बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
TRY NOW
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

सिरसाः तेजधार हथियार से 32 वर्षीय युवक की हत्या, खेतों में मिला खून से लथपथ शव

सिरसाः एक करोड़ की हेरोइन के साथ दो युवक गिरफ्तार, सप्लायर समेत तीन के खिलाफ केस दर्ज

डीआईजी डॉ. अरुण सिंह के नेतृत्व में जिला भर में चलाए जा रहे विशेष अभियान के तहत कार्रवाई करते हुए महत्त्वपूर्ण सूचना के आधार पर जिला की सीआईए सिरसा पुलिस टीम ने गश्त व चेकिंग के दौरान बस स्टैंड डिंग मोड़ क्षेत्र से कार सवार दो युवकों को करीब एक करोड़ रुपये की 500 ग्राम हेरोइन के साथ काबू किया है। पुलिस ने दोनों युवकों को बुधवार को कोर्ट में पेश किया। कोर्ट ने दोनों का पुलिस रिमांड दे दिया।

डीएसपी आर्यन चौधरी ने बताया कि पकड़े गए युवकों की पहचान रमनदीप सिंह उर्फ सोना निवासी साहुवाला प्रथम व प्रगट उर्फ काका निवासी रघुआना के रूप में हुई है। पकड़े गए युवकों से सप्लायर के बारे में नाम पता मालूूम कर दोनो लोगों के खिलाफ थाना डिंग में मादक पदार्थ अधिनियम के तहत अभियोग दर्ज कर सप्लायर की तलाश शुरू कर दी है। उन्होंने बताया कि सीआईए सिरसा प्रभारी इंस्पेक्टर रविंद्र कुमार को गुप्त सुचना मिली कि दो हेरोइन तस्कर दिल्ली से हेरोइन लेकर सिरसा की तरफ आ रहे है।

इस सूचना को पाकर सीआईए प्रभारी ने सीआईए स्टाफ के उप निरीक्षक सुधीर कुमार के नेतृत्व में एक पुलिस टीम गठित कर आने जाने वाले वाहनों की चेकिंग शुरू कर दी। इसी दौरान फतेहाबाद की तरफ से आ रही आई-20 कार को रोकने का इशारा किया तो कार में सवार दो नौजवान युवकों ने पुलिस पार्टी को देखकर कार को वापस मोड़कर भागने की कोशिश की तो शक के बिनाह पर उक्त कार सवार युवकों को काबू कर उनकी तलाशी लेने पर उनके कब्जा से 500 ग्राम हेरोइन बरामद हुई। डीएसपी चौधरी ने यह भी बताया कि प्रारंभिक पूछताछ में सामने आया है कि हेरोइन दिल्ली से लाकर ओढ़ा, कालांवाली व पंजाब क्षेत्र में सप्लाई की जानी थी।
 
2012 में मुक्तसर में चूरापोस्त के साथ पकड़े जाने पर दर्ज हुआ था मामला
गिरफ्तार किए गए आरोपी प्रगट सिंह के खिलाफ पंजाब के थाना लंबी जिला मुक्तसर में मादक पदार्थ अधिनियम के तहत अभियोग दर्ज है। प्रगट सिंह 2012 में मुक्तसर में चूरापोस्त के साथ पकड़ा गया था। इस मामले में अदालत ने उसे दस साल की सजा भी सुनाई। करीब चार साल सजा काटने के बाद बाहर आया था। लेकिन बाहर आने के बाद भी उसने हेरोइन तस्करी का धंधा नहीं छोड़ा। जानकारी अनुसार वह गाड़ियों की खरीद बेच के सिलसिले में दिल्ली व गुरुग्राम आता जाता था।

इसी की आड़ में वह हेरोइन तस्करी का धंधा भी करता था। उसने हेरोइन तस्करी में उसने रमनदीप को भी मिला लिया था। पुलिस को अंदेशा है कि दोनों कई बार पहले भी दिल्ली से हेरोइन की तस्करी कर चुके हैं। डीएसपी आर्यन चौधरी ने बताया कि पकड़े गए युवकों का आपराधिक रिकॉर्ड खंगाला जा रहा है ।
... और पढ़ें

दिल्ली से हेरोइन खरीदकर लाए मां-बेटे, नाके पर पुलिस ने रोका तो कार से कुचलने की कोशिश

सीआईए टीम ने गश्त व चेकिंग के दौरान डिंग मोड़ क्षेत्र से कार सवार मां-बेटे को करीब दस लाख रुपये की 105 ग्राम हेरोइन के साथ गिरफ्तार किया है। पकड़े गए आरोपियों की पहचान हन्नी उर्फ गेज्जू व उसकी मां कमलेश निवासी कीर्तिनगर सिरसा के रूप में हुई है। पुलिस ने दोनों के खिलाफ मामला दर्जकर कोर्ट में पेश किया। कोर्ट ने हन्नी को दो दिन के पुलिस रिमांड व महिला को जेल भेज दिया। दोनों मां बेटा शहर के एक पूर्व पार्षद की बहन व भांजा है।

सीआईए सिरसा प्रभारी इंस्पेक्टर रविंद्र कुमार ने बताया कि मंगलवार शाम को सीआईए सिरसा पुलिस के सहायक उप निरीक्षक तरसेम सिंह के नेतृत्व में एक पुलिस टीम नाकाबंदी डिंग मोड़ क्षेत्र में मौजूद थी। सीआईए टीम को गुप्त सूचना मिली कि कमलेश व उसका लड़का हन्नी उर्फ गेज्जू निवासी कीर्ति नगर सिरसा दोनों दिल्ली से चिट्टा लेने गए हुए हैं। 

कुछ समय बाद कार में दिल्ली से चिट्टा लेकर आने वाले हैं। थोड़ी देर बाद एक सफेद रंग की कार फतेहाबाद की तरफ से आती दिखाई दी। सीआईए टीम ने कार को रुकने का इशारा किया तो तस्करों ने अपनी कार से सीआईए टीम को कुचलने की कोशिश की लेकिन सीआईए पुलिस टीम ने रोड से नीचे कूदकर अपनी जान बचाई। 
... और पढ़ें

हरियाणा : ट्रांसफार्मर चोरी करने वाले अंतरराज्यीय गिरोह का पर्दाफाश, चार शातिर गिरफ्तार

सिरसा सीआईए कालांवाली पुलिस ने ट्रांसफार्मर चोरी करने वाले एक अंतरराज्य गिरोह का पर्दाफाश कर चार लोगों को काबू किया है। जिला पुलिस अधीक्षक भूपेंद्र सिंह ने बताया कि पुलिस ने पकड़े गए आरोपियों के कब्जे से वारदात में प्रयुक्त दो गाड़ियां और बड़ी मात्रा में औजार बरामद किए हैं।  

उन्होंने बताया कि आरोपियों की पहचान त्रिलोक सिंह, सुखदेव सिहं उर्फ राजू निवासी रावला मंडी राजस्थान, मांगे लाल और सुखविंद्र सिंह उर्फ सोनू निवासी 16 केएनडी घड़साना जिला गंगानगर राजस्थान के रुप में हुई है। उन्होंने बताया कि सिरसा जिला के डबवाली, कालांवाली, ओढ़ां और नाथूसरी चौपटा क्षेत्रों में पिछले  कई दिनों से ट्रांसफार्मर चोरी की घटनाएं हुई थी। 


पुलिस अधीक्षक ने बताया कि मामले की गंभीरता को देखते हुए जिला की सीआईए कालांवाली और डबवाली की पुलिस टीमों का गठन कर चोरी की इन घटनाओं को सुलझाने के निर्देश दिए गए थे। सीआईए कालांवाली प्रभारी उप निरीक्षक राजपाल के नेतृत्व में गठित टीम ने महत्वपूर्ण सुराग जुटाते हुए आरोपियों को काबू कर लिया।

टीम में सहायक उप निरीक्षक अवतार सिंह, मदन, रामफल और अन्य पुलिस कर्मी शामिल थे। पुलिस अधीक्षक भूपेंद्र सिंह ने बताया कि पकड़े गए आरोपियों ने प्रारंभिक पूछताछ में डबवाली, कालांवाली,ओढ़ां और नाथूसरी चौपटा, फतेहाबाद जिला के भटटू तथा पंजाब व राजस्थान के कई क्षेत्रों से ट्रांसफार्मर चोरी की वारदात स्वीकार की हैं।
... और पढ़ें
सिरसा में पकड़े गए ट्रांसफार्मर चोरी के आरोपी। सिरसा में पकड़े गए ट्रांसफार्मर चोरी के आरोपी।

हरियाणा में वारदात : सिरसा में प्रवासी मजदूर का लहूलुहान शव मिला, आपसी झगड़े में गई जान

हरियाणा में सिरसा के गांव जमाल में एक प्रवासी मजदूर की कस्सी मारकर हत्या कर दी गई। आशंका जताई जा रही है कि दो प्रवासी मजदूर सतबीर और फूल सिंह के आपसी झगड़े में ही फूल सिंह ने अपने साथी सतबीर को कस्सी से मारकर मौत के घाट उतार दिया। ग्रामीणों ने इसकी सूचना जमाल चौकी पुलिस को दी। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर मृतक के परिजनों को जानकारी दे दी है। 

जानकारी के अनुसार, गांव जमाल में पानीपत जिले से सतबीर सिंह और हिसार से फूल सिंह पिछले 6 महीने से दिहाड़ी का काम कर रहे थे। दोनों ग्रामीण ओमप्रकाश के नोहरे में ठहरे हुए थे। नोहरे के मालिक ओमप्रकाश ने जमाल चौकी पुलिस को सूचना दी कि पानीपत से आए सतबीर का शव नोहरे में पड़ा है और उसका साथी फूल सिंह फरार है। 

उन्होंने बताया कि दोनों मजदूर कल दिन में आसपास के खेतों में सरसों की कटाई के काम में जुटे हुए थे और रात को दोनों ने आकर खाना खाया और शराब भी पी। आशंका है कि दोनों में कोई झगड़ा हुआ होगा तभी फुल सिंह ने सतबीर पर कस्सी से वार कर दिया। जिससे सतबीर की मौत हो गई। सुबह घर वालों ने जाकर देखा तो सतबीर लहूलुहान अवस्था में पड़ा है। इसकी सूचना उन्होंने जमाल चौकी पुलिस को दी। पुलिस ने घटनास्थल पर आकर शव को कब्जे में लिया और सतबीर के परिजनों को सूचना दी। फूल सिंह फरार है। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।
... और पढ़ें

हादसे में महिला की कोख और सिंदूर दोनों उजड़ी, खुद लड़ रही जिंदगी की जंग, तीन की दर्दनाक मौत

हरियाणा के रानियां में एजेंसी पर सर्विस के लिए दी गई स्कूटी लेने जा रहे दिव्यांग टेलर, उसके बेटे और ममेरे भाई समेत तीन लोगों की सड़क हादसे में मौत हो गई, जबकि पत्नी की हालत गंभीर है। सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने घायल को पीसीआर से सिरसा के नागरिक अस्पताल पहुंचाया। टेलर की पत्नी भी दिव्यांग है। 

जानकारी के अनुसार गांव फतेहपुरिया निवासी दिव्यांग टेलर सुनील सर्विस के लिए एजेंसी में दी गई स्कूटी लाने जा रहा था। अभी वह रानियां में सिरसा मार्ग पर रिलायंस पंप के नजदीक पहुंचा था कि उसकी बाइक की कार से टक्कर हो गई। हादसे में बाइक पर सवार सुनील उर्फ लीलू (28), बेटा लवदीप (8) और राजस्थान निवासी रिश्तेदार सुनील (25) की मौत हो गई, जबकि पत्नी गुरप्रीत गंभीर रूप से घायल हो गई। 

जांच अधिकारी जय सिंह ने बताया कि मृतक के भाई प्रकाश ने पुलिस को दिए बयान में बताया कि दिव्यांग सुनील रानियां में टेलर का काम करता था, उसकी पत्नी भी दिव्यांग है। दोपहर सवा 12 बजे रिलायंस पंप के पास बाइक सवारों को कार ने रौंद दिया। हादसे के बाद चालक कार के साथ भाग निकला। 

थाना प्रभारी साधुराम ने बताया कि सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने एंबुलेंस आने का इंतजार न करते हुए घायलों को पुलिस पीसीआर में सिरसा के नागरिक अस्पताल भिजवाया। जहां पर डॉक्टरों ने तीन लोगों को मृत घोषित कर दिया। गंभीर रूप से घायल महिला का उपचार किया जा रहा है। पुलिस ने मृतकों के पोस्टमार्टम करवाकर शव परिजनों को सौंप दिए हैं और मृतक के भाई प्रकाश पुत्र बनवारी लाल के बयान पर कार चालक के खिलाफ मामला दर्जकर कार्रवाई की जा रही है।
... और पढ़ें

फर्जी आरसी बना गाड़ियां बेचने वाला सरगना काबू, 17 वाहन बरामद, उत्तर भारत में फैला है गिरोह

हरियाणा के सिरसा जिले की सीआईए पुलिस ने फर्जी आरसी बनाकर गाड़ियों को बेचने वाले गिरोह का पर्दाफाश किया है। पुलिस ने गिरोह के मुख्य सरगना को काबू कर लिया है। आरोपी की पहचान रोहतक के सुभाष नगर निवासी सुनील चितकारा उर्फ आशु के रूप में हुई है। अभी तक पुलिस ने आरोपी की निशानदेही पर 17 गाड़ियां बरामद की है। जिला पुलिस के अनुसार यह गिरोह पूरे उत्तर भारत में फैला है। फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है।

डीएसपी डबवाली कुलदीप सिंह बेनीवाल व सीआईए सिरसा प्रभारी इंस्पेक्टर नरेश कुमार ने संयुक्त रूप से बताया कि सीआईए सिरसा पुलिस को लगातार फर्जी आरसी वाली गाड़ियां अवैध रूप से चलाने के बारे में सूचनाएं मिल रही थीं। 14 जनवरी को सीआईए टीम को सूचना मिली थी कि रोहतक निवासी सुनील गाड़ियों की फर्जी आरसी तैयार करवाता है, जिसने कुछ गाड़ियां सिरसा में भी बेची हैं। 

इस पर सीआईए सिरसा पुलिस ने तीनों गाड़ियों को सिरसा से बरामद कर लिया। जब इनकी जांच की गई तो गाड़ियों में बड़ा फर्जीवाड़ा सामने आया। गाड़ी मालिकों ने बताया कि उन्होंने गाड़ियां सुनील चितकारा के मार्फत खरीद रखी हैं, जिस पर सहायक उपनिरीक्षक महेंद्र सिंह व सहायक उप निरीक्षक अवतार सिंह के नेतृत्व में एक टीम रोहतक भेजी गई। टीम ने रोहतक से मुख्य सरगना सुनील चितकारा को काबू कर लिया।

फाइनेंस वाली गाड़ियों को ऑनलाइन बोली से खरीदता था आरोपी
डीएसपी कुलदीप सिंह बेनीवाल ने बताया कि आरोपी से पूछताछ पर पता चला कि आरोपी बैंकों की फाइनेंस वाली गाड़ियों को महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल व कर्नाटक से ऑनलाइन बोली के माध्यम से खरीदता और फिर सरकारी टैक्स बचाने के लिए फर्जी बैंक अथॉरिटी प्रमाण पत्र खुद तैयार करता।

इसके लिए गाड़ी के चेसिस नंबर से भी छेड़छाड़ की जाती, ताकि ऑनलाइन नंबर डालने से गाड़ी का पुराना नंबर पता न चले और मोटर व्हीकल इंस्पेक्टर की भी नकली रिपोर्ट खुद तैयार कर फर्जी हस्ताक्षर करता। इसके बाद गाड़ी को मोटर व्हीकल इंस्पेक्टर से पास न करवाकर खुद ही फर्जी तरीके से पास करता था। इस फर्जीवाड़े में रजिस्ट्रेशन अथॉरिटी व सरल केंद्र जगाधरी में इंचार्ज यमुनानगर का लक्ष्मी नगर निवासी अमित कुमार आरोपी से मिला हुआ था, जो 60-65 हजार रुपये प्रति गाड़ी लेकर फर्जी तरीके से पास करवाता था।
... और पढ़ें

आधी रात को दरवाजा खटखटाकर घर में घुसे लुटेरे, महिलाओं पर डंडे से हमलाकर की लूटपाट

सांकेतिक तस्वीर
हरियाणा के सिरसा में सोमवार देर रात करीब डेढ़ बजे कालांवाली के वार्ड नंबर तीन में पांच-छह युवकों ने एक घर में घुसकर लूटपाट की वारदात को अंजाम दिया। चोरों ने घर में महिलाओं पर डंडों से हमला कर उन्हें घायल कर दिया।

भागते समय लुटेरों ने फायरिंग भी की। एक युवक की टांग में गोली लगी। इसके बाद लुटेरे घर से नकदी और आभूषण लूटकर ले गए। वारदात की सूचना मिलते ही कालांवाली पुलिस मौके पर पहुंची। वहीं सीआईए सिरसा, सीआईए डबवाली, फिंगर प्रिंट एक्सपर्ट टीम ने भी घटनास्थल का जायजा लिया।      


कालांवाली के वार्ड तीन निवासी महावीर की पत्नी प्रवीण ने बताया कि रात करीब एक बजे वह, उसका पति महावीर, ससुर रामकिशन, सास पालो देवी, ननद कांता और किरण अपने अपने कमरों में सो रहे थे। रात करीब एक बजे बाहर से किसी ने जोर जोर से दरवाजा खटखटाया।
 
शोर सुनकर जब उसके पति और ससुर ने दरवाजा खोला तो बाहर पांच-छह नकाबपोश खड़े थे, जिनके हाथों में पिस्तौल और डंडे थे। हमलावरों ने उसकी सास पालो देवी, ससुर रामकिशन, ननद किरण पर डंडों से हमला कर दिया, जबकि दादी सास सरवती को दीवार से टकरा दिया। किरण और कांता के कानों की बालियां छीन लीं। बाद में हमलावर अलमारी और संदूक में रखी नकदी व जेवरात भी ले गए। 

प्रवीण ने बताया कि जब उन्होंने शोर मचाया तो पड़ोसी मौके पर इकट्ठा हो गए। जिसके बाद हमलावर फायरिंग करते हुए भाग गए। फायरिंग में अंकुर वर्मा के पैर में गोली लगी। कालांवाली थाना के एएसआई राजकुमार पुलिस टीम सहित मौके पर पहुंचे। सुबह सीआईए सिरसा, सीआईए डबवाली, फिंगर प्रिंट एक्सपर्ट टीमें मौके पर पहुंची। पुलिस टीम क्षेत्र में लगे सीसीटीवी कैमरों की रिकार्डिंग खंगाल रही है। कालांवाली पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है।
 
... और पढ़ें

हरियाणा : अवैध हथियारों के साथ पकड़े दो आरोपी, 14 देसी कट्टे बरामद

सिरसा में वारदात, गोशाला के सेवादार का लोहे की रॉड मारकर कत्ल 

हरियाणा के सिरसा के गांव कालूआना की गोशाला के सेवादार की हत्या का मामला सामने आया है। वारदात सीसीटीवी में कैद हो गई है। पुलिस मामले की जांच कर रही है। 

गांव से जंडवाला बिश्नोईयां की तरफ रोड पर स्थित श्री राम गोपाल गोशाला कालूआना में अज्ञात व्यक्ति दीवार फांद कर घुसा और सेवादार ओमप्रकाश (65) पुत्र नंदराम की लोहे की रॉड मारकर बेरहमी से कत्ल कर  दिया। आरोपी जाते समय गोशाला में लगे सीसीटीवी कैमरों को भी तोड़ गया। 

गोशाला प्रबंधक को सुबह मामले की जानकारी मिली, जिसके बाद पुलिस को सूचित किया गया। सूचना के बाद पुलिस के आला अधिकारी गोशाला पहुंचे और मामले की जांच शुरू की। पुलिस को सीसीटीवी कैमरे की फुटेज मिली है जिसमें सेवादार बाहर की ओर भागते हुए बरामदे में आता दिख रहा है। पीछे लोहे का रॉड लेकर एक युवक भागता आता है और उस पर ताबड़तोड़ वार करता है 12:59 बजे सेवादार की हत्या की गई है। 
 
... और पढ़ें

हरियाणा : अंडे और गिलास लेने पर विवाद, ईंट से फोड़ा रेहड़ी वाले का सिर

हरियाणा में अंडे और गिलास लेने पर हुई बहस में तीन युवकों ने अंडे की दुकान लगाने वाले युवक की हत्या कर दी। वारदात हरियाणा के सिरसा के गांव माधोसिंघाना में शुक्रवार देर रात हुई। 

गांव माधोसिंघाना में शराब के ठेके के पास अंडे की दुकान लगाने वाले हनुमान की सोनू, अक्षय और राजेश ने गिलास और अंडे लेने को लेकर हुई बहस के कारण हत्या कर दी। आरोपी वारदात के बाद मौके से फरार हो गए। मामले की सूचना मिलने पर सिरसा डीएसपी संजय कुमार, सदर थाना एसएचओ देवी लाल और मल्लेकां चौकी प्रभारी सुरेश मौके पर पहुंचे। पुलिस ने तीनों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।


गांव माधोसिंघाना में शुक्रवार रात करीब 9.50 बजे गांव के सोनू, अक्षय और राजेश गुडिया खेड़ा रोड पर बने ठेके से शराब लेने आए थे। इसके बाद वह शराब लेकर पास बनी अंडों की रेहड़ी पर गए। वहां उनकी रेहड़ी के मालिक हनुमान से अंडे और शराब पीने के लिए गिलास लेने को लेकर बहस हो गई। बहस इतनी बढ़ गई कि युवकों ने हनुमान के सिर पर ईंट और पास रखी लकड़ी से वार कर दिया। हनुमान की मौके पर ही मौत हो गई।

हनुमान की मौत के बाद तीनों युवक मौके से फरार हो गए। आस पास के लोगों को जब घटना का पता लगा तो पुलिस को सूचना दी। सूचना पाकर डीएसपी सिरसा संजय कुमार, सदर थाना एसएचओ देवी लाल और मल्लेकां चौकी प्रभारी सुरेश मौके पर पहुंचे। 

सदर थाना एसएचओ ने बताया कि रात को शराब लेने के बाद गिलास लेने को लेकर अंडा रेहड़ी चालक हनुमान की तीनों युवकों से बहस हो गई थी। जिस पर तीनों युवकों ने उस पर ईंट और लकड़ी से वार कर दिया। जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। सदर थाना पुलिस ने गांव माधोसिंघाना के राजेश, सोनू और अक्षय के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज तीनों की तलाश शुरू कर दी है।
... और पढ़ें

असम में स्कूल जा रही किशोरी अगवा, 21 दिन बाद हरियाणा में मिली, एक लाख रुपये में बेची गई थी

मानव तस्करी करने वाले गिरोह ने असम से 15 वर्षीय किशोरी का अपहरण कर उसे हरियाणा के आदमपुर में एक लाख रुपये में बेच दिया। खरीदने वाले ने जबरन किशोरी से शादी की और उसका यौन शोषण करता रहा। 

कुछ दिन पहले किशोरी व्यक्ति के चंगुल से किसी तरह से बचकर डिंग पुलिस थाने पहुंची। महिला थाने में केस दर्ज कर उसे बाल कल्याण समिति के हवाले कर दिया गया। बाल कल्याण समिति ने असम पुलिस को इसकी सूचना दी और काफी प्रयास के बाद उसके परिजनों का पता लिया गया। परिजन असम पुलिस के साथ सिरसा पहुंचे, जहां बाल कल्याण समिति ने नाबालिग को परिजनों के हवाले कर दिया। असम की धुबड़ी थाना पुलिस ने भी इस मामले में केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।  


बाल कल्याण समिति के अनुसार नाबालिग को ठीक तरह से हिंदी बोलनी नहीं आती थी, लेकिन वह हिंदी अच्छे से समझ सकती थी। डिंग थाना पुलिस ने असमिया भाषा जानने वाले शख्स को बुलाया। इसके बाद उस शख्स के माध्यम से नाबालिग ने पुलिस को बताया कि वह सातवीं कक्षा में पढ़ती है। 30 अक्तूबर को वह स्कूल से घर लौट रही थी कि रास्ते में तीन युवक उसे जबरन उठाकर ले गए। इसके बाद उन युवकों ने उसके साथ दुष्कर्म किया। 

आरोपी उसे हरियाणा के आदमपुर में ले आए और यहां एक लाख रुपये में एक आदमी को बेच दिया। उस आदमी ने उससे जबरन शादी रचाई और उसका यौन शोषण करने लगा। एक दिन मौका पाकर वह उस व्यक्ति की कैद से भागने में कामयाब हो गई। इसके बाद एक बस में बैठ गई। 

इसी दौरान सड़क पर उसे थाना दिखा। बस वहीं रुकी थी। वह नीचे उतरी और सीधे थाने में चली गई। वहां उसने पुलिस कर्मचारियों को सारी घटना बताई। इसके बाद डिंग पुलिस उसे महिला थाना लेकर आई और बाल कल्याण समिति को घटना की जानकारी दी। पुलिस ने नाबालिग की शिकायत पर आरोपियों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली है।
... और पढ़ें

11 शातिरों की करतूत, 100 रुपये का सिम, और लगा देते थे लाखों का चूना

हरियाणा के सिरसा में साइबर ठगी करने वाला गिरोह जिस तरीके से ठगी करता था, उसे देखकर पुलिस भी हैरान है। आरोपी ऑनलाइन ठगी के लिए 100 रुपये प्रति सिम के हिसाब से एक्टिव सिम लाते थे। एक बार प्रयोग करने के बाद इसे वे आगे गिरोह के दूसरे गुर्गों को 70 से 80 रुपये में बेच देते थे।

आरोपी एक बार में एक साथ 1000 सिम लेकर आते थे। ये बदमाश इन सिम के माध्यम से ई-कॉमर्स कंपनियों द्वारा उपभोक्ता को दी जाने वाली नगद राशि उड़ा लेते थे। आरोपी फर्जी सिम पर फर्जी आईडी बनाकर कैश बैक लेकर कंपनियों को लाखों रुपये का चूना लगा रहे थे।

आरोपियों ने पुलिस पूछताछ में बताया है कि ऑनलाइन ठगी के लिए उन्होंने हरियाणा और पंजाब से जुड़े युवकों का व्हाट्सएप ग्रुप बनाया हुआ है। इस ग्रुप का एडमिन पंजाब का है। वही इस गिरोह का सरगना भी है। सिरसा पुलिस बीते दो दिनों में साइबर फ्रॉड करने वाले दो गिरोह के 11 शातिरों से 607 सिम, 22 मोबाइल फोन और दो लैपटॉप बरामद कर चुकी है।

एसपी भूपेंद्र सिंह ने बताया कि सीआईए प्रभारी इंस्पेक्टर नरेश कुमार, उप निरीक्षक राजपाल व सहायक उप निरीक्षक अवतार सिंह के नेतृत्व में पुलिस टीम को जानकारी मिली थी कि कुछ लोग गांव शेरपुरा क्षेत्र में फर्जी आईडी पर भारी मात्रा में सिम लाकर फर्जी दस्तावेजों के सहारे ऑनलाइन ठगी का धंधा कर रहे हैं। इसके बाद दबिश दी गई थी। 

दबिश में सीआईए ने अजय कुमार, संजय, गोविंद सिंह, विकास, दर्शन सिंह, संजय निवासी शेरपुरा और हर्ष निवासी जोधकां को डिंग मंडी क्षेत्र के गांव शेरपुरा से दबोचा था। इन सातों आरोपियों से पुलिस ने 327 सिम, 11 मोबाइल फोन व एक लैपटॉप बरामद किया था। इससे पहले बुधवार को भी चार शातिरों रमेश कुमार, विनोद कुमार निवासी डिंग मंडी, सुभाष और राजेश निवासी जिला फतेहाबाद को पकड़ कर उनके पास से पुलिस ने 280 सिम, 11 मोबाइल और एक लैपटॉप बरामद किया था।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन