विज्ञापन
विज्ञापन
जन्मतिथि से बनवाएं फ्री जन्मकुंडली और जानें नौकरी में प्रमोशन के शुभ योग
Kundali

जन्मतिथि से बनवाएं फ्री जन्मकुंडली और जानें नौकरी में प्रमोशन के शुभ योग

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

बलरामपुर में मिले आठ कोरोना पॉजिटिव

बलरामपुर। एसएसबी जवान सहित आठ लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। सभी को लेवल-1 कोविड केयर सेंटर में शिफ्ट किया गया है। इनके कांटेक्ट की तलाश शुरू कर दी गई है।
जिला सूचना कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार शुक्रवार को आई कोरोना रिपोर्ट में एसएसबी का एक जवान पॉजिटिव पाया गया है। इसके अतिरिक्त बलरामपुर नगर क्षेत्र के मोहल्ला पहलवारा में तीन, विशुनापुर में एक व पुरानी बाजार में एक तथा बलरामपुर ग्रामीण क्षेत्र के ग्राम कोलवा एवं बनकटवा में भी एक-एक व्यक्ति की रिपोर्ट पॉजिटिव मिली है।
जिले के विभिन्न स्थानों पर रखे गए नौ लोगों की दूसरी रिपोर्ट निगेटिव पाई गई। स्वस्थ होने वाले इन मरीजों को 14 दिन होम क्वारंटीन रहने का निर्देश देते हुुए घर भेज दिया गया है। जिले में कोरोना पॉजिटिव केस की कुल संख्या 1739 हो गई है। 1598 लोग स्वस्थ होकर घर जा चुके हैं। 26 लोगों की मौत हो चुकी है। कुल एक्टिव केस 115 हैं।
... और पढ़ें

धान बेचने वाले किसान का तिलक लगाकर किया स्वागत

बलरामपुर। धान बेचने वाले अन्नदाता का गुरुवार को तिलक लगाकर स्वागत किया गया। जिले में धान खरीद की बोहनी हो गई है। मंडी समिति बलरामपुर में धान खरीद का शुभारंभ हो गया है। अन्नदाताओं को मिठाई खिलाकर क्रय केंद्र के कर्मचारियों ने खुशी जताई है। डीएम कृष्णा करुणेश, एडीएम वित्त एवं राजस्व अरुण कुमार शुक्ल व डिप्टी आरएमओ ने किसानों से सरकारी क्रय केंद्रों पर धान बेचने की अपील की है। क्रय केंद्र कर्मचारियों को खरीद में लापरवाही न बरतने का निर्देश दिया है।
डिप्टी आरएमओ नरेंद्र कुमार तिवारी ने बताया कि जिले में अब तक आठ किसानों से 450 क्विंटल आठ किलोग्राम धान खरीदा जा चुका है। 12 हजार एमटी धान खरीद का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। अब तक 650 से अधिक किसानों ने पंजीकरण करा लिया है। खाद्य विभाग व पीसीएफ क्रय केंद्रों पर धान का सरकारी समर्थन मूल्य 1868 रुपये प्रति क्विंटल व ए ग्रेड धान का 1888 रुपये प्रति क्विंटल निर्धारित किया गया है।
उन्होंने बताया कि ब्लॉकवार केंद्र संचालित करा दिए गए हैं। खाद्य विभाग को छह केंद्रों पर 3500 एमटी और पीसीएफ को 25 केंद्रों पर 8500 एमटी धान खरीद करने का लक्ष्य आवंटित कर दिया गया है। ऑनलाइन पंजीकरण की प्रक्रिया जारी है। ओटीपी आधारित पंजीकरण कराने की व्यवस्था शासन स्तर से की गई है। किसानों को पंजीकरण कराने के लिए अपना मोबाइल नंबर प्रयोग करना होगा जिससे एसएमएस के जरिए भेजे गए ओटीपी को भरकर पंजीकरण करा सके।
सप्ताह के प्रत्येक मंगलवार व शुक्रवार को लघु व सीमांत किसानों से धान खरीदा जाएगा। सुबह नौ से सायं पांच बजे तक धान क्रय केंद्रों का संचालन किया जाएगा। रविवार व अन्य अवकाश में सरकारी क्रय केंद्रों पर धान खरीद नहीं की जाएगी। डीएम ने तीनों तहसीलदारों, जिला कृषि अधिकारी, उप कृषि निदेशक, जिला उद्यान अधिकारी, जिला गन्ना अधिकारी और हरैया सतघरवा, श्रीदत्तगंज व रेहरा बाजार के बीडीओ को धान क्रय केंद्रों का औचक निरीक्षण करने का निर्देश दिया।
... और पढ़ें

ड्यूटी से नदारद मिले चार कर्मचारी

बलरामपुर। सहायक शिक्षा निदेशक बेसिक देवीपाटन मंडल विनय मोहन वन ने गुरुवार को नगर व ब्लॉक संसाधन केंद्र का औचक निरीक्षण किया। उन्हें चार कर्मचारी बिना सूचना के नदारद मिले। उन्होंने सभी गैरहाजिर कर्मियों पर कार्रवाई को बीएसए को पत्र लिखा। दोनों शिक्षा क्षेत्रों के बीईओ को मिशन प्रेरणा व अन्य कार्यक्रमों में बेहतर कार्य करने का निर्देश दिया।
एडी बेसिक ने बताया कि निरीक्षण के दौरान नगर संसाधन केंद्र में तैनात लेखाकार विजय गुप्ता, ऑपरेटर सुधीर कुमार सिंह, कनिष्ठ सहायक विनय मिश्र व भोलानाथ बिना सूचना के नदारद पाए गए। मौके पर मौजूद बीईओ नगर मनीराम वर्मा ने बताया कि भोलानाथ बीएसए कार्यालय से संबद्ध हैं। इस पर एडी बेसिक ने जब बीएसए कार्यालय से संपर्क किया तो बताया गया कि भोलानाथ वहां भी अनुपस्थित पाए गए। इस पर उन्होंने सभी नदारद कर्मियों के खिलाफ कार्रवाई के लिए बीएसए को पत्र लिखा।
नगर क्षेत्र के विद्यालयों के कायाकल्प के लिए डीएम कृष्णा करुणेश की तरफ से पांच लाख की धनराशि स्वीकृति कराई गई है। बीईओ कार्यालय को भी दुरुस्त कराने का निर्देश दिया गया है। मौके पर मौजूद शिक्षक अरुण कुमार मिश्र व राकेश गुप्ता ने नगर संसाधन केंद्र से संबंधित रिपोर्ट प्रस्तुत की। कार्यालय में सीसीटीवी कैमरा लगवाने का निर्देश दिया गया।
सदर ब्लॉक संसाधन केंद्र के निरीक्षण में एडी बेसिक ने बीईओ को दिशा-निर्देश दिया। इसके बाद उन्होंने जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान में सभी बीइओ के साथ बैठक की और उन्हें मिशन प्रेरणा व कायाकल्प योजनाओं को परवान चढ़ाने का निर्देश दिया।
... और पढ़ें

पीसीएफ के चार क्रय केंद्र प्रभारियों से जवाब तलब

बलरामपुर। पीसीएफ के चार धान क्रय केंद्रों के औचक निरीक्षण में खामियां पाए जाने पर चारों केंद्र प्रभारियों से जवाब तलब किया गया है। तीन दिन में संतोषजनक जवाब न देने पर उनके खिलाफ विधिक कार्रवाई की चेतावनी दी गई है। जिले के 29 क्रय केंद्रों पर दो क्रय एजेंसियां धान की खरीदारी कर रही हैं। डीएम ने किसानों से अपील किया है कि बेहतर मुनाफा कमाने के लिए ऑनलाइन पंजीकरण कराकर सरकारी केंद्रों पर धान बेचें।
डिप्टी आरएमओ नरेन्द्र कुमार तिवारी ने शनिवार को बताया कि जिले के किसानों को उनकी उपज का बेहतर लाभ दिलाने के लिए दो क्रय एजेंसियों के 29 धान केंद्रों का संचालन शुरु करा दिया गया है। धान खरीद का जायजा लेने के लिए उन्होंने 22 अक्तूबर को डीएम के निर्देश पर पीसीएफ के चार क्रय केंद्रों का औचक निरीक्षण किया।
इसमें धान क्रय केंद्र लिलवा पर खरीद के लिए कोई इंतजाम नहीं मिला। केंद्र पर अभी तक इलेक्ट्रानिक कांटा, नमी मापक यंत्र, झरना, पंखा व बोरे नहीं मिले जिसके चलते केंद्र पर धान खरीद शुरु नहीं हो सकी है। गौरा चौराहा धान क्रय केंद्र पर बैनर लगा है। एक नमी मापक यंत्र, दो इलेक्ट्रॉनिक कांटा, पंखा, झरना आदि इंतजाम मिला। 28 किसानों ने धान बेचने के लिए नाम व मोबाइल नंबर भी दर्ज करा दिया है लेकिन अभी खरीद शुरू नहीं हुई है।
धान क्रय केंद्र जैतापुर में निरीक्षण के समय प्रभारी राकेश शुक्ला नदारद मिले। बैनर लगा मिला लेकिन नमी मापक यंत्र नदारद रहा। एक इलेक्ट्रानिक कांटा केंद्र पर पाया गया। केंद्र पर खरीदे गए किसानों के रजिस्ट्रेशन प्रपत्र उपलब्ध नहीं थे और न ही उपलब्ध धान की मात्रा का सत्यापन किया जा सका।
छह किसानों ने केंद्र पर 365 क्विंटल धान बेंचा है। धान बेचने के लिए संपर्क रजिस्टर भी नहीं मिला। धान क्रय केंद्र पकड़ी में अभी तक खरीद शुरु नहीं हुई है। केंद्र पर सभी संसाधन पाए गए। लेकिन केंद्र पर बोरे नहीं मिले। चारों क्रय केंद्र प्रभारियों से खामियों के चलते जवाब तलब किया गया है। डीएम ने चेतावनी दी है कि यदि धान क्रय केंद्रों के संचालन में खामियां मिली तो संबंधित संचालक के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

नहीं दोहराया जाएगा 512 साल पुराने बलरामपुर दशहरे का इतिहास

बलरामपुर। बलरामपुर दशहरे का इतिहास 512 साल पुराना है। गुजरात के रियासत जंवाड़ा पावागढ़ किला से आए महाराज बरियार शाह ने इसकी शुरुआत की थी। कोरोना महामारी के चलते इस साल दशहरा नहीं मनाया जाएगा। दशहरा देखने वालों में आयोजन स्थगित होने से मायूसी है।
वर्ष 1269 ई. में महाराज बरियार शाह गुजरात के रियासत जंवाड़ा पावागढ़ किला से आकर तराई क्षेत्र इकौना में आकर बसे थे। 1508 में इन्हीं के वंशज महाराजा गंगाशाह बलरामपुर आकर बसे और बलरामपुर रियासत की नींव रखी तभी से यहां दशहरा मनाने के परंपरा की शुरुआत हुई। 1836 में बलरामपुर रियासत के महराजा बने दिग्विजय सिंह ने दशहरे को 1859 में भव्य स्वरूप दे दिया।
दशहरे के दिन राम बारात, राम लक्ष्मण स्वागत व पूजन तथा राम-रावण युद्घ के पश्चात रावण, कुंभकर्ण व मेघनाथ के पुतले का दहन किया जाता रहा है। यह पर्व हिन्दू-मुस्लिम एकता का प्रतीक भी बन गया। तीन दिनों तक यह पर्व मनाया जाने लगा। इस पर्व में कई रियासतों के पहलवान, तलवारबाज, निशानेबाज व घुड़सवार आदि अपना-अपना हुनर दिखाते थे।
दहशरा देखने के लिए देश के कोने-कोने से लोग बलरामपुर आते थे। नेपाल से भी भारी संख्या में लोग बलरामपुर दशहरा देखने आते थे। नेपाल के शाही परिवार से बलरामपुर रियासत का रोटी-बेटी का संबंध सदियों पुराना है। बलरामपुर स्टेट के वर्तमान महराज जयेन्द्र प्रताप सिंह बताते हैं कि दशहरे के दिन हमारे यहां शस्त्र पूजा व राम लक्ष्मण की आरती व पूजन का विशेष महत्व है। इस दिन हम लोग रावण का पुतला दहन कर बुराई समाप्त करने तथा अच्छाई के मार्ग पर चलने का संकल्प सदियों से लेते आ रहे हैं।
आजादी के बाद वर्ष 1952 से इस पर्व के आयोजन की जिम्मेदारी सनातन धर्म सभा निभा रही थी। वर्ष 2005 में सनातन धर्म सभा ने तत्कालीन महाराज धर्मेन्द्र प्रताप सिंह के दशहरे के आयोजन का जिम्मा लेने का अनुरोध किया। तभी से इसका आयोजन बलरामपुर स्टेट तथा सनातन धर्मसभा संयुक्त रूप से कर रही थी। इस वर्ष कोरोना महामारी के कारण सदियों पुरानी इस परंपरा का निर्वहन स्थगित हुआ है। परिस्थितियां अनुकूल रही तो अगले वर्ष से इसका आयोजन फिर से बहाल कर दिया जाएगा।
... और पढ़ें

बोनस की जगह फैस्टिवल एडवांस स्वीकार नहीं

बलरामपुर। राज्य कर्मचारी महासंघ ने सरकार के निर्णय के खिलाफ विरोध जताया है। बोनस की जगह फेस्टिवल एडवांस दिए जाने पर आक्रोश जताया है। महासंघ के पदाधिकारियों ने सीएम को संबोधित ज्ञापन भेजकर बोनस दिलाने की मांग की है। नाराज कर्मचारियों ने शनिवार को सदर तहसील परिसर में बैठक कर आंदोलन की रणनीति तैयार की है।
चतुर्थ श्रेणी राज्य कर्मचारी महासंघ के जिलाध्यक्ष मुकीम खां, मंत्री श्रीराम जायसवाल, संरक्षक त्रिलोकी प्रसाद शुक्ला, उप मंत्री अनिरुद्ध प्रसाद तिवारी, खुर्शेद अली, ओंकार नाथ शुक्ल व अरुण कुमार आदि कर्मचारियों ने सीएम को भेजे गए पत्र में कहा है कि सरकार ने बोनस की जगह फेस्टिवल एडवांस देने की बात कही है जिसे लेकर कर्मचारियों में भारी आक्रोश है।
कर्मचारियों ने सरकार पर बोनस की जगह फेस्टिवल एडवांस के नाम पर छलावा करने का आरोप लगाया है। कर्मचारियों ने मांग किया है कि दीपावली त्योहार पर सरकार बोनस का भुगतान करें। फेस्टिवल एडवांस की घोषणा कर कर्मचारियों को धोखा न दें। फेस्टिवल एडवांस के नाम पर 2800 रुपये देकर 10 हजार रुपये की वसूली की जाएगी जो निंदनीय है। बैठक में महासंघ के मौजूद पदाधिकारियों ने कड़ी नाराजगी जताई और सीएम से समस्या निराकरण कराने की मांग की।
... और पढ़ें

पराली जलाने वाले चार किसानों पर केस दर्ज

बलरामपुर। खेतों में पराली जलाने वाले चारों किसानों पर केस दर्ज कराया गया है। शासन ने सैटेलाइट से पराली जलाने की घटना का संज्ञान लेकर जिला प्रशासन को कार्रवाई करने का निर्देश दिया है। डीएम कृष्णा करुणेश ने बताया कि कृषि विभाग के कर्मियों ने जिले के चार थानों में पराली जलाने वाले किसानों के खिलाफ केस दर्ज करा दिया गया है। केस दर्ज कराने के बाद राजस्व के कर्मियों को खेतों की पैमाइश कराकर किसानों से जुर्माना वसूलने का निर्देश दिया गया है।
उप कृषि निदेशक डॉ. प्रभाकर सिंह ने शनिवार को बताया कि शासन के सेटेलाइट पर बलरामपुर जिले के चार थाना क्षेत्रों के खेतों में पराली जलाने की घटना कैप्चर हुई है। देहात कोतवाली क्षेत्र के ऐलहवा निवासी कादिर, तुलसीपुर थाना क्षेत्र के गुलरिहा निवासी जमाल, ललिया थाना क्षेत्र के कोड़री निवासी गढ़हा साहू व मनीराम के खेत में पराली जलाने की घटना जांच के दौरान पुष्ट हुई है। चारों के खिलाफ संबंधित थानों में कृषि विभाग के कर्मियों ने डीएम के निर्देश पर एफआईआर दर्ज करा दी है।
चारों के खिलाफ जुर्माना लगाने के लिए डीएम के निर्देश पर राजस्व विभाग को रिपोर्ट भेज दी गई है। डीएम ने संबंधित तहसील के तहसीलदार को पराली जलाने वाले किसानों के खेतों की पैमाइश कराकर राजस्व वसूली करने का निर्देश दिया है। शासन ने दो एकड़ तक दो हजार, पांच एकड़ तक पांच हजार और पांच एकड़ से अधिक जमीन होने पर 15 हजार रुपये जुर्माने का प्रावधान किया है। जिले के सभी किसानों को खेतों में फसल अवशेष की पराली जलाने से होने वाले नुकसान के बार में जानकारी देकर जागरुक किया जा रहा है।
खेतों में पराली जलाने से वायुमंडलीय प्रदूषण, भूमि की उर्वरा शक्ति पर दुष्प्रभाव, लाभकारी सूक्ष्म जीवों के नष्ट हो जाना, पशुओं के चारे की समस्या और अग्निकांड जैसी घटनाओं में भी वृद्घि हो जाती है। इन समस्याओं से बचने के लिए सभी किसानों को सुपरस्ट्रा मैनेजमेंट सिस्टम लगे कंबाइन हारवेस्टर से धान की कटाई करानी चाहिए जिससे कटाई के समय ही फसल अवशेष प्रबंधन किया जा सके। यदि कंबाइन हारवेस्टर के साथ सुपरस्ट्रा मैनेजमेंट नहीं लगा है तो संचालक से पैडी स्ट्राचापर, स्ट्रीरीपर, मल्चर, स्ट्रारेक व बेलर का प्रयोग कराकर ही कंबाइन हारवेस्टर से फसलों की कटाई कराएं।
... और पढ़ें

स्वास्थ्य विभाग की शिकायतों की कल से जांच करेगी एसआईटी

बलरामपुर। जिले के अस्पतालों की एसआईटी की पांच सदस्यीय टीम 26 अक्तूबर से जांच करेगी। 30 अक्तूबर तक टीम अस्पतालों में एनआरएचएम तथा अन्य मदों से खरीदे गए उपकरणों तथा दवाओं की खरीद और संविदा नियुक्तियों के बारे में जांच करेगी। सीएमओ डा. घनश्याम सिंह ने सभी मेडिकल व पैरा मेडिकल स्टाफ को जांच के दौरान उपस्थित रहने का निर्देश दिया है।
विदित हो कि भिनगा के बसपा विधायक असलम राइनी ने बीते दिनों विधानसभा में प्रश्न उठाकर बलरामपुर में स्वास्थ्य विभाग की अनियमितताओं को उजागर किया था। उनकी शिकायत पर ही राज्य सरकार ने मामले की जांच एसआईटी को सौंपी है।
सीएमओ ने शनिवार को बताया कि पुलिस उप महानिरीक्षक एसआईटी के निरीक्षक पीके सिंह के नेतृत्व में पांच सदस्यी दल 26 से 30 अक्तूबर तक जिले के अस्पतालों में जांच करेगा। जांच के दौरान सभी अस्पतालों के मेडिकल व पैरा मेडिकल स्टाफ को उपस्थित रहना अनिवार्य है। इस अवधि में कोई भी अधिकारी व कर्मचारी अवकाश पर नहीं जाएगा और न ही मुख्यालय छोड़ेगा। सभी अधिकारी व कर्मचारी अपने तैनाती स्थल पर उपस्थित रहकर जांच कार्य में सहयोग करेंगे।
... और पढ़ें

दुकानों से भरे काजू, पिस्ता व दूध के नमूने

बलरामपुर। मुख्य खाद्य सुरक्षा अधिकारी की टीम ने बीते दिन काजू, पिस्ता व दूध के नमूने के लिए प्रयोगशाला जांच के लिए भेजा है। जांच रिपोर्ट के आधार पर कारोबारियों के खिलाफ कार्रवाई करने की चेतावनी दी गई है।
मुख्य खाद्य सुरक्षा अधिकारी विनोद कुमार पांडेय ने बताया कि नवरात्र में लोगों को सुरक्षित खाद्य व पेय पदार्थ उपलब्ध कराने के लिए कारोबारियों की दुकानों पर छापामार कार्रवाई की जा रही है। अभियान के तहत भारतेंदु किराना स्टोर से काजू सांवरिया ब्रांड व पिस्ता का नमूना संकलित कर किया गया है। टीम की तरफ से दूध के भी नमूने लिए गए।
खाद्य कारोबारियों को लाइसेंस व पंजीकरण प्राप्त करने के बाद ही कारोबार करने का निर्देश दिया। लाइसेंस व पंजीकरण न मिलने पर विधिक कार्रवाई की चेतावनी दी गई है। व्यापारियों को खाद्य पदार्थों के बिल व कैशमेमो सुरक्षित रखने, खाद्य पदार्थों पर बेस्ट बिफोर की तिथि अंकित करने और साफ सफाई रखने का निर्देश दिया गया है। निरीक्षण अभियान में खाद्य सुरक्षा अधिकारी लालमणि यादव, बागीश मणि त्रिपाठी व सत्यवीर सिंह मौजूद रहे।
... और पढ़ें

सड़क हादसे में दो घायल

डायग्नोस्टिक सेंटर के अवैध संचालन पर कसा शिकंजा

बलरामपुर। सीएचसी अधीक्षक श्रीदत्तगंज ने दल-बल के साथ महदेइया बाजार स्थित डायग्नोस्टिक सेंटरों का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान सेंटर पर न तो विशेषज्ञ डॉक्टर मिले और न सेंटर से संबंधित कोई अभिलेख ही मिला। डायग्नोस्टिक सेंटरों का संचालन अवैध मानते हुए अधीक्षक ने कार्रवाई के लिए डीएम व सीएमओ को रिपोर्ट सौंपी है।
सीएचसी अधीक्षक श्रीदत्तगंज डॉ. सुजीत पांडेय, स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारी विजय प्रताप सिंह एवं बीपीएम आशुतोष शुक्ला ने शुक्रवार को महदेइया बाजार स्थित डायग्नोस्टिक सेंटर जनता एवं सविता डायग्नोस्टिक सेंटर का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान सेंटर पर कोई भी पैथालॉजिस्ट या रिपोर्ट देने वाला डॉक्टर उपलब्ध नहीं मिला। डायग्नोस्टिक सेंटर का रजिस्ट्रेशन व अन्य अभिलेख भी मौके पर उपलब्ध नहीं था।
जनता डायग्नोस्टिक सेंटर पर अल्ट्रासाउंड व एक्स-रे मशीन तथा लैब संबंधी सामान मौके पर पाए गए लेकिन अल्ट्रासाउंड करने वाले डॉक्टर मौजूद नहीं मिले। डॉक्टर व अभिलेखों के संबंध में पूछताछ करने पर कोई संतोषजनक उत्तर नहीं दिया गया। सीएचसी अधीक्षक ने बताया कि निरीक्षण के दौरान संबंधित डॉक्टर व अभिलेख न मिलने पर सेंटरों का संचालन अवैध मानते हुए कार्रवाई के लिए रिपोर्ट डीएम और सीएमओ को भेजी गई है। इस संबंध में सीएमओ डॉ. घनश्याम सिंह ने बताया कि अधीक्षक की रिपोर्ट के आधार पर अग्रिम कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

मिशन प्रेरणा में बेसिक शिक्षा का शानदार प्रदर्शन

बलरामपुर। मिशन प्रेरणा में बेसिक शिक्षा ने शानदार प्रदर्शन किया है। राज्य परियोजना कार्यालय लखनऊ की तरफ से प्रदेश के 75 जिलों की मिशन प्ररेणा की रैंकिंग जारी की गई है। मंडल में पहला और प्रदेश की रैंकिंग में बलरामपुर को मिशन प्ररेणा के क्षेत्र में 5वां रैंक मिला है। मंडलीय सहायक शिक्षा निदेशक बेसिक देवीपाटन मंडल विनय मोहन वन ने बीएसए डॉ. रामचंद्र सहित मिशन प्रेरणा की टीम को बधाई दी है।
मंडलीय सहायक शिक्षा निदेशक ने बीते दिन बताया कि मिशन प्रेरणा के तहत जिले में सहयोगात्मक पर्यवेक्षण के लिए एसआरजी, एआरपी व डायट मेंटर्स को राज्य परियोजना व जिला परियोजना कार्यालयों की तरफ से स्कूलों का नियमित भ्रमण करने का निर्देश दिया गया था। जिले में चयनित एसआरजी, एआरपी व डायट मेंटर्स की तरफ से स्कूलों के नियमित भ्रमण करने में सहयोगात्मक पर्यवेक्षण का सराहनीय योगदान रहा।
उन्होंने बताया कि राज्य परियोजना कार्यालय लखनऊ की तरफ से सहयोगात्मक पर्यवेक्षण का मूल्यांकन किया गया। मूल्यांकन में बलरामपुर जनपद को प्रदेश के 75 जिलों में 5वीं रैंक प्राप्त हुई। देवीपाटन मंडल के चार जनपदों में बलरामपुर ने पहला स्थान प्राप्त किया।
मंडलीय सहायक शिक्षा निदेशक ने बीएसए के साथ मिशन प्ररेणा में शानदार योगदान देने वाले जिला समन्वयक सामुदायिक सहभागिता निरंकार पांडेय, डीसी प्रशिक्षण मोहित देव त्रिपाठी, सभी एसआरजी, एआरपी व डायट मेंटर्स को बधाई दी है। भविष्य में इसी तरह से प्रयास करके मिशन प्ररेणा को मंडलीय सहायक शिक्षा निदेशक ने प्रदेश में प्रथम स्थान लाने के लिए आशा जताई है।
... और पढ़ें

13 शिक्षकों को मिला नियुक्ति पत्र

बलरामपुर। जिले में शिक्षकों की कमी दूर करते हुए माध्यमिक के 13 शिक्षकों को तैनात किया गया है। सदर विधायक पल्टूराम, तुलसीपुर विधायक कैलाश नाथ शुक्ल, उतरौला विधायक राम प्रताप वर्मा, गैसड़ी विधायक शैलेश कुमार सिंह व डीएम कृष्णा करुणेश की मौजूदगी में शुक्रवार को कलेक्ट्रेट कार्यालय में नवनियुक्त शिक्षकों को नियुक्ति पत्र बांटा गया।
नियुक्ति पत्र वितरण कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सभी विधायकों ने कहा कि प्रदेश सरकार की तरफ से शिक्षकों की कमी को दूर करने में प्रयास किया जा रहा है। बेसिक शिक्षा के स्कूलों में शिक्षकों की तैनाती के बाद माध्यमिक स्कूलों में कमी दूर करने का प्रयास किया गया है। डीएम ने नवनियुक्त शिक्षकों को आवंटित स्कूलों में बेहतर ढंग से शिक्षण कार्य करने का टिप्स दिया जिससे युवाओं के भविष्य को संवारकर उनके योगदान को देश की प्रगति में प्रयोग किया जा सके।
डीआईओएस डॉ. चंदन पांडेय ने नियुक्ति पत्र वितरण कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि जिले के राजकीय स्कूलों में शासन ने 13 नवनियुक्त शिक्षकों को तैनात किया है जिन्हें नियुक्ति पत्र बांटा गया है। नियुक्ति पत्र पाकर नवनियुक्त शिक्षक नवनीत श्रीवास्तव, सरोज वर्मा, व अमित कुमार आदि ने खुशी जताते हुए शिक्षण कार्य पर फोकस करने का संकल्प लिया।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X