध में शहर थाना सिरसा में अभियोग दर्ज किया गया है।

डीएसपी आर्यन चौधरी ने बताया कि बरामद किए गए नकली नोटों में 168 नोट 500-500 रुपये, आठ नोट दो-दो हजार रुपये के शामिल हैं। उन्होंने बताया कि पकड़े गए आरोपियों को अदालत में पेश कर रिमांड हासिल किया जाएगा और रिमांड अवधि के दौरान आरोपियों से पूछताछ कर नकली करेंसी के इस नेटवर्क से जुडे़ अन्य लोगों के बारे में नाम पता कर उनके खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी।

आरोपी एक साल से छाप रहे थे नकली नोट
बब्बू निवासी झनीर का मामा जगदंबे पेपर मिल के पास पीर की दरगाह पर सेवा करता था। बब्बू भी पेशे से कार मिस्त्री था और दरगाह पर अपने मामा के पास ही सेवा करने के लिए आता-जाता रहता था। मुख्य सरगना बलजीत सिंह भी दरगाह पर मत्था टेकने आता था। दोनों की मुलाकात दरगाह पर हुई और दोस्त बन गए। बलजीत सिंह करीब एक साल से नकली नोट छाप रहा था। बलजीत चतरगढ़पट्टी का रहने वाला था और ऑटो मार्केट में कारपेंटर था। पहले शुरू में दोनों ने 100 और 200 रुपये के नकली नोट छापने शुरू किए। नकली नोट छापने के लिए ड्राइंग पेपर का इस्तेमाल करते थे।

नकली नोटों में नहीं दिखाई देती महात्मा गांधी की फोटो
नकली नोट पर महात्मा गांधी की फोटो नहीं दिखाई देती थी। साथ ही एक ही सीरीज का नोट निकलता था। शुरुआत में इन्होंने रेहड़ी, छोटे दुकानदारों व शराब के ठेके पर नोट चलाते थे। दोनों शाम के समय ही नोट बाजार में चलाते थे, ताकि रात को अंधेरे में बारीकि से देखने पर भी नकली नोट की परख न हो सकें। पिछले कुछ दिनों से दोनों बड़े स्तर पर नोट छापकर चलाने की तैयारी में थे। इसलिए अब 500 और दो हजार रुपये के नोट छापने शुरू कर दिए थे।

अब तक ढाई लाख के चला चुके नकली नोट
जानकारी के अनुसार दोनों ने सिरसा में ही दो से ढाई लाख रुपये के नकली नोट चलाए हैं, कुछ नोट दिल्ली में भी चलाए। पुलिस ने दोनों से स्कैनर व प्रिंटर व अन्य सामान जब्त करना है। रिमांड के दौरान पूरी साजिश का पता लगाएगी कि दोनों ने अब तक कितने नकली नोट किन-किन जगहों पर चलाए।

बलजीत मुख्य सरगना है। पुलिस रिमांड के दौरान पता करेगी कि दोनों ने कितने और कहां-कहां नकली नोट चलाए हैं।
- आर्यन चौधरी, डीएसपी सिरसा
... और पढ़ें

हरियाणाः देर रात सिरसा में एटीएम तोड़ने का प्रयास, पुलिस की टीमें जांच में जुटी

प्रतीकात्मक तस्वीर
पुराना बस स्टैंड रोड पर जाट धर्मशाला के निकट आईडीबीआई बैंक के एटीएम को रात को चोरों ने तोड़ने का प्रयास किया। हालांकि चोरों ने एटीएम को पूरी तरह क्षतिग्रस्त तो कर दिया लेकिन नगदी चोरी के बारे में इंजीनियरों के आने के बाद ही कुछ पता चल पाएगा। सुबह आसपास के लोगों ने एटीएम का गेट व एटीएम क्षतिग्रस्त देखकर बैंक अधिकारियों व पुलिस को सूचित किया। 

सूचना मिलने पर सीआईए की टीम, एडिशनल एसएचओ व फिंगरप्रिंट एक्सपर्ट की टीम मौके पर पहुंची और बारीकी से घटनाक्रम का जायजा लिया और तथ्य जुटाए। जानकारी अनुसार डबवाली रोड पर स्थित आईडीबीआई बैंक का एटीएम जाट धर्मशाला की दुकान नंबर 174 में लगा हुआ है। देर रात्रि चोर एटीएम के अंदर घुसे और सबसे पहले सीसीटीवी कैमरे तो क्षतिग्रस्त किया। इसके बाद कटर व अन्य औजारों से एटीएम मशीन का ऊपरी हिस्सा पूरी तरह क्षतिग्रस्त कर नगदी निकालने का प्रयास किया। लेकिन नगदी तक वे पहुंचे या नहीं, ये अभी स्पष्ट नहीं हो पाया है। 

सुबह आसपास के लोगों ने जब एटीएम मशीन को क्षतिग्रस्त देखा तो पुलिस को सूचित किया। सूचना मिलने पर सीआईए टीम, एडिशनल एसएचओ रामपाल अपनी टीम सहित मौके पर पहुंचे और स्थिति का जायजा लिया। इसके बाद फिंगरप्रिंट एक्सपर्ट टीम से कांस्टेबल जगदीश कुमार मौके पर पहुंचे और तथ्य जुटाए। फिंगरप्रिंट एक्सपर्ट के मुताबिक घटना को अंजाम देने वाले लोगों की संख्या तीन से चार है। फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है।
सुबह एटीएम को तोड़ने की सूचना मिली थी, जिसके बाद मौके पर जाकर स्थिति का जायजा लिया गया है। फिंगरप्रिंट एक्सपर्ट को बुलाकर तथ्य जुटाए गए हैं। जल्द मामले का पर्दाफाश किया जाएगा। -रामपाल, एडिशनल एसएचओ सिरसा।
 
देर रात्रि को चोरों ने जाट धर्मशाला के निकट लगे बैंक के एटीएम को तोड़ने का प्रयास किया है। एटीएम में कितनी नगदी थी, इस बारे इंजीनियर बुलाए गए हैं, जिसके बाद ही कुछ पता चल पाएगा। - रिंकू बंजारा, बैंक मैनेजर आईडीबीआई बैंक सिरसा।
... और पढ़ें

सिरसा में पंजाब पुलिस और ग्रामीणों के बीच खूनी संघर्ष, एक की मौत, सात पुलिसवाले गंभीर घायल

सिरसा के गांव देसूजोधा में बुधवार अल सुबह पंजाब पुलिस व ग्रामीणों में जमकर खूनी संघर्ष हुआ। इस दौरान पुलिस फायरिंग में एक व्यक्ति की मौके पर ही मौत हो गई। वहीं, पत्थरबाजी और मारपीट में सभी सात पुलिसकर्मी गंभीर रूप से घायल हुए हैं। इनमें से एक मुलाजिम को गोली लगी है। सूचना पाकर एसपी बठिंडा जीएस संगा व डबवाली डीएसपी कुलदीप सिंह मौके पर पहुंचे। 

वहीं सिरसा से डीएसपी हेडक्वार्टर राकेश चेची ने भी स्थिति का जायजा लिया। डबवाली सिटी पुलिस ने पंजाब के एसआई हरजीवन सिंह के बयान पर मृतक जग्गा सिंह, कुलविंदर सिंह, पिंदा सिंह, गगनदीप सिंह व तेज सिंह सहित 40 से 50 लोगों के खिलाफ विभिन्न धाराओं में केस दर्ज किया है। घटना के बाद गांव में भारी पुलिस बल तैनात किया गया है। 

जानकारी के मुताबिक बुधवार सुबह साढ़े छह बजे के करीब सीआईए पुलिस के एएसआई हरजीवन सिंह, जसकरण सिंह, सुखदेव सिंह, गुरतेज सिंह, हेड कांस्टेबल जगमीत सिंह, कांस्टेबल कमलजीत सिंह व महिला कांस्टेबल मनप्रीत की टीम ने एक आरोपी गगनजीत को साथ लेकर देसूजोधा में कुलविंदर सिंह उर्फ किंदी के यहां दबिश दी। 
... और पढ़ें

मातम में बदली शादी की खुशियां, कार्ड देने जा रहे युवक की हादसे में मौत, दोस्त की भी गई जान

राष्ट्रीय राजमार्ग नंबर 9 पर सिरसा जिला के गांव पंजुआना के निकट शुक्रवार की सुबह घटित हुए एक दर्दनाक सड़क हादसे में बाइक सवार दो युवकों की मौत हो गई जबकि एक महिला गंभीर रूप से घायल हो गई। सूचना के बाद बडागुढ़ा पुलिस ने मौके पर पहुंचकर शव को पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया। इस संबंध में पुलिस ने ट्रक चालक के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। 

गांव अलीपुर टीटूखेड़ा निवासी बूटा राम (23) अपनी मां मुख्तयार कौर व दोस्त चकराइयां निवासी गुरप्रीत सिंह (31) के साथ शुक्रवार की अलसुबह बाइक पर सवार होकर बठिंडा में शादी का कार्ड देने के लिए निकले थे। उक्त लोग जैसे पंजुआना के निकट पहुंचे तो हाईवे पर एक कार व ट्रक का पहले से ही एक्सीडेंट हुआ पड़ा था। सिरसा की तरफ से आ रहे एक ट्रक चालक ने एक्सीडेंट हुए खड़े ट्रक को देखकर अचानक ब्रेक लगा दी। 

इसी दौरान पीछे से आ रही बाइक ट्रक से जा टकराई। इस हादसे में बूटाराम व गुरप्रीत सिंह की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि महिला को गंभीर अवस्था में लोगों ने अस्पताल पहुंचाया। सूचना के बाद बडागुढ़ा थाना प्रभारी कमलेश रानी ने मौके पर पहुंचकर परिजनों को सूचित किया तथा शवों को पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया। 

दोनों मृतक आपस में दोस्त थे। मृतक बूटाराम की 29 सितंबर को शादी होनी थी। दुर्घटना की सूचना मिलते ही घर में कोहराम मच गया। शादी की तैयारियां मातम में बदल गईं। थाना प्रभारी कमलेश रानी ने बताया कि इस संबंध में मृतक के चचेरे भाई हरनाम सिंह के बयान पर ट्रक चालक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। दुर्घटना के बाद चालक मौके से फरार हो गया।
... और पढ़ें

सिरसा में हुए दोहरे हत्याकांड की गुत्थी 24 घंटे में सुलझी, पांच हत्यारे गिरफ्तार, जानें पूरी वारदात

सीआईए स्टाफ सिरसा की टीम ने 24 घंटों के अंदर नाथूसरी कलां रकबा में हुए डबल मर्डर की गुत्थी को सुलझाते हुए मर्डर में शामिल 5 हत्यारों को तेजधार हथियारों सहित काबू करने में बड़ी सफलता हासिल की है। पकड़े गए आरोपियों की पहचान गुलशन निवासी गली नंबर 9 प्रीत नगर सिरसा, निर्मल वर्मा गली नंबर 3 सुखसागर कॉलोनी सिरसा, दीपक उर्फ कलटा निवासी गली नंबर 4 मेला ग्राउंड सिरसा, साहिल कुमार उर्फ नन्नू निवासी नटार व कृष्ण कुमार उर्फ कालू निवासी रंगड़ी खेडा के रूप में हुई है।

शुक्रवार को ब्लाइंड मर्डर का खुुलासा करते हुए डीएसपी राजेश कुमार चेची ने बताया कि मौके पर हत्यारों के खिलाफ कोई सबूत न मिलने के कारण ब्लाइंड डबल मर्डर खोलना सिरसा पुलिस के लिए बड़ी चुनौती था। पुलिस अधीक्षक सिरसा ने सीआईए व साइबर सेल की एक विशेष टीम का गठन किया। टीम ने मोबाइल फोन की कॉल डिटेल के आधार पर कुछ संदिग्ध लड़कों की सूची तैयार की।
... और पढ़ें

साइंस टीचर ने लैब में छात्रा से किया छेड़छाड़, अकेले मिलने को कहा, दबोचा गया

कालांवाली के एक गांव के सरकारी स्कूल में साइंस टीचर ने साइंस लैब में दसवीं की छात्रा से छेड़छाड़ की और उसे अकेले में मिलने आने के लिए कहा। छात्रा ने बाहर आकर अन्य अध्यापकों को इस बारे में जानकारी दी। हालांकि शुरुआत में कुछ स्टाफ सदस्यों ने दोनों पक्षों में समझौता करवाने का प्रयास किया। लेकिन छात्रा के अभिभावकों ने पुलिस में इसकी शिकायत दी।

मामले की सूचना मिलने पर खंड शिक्षा अधिकारी हरमेल सिंह द्वारा जांच की गई। हरमेल सिंह ने अपनी जांच रिपोर्ट में साइंस टीचर को दोषी पाया और उच्चाधिकारियों से अध्यापक को निलंबित करने की अनुशंसा की गई है। आरोपी साइंस टीचर के खिलाफ पुलिस में पोक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया गया। आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया। वहीं छात्रा को चाइल्ड वेलफेयर कमेटी के समक्ष पेश किया गया और छात्रा की काउंसिलिंग की गई।

कालांवाली के एक गांव के सरकारी स्कूल की छात्रा द्वारा साइंस अध्यापक पर छेड़छाड़ का आरोप लगाया गया। पुलिस में दर्ज एफआईआर के अनुसार छात्रा ने बताया कि शिक्षक ने 20 अगस्त को उसे साइंस लैब में बुलाया और उससे छेड़छाड़ की। वह रोने लग गई। साइंस अध्यापक ने उसे किसी को घटना की जानकारी न देने की धमकी दी।
... और पढ़ें

पत्नी की हत्या कर खून से सना कुल्हाड़ा लेकर थाने पहुंचा पति, ये बताई वारदात की वजह

बडागुढ़ा में एक युवक ने अपनी 28 वर्षीय पत्नी की कुल्हाड़े से काटकर निर्मम हत्या कर डाली। घटना को अंजाम देने के बाद आरोपी ने थाने में पहुंचकर सरेंडर कर दिया। इस संबंध में पुलिस ने दो लोगों पर हत्या करने व 4 अन्य लोगों पर उकसाने के आरोप में मामला दर्ज किया है। पुलिस ने शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सिरसा अस्पताल में पहुंचाया। 

हत्यारोपी के अनुसार उसकी पत्नी का चाल-चलन ठीक नहीं था। बडागुढ़ा निवासी काला सिंह का अपनी पत्नी सुखप्रीत कौर से पिछले कुछ समय से मनमुटाव चल रहा था। काला सिंह अपनी पत्नी के चरित्र पर संदेह करता था। जिसके चलते दोनों के बीच अक्सर झगड़ा रहने लगा था। इसी के चलते पति-पत्नी दोनों अलग-अलग रहते थे। 

काला सिंह के अनुसार उसे ये पसंद नहीं था कि कोई व्यक्ति उसके घर में आए। मंगलवार सुबह सुखप्रीत कौर काला सिंह के घर आई जहां उसने काला सिंह से बंटवारा करने की बात कहते हुए सब कुछ निपटाने की बात कही।

इसी बीच दोनों के मध्य विवाद बढ़ गया और तैश में आए काला सिंह ने सिर में कुल्हाड़ा मारकर सुखप्रीत कौर को सड़क पर ही मौत के घाट उतार दिया। इस घटना को अंजाम देने के बाद काला सिंह ने स्वयं थाने में जाकर घटना की जानकारी देते हुए सरेंडर कर दिया। जिसके बाद पुलिस ने उसे हिरासत में ले लिया। 
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन