विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
सुखी वैवाहिक जीवन के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में कराएं राधा-कृष्ण युगल पूजा, 24 अगस्त को
Astrology Services

सुखी वैवाहिक जीवन के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में कराएं राधा-कृष्ण युगल पूजा, 24 अगस्त को

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

प्रेमी जोड़े को जूतों की माला पहना गांव से निकाला, गुप्तांग में सरिया डालने समेत लगे ये आरोप

करनाल थाना सदर क्षेत्र में एक प्रेमी जोड़े की पिटाई करने के बाद मुंह काला करने और जूतों की माला पहनाकर गांव में घुमाने का मामला प्रकाश में आया है।

22 अगस्त 2019

विज्ञापन
विज्ञापन

सिरसा

गुरूवार, 22 अगस्त 2019

रेलवे ट्रैक के पास पत्थर मारकर युवक की हत्या

रेलवे कॉलोनी में रेलवे अस्पताल और रेलवे लाइन के नजदीक एक युवक का शव मिला है। शव की सूचना मिलने पर राजकीय रेलवे पुलिस (जीआरपी) मौके पर पहुंची और शव को पोस्टमार्टम के लिए नागरिक अस्पताल पहुंचाया। युवक के पहचान बंटी निवासी प्रेमनगर के रूप में हुई। जीआरपी ने अज्ञात के खिलाफ हत्या का मामला दर्जकर जांच शुरू कर दी है।
जानकारी के अनुसार रेलवे अस्पताल के पीछे रेलवे अस्पताल और लाइन के पास एक युवक का शव खून से लथपथ अवस्था में मिला। युवक के सिर पर पत्थर से वार किए गए। जिस कारण उसका चेहरा खून से सना हुआ था। एएसआई महीपाल सिंह ने बताया कि रात को करीब डेढ़ बजे रेलवे का कर्मचारी जब लाइन चेक करने आया उस समय तक कोई लाश नहीं थी। जिसके बाद वह सुबह पांच बजे दोबारा लाइन चेक करने आया तो वहां पर एक व्यक्ति की लाश पड़ी हुई थी। जिसके पास ही खून से सने हुए पत्थर पड़े हुए थे। वहीं लाइन के पास बने सीवरेज के पत्थर का ढक्कन मृतक के सिर के ऊपर पड़ा हुआ था। जिस पर खून लगा हुआ था। ऐसी आशंका जताई जा रही है कि हत्यारों ने सीवर के ढक्कन से चोट मारकर युवक बंटी की हत्या की हो। पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम करवाकर उसे परिजनों के हवाले कर दिया है।
शुक्रवार शाम को ट्रेन से घर आया था बंटी
मृतक के पड़ोसी अजय ने बताया कि शुक्रवार शाम को सात बजे उसका भांजा बंटी उसके घर आया था। तब वह घर पर नहीं था। वहीं घर पर मौजूद पड़ोसन सुमित्रा ने बताया कि शाम को जब वह अपने घर पर बाहर बैठा हुआ था और नशे में था। तब उसने बंटी के कपड़ों की हालत देखकर पूछा कि उसके कपड़े इतने गंदे क्यों है। तब बंटी ने कहा कि स्टेशन पर उसकी किसी के साथ लड़ाई हो गई है। साढ़े सात बजे के बाद वह दोबारा घर से चला गया था। बंटी की बहन हिसार के एक गांव में ब्याही हुई है। वह बहन के ससुराल के रिश्तेदारों के पास ढाबे पर काम करता था। मृतक की मां शारदा ने बताया कि बंटी की बहन राखी से 500 रुपये लेकर आया था। वह 15 दिन बाद घर आता था और 14 अगस्त से अपनी बहन के पास हिसार में ही था। उसे दोपहर बाद बेटे के हत्या की सूचना मिली। बंटी के मामा रमेश ने उसकी फोटो को देखकर उसकी पहचान की।
शव की पहचान हो गई है। मृतक प्रेम नगर का रहने वाला है। मामले में परिजनों की शिकायत पर अज्ञात के खिलाफ हत्या का केस दर्ज कर लिया गया है। फिलहाल परिजनों से पूछताछ की जा रही है और जांच जारी है। - महीपाल सिंह, एएसआई , जीआरपी थाना। ... और पढ़ें

ग्रामीणों ने बीडीपीओ पर लगाए दुर्व्यवहार के आरोप, मंत्री ने लगाई फटकार

बुधवार को सिरसा के ग्राम पंचायत भवन में जिला लोक संपर्क एवं कष्ट निवारण समिति की बैठक का आयोजन किया गया। बैठक के दौरान राज्यमंत्री खाद्य आपूर्ति और उपभोक्ता मामलों के मंत्री कर्ण देव कंबोज ने 27 शिकायतों को सुना तथा जिसमें से अधिकतर शिकायतों का निपटारा कर दिया गया तथा अन्य शिकायतों की जांच के आदेश दिए।
पहली शिकायत में गांव थिराज से पहुंचे जीत सिंह ने मंत्री को अपनी शिकायत के बारे में बताया कि गांव में सरपंच के द्वारा गली बनाने को लेकर पैसा खुर्द बुर्द किया जा रहा है। सरपंच मनरेगा स्कीम के तहत काम दिखाकर व हाजिरी लगाकर पैसा अपने खाते में डाल रहा है। इस पर उसी समय थिराज के सरपंच सोहन सिंह अपनी बात रखने के लिए खड़े हुए। तभी मंत्री कर्णदेव ने कहा कि जब हमने सरपंच को बुलाया ही नहीं है तो आप अपना पक्ष रखने के लिए क्यों खड़े हो गए। नीचे बैठ जाएं। आपकी कोई बात नहीं सुनी जाएगी। इस मामले पर मंत्री ने कहा कि इसकी पूरी जांच की जाएगी।
दूसरी शिकायत में जिले के गांव वनसुधार से पहुंचे उग्रसेन ने बताया कि उसके भाई की चारपाई से बांधकर हत्या कर दी गई थी और मरने से पहले उसने पुलिस को ब्यान भी दिए थे, जिसकी वीडियोग्राफी भी की गई है। उसके बावजूद भी कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। जिस पर मंत्री ने वहीं मौजूद डीएसपी को जांच की आदेश दे दिए।
तीसरी शिकायत में सिरसा के संत नगर से पहुंचे रोहताश कुमार ने बताया कि उनकी बेटी के ससुरालवालों की और से उनको जान से मारने की धमकियां मिल रही है। जिसके बाद उन पर एक बार गोली से हमला भी हुआ था। लेकिन पुलिस अभी तक कोई जांच नहीं कर रही है और उनकी जान को खतरा है। इस पर मंत्री ने तुरंत प्रभाव से कार्रवाई करते हुए एसआईटी का गठन कर दिया और जांच के आदेश दिए।
बीडीपीओ पर लगाए दुर्व्यवहार के आरोप : भंभूर के राम भगत तथा ग्रामीणों ने बताया कि पूर्व सरपंच बग्गा सिंह तथा उसके परिवार ने पंचायती जमीन पर कब्जा कर अपने नाम कर ली है। जिसके बाद सीएम विंडो तथा उपायुक्त के सामने मामला रखने के बावजूद भी तत्कालीन डीडीपीओ, बीडीपीओ ने कोई कार्रवाई नहीं की है। ग्रामीणों ने बीडीपीओ ओम प्रकाश पर आरोप लगाए कि वह उनसे बदतमीजी से बात करता है तथा उन्हें कार्यालय से बाहर निकाल देता है। बीडीपीओ ने कहा कि ये ऐसा करने पर मजबूर कर देते हैं। इस पर मंत्री ने फटकार लगाते हुए कहा कि तुम्हें इस काम के लिए वहां पर बिठाया गया है क्या। तभी बीडीपीओ बोले कि सभी लोग झूठ बोल रहे हैं। इस पर किसान खड़े होकर मंत्री के पास आ गए। इस पर मंत्री कर्णदेव ने कहा कि तुम्हारे से इन लोगों की क्या निजी दुश्मनी है जो यह झूठ बोलेंगे। तब बीडीपीओ ने ऐसी किसी बात से इंकार कर दिया। इस पर मंत्री ने बीडीपीओ को कहा कि यह मेरी पहली बैठक है इसलिए छोड़ रहा हूं। आगे से ऐसी कोई शिकायत नहीं आनी चाहिए।
सरपंच बोला बाबा भूमणशाह की कसम खाता हूं, शिकायत सही मिली तो सारी उम्र पानी भरूंगा
नेजाडेला खुर्द के शिकायतकर्ता प्रेमचंद ने सरपंच पर प्राइवेट गलियों को बनाने के आरोप लगाए। शिकायतकर्ता ने कहा कि 2014, 15 में सरपंच ने भगवान दास के घर से बाघ चंद तक के घर पर आठ लाख रुपये की राशि पंचायत का दी गई। तत्कालीन सरपंच ने दो लाख 32 हजार रुपये की राशि खुर्द बुर्द कर दी गई। इस पर तत्कालीन सरपंच प्रतिनिधि खड़े हो गए और उन्होंने कहा कि वे बाबा भूमणशाह की कसम खाते हैं, यदि एक भी रुपये का गबन किया हो। यदि शिकायत सही मिली तो सारी उम्र शिकायकर्ता का पानी भरूंगा। इस पर मंत्री ने एसडीएम को जांच के निर्देश दिए।
किसानों के दो पक्षों में हुई तकरार : गांव जमाल निवासी डूंगरमल द्वारा मंगाला माइनर से अवैध पाईपों को हटवाने बारे शिकायत दी थी। एक पक्ष के डूंगरमल ने कहा कि गांव का पूर्व सरपंच बार बार शिकायतें दे रहा है। जबकि हमनें सिंचाई विभाग को 30 हजार रुपये की राशि जमा करवाकर फाइल प्रकिया पूरी की है। पूर्व सरपंच पर पहले भी घपले के आरोप है। जिस कारण से वे बार बार शिकायतें दे रहे हैं। पूर्व सरपंच 150 एकड़ का मालिक है। जबकि हम किसान दो एकड़ के मालिक है। वहीं पूर्व सरपंच राममूर्ति बैनीवाल ने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि इन किसानों ने पाइप लाइन डालने के लिए कोई प्रकिया पूरी नहीं की। मेरे पास सबूत है। विभाग इसमें जांच नहीं कर रहा। दोनों पक्ष एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप करने लग गए। मंत्री के कहने पर पुलिस कर्मचारियों ने उन्हें अलग अलग किया। इसको लेकर पूर्व सरपंच की पुलिस कर्मचारी के साथ बहस भी हो गई। मंत्री कर्णदेव कंबोज ने एडीसी की अध्यक्षता में एसआईटी का गठन करते हुए मामले की पूरी जांच करने के निर्देश दिए।
एक हजार रुपये कम देने पर मंत्री ने प्राध्यापक को लगाई लताड़: शिकायतकर्ता राजकुमारी ने बताया कि उसने नेशनल कॉलेज सिरसा में कंप्यूटर साइंस में ज्वाइंन किया था और उसके साथ एक महिला कर्मचारी ने भी पांच दिन के लिए आई थी। जिसके पांच दिन बाद इंचार्ज नवीन मक्कड़ ने हाजिरी को देखते हुए उन्हें पांच दिन का पांच हजार रुपये का बिल बनाकर दे दिया। जबकि उनकी साथी को उनसे 6 हजार रुपये दे दिए गए। जिससे कि सरकारी खजाने को नुकसान हुआ है। जिसमें पूरे विभाग की मिलीभगत है। इस पर प्राध्याक बंता सिंह भोला ने पक्ष रखते हुए कहा कि इस मामले की जांच हो चुकी है। इस पर मंत्री ने कॉलेज के प्राध्यापक बंता सिंह भोला को फटकार लगाते हुए कहा कि एक को तुमने ज्यादा पैसे दे दिए और अनुभव प्रमाण पत्र भी दे दिया। इसमें तुम्हारी सोच ठीक नहीं लग रही है। इसमें एसडीएम सिरसा उनको जांच रिपोर्ट सौंपेगे। इस अवसर पर हरियाणा बीज विकास निगम के चेयरमैन पवन बेनीवाल, जिलाध्यक्ष भाजपा यतिंद्र सिंह एडवोकेट, पुलिस अधीक्षक डॉ. अरुण सिंह, एसडीएम ऐलनाबाद अमित कुमार, सीईओ जिला परिषद जयवीर यादव, नगराधीश कुलभूषण बंसल, मार्केट कमेटी रानियां के चेयरमैन शीशपाल कंबोज मौजूद थे। ... और पढ़ें

मंदिर तोड़ने के विरोध में दलित समाज ने आंबेडकर चौक पर लगाया जाम

दिल्ली के तुगलकाबाद में गुरु रविदास का मंदिर तोड़े जाने के विरोध में दलित समाज के लोगों ने शहर में रोष प्रदर्शन किया। सभा के लोगों का कहना है कि दिल्ली के तुगलकाबाद में स्थित संत शिरोमणि गुरू रविदास महाराज के 600 साल पुराने ऐतिहासिक मंदिर को तोड़कर प्रशासन ने दलित समाज के लोगों को गहरी चोट पहुंचाई है। लोगों ने शहर में विरोध प्रदर्शन करते हुए आंबेडकर चौक पर तहसीलदार प्रदीप कुमार को ज्ञापन सौंपा।
इससे पहले विरोध प्रदर्शन को लेकर सुबह से ही लोग गुरुद्वारा चिल्ला साहिब के सामने बने रविदास मंदिर में इकट्ठा होने शुरू हो गए थे। जिसमें शहर तथा अन्य आस पास के दलित समाज के लोग पहुंच गए थे। दलित समाज के लोगों ने शहर बंद करने की चेतावनी दी। मंदिर में करीब 150 लोग एकत्रित हो गए थे। इस दौरान वहां पर भारी पुलिसबल मौजूद रहा। महिलाओं के भी रोष प्रदर्शन में शामिल होने के कारण महिला पुलिस कर्मचारी भी मौजूद रही।
करीब 11 बजे संत रविदास मंदिर से लोग नारेबाजी करते हुए बाजारों में पहुंच गए। प्रदर्शनकारी लोगों ने दुकानदारों से दुकानें बंद करने और उनके प्रदर्शन में शामिल होने का अनुरोध किया। प्रदर्शन के दौरान ज्ञानी करनैल सिंह ओढां ने कहा कि सिकंदर लोधी ने गुरू रविदास को यह जगह प्रदान की थी। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार दलित महापुरुषों के मंदिर तुड़वाने की साजिशें कर रही है। मोदी सरकार हर वर्ग के विनाश के बात कर रही है। पूर्व पार्षद भूषण लाल बरोड़ ने कहा कि दिल्ली के तुगलकाबाद में प्राचीन गुरू रविदास का मंदिर तोड़ने की पूरा दलित समाज कड़ी निंदा करता है और इस मंदिर के उसी स्थान पर पुनर्निर्माण की मांग करता है। बंसीलाल दहिया ने कहा कि मनुवादी सरकारें लगातार दलितों पर अत्याचार करके उनके सब्र की परीक्षा ले रही है। शहर में रोष प्रदर्शन के दौरान लोगों ने भाजपा सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। रोष प्रदर्शन शहर के बाजारों से लेकर आंबेडकर चौक पर पहुंचा तो लोगों ने आगे जाने से मना कर दिया और अधिकारियों को वहीं आकर ज्ञापन लेने की सूचना भिजवा दी।
पांच मिनट तक लगाया जाम, एंबुलेंस ड्राइवर ने डिवाइडर को क्रास किया : वहां पर मौजूद लोगों ने सड़क पर आ रहे वाहनों को रोक दिया और सड़क पर जाम लगा दिया। जिस कारण से वहां पर आने जाने वाले वाहनों को निकलने में परेशानी होने लगी। युवाओं ने सड़क पर आकर आने वाले वाहनों को रोकना शुरू कर दिया। हिसार रोड ओवरब्रिज से आ रही एंबुलेंस ने जब देखा कि आगे जाम लगा हुआ तो ड्राइवर ने एंबुलेंस को डिवाइडर क्रास करके वापस उसी रास्ते से ले गया। एंबुलेंस को देखकर पुलिस प्रशासन हरकत में आ गया और वहां पर मौजूद सिटी एसएचओ मंदीप कुमार ने पुलिस फोर्स को आने का इशारा किया। जिसके बाद फोर्स आते देख लोगों ने रोड को खाली कर दिया और रास्ता छोड़ दिया।
भीड़ इकट्ठी देखकर प्रशासन की और से तहसीलदार प्रदीप कुमार वहां पर पहुंचे और उन्होंने वहां पर लोगों से पूछा कि उनकी क्या मांग है। इस पर वहां मौजूद एक व्यक्ति ने बताया कि जब प्रशासन के लोग ज्ञापन लेने आ गए और उनको अभी तक मामले का भी पता नहीं है तो कार्रवाई क्या करेंगेे। जिस पर वहां पर मौजूद लोगों ने तहसीलदार प्रदीप कुमार को ज्ञापन सौंप दिया। इस अवसर पर गुरू रविदास सभा के प्रधान मुरलीधर कटारिया, सरपंच रीना बिरट, नगर पार्षद रेणु बरोड़, पंकज चौहान, अशोक असुर, राजकुमार जमालिया, साहब सिंह मुनखिया, रोहित आजाद, दलित नेता हंसराज, मनीराम बहलान मौजूद थे। ... और पढ़ें

जानें-प्रकाश सिंह बादल ने क्यों भरी सभा में जोड़े हाथ, चौटाला परिवार से कर दी बड़ी अपील

बुधवार को पूर्व मुख्यमंत्री ओमप्रकाश चौटाला की पत्नी स्नेहलता चौटाला की तेरहवीं पर उपमंडल के गांव चौटाला में स्थित चौ. साहब राम स्टेडियम में उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए कई राजनैतिक हस्तियां पहुंचीं। इस मौके पर पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल भी पहुंचे। 

उन्होंने कहा कि आज मैं बेहद निराश हूं। माता स्नेहलता चौटाला का चले जाना बड़ा सदमा है। दुख के पल बयान नहीं कर सकते और न ही सहन किए जा सकते हैं। साथ ही उन्होंने चौधरी देवीलाल के साथ रिश्ते का भी जिक्र किया कि पूरा देश यही कहता था कि इनकी राम लक्ष्मण की जोड़ी है। 

हम एक दिन पंजाब में, एक दिन हरियाणा में मिलकर सियासी कार्य करते थे। आज मैं दुख की घड़ी में चौटाला परिवार के साथ हूं। हरियाणा के ताऊ देवीलाल एक शख्सियत ही नहीं एक संस्था थे। पूर्व सीएम प्रकाश सिंह बादल ने भरी सभा में हाथ जोड़ते हुए चौटाला परिवार को एक हो जाने की अपील करते हुए कहा कि कोई भी सरकार आपको हिला नहीं सकती यदि आप इकट्ठे हो जाएं। 
... और पढ़ें
पंजाब के पूर्व सीएम प्रकाश सिंह बादल और ओपी चौटाला पंजाब के पूर्व सीएम प्रकाश सिंह बादल और ओपी चौटाला

साइंस टीचर ने लैब में छात्रा से किया छेड़छाड़, अकेले मिलने को कहा, दबोचा गया

कालांवाली के एक गांव के सरकारी स्कूल में साइंस टीचर ने साइंस लैब में दसवीं की छात्रा से छेड़छाड़ की और उसे अकेले में मिलने आने के लिए कहा। छात्रा ने बाहर आकर अन्य अध्यापकों को इस बारे में जानकारी दी। हालांकि शुरुआत में कुछ स्टाफ सदस्यों ने दोनों पक्षों में समझौता करवाने का प्रयास किया। लेकिन छात्रा के अभिभावकों ने पुलिस में इसकी शिकायत दी।

मामले की सूचना मिलने पर खंड शिक्षा अधिकारी हरमेल सिंह द्वारा जांच की गई। हरमेल सिंह ने अपनी जांच रिपोर्ट में साइंस टीचर को दोषी पाया और उच्चाधिकारियों से अध्यापक को निलंबित करने की अनुशंसा की गई है। आरोपी साइंस टीचर के खिलाफ पुलिस में पोक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया गया। आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया। वहीं छात्रा को चाइल्ड वेलफेयर कमेटी के समक्ष पेश किया गया और छात्रा की काउंसिलिंग की गई।

कालांवाली के एक गांव के सरकारी स्कूल की छात्रा द्वारा साइंस अध्यापक पर छेड़छाड़ का आरोप लगाया गया। पुलिस में दर्ज एफआईआर के अनुसार छात्रा ने बताया कि शिक्षक ने 20 अगस्त को उसे साइंस लैब में बुलाया और उससे छेड़छाड़ की। वह रोने लग गई। साइंस अध्यापक ने उसे किसी को घटना की जानकारी न देने की धमकी दी।
... और पढ़ें

अव्यवस्थाओं पर नेशनल कॉलेज में विद्यार्थियों ने किया कक्षाओं का बहिष्कार

नेशनल कॉलेज में बीते दिन पढ़ाई के दौरान पंखा गिरने से 5 विद्यार्थियों को चोट लगने के मामले में बुधवार को कॉलेज विद्यार्थियों ने कक्षाओं का बहिष्कार करते हुए कॉलेज प्रशासन के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया।
विद्यार्थियों का कहना है कि पिछले काफी समय से कॉलेज में पंखों व वाटर कूलर की परेशानी को लेकर कॉलेज प्राचार्य को अवगत करवा चुके हैं। बीते दिन हुई घटना के कुछ घंटे पहले ही विद्यार्थी द्वारा प्राचार्य के गैर हाजिरी में उनके पीए को ज्ञापन सौंपा था। ज्ञापन सौंपने के एक घंटे बाद ही विज्ञान संकाय में कक्षा लगा रहे विद्यार्थियों के ऊपर पंखा गिर गया।
छात्र पंकज खिचड़, संदीप जाखड़, रवि छिंपा, अंकित मेहता, मनोज वर्मा, अमित सहारण, राज वाल्मीकि ने कहा कि बार-बार कॉलेज प्रशासन को समस्याओं से अवगत करवाने के बाद भी कॉलेज प्रशासन की कार्य की रफ्तार धीमी चल रही है। इसी कारण कॉलेज में यह हादसा हुआ। विद्यार्थियों ने कॉलेज प्रशासन के विरोध स्वरूप कक्षाओं का बहिष्कार किया। कॉलेज प्राचार्य ने विद्यार्थियों को बातचीत के लिए बुलाया। विद्यार्थियों का कहना था कि कॉलेज की कक्षाओं में लगे पंखे कंडम हैं। जो कक्षाओं में पंखे लगे हैं वे मॉडल ही बंद हो गए हैं।
प्रिंसिपल ने छात्रों से कंडम पंखों की सूची मांगी
प्राचार्य ने कहा कि मुझे उन कक्षाओं की सूची बनाकर दें जिनमें पंखे कंडम हैं। उसी सूची को बिजली कर्मचारी को देंगे ताकि पंखों को ठीक किया जा सके। छात्रों ने कहा कक्षाओं में तारों की रिपेयर करके उसे खुला छोड़ दिया जाता है। उन्हें ठीक प्रकार से कवर तक नहीं किया जाता। अगर किसी विद्यार्थी के साथ दुर्घटना होती है तो उसका जिम्मेवार कौन होगा। प्राचार्य ने कहा कि एक हफ्ते में सभी समस्याओं का हल हो जाएगा। कक्षाओं के पंखों को बदलने की जरूरत है तो बदल दिया जाएगा।
छात्रों द्वारा कक्षाओं में लगे खराब पंखों की सूची तैयार कर दी जाएगी। उसी सूची के अनुसार कार्य किया जाएगा। अगर पंखों को बदलने की जरूरत पड़ी तो उन्हें बदल दिया जाएगा।
- राम कुमार जांगड़ा, प्राचार्य नेशनल कॉलेज, सिरसा। ... और पढ़ें

कोर्ट चुनाव में बाजवा और ईसी चुनाव में हुड्डा को मिले सबसे ज्यादा वोट

सीडीएलयू में मंगलवार को कार्यकारी परिषद (ईसी) और कोर्ट के चुनाव संपन्न हुए। कोर्ट के चुनावों में मास कम्युनिकेशन विभाग के प्राध्यापक डॉ. सेवा सिंह बाजवा को सबसे अधिक 31 मत मिले। जबकि कार्यकारी परिषद के चुनावों में डॉ. शैलेंद्र हुड्डा को सबसे अधिक 25 मत मिले। कुल 38 प्राध्यापकों ने मतदान में भाग लिया। लेकिन एक प्राध्यापक का बेल्ट पेपर रद्द कर दिया गया। ऐसे में 37 प्राध्यापकों के मतों की गणना हुई। कोर्ट के चुनाव में एक प्राध्यापक अधिकतम पांच को वोट डाल सकता है।
मंगलवार को सीडीएलयू में कोर्ट और कार्यकारी परिषद के चुनावों में करीब 42 असिस्टेंट और एसोसिएट प्रोफेसर के पास मतदान का अधिकार था। इसमें से करीब 38 ने मतदान किया। रजिस्ट्रार राकेश वधवा रिटर्निंग ऑफिसर थे। उनकी देखरेख में चुनाव शुरू हुए। वोटिंग सुबह दस बजे शुरू हुई और एक बजे तक हुई। करीब दो बजे चुनाव परिणाम घोषित किए गए। कोर्ट के पांच सदस्यों में डॉ. सेवा सिंह को सबसे अधिक 31, डॉ. नीलम कुमारी को 29, डॉ. संदीप को 27, डॉ. रणजीत कौर को 26 मत और डॉ. अंजू दलाल को 20 मत हासिल हुए। ये पांचों सदस्य कोर्ट के चुने गए। जबकि मुकेश गर्ग को 19 मत मिले। सबसे कम मत होने के कारण वे हार गए। विश्वविद्यालय कोर्ट में बजट पास किया जाता है। पिछले वित वर्ष का लेखा जोखा भी प्रस्तुत किया जाता है।
ईसी के सदस्य बने शैलेंद्र हुड्डा और ईश्वर मलिक
कार्यकारी परिषद के दो सदस्यों के चुनाव के लिए शैलेंद्र हुड्डा, ईश्वर मलिक, हरीश कुमार और संजू बाला चुनावी मैदान में है। रिजल्ट में डॉ. शैलेंद्र हुड्डा को 25, डॉ. ईश्वर मलिक को 22, डॉ. संजू बाला को 15 और डॉ. हरीश रोहिल को 13 मत मिले। डॉ. शैलेंद्र हुड्डा और डॉ. ईश्वर मलिक ईसी के सदस्य चुने गए। ईसी के चुनाव में एक प्राध्यापक अधिक से अधिक दो को वोट डाल सकता है। कार्यकारी परिषद विश्वविद्यालय की सुप्रीम बॉडी होती है, जिसमें टीचिंग और नान टीचिंग की पदोन्नति, नीतिगत फैसले किए जाते हैं। कार्यकारी परिषद की साल में कम से कम दो मीटिंग जरूरी होती हैं। कोर्ट की मीटिंग साल में एक बार अवश्य होनी चाहिए।
चुनाव शांतिपूर्ण संपन्न हुए। सभी सदस्यों ने पूरा सहयोग दिया। कुल 38 ने वोटिंग में हिस्सा लिया। लेकिन एक प्राध्यापक का मत रद्द कर दिया गया।
- राकेश वधवा, रजिस्ट्रार, सीडीएलयू। ... और पढ़ें

शिक्षा निदेशालय ने डीईओ को स्कूल प्रिंसिपल और दो अध्यापकों पर एफआईआर दर्ज करवाने के दिए निर्देश

शहर के एक सरकारी स्कूल में पढ़ने वाली छात्रा और स्कूल के ही एक शिक्षक के मोबाइल फोन पर अश्लील बातचीत का ऑडियो वायरल होने के मामले में नया मोड़ आया है। शिक्षा निदेशालय ने जिला शिक्षा अधिकारी को स्कूल प्राचार्य अनिल गुप्ता तथा शिक्षक फूल सिंह, प्रवीण कुमार के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाने के निर्देश दिए हैं। हालांकि आरोपी शिक्षक प्रवीण कुमार के खिलाफ पहले ही मामला दर्ज हो चुका है। शिक्षा निदेशालय ने मंगलवार को जिला शिक्षा विभाग के पास पत्र भेज दिया है। शिक्षा निदेशालय ने ये निर्देश एसडीएम द्वारा डीसी के माध्यम से भेजी गई रिपोर्ट के आधार पर लिया है। मामले में आरोप था कि स्कूल प्रिंसिपल ने शिकायत पर संज्ञान लेने में देरी बरती थी। जबकि दूसरे अध्यापक फूल सिंह की भूमिका भी संदिग्ध पाई गई थी।
यह था मामला
शहर के एक स्कूल में पढ़ने वाली छात्रा और स्कूल के ही एक शिक्षक प्रवीण कुमार के साथ अश्लील ऑडियो वायरल होने के मामले की जांच करने के लिए डीसी सिरसा के निर्देश पर पांच अगस्त को एसडीएम सिरसा शालिनी चेतल और जिला शिक्षा अधिकारी राजेश चौहान स्कूल में पहुंची। इस दौरान उन्होंने स्कूल प्रिंसिपल, स्कूल स्टाफ सदस्यों, स्कूल की कक्षा नौंवी से बारहवीं तक की छात्राओं के बयान दर्ज किए। वहीं इस दौरान जिला बार कौंसिल के पूर्व प्रधान जीपीएस किंगरे ने लोगों के साथ स्कूल में धरना दिया और आरोपी अध्यापक के खिलाफ पुलिस कार्रवाई के लिए एसपी और डीसी को लिखा। आरोपी शिक्षक प्रवीण कुमार के खिलाफ पोक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया था। ... और पढ़ें

नशा तस्करों की शिकायत दी तो पार्षद पर किया हमला

शहर के नगर पार्षद संदीप वर्मा संजू को सरकार की ओर से चलाई जा रही मुहिम के तहत नशे के खिलाफ आवाज उठाना उस समय महंगा पड़ा, जब उसी के वार्ड के ही एक युवक ने दो अन्य युवकों को साथ लेकर उन पर हमला कर दिया। वार्डवासियों नेे शोर सुनकर नगर पार्षद को बचाया।
वार्डवासियों ने एकत्रित होकर वार्ड में बढ़ रहे नशों के कारोबार पर कोई कार्रवाई न करने की बात कहते हुए पुलिस प्रशासन के प्रति नाराजगी व्यक्त की और नगर पार्षद पर हमला करने वाले आरोपियों को जल्द गिरफ्तार कर सख्त कार्रवाई की मांग की।
नगर पार्षद संदीप वर्मा संजू ने बताया कि सरकार की ओर से देश व प्रदेश में नशे के खिलाफ मुहिम चलाई जा रही है। उसी से प्रेरित होकर उन्होंने भी अपने शहर व वार्ड को नशा मुक्त बनाने का निर्णय ले रखा है। उन्होंने गत 8 जुलाई को उनके वार्ड के नशा तस्करों का नाम थाना प्रभारी और एसटीएफ सिरसा को भेजकर कार्रवाई की मांग की थी।
नगर पार्षद संदीप वर्मा संजू ने पुलिस को दी गई शिकायत में बताया कि शिकायत के बाद से उनके वार्ड निवासी एक युवक उससे रंजिश रखने लगा। वह रोजाना की तरह सैर करके सुबह करीब 7:45 बजे पर जैसे की अपने घर के पास पहुंचा। इस दौरान उसके पड़ोस में ही रहने वाले एक युवक ने अपने दो अन्य युवकों को साथ लेकर उस पर डंडों व तलवार से हमला कर दिया। शोर सुनकर बाहर आए लोगों की ओर से बचाव करने पर नगर पार्षद को कोई गंभीर चोट नहीं आई। तुरंत कालांवाली पुलिस को सूचित किया गया। घटना के बाद हमलावर अपनी बाइक मौके पर छोड़कर भाग गए। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर घटनाक्रम का जायजा लिया और नगर पार्षद संदीप वर्मा संजू की शिकायत के आधार पर बाइक को कब्जे में लेकर आरोपियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई शुरू की।
हमले के बाद वार्डवासियों ने पुलिस प्रशासन के प्रति नाराजगी जताई। लोगों ने कहा कि उनके वार्ड नंबर 5 और 6 में सरेआम नशे का कारोबार किया जाता है। पुलिस प्रशासन की ओर से नशा तस्करों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की जा रही।
नगर पार्षद संदीप वर्मा की ओर से पुलिस को कुछ लोगों की ओर से मारपीट की शिकायत दी गई है। शिकायत के आधार पर पुलिस ने कानूनी कार्रवाई शुरू कर दी है। मैंनें अभी ही कार्यभार संभाला है। जल्द ही नशामुक्त अभियान के तहत शहर व क्षेत्र से नशों के कारोबार पर अंकुश लगाया जाएगा और नशों में संलिप्त कारोबारियों पर सख्त कार्रवाई कर जेल भेजा जाएगा।
कृष्ण कुमार, थाना प्रभारी कालांवाली ... और पढ़ें

मूक-बधिर नाबालिग से छेड़छाड़ और अपहरण के दोषी को पांच साल की सजा

अतिरिक्त सेशन जज डॉ. चंद्रा हास की अदालत ने 11 साल की मूक बधिर नाबालिग के अपहरण और पोक्सो एक्ट में दोषी पाए जाने पर आरोपी विक्रम कुमार को पांच-पांच साल की सजा सुनाई है। साथ ही दोनों धाराओं में दस-दस हजार रुपये जुर्माना किया है। जुर्माना न भरने पर उसे एक माह अतिरिक्त कारावास भुगतना पड़ेगा। दोनों सजाएं एक साथ ही चलेंगी। दोषी विक्रम कुमार बिहार के जिला सहरसा का रहने वाला है और हाल निवासी शमशाबाद पट्टी का है।
27 जून 2018 को पुलिस में दर्ज करवाई शिकायत अनुसार जिले के एक गांव की एक महिला ने बताया कि उसके तीन बच्चे हैं। सबसे बड़ी बेटी 11 साल की है। 26 जून 2018 को शाम करीब चार बजे उसकी बड़ी लड़की घर के कुछ दूरी पर फोटो स्टूडियो से अपने भाई की फोटो लेकर वापस आ रही थी। रास्ते में कुल्फी वाला मिला। लड़की ने पांच रुपये कुल्फी वाले को दिए और कुल्फी ली। कुल्फी वाला बेटी को साथ ही एक खाली मकान में जबरदस्ती ले गया। तभी खाली मकान का मालिक पाला सिंह का बेटा अमरीक सिंह आ गया। उसने देखा उसके पुराने मकान के समाने कुल्फी की रेहड़ी खड़ी है और रेहड़ी पर कोई मौजूद नहीं है। अमरीक सिंह ने मकान के अंदर जाकर देखा तो रेहड़ी वाले युवक विक्रम कुमार ने उसकी बेटी को जबरदस्ती पकड़ा हुआ था। अमरीक सिंह ने नाबालिग को कुल्फी वाले विक्रम कुमार से छुड़वाया और उसे घर लेकर आया। आरोपी विक्रम वहां से भाग गया। महिला की शिकायत पर पुलिस ने ड्यूटी मजिस्ट्रेट के समक्ष पीड़ित के बयान दर्ज करवाए तो पीड़ित नाबालिग ने इशारों से पूरी घटना की जानकारी दी। अदालत ने आरोपी विक्रम कुमार को दोषी मानते हुए मंगलवार को उसे दोषी करार देते हुए सजा सुनाई। ... और पढ़ें

सीवरेज लाइन की सफाई में आ रही थी परेशानी, दो नए मैनहोल बनाए

शहर के रानियां रोड पर गुरुद्वारा चिल्ला साहिब के सामने धंसी सड़क के बाद सीवरेज लाइन की मरम्मत के लिए जन स्वास्थ्य विभाग ने हिसार से बड़ी पोक्लेन मशीन बुलाई है। सीवरेज की सफाई को लेकर हो रही परेशानी के कारण बीते दिन धंसी सड़क के बराबर में दो अतिरिक्त मैनहोल बनाए हैं। सोमवार को एसडीएम शालिनी चेतल ने मौके पर पहुंच कर स्थिति का जायजा लिया।
एसडीएम करीब 15 मिनट तक वहां पर रुकीं और डीसी के निर्देश पर बनाई गई पांच सदस्यीय टीम को मंगलवार शाम तक रिपोर्ट देने के निर्देश दिए। एसडीएम शालिनी चेतल ने अधिकारियों को जल्दी काम खत्म करने के निर्देश दिए ताकि आमजन को समस्या न हो। इस मौके पर नगर परिषद के कार्यकारी अभियंता सुमित मलिक, एमई निजेश, जनस्वास्थ्य विभाग के कार्यकारी अभियंता होशियार सिंह भी उपस्थित थे।
बीते दिन रविवार को शहर के गुरुद्वारा चिल्ला साहिब के सामने करीब 15 फुट तक सड़क धंस गई थी। सड़क धंसने का कारण सीवरेज लाइन की ब्लॉकेज रही। बीते दिन से एक जेसीबी मशीन सफाई कर रही थी। साथ ही सुपर सकर मशीन भी सीवरेज की सफाई में लगी हुई है। लेकिन 72 इंच चौड़ी और 22 फुट गहरी पाइप लाइन की सफाई का काम जेसीबी मशीन से नहीं हो रहा था। ऐसे में जनस्वास्थ्य विभाग ने सोमवार को बड़ी पोक्लेन मशीन बुलाई गई। जनस्वास्थ्य विभाग ने रानियां रोड पर बनी कालोनियों के सीवरेज पानी की निकासी के लिए वाल्मीकि चौक पर पंप लगा दिए हैं।
पोक्लेन मशीन से मिलेगी राहत
जन स्वास्थ्य विभाग ने सीवर की खुदाई तथा सफाई के लिए एक पोक्लेन मशीन हिसार से मंगवाई है। यह मशीन करीब 20 फुट गहराई तक जाकर सीवरेज के अंदर से मलबा और गंदगी उठा लेगी। जबकि सामान्य जेसीबी मशीन केवल चार से पांच फुट तक ही मलबा उठा पा रही थी।
डेयरियों के कनेक्शन काटने के लिए बनाई लिस्ट
रानियां रोड पर गुरुद्वारा चिल्ला साहिब के आसपास पास की कालोनियों में 53 डेयरियां चल रही हैं। इन पशु डेयरियों के गोबर के कारण सीवरेज पाइप लाइन में लीकेज हुई और सड़क धंस गई। ऐसे में डीसी के निर्देश पर जनस्वास्थ्य विभाग ने डेयरी संचालकों के सीवरेज के कनेक्शन काटने के लिए सोमवार को लिस्ट तैयार कर ली है। विभाग आने वाले एक दो दिन में पशु डेयरियों को नोटिस जारी करेगा और फिर कनेक्शन काटने शुरू किए जाएंगे। सीवरेज का लगभग 100 फुट का टुकड़ा ब्लॉक हुआ पड़ा है।
नप ने डीसी को भेजी अपनी रिपोर्ट
नप ने डीसी अशोक कुमार गर्ग को अपनी रिपोर्ट भेज दी है। जिसमें लिखा है कि सड़क की तीन परत हैं। तीनों परतें ठीक हैं। सीवरेज के कारण ही सड़क का टुकड़ा धंसा है।
सीवरेज की सफाई के लिए लाइन लंबी ज्यादा होने के कारण सफाई करने में परेशानी हो रही थी। जिस कारण से दो और अतिरिक्त मैनहोल बनाए जा रहे हैं। इससे तीन मैनहोल होने से सफाई करने में कर्मचारियों को कोई परेशानी नहीं होगी और सीवरेज सफाई का काम जल्दी होगा।
- होशियार सिंह, कार्यकारी अभियंता, जन स्वास्थ्य विभाग, सिरसा। ... और पढ़ें

भौतिक सत्यापन करने गईं एसडीएम शहर में टूटी सड़कें देख हुईं नाराज

नगर परिषद के हाउस द्वारा पास की गई 327 गलियों में से 239 गलियों की फिजिबिलिटी रिपोर्ट चेक करने के लिए डीसी अशोक कुमार गर्ग के निर्देश पर एसडीएम शालिनी चेतल ने मंगलवार को शहर के विभिन्न वार्डों का दौरा किया। उनके साथ नगर परिषद के कार्यकारी अभियंता सुमित मलिक, एमई निजेश और क्लर्क ओमप्रकाश भी शामिल थे। पहले दिन करीब 60 गलियों की फिजिबिलिटी रिपोर्ट चेक की गई। दूसरे दिन भी गलियों की फिजिबिलिटी चेक की जाएगी। बता दें कि ये गलियां एक वर्ष पहले हाउस ने पास की थी।
एसडीएम शालिनी चेतल ने मंगलवार को शहर के वार्ड 6, 9, 11, 12, 19, 20 की गलियों की फिजिबिलिटी रिपोर्ट चेक की। एसडीएम ने बारीकि से गलियों का निरीक्षण किया। उन्होंने नप अधिकारियों को कहा कि इन गलियों को एस्टीमेट तैयार करके जल्द से जल्द उनको बिल की एक कॉपी भेजें। कल्याण नगर में गली का निरीक्षण करते समय एसडीएम ने अधिकारियों से पूछा कि गली बीच में से टूटी हुई क्यों है। इस पर नप अधिकारियों ने कहा कि यह जन स्वास्थ्य विभाग के कर्मियों ने पाइपें दबाते समय गली उखाड़ी थी और अभी तक इसको पूरा नहीं किया है। साथ ही जनस्वास्थ्य विभाग ने इसके लिए अनुमति भी नहीं ली। इस पर एसडीएम ने कहा कि मुझे कोई लॉजिक नहीं समझना। अगर जन स्वास्थ्य विभाग ने गली को उखाड़ा है तो इसमें आपकी जिम्मेदारी बनती है कि उनको ठीक करने के लिए कहें। अगर जन स्वास्थ्य विभाग ने सड़क की मरम्मत नहीं करवाई तो आप लोगों ने बैठक में इस मुद्दे को क्यों नहीं उठाया। इसके साथ ही गली की भी मरम्मत करवाओ। लोगों को असुविधा का सामना करना पड़ रहा है। एसडीएम ने नगर परिषद के अधिकारियों से रिपोर्ट मांगी कि शहर में जितने भी वार्डों में जनस्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी सड़कों की खुदाई बिना अनुमति के कर रहे हैं, इसकी रिपोर्ट बनाकर उन्हें भेजें।
डीसी ने शहर में सर्वे के दिए आदेश
डीसी अशोक कुमार गर्ग ने नगर परिषद के अधिकारियों को शहर में जनस्वास्थ्य विभाग द्वारा सड़कों की खुदाई और पाइप लाइन दबाने के लिए उखाड़ी गई सड़कों की रिपोर्ट मांगी है। नप को पूरे शहर का सर्वे करने के निर्देश दिए हैं। नप की एमई शाखा ने इसके लिए सक्षम युवाओं की टीम तैयार करने का फैसला लिया है। एक दो दिन में ये सक्षम युवा शहर की गलियों में जनस्वास्थ्य विभाग द्वारा किए जा रहे कार्यों का निरीक्षण करके करने में जुट जाएंगे।
327 में से 88 गलियों के टेंडर 23 अगस्त को खुलेंगे
नप द्वारा बीते वर्ष पास की गई 327 गलियों में से 88 गलियों के टेंडर सात अगस्त को लगाए गए थे। ये टेंडर 23 अगस्त को खोले जाएंगे। ये 88 गलियां 11 वार्डों की थी। ऐसे में अभी भी 239 गलियों की फिजिबिलिटी रिपोर्ट चेक करनी शेष हैं।
अभी गलियों का निरीक्षण किया जा रहा है। इसलिए अभी कुछ नहीं कहा जा सकता।
- शालिनी चेतल, एसडीएम, सिरसा। ... और पढ़ें

कार्यकारी परिषद और कोर्ट की दो-दो सीटों के लिए चुनाव आज

सीडीएलयू में मंगलवार को कार्यकारी परिषद (ईसी) और कोर्ट के चुनाव होने जा रहे हैं। ऐसे में अंतिम दिन उम्मीदवारों ने एसोसिएट और असिस्टेंट प्रोफेसरों से अपने पक्ष में मतदान करने की अपील की। कोर्ट और कार्यकारी परिषद के चुनावों में करीब 42 असिस्टेंट और एसोसिएट प्रोफेसर मतदान करेंगे। चुनावों को लेकर रजिस्ट्रार राकेश वधवा ने एसपी को सुरक्षा उपलब्ध करवाने के निर्देश दिए हैं ताकि किसी प्रकार का हंगामा न हो।
सीडीएलयू कोर्ट में पांच सदस्यों का चयन होना है। पांच में से दो एसोसिएट प्रोफेसर का बनना जरूरी है। दो पदों के लिए पांच उम्मीदवार चुनाव मैदान में है। जिसमें कि रणजीत कौर, डॉ. नीलम कुमारी, मुकेश गर्ग, डॉ. सेवा सिंह बाजवा, डॉ. अंजू ने नामांकन दाखिल किया है। इसी प्रकार से कार्यकारी परिषद के दो सदस्यों के चुनाव के लिए शेलेंद्र हुड्डा, ईश्वर मलिक, हरीश कुमार और संजू बाला चुनावी मैदान में है। चुनाव सुबह दस से एक बजे तक होंगे।
चार साल बाद हो रहे हैं चुनाव
सीडीएलयू कोर्ट और कार्यकारी परिषद के चुनाव करीब चार सालों के बाद हो रहे हैं। कार्यकारी परिषद विश्वविद्यालय की सुप्रीम बॉडी होती है, जिसमें कि टीचिंग और नान टीचिंग की पदोन्नति, नीतिगत फैसले किए जाते हैं। कार्यकारी परिषद की साल में कम से कम दो मीटिंग जरूरी होती हैं। इसी प्रकार से विश्वविद्यालय कोर्ट में बजट पास किया जाता है। पिछले वित्त वर्ष का लेखा-जोखा भी प्रस्तुत किया जाता है। कोर्ट की मीटिंग साल में एक बार अवश्य होनी चाहिए। यदि बजट सही तरीके से खर्च न किया जाए तो कोर्ट उस बिल को पास नहीं करती।
वोटिंग सुबह दस बजे से एक बजे तक सीवी रमन भवन के कमेटी हॉल में होगी। मतदान केंद्र और शांतिपूर्ण चुनावों के लिए सुरक्षा की लिहाज से एसपी को पत्र लिखा है।
- राकेश वधवा, रजिस्ट्रार, सीडीएलयू। ... और पढ़ें

रिअपीयर वाले विद्यार्थी ले सकते हैं स्नातकोत्तर के पाठ्यक्रर्मो में दाखिला

चौधरी देवी लाल विश्वविद्यालय सिरसा के कुलपति प्रो विजय कायत ने पांचवें व छठे सेमेस्टर में स्नातक स्तर पर रिअपीयर वाले विद्यार्थियों के हित में निर्णय लेते हुए शैक्षणिक सत्र 2019-20 के लिए विश्वविद्यालय के दूरस्थ शिक्षा केंद्र के माध्यम से स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों में दाखिला देने की अनुमति प्रदान की।
दूरस्थ शिक्षा निदेशालय की निदेशक प्रो मोनिका वर्मा ने बताया कि स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों में दाखिला लेने के इच्छुक विद्यार्थियों की स्नातक स्तर पर उस विषय में रिअपीयर नहीं होनी चाहिए। चौधरी देवी लाल विश्वविद्यालय के दूरस्थ शिक्षा निदेशालय के उपनिदेशक डॉ. सुल्तान ढांडा ने कहा कि आगामी 31 अगस्त 2019 तक 1000 रुपये लेट फीस के साथ विद्यार्थी दूरस्थ शिक्षा निदेशालय के विभिन्न पाठ्यक्रमों के लिए आवेदन कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि निदेशालय द्वारा बीए, बीकॉम, बीसीए, बीएमसी के अतिरिक्त अनेक विषयों में डिप्लोमा कोर्स करवाए जाते हैं। उन्होंने कहा कि इसके अतिरिक्त 11 विषयों में स्नातकोत्तर के पाठ्यक्रम निदेशालय द्वारा चलाए जा रहे हैं। इन पाठ्यक्रमों में एमए इंग्लिश, एमए एजुकेशन, पंजाबी, संस्कृत, इतिहास, हिंदी, पत्रकारिता एवं जनसंचार शामिल हैं। ... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree