विज्ञापन
विज्ञापन

गाड़ी से पांच सौ और सौ रुपये के नोट के रूप में तैयार नकली गड्डियां बरामद

अमर उजाला ब्यूरो, पानीपत। Updated Sun, 14 May 2017 11:06 PM IST
suv,five,hunderd,one,hunderd,fake
ख़बर सुनें
नीली बत्ती लगी गाड़ी में मिले नकली नोट और फर्जी पुलिसकर्मी, सात दबोचे   
विज्ञापन
सीआईए-तीन पुलिस ने शनिवार देर शाम नकली नोट गिरोह का पर्दाफाश करते हुए सेक्टर 11/12 स्थित नवांकोट गुरुद्वारे के पास से सरगना सहित सात आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी नीली बत्ती लगी एक स्कॉर्पियो और मारुति एसएक्स-4 गाड़ी में सवार थे। इनमें तीन आरोपी पुलिस की वर्दी पहने हुए थे। पुलिस ने गाड़ी से सौ-सौ रुपये के नकली नोटों की 34 डमी गड्डी और 500 रुपये के नकली नोटों की 10 डमी गड्डी बरामद की हैं। इनकी कीमत साढ़े आठ लाख रुपये है। आरोपी भोले-भाले लोगों को असली नोटों के बदले तीन गुना नोट देने का लालच देकर ठगते थे। आरोपियों पर हरियाणा और पंजाब में 12 मुकदमे दर्ज हैं। सभी को रविवार को अदालत में पेश कर चार दिन के पुलिस रिमांड पर लिया गया है।
सीआईए-तीन प्रभारी सब इंस्पेक्टर छबील सिंह ने बताया कि शनिवार देर शाम पुलिस को सूचना मिली कि सेक्टर 11/12 में नवांकोट गुरुद्वारे के पास दो गाड़ियों में सवार कुछ संदिग्ध लोग नकली नोट सप्लाई करने की कोशिश में हैं। सूचना पर पहुंची सीआईए-तीन की टीम ने दो गाड़ियों से सात आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने गिरफ्तार आरोपियों की पहचान हसनगढ़ हिसार निवासी भीम सिंह, गांव खरावड़ रोहतक निवासी पवन उर्फ पोना, गांव कड़ी फतेहाबाद निवासी राजबीर, गांव मरदान खेड़ा करनाल निवासी गुलाब सिंह, गांव हसनगढ़ हिसार निवासी अनिल, गांव रोहड़ जींद निवासी पवन और असंध करनाल निवासी निरंजन के रूप में दी है। भीम सिंह को गिरोह का सरगना बताया जा रहा है। इनमें पवन, नीरज और गुलाब पुलिस की वर्दी पहने थे। पुलिस ने आरोपियों के कब्जे से नीली बत्ती लगी एक स्कॉर्पियो और मारुति एसएक्स-4 गाड़ी बरामद की है। पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि वह लोगों को अपने जाल में फंसाकर रकम ऐंठते थे। पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ धोखाधड़ी सहित विभिन्न धाराओं के तहत केस दर्ज कर सभी आरोपियों को अदालत में पेश कर चार दिन के रिमांड पर लिया है।
असली नोट के आखिरी नंबर को बदल बनाते थे विश्वास      
आरोपी असली नोटों के आखिरी नंबर के साथ छेड़छाड़ कर एक नंबर के दो नोट बना उन्हें मार्केट या बैंक में जमा करवाने के लिए लोगों को सैंपल के तौर पर देते थे। लोग उसे नकली समझकर बैंक या मार्केट में चलाते थे। नोट असली होने के कारण हर जगह चल जाते थे, क्योंकि नोट का केवल नंबर ही बदला होता था। नोट मार्केट में चलने के बाद लोग इन पर शक भी नहीं कर पाते थे।
ऐसे देते थे वारदात को अंजाम      
आरोपी लोगों का विश्वास हासिल करने के बाद उन्हें दो लाख रुपये के बदले छह लाख रुपये देने का लालच देते थे। एक नोट मार्केट में चलने के बाद लोग समझते कि सभी नोट मार्केट में चल जाएंगे। इसके बाद आरोपी उन्हें असली नोटों के बदले तीन गुने नकली नोट देने की डील कर पैसे बदलने के लिए किसी स्थान पर रकम के साथ बुला लिया करते थे। वे लोग जैसे ही पैसों की डील शुरू करते थे। उसकी समय आरोपियों के तीन साथी नीली बत्ती लगी स्कॉर्पियो गाड़ी में पुलिस की वर्दी पहनकर मौके पर रेड मारने का नाटक करते थे। इसके बाद मुकदमा दर्ज करने की धमकी देकर भोले-भाले लोगों को धमका कर पैसे लेकर भगा दिया करते थे। ऐसे में असली और नकली दोनों तरह के नोट ठग अपने पास रख लेते थे।

पानीपत में ग्राहक की तलाश में आए थे       
सभी आरोपी शनिवार को वारदात करने के लिए किसी ग्राहक की तलाश में पानीपत आए थे। वे किसी को अपना शिकार बनाते, उससे पहले ही सीआईए-तीन ने सरगना समेत सातों आरोपियों को दबोच लिया। गिरफ्तारी के समय पवन सब इंस्पेक्टर और गुलाब सिंह सहायक सब इंस्पेक्टर की वर्दी पहने हुए था।

हरियाणा और पंजाब में 12 मुकदमे हैं दर्ज      
पुलिस ने बताया कि गिरोह का मुख्य सरगना गांव हसनगढ़ हिसार निवासी भीम सिंह अपने साथियों सहित हरियाणा और पंजाब में इस प्रकार की कई वारदातों को अंजाम दे चुका है। गिरोह के पांच सदस्यों के खिलाफ हरियाणा और पंजाब में इस प्रकार की धोखाधड़ी के करीब 12 मुकदमे दर्ज हैं।      

ऊपर-नीचे असली नोट, बीच में रंगीन कागज      
आरोपी सौ और पांच सौ के नोट की गड्डी के ऊपर-नीचे असली नोट लगाते थे। इस गड्डी के बीच में रंगीन कागज रखकर डमी गड्डी बनाते थे। पुलिस ने आरोपियों के कब्जे से 8.50 लाख रुपये नकली नोट और 16 हजार रुपये असली नोट बरामद किए हैं।  

सेक्टर 11/12 स्थित गुरुद्वारे के पास से सरगना समेत सात आरोपियों को गिरफ्तार किया है। आरोपियों के कब्जे से नीली बत्ती लगी स्कॉर्पियो और मारुति एसएक्स-4 कार बरामद की है। तीन आरोपी पुलिस की वर्दी पहने थे। आरोपियों के खिलाफ थाना चांदनी बाग में केस दर्ज किया गया है। आरोपियों को अदालत में पेश कर चार दिन का पुलिस रिमांड लिया है।
छबील सिंह, प्रभारी, सीआईए-तीन, पानीपत।
विज्ञापन

Recommended

OPPO के Big Diwali Big Offers से होगी आपकी दिवाली खूबसूरत और रौशन
Oppo Reno2

OPPO के Big Diwali Big Offers से होगी आपकी दिवाली खूबसूरत और रौशन

कराएं दिवाली की रात लक्ष्मी कुबेर यज्ञ, होगी अपार धन, समृद्धि  व्  सर्वांगीण कल्याण  की प्राप्ति : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

कराएं दिवाली की रात लक्ष्मी कुबेर यज्ञ, होगी अपार धन, समृद्धि व् सर्वांगीण कल्याण की प्राप्ति : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Panipat

फेसबुक पर पोस्ट डालने को लेकर दो दोस्तों में हुआ विवाद,एक ने दूसरे को घर बुलाकर किया हमला

फेसबुक पर पोस्ट डालने को लेकर दो दोस्तों में हुआ विवाद,एक ने दूसरे को घर बुलाकर किया हमला

19 अक्टूबर 2019

विज्ञापन

सीसीटीवी फुटेज में कैद थे कमलेश तिवारी की हत्या के आरोपी, वीडियो से पुलिस ने की पहचान

कमलेश तिवारी की हत्या के बाद पुलिस को दो सीसीटीवी फुटेज हाथ लगे। जिसका जिक्र खुद यूपी के डीजीपी ओपी सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में किया। यहां देखिए वो दोनो सीसीटीवी फुटेज जो कमलेश के आरोपियों तक पहुंचने में मददगार साबित हुए।

19 अक्टूबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree