बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन

कैथल

विज्ञापन
कालाष्टमी प्राचीन कालभैरव मंदिर दिल्ली में पूजा और प्रसाद अर्पण से बनेगी बिगड़ी बात, अभी बुक करें
Myjyotish

कालाष्टमी प्राचीन कालभैरव मंदिर दिल्ली में पूजा और प्रसाद अर्पण से बनेगी बिगड़ी बात, अभी बुक करें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

कैथल: पशु चोरी करने वाले गिरोह से जुड़े दो आरोपी गिरफ्तार, छह जिलों के 18 मामलों को सुलझाया

हरियाणा की कैथल पुलिस ने कैथल सहित प्रदेश के कई जिलों से 44 पशु चोरी करने वाले गिरोह से जुड़े दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। आरोपियों से पूछताछ के बाद पुलिस ने पशु चोरी के 18 मामलों को सुलझाया है। दोनों को न्यायालय में पेश कर न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।

डीएसपी रविंद्र कुमार सांगवान ने सीआईए-टू थाना में मीडिया से बातचीत में बताया कि गत 8 दिसंबर को थाना तितरम पुलिस की टीम एक पशु चोरी के मामले की जांच के दौरान हाइवे प्यौदा हरसौला कट के पास खड़ी थी। पुलिस द्वारा वहां एक पिकप गाड़ी में आए आरोपी कैराना जिला शामली उत्तर प्रदेश निवासी आसिफ को गिरफ्तार किया था। उसके साथ गाड़ी को चला रहा दूसरा आरोपी ढोहकी कितलाना जिला दादरी निवासी सुनील उर्फ टिंकू मौके से फरार हो गया था। बाद में पुलिस ने वाहन चालक को भी गिरफ्तार कर लिया था। 

आरोपी आसिफ को न्यायालय से 5 दिन के रिमांड पर लेकर की गई पूछताछ के बाद एंटी थेफ्ट स्टाफ द्वारा पशु चोर गिरोह का भंडाफोड़ करते हुए सभी आरोपियों की पहचान कर ली गई थी। इसके बाद 24 वर्षीय आरोपी उत्तर प्रदेश के कैराना जिला शामली निवासी कामील तथा करीब 27 वर्षीय आरोपी ताहिर को पुलिस ने गिरफ्तार किया है।

यह भी पढ़ें ः 
घर में घुसकर कंप्यूटर सेंटर संचालक की गोली मारकर हत्या: आरोपी पुराने मामले में समझौते के लिए पीड़ित पर बना रहा था दबाव

इस गिरोह के एक सदस्य यूपी के गाजियाबाद निवासी पप्पू की भी पहचान की है। जो अभी फरार है। इनसे पूछताछ में 18 चोरी की वारदातें सुलझाने में कामयाबी मिली है। ताजे मामले में 7 दिसंबर को देवबन के खेतों से 3 कटड़ी और एक झोटा चोरी कर लिया गया था।

गांव वासी रोहताश की शिकायत पर पुलिस ने इस मामले में केस दर्ज किया था। इनमें से एक कटड़ी घायल अवस्था में  देवबन कैंची चौक पर मिल गई थी। पुलिस द्वारा सुलझायी गए पशु चोरी की इन 18 वारदातों में जिला कैथल की 3, करनाल की 2, जींद की 7, रोहतक, भिवानी तथा हांसी क्षेत्र की 2-2 वारदात शामिल हैं।

आरोपियों द्वारा इन 18 मामलों में भैंस, कटड़ी व कटड़े सहित कुल 44 पशु चुराने की बात कबूली है। पुलिस ने फिलहाल इनकी निशानदेही पर 3 भैंस बरामद कर ली हैं। डीएसपी ने कहा कि गिरोह का मुख्य सरगना पप्पू अभी फरार है। उसकी गिरफ्तारी के बाद ही सभी पशुओं को बरामद किया जा सकेगा।
... और पढ़ें

कैथल: युवती पर फब्तियां कसने से रोका तो होटल मैनेजर और दो अन्य लोगों के साथ की मारपीट

हरियाणा के कैथल जिले में एक होटल में खाना खाने आए युवकों ने युवती पर फब्तियां कसनी शुरू कर दी। जब इन युवकों को रोका तो युवकों ने होटल मैनेजर व दो युवकों के साथ मारपीट कर दी। पीड़ितों की शिकायत पर पुलिस ने इन युवकों के खिलाफ केस दर्ज किया है।

यह भी पढ़ें : 
9 दिन में दूसरी बार पटरी से उतरा पहिया: रेलवे लाइन नंबर 8 से उतरा पार्सल ट्रेन का पांचवां कोच, दो ट्रेन प्रभावित
 
 
गांव कवारतन निवासी सुखविंद्र सिंह ने बताया कि वह शहर के होटल फेस्टिवल में काम करता है। 17 नवंबर को अपना कार्य कर रहा था। उसके साथ गांव फरल निवासी मैनेजर सुनील कुमार भी कार्य कर रहा था। यहां चार-पांच लड़के होटल में खाना-खाने के लिए आए। इनमें से एक युवक ने होटल में आई युवती पर फब्तियां कसना शुरू कर दिया जब उसने रोका तो आरोपियों ने उसके साथ हाथापाई शुरू कर दी।

यह भी पढ़ें : हरियाणा में बेकाबू डेंगू: सात साल का रिकॉर्ड टूटा, 10 हजार से अधिक मामले, सात जिले बने हॉटस्पॉट

मैनेजर सुनील ने बीच-बचाव किया तो मारपीट शुरू कर दी। इसके बाद अन्य स्टाफ ने बीच-बचाव कर मामला शांत किया। इसके बाद वह नीचे आ गया। होटल से नीचे आने के बाद भी मैनेजर व उसके साथ इन युवकों ने मारपीट की। वहीं मैनेजर सुनील पर किसी हथियार से हमला किया। इसके बाद आरोपी फरार हो गए। पुलिस ने अज्ञात युवकों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है।
... और पढ़ें

कैथल: दुष्कर्म का केस दर्ज होने के ढाई घंटे बाद नाबालिग की मौत, परिजनों ने किशोरी पक्ष के तीन लोगों पर लगाया हत्या का आरोप

दुष्कर्म का केस दर्ज होने के ढाई घंटे बाद किशोर (17) की मौत हो गई। मृतक के परिजनों ने किशोरी पक्ष पर हत्या का आरोप लगाया है। केस दर्ज कर पुलिस मामले की जांच पड़ताल कर रही है। सोमवार को एक महिला ने थाना में शिकायत दी थी। जिसमें उसने बताया था कि वह किसी काम से स्कूल में गई हुई थी। जब वापस आई तो उसकी नाबालिग बेटी ने बताया कि पड़ोस में ही रहने वाले लड़के ने उसके साथ कमरा बंद कर दुष्कर्म किया। 

पुलिस ने आरोपी किशोर के खिलाफ दुष्कर्म सहित पोक्सो एक्ट में केस दर्ज कर लिया। पुलिस के अनुसार केस दर्ज होने के ढाई घंटे बाद किशोर की मौत हो गई। इस संबंध में पुलिस को दी गई शिकायत में बताया गया कि सोमवार की शाम महिला और उसके दो बेटों से मोबाइल को लेकर विवाद हो गया था, जिसके बाद आरोपियों ने किशोर के गले में चुन्नी डालकर गला घोंट दिया। बेहोशी की हालत में लोगों ने किशोर को अस्पताल पहुंचाया, जहां चिकित्सक ने उसे मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने इस मामले में तीनों आरोपियों के खिलाफ हत्या के आरोप में केस दर्ज कर लिया है।

खाद की फैक्टरी में काम करता था किशोर 
मृतक के चाचा ने बताया कि उसका भतीजा एक खाद फैक्टरी में काम करता था। कई साल पहले उसके मां-बाप की मृत्यु हो चुकी थी। वह अपने दादा-दादी व मौसी के पास रहता था। 

यह भी पढ़ें: 
नारनौल: बिमला मर्डर केस में गैंगस्टर पपला गुर्जर को उम्रकैद, छह साल बाद मिला परिवार को इंसाफ

दो अलग-अलग केस दर्ज कर की जा रही जांच: पुलिस
डीएसपी किशोरी लाल ने बताया कि थाना सीवन में पहले लड़की के साथ दुष्कर्म के मामले में शिकायत आई थी। इसमें आरोपी के खिलाफ केस दर्ज किया गया। उसके करीब ढाई घंटे के बाद किशोर की हत्या की बात सामने आई। पुलिस ने इस मामले में दुष्कर्म सहित हत्या के दो अलग-अलग केस दर्ज किए हैं।
... और पढ़ें

पति निकला हत्यारा: पत्नी के चरित्र पर था संदेह, बेरहमी से अधमरा कर पराली में जलाया, प्रेम विवाह किया था

हरियाणा के कैथल जिले के गांव बरसाना-हाबड़ी मार्ग पर पराली के ढेर में जला दी गई। प्रियंका की हत्या उसके पति ने पति-पत्नी के बीच के विवाद व चरित्र पर संदेह के कारण की थी। यह खुलासा डीएसपी ने मीडिया से बातचीत में किया। हत्या के लिए वह अपनी पत्नी को दोबारा से प्रेम-विवाह करने पर सरकार की ओर से पांच लाख रुपये की राशि दिलवाने का लालच देकर खेतों में ले गया। जहां बात-बातों में उसने महिला के हाथ पैर बांधे। फिर ईंट से सिर पर हमला करके व ट्यूबवेल के हौद से सिर भिड़ाकर अधमरा कर उसे पराली के ढेर में जला दिया।   

डीएसपी रविंद्र सांगवान ने बताया कि 19 जनवरी को गांव बरसाना के खेतों में एक महिला का शव पराली की राख में अधजली हालत में पाया गया था। शाम को करीब साढ़े 6 बजे ग्रामीणों की ओर से दी गई सूचना के बाद पुलिस मौके पर पहुंच गई। वहां जाकर देखा तो राख में शव पड़ा हुआ था। पास में मिले महिला के बालों के क्लिप, कान की बालियों और शव के गले में मिले लोकेट के आधार पर पुलिस को पता चल गया कि शव किसी महिला का है। जिस किसान के खेत में शव मिला था उसके बयान पर पुलिस ने अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ हत्या करने व शव को जलाने के संबंध में केस दर्ज कर लिया था।   
उसके बाद पुलिस ने कैथल सहित आसपास के थानों में गुमशुदा हुई महिलाओं का रिकॉर्ड एकत्र किया और एफआईआर करवाने वाले लोगों को मौके पर बुलाकर घटना स्थल से मिला सामान दिखाकर उनसे पूछताछ की। डीएसपी ने बताया कि गांव बरसाना निवासी सलिंद्र जो फिलहाल कुरुक्षेत्र में रहता है, उसने भी अपनी पत्नी के गुम होने की शिकायत 22 जनवरी को ढांड थाना में दर्ज करवाई थी।

प्रियंका के बरसाना में शादीशुदा होने और सलिंद्र के गांव बरसाना का निवासी होने और आरोपी द्वारा ढांड थाना में पत्नी की गुमशुदगी की एफआईआर करवाने को आधार मानकर पुलिस ने सलिंद्र के परिजनों और मृतक के मायके पक्ष वालों से पूछताछ की। 

इस दौरान मृतका की सहेली उसी के गांव चुहड़मारा की रहने वाली प्रियंका नाम की अन्य महिला ने मौके पर मिले बालों के क्लिप, कानों की बालियों और लोकेट को पहचान लिया। इस आधार पर पुलिस को मृतका की पहचान हो गई। इसके बाद पुलिस ने शक के आधार पर मृतका के पति से गहनता से पूछताछ की तो आरोपी ने माना कि उसने ही प्रियंका की हत्या की है।

ऐसे की हत्या

पूछताछ में पता चला कि मृतका प्रियंका व सलिंद्र की शादी 2010 में हो चुकी थी लेकिन हत्या करने से पूर्व आरोपी सलिंद्र ने उसकी पत्नी प्रियंका को प्रेम विवाह करने पर 5 लाख रुपये मिलने का झांसा देकर उसे करनाल कोर्ट परिसर में भी लेकर गया था। इससे पहले महिला को विवाह की औपचारिकताएं पूरी करने का हवाला देकर गांव नेवल भी ले गया था।

करनाल से आने के बाद उसे गांव बरसाना के खेतों में रोक लिया। जहां देर रात तक खेतों में आग जलाकर सेंकते हुए उसे अपनी बातों में उलझाता रहा वहीं पर आरोपी ने महिला के साथ जलपान किया। बाद में शराब पीकर महिला के हाथ पैर बांधें। इसके बाद ईंट से उसके सिर में हमला किया। बाद में ट्यूबवेल के हौद से भिड़ाकर उसे अधमरा करते हुए पराली के ढेर में रखकर आग लगा दी।

उसके बाद आरोपी वहां से भाग गया। अगले दिन देर सायं पुलिस को इस बात की जानकारी मिली। डीएसपी ने बताया कि मामले में पुलिस ने आरोपी सलिंद्र का 29 जनवरी तक पांच दिन का पुलिस रिमांड हासिल किया है। इस दौरान आरोपी से वारदात में प्रयोग की गई मोटरसाइकिल, कपड़े और अन्य सामान बरामद करने के लिए पूछताछ की जाएगी। वारदात में कोई अन्य आरोपी भी शामिल है या नहीं, इस संबंध में पूछताछ की जाएगी।

प्रेम विवाह किया था मृतका के साथ आरोपी ने

डीएसपी ने बताया कि आरोपी सलिंद्र ने गहन पूछताछ उपरांत बताया कि उसने और प्रियंका ने प्रेम विवाह किया था। शादी के करीब 6 महीने बाद उसका व प्रियंका का पारिवारिक बातों को लेकर झगड़ा रहने लगा था। उसकी पत्नी सारा दिन घर से बाहर रहती थी और पूछने पर लड़ाई-झगड़ा करती थी। उसे शक था कि उसकी पत्नी प्रियंका चरित्रहीन औरत है और उसके कई व्यक्तियों के साथ फ्रेंडशिप व अवैध संबंध हैं। उसकी पत्नी प्रियंका के कारण उसकी आस पड़ोस व समाज में काफी बदनामी हो रही थी।

उसने अपनी बदनामी से बचने के लिए अपनी पत्नी प्रियंका को जान से मारने की ठान ली। 18 जनवरी को वह शाम के समय प्रियंका को बहला फुसला कर विश्वास में लेकर अपने चाचा बाबूराम के खेतों में ले गया। अपनी योजना के अनुसार उसने मौका पाकर उसके हाथ पांव बांध दिए और ट्यूबवेल की हौद पर सिर मार कर व ईंट से वार करके बेहोश कर दिया था। इसके बाद पराली के ढेर में डालकर आग लगा दी थी। 
... और पढ़ें
पुलिस की गिरफ्त में आरोपी। पुलिस की गिरफ्त में आरोपी।

कैथल: ट्रेन में महिला के साथ पुलिस कर्मचारी को यात्रियों ने शौचालय में पकड़ा, छेड़खानी के आरोप में केस दर्ज

हरियाणा के कैथल जिले में चंडीगढ़ से जयपुर के बीच चलने वाली इंटरसिटी ट्रेन के शौचालय में पंचकूला में कार्यरत एक पुलिस कर्मचारी को यात्रियों ने एक महिला के साथ पकड़ लिया। सूचना मिलने पर रेलवे पुलिस ने आरोपी पुलिस कर्मचारी को हिरासत में लेकर छेड़खानी के आरोप में केस दर्ज कर लिया है। बताया जा रहा है कि पुलिस कर्मचारी अंबाला का रहने वाला है और पंचकूला में उसकी ड्यूटी है।  

घटनाक्रम के अनुसार चंडीगढ़ से जयपुर तक चलने वाली इंटरसिटी ट्रेन के शौचालय में एक पुलिस कर्मचारी को एक महिला के साथ देखा गया। तभी किसी यात्री ने वीडियो भी बना लिया, जिसमें शौचालय से पहले पुलिसकर्मी बाहर आया और फिर महिला। इसके बाद किसी ने इस संबंध में रेलवे अधिकारियों को ट्वीट कर दिया। हरकत में आई रेलवे पुलिस ने कैथल रेलवे स्टेशन पर उक्त पुलिस कर्मचारी को हिरासत में ले लिया। 

मौके पर महिला ने भी आरोप लगाया कि पुलिसकर्मी उसे शौचालय में ले गया और उसके साथ छेड़खानी की। इसके बाद लोगों ने उसे पकड़ लिया। दूसरी ओर पुलिस कर्मचारी का कहना है कि वह शौचालय में गया तो महिला भी पीछे-पीछे आ गई। 

इस संबंध में रेलवे पुलिस चौकी प्रभारी नरेश कुमार ने कहा कि एक यात्री ने ट्वीट किया था कि एक पुलिस कर्मचारी जसवंत सिंह किसी महिला को लेकर शौचालय में गया है। इसके बाद यहां कैथल रेलवे स्टेशन पर पहुंचकर इस आरोपी पुलिस कर्मचारी जसवंत सिंह को हिरासत में लिया गया है। इस संबंध में रेलयात्री रितेश कुमार की शिकायत पर छेड़खानी के आरोप में केस दर्ज कर लिया गया है।

... और पढ़ें

कलायत: चोरों ने धार्मिक स्थल का दानपात्र तोड़ा, दो लाख रुपये की नकदी सहित चांदी के सिक्के भी चोरी 

हरियाणा के कैथल जिले के कलायत में चोरों का दुस्साहस बढ़ता जा रहा है। धार्मिक स्थानों को चोर निशाना बनाने से नहीं चूकते। शनिवार की देर रात्रि चोरों ने दुस्साहस का परिचय देते हुए वार्ड 5 स्थित श्री जाहरवीर गोगा पीर धार्मिक स्थल पर रखे दानपात्र को निशाना बनाया।

चोरों ने दानपात्र को तोड़कर दो लाख रुपये की नकदी सहित आधा किलो वजन के चांदी के सिक्के चोरी कर ले गए। रविवार की सुबह जब धार्मिक स्थल के सेवक ने कपाट खोले तो दानपात्र का ताला टूटा हुआ मिला। पीड़ित ने मामले की शिकायत पुलिस को दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने घटना स्थल का मुआयना किया।

वार्ड 5 स्थित श्री जाहरवीर गोगा पीर धार्मिक स्थल में सेंध लगाकर चोर लाखों रुपये की नकदी और चांदी के सिक्के चुराकर ले गए। चोरों ने शनिवार की रात इस घटना को अंजाम दिया। रविवार को सुबह सफाई के लिए जब धार्मिक स्थल के सेवक विनोद धीमान ने कपाट खोले तो दानपात्र का ताला टूटा व सामान बिखरा मिला।

पुलिस को दी शिकायत में विनोद धीमान ने बताया कि चोरों ने दानपात्र को तोड़कर उसमें रखे करीब 2 लाख रुपये और आधा किलो वजन के चांदी के सिक्के चोरी कर लिए। इस राशि से धार्मिक स्थल का जीर्णोद्धार किया जाना था। 

चोरी की घटना को लेकर थाना प्रभारी सुरेंद्र कुमार ने पुलिस कर्मियों के साथ मौके का मुआयना किया। एसएचओ ने बताया कि शिकायत के आधार पर मामला दर्ज कर आगामी कार्रवाई की जा रही है।
... और पढ़ें

कैथल: विस्तार अनाज मंडी में मिले शव के अवशेष, कई जगह बिखरी पड़ी थी हड्डियां

हरियाणा के कैथल में विस्तार अनाज मंडी में एक व्यक्ति के शव के अवशेष मिले हैं। वहीं एक अन्य घटना में अज्ञात कारणों से एक व्यक्ति की मौत हो गई। उसका शव सुबह नाले में पड़ा पाया गया। दोनों ही घटनाओं में पुलिस ने धारा 174 के तहत कार्रवाई कर दी है। दूसरी ओर करनाल रोड पर नाले में एक व्यक्ति का शव पड़ा हुआ पाया गया। जिसकी शिनाख्त के प्रयास किए जा रहे हैं।

पहले मामले में मिली जानकारी के अनुसार जींद रोड पर स्थित विस्तार अनाज मंडी में झाड़ियों में एक व्यक्ति के शव के अवशेष पाए गए हैं। सूचना मिलने पर थाना शहर पुलिस सहित एफएसएल की टीमों ने घटनास्थल का दौरा किया।

जहां करीब एक से डेढ़ माह पुराने बताए जा रहे शव के अवशेष कई जगह बिखरे हुए पाए गए। पुलिस टीम ने मौके पर जांच के साथ ही सैंपल भी लिए हैं। पुलिस ने मामले की जांच के लिए शव के अवशेष फोरेंसिक जांच के लिए लैब में भेजे हैं।

थाना शहर प्रभारी देवेंद्र कुमार ने बताया कि पुलिस को सूचना मिली थी कि झाड़ियों में नर कंकाल मिला है। मौके पर जाकर देखा गया तो अलग-अलग जगहों पर हड्डियां व शव के अवशेष पड़े हुए थे। हड्डियों को देखकर अंदाजा लग रहा है कि यह एक से डेढ़ माह पुराना शव हो सकता है। अवशेष को जांच के लिए लैब में भेजा गया है। फिलहाल धारा 174 के तहत कार्रवाई कर दी गई है।

दूसरी घटना में करनाल रोड पर एक नाले में एक व्यक्ति का शव सुबह पाया गया। जिसे पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल में भेज दिया है। संभावना जताई जा रही है कि रात को नशे में यह व्यक्ति नाले में गिर गया था।

सर्दी के कारण इसकी मौत हो गई। थाना सिविल लाइन प्रभारी बीरभान ने बताया कि शव पर किसी तरह की चोट के निशान नहीं हैं। संभावना है कि यह व्यक्ति नशे में नाले में गिर गया होगा, अभी मृतक की शिनाख्त नहीं हुई है।
... और पढ़ें

हरियाणा: अवैध वसूली के आरोप में कैथल के एसडीएम गिरफ्तार, विजिलेंस की ओर से दर्ज था भ्रष्टाचार संबंधी केस

CRIME, क्राइम
हरियाणा में एचसीएस ऑफिसर एवं कैथल के एसडीएम अमरिंद्र सिंह मनैस को अंबाला विजिलेंस टीम ने मंगलवार को गिरफ्तार कर लिया। दोपहर तक जिला प्रशासन भी अफसर को गिरफ्तार किए जाने की सूचना से बेखबर रहा। एसडीएम को अंबाला में डीटीओ पद पर तैनात रहते हुए विजिलेंस द्वारा दर्ज किए गए एक भ्रष्टाचार संबंधी मामले में जांच के बाद गिरफ्तार किया गया है। मनैस के पास जिला परिवहन अधिकारी अंबाला का अतिरिक्त प्रभार भी है।

अंबाला से विजिलेंस की टीम मंगलवार सुबह लघु सचिवालय कैथल पहुंच गई थी। जहां टीम ने एसडीएम के पहुुंचने का इंतजार किया। 03 जनवरी से अवकाश पर चल रहे एसडीएम अमरिंद्र सिंह मनैस मंगलवार को ही कार्यालय पहुंचे थे। यहां से कुछ फाइलें निकालने के बाद वे सेक्टर-19 में स्थित एचएसवीपी कार्यालय चले गए। इसके बाद ही विजिलेंस की टीम ने उन्हें काबू कर लिया।

इस मामले में फंसे एसडीएम

हरियाणा विजिलेंस ब्यूरो के प्रवक्ता ने जानकारी देते हुए बताया कि इस मामले से संबंधित दिसंबर 2021 में गिरफ्तार किए गए तीन आरोपियों गुरप्रीत, जसपाल व ड्राइवर डीटीओ अंबाला करणवीर शेरगिल ने घोटाले में आरोपी अधिकारी द्वारा अपनाए गए तौर-तरीकों का खुलासा किया था। उनके अनुसार जांच के दौरान यह सबूत सामने आए हैं कि आरोपी एचसीएस अधिकारी ने कार्यभार संभालने के बाद अधीनस्थ अधिकारियों और एजेंटों का एक नेटवर्क  स्थापित किया था और उनके अधिकार क्षेत्र में ओवरलोड वाहनों को चलने की अनुमति देने के लिए उनके माध्यम से अवैध वसूली प्राप्त की थी। सुबूत के आधार पर ही एसडीएम को इस मामले में गिरफ्तार किया गया है।

उल्लेखनीय है कि दिसंबर 2021 में अंबाला विजिलेंस की ओर से एफआईआर दर्ज की गई थी। जिसके बाद उसी दिन तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया था। पूछताछ के बाद, उन्होंने इस बात का खुलासा किया कि वे कैसे ट्रांसपोर्टरों से रिश्वत लेते थे और उन्हें सुचारू आवाजाही के लिए मासिक आधार पर वाहन के लिए स्टिकर जारी करते थे।

प्रवक्ता के अनुसार अब जांच से मामले की तह तक जाने में मदद मिलेगी और अन्य आरोपियों के शामिल होने की संभावना से इंकार भी नहीं किया जा सकता है। प्रशासनिक सूत्रों ने बताया कि गुहला-चीका से एक ट्रांसपोर्टर ने विजिलेंस अंबाला में केस दर्ज करवाया था कि यहां एजेंटों के माध्यम से आरटीओ कार्यालय के कुछ कर्मचारी ओवर लोडिड वाहनों से वसूली करते हैं। 
 
... और पढ़ें

सिपाही भर्ती पेपर लीक मामला: तीन और आरेपियों को पुलिस ने किया गिरफ्तार, कुल 67 को किया जा चुका काबू

हरियाणा पुलिस सिपाही भर्ती लिखित परीक्षा का पेपर लीक करवाने के मामले में तीन आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। आरोपियों को पूछताछ के लिए तीन दिन के लिए पुलिस रिमांड लिया गया है। एसपी लोकेंद्र सिंह ने बताया कि हरियाणा पुलिस सिपाही भर्ती लिखित परीक्षा का पेपर लीक करवाने के मामले की जांच के दौरान सीआईए-2 की टीम ने आरोपी रोहतक जिले के खरकड़ा निवासी सुधीर अहलावत, विदयानगर भिवानी निवासी मनजीत अहलावत व नरवाना हरिनगर निवासी कुलदीप को गिरफ्तार कर लिया है।

सुधीर अहलावत ने अपने दोस्त मनजीत अहलावत के साथ रोहतक में विकास फरमाणा से 50 लाख रुपये में सौदा तय करके पेपर की फोटो कॉपी प्राप्त की थी और आगे उम्मीदवार तैयार करके उनको पेपर पढ़ाया था। 

मनजीत ने पेपर की एक फोटो कॉपी अपने दोस्त कुलदीप के माध्यम से जिला दादरी के बेरला निवासी नवनीत को 50 लाख रुपये में उपलब्ध करवाई थी। इस मामले में अब तक पुलिस  द्वारा सभी 11 इनामी आरोपियों सहित कुल 67 आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है।

बता दें कि कैथल सीआईए-1 पुलिस की टीम ने सात अगस्त को माता गेट कैथल के पास से हरियाणा पुलिस सिपाही लिखित परीक्षा लीक करवाने के मामले में खापड़ निवासी संदीप व गौतम व प्योदा निवासी नवीन को आंसर की सहित काबू किया था।
... और पढ़ें

कैथल: रंगदारी की शिकायत के बाद थाने में हुई पंचायत, दोनों पक्षों में गोलीबारी, 15 राउंड फायरिंग, दो लोगों को लगी गोली

रंगदारी की शिकायत के बाद शनिवार को हरियाणा के कैथल में तितरम थाने में बुलाई गई पंचायत में फैसला नहीं हुआ तो दो पक्षों में थाने के बाहर ही गोलाबारी शुरू हो गई। दोनों ओर से करीब 15 राउंड फायरिंग की गई, जिसमें एक पक्ष के दो युवकों को गोली लगी है। दोनों को गंभीर हालत में पीजीआई रेफर किया गया है।

वहीं फायरिंग के दौरान लाठी और गंडासी भी चली, जिसमें दूसरे पक्ष का एक युवक जख्मी हुआ है। विवाद यहीं खत्म नहीं हुआ गोलीबारी के बाद जिला अस्पताल में एकबार फिर दोनों पक्ष आमने सामने आ गए और एक दूसरे पर हमला कर दिया। सूचना पर पुलिस पहुंची, इससे पहले दोनों पक्ष तितर-बितर हो गए। 

घटनाक्रम के अनुसार व्यवसायी हरीशचंद्र ने थाना तितरम में कुछ लोगों के खिलाफ रंगदारी मांगने की शिकायत दी थी। इस मामले में शनिवार को दोपहर के समय दोनों पक्षों की थाना तितरम में पंचायत बुलाई गई थी। इसमें हरीश चंद्र की ओर से जिला पार्षद प्रतिनिधि बिल्लू चंदाना व अन्य व्यक्ति शामिल हुए थे।

पंचायत में कोई निर्णय न होने पर हरीश चंद्र व अन्य गणमान्य व्यक्ति मौके से निकल लिए। इसी बीच दोनों पक्षों की ओर से आए युवकों में पुलिस थाने के सामने सड़क के दूसरी ओर एक फलों की रेहड़ी के निकट विवाद शुरू हो गया। पहले इन युवकों में लाठियां व गंडासियां चलीं। इसके बाद फायरिंग शुरू हो गई।

फायरिंग में गांव फ्रांसवाला निवासी गुरमीत उर्फ मित्ता के टांग में और गढ़ी निवासी प्रदीप के पेट में गोलियां लगीं हैं। इन दोनों को पीजीआई रेफर कर दिया गया है। दोनों ही घायल हरीशचंद्र व्यवसायी पक्ष के बताए जा रहे हैं। वहीं दूसरे पक्ष के गांव खुराना निवासी प्रवीण उर्फ बिन्नू को चोटें आई हैं।

बिन्नू को जिला अस्पताल में दाखिल किया गया है। पुलिस थाने के बाहर हुए खूनी संघर्ष और फायरिंग के बाद आसपास के क्षेत्र में भी दहशत का माहौल हो गया। इस संबंध में एसपी लोकेंद्र सिंह ने कहा कि गुलमोहर सिटी के प्रापर्टी के विवाद में पंचायत के बाद थाने के बाहर दोनों पक्षों के झगड़े के बाद फायरिंग हुई है, जिसमें तीन लोग घायल हुए हैं। पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। जल्द ही दोषियों को काबू कर लिया जाएगा।

गोलीबारी के बाद पुलिस ने किया रंगदारी का केस दर्ज 

जिस मामले को लेकर थाना तितरम में पंचायत बुलाई गई थी, उस मामले में पुलिस ने फायरिंग की घटना के बाद रंगदारी मांगने का केस दर्ज कर लिया। इसमें पीड़ित व्यवसायी ने कहा है कि दो युवकों द्वारा एक अन्य युवक के माध्यम से उसे लगातार ब्लैकमेल किया जा रहा है।

व्यवसायी हरीशचंद्र ने तितरम थाना में दर्ज करवाई शिकायत में बताया कि गांव बालू निवासी कुलदीप और प्रदीप दोनों भाइयों ने मिलकर राजू जुलानी खेड़ा को अपना मोहरा बनाया हुआ है। आरोपी छह माह से उसे ब्लैकमेल कर रंगदारी मांगने का काम कर रहे हैं। साथ ही धमकी दे रहे हैं कि या तो गुलमोहर सिटी में हिस्सा दो या फिर अपने बेटे की जान की सलामती चाहते हो तो पूरे पैसे दो। हर रोज नए नंबर से उसके बेटे को मारने की धमकी दी जा रही है। पुलिस ने शिकायत के आधार पर आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।
... और पढ़ें

कैथल: फायरिंग कर रहे युवकों में नहीं दिखा पुलिस का डर, थाने के बाहर ही जमकर चलीं गोलियां, घटना खड़े कर रही कई सवाल

हरियाणा के कैथल में तितरम पुलिस थाने में शनिवार दोपहर पंचायत के तुरंत बाद 10 से 15 राउंड फायरिंग के बाद पुलिस अलर्ट हुई और युवकों की धरपकड़ शुरू कर दी, लेकिन बड़ा सवाल यह है कि पुलिस थाने में पंचायत में या फिर थाने के आसपास असलहा लेकर युवक कैसे घूम सकते हैं? जिस तरह से फायरिंग हुई, उसे देखते हुए नहीं लग रहा कि फायरिंग करने वाले युवकों में पुलिस का कोई खौफ हो। जिस जगह पर फायरिंग हुई है, उस जगह पर कई गांवों में आने-जाने के लिए सवारियां बैठती हैं। गनीमत यह रही कि किसी यात्री को गोली नहीं लगी। 

घटना थाना तितरम के गेट के बिल्कुल सामने सड़क के दूसरी ओर हुई है। जहां फलों की रेहड़ी भी लगी है। यहां एक महिला ने कहा कि झगड़े के दौरान उसे गोलियों की आवाज सुनाई दी तो वह रेहड़ी से दूर भागी। यहां मौके पर खून ही खून बिखरा नजर आया। वहीं एक गाड़ी जो, पुलिस थाने के बाहर खड़ी थी। उसके शीशे तोड़े हुए थे। यहां एक अन्य प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि एक युवक पर उन्हें भागते हुए फायरिंग की आवाज सुनाई दी। एक युवक को पुलिस ने मौके से हिरासत में भी लिया है।

अस्पताल में भी हुआ विवाद

अस्पताल में एक युवक ने कहा कि उनके लाला से रंगदारी वसूली का खेल चल रहा है। वे अपने लाला के साथ पंचायत के बाद गुलमोहर सिटी आ गए थे। बाद में पता चला कि मीत्ता व प्रदीप को गोली लगी है तो वे मौके पर पहुंचे। वे इससे पहले से एक लाइसेंसी रिवाल्वर वहां से ले आए थे, ताकि कोई विवाद न हो। लेकिन दूसरे पक्ष ने उनके साथियों पर गोलियां चला दीं। इतना ही नहीं, जिला अस्पताल में एक युवक असलहा लिए हुए था। जिसे उसने एक पुलिस कर्मचारी को भी दिखाया, लेकिन बाद में पुलिस का कहना है कि कोई असलहा नहीं है।

घटना के चश्मदीद पार्षद प्रतिनिधि बिल्लू चंदाना ने कहा कि लाला हरीश के पक्ष में पंचायत में वे भी गए थे। पंचायत के बाद उन्हें अंदेशा हुआ कि कुछ युवक गड़बड़ी में आए हुए हैं। उन्होंने पुलिस से भी अपनी आशंका जता दी। इसके बाद थाने के बाहर से गोलियों की आवाज सुनाई दी।

उनका सवाल है कि आखिर पुलिस थाने के आसपास युवक असलहा कैसे लिए हुए थे? पुलिस को इस मामले में सख्त कार्रवाई करनी चाहिए। थाना सिविल लाइन प्रभारी ने कहा कि अस्पताल में युवक के पास से असलहा बरामद नहीं हुआ है। यदि होगा तो इसका पता लगा लिया जाएगा।
... और पढ़ें

सिपाही पेपर लीक मामला: 50 हजार का इनामी गिरफ्तार, अब तक 61 लोगों की हो चुकी गिरफ्तारी

कैथल सीआईए-2 ने हरियाणा पुलिस सिपाही पेपर लीक मामले में वांछित 50 हजार रुपये के एक इनामी आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। इसके साथ ही कैथल पुलिस की ओर से सभी इनामी अपराधियों सहित अब तक कुल 61 आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है। इससे पहले डीजीपी हरियाणा की ओर से 11 आरोपियों की गिरफ्तारी पर इनाम घोषित किया गया था।

एसपी लोकेंद्र सिंह ने बताया कि सिपाही पेपर लीक मामले की जांच के दौरान सीआईए-2 की टीम ने वांछित आरोपी जिला जींद के ईक्कस गांव निवासी राधेश्याम उर्फ राधे को गिरफ्तार किया है। आरोपी को इससे पहले पोक्सो एक्ट के एक मामले में भी हिसार पुलिस ने गिरफ्तार किया था। वह फिलहाल हिसार जेल में बंद था।

सीआईए ने आरोपी की इस मामले में गिरफ्तारी के लिए माननीय न्यायालय से प्रोडक्शन वारंट जारी करवाए थे। उन्होंने बताया कि 4 अगस्त को ओंकार होटल हिसार में हरियाणा पुलिस सिपाही लिखित परीक्षा का पेपर आउट करवाने के लिए माजरा प्याऊ निवासी नरेंद्र द्वारा मीटिंग आयोजित कराई गई थी। इस दौरान आरोपी राधेश्याम की ओर से 2 व्यक्तियों को भेजा गया था। अब आरोपी राधे को पूछताछ के लिए न्यायालय से तीन दिन की पुलिस रिमांड पर लिया गया है। 
... और पढ़ें

भर्ती परीक्षा में गड़बड़ी का मामला: दूसरे से परीक्षा दिलाने वाले अभ्यर्थियों की हुई पहचान, जल्द होगी गिरफ्तारी

चंडीगढ़ की बुड़ैल जेल के हेड क्लर्क सहित चार आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने सिपाही भर्ती परीक्षा और रेवेन्यू क्लर्क भर्ती परीक्षा में गड़बड़ी का खुलासा किया है। पूछताछ में फिलहाल यह बात सामने आई है कि दोनों परीक्षाओं में सात अभ्यर्थियों की जगह दूसरे ने परीक्षा दी है, जिसमें एक अभ्यर्थी को मौके से गिरफ्तार किया जा चुका है, जबकि अन्य छह की पहचान कर ली गई। पुलिस के अनुसार इन छह आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए लगातार छापामारी की जा रही है, लेकिन फिलहाल आरोपी फरार बताए जा रहे हैं।

पुलिस के अनुसार परीक्षा में फर्जीवाड़ा करने वाले गिरोह का सरगना चंडीगढ़ बुड़ैल जेल का हेड क्लर्क संजय है, जो मूल रूप से जींद के छातर गांव का रहने वाला है। उसने कैथल के भैणी माजरा में घर बनाया हुआ है। बीते रविवार को छापामारी कर पुलिस ने संजय के साथ ही उसके गांव के साथी संदीप और राहुल को काबू किया था।

पूछताछ में यह सामने आया कि संदीप के स्थान पर फर्जीवाड़ा कर राहुल ने पुलिस भर्ती की परीक्षा दी थी, जिसमें वह सफल भी रहा। यही नहीं राहुल ने पुलिस भर्ती में चार अन्य अभ्यर्थियों की जगह भी परीक्षा दी थी, जबकि रेवेन्यू क्लर्क भर्ती परीक्षा में भी एक अभ्यर्थी के स्थान पर भी राहुल ने परीक्षा दी थी।

इसके अलावा मौके से धरे गए अश्वनी ने भी पुलिस भर्ती में दूसरे अभ्यर्थी की जगह परीक्षा दी थी। पुलिस ने उन अभ्यर्थियों के नाम का खुलासा नहीं किया है, जिनकी जगह धरे गए आरोपियों ने परीक्षा दी, लेकिन उनकी पहचान कर गिरफ्तारी के लिए छापामारी की जा रही है।

पुलिस के अनुसार सिपाही भर्ती में छह अभ्यर्थियों की जगह आरोपियों ने परीक्षा दी थी, जिसमें मौके से संदीप को गिरफ्तार किया गया था। अन्य पांच आरोपियों