विज्ञापन

मंडी

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

नाका तोड़ भागे कार सवार से 63 किलो अफीम का डोडा बरामद

हिमाचल की मंडी पुलिस ने सोमवार आधी रात को एक आरोपी को 63 किलो अफीम डोडे के साथ गिरफ्तार किया है। आरोपी का दूसरा साथी रात के अंधेरे में पुलिस को चकमा देकर भागने में सफल रहा। पुलिस ने मुकदमा दर्ज करके जांच शुरू कर दी है। जानकारी के अनुसार पुलिस थाना औट की टीम चंडीगढ़- मनाली नेशनल हाईवे पर खोतीनाला के पास नाके पर मौजूद थी। कुल्लू की तरफ से एक इनोवा कार तेज गति से आई और नाके को तोड़ती हुई रफूचक्कर गई। पुलिस टीम ने इस संदर्भ में सदर थाना पुलिस टीम को सूचना दी। सदर थाना पुलिस की टीम ने भ्यूली पुल के पास नाका लगा दिया। जैसे ही यह इनोवा कार भ्यूली पुल के पास पहुंची तो चालक ने पुलिस को देखकर गाड़ी मोड़ ली। इतने में औट थाना प्रभारी इंस्पेक्टर ललित महंत अपनी पुलिस टीम के साथ कार का पीछा करते हुए मंडी की तरफ आए।

आरोपी कार सहित दोनों पुलिस टीमों के बीच में फंस गया। इतने में कार चालक ने कार को चलता हुआ छोड़कर भागने की कोशिश की। एक को पुलिस ने मौके पर धर दबोचा लेकिन दूसरा मौके से फरार हो गया। आरोपी को गिरफ्त में लेने के बाद एसपी मंडी शालिनी अग्निहोत्री और डीएसपी एलआर अनिल पटियाल भी मौके पर पहुंचे। कार की तलाशी ली तो उसमें से 5 बोरियां बरामद हुईं। इनमें अफीम के डोडे थे। कार का नंबर डीएल 4सी एई 3047 है और पकड़ा गया आरोपी कुलदीप सिंह पुत्र गुरदेव सिंह निवासी जतरौली जिला लुधियाना का रहने वाला बताया जा रहा है। एसपी शालिनी अग्निहोत्री ने मामले की पुष्टि की है। कहा कि आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। दूसरे आरोपी की तलाश की जा रही है। 
... और पढ़ें

महिला के साथ आपत्तिजनक हालत में पकड़ा हेडकांस्टेबल, निलंबित

हिमाचल के मंडी जिले के उपमंडल करसोग के एक गांव में पुलिस विभाग में तैनात हेडकांस्टेबल को ग्रामीणों ने एक विवाहिता के साथ गोशाला में आपत्तिजनक हालत में पकड़ा। लोगों से बचने के लिए दोनों अलग-अलग दिशाओं में भागे, लेकिन अंधेरे में गिरकर बुरी तरह घायल हो गए। घायलों को करसोग अस्पताल लाया गया। प्राथमिक उपचार के बाद दोनों को आईजीएमसी रेफर कर दिया गया है। महिला के पति की शिकयत पर पुलिस ने हेडकांस्टेबल के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। विभाग ने जांच शुरू कर हेडकांस्टेबल को सस्पेंड कर दिया है। 

पुलिस के अनुसार सोमवार रात करीब 2 बजे महिला की सास बाहर निकली। उसने गोशाला में रोशनी देखी। जब वह गोशाला के पास पहुंची तो उसे बातचीत सुनाई दी। इसके बाद सास ने अपने बेटे को उठाया। साथ ही गांव के कुछ लोगों को मौके पर बुलाया। भनक लगते ही पुलिस कर्मचारी और महिला लोगों के डर से अलग-अलग दिशा में भागे। रात के अंधेरे में दोनों गिरकर घायल हो गए। एसपी मंडी शालिनी अग्निहोत्री ने कहा कि पुलिस मामले की जांच कर रही है। पति की शिकायत पर हेडकांस्टेबल के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। आरोपी पुलिस कर्मी पर विभागीय जांच शुरू कर दी है। साथ ही सस्पेंड भी कर दिया है। पुलिस हर पहलू को ध्यान में रखकर जांच कर रही है।
... और पढ़ें

