बिजनौर में तमंचा बनाने की फैक्टरी पकड़ी, मौके से चार आरोपी दबोचे, असलहा बरामद

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, बिजनौर Updated Sun, 27 Sep 2020 07:14 PM IST
विज्ञापन
मामले की जानकारी देते पुलिस अधिकारी
मामले की जानकारी देते पुलिस अधिकारी - फोटो : अमर उजाला

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
बिजनौर में स्वाट टीम व शहर कोतवाली पुलिस ने धर्मनगरी जाने वाले रास्ते पर छापा मारकर अवैध शस्त्र बनाने की फैक्टरी पकड़ी। पुलिस ने मौके से चार लोगों को दबोचा है। फैक्टरी से सात बने व एक अधबना तमंचा और शस्त्र बनाने के उपकरण बरामद किए गए हैं। फैक्टरी में 315 बोर के 202 कारतूस भी मिले हैं। इतने कारतूस फैक्टरी चलाने वाले ने किन लाइसेंसी शस्त्र धारकों से लिए, इसकी जांच शुरू करा दी गई है। 
विज्ञापन

एसपी डॉ. धर्मवीर सिंह के मुताबिक स्वाट टीम व शहर कोतवाली पुलिस ने बैराज रोड से गांव धर्मनगरी को जाने वाले रास्ते पर ईंख के खेत में अवैध शस्त्र बनाने की फैक्टरी पकड़ी है। फैक्टरी से सात बने व एक अधबना 315 बोर का तमंचा, शस्त्र बनाने के उपकरण और अन्य सामान बरामद किए हैं। पुलिस ने फैक्टरी से 315 बोर के 202 कारतूस भी बरामद किए हैं। 
पुलिस ने अमरोहा जिले के अमरोहा देहात थाना क्षेत्र के गांव नारायणपुर निवासी सतपाल, धामपुर थाने के गांव तिबड़ी निवासी इतेंद्र, अफजलगढ़ की डूग कॉलोनी निवासी सुहैल उर्फ सोनू व नूरपुर थाने के गांव पुरैना निवासी अतुल को दबोचा है। एसपी ने बताया कि जिले में अवैध शस्त्र के क्रय और विक्रय अभियान के तहत यह फैक्टरी पकड़ी गई है। 
यह भी पढ़ें: बड़ी कार्रवाई: योगी सरकार का माफिया के खिलाफ शिकंजा, कुख्यात योगेश भदौड़ा की संपत्ति भी कुर्क

आरोपी सतपाल ने पुलिस को बताया कि कारतूस अतुल उपलब्ध कराता था। अतुल के पास से 120 कारतूस मिले हैं। चारों आरोपियों ने पुलिस को बताया कि आगामी चुनाव के मद्देनजर जिले में अवैध असलहों की मांग तेजी से बढ़ गई थी। वह तमंचे बनाकर अच्छे दामों में बेचकर मुनाफा कमाते थे। तमंचा पांच से दस हजार रुपये तक बेचते थे।

एसपी के मुताबिक फैक्टरी चलाने वालों के खिलाफ गैंगस्टर की कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि 315 बोर के असली कारतूस इन लोगों के पास कहां से आए, यह भी जांच कराई जा रही है। ये बात साफ है कि कारतूस इनके पास लाइसेंसी शस्त्र धारकों के पास से आए हैं। किन शस्त्र धारकों ने ये कारतूस दिए इसका पता किया जा रहा है। शस्त्र धारकों के खिलाफ भी कार्रवाई होगी। पुलिस यह भी पता निकाल रही है कि जिन शस्त्र धारकों के लाइसेंस निरस्त हुए हैं, उन्होंने तो ये कारतूस नहीं बेचे।

नोट- इन खबरों के बारे आपकी क्या राय हैं। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं।

शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें


https://www.facebook.com/AuNewsMeerut/
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X