विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
सुखी वैवाहिक जीवन के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में कराएं राधा-कृष्ण युगल पूजा, 24 अगस्त को
Astrology Services

सुखी वैवाहिक जीवन के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में कराएं राधा-कृष्ण युगल पूजा, 24 अगस्त को

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

हरियाणाः रेवाड़ी में दो बच्चों को लेकर नहर में कूदी पुलिसकर्मी की पत्नी, महिला-बेटे का शव मिला

हरियाणा से बड़ी खबर आ रही है। रेवाड़ी में एक पुलिसवाले की पत्नी अपने दो बच्चों को लेकर नहर में कूद गई।

21 अगस्त 2019

विज्ञापन
विज्ञापन

झज्जर/बहादुरगढ़

बुधवार, 21 अगस्त 2019

रेलवे ट्रैक पर जाने से रोका तो किसानों ने केएमपी फ्लाईओवर के नीचे शुरू किया धरना

हरियाणा स्वाभिमान आंदोलन के तहत आसौदा में रेलवे ट्रैक बाधित करने जा रहे आंदोलनकारी किसानाें को रेलवे ट्रैक से 100 मीटर पहले पुलिस ने रोक दिया। इसके बाद किसान वहीं पर धरने पर बैठ गए। प्रशासनिक अधिकारियों की ओर से काफी समझाने के बाद भी किसान अपनी मांग पर अड़े रहे। बोले कि अगर रात दस बजे तक स्थानीय प्रशासन उनकी मुख्यमंत्री के साथ बैठक सुनिश्चित नहीं कराता है तो 15 अगस्त को वे तिरंगा थामकर रेलवे ट्रैक पर बैठ जाएंगे। सुबह 4 बजे से ही बड़ी संख्या में किसान रेलवे ट्रैक के पास जुट गए। सुबह करीब सात बजे जब आसौदा में रेलवे ट्रैक के नजदीक पहुंचे तो लाइन से 100 मीटर पहले ही पुलिस ने इनको रोक लिया। ऐसे में किसानों ने आसौदा-रोहतक मार्ग पर केएमपी फ्लाईओवर के नीचे धरना शुरू कर दिया। आंदोलन का नेतृत्व कर रहे रमेश दलाल ने बताया कि जब तक प्रशासन व पुलिस बल मौके पर मौजूद है, किसान रेलवे ट्रैक को नहीं रोकेंगे तथा पुलिस बल के जाते ही किसान रेलवे ट्रैक को रोकने का काम करेंगे। ऐसे में अब किसानों दिन रात वहीं रुकने का फैसला कर लिया है।
अधिकारियों की एक भी नहीं सुनीं
मामले की गंभीरता को देखते हुए दोपहर करीब डेढ़ बजे झज्जर उपायुक्त संजय जून, एसएसपी अशोक कुमार, एसडीएम तरुण पावरिया सहित अन्य अधिकारी मौके पर पहुंचे और किसानों से बातचीत की। शाम तक अधिकारी किसानों को समझाते रहे लेकिन किसान अपनी बात पर अड़े रहे। आसौदा थाना पुलिस व राजकीय रेलवे पुलिस भी पूरी तरह से मुस्तैद रही।
किसान बोले, आज रेलवे ट्रैक पर बैठ जाएंगे
किसान नेता रमेश दलाल ने बताया कि झज्जर उपायुक्त को स्पष्ट शब्दों में कहा गया है कि आंदोलन की जो मांगें उनके अधिकार क्षेत्र में आती हैं उसके लिए वह जल्द निर्णय करके बताए। बाकी मांगों के लिए मुख्यमंत्री व उच्च अधिकारियों से 15 अगस्त को ही वार्ता सुनिश्चित करके बताए। किसानों के प्रतिनिधिमंडल व मुख्यमंत्री के बीच 15 अगस्त को वार्ता का समय निश्चित करने के लिए उपायुक्त को रात्रि तक का समय दिया गया है। अगर रात्रि 10 बजे तक उन्हें सरकार या झज्जर उपायुक्त से मुख्यमंत्री व अन्य उच्च अधिकारियों से 15 अगस्त की वार्ता को लेकर कोई सकारात्मक जवाब नहीं मिला तो किसान 15 अगस्त को तिरंगा हाथ में लेकर रेलवे ट्रैक पर जा कर बैठ जाएंगे। ... और पढ़ें

स्वतंत्रता दिवस समारोह की फाइनल रिहर्सल

उपमंडल स्तरीय 73वां स्वतंत्रता दिवस समारोह 15 अगस्त को शहर के डॉ. भीमराव आंबेडकर स्टेडियम परिसर में देशभक्ति से ओतप्रोत सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ मनाया जाएगा। उपमंडल स्तरीय स्वतंत्रता दिवस समारोह की फाइनल रिहर्सल हुई। रिहर्सल में तहसीलदार बंसीलाल ने डीएसपी अजायब सिंह के साथ राष्ट्रीय ध्वजारोहण किया। मार्च पास्ट की टुकड़ियों की सलामी ली।
फाइनल रिहर्सल में स्कूली बच्चों ने एक से बढ़ कर एक सांस्कृतिक कार्यक्रम पेश किए। अनेकता में एकता की मिसाल के तौर पर देश की विभिन्न संस्कृतियों का संजीदा कार्यक्रम स्कूली बच्चों की ओर से पेश किए। तहसीलदार बंसीलाल ने बताया कि स्वतंत्रता दिवस समारोह के पावन पर्व पर एसडीएम तरुण कुमार पावरिया बतौर मुख्य अतिथि के तौर पर शिरकत करेंगे। तहसीलदार ने फाइनल रिहर्सल पर तमाम कार्यक्रमों की समीक्षा करते हुए निर्देश दिए कि स्वतंत्रता दिवस हमारा राष्ट्रीय त्यौहार है। डीएसपी अजायब सिंह ने भी परेड कमांडर को बेहतर प्रदर्शन के लिए दिशा-निर्देश दिए। समारोह में जिला पुलिस, एनसीसी सीनियर विंग, जूनियर विंग, एसआई सतीश की देखरेख में तैयार एसपीओ, स्काउट गाइडस व बाल भारती स्कूज के बैंड का प्रदर्शन रहेगा। समारोह में स्वतंत्रता सेनानियों, युद्ध विरांगनाओं सहित विभिन्न क्षेत्र में सराहनीय प्रदर्शन करने वालों को भी सम्मानित किया जाएगा। इस अवसर पर नायब तहसीलदार जगबीर सिंह, खंड शिक्षा अधिकारी डॉ. हरीश डागर, एआईपीआरओ दिनेश कुमार, एएसआर विनोद कुमार, रावमावि के प्राचार्य रमेश सिंहमार, राकवमावि प्राचार्या तारांवती, प्रवक्ता अमित दलाल, पवन काजला, सहायक मनमोहन, कविता सहरावत और सुमित्रा तेवतिया आदि उपस्थित रहे। ... और पढ़ें

किसान आज रोक सकते हैं रेल

बहादुरगढ़ ब्लॉक को रेजिडेंशियल जोन की घोषणा, केएमपी एक्सप्रेस-वे से बहादुरगढ़-झज्जर रोड पर प्रवेश और निकास एंट्री सहित राष्ट्रीय राजमार्ग 352ए में जमीन अधिग्रहण का उचित मुआवजा आदि मांगों को लेकर रमेश दलाल के नेतृत्व में हरियाणा स्वाभिमान आंदोलन चलाया जा रहा है। अब आंदोलन में सरकार को मांगे मानने के लिए दी गई समय सीमा समाप्त हो गई है।
गौरतलब है कि आंदोलन में सरकार को 13 अगस्त तक का समय दिया था तथा मांगे ना माने जाने की स्थिति में 14 अगस्त से बहादुरगढ़, जुलाना व दादरी में रेल रोकने की चेतावनी दी गई थी। ऐसे में अब सरकार द्वारा कोई सकारात्मक जवाब न मिलने के कारण आंदोलन कर रहे लोगों ने रेल रोकने की तैयारी शुरू कर दी है। इसी को लेकर मंगलवार को गांव मांडौठी में पंचायत बुलाई गई। पंचायत की अध्यक्षता दलाल खाप चौरासी के प्रधान चौ. भूप सिंह दलाल ने की। किसान नेता रमेश दलाल ने बताया कि आंदोलन में दी गई रेल रोकने की चेतावनी पर वह यथावत अडिग है तथा रेल रोकने की पूरी रणनीति तैयार कर ली गई है।
रमेश दलाल का कहना है कि स्वाभिमान आंदोलन में रेल रोकने के फैसले को देश भर के विभिन्न किसान संगठनों व 224 महिला संगठनों ने समर्थन किया है। बताया जा रहा है कि रेल रोको कार्यक्रम में अगर सरकार द्वारा कोई भी अत्याचार किया तो 15 अगस्त को विभिन्न किसान संगठन देशभर में 62 जगह रेलों को रोक देंगे, जिसके लिए स्वाभिमान आंदोलन के वालंटियर्स दो दिन पहले ही विभिन्न किसान संगठनों के पास पहुंच चुके है तथा तय किए गए 62 बिंदुओं पर डेरा डाल लिया गया है। रमेश दलाल ने बताया कि सिर्फ किसान संगठन ही नहीं 224 महिला संगठनों ने भी जिम्मेदारी ली है। मांडौठी पंचायत में आसपास के क्षेत्र के सभी गांव के अलावा रईया गांव व सोनीपत जिले में मंडोरा, जाहरी और रसोई गांव में चल रहे हरियाणा स्वाभिमान आंदोलन के धरने से भी बड़ी संख्या में लोग पहुंचे थे। पंचायत में सभी लोगों ने 14 अगस्त को रेल रोकने के फैसले का समर्थन किया। ... और पढ़ें

डेंगू के 20 संभावित केस मिलने के बाद भी मात्र सात गांवों में हुई फॉगिंग

लगातार तीन दिन तक रुक-रुक कर हुई बारिश के बाद एक बार मौसम खुल गया है। मौसम खुलने के बाद मच्छरों की भरमार हो गई है। मौसम में नमी की मात्रा बरकरार है। यह मौसम मच्छरों के लिए पूरी तरह से अनुकूल है। इस समय लोगों को पूरी तरह से सावधानी बरतने की आवश्यकता है। क्योंकि इस मौसम में सावधानी नहीं बरती गई तो लोग मच्छर जनित बीमारियों के शिकार हो सकते हैं। जिले में अब तक मच्छर जनित बीमारियों पर काबू पाने के लिए मात्र सात गांवों में ही स्वास्थ्य विभाग की तरफ से फॉगिंग करवाई गई है। जबकि जिला में 250 ग्राम पंचायत और 262 गांव हैं। इन गांवों में फॉगिंग करवाने की जिम्मेदारी ग्राम पंचायतों को दी गई है। उसके बाद भी गांवों में फॉगिंग नहीं की गई है। जिले में अब तक 20 डेंगू संभावित मरीज पाए जा चुके हैं। वहीं 10 मरीज मलेरिया पॉजिटिव मिल चुके हैं। जहां पर मलेरिया पॉजिटिव मरीज पाए गए हैं। वहां पर डेल्टा मैथरिन दवाई का छिड़काव भी करवाया गया है। जबकि डेंगू संभावित मरीजों के गांवों में फॉगिंग करवाई गई है। जबकि शहरी क्षेत्र में नगरपालिकाओं और नगर परिषद को जिम्मेदारी सौंपी गई है। झज्जर में नगर पालिका की तरफ से कई हिस्सों में फॉगिंग करवाई जा चुकी है।
60023 मरीजों की बनाई स्लाइड
स्वास्थ्य विभाग की ओर से अस्पतालों में आने वाले बुखार के हर मरीज की स्लाइड बनाई जाती है। विभाग की तरफ से अब तक 60023 मरीजों की स्लाइड बनाई गई हैं। इनकी जांच के दौरान दस मरीज मलेरिया पॉजिटिव पाए गए हैं। मलेरिया की जांच के लिए सभी पीएचसी, सीएचसी और सामान्य अस्पतालों में विभाग की तरफ से सुविधा मुहैया कराई गई है। जबकि इस बार ग्रामीण क्षेत्र में कार्यरत 854 आशा वर्कर्स को भी विशेषतौर पर मलेरिया की जांच के लिए स्लाइड बनाने का प्रशिक्षण दिया गया है। जो गांवों में बुखार के मरीजों की स्लाइड बनाती हैं।
लोगों को सलाह दी जाती है कि वे इस मौसम में पूरी तरह से सावधानी बरतें। पूरे शरीर को ढकने वाले कपड़े पहनें और बच्चों को भी पहनाएं। मच्छरदानी का भी प्रयोग करें और अपने घरों के आसपास पानी जमा न रहने दें। साफ-सफाई का पूरा ध्यान रखें। बुखार की शिकायत होते ही चिकित्सक से इलाज लें।
डॉ. संजीव हसीजा, एमडी फिजिशियन, सामान्य अस्पताल, झज्जर।
फिलहाल जिले में स्थिति पूरी तरह से काबू में है। अब बारिश रुकने के बाद पानी जमा होने पर मच्छर फैलने की संभावना बढ़ जाती है।
डॉ. कुलदीप सिंह, डीएमओ, झज्जर। ... और पढ़ें

बिजली कट से परेशान तीन गांव के लोगों ने दो घंटे तक लगाया जाम

उपमंडल के गांव वजीरपुर, भागलपुरी, बाघपुर में पिछले करीब एक सप्ताह से बिजली की आंख मिचौली से परेशान ग्रामीणों ने मंगलवार रात करीब साढ़े 8 बजे बेरी के हाई स्कूल के सामने जाम लगा दिया। हाई स्कूल के सामने जाम लगाने की सूचना मिलने के बाद बेरी शहर चौकी व बेरी थाने से पुलिस की टीम चौक पर पहुंची और जाम खुलवाने का प्रयास किया गया। लेकिन ग्रामीणों ने एक नहीं सुनी और कहा कि संबंधित निगम के अधिकारी के मौके पर आए और ठोस आश्वासन के बाद ही जाम खोला जाएगा। पुलिस टीम ने जाम की सूचना बेरी डीएसपी नरेश कुमार को दी। सूचना मिलने के बाद डीएसपी नरेश कुमार ग्रामीणों के बीच गए और ग्रामीणों को समझाने का प्रयास किया लेकिन ग्रामीणों ने उनकी एक भी नहीं सुनी। जाम लगाने के कुछ देर बाद निगम के एसडीओ हेमंत जून व बेरी तहसीलदार सुदेश मेहरा मौके पर पहुंचे और ग्रामीणों को समझाया। दो घंटे बाद बिजली निगम के एसडीओ और तहसीलदार के आश्वासन पर लोगों ने जाम खोल दिया।
लग गई वाहनों की कतार
जाम लगाने के कारण चारों तरफ वाहनों की लंबी-लंबी लाइनें लग गई। जाम लगाने वाले ग्रामीणों का कहना था कि बिजली की समस्या के बारे में कई बार एकत्रित होकर निगम के कार्यालय में अधिकारियों को अवगत करा चुके हैं लेकिन निगम के अधिकारियों का रटा-रटाया जवाब यही होता है कि कट लगाने के आदेश उच्च अधिकारियों के हैं। लेकिन ग्रामीणों का सब्र का बांध टूट गया और गुस्साएं ग्रामीणों ने बेरी के हाई स्कूल चौक पर जाम लगा दिया। जाम लगाने के कारण बेरी-जहाजगढ मार्ग, बेरी-झज्जर, बेरी- भिवानी, मार्ग पर वाहनों की लंबी लाईनें लग गई। ग्रामीणों का कहना है कि गांव में मीटर घरों के बाहर लगाने का कार्य निगम द्वारा किया जा रहा है ओर बाहर मीटर बाहर लगाने के बाद भी निगम गांव में बिजली की सप्लाई नहीं दे रहा है।
जाम लगाने के बाद पुलिस रूट डायवर्ट
बेरी के हाई स्कूल चौक पर जाम लगाने के बाद पुलिस ने रूट डायवर्ट कर दिया। जिससे कुछ बड़े वाहन तो जाम में फंसे रहे। करीब साढ़े 10 बजे ग्रामीणों को बिजली चालू की गई ओर जाम खुलवाया गया।
बिजली ने बिगड़ा पानी का शेड्यूल
ग्रामीणों का कहना था कि गांव में बिजली समय पर न आने से पानी का शेड्यूल भी बिगड़ा हुआ है, जब विभाग द्वारा गांव में पानी की सप्लाई की जाती है तो बिजली नहीं होती। इससे गांव में पीने के पानी की समस्या भी बनी हुई है। निगम के अधिकारी शेड्यूल कट के अलावा भी लाईन में फाल्ट का बहाना बना कर गांव में कई-कई घंटे तक बिजली की सप्लाई काट लेते है ओर बाद में उसे एडजस्ट नहीं किया जाता है।
जाम लगने की सूचना पर मौके पर गए थे। ग्रामीणों को बिजली सप्लाई के लिए आश्वस्त कर जाम खुलवा दिया गया है।
हेमंत जून, एसडीओ, बिजली निगम। ... और पढ़ें

सांखोल में महिला और युवक झुलसे, युवक पीजीआई रेफर

गांव सांखोल में सोमवार की दोपहर संदिग्ध परिस्थितियों में एक विवाहिता व युवक झुलस गया। युवक को पीजीआई रोहतक रेफर किया गया है, जबकि विवाहित नागरिक अस्पताल में उपचारधीन है। दोनों के झुलसने का कारण स्पष्ट नहीं हो पाया है। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है। दोपहर करीब पौने चार बजे पहले तो झुलसा युवक अजय नागरिक अस्पताल में भर्ती हुआ। इसके कुछ ही देर बाद परिजन विवाहिता सुमन को अस्पताल में लेकर आए। एक साथ झुलसे हुए दो केस आए तो स्वास्थ्य कर्मियों में भी हड़कंप मच गया। दोनों को प्राथमिक उपचार दिया। युवक के हाथ, कमर, कंधे व छाती सहित कई अंग झुलसे हुए थे, उसे पीजीआई रोहतक रेफर कर दिया गया। सूचना मिलते ही सेक्टर छह थाने से पुलिस अस्पताल में पहुंची और झुलसी विवाहित के बयान लिए। विवाहिता ने बयान दिया कि दोपहर को वह घर में काम कर रही थी। इसी दौरान गैस सिलिंडर में आग लग गई, जिससे वह झुलस गई। इस बयान के आधार पर सेक्टर छह पुलिस ने घटना को इत्तफाक मानकर कार्रवाई की है। जानकारी के मुताबिक, उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले का निवासी नरेंद्र अपनी पत्नी सुमन के साथ पिछले कुछ समय से बहादुरगढ़ के गांव सांखोल में रहता है। यूपी के ही फिरोजाबाद का निवासी अजय इनके मकान के ऊपरी तल पर रहता है। चर्चा तो ये है कि झगड़े के चलते ये दोनों झुलसे हैं लेकिन विवाहिता, विवाहिता के पति या पुलिस आदि किसी ने भी इसकी पुष्टि नहीं की है। झुलसे हुए युवक अजय के अभी बयान नहीं हो पाए हैं।
सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंच गई थी। विवाहिता ने गैस सिलिंडर में आग लगने ने झुलसने का बयान दिया है। उस आधार पर कार्रवाई की गई है। अजय के बयान अभी नहीं हो पाए हैं।
जयपान, जांच अधिकारी, सेक्टर छह थाना। ... और पढ़ें

जगमग हुए 21 गांव, मिलने लगी 24 घंटे बिजली

उत्तर हरियाणा बिजली वितरण निगम की ओर से जिले के गांवों को भी शहरी तर्ज पर बिजली उपलब्ध कराने के लिए तेजी से काम शुरू कर दिया है। जिले की 21 गांवों को जगमग कर दिया गया है। इन गांवों के करीब 40 हजार लोगों को म्हारा गांव जगमग गांव योजना का लाभ मिलने लगा है। जल्दी ही बेरी डिविजन के करीब आठ बिजली फीडर इस माह के अंत तक योजना में शामिल किए जाने की संभावना है। बिजली निगम की ओर से योजना के तहत सभी घरों से बिजली के मीटर घरों के बाहर निकाल कर उनको खंभों पर लगाया गया है। वहीं बिजली चोरी रोकने के लिए एबी केबल भी लगाई गई है। इन गांवों में बिजली निगम की तरफ से सभी लाइनों के खुले तार भी हटाए गए हैं। जिन गांवों को अब योजना में शामिल किया जा रहा है। उन गांवों में मीटर बदलने के साथ-साथ तार बदलने का कार्य भी तेजी से किया जा रहा है।
अब ये है निगम का लक्ष्य
जिले में 15 अगस्त को 21 गांवों में शहरी तर्ज पर बिजली आपूर्ति चालू कर दी गई है। जिले के 262 गांवों को म्हारा गांव जगमग गांव योजना में शामिल करने के लिए उत्तर हरियाणा बिजली वितरण निगम की तरफ से प्रयास किए जा रहे हैं। 31 अगस्त तक 25 नए गांवों को जोड़ने की योजना पर कार्य चल रहा है तथा साल के अंत तक सभी गांवों में कार्य को पूरा करने का टारगेट भी रखा गया है।
ये फीडर किए जगमग योजना में शामिल
जिले के ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को बिजली आपूर्ति मुहैया कराने के लिए 315 बिजली फीडर पावर हाउसों से निकाले गए हैं। इन में से आठ फीडरों को म्हारा गांव जगमग गांव योजना में शामिल कर दिया गया है। इनमें डावला, रेढूवास, तलाव, सुर्खपुर, सेहलंगा, बाकरा, दुजाना, मलिकपुर-वन फीडर शामिल किए गए हैं।
इन गांवों में शुरू हुई 24 घंटे बिजली आपूर्ति
जिले के डावला, बाबरा, खाजपुर, रणखंडा, रेढूवास, फतेहपुरी, कन्हवा, नवादा, चढ़वाना, तलाव, खेड़ी खुम्मार, सुर्खपुर, जौंधी, राूपुरा, गिरावड़, दुजाना, बीड़ सुनारवाला, बाकरा, चमनपुरा, सेहलंगा और मातनहेल गांव का मलिकपुर वन फीडर पर लगने वाले हिस्से को 24 घंटे बिजली आपूर्ति मुहैया करानी शुरू कर दी गई है।
झज्जर जिला के 21 गांवों को म्हारा गांव जगमग गांव योजना के तहत शहरी तर्ज पर बिजली आपूर्ति मुहैया कराना शुरू कर दिया है। जबकि कई फीडरों पर काम चल रहा है।
संदीप जैन, एसई, उत्तर हरियाणा बिजली वितरण निगम, झज्जर। ... और पढ़ें

जहर निगलकर महिला ने की आत्महत्या, पांच के खिलाफ केस दर्ज

कलोई गांव में एक महिला ने ससुराल पक्ष के लोगों से परेशान होकर जहर निगल लिया। इससे महिला की मौत हो गई। घटना की सूचना पुलिस को दी गई। पुलिस ने मौका मुआयना करने के बाद आगामी कार्रवाई शुरू कर दी है। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सामान्य अस्पताल भिजवाया। वहीं मृतका के भाई के बयान पर उसकी ससुराल पक्ष के पांच लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। फिलहाल तक पुलिस किसी भी आरोपी की गिरफ्तारी नहीं कर पाई थी। जानकारी के अनुसार दिल्ली के कैर गांव निवासी अंकित पुत्र जगदीश का कहना है कि करीब छह साल पहले उसकी बहन प्रीति की शादी कलोई गांव निवासी पवन के साथ हुई थी। शादी के बाद से ही उसके ससुराल पक्ष के लोग उसे दहेज के लिए परेशान करने लगे। कई बार समझाने के बाद भी जब उसके परिजन बाज नहीं आए तो उसने जहर निगलकर जान दे दी। घटना की सूचना पुलिस को भी दी गई। पुलिस ने सूचना मिलते ही मौके पर पहुंच कर घटना स्थल का जायजा लिया। जहां से शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सामान्य अस्पताल में भिजवाया और सोमवार को सामान्य अस्पताल में शव का पोस्टमार्टम करवाने के बाद मृतका के परिजनों को सौंप दिया है। पुलिस ने मृतका के भाई के बयान पर उसके पति पवन, सास पूर्ति व तीन ननदों के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया है।
पुलिस ने मामले की गहनता से जांच शुरू कर दी है। जल्द ही आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।
रूपेश कुमार, पुलिस चौकी प्रभारी, दुलीना। ... और पढ़ें

राकेश ने साउथ अफ्रीका की चोटी किलिमंजारो पर फहराया तिरंगा

गांव सिवाना के भिवानी जेल में वार्डन राकेश कादयान ने साउथ अफ्रीका की सबसे ऊंची चोटी किलिमंजारो पर सबसे कम समय में पर तिरंगा फहरा कर स्वर्णिम इतिहास लिखा है और भारत का नाम रोशन किया है। मात्र 15 घंटे 53 मिनट में साउथ अफ्रीका की बर्फीली पर्वत चोटी किलिमंजारो पर 15 अगस्त को राष्ट्रीय ध्वज फहरा कर राकेश कादयान ने सबसे कम समय में साउथ अफ्रीका की चोटी पर सबसे ऊंची चोटी पर तिरंगा फहराने का रिकॉर्ड अपने नाम किया है।
किलिमंजारो पर स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर 15 अगस्त को भारतीय राष्ट्रीय ध्वज फहरा कर लौटे राकेश कादयान का पैतृक गांव सिवाना में रविवार को जोरदार स्वागत किया गया। भिवानी में जेल वार्डन के पद पर सेवारत राकेश विभिन्न राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर की दौड़ स्पर्धाओं में गोल्ड मेडल जीत चुके हैं। 40 वर्षीय राकेश कादयान के साथी मुकेश राजौतिया ने बताया कि सबसे कम समय में राकेश ने साउथ अफ्रीका की सबसे ऊंची चोटी किलिमंजारो पर भारतीय ध्वज फहराकर कीर्तिमान बनाया है। मूल रूप से साधारण किसान परिवार से संबंध रखने वाले राकेश कादयान के बड़े भाई संजय हरियाणा पुलिस में एएसआई हैं, जबकि छोटा भाई राजीव खेती बाड़ी करता है। पिता संघड़ भी गांव में खेती बाड़ी करते हैं। बचपन से ही खेलों में रुचि रखने वाले राकेश कादयान ने साउथ अफ्रीका की पर्वत चोटी पर सबसे कम समय में भारतीय राष्ट्रीय ध्वज फहराने का संकल्प लिया था, जिसे 15 अगस्त को राकेश ने पूरा किया है। गांव पहुंचने पर राकेश का ग्रामीणों द्वारा रविवार को गर्मजोशी के साथ स्वागत किया गया। ... और पढ़ें

बिजली बिल क्लेक्शन कर्मियों से लूटे डेढ़ लाख

थाना साल्हावास के अंतर्गत आने वाले गांव खाचरौली के पास बिजली बिल क्लेक्शन कर्मियों से लुटेरों ने डेढ़ लाख रुपये छीन लिए। बदमाशों की संख्या दो थी और वह बगैर नंबर की एक स्पलेंडर बाइक पर सवार होकर आए थे। लुटेरों ने हथियारों के बल पर लूट की इस वारदात को अंजाम दिया। सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची और मामले की छानबीन करने के साथ लुटेरों को काबू करने के लिए चारों तरफ की नाकाबंदी भी की, लेकिन लुटेरे पुलिस को गच्चा देने में कामयाब रहे। पुलिस मामले के हर पहलू को लेकर घटना की जांच कर रही है। पुलिस से मिली जानकारी अनुसार साल्हावास के गांव बिरोहड़ का प्रवीण पुत्र राजकुमार व भूरावास गांव निवासी दीप
पुत्र ज्ञानचंद बिजली विभाग के बिल वितरण व कैश क्लेक्शन करने वाली टीडीएस कंपनी में काम करते है। दोनों रविवार को खाचरौली, बिरोहड़ व अन्य गांव में बिजली बिल क्लेक्शन के लिए अपनी कार में निकले थे। पुलिस को दी शिकायत में उक्त दोनों कर्मियों का कहना है कि उन्होंने डेढ़ लाख रूपए बिजली बिल क्लेक्शन भी कर लिए थे। जब वह खाचरौली से बिरोहड़ गांव में बिजली बिल क्लेक्शन करने के लिए जा रहे थे तो उसी दौरान ही एक बगैर नंबर की स्पलेंडर बाइक पर आए और ओवरटेक कर उनकी कार को रूकवा लिया। शिकायतकर्ताओं का कहना है कि इससे पहले कि वह कुछ समझ पाते लुटेरों ने हथियार निकाल लिया और उनकी कार में रखे रुपये छीनकर आरोपी फरार हो गए। घटना की सूचना उसी समय पुलिस को दी गई। सूचना मिलते ही झज्जर अपराध शाखा के इंचार्ज योगेश हुड्डा व साल्हावास थाना इंचार्ज पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे और मामले की छानबीन की।
घटना में उलझे हैं कई पेंच
लूट की वारदात में अभी काफी पेंच उलझे हुए हैं। जब कैश लेकर कार में जा रहे कर्मियों के सामने बाइक लगाई तो उन्होंने बचाव का प्रयास क्यों नहीं किया। वहीं कार की चाबी भी आरोपी युवक उनसे छीनकर नहीं ले गए। ऐसे में काफी सवाल हैं जो कि पुलिस विभाग को भी सोचने पर मजबूर किए हुए हैं।
मामले की सूचना पर मौके का निरीक्षण किया जा चुका है। अभी मामला दर्ज नहीं किया गया है, जांच की जा रही है। जांच के दौरान जिस प्रकार की स्थिति सामने आई, उसके आधार पर कार्रवाई की जाएगी। - सुुरेश हुड्डा, एसएचओ, झज्जर। ... और पढ़ें

खाद्य आपूर्ति विभाग की टीम ने की छापेमारी, पकड़े 40 गैस सिलेंडर

शहर में रसोई गैस की कालाबाजारी के गोरखधंधे पर अंकुश लगाने के लिए शनिवार को खाद्य आपूर्ति विभाग की टीम ने शनिवार को शहर में कई स्थानों पर छापे मारे। टीम ने 40 रसोई गैस सिलिंडर बरामद किए हैं। पिछले काफी समय से शहर के कई हिस्सों में रसोई गैस के सिलिंडरों से छोटे सिलिंडर भरने का गोरखधंधा चल रहा था।
दुकानदार रसोई गैस के सिलिंडरों से अवैध रूप से छोटे सिलिंडर भर कर महंगे भाव में बचे रहे हैं। जिससे बड़ी दुर्घटना होने का खतरा भी बना हुआ हैै। शहर के विभिन्न हिस्सों में और भीड़ भाड़ वाले क्षेत्रों में यह गोरखधंधा धड़ल्ले से चल रहा है। खासकर लघु सचिवालय के निकट जहां पर जिला प्रशासन के आला अधिकारी भी अकसर गुजरते रहते हैं। लेकिन प्रशासन या संबंधित विभाग के अधिकारी इस तरफ कोई ध्यान नही दे रहे थे। जब खाद्य आपूर्ति विभाग के मुख्यालय से इस बारे में जब छापामारी करने के आदेश आए तो खाद्य आपूर्ति विभाग की टीम लघु सचिवालय से निकल कर छापे मारी करने के लिए बाजार में पहुंची और एक के बाद एक 12 दुकानों पर छापे मारे गए। इस अभियान के बारे में जब दुकानदारों को पता चला तो काफी दुकानदारों ने तो सिलिंडर उठा कर छुपा दिये और कुछ ने अपनी दुकानों के शटर डाउन कर दिये और वे इधर उधर खिसक गए। छापे मारने आई टीम के चले जाने के बाद दुकानें वापस खोल ली गई। सहायक खाद्य आपर्ति अधिकारी अशोक कुमार के नेतृत्व में टीम का गठन किया गया। इस टीम में निरीक्षक अमरजीत सिंह, गोरखनाथ, सुनील कुमार, रवि कुमार, साहिल आदि शामिल थेे।
कई स्थानों पर अवैध रूप से भरे जाते हैं छोटे सिलिंडर
शहर में एक नहीं अनेक स्थानों पर रसोई गैस के सिलेंडरों में से छोटे सिलेंडर भरने का अवैध कारोबार चल रहा है। शहर के सिलानी गेट क्षेत्र, छावनी मोहल्ला, आंबेडकर चौक, बादली रोड सहित विभिन्न स्थानों पर छोटे सिलेंडर रखे देखे जा सकते हैं। छोटे सिलिंडरों में तीन से पांच किलोग्राम गैस भरी जाती है और उसके तीन ढाई से चार सौ रुपये तक वसूल किये जाते हैं। वहीं जिन लोगों के पास रसोई गैस सिलिंडर नहीं हैं, उन लोगों को ब्लैक में भी रसोई गैस सिलिंडर बेचे जा रहे हैं।
बिना मार्का के के छोटे सिलेंडरों की बाजार में भरमार
शहर के बाजारों में दुकानों पर छोटे रसोई गैस सिलिंडर सजे देखे जा सकते हैं। बिना मार्का और बिना अनुमति के इन सिलिंडरों का अवैध कारोबार चल रहा है। क्षेत्र में बड़ी संख्या में ईंट भट्ठे हैं। इन पर काम करने वाली हजारों की संख्या में लेबर दूसरे राज्यों से आती है। वे अधिकांश लोग छोटे गैस सिलिंडरों का ही प्रयोग करते हैं और उनमें गैस खत्म होने पर वे दुकानदारों से ही अपने छोटे सिलिंडर भरवाते हैं। आज छापामारी अभियान के दौरान दुकानदारों के पास रखे विभिन्न कंपनियों के सिलिंडर उठाकर गैस एजेंसियों में तो जमा करवा दिये लेकिन गोरखधंधे में शामिल लोगों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई। इतना ही नहीं अवैध रूप से दुकानों पर जो सिलिंडर सजाए गए हैं, उन सिलिंडरों के लिए चेतावनी दी गई है कि इन सिलिंडरों को दुकानों से हटा लें अन्यथा उन्हें भी जब्त कर लिया जाएगा।
जिले की गैस एजेंसियों पर पांच किलोग्राम वाले छोटे रसोई गैस सिलिंडर उपलब्ध करवाए गए हैं। जिन्हे एजेंसियों से ही भरवाया जा सकता है। लेकिन उसके बावजूद भी छोटे सिलिंडरों का अवैध कारोबार धड़ल्ले से चल रहा है। रसोई गैस की कालाबाजारी रोकने के लिए मुख्यालय के आदेश पर छापे मारे गए। 40 रसोई गैस सिलिंडर गोदामों पर जमा करवा दिये गए हैं। जिनकी रिपोर्ट मुख्यालय को भेज दी गई है। - अशोक शर्मा, डीएफएससी, झज्जर। ... और पढ़ें

कार-बाइक की टक्कर में एक की मौत, पिता-पुत्री सहित तीन घायल

नेशनल हाईवे 71ए पर बिरधाना मोड़ के पास एक कार और बाइक की टक्कर हो गई। टक्कर के बाद कार सड़क के साथ खाई में पलट गई। टक्कर में बाइक चालक की मौत हो गई। जबकि उसकी पत्नी व कार में सवार पिता-पुत्री घायल हो गए। घायलों को सामान्य अस्पताल में भर्ती कराया गया।
वहां से महिला की गंभीर हालत को देखते हुए रोहतक पीजीआई रेफर कर दिया है। घटना की सूचना पुलिस को भी दी गई। सूचना मिलते ही दुजाना पुलिस मौके पर पहुंची और मौका मुआयना करने के बाद आगामी कार्रवाई शुरू कर दी है। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर सामान्य अस्पताल के शव गृह में रखवा दिया है।
पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार नौरंगपुर गांव निवासी रमेश अपनी पत्नी रेखा के साथ बाइक पर सवार होकर डीघल गांव में गया था। बताया जा रहा है कि रमेश की बहन डीघल गांव में शादीशुदा है और वह पिछले दिनों सड़क दुर्घटना में घायल हो गई थी। रमेश अपनी पत्नी रेखा के साथ अपनी बहन से मिलने के लिए डीघल गांव गए थे। जब वे बहन से मिलकर अपने घर आ रहे थे तो बिरधाना मोड़ के पास एक कार ने उनकी बाइक को टक्कर मार दी। टक्कर में रमेश की पत्नी रेखा और कार में सवार जैतपुर गांव निवासी सुनील पुत्र रामकुमार व उसकी पुत्री सिया घायल हो गए। घायलों को राहगीरों की मदद से जब सामान्य अस्पताल लाने के लिए गाड़ी में सवार किया जा रहा था तो उस दौरान ही रमेश ने भी मौके पर ही दम तोड़ दिया। उसके बाद तीनों घायलों को सामान्य अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां से चिकित्सकों ने रेखा की गंभीर हालत को देखते हुए उसे रोहतक पीजीआई रेफर कर दिया। घटना की सूचना मिलते ही मृतक के परिजन भी सामान्य अस्पताल में पहुंच गए थे। जबकि घटना की सूचना राहगीरों की तरफ से पुलिस को भी दी गई।
सड़क से दस मीटर दूर गिरी कार
हादसे के समय कार चालक ने अपना नियंत्रण खो दिया तथा कार ने चार पलटे खाए। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार कार सड़क से करीब दस मीटर की दूरी पर जा गिरी। हादसे के दौरान सभी को लगा कि शायद अब कार में सवार लोग नहीं बचेंगे। हादसे के तुरंत बाद सभी लोग दौड़कर मौके पर पहुंचे व घायलों को कार से बाहर निकाला।
शव को सामान्य अस्पताल में रखवा दिया है। कार चालक के खिलाफ मामला दर्ज कर आगामी कार्रवाई शुरू कर दी है। सोमवार को शव का पोस्टमार्टम करवाया जाएगा। - प्रह्लाद सिंह, जांच अधिकारी पुलिस थाना, दुजाना।
खाई में गिरी कार।
खाई में गिरी कार।- फोटो : Jhjhar
... और पढ़ें

फुटबाल खेलते वक्त हुई अफ्रीकी छात्र की मौत

गांव सराय औरंगाबाद स्थित पीडीएम यूनिवर्सिटी में पढ़ रहे अफ्रीकी छात्र की फुटबाल खेलते वक्त मौत हो गई। मौत का कारण हृदय घात बताया जा रहा है, लेकिन पुष्टि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही हो पाएगी। फिलहाल पुलिस ने पोस्टमार्टम के लिए शव नागरिक अस्पताल के शवगृह में रखवा दिया है और घाना एंबेसी को सूचना दे दी है।
दरअसल, पश्चिमी अफ्रीका के देश घाना का निवासी 22 वर्षीय अतुले इम्मानुए भारत में पढ़ने लिए आया हुआ था। वह बहादुरगढ़ के सराय औरंगाबाद स्थित पीडीएम यूनिवर्सिटी में बीए इकोनॉमिक्स सेकेंड इयर का छात्र था। शुक्रवार की सायं वह यूनिवर्सिटी के मैदान में फुटबाल खेल रहा था। फुटबाल को किक लगाते वक्त वह अचानक गिरकर अचेत हो गया। सहपाठियों ने उसे संभाला और निजी अस्पताल में ले गए। वहां डॉक्टरों ने उपचार के दौरान उसे मृत घोषित कर दिया। सूचना मिलते ही सेक्टर छह थाने से पुलिस मौके पर पहुंची और तफ्तीश शुरू की। शव को अपने कब्जे में लेकर नागरिक अस्पताल ले गई।
शनिवार को सेक्टर छह पुलिस ने घाना एंबेसी को सूचना दी। यूनिवर्सिटी व सेक्टर छह थाने के पुलिस कर्मी एंबेसी भी गए। शाम तक एंबेसी से कोई अधिकारी यहां नहीं पहुंचा था। मामले के जांच अधिकारी पवन कुमार ने बताया कि फिलहाल घटना को इत्तफाक मानकर कार्रवाई की गई है। मौत का कारण हृदय घात हो सकता है, असल पुष्टि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद हो जाएगी। परिजनों के आने के बाद शव का पोस्टमार्टम होगा। मामले की तह तक जाने के लिए गंभीरता से जांच जारी है। ... और पढ़ें

रेलवे रोड पर गिरा 100 साल पुराना नीम का पेड़, दबने से छह घायल

बहादुरगढ़। रेलवे रोड पर एक पुराना नीम का पेड़ उखड़कर गिर गया। पेड़ गिरने से तीन बच्चों समेत 6 लोग दबकर घायल हो गए। सभी घायलों को पीजीआई रोहतक रेफर किया गया है। जानकारी के मुताबिक, यह पेड़ करीब 100 साल पुराना था। काफी विशालकाय होने के कारण झुका हुआ था। जड़ें भी कमजोर हो चुकी थीं। तीन दिन पहले ही यहां के दुकानदारों ने वन विभाग को पेड़ की हालत की सूचना दी थी लेकिन विभाग ने इस ओर संज्ञान नहीं लिया। वीरवार की शाम पांच बजकर 10 मिनट पर पेड़ गिर गया। वहां से गुजर रहे रंजय, कमलेश, कमलेश का एक वर्षीय बेटा उनित, 9 वर्षीय बादल, छह वर्षीय साजन व राजन आदि घायल हो गए। घायलों को नागरिक अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां से उन्हें पीजीआई रोहतक रेफर कर दिया गया। पेड़ के पास खड़े कुछ वाहन व रेहड़ियां भी दबकर क्षतिग्रस्त हो गईं। पूरा मार्ग बाधित हो गया, जिस कारण काफी देर तक लोगों को परेशानी हुई। बता दें कि रेलवे रोड शहर का सबसे व्यस्तम क्षेत्र है। हर वक्त यहां भीड़भाड़ रहती है। गनीमत रही कि बड़ा हादसा टल गया। पुुराने पेड़ गिरने पर सामाजिक संगठनों के कार्यकर्ताओं ने भी दु:ख जताया है। रमेश राठी, ऋषि, सतीश आदि ने कहा कि दशकों तक यह पेड़ लोगों को छाया देता रहा। कंक्रीट की सड़क होने के कारण इसकी जड़ों को पानी नहीं मिल पाया और यह गिर गया। वन विभाग को भी मामले की जांच करनी चाहिए।
.................
मामला संज्ञान में आ गया है। पेड़ कैसे और किन कारणों के चलते गिरा, इसकी जांच की जाएगी।
-श्रीभगवान, रेंज आफिसर, वन विभाग, बहादुरगढ़। ... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree