डीसी ने दिए निर्देश: स्कूल बसों की करनी होगी नियमित चैकिंग

Rohtak Bureau Updated Thu, 08 Feb 2018 01:36 AM IST
अमर उजाला ब्यूरो
झज्जर।
उपायुक्त सोनल गोयल ने कहा कि जिले की मुख्य मार्गों से जोड़ने वाली संपर्क सड़कों पर ब्रेकर बनाना सुनिश्चित करें। ताकि सड़क दुर्घटनाओं पर अंकुश लग सके। उन्होंने कहा कि ब्लाइंड मोड़ की पहचान करते हुए वहां सूचनात्मक बोर्ड लगाया जाए। उपायुक्त बुधवार को झज्जर लघु सचिवालय कांफ्रेंस हाल में सड़क सुरक्षा पॉलिसी के तहत संबंधित विभागीय अधिकारियों की बैठक ले रही है। उपायुक्त ने राष्ट्रीय राजमार्ग, राजमार्ग सहित अन्य विभागों के मार्गों पर सड़कों को दुरुस्त करने के निर्देश दिए तथा कहा कि सड़कों पर सफेद पट्टी लगवाने के साथ ही भारी वाहनों के पीछे रिफ्लेक्टर लगाने को कहा।
उन्होंने जिले के उपमंडल के सभी एसडीएम को पुलिस विभाग के साथ संयुक्त टीम बनाते हुए स्कूल वाहनों की जांच करें तथा यह देखें की सीसीटीवी कैमरे वाहन में चालू हालत में हों साथ ही 15 दिन की सीसीटीवी फुटेज भी स्टोर का रिकार्ड अपडेट रखवाएं। स्कूल बसों का उचित रखरखाव के साथ-साथ चालक व परिचालक निर्धारित मैनुअल के अनुसार वर्दी में होने चाहिए। बस में महिला हेल्पर, आपातकालीन द्वार चालू हालत में तथा अग्निशमन यंत्र भी अवश्य होने चाहिए। उन्होंने कहा कि किसी भी स्तर पर अगर नीति का उल्लंघन पाया गया तो संचालक के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने यातायात पुलिस को निर्देश दिए कि सड़क पर परिचालन के दौरान बसों में उपलब्ध सुविधाओं की जांच करें।
उन्होंने आरटीए विभाग के अधिकारियों से कहा कि स्टेट हाइवे, राष्ट्रीय हाइवे पर अवैध कब्जों को हटाने के लिए विशेष अभियान चलाया जाएगा। ओवर लोडिड वाहनों पर निगरानी रखने के निर्देश दिए। उन्होंने लोक निर्माण विभाग (सड़क व भवन) विभाग के अधिकारियों से कहा कि सड़क पर साइन बोर्ड और स्पीड ब्रेकर नियमानुसार होने चाहिए। स्पीड ब्रेकर से पहले सड़क पर ब्रेकर साइन जरूरी है ताकि वाहन चालक सतर्कता व सावधानी के साथ अपना सफर सुरक्षित पूरा कर सकें।
इस अवसर पर एसडीएम झज्जर रोहित यादव, एसडीएम बहादुरगढ़ जगनिवास, एसडीएम बादली त्रिलोक चंद, सीटीएम अश्विनी कुमार सहित जिला के पुलिस यातायात अधिकारियों सहित सीएम यातायात सहयोगी गोपाल धवन उपस्थित रहे।

Spotlight

Most Read

National

पश्चिम बंगाल में निर्भया कांड, दो सर्जरी के बाद बची पीड़िता की जान

पश्चिम बंगाल के दक्षिण दिनाजपुर में एक निर्भया कांड जैसा मामला सामने आया है।

20 फरवरी 2018

Related Videos

डॉक्टर साहब गए आराम फरमाने, गार्ड ने ऐसे किया इलाज

हरियाणा के सिरसा में एक डॉक्टर की संवेदनहीनता देखने को मिली। यहां पर डॉक्टर साहब घायल शख्स का इलाज करने के बजाय आराम फरमाने चले गए। जिसके बाद मौके पर मौजूद एक सफाईकर्मी ने घायल शख्स को टांके लगाए।

19 सितंबर 2017

Switch to Amarujala.com App

Get Lightning Fast Experience

Click On Add to Home Screen