लक्ष्मीनारायण मंदिर में चोरी, सोने की नथ और तीन दानपात्र में रखी नकदी गायब

उपमंडल के धार्मिक पर्यटन स्थल तत्तापानी में चोरी का मामला सामने आया है। लक्ष्मी नारायण मंदिर के मुख्य दरवाजे की कुंडी तोड़कर चोरों ने माता की मूर्ति से सोने की नथ सहित तीन दानपात्र तोड़कर उसमें रखी नकदी पर हाथ साफ कर दिया है। मंदिर कमेटी की शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है।

पुलिस के मुताबिक पिछले डेढ़ साल से मंदिर में पूजा कर रहे कैप्टन एमसी शर्मा प्रतिदिन की तरह वीरवार सुबह चार बजे पूजा करने मंदिर पहुंचे। उन्होंने देखा कि मंदिर में लकड़ी के मुख्य दरवाजे की कुंडी टूटी हुई थी। अंदर देखा तो मंदिर के रखा सामान इधर-उधर बिखरा पड़ा था। माता की सोने की नथ भी गायब पाई गई।

हनुमान की मूर्ति, शिवलिंग और माता के मंदिर के पास रखे गए तीनों दानपात्र में टूटे हुए थे। उन्होंने मंदिर कमेटी को सूचना दी। इसके बाद तत्तापानी पुलिस चौकी में सूचना दी गई। एएसआई के नेतृत्व में पुलिस ने घटना स्थल का दौरा किया। एसपी मंडी गुरदेव शर्मा ने कहा कि पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। दानपात्रों में पांच-छह हजार का चढ़ावा था। पुलिस मामले की जांच कर रही है। उन्होंने कहा कि मंदिर में सीसीटीवी कैमरे नहीं थे।
... और पढ़ें

हिमाचल: जहरीली शराब पीने से दो और की मौत, सात पहुंचा आंकड़ा, चार गिरफ्तार

हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले के सुंदरनगर के सलापड़ और कांगू में नकली व जहरीली शराब का सेवन करने वाले दो और लोगों की गुरुवार को मौत हो गई। मरने वालों का आंकड़ा सात तक पहुंच गया है। गुरुवार  को चार और लोगों की तबीयत बिगड़ गई। अब तक जहरीली शराब पीकर तबीयत बिगड़ने के 14 मामले आ चुके हैं। पुलिस ने पूर्व प्रधान समेत चार लोगों को भी गिरफ्तार किया है।गुरुवार को शराब का सेवन करने वाले सीता राम पुत्र बंगालू राम निवासी खनयोड, सुंदरनगर और भगत राम पुत्र गोकुल राम निवासी गांव मालथानी, सुंदरनगर की मौत हो गई। सीता राम ने घर में दम तोड़ा है। वहीं, भगत राम की वीरवार तड़के नेरचौक मेडिकल कॉलेज में मौत हुई है। एक अन्य भर्ती व्यक्ति गणपत को नेरचौक मेडिकल कॉलेज से आईजीएमसी और वहां से अब पीजीआई चंडीगढ़ रेफर कर दिया है। नेरचौक में छह लोग भर्ती हैं। 

 उधर, सूत्रों के अनुसार जहरीली शराब पीने से हुई मौतों के बाद पोस्टमार्टम और बिसरा जांच की प्रारंभिक रिपोर्ट में शराब में मिथाइल अल्कोहल होने की बात सामने आई है। आरोपियों पर शिकंजा कसने में यह अहम साक्ष्य हो सकता है। हालांकि, आधिकारिक तौर पर कोई पुष्टि नहीं कर रहा है। बता दें कि कच्ची शराब तैयार करने वाले मिथाइल अल्कोहल, इथाइल अल्कोहल और यूरिया के अलावा तेज नशे के लिए क्लोरल हाइड्रेड का इस्तेमाल भी करते हैं, जिससे नशे की तीव्रता को बढ़ाया जा सके। अब मृतकों के विसरा परीक्षण की जांच तीन चरणों में होगी। इसमें वैज्ञानिक पता लगाएंगे कि जहरीली शराब तैयार करने में कौन-कौन से केमिकल मिलाए गए हैं।

पुलिस ने सलापड़ पंचायत के पूर्व प्रधान जगदीश चंद, वर्तमान पंचायत प्रधान के ससुर अच्छर सिंह पुत्र बहादुर सिंह समेत चार लोगों को गिरफ्तार किया है। मलोह पंचायत के छज्वार गांव से गिरफ्तार तीसरे आरोपी सोहन लाल उर्फ रवि से पुलिस ने संतरा ब्रांड की नकली शराब की 12 बोतल बरामद की हैं। चौथा आरोपी प्रदीप कुमार उर्फ दीप सलापड़ पंचायत के सरोह गांव का रहने वाला हैं। चारों करीब एक साल से देसी व अंग्रेजी शराब अवैध रूप से दुकानों और घरों में सप्लाई करते थे। एसपी मंडी, शालिनी अग्निहोत्री ने बताया कि पुलिस ने चारों को देर शाम सुंदरनगर की अदालत में पेश किया, जहां से चार दिन की पुलिस रिमांड मिली है। 

 एनआईए में रहे अरविंद एसआईटी में शामिल
 नेशनल इन्वेस्टिगेटिंग एजेंसी (एनआईए) में सेवाएं दे चुके एसपी अरविंद दिग्विजय नेगी को भी डीआईजी मंडी रेंज मधू सूदन की अध्यक्षता में गठित विशेष जांच टीम (एसआईटी) में शामिल किया गया। नेगी के अलावा इस टीम में एसपी कांगड़ा खुशाल चंद शर्मा, एसपी मंडी शालिनी अग्निहोत्री और राज्य अपराध अन्वेषण विभाग (सीआईडी) के एसपी अपराध वरिंद्र कालिया भी शामिल हैं। टीम ने वीरवार को घटना से संबंधित सभी पहलुओं पर चर्चा की। देखा जा रहा है कि कहीं असली की जगह नकली शराब की तो सप्लाई नहीं की गई।

संतरा ब्रांड के लेवल से छेड़छाड़, फूड्स की जगह लिखा फूलस
 चंद पैसों के लालच में शराब माफिया ने हिमाचल प्रदेश में बनने वाली संतरा ब्रांड शराब के लेवल से छेड़छाड़ कर नकली शराब तैयार करके लोगों को परोस दी। यह सब पुलिस और आबकारी विभाग के नाक तले चलता रहा। अब शराब माफिया को राजनीतिक संरक्षण की बात भी सामने आ रही है। बुधवार और वीरवार को पुलिस ने जो शराब की बोतलें बरामद की हैं, उनमें संतरा ब्रांड के दो लेवल वाली शराब पुलिस के हाथ लगी है। एक में कंपनी के नाम के साथ फूड्स तो दूसरी में फूलस लिखा है।
 
... और पढ़ें
शराब, सांकेतिक तस्वीर शराब, सांकेतिक तस्वीर

विभागीय जांच शुरू: चनोल के बाद पीएनबी की मलोह शाखा में 20 लाख का फर्जीवाड़ा

पंजाब नेशनल बैंक की चनोल शाखा में 10.20 लाख के फर्जी ऋण बनाने के आरोपी प्रबंधक ने सुंदरनगर के मलोह में भी 20 लाख का फर्जी लोन बनाकर बैंक को चूना लगाया है। आरोपी प्रबंधक बीते 30 नवंबर को पीएनबी की चैलचौक शाखा से सेवानिवृत्त हो गया है। प्रबंधन ने उसके सेवानिवृत्ति लाभ पर रोक लगा दी है। चनोल के बाद मलोह में ऋण एक ही व्यक्ति के नाम पर बना है। करीब 30 लाख का गोलमाल सामने आने पर बैंक प्रबंधन में हड़कंप है। मलोह शाखा में तैनात अधिकारी ने फर्जीवाड़े की दूसरी प्राथमिकी सुंदरनगर थाने में दर्ज कराई है। 

चनोल में 28 सितंबर, 2015 से 5 मई, 2018 तक प्रबंधक पद पर तैनात रहे रमेश कुमार पर आरोप है कि अपने कार्यकाल के दौरान दुनी चंद पुत्र गांधी राम निवासी गांव पास्ता डाकघर ट्रोह तहसील बल्ह के नाम पर फर्जी तरीके से 10 लाख 20 हजार का लोन बना दिया था। प्रबंधक के तबादले के बाद बैंक को किस्त नहीं मिली तो वह दुनी चंद के पास लोन की वसूली के लिए पहुंचा था।

दुनी चंद ने कोई लोन न लेने की बात कही थी। इसके बाद बैंक ने विभागीय जांच के बाद तत्कालीन प्रबंधक रमेश कुमार के खिलाफ सुंदरनगर थाना में मंगलवार सुबह धोखाधड़ी का केस दर्ज करवाया था। पुलिस अधीक्षक शालिनी अग्निहोत्री ने कहा कि पुलिस ने आरोपी के खिलाफ कार्रवाई शुरू कर दी है। 

2018 से 6 मई, 2019 तक मलोह शाखा में रहा प्रबंधक
चनोल में कार्यकाल पूरा होने के बाद आरोपी 8 मई, 2018 से 6 मई, 2019 तक मलोह शाखा में प्रबंधक पद पर रहा। यहां भी उसने 5 जुलाई, 2018 को दुनी चंद के नाम पर ही 20 लाख के ऋण को मंजूरी दी। प्रबंध के तबादले के बाद बैंक अधिकारियों ने किस्त के लिए दुनी चंद से संपर्क किया तो उसने लोन न लेने की बात कही।

लोन के साथ लगाए दस्तावेजों पर अपने हस्ताक्षर होने से भी इनकार किया है। इसके बाद मंगलवार शाम को मलोह शाखा में तैनात अधिकारी सुदर्शन सिंह ने थाना सुंदरनगर में आरोपी प्रबंधक रमेश कुमार के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करवाई है। आरोपी बैंक प्रबंधक के सेवाकाल में हुए ऋण वितरण अब संदेह के घेरे में हैं। बैंक प्रबंधन ने विभागीय जांच शुरू कर दी है। ऐसे में कई मामले सामने आने का अंदेशा बना है।
... और पढ़ें

हमीरपुर: रिश्वत मामले में गिरफ्तार एमवीआई के घर विजिलेंस की दबिश, दस्तावेज खंगाले

फर्जी ड्राइविंग लाइसेंस बनाने और पासिंग के लिए रिश्वत लेने के आरोप में गिरफ्तार मोटर व्हीकल इंस्पेक्टर अभिषेक के हमीरपुर स्थित घर पर भी विजिलेंस ने दबिश दी है। मिला जानकारी के मुताबिक एमवीआई के हमीरपुर स्थित घर में दबिश देकर विजिलेंस ने गाड़ियों से जुड़े दस्तावेजों की 8 फाइलें और रजिस्टर कब्जे में लिए हैं। घर के सदस्यों से भी पूछताछ की गई है। 

विजिलेंस ने परिवहन विभाग के मोटर व्हीकल इंस्पेक्टर (एमवीआई) और दो बिचौलियों को रंगे हाथ गिरफ्तार किया है। रविवार को मंडी के बल्ह के कंसा चौक पर गाड़ियों की पासिंग के बाद ये तीनों सुंदरनगर स्थित बीबीएमबी झील के किनारे गाड़ी खड़ी करके रिश्वत के 1.13 लाख रुपये आपस में बांट रहे थे। विजिलेंस ने तीनों को गिरफ्तार कर विभिन्न धाराओं में मामला दर्ज किया है। 

जानकारी के अनुसार आरोपी एमवीआई अभिषेक बिलासपुर में कार्यरत है। वर्तमान में इनके पास मंडी जिला के उपमंडल बल्ह और सुंदरनगर का अतिरिक्त कार्यभार भी है। इनके खिलाफ विजिलेंस को शिकायतें मिली थीं कि वह पासिंग और ड्राइविंग लाइसेंस बनाने के नाम पर रिश्वत ले रहे हैं।

इनके साथ विनोद निवासी सुंदरनगर और प्रीतम ठाकुर निवासी खुडला को भी विजिलेंस ने गिरफ्तार किया है। विजिलेंस के एसपी राहुल नाथ ने कहा कि आरोपियों के खिलाफ विभिन्न धाराओं में मामला दर्ज किया गया है। कुछ समय पहले शिकायत मिली थीं कि जिले में वाहनों की पासिंग और लाइसेंस जारी करने के नाम पर अवैध वसूली हो रही है। इसको देखते हुए लगातार नजर रखी जा रही थी।
... और पढ़ें

सुंदरनगर के लोगों से 14 करोड़ की ठगी, पुलिस ने मामला दर्ज कर शुरू की जांच

उपमंडल सुंदरनगर में पंजाब की दो कंपनियों पर करीब 150 लोगों के साथ धोखाधड़ी कर उनसे 13-14 करोड़ रुपये की राशि ठगने का मामला सामने आया है। धोखाधड़ी का शिकार हुए सुंदरनगर निवासी एक युवक की शिकायत पर पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। जानकारी के अनुसार सुंदरनगर थाना में दर्ज कराई प्राथमिकी में अमन कुमार ने कहा है कि कुछ माह पहले पंजाब की कंपनी हर घर मॉल डॉट कॉम और गैजबोजोन कंपनी के मालिक दीपक जिंदल और दीपक सिंगला सुंदरनगर आए थे।

उसने कंपनी के कार्यों का प्रलोभन देकर लोगों से पैसा इन्वेस्ट करने को लेकर अनेक सपने दिखाए। इसके बाद स्थानीय लोगों जिनकी संख्या 150 के करीब है, ने 13 से 14 करोड़ रुपये की राशि कंपनी में इन्वेस्ट कर दी। उसके बाद न तो कंपनी ने उन्हें कोई सामान दिया और न ही उनकी राशि वापस की।

बार-बार संपर्क करने पर भी कंपनी की ओर से कोई भी जवाब नहीं दिया जा रहा है। इससे प्रतीत होता है कि कंपनी ने उनके साथ धोखाधड़ी की है। अमन कुमार ने पुलिस से मांग उठाई है कि धोखाधड़ी करने वाली कंपनी के खिलाफ कार्रवाई कर उनकी राशि वापस दिलाई जाए। डीएसपी गुरबचन सिंह ने बताया पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।
... और पढ़ें

शिक्षक पति के हमले के बाद घायल पत्नी ने आईजीएमसी शिमला में तोड़ा दम

प्रतीकात्मक तस्वीर
हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले के उपमंडल करसोग में शिक्षक पति के हमले में गंभीर रूप से घायल पत्नी ने आईजीएमसी में उपचार के दौरान दम तोड़ दिया है। पुलिस ने सोमवार को शिमला पहुंचकर पोस्टमार्टम के बाद शव को परिजनों के सपुर्द कर दिया है। पुलिस ने महिला के पति के खिलाफ आईपीसी की धारा 302 के तहत मामला दर्ज किया है।

पति के हमले में घायल हुई महिला करीब एक सप्ताह से जिंदगी और मौत के बीच जंग लड़ रही थी। बता दें कि कला अध्यापक झाबर राम ने 10 मई को कहासुनी पर पत्नी मोनिका पर तेजधार हथियार से हमला कर दिया था।

इस दौरान बीच-बचाव करते हुए झाबर राम की मां और भाई भी जख्मी हो गए, जिन्हें उपचार के लिए सिविल अस्पताल करसोग लाया गया। यहां झाबर राम की पत्नी की गंभीर  हालत को देखते हुए उसे शिमला स्थित आईजीएमसी अस्पताल रेफर किया गया था। जहां महिला करीब एक सप्ताह से उपचाराधीन थी, लेकिन इस दौरान मोनिका ने दम तोड़ दिया। 

डीएसपी गीतांजलि ठाकुर ने बताया कि अध्यापक पर पत्नी सहित मां और भाई पर हमला करने के आरोप लगे थे। पत्नी ने सिविल अस्पताल करसोग से आईजीएमसी रेफर किया गया था। सूचना मिली कि उसकी मौत हो गई है। इस सिलसिले में कार्रवाई करने के लिए पुलिस शिमला गई । यहां पोस्टमार्टम करने के बाद शव को परिजनों के सुपुर्द किया गया है। उन्होंने कहा कि आरोपी शिक्षक के खिलाफ धारा 302 भी जोड़ी गई है।
... और पढ़ें

चौहारघाटी में 66 बीघा जमीन पर पकड़ी अफीम की अवैध खेती

मंडी जिला पुलिस ने नशा माफिया पर फिर बड़ी कार्रवाई की है। चौहारघाटी में बड़े पैमाने पर पोस्त (अफीम की प्रारंभिक स्टेज) की अवैध खेती का भंडाफोड़ किया गया है। पुलिस ने गुप्त सूचना पर दबिश देकर 66 बीघा से अधिक निजी और सरकारी भूमि में अवैध रूप से उगाए 15 लाख पोस्त के पौधे बरामद किए हैं। जिले में इतने बड़े पैमाने में नशे की खेती का यह पहला मामला है।
 


अफीम की अवैध खेती न केवल निजी बल्कि सरकारी भूमि पर भी लहलहा रही थी। पधर पुलिस ने चौहारघाटी की तरस्वाण पंचायत में बड़े पैमाने पर हुई अवैध खेती की भनक लगते ही कार्रवाई की है। साढ़े पांच घंटे पैदल सफर तय करने के बाद लगभग 17 घंटे तक चले इस सर्च अभियान में 66 बीघा से अधिक निजी और सरकारी रकबे में 15 लाख पोस्त के पौधे बरामद किए हैं। पुलिस ने राजस्व विभाग की टीम और पंचायत प्रधान के साथ इस ऑपरेशन को अंजाम दिया।

मामले में चार लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। मामले की जांच एसडीपीओ पधर लोकेंद्र नेगी कर रहे हैं। पोस्त की खेती को नष्ट करने के लिए चार टीमें भेजी गई हैं। इस अवैध खेती के तार अफगानिस्तान से भी जुड़े हो सकते हैं। एसपी मंडी शालिनी अग्निहोत्री ने कहा कि चौहारघाटी में पोस्त की अवैध खेती का अब तक का यह सबसे बड़ा मामला है। उन्होंने लोगों से अपील की कि कहीं भी इस तरह की अवैध खेती की गई है तो इसकी जानकारी मोबाइल नंबर 9317221001 पर साझा करें। सूचना देने वालों की पहचान गुप्त रखी जाएगी।
... और पढ़ें

मंडी: हुड़दंग मचाने से रोका तो नशेड़ी युवकों ने डॉक्टर को पीटा, चार गिरफ्तार

हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले में चिकित्सक और उसके भाई को चार युवकों ने बुरी तरह पीट डाला। युवक नशे में धुत थे। डॉक्टर और उसके भाई ने आवास के बाहर हुड़दंग मचा रहे युवकों को रोका था। बस इसी बात से युवक गुस्से में आ गए। मामला जिला मंडी के बगस्याड़ का है। शिकायत पर पुलिस ने चार आरोपी युवकों को धर-दबोचा है और मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है। एसपी शालिनी अग्निहोत्री ने घटना की पुष्टि की है। पुलिस के अनुसार सोमवार देर रात कुछ युवक शराब के नशे मे धुत होकर बगस्याड़ में चिकित्सक अभिनव चौहान के आवास के बाहर हुड़दंग मचा रहे थे। काफी शोर होने पर चिकित्सक ने उन्हें ऐसा करने से रोका और वहां से जाने को कहा।

इस बीच कुछ युवक चिकित्सक की कार को छेड़ने लगे और दो युवक चिकित्सक के कमरे में घुसने की कोशिश करने लगे। चिकित्सक ने कमरे का दरवाजा बंद कर दिया। लेकिन नशे में धुत युवकों ने कमरे का दरवाजा तोड़ दिया और चिकित्सक और उनके भाई को बुरी तरह पीट डाला। चिकित्सक ने पुलिस में दिए बयान में कहा कि आरोपियों ने शीशे की बोतलें तोड़ीं। कील वाले फट्टे और हॉकी से उन्हें कमरे में बंद कर आधा घंटे तक पीटते रहे। किसी तरह पुलिस और स्थानीय लोगों को सूचना मिली। पुलिस के आने पर नशेड़ी युवक भाग गए। बताया कि इससे पहले भी कई बार ये युवक डॉक्टर के आवास के शराब पीते रहते थे। उन्होंने कई बार शिकायत भी की थी।
... और पढ़ें

भाभी के हत्यारे देवर को आजीवन कारावास की सजा

अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश (सुंदरनगर) हंस राज की अदालत ने भाभी की हत्या के दोषी देवर को आजीवन कारावास के साथ जुर्माने की सजा सुनाई है। अभियोजन एवं बचाव पक्षों की दलीलें सुनने के बाद अदालत ने आरोप सिद्ध होने पर आलम सिंह अवतार सिंह निवासी डीनक जिला मंडी को आजीवन कारावास और 20,000 रुपये के जुर्माने की सजा सुनाई।

जुर्माना अदा न करने की सूरत में अदालत ने दोषी को तीन महीने की अतिरिक्त साधारण कारावास की सजा भी सुनाई। जिला न्यायवादी मंडी कुलभूषण गौतम ने बताया कि 12 फरवरी 2014 को आलम सिंह अवतार सिंह निवासी डीनक अपने मकान के लिए पीने के पानी की पाइप दबाने के लिए बीजी हुई गेहूं को काट कर नाली खोद रहा था। उसकी भाभी सुरेंद्र कौर ने कहा कि बिना पूछे उनका खेत क्यों खोद रहा है।

इस पर आलम सिंह ने अपने हाथ में ली हुई झाम्ब (फावड़ा) से भाभी के सिर पर चोट मार दी। इससे उसकी मृत्यु हो गई। इस पर थाना सुंदरनगर में अभियोग संख्या 40/14 दर्ज हुआ था। मामले की तफ्तीश निरीक्षक जगदीश कंवर ने की। जांच पूरी कर मामले का चालान अदालत में दायर किया। अदालत में अभियोजन पक्ष की तरफ से मुकद्दमे की पैरवी चानन सिंह उप जिला न्यायवादी सुंदरनगर ने की। अभियोजन पक्ष ने अदालत में 26 गवाहों के बयान कलमबंद करवाए थे।
... और पढ़ें

हिमाचल: नेरचौक मेडिकल कॉलेज में प्रथम वर्ष की छात्रा से रैगिंग

हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले में स्थित नेरचौक मेडिकल कॉलेज में रैगिंग का मामला सामने आया है।   प्रथम वर्ष की छात्रा ने एक सीनियर मेडिकल छात्र और ट्यूटर पर आरोप लगाए हैं। यह मामला रैगिंग कमेटी के पास भी पहुंचा था, लेकिन इस मामले को कमेटी ने रफा-दफा कर दिया। इसके बाद परिजनों ने इसकी शिकायत नेशनल एंटी रैगिंग हेल्पलाइन नंबर पर की। 
विश्वविद्यालय अनुदान आयोग ने कॉलेज प्रबंधन से रिपोर्ट तलब की, जिसके बाद मेडिकल कॉलेज की प्राचार्य की शिकायत पर पुलिस थाना बल्ह में मुकदमा दर्ज किया गया। एसपी मंडी शालिनी अग्निहोत्री ने इसकी पुष्टि की है।

उन्होंने बताया कि पुलिस ने अज्ञात ट्यूटर और सीनियर छात्र के खिलाफ हिमाचल प्रदेश इंस्टीट्यूशन एक्ट 2009 और 294 आईपीसी के तहत मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू की है। युवती के पिता भी एक संस्थान में एचओडी हैं। शिकायत में परिजनों ने आरोप लगाए हैं कि फ्रेशर पार्टी के दौरान सीनियर ने इंट्रोडक्शन के नाम पर तंग किया। वहीं खुले बालों में कॉलेज न आने का दबाव बनाकर छात्रा को तंग करने के ट्यूटर पर आरोप लगाए हैं। नेरचौक मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल आरसी ठाकुर ने कहा कि मामला एंटी रैगिंग कमेटी के पास पहुंचा था। पुलिस को इस संदर्भ में शिकायत दे दी गई है। आगामी कार्रवाई की जा रही है।
... और पढ़ें

नौकरी के नाम पर फर्जीवाड़ा, युवाओं से पैसे वसूलने वाली कंपनी पर केस

नौकरी के नाम पर फर्जीवाड़ा करने के आरोप में हिमाचल मैन पावर एसोसिएट्स के खिलाफ पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। कंपनी पर साक्षात्कार के नाम पर युवाओं से पैसा वसूलने का आरोप लगा है। सुंदरनगर में सोमवार को कंपनी ने एयरपोर्ट और मल्टीनेशनल कंपनियों में रोजगार के नाम पर साक्षात्कार रखे थे।

युवा साक्षात्कार देने पहुंचे तो कंपनी ने पंजीकरण के नाम पर 500 से लेकर 2000 रुपये वसूली शुरू कर दी। कुछ युवाओं ने पैसे दे भी दिए लेकिन अन्य युवाओं ने विरोध कर दिया। इस पर खूब हंगामा हुआ तो बीएसएल थाना से पुलिस पहुंच गई। युवाओं ने अपनी बात रखी। इस पर पुलिस साक्षात्कार लेने आई टीम और कंपनी के मालिक अविनाश कुमार को थाने ले गई। 

जानकारी के अनुसार बीएसएल कॉलोनी के निकट हिमाचल मैन पावर एसोसिएट्स कंपनी ने पिछले दिनों एयरपोर्ट में सैकड़ों पद भरने के लिए 15-16 मार्च को सुंदरनगर में इंटरव्यू रखा था। इसमें कहा गया कि दिल्ली की एक कंपनी युवाओं का इंटरव्यू लेकर उन्हें मौका पर ही नियुक्ति पत्र देगी। बाद में पुलिस के हस्तक्षेप के बाद कंपनी ने इंटरव्यू के लिए लिए गए रुपये वापस कर दिए। कुछ युवाओं ने धोखाधड़ी को लेकर थाना में शिकायत दे दी।

डीएसपी गुरबचन सिंह ने बताया कि प्राथमिकी दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। इधर, कंपनी के मालिक अविनाश कुमार ने फर्जीवाड़े के आरोपों को नकारा है। उन्होंने कहा कि कंपनी ने साक्षात्कार के लिए जो पैसे युवाओं से लिए थे, उन्हें लौटा दिया गया है। 
... और पढ़ें
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00