विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
सुखी वैवाहिक जीवन के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में कराएं राधा-कृष्ण युगल पूजा, 24 अगस्त को
Astrology Services

सुखी वैवाहिक जीवन के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में कराएं राधा-कृष्ण युगल पूजा, 24 अगस्त को

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

हरियाणाः रेवाड़ी में दो बच्चों को लेकर नहर में कूदी पुलिसकर्मी की पत्नी, महिला-बेटे का शव मिला

हरियाणा से बड़ी खबर आ रही है। रेवाड़ी में एक पुलिसवाले की पत्नी अपने दो बच्चों को लेकर नहर में कूद गई।

21 अगस्त 2019

विज्ञापन
विज्ञापन

यमुना नगर

बुधवार, 21 अगस्त 2019

बुजुर्ग ज्वेलर्स को बातों में उलझाकर सोने की चेन चोरी कर ले गईं महिलाएं

जगाधरी में चार महिलाएं ज्वैलर्स की दुकान से 17.900 ग्राम सोने की चेन चुराकर ले गई। महिलाएं गहने देखने के बहाने आई थी और हाथ साफ करके चली गई। दोनों महिलाएं सीसीटीवी में नजर आ रही है। पुलिस ने शिकायत दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।
पुलिस को दी शिकायत में बेलगाम गली निवासी नवल किशोर ने बताया कि उनकी जगाधरी के खेड़ा बाजार में कृष्ण ज्वैर्लस के नाम से सुनार की दुकान है। 12 अगस्त को दिन के समय करीब 2.30 बजे उसके दादा जगदीश लाल दुकान पर बैठे थे। तभी चार औरतें आई और सोने की चेन दिखाने को कहा। जगदीश ने उनको सोने की चेन दिखाई। उस समय उसके दादा व्यस्त थे। जिस कारण उन औरतों ने मिलकर सोने की एक चेन चोरी कर ली। जिस चेन का वजन करीब 17 ग्राम 900 मिली ग्राम था। जो वह औरतें चेन चुरा कर वहां से चली गई। जिनकी अब तक हम तलाश करते रहे, लेकिन वे कहीं नहीं मिली। पुलिस ने इस शिकायत पर चोरी का केस दर्ज कर लिया है।
महिला के गले से चेन तोड़ी
वहीं विष्णु गार्डन में नगर कीर्तन के दौरान एक महिला के गले की चेन किसी ने तोड़ ली। पुलिस को दी शिकायत में विष्णु गार्डन निवासी सुरिंद्र कौर ने बताया कि 13 अगस्त को सुबह करीब 11.30 बजे पर नगर कीर्तन में शामिल होने के लिये एसजीपीसी कार्यालय जगाधरी के पास गई थी। इस दौरान भीड़ में किसी ने उसके गले की चेन तोड़ ली। जिसका उसे बाद में घर आकर पता चला। दरअसल गुरुनानक देव के जन्म स्थान पाकिस्तान के ननकाना साहिब से अंतरराष्ट्रीय नगर कीर्तन जगाधरी पहुंचा था। नगर कीर्तन को देखने के लिए हजारों की संख्या में श्रद्धालु पहुंचे थे। इसी दौरान कई महिलाओं की चेन तोड़ ली गई, जबकि कई पुरुषों के पर्स चोरी हो गए।
नगर कीर्तन में सोने का कड़ा गायब
वहीं रघुनाथ पुरी निवासी एक महिला का नगर कीर्तन के दौरान सोने का कड़ा चोरी हो गया। पुलिस को दी शिकायत में परविंद्र सिंह ने बताया कि उसकी माता राजिंद्र कौर मंगलवार को नगर कीर्तन के दर्शन के लिए कौशिक अल्ट्रासाउंड के पास से आये थे। अचानक इनका हाथ का सोने का कड़ा गायब हो गया और किसी ने निकाल लिया। आसपास काफी तलाश किया गया, लेकिन कड़ा नहीं मिला। ... और पढ़ें

शादी का झांसा देकर युवती ने चार साल तक किया युवती ने दुष्कर्म, अब सिंगापुर हुआ फरार

अंबाला के एक गांव की युवती ने गांव कमालपुर निवासी युवक पर चार साल तक शादी का झांसा देकर दुष्कर्म करने का आरोप लगाया है। लेकिन अब शादी न करके आरोपी विदेश फरार हो गया। पुलिस ने युवती की शिकायत पर आरोपी युवक के खिलाफ केस दर्जकर जांच शुरू कर दी है।
अंबाला जिला के एक गांव निवासी युवती ने पुलिस को शिकायत दी है कि चार साल पहले उसकी मुलाकात कमालपुर निवासी गुरदीप के साथ हुई थी। दोनों के बीच नजदीकियां बढ़ती गई और प्यार हो गया। दोनों के बीच कई बार शारीरिक संबंध बने। गुरदीप उसे शादी करने की बात कहता था, लेकिन उसने उससे शादी नहीं की। जब उसने आरोपी से बातचीत करनी चाही तो आरोपी वहां ने उसे कोई संतोषजनक जवाब नहीं दिया। अब आरोपी उसे छोड़कर सिंगापुर चला गया है। महिला थाना प्रभारी सीमा का कहना है कि पुलिस ने आरोपी गुरदीप के खिलाफ केस दर्जकर लिया है। जांच की जा रही है। ... और पढ़ें

50 सप्ताह में रुपये ढाई गुणा करने का लालच देकर ड्राइवर से ठगे 45 लाख

50 सप्ताह में रुपये ढाई गुणा करने का लालच देकर अंबाला की कल्याण लाइफ केयर नाम की कंपनी ने गढ़ी गौसाई निवासी रविंद्र से 45 लाख रुपये ठग लिए। कंपनी ने पहले रविंद्र को कंपनी का एजेंट बनाया। इस दौरान रविंद्र ने अपने रिश्तेदारों के रुपये भी कंपनी में निवेश करवा दिए। लेकिन निर्धारित समय में कंपनी द्वारा रुपये ढाई गुणा नहीं किए गए। न ही कमीशन मिला। जिसपर रविंद्र ने शिकायत पुलिस को दी। पुलिस ने रविंद्र की शिकायत पर कंपनी के डायरेक्टर व उसकी पत्नी के खिलाफ केस दर्जकर जांच शुरू कर दी है।
गढ़ी गोसाई निवासी रविंद्र कुमार ने बताया कि वह सरस्वती नगर निवासी अक्षय अग्रवाल के पास ड्राइवरी का काम करता है। वर्ष 2017 में उसकी मुलाकात थाना छप्पर में कल्याण लाइफ केयर के डायरेक्टर पवन कुमार व उनकी पत्नी नम्रता श्रीवास्तव से हुई। दोनों ने उसे बताया कि उनकी कंपनी आयुर्वेदिक दवाईयों व हेल्थ केयर, ब्यूटी केयर का उत्पाद भी तैयार कर रहे हैं। यह कंपनी भी 2015 से पंजीकृत है। कंपनी के साथ कार्य करने के लिए आरोपियों ने वेबसाइट पर डाले दस्तावेज व प्रोडक्ट के बारे में बताया। इसके साथ ही प्रोडक्ट की बिक्री पर कमीशन दिए जाने का भी लालच रविंद्र को दिया। वह उनकी बातों में आकर कार्य करने लगा। कंपनी के साथ अन्य लोगों को जोड़ने पर अधिक कमीशन देने का लालच दिया गया। रविंद्र को कहा गया कि वह मोटी रकम लगाए। इसका ढाई गुणा पैसा 50 सप्ताह में मिलेगा। इस तरह से आरोपियों ने डेढ़ लाख रुपये ले लिए। मार्च में उन्हें कुछ पैसे कमीशन के तौर पर भी मिल गए। जिस पर उसने अपने परिचितों व रिश्तेदारों का पैसा भी कंपनी में निवेश करवा दिया। इस तरह से करीब 45 लाख रुपये जमा करवा लिए। यह पैसा रविंद्र ने ही अपने रिश्तेदारों से लेकर कंपनी में जमा करवाया। अब न तो कंपनी से कमीशन मिला और न ही रकम वापस हुई। तय समय के बाद जब उन्होंने अपने पैसे वापस मांगे, तो आरोपी उन्हें धमकी देने लगे। जिस पर पीड़ित ने एसपी को शिकायत दी थी। एसपी ने छप्पर थाना पुलिस को मामले में कार्रवाई करने के आदेश दिए। जिस पर पुलिस ने कंपनी के डायरेक्टर पवन कुमार व उनकी पत्नी नम्रता श्रीवास्तव पर धोखाधड़ी का केस दर्जकर लिया है।
छप्पर एसएचओ ललित कुमार ने बताया कि शिकायत के आधार पर केस दर्ज किया गया है। मामले की जांच की जा रही है। जांच के बाद मामले में आगामी कार्रवाई की जाएगी। ... और पढ़ें

दिल्ली में हथिनीकुंड बैराज के नाम से क्यों है खौफ, यहां का पानी कैसे मचाता है तबाही, पूरी कहानी

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में इन दिनों बाढ़ जैसे हालात हैं। इसकी वजह हथिनीकुंड बैराज से छोड़ा गया लाखों क्यूसेक पानी है। हर साल बरसात के मौसम में यमुना उफान पर होती हैं। दिल्ली में जनजीवन अस्त-व्यस्त हो जाता है और चर्चा में रहता है दिल्ली से 200 किलोमीटर पर स्थित हथिनीकुंड बैराज। आइए जानते हैं हथिनीकुंड बैराज के बारे में। कब निर्माण हुआ, क्या उद्देश्य थे और कैसे पड़ा हथिनीकुंड नाम।

हथिनीकुंड बैराज मुख्य रूप से हरियाणा के यमुनानगर जिले में है, लेकिन इसकी सीमाएं कई राज्यों से लगती हैं। इसमें हिमाचल प्रदेश, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड का कुछ हिस्सा शामिल है। बैराज का निर्माण 1996 से 1999 के बीच सिंचाई के उद्देश्य से किया गया था। हालांकि, 2002 तक धीमी कार्य प्रगति के चलते बैराज शुरू नहीं हो पाया था।
... और पढ़ें
हथिनीकुंड बैराज हथिनीकुंड बैराज

दर्दनाकः बुआ संग चार साल की मासूम को ट्राले ने कुचला, सौ मीटर तक घसीटा, दोनों की मौत

हरनौल रोड पर मंडेबर गुरुद्वारा के पास 22 टायरी ट्रॉला ने बाइक को टक्कर मार दी। टक्कर लगने से सड़क पर गिरी चार साल की मासूम बच्ची व उसकी बुआ को ट्राला ने कुचल दिया। हादसे में दोनों बुआ-भतीजी की मौके पर मौत हो गई।

इस दौरान महिला ट्राला के टायरों में फंस गई थी और ट्राला करीब सौ मीटर तक उसे घसीटता हुआ ले गया। चालक ने काफी दूर जाकर ब्रेक लगाए। हादसे के बाद चालक मौके से फरार हो गया। पुलिस सूचना पर मौके पर पहुंची और ट्रॉला को कब्जे में ले लिया है। पुलिस ने इस मामले में मृतका के भतीजे की शिकायत पर आरोपी ट्राला चालक पर केस दर्ज जांच शुरू कर दी है।

पुराना हमीदा की ब्रहमपुरी गली निवासी अतुल शर्मा ने फर्कपुर पुलिस को दी शिकायत में बताया कि वह एनजी मॉल गोबिंदपुरी रोड में नौकरी करता है। मंगलवार को वो घिलौर से आई उसके मामा सागर दत्ता की लड़की भावना उर्फ दृष्टि (04) को बाइक पर छोड़ने उनके घर जा रहा था। बाइक पर उसकी चाची रजनी (38) बच्ची भावना को गोद में लेकर बैठी थी।

हरनौल रोड पर जब वे गांव मंडेबर गुरुद्वारा के पास पहुंचे तो पीछे से 22 टायर वाला एक ट्राला बड़ी तेज गति से आया। आरोपी चालक ने उसकी बाइक को पीछे से टक्कर मार दी। टक्कर लगने पर वे तीनों बाइक समेत सड़क पर गिर गए। इस दौरान वह बायीं तरफ गिर गया, जबकि उसकी चाची रजनी व मामा की लड़की भावना सड़क पर गिर गई।
 
... और पढ़ें

बारिश थमने के साथ बढ़ गई लोगों की परेशानियां, अभी गांवों में जमा है पानी

दो दिन हुई मूसलाधार बारिश ने क्षेत्र के गांवों की अधिकतर सड़कों को भारी नुकसान पहुंचाया है। बारिश के पानी से सड़कों के बर्म भी क्षतिग्रस्त हो गए हैं। दो दिन बाद बारिश के पानी के निकासी होने के बाद नुकसान सामने आने लगा है।
घाड़ क्षेत्र के मुगलवाली बस स्टैंड से पृथ्वीपुर तक जाने वाली छह किलो मीटर लंबी सड़क पूरी तरह से क्षतिग्रस्त कर दिया है। टूटी सड़क के कारण एक दर्जन से अधिक गांवों के ग्रामीणों को उपमंडल मुख्यालय तक पहुंचने में भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। क्षेत्र के जगमाल, सतबीर, नरेश कुमार, बीर सिंह ने बताया कि मुगलवाली बस स्टैंड से पृथ्वी तक गाढ़वाली, माजरा, बनकट, रामगढ़ सवाई, काटरवाली सहित एक दर्जन से अधिक गांवों को जोड़ती है। रविवार हुई बारिश से खेतों का सारा पानी मुख्य सड़क से गुजरा। जिस कारण सड़क में जगह जगह गड्डे पड़े गए व कुछ जगहों पर सड़क के ब्रम धंस गए। ग्रामीणों ने कहा कि प्रदेश में सरकार प्रधानमंत्री सड़क योजना के तहत सड़कों के निर्माण का कार्य करवाया जा रहा है लेकिन घाड़ के इस क्षेत्र की ओर किसी का ध्यान नही गया है।
इन सड़कों की हालत हुई खराब : क्षेत्र के गांव अराईयावाला से भमनौली तक दो किलोमीटर लंबी सड़क पूरी तरह से टूट चुकी है, बिलासपुर से हडतोल तक जाने वाली सड़क, बिलासपुर प्रतापनगर मार्ग पर गांव मलिक पुर बांगर के समीप सड़क के टूटने ओर भ्रम धंसने, रणजीतपुर से सुल्तानपुर तक जाने वाली सड़क, बिलासपुर से चंदा खेड़ी तक जाने वाली सड़क, गांव चंदा खेड़ी से पीरूवाला तक जाने वाली सड़क, जगाधरी मुख्य मार्ग से गांव पीरूवाला तक जाने वाली सड़क, साढौरा गुलाबनगर मार्ग से मुसिम्बल तक जाने वाली सड़क, गांव महलावाली के समीप बने श्मशान घाट के पास मुख्य सड़क बरसाती पानी से टूट कर बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गई है। गांव मलिकपुर बांगर में श्मशान घाट के समीप सोमनदी का पानी सड़क के बर्म को नष्ट कर दिया है। जिससे सड़क के एक ओर तीन से चार फुट गहरे गड्ढे हो गए हैं जो कि मुख्य सड़क से गुजरने वाले वाहनों के लिए दुर्घटना का कारण बन सकते है।
दो दिन बाद भी पानी निकासी न होने से झोल रहे है परेशान : क्षेत्र के गांव महेश्वरी में बारिश के दो दिन बाद तक गांव की मुख्य गलियों में दो से तीन फुट पानी भरा है। जिसके कारण ग्रामीणों को अपने गांव से बाहर जाने में भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। गांव के एक दर्जन से अधिक गांवों में बारिश के पानी आने से घरों का घरेलू सामान भी खराब हो गया है। गांव के सूत्र पाल, पूर्ण चंद, संदीप, देबा, फूल चंद, अशोक, मंगी ने बताया कि गांव के समीप से बह रही चेतंग नदी में पानी की मात्रा बढ़ जाने से ओवरफ्लो पानी उनके गांव की ओर रुख कर गया है जिसके कारण गांव की गलियों में पानी भर गया है। गांव के गलियों में पानी भर जाने से ग्रामीण किसी भी कार्य के लिए गांव से बाहर नहीं निकल पा रहे हैं। ग्रामीणों ने बताया कि जिला प्रशासन की ओर अभी तक कोई भी प्रशासनिक अधिकारी मौके पर नही पहुंचा है। वहीं वीटा मिलक प्लांट में पानी भर जाने से मशीनरी व अन्य सामान खराब हो गया है। कर्मचारी विक्रम ने बताया कि बारिश के पानी की निकासी न होने से प्लांट के फर्नीचर व कुछ मशीनरी को नुकसान पहुंचा है। प्लांट के प्रांगण में अभी भी पानी भरा हुआ है।
राजकीय स्कूल के खेल मैदान से पानी की निकासी नहीं हुई : खंड के राजकीय स्कूल के खेल मैदान में दो दिन बाद भी दो से तीन फुट तक पानी भरा रहा। क्षेत्र के युवा तरूण बक्शी, राहुल, सुनील कुमार, राजीव, हार्दिक ने बताया कि खंड के एकमात्र खेल मैदान में पानी भरा होने से उन्हें खेल का अभ्यास करने में भारी परेशानी आ रही है। युवा खिलाड़ियों का कहना है कि कुछ दिन बाद राज्यस्तरीय खेल प्रतियोगिता करवाई जानी है। उसके लिए अभ्यास करने में खेल मैदान की कमी पड़ रही है। इसके साथ साथ रोजाना स्कूल के बच्चों को भी अभ्यास करने में भी परेशानी आ रही है। क्षेत्र के लोगों का कहना है कि खेल मैदान के समीप पंचायती तालाब बना हुआ है जिसके दो ओर से कुछ लोगों ने अवैध कब्जा किया हुआ है जिसके कारण तालाब से पानी की निकासी नहीं हो रही है ओर तालाब का पानी खेल मैदान में आकर रुक गया है। जल्द ही पानी की निकासी नहीं की गई, तो स्कूल के बच्चों में बीमारी फैलने का खतरा बना रहेगा। ... और पढ़ें

शांत हुई यमुना, छोड़ गई बर्बादी के निशां

रौद्र रूप लेने के बाद यमुना अब शांत हो गई। जहां बाढ़ का पानी अब उतरने लगा है वहीं तबाही के निशान भी दिखने लगे हैं। परंतु अभी भी कई इलाके जहां पानी जमा है। वहां के हालातों पर प्रशासन भी पूरी नजर रखे हुए है। हालांकि पानी पूरी तरह से नहीं उतरा, परंतु बाढ़ के इस पानी से उनका काफी नुकसान हो गया। लोगों के घरों में घुसे पानी से सारा सामान खराब हो चुका है। यहां तक घर में रखा राशन भी नहीं बचा पाए। ऐसे में उन्हें पड़ोसी से मदद ले पेट भरना पड़ा। उधर, बाढ़ के पानी से नेशनल हाईवे व लिंक रोड को काफी नुकसान पहुंचा है। इससे कई गांवों का शहर से संपर्क टूट चुका है ऐसे में मुख्य सड़क की जगह अब केवल कच्चा रास्ता ही दिखाई देने लगा है।
जठलाना और गुमथला में कृषि भूमि का कटाव जारी : उधर, जठलाना और गुमथला में बाढ़ के पानी से कृषि भूमि का कटाव जारी है। पानी खेतों में घुस चुका है ऐसे में कई एकड़ धान की फसल डूब गई। किसानों की मानें तो यह अवैध खनन का नतीजा रहा है। प्रशासन की लापरवाही और अनदेखी के कारण फसल को नुकसान हुआ है। ऐसे में अब दोबारा से फसल लगाने के हालात नहीं रहे। ... और पढ़ें

स्टाइपेंड के लिए प्रशिक्षुओं ने किया प्रदर्शन

रोडवेज वर्कशॉप में अप्रेंटिस कर रहे युवाओं ने मंगलवार को स्टाइपेंड के लिए कामकाज छोड़ प्रदर्शन करते हुए बस स्टैंड पहुंचे। यहां उन्होंने जीएम ऑफिस के सामने धरना दे दिया और नारेबाजी कर स्टाइपेंड दिलाने की मांग की। उधर, युवाओं द्वारा कामकाज छोड़ देने से वर्कशॉप का कार्य काफी प्रभावित हो गया। इससे वहां के कर्मचारियों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा।
पंचकूला तक लगा चुके दौड़ : वर्कशॉप मेें अप्रेंटिस कर रहे कमल, रोबिन, अंकुश ने बताया कि 70 युवाओं को जून-जुलाई माह का स्टाइपेंड नहीं मिला। इसके लिए रोडवेज विभाग के जीएम, ट्रैफिक मैनेजर व अकाउंट ऑफिसर से लेकर पंचकूला हेडक्वार्टर तक दौड़ लगा रहे हैं, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही। उन्होंने कहा कि वे अपना हक मांग रहे हैं। इसके लिए भी उन्हें धक्के खाने पड़ रहे हैं इससे समय और पैसे दोनों की बर्बादी हो रही है।
76 युवा कर रहे अप्रेंटिस : राजेश कांबोज व अंशुल ने बताया कि वर्कशॉप में 76 युवा अपनी आईटीआई की ट्रेड मुताबिक वेल्डर, इलेक्ट्रिकल, कारपेंटर, डीजल मैकेनिक, टर्नर आदि का काम कर रहे हैं। इसकी एवज में विभाग की तरफ से हर युवा को प्रति माह आठ हजार 71 रुपये स्टाइपेंड दिया जाता है। किंतु जून माह से स्टाइपेंड नहीं आया है। इसके बारे में वे कई बार लिखित में स्थानीय व हेड क्वार्टर को भी अवगत करवा चुके हैं फिर सुनवाई नहीं हो रही। उन्होंने कहा कि स्टाइपेंड लेने के लिए संघर्ष करना पड़ा तो करेंगे, लेकिन स्टाइपेंड लेकर रहेंगे।
युवाओं का स्टाइपेंड की आ रही दिक्कत के बारे में हेड क्वार्टर को अवगत करवा दिया गया है। जल्द ही उन्हें स्टाइपेंड मिल जाएगा। इसके बारे में लगातार उच्च अधिकारियों से बातचीत चल रही है।
- विक्रम कांबोज, वर्क्स मैनेजर, रोडवेज वर्कशॉप यमुनानगर। ... और पढ़ें

'जल की जेल' में कैद चार हजार जिंदगियां, न पानी उतरा, न राहत पहुंची, यूं गुजर रही दिन-रात

स्टाइफंड न मिलने पर युवाओं ने यमुनागर बस स्टैंड पर दिया धरना की नारेबाजी
यमुना में आई बाढ़ के कहर से सैकड़ों लोगों की जिंदगी भंवर में फंस गई है। यमुना से सटे लापरा और पोबारी गांव 'जल की जेल' में कैद है। दोनों गांवों के चारों तरफ पानी का पहरा है और गलियों व घरों में दो से चार फीट पानी है। यहां की चार हजार आबादी ने घरों की छत और ऊंचे स्थानों पर शरण ले रखी है। 

दो दिन से ना पानी उतरा है और ना ही राहत पहुंची है। स्वास्थ्य विभाग की तरफ से लापरा भेजी गई एम्बुलेंस भी गांव से दो किमी पहले खड़ी की गई है। वहीं पोबारी गांव देश दुनिया से पूरी तरह से कटा हुआ है। यहां जरूरी सामान की भी किल्लत होनी शुरू हो गई है। 

यह भी पढ़ें- 24 घंटे में पाकिस्तान पहुंचेगी 'आसमानी आफत', भारत पर लगाया ये आरोप

लापरा-पानी के प्रहार से बेबस जिंदगी 
शहर से केवल दस किमी दूर है लापरा गांव। यहां रहने वाले अरसद, वसीम, जमील, सज्जाद आदि ने बताया कि यमुना के पानी का प्रहार जिंदगी का इम्तिहान ले रहा है। बाढ़ से पहले अफसर और नेता आते हैं, कई वादे करके चलते जाते हैं लेकिन हर साल ये दंश झेलने को मजबूर हैं। गांव की हजारों एकड़ फसल बह गई है। 
... और पढ़ें

करनाल के व्यापारी को लूटने वाला बरजिंद्र दोषी करार, आज सुनाई जाएगी सजा

यमुनानगर। एडीजे डॉ. अब्दुल माजिद की कोर्ट ने व्यापारी को लूटने के आरोपी बरजिंद्र सिंह को दोषी करार दिया है। बरजिंद्र के तीन साथियों को कोर्ट साल 2016 में चार-चार साल की सजा सुना चुकी है। बरजिंद्र सिंह वारदात के बाद विदेश में भाग गया था। जैसे ही वह वहां से आया तो पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया था। सोमवार को बरजिंद्र को कोर्ट ने दोषी करार दिया, मंगलवार को उसे सजा सुनाई जाएगी।
बॉक्स
ये था मामला :
करनाल निवासी त्रिभवन भारद्वाज ने 20 सितंबर 2014 को शहर पुलिस को शिकायत दी थी कि वह अपनी कार में यमुनानगर आया था। उसे किसी की पेमेंट देनी थी। जब रात करीब 12 बजे वे वर्कशॉप रोड पर शराब के ठेके पास पहुंचे तो वहां पर छह-सात युवक थे। उन्होंने उस पर हमला कर दिया। उसने हमला करने में शामिल चार को पहचान लिया था। वे उस पर गंडासी और रॉड से हमला कर 60 हजार रुपये छीन ले गए थे। वहीं सोने की चेन भी छीन ली थी। पुलिस ने इस शिकायत पर 24 सितंबर 2014 को केस दर्ज किया था। ... और पढ़ें

मकान में हिस्सा मिलने के समझौते के बाद किया महिला का अंतिम संस्कार

यमुनानगर। फर्कपुर में बीमारी के चलते 40 वर्षीय महिला चंपा देवी की मौत के बाद परिजन दूसरे दिन भी संस्कार को लेकर तैयार नहीं हुए। दूसरे दिन भी परिवार के लोग मकान में हिस्से को लेकर हंगामा करते रहे। मृतका के परिजनों की मांग थी कि जब तक मृतका का ससुर मकान में हिस्सा नहीं देता तब तक वे संस्कार नहीं करेंगे। मकान में हिस्सा मिलने के बाद ही वे संस्कार करेंगे। हंगामे की सूचना मिलते ही फर्कपुर थाना पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस व मौजिज लोगों ने दोनों पक्षों की बातचीत करवाकर समझौता करवाया। जिसमें लिखित फैसला हुआ कि मृतका के पति का पिता मकान के ऊपर का हिस्सा देगा। मौके पर ही मृतका के पति को मकान के ऊपर के हिस्सा का कब्जा दिलाया गया। जिसके बाद मृतका का अंतिम संस्कार किया गया।
बॉक्स
सुसर मौखिक तो परिजन लिखित फैसले पर अड़े :
हंगामे की सूचना पर पहले पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस ने दोनों पक्षों के बीच बातचीत करवाई। जिसमें फैसला हुआ कि मृतका के पति को मकान में हिस्सा दिया जाए, लेकिन मृतका का ससुर मौखिक तौर पर फैसला करने की बात पर अड़ गया। उधर, मृतका के परिजन लिखित में मांगने लगे। इसके बाद में पार्षद और अन्य मौजिज लोग वहां पर पहुंचे। पार्षद की मौजूदगी में पंचायती हुई। जिसमें आपसी सहमति से दोनों पक्षों के बीच लिखित में समझौता कराया कि मृतका के पति जगमाल को उसका पिता रामस्वरूप के मकान का ऊपर का हिस्सा दिया जाए। लिखित में समझौता होने के बाद मौके पर ही जगमाल को मकान के ऊपर के हिस्सा का कब्जा दिला दिया गया। इसमें किसी पक्ष पर कोई दबाव नहीं डाला गया।
बॉक्स
किराएदार ने शव रखने से मना किया तो ऑटो में लेकर पहुंचा था पिता के घर :
फर्कपुर निवासी जगमाल के पिता रेलवे से रिटायर्ड है। उसने दो शादियां की थी। जिस महिला से जगमाल के पिता ने दूसरी शादी की थी, उसके बच्चों के नाम उसने मकान करवा दिया था। इसको लेकर दोनों पक्षों में विवाद चल रहा था। जगमाल पहली पत्नी से पैदा हुआ था। जगमाल अपनी पत्नी चंपा व परिवार के अन्य सदस्यों के साथ किराए पर रहता था। जगमाल की पत्नी चंपा देवी की फेफडे़ खराब होने के कारण रविवार को मौत हो गई थी। मकान मालिक ने उसे वहां पर संस्कार करने से मना कर दिया था और उन्हें अंतिम संस्कार की प्रक्रिया अपने मकान में जाकर करने को कहा था। इस पर जगमाल अपनी पत्नी चंपा के शव को ऑटो में रखकर अपने पिता के मकान में पहुंच गया था। वहां पर जैसे ही उसकी सौतेली मां और भाईयों ने देखा तो वे मकान का ताला लगाकर चले गए थे। जिसके बाद उसने ताला तोड़ दिया और शव को अंदर रख दिया। जिसके बाद दोनों पक्षों में विवाद हो गया था। मृतका के परिजन मकान में जगमाल को हिस्सा दिलाने की मांग पर अड़े हुए थे।
वर्जन
फर्कपुर में मकान में हिस्से को लेकर हुए हंगामे की सूचना पर पुलिस मौके पर गई थी। दोनों पक्षों को समझा दिया गया। दोनों का लिखित में समझौता करवाकर मृतका का अंतिम संस्कार करवा दिया गया है।
- दिनेश कुमार, एसएचओ, थाना फर्कपुर। ... और पढ़ें

टांगरी नदी में बाढ़ आने से बंद रही ट्रेने, हेमकुंड एक्सप्रेस हुई रद्द

यमुनानगर। भारी बारिश के कारण सड़कें जलमग्न होने के कारण यातायात प्रभावित रहा। वहीं अंबाला के दुखेड़ी स्थित टांगड़ी नदी में बाढ़ आने के बाद रेल मार्ग बंद कर दिया गया। जिस कारण रविवार देर शाम से अलसुबह तक कोई ट्रेन यमुनानगर-जगाधरी रेलवे स्टेशन से कोई ट्रेन रवाना नहीं गुजरी। बाढ़ के कारण अंबाला-सहारनपुर मार्ग पूरी तरह बाधित रहा। इसका असर सोमवार को भी देखने को मिला। सोमवार को इस रूट से ट्रेन तो गुजरी, लेकिन अपने निर्धारित समय से घंटों की देरी से गईं। रविवार सुबह बारिश के कारण मिट्टी खिसकने से ओएचई पोल गिर गया था। जिस कारण रविवार दिन भर अंबाला सहारनपुर रेल मार्ग पूरी तरह बंद रहा। वहीं पहाड़ों में हुई बारिश के कारण अंबाला के दुखेड़ी स्थित टांगरी नदी में बाढ़ आने के चलते रात को भी यह रूट बंद कर दिया गया। इस दौरान रेलवे स्टेशन पर ट्रेन के इंतजार में बैठे यात्रियों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ा। दूर से ट्रेन पकड़ने आए यात्रियों को रात प्लेटफार्म पर बितानी पड़ी। इसका असर सोमवार को भी देखने को मिला। सोमवार को सभी ट्रेन देरी से गईं।
रद्द रहेगी हेमकुंड एक्सप्रेस
बाढ़ के कारण जहां सभी ट्रेने रविवार को कैंसिल कर दी गई। वहीं हेमकुंड एक्सप्रेस को सोमवार व मंगलवार के लिए भी रद्द किया गया है। श्रीमाता वैष्णो देवी कटरा से चलकर ऋषिकेश जाने वाली हेमकुंड एक्सप्रेस जो यमुनानगर-जगाधरी स्टेशन पर रात करीब साढ़े तीन बजे आती है 20 अगस्त को कैंसिल कर दी गई है। जबकि ऋषिकेश से चलकर श्रीमाता वैष्णो देवी कटरा जाने वाली हेमकुंड एक्सप्रेस जो शाम सवा आठ बजे पहुंचती है वह मंगलवार को कैंसिल रहेगी।
सभी ट्रेनें देरी से चलीं
सोमवार अलसुबह रेल मार्ग बहाल कर दिया गया। लेकिन टांगरी नदी के पुल से सभी ट्रेने जीरो कॉउशन पर निकाली गई। इस दौरान सभी ट्रेनें लेट रही। सोमवार सुबह बाडमेर एक्सप्रेस, अमरनाथ, शालीमार, अमृतसर-हरिद्वार, जननायक, जनसेवा, सद्भावना, लखनऊ-चंड़ीगढ़ सहित सभी ट्रेनें अपने निर्धारित समय से विलंब से चलीं। ... और पढ़ें

पिछली सरकार बिल्डरों के हाथों की कठपुतली थी, हमने व्यवस्था बदल दी: मुख्यमंत्री

यमुनानगर। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने जन आशीर्वाद यात्रा के दूसरे दिन यमुनानगर में 11 करोड़ 56 लाख 90 हजार रुपये की राशि से तैयार की गई तीन बड़ी परियोजनाओं का उद्घाटन किया। जगाधरी रेस्ट हाउस में 3 करोड़ 11 लाख 46 हजार रुपये की एक परियोजना की आधारशिला भी रखी। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि सरकार पूरी पारदर्शिता से जनहित के कार्यों को पूर्ण करने में लगी हुई है। जो हरियाणा पहले जमीनों के व्यापार के लिए जाना जाता था और पिछली सरकार बिल्डरों के हाथ की कठपुतली बन गई थी। जहां नौकरी लेन-देन का एक व्यवसाय था। उस हरियाणा में भाजपा सरकार ने अक्तूबर 2014 के बाद अपने एक ही क्रम में भ्रष्टाचार को भूतकाल बना दिया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि नव हरियाणा का निर्माण कर इसे विकसित देशों की तरह आदर्श राज्य बनाना चाहते हैं। जन आशीर्वाद यात्रा केवल भाजपा की यात्रा नहीं बल्कि पूरे हरियाणा की जनता की यात्रा है। लोगों के आशीर्वाद से हरियाणा में 75 से ज्यादा सीटें जीतकर दोबारा से भारी बहुमत से सरकार बनाएंगे, भाजपा संगठन एवं सरकार की दृष्टि से मजबूत है। हरियाणा सरकार ने 37 विभागों एवं 450 सेवाओं को ऑनलाइन सेवा के माध्यम से जन-जन तक पहुंचाया गया है और घर बैठे ही लोग अपने कार्य सुगमता से निपटा सकते हैं।
इन कार्यों का किया उद्घाटन
बिलासपुर से आदिबद्री तक 22 करोड़ 23 लाख 84 हजार रुपये से सड़क का निर्माण।
-13 करोड़ 76 लाख रुपये की राशि से गांव रसूलपुर में 66 केवीए बिजली सब स्टेशन का निर्माण।
-बिलासपुर में सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र व सरस्वती नगर के स्वास्थ्य केन्द्र को 5 करोड़ 42 लाख 71 हजार रुपये की राशि से बनाया।
-गांव खदरी में 3 करोड़ 16 लाख 90 हजार रुपये की राशि से तैयार किए गए स्वास्थ्य विभाग के नए प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र।
-रामपुर गेंदा गांव में सोमनदी के ऊपर 6 करोड़ 20 लाख रुपये की लागत से तैयार किए गए उच्च स्तरीय पुल का उद्घाटन।
-गांव डुमावाला के नजदीक स्टेट हाईवे नंबर-4 पर रिवर क्रीक पर 2 करोड़ 20 लाख रूपये की लागत बनाए गए उच्च स्तरीय पुल।
-थाना छप्पर में 3 करोड़ 11 लाख 46 हजार रुपये से बनाए जाने वाले लोक निर्माण विभाग (भवन एवं मार्ग) के विश्राम गृह की आधारशिला भी रखी।
ये कार्य चल रहे हैं
-बिलासपुर में 12 करोड़ रुपये की राशि से राजकीय कॉलेज का भवन।
-ग्रामीण क्षेत्रों में 15 करोड़ 55 लाख 26 हजार रुपये की राशि से 449 विकास कार्य।
-सरस्वती नगर व सढ़ौरा में 36 करोड़ 34 लाख 91 हजार रुपये की राशि से सीवरेज लाइन।
-गांव भगवानपुर से हिमाचल प्रदेश के बार्डर गांव लोहगढ़ तक 13 करोड़ 82 लाख 69 हजार रुपये की राशि से सड़क निर्माण।
-लोहगढ़ के नजदीक सोमनदी पर पुल का निर्माण कार्य 9 करोड़ 7 लाख रुपये की राशि से प्रगति पर है।
-खानूवाला-नगली मार्ग का चौड़ीकरण का कार्य 22 करोड़ 20 लाख 89 हजार रूपये से हो रहा है।
-ललहाडी से भम्रौली तक 8 करोड़ 53 लाख 41 हजार रुपये से सड़क का निर्माण।
-साढ़ौरा से मुगलवाली तक 10.60 किलोमीटर लंबी सड़क का 8 करोड़ 55 लाख रुपये से चौड़ीकरण।
-साढौरा में 10 करोड़ रुपये की राशि से बहुउद्देश्यीय तकनीकी कॉलेज का निर्माण।
-गांव रामपुर चौली में 5 करोड़ 52 लाख रुपये की राशि से 33 केवी बिजली सब स्टेशन का निर्माण।
ये रहे मौजूद
कुरूक्षेत्र के सांसद नायब सिंह सैनी, विधान सभा के स्पीकर कंवर पाल, साढौरा के विधायक बलवंत सिंह, यमुनानगर के विधायक घनश्याम दास अरोड़ा, नगर निगम के मेयर मदन चौहान, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला, जिला अध्यक्ष महेन्द्र खदरी आदि मौजूद रहे। ... और पढ़ें

हरियाणाः रौद्र रूप में बह रही यमुना, 8.28 लाख क्यूसेक हुआ पानी, दिल्ली पर बाढ़ का खतरा मंडराया

बारिश के कारण हरियाणा में यमुना नदी रौद्र रूप में बह रही है। इसका जलस्तर आठ लाख 28 हजार क्यूसेक को भी पार कर गया है, जिससे दिल्ली में बाढ़ का खतरा बढ़ गया है। रविवार को यमुना के जलस्तर ने अब तक के सारे रिकार्ड तोड़ दिए। सिंचाई विभाग की तरफ से यमुनानगर, करनाल, पानीपत और सोनीपत में रेड अलर्ट जारी कर दिया है। वहीं इन चारों जिलों में यमुना की जद में आने वाले रिहायशी इलाके खाली करने के आदेश जारी किए हैं।

साथ ही दिल्ली सरकार को भी सूचना भिजवा दी है। 72 घंटे के भीतर पानी के इस खतरनाल लेवल से राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली में बाढ़ के आसार बन गए हैं। हथिनीकुंड बैराज बनने के बाद अब तक का सबसे ज्यादा पानी 17 जून 2013 को 8,06,464 क्यूसेक दर्ज किया गया था। जबकि पिछले साल साढ़े छह लाख क्यूसेक पानी आया था। 1872 में अंग्रेजों द्वारा बनाएं गए ताजेवाला हेडवर्क्स पर भी इतना ज्यादा पानी पहुंचने का कोई रिकार्ड नहीं है।

दिल्ली में पहुंच सकता है ज्यादा पानी
सिंचाई विभाग की यमुना जल सेवाएं प्रभाग के एक्सईएन हरिदेव कांबोज ने बताया कि यमुनानगर में सोमनदी और पथराला नदी भी उफान पर है। इसके अतिरिक्त हरियाणा और यूपी के कई बड़े बरसाती नाले यमुना में गिरते हैं। ऐसे में दिल्ली पहुंचने वाला पानी आठ लाख क्यूसेक से काफी ज्यादा हो सकता है। क्योंकि इन नदी नालों का जलस्तर भी खतरे के निशान से कई गुणा ज्यादा है। दिल्ली सरकार को इस बारे में सूचना भिजवा दी गई है।   ... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree