बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन

ऊना

विज्ञापन
कालाष्टमी प्राचीन कालभैरव मंदिर दिल्ली में पूजा और प्रसाद अर्पण से बनेगी बिगड़ी बात, अभी बुक करें
Myjyotish

कालाष्टमी प्राचीन कालभैरव मंदिर दिल्ली में पूजा और प्रसाद अर्पण से बनेगी बिगड़ी बात, अभी बुक करें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

पुजारी और कर्मियों को कमरे में बंद कर आभूषण-दानपात्र ले गए शातिर

क्षेत्र के प्रसिद्ध धार्मिक स्थल बगलामुखी मंदिर में शुक्रवार देर रात शातिरों ने मंदिर के पुजारी और कर्मियों को कमरे में बंद कर चांदी के आभूषण और दानपात्र चुरा लिया। शातिरों ने सीसीटीवी के तार भी काट दिए। सूचना मिलने पर पुलिस टीम ने घटनास्थल का दौरा किया। बहरहाल, पुलिस केस दर्ज कर मामले की जांच में जुट गई है। मंदिर में चोरी की इस घटना से इलाके में हड़कंप है।

जानकारी के अनुसार गगरेट-होशियारपुर मार्ग पर बगलामुखी मंदिर में शातिरों ने शुक्रवार रात लगभग 12 से 3 बजे के बीच में चोरी की घटना को अंजाम दिया। घटना के वक्त पुजारी और अन्य दो कर्मचारी मंदिर में ही थे, लेकिन चोरों ने बाहर से उनके दरवाजे की कुंडी लगा दी और मंदिर में लगे सीसीटीवी के तार काट दिए।

शातिरों ने एक कैमरे की दिशा भी बदल दी। शातिर दानपात्र के अलावा चांदी के मुकुट, चांदी की नथ चुरा ले गए। पुलिस को दानपात्र मंदिर के शौचालय के पास मिला है। इसमें नकदी नहीं थी। जिस तरह चोरी की वारदात को अंजाम दिया गया है, उससे साफ लगता है कि शातिर मंदिर के चप्पे-चप्पे से वाकिफ थे। 

ऐसा लगता है कि शातिर जानता था कि मंदिर में कहां कैमरे लगे हैं और पुजारी कहां रहता है। इसी का फायदा उठाते हुए शातिर ने घटना को अंजाम दिया। उधर, गगरेट पुलिस थाना प्रभारी दर्शन सिंह ने बताया कि फिलहाल पुलिस जांच कर रही है। जल्द चोर को पकड़ लिया जाएगा।
... और पढ़ें

एसबीआई गगरेट शाखा का प्रबंधक, एजेंट 20 हजार रिश्वत लेते पकड़ा

हिमाचल प्रदेश विजिलेंस ने मंगलवार को स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) की गगरेट शाखा के मैनेजर और उसके एक एजेंट को 20 हजार रुपये रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों पकड़ा है। कर्ज चुकाने के बावजूद बैंक मैनेजर ने एक उद्योग के ताले खुलवाने के बदले 20 हजार रुपये रिश्वत मांगी थी। बैंक प्रबंधक और एजेंट दोनों के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धारा 7, 7ए के तहत मुकदमा दर्ज करके जांच की जा रही है। शिकायतकर्ता राकेश कुमार निवासी गगरेट ने विजिलेंस में शिकायत दी थी कि उसने अपने लकड़ी के लघु उद्योग के लिए गगरेट की एसबीआई शाखा से कर्ज लिया था।

कर्ज की किस्तें निरंतर न देने पर बैंक ने उसके लोन को एनपीए घोषित करके 2019 में फैक्ट्री सील कर दी थी। शिकायतकर्ता ने बताया कि बीते 26 फरवरी को सारा पैसा चुकता करके लोन अकाउंट बंद कर दिए, लेकिन बैंक ने सील किए उद्योग के ताले नहीं खोले। इस पर शिकायतकर्ता आरोपी मैनेजर आशीष कुमार के पास बार-बार गया, लेकिन प्रबंधक बहाने करता रहा। आरोपी प्रबंधक ने शिकायतकर्ता से ताले खुलवाने की बदले 20 हजार रुपये की मांग की।

प्रबंधक ने खुद रुपये लेने से मना किया और एजेंसी के एक व्यक्ति अनिल कुमार को रुपये देने की बात कही। एएसपी विजिलेंस सागर चंद्र ने बताया कि राकेश की शिकायत पर विजिलेंस ने आरोपी को पकड़ने के लिए जाल बिछाया। मंगलवार को विजिलेंस ने 20 हजार रुपये एजेंसी के आदमी को देते हुए रंगे हाथों पकड़ लिया। इस कार्रवाई के दौरान एजेंसी का व्यक्ति अनिल कुमार तथा मैनेजर आशीष कुमार दोनों ही मौके पर मौजूद थे और उद्योग के ताले खुलवा रहे थे। विजिलेंस ने जांच शुरू कर दी है। 
... और पढ़ें

हथौड़े के कई वार कर भाई ने की बहन की हत्या, मां से भी की मारपीट

हिमाचल प्रदेश के सोलन जिले के कंडाघाट क्षेत्र में बुधवार देर रात नेपाली मूल के एक परिवार में दिल दहला देने वाली वारदात हुई है। नेपाली मूल के एक युवक ने हथौड़े से वार कर अपनी नाबालिग बहन की हत्या कर दी है। बचाव के लिए आई मां पर भी युवक ने जानलेवा हमला किया। गंभीर स्थिति में दोनों को शोघी अस्पताल पहुंचाया गया। बहन को डॉक्टरों ने मृत घोषित कर मां को आईजीएमसी शिमला के लिए रेफर कर दिया है। स्थानीय लोगों की सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर घटना की छानबीन शुरू कर दी है।

पुलिस के अनुसार नेपाली मूल का एक परिवार कंडाघाट के बडयावला गांव में काफी समय से रहा है। बुधवार देर रात घर से इस परिवार की अचानक चीख-पुकार की आवाजें सुनने के बाद आसपास के लोग सकते में आ गए। घर पर इस परिवार का युवक विकास अपनी मां और बहन से मारपीट कर रहा था। लोगों ने तत्काल पुलिस को सूचित किया। पुलिस मौके पर पहुंची तो विकास की खून से लथपथ मां तुलसी और 15 वर्षीय बहन फर्श पर बिछे गद्दे पर पड़ी थीं। पुलिस के मुताबिक किशोरी अर्धनग्न अवस्था में थी।

डबल बेड व फर्श पर बिछे गद्दे, तकियों और बेडशीट पर काफी खून लगा था। आरोपी ने हथौड़े के कई वार कर दोनों को गंभीर घायल किया था। पुलिस ने 108 एंबुलेंस को मौके पर बुलाया और दोनों घायलों को सीएचसी शोघी ले गए। चिकित्सा अधिकारी ने नाबालिग (आरोपी की बहन) को मृत घोषित कर दिया। जबकि, हालत नाजुक देख मां तुलसी को आईजीएमसी शिमला रेफर कर दिया। पुलिस के अनुसार मौके पर घर से शराब की बोतल भी बरामद हुई है। पुलिस ने घटना स्थल से हत्या के लिए प्रयोग किया गया हथौड़ा और शराब की बोतल कब्जे में ले ली है।

 आरोपी से की जा रही पूछताछ 
डीएसपी सोलन योगेश दत्त जोशी ने घटना की पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि पुलिस धारा 307 व 302 के तहत मामला दर्ज कर मामले की जांच कर रही है। वहीं सोलन के एसपी अभिषेक यादव ने भी मौके का जायजा लिया है। उन्होंने कहा कि आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी से हत्या के संबंध में गहन पूछताछ की जा रही है।
... और पढ़ें

अवैध संबंध: चिंतपूर्णी बस स्टैंड में सो रहे व्यक्ति की हत्या, पत्थर से किया वार

चिंतपूर्णी बस स्टैंड में सो रहे एक व्यक्ति की पत्थर मारकर हत्या कर दी गई। घटना मंगलवार देर रात एक बजे की बताई जा रही है। पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज खंगालकर सुबह चार बजे भरवाईं पेट्रोल पंप के नजदीक आरोपी को पकड़ लिया है। देहरा पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है। देहरा पुलिस के अनुसार मृतक हैपी पुत्र राजेश कुमार निवासी मेन थप्पल कालाअंब तहसील नाहन जिला सिरमौर चिंतपूर्णी बस स्टैंड में ढाबे में काम करता था।

उसका पहले भी आरोपी विजय पुत्र संतलाल निवासी मोगा पंजाब के साथ झगड़ा हुआ था। मंगलवार को हैपी आरोपी के डर से बस स्टैंड के अंदर दुकानों के पीछे सोया था। इस बीच, आरोपी विजय ने सिर पर पत्थर मारकर उसे मौत के घाट उतार दिया और इसके बाद पत्थर बस स्टैंड के पास फेंक कर फरार हो गया। पत्थर फेंकने के दौरान वह सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गया। आरोपी चिंतपूर्णी में कबाड़ का काम करता है।

कुछ दिन पहले ही अपने गांव से पहुंचा था। पुलिस छानबीन में सामने आया कि आरोपी ने उसकी पत्नी के साथ अवैध संबंध के चलते हैपी की हत्या की है। आरोपी की पत्नी भी चिंतपूर्णी में साफ-सफाई का काम करती है। बुधवार सुबह एसपी कांगड़ा खुशहाल शर्मा ने घटनास्थल का दौरा किया। उन्होंने बताया कि हत्या आरोपी रात को ही भागने की फिराक में था। बताया कि पुलिस ने केस दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।
... और पढ़ें
सांकेतिक तस्वीर सांकेतिक तस्वीर

हत्या का आरोप: घर की छत पर संदिग्ध हालात में मिला अध्यापिका का जला शव

गणु मंदवाड़ा गांव में एक अध्यापिका की संदिग्ध हालात में घर की छत पर जलने से मौत हो गई है। शव की जांच व घटनास्थल पर साक्ष्य जुटाने के लिए रविवार को कांगड़ा से फॉरेंसिक टीम गणु मंदवाड़ा पहुंची। मृतका के परिजनों ने ससुराल पक्ष पर हत्या का आरोप लगाया है। पुलिस के अनुसार डंगोह खास की मीनाक्षी (38) की शादी मंदवाड़ा गांव में अमरजीत सिंह के साथ करीब 14 साल पहले हुई थी।

उनकी एक 13 वर्षीय बेटी भी है। मीनाक्षी निजी स्कूल में अध्यापिका थी। अमरजीत सिंह अंब में एक निजी उद्योग में नौकरी करता है। अमरजीत ने पुलिस को बताया कि वह रोज की तरह शनिवार रात करीब आठ बजे घर पहुंचा। घर के बाकी सदस्य एक शादी समारोह में गए थे। उसने खुद ही खाना गर्म कर खाया और टीवी देखने लग गया। उसे लगा कि उसकी पत्नी स्कूल के कार्य में व्यस्त है। रात करीब दस बजे उसने मीनाक्षी की तलाश शुरू की। इस दौरान घर की छत पर पत्नी का जला हुआ शव मिला। अभी तक पुलिस को सुसाइड नोट घर से नहीं मिला है।

मृतका के पिता सुखविंद्र जसवाल ने हत्या का आरोप लगाते हुए कहा कि मीनाक्षी को ससुराल पक्ष के लोग तंग करते थे। दो बार वह झगड़ा सुलझाकर गए थे। इसके बावजूद मीनाक्षी को प्रताड़ित करने का सिलसिला जारी रहा। सुखविंद्र ने सवाल उठाया कि जब पति को रात दस बजे शव मिला तो मायका पक्ष को रात एक बजे क्यों बताया गया। एसपी ऊना अर्जित सेन ने कहा कि कुछ सवाल हैं, जिनके जवाब एफएसएल की रिपोर्ट और डॉक्टरों की जांच के बाद ही मिल पाएंगे। पुलिस ने विभिन्न धाराओं के तहत केस दर्ज कर लिया है।
... और पढ़ें

घर में सो रहे व्यापारी पर चलाई गोलियां, मौके से भागे शातिर

नगर परिषद संतोषगढ़ के वार्ड-8 में स्वां नदी से सटी नई कॉलोनी में निर्माणाधीन मकान में सो रहे व्यापारी संजीव वर्मा पर मंगलवार देर रात अज्ञात शातिरों ने गोलियां चला दीं। इस घटना में वह बाल-बाल बच गए। जवाब में व्यापारी ने भी निजी रिवाल्वर से फायरिंग की। इसके बाद शातिर फरार हो गए। इस वारदात के बाद लोगों में दहशत का माहौल है। पुलिस मामले की जांच कर रही है। क्षेत्र में लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाली जा रही है। 

व्यापारी संजीव वर्मा ने बताया कि मंगलवार रात को वह अपने निर्माणाधीन मकान की छत के स्टोर रूम में सो रहे थे। रात को लगभग 12 बजे उनकी खिड़की पर पहला फायर हुआ। आवाज सुनकर उठे तो कमरे के बाहर कुछ लोगों की आवाज सुनाई दी। ये फायर करने के लिए कह रहे थे। वह दरवाजे के पीछे छिप गए। इसके बाद शातिरों ने दरवाजे पर भी दो फायर किए। जवाब में संजीव वर्मा ने भी लाइसेंसी रिवाल्वर से तीन राउंड फायरिंग की। इसके बाद शातिर भाग गए। उधर, सूचना मिलते ही संतोषगढ़ पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। व्यापारी ने हमले के लिए अवैध खनन माफिया और संतोषगढ़ में अवैध कारोबार में जुटे लोगों पर संदेह जताया है। उन्होंने कुछ दिन पहले अवैध खनन का मामला उठाया था। 

घटना की सूचना मिलने पर बुधवार सुबह एएसपी विनोद धीमान एवं एसएचओ थाना सदर सर्वजीत सिंह ने घटनास्थल का दौरा किया। मौके से चलाए गए तीन कारतूस मिले हैं। फोरेंसिक टीम ने भी घटनास्थल से साक्ष्य जुटाए हैं। एएसपी विनोद धीमान ने कहा कि प्रारंभिक तौर पर व्यक्ति के बयान और मौके से जुटाए साक्ष्यों के आधार पर जांच की जा रही है। आईपीसी की धारा 307, 451 और 34 के तहत केस दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।
... और पढ़ें

पंचायत सचिव 12 हजार रुपये की रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार

विजिलेंस ने हिमाचल प्रदेश के ऊना जिले के हरोली विधानसभा क्षेत्र के ईसपुर पंचायत सचिव को घालूवाल में मंगलवार को 12 हजार रुपये रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया है। आरोपी ईंट कारोबार के लिए अनापत्ति प्रमाण पत्र (एनओसी) की एवज में रिश्वत मांग रहा था। आरोपी के खिलाफ के भ्रष्टाचार रोधी अधिनियम 1988 के तहत केस दर्ज किया गया है।  बताया जा रहा है कि विजिलेंस को ग्राम बरनोह तहसील व जिला ऊना के रविंद्र कुमार ने शिकायत दी थी कि उसे ईसपुर में ईंटों के डीलर का कारोबार करने के लिए लाइसेंस के लिए पंचायत से एनओसी की आवश्यकता है। इसे लेकर उसने करीब तीन सप्ताह पहले एनओसी के लिए प्रार्थना पत्र लिखकर पंचायत सचिव को दिया था।

लेकिन पंचायत सचिव एनओसी के लिए टालमटोल करता रहा। बाद में उसने एनओसी देने की एवज में 12 हजार रुपये  की मांग कर दी।  विजिलेंस ने मंगलवार को ट्रैप लगाकर आरोपी को घालूवाल के नजदीक 12 हजार रुपये रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ लिया। ट्रैप के बाद आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है। आरोपी को बुधवार को अदालत में पेश किया जाएगा। आरोपी की पहचान विष्णु शर्मा निवासी कांगड़ जिला ऊना के रूप में हुई है। आरोपी जिला परिषद कैडर पंचायत सचिव यूनियन का पदाधिकारी भी बताया जा रहा है। एएसपी सागर चंद्र ने कहा कि मामले में नियमानुसार कार्रवाई अमल में लाई जा रही है।
... और पढ़ें

अवैध खनन पर हाईकोर्ट में याचिका डाली तो माफिया ने तान दी पिस्तौल

रिश्वत(सांकेतिक)
हिमाचल प्रदेश के ऊना जिले के निकटवर्ती गांव नंगड़ा में अवैध खनन को लेकर हाईकोर्ट याचिका डालने वाले व्यक्ति को खनन माफिया के कुछ लोगों की ओर से धमकाने का मामला सामने आया है। याचिकाकर्ता का आरोप है कि पिस्तौल दिखाकर उसे धमकाया गया। याचिका वापस लेने का भी दबाव बनाया जा रहा है। घटना बीते माह की बताई जा रही है। याचिकाकर्ता की शिकायत पर पुलिस ने केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। 

जानकारी के अनुसार नंगड़ा में माफिया की ओर से अवैध खनन करने को लेकर स्थानीय निवासी राज शर्मा ने हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की है। मामला उच्च न्यायालय में पहुंचने के बाद विभाग ने पांच खनन लीज को सस्पेंड कर दिया है। अवैध खनन का मामला एनजीटी में भी उठाया गया है। इससे बौखलाए खनन माफिया ने याचिकाकर्ता को धमकाया है। राज शर्मा ने कहा कि माफिया के कुछ लोगों ने उन्हें पिस्तौल तानकर धमकाया है।

उन्हें तथा परिजनों को मारने की धमकी दी है। राज शर्मा लगभग 2 वर्षों से क्षेत्र में अवैध खनन को लेकर आवाज उठा रहे हैं। स्थानीय स्तर पर सुनवाई न होने पर उन्होंने हाईकोर्ट का रुख किया है। अब धमकियों से तंग आकर राज शर्मा ने एसपी ऊना को लिखित शिकायत देकर खनन माफिया के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग उठाई है। उधर, पुलिस ने याचिकाकर्ता के बयान भी कलमबद्ध किए हैं। वहीं, डीएसपी ऊना रमाकांत ने बताया कि याचिकाकर्ता की शिकायत पर आईपीसी की धारा 506, 34 के तहत मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी गई है।
... और पढ़ें

दराट से युवक की हत्या, घर की छत पर सो रही मां और बेटी पर भी हमला

हिमाचल प्रदेश के ऊना जिले के लोअर बढेड़ा में प्रवासी व्यक्ति ने दराट से हमला कर बिहार के युवक की हत्या कर दी, जबकि बिहार के ही दो युवकों समेत स्थानीय निवासी एक 13 साल की लड़की और उसकी मां भी गंभीर घायल हैं। यह घटना रविवार देर रात करीब डेढ़ बजे हुई। आरोपी ने गिरफ्तारी के समय भी पुलिस से धक्का-मुक्की की। अभी हत्या के कारणों का खुलासा नहीं हो पाया है।

मृतक की पहचान रणवीर (18) पुत्र विनोद शाह निवासी नारायणगढ़ जिला मध्यपुरी बिहार के रूप में हुई है। आरोपी शंकर (63) सेमारिया, जिला बेगुसराय बिहार का रहने वाला है। पुलिस मामले की छानबीन कर रही है।  रणवीर, मनोज, रंजीत और निरंजन निवासी बिहार लोअर बढेड़ा में किराये के कमरे में रहते हैं। आरोपी शंकर बसाल स्थित झुग्गी में रहता है। रविवार देर रात को शंकर ने दराट से रणवीर, मनोज और रंजीत पर हमला कर दिया। इसमें रणवीर की मौत हो गई, जबकि मनोज और रंजीत घायल हो गए।

निरंजन मौके से भाग गया। आरोपी ने उसका पीछा किया। इस बीच आरोपी निरंजन को ढूंढते शंकर स्थानीय निवासी व्यक्ति के घर की छत पहुंचा और वहां सो रही सीमा और उनकी 13 साल की बेटी अंजली पर भी दराट से वार कर दिया। शोर मचने पर ग्रामीणों ने आरोपी को काबू कर पुलिस को बुलाया। घायलों को ऊना अस्पताल लाया गया। यहां रणबीर को मृत घोषित कर दिया गया।

गंभीर रूप से घायल अंजली को पीजीआई चंडीगढ़ रेफर कर दिया गया। पुलिस ने हत्या में प्रयोग किया गया दराट कब्जे में ले लिया है। एसपी अर्जित सेन ठाकुर ने भी घटनास्थल का दौरा किया। एफएसएल टीम ने साक्ष्य जुटाए हैं। पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया है। एसएचओ हरोली मनोज कौंडल ने बताया कि घायल प्रवासी अभी बयान देने की हालत में नहीं हैं। आरोपी और सुरक्षित बचे प्रवासी से बातचीत की जा रही है। डीएसपी हरोली अनिल मेहता ने बताया कि हत्या का मामला दर्ज कर जांच की जा रही है। 
... और पढ़ें

दो भाइयों ने डंडों से पीट-पीटकर मार डाला मजदूर

ग्राम पंचायत देहला में दो सगे भाइयों पर एक प्रवासी मजदूर को पीट-पीटकर मौत के घाट उतारने का आरोप लगा है। पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज कर दोनों को हिरासत में ले लिया है। पुलिस के अनुसार बीते 20 मई को देर शाम 8:30 बजे मामूली सी बात को लेकर झगड़ा हुआ। इस पर दोनों भाइयों अजय और विजय ने मिलकर बीरबल महतो को बुरी तरह से पीट डाला।

किराये के मकान में रह रहे अन्य प्रवासी मजदूरों ने इस वारदात के दौरान छुड़ाने का भी काफी प्रयास किया, लेकिन दोनों भाइयों ने किसी की एक न सुनी और बीरबल महतो की बेरहमी से डंडों से पिटाई करते रहे। झगड़े के बाद बीरबल महतो ने अपने भाई को मारपीट की जानकारी दी, लेकिन उसका भाई कर्फ्यू के चलते तुरंत उसके पास नहीं पहुंच सका। दूसरी सुबह जब वह बीरबल के पास पहुंचा तो बेसुध पाया।

आसपास के लोगों की सहायता से बीरबल महतो को घायल अवस्था में क्षेत्रीय अस्पताल ऊना पहुंचाया गया। नाजुक हालत के चलते डॉक्टरों ने बीरबल को पीजीआई चंडीगढ़ रेफर कर दिया। चंडीगढ़ में उपचार के दौरान शनिवार को बीरबल महतो ने दम तोड़ दिया। घटना की जानकारी मिलते ही एसएचओ सर्वजीत सिंह टीम के साथ मौके पर पहुंचे और सारी जानकारी जुटाई।

मृतक की पहचान बीरबल महतो गांव दुबशी जिला पूर्णिया बिहार के रूप में हुई है। हत्या के दोनों आरोपी सगे भाई अजय महतो और विजय महतो भी जिला पूर्णिया बिहार के ही रहने वाले हैं। एसएचओ सर्वजीत सिंह के मुताबिक पुलिस ने हत्या का केस दर्ज कर दोनों आरोपियों को हिरासत में लिया है।
... और पढ़ें

दराट से युवक की हत्या, घर की छत पर सो रही मां और बेटी पर भी हमला

ऊना जिले के लोअर बढेड़ा में प्रवासी व्यक्ति ने दराट से हमला कर बिहार के युवक की हत्या कर दी, जबकि बिहार के ही दो युवकों समेत स्थानीय निवासी एक 13 साल की लड़की और उसकी मां भी गंभीर घायल हैं। यह घटना रविवार देर रात करीब डेढ़ बजे हुई। आरोपी ने गिरफ्तारी के समय भी पुलिस से धक्का-मुक्की की। अभी हत्या के कारणों का खुलासा नहीं हो पाया है। मृतक की पहचान रणवीर (18) पुत्र विनोद शाह निवासी नारायणगढ़ जिला मध्यपुरी बिहार के रूप में हुई है। आरोपी शंकर (63) सेमारिया, जिला बेगुसराय बिहार का रहने वाला है। पुलिस मामले की छानबीन कर रही है। 

रणवीर, मनोज, रंजीत और निरंजन निवासी बिहार लोअर बढेड़ा में किराये के कमरे में रहते हैं। आरोपी शंकर बसाल स्थित झुग्गी में रहता है। रविवार देर रात को शंकर ने दराट से रणवीर, मनोज और रंजीत पर हमला कर दिया। इसमें रणवीर की मौत हो गई, जबकि मनोज और रंजीत घायल हो गए। निरंजन मौके से भाग गया। आरोपी ने उसका पीछा किया। इस बीच आरोपी निरंजन को ढूंढते शंकर स्थानीय निवासी व्यक्ति के घर की छत पहुंचा और वहां सो रही सीमा और उनकी 13 साल की बेटी अंजली पर भी दराट से वार कर दिया। 

शोर मचने पर ग्रामीणों ने आरोपी को काबू कर पुलिस को बुलाया। घायलों को ऊना अस्पताल लाया गया। यहां रणबीर को मृत घोषित कर दिया गया। गंभीर रूप से घायल अंजली को पीजीआई चंडीगढ़ रेफर कर दिया गया। पुलिस ने हत्या में प्रयोग किया गया दराट कब्जे में ले लिया है। एसपी अर्जित सेन ठाकुर ने भी घटनास्थल का दौरा किया। एफएसएल टीम ने साक्ष्य जुटाए हैं। पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया है। एसएचओ हरोली मनोज कौंडल ने बताया कि घायल प्रवासी अभी बयान देने की हालत में नहीं हैं। आरोपी और सुरक्षित बचे प्रवासी से बातचीत की जा रही है। डीएसपी हरोली अनिल मेहता ने बताया कि हत्या का मामला दर्ज कर जांच की जा रही है।
... और पढ़ें

शराब कारोबारी से लूट मामले में संलिप्त एक और आरोपी चंडीगढ़ से गिरफ्तार

हिमाचल के ऊना जिला मुख्यालय में शराब कारोबारी से लूट मामले में ऊना पुलिस ने चंडीगढ़ के 49-सेक्टर से एक और आरोपी को गिरफ्तार किया है। इस मामले में अब तक कुल पांच लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है। इससे पहले ऊना पुलिस ने पंजाब के खन्ना से एक व्यक्ति को आरोपियों को जाली सिम कार्ड देने के आरोप में गिरफ्तार किया था। इसी दौरान ऊना पुलिस की टीम ने एसपी अर्जित सेन ठाकुर, एएसपी विनोद धीमान सहित एसएचओ गौरव भारद्वाज की अगुवाई में चंडीगढ़ के 49 सेक्टर में रेड कर दो युवकों व एक महिला को गिरफ्तार किया था।

ऊना पुलिस की टीम ने आरोपियों के ठिकाने पर रेड कर कई हथियार और कारतूस भी बरामद किए थे। शराब कारोबारी के कार्यालय से लूट मामले में और भी कई गिरफ्तारियां हो सकती है। मामले की पुष्टि एसपी ऊना अर्जित सेन ठाकुर ने की है। उन्होंने बताया कि एक और व्यक्ति को लूट मामले में गिरफ्तार किया गया है। एसपी ने बताया कि इससे पहले गिरफ्तार किए गए तीन आरोपियों में से दो युवकों को अदालत ने पांच दिन की पुलिस रिमांड पर भेजने के आदेश दिए हैं। इसके अलावा आरोपी महिला को 15 दिन न्यायिक हिरासत में भेजने के आदेश दिए हैं।
... और पढ़ें

शराब कारोबारी से लूट: चंडीगढ़ से महिला सहित तीन गिरफ्तार, चार पिस्तौल, 98 कारतूस, छह मोबाइल बरामद

शराब कारोबारी से लूट मामले में चंडीगढ़ के सेक्टर 49 से गिरफ्तार तीनों आरोपियों के तार अंतरराज्यीय गिरोह से जुड़े हैं। इस मामले में पुलिस ने आरोपियों के कब्जे से चार लोकल मेड पिस्तौल और 98 कारतूस भी बरामद किए हैं। इसके अलावा 2.28 लाख नकदी, छह मोबाइल फोन, एक टैब, एक लैपटॉप भी आरोपियों के कब्जे से बरामद किया है। इस मामले में ऊना पुलिस को बद्दी और चंडीगढ़ पुलिस का सहयोग भी मिला।

ऊना में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से डीजीपी संजय कुंडू, डीआईजी सुमेधा द्विवेदी, एसपी ऊना अर्जित सेन ठाकुर, एसपी बद्दी रोहित मालपानी ने घटना के बारे में जानकारी दी। एसपी ऊना अर्जित सेन ठाकुर ने बताया कि 15 मार्च को ऊना शहर के एक शराब कारोबारी के कार्यालय में चेहरे पर मास्क लगाकर लूट को अंजाम देने के बाद शातिर चोरी की एक कार में मात्र 18 मिनट में ही हिमाचल सीमा से बाहर निकल गए और भूमिगत हो गए।

पुलिस ने इस मामले में तकनीकी जांच और फील्ड इनपुट के जरिये शातिर जुड़े खन्ना पंजाब के एक सिम विक्रेता को गिरफ्तार किया। जिसने फर्जी दस्तावेज के आधार पर सिम शातिरों को मुहैया करवाए थे। इसके बाद बद्दी पुलिस की साइबर टीम की सहायता से इस केस से जुड़े आरोपियों के चंडीगढ़ में होने का पता चला। एसपी ऊना ने वायरल वीडियो के संबंध में स्पष्ट किया है कि इस मामले में कोई भी गोलीबारी नहीं हुई है।

दबोचे आरोपियों की गिरफ्तारी वीरवार शाम को हुई। मामले में गिरफ्तार महिला की भी इस साजिश की भूमिका रही है। तीनों आरोपियों को चार दिन के पुलिस रिमांड पर भेजा गया है। एसपी ऊना ने बताया कि इस मामले में अन्य गिरफ्तारियां होना अभी बाकी हैं।

इस मामले में पुलिस ने आरोपियों को दबोचने के लिए पांच राज्य पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, यूपी, उत्तराखंड में रेड की। इसी बीच बद्दी पुलिस की मदद से पुलिस को शातिरों के चंडीगढ़ के एक फ्लैट में होने की सूचना मिली। पुलिस ने योजनाबद्ध तरीके से चंडीगढ़ ने इन्हें दबोच लिया। पुलिस जांच में आरोपियों के क्रिमिनल रिकॉर्ड होने की सूचना मिली है। 
... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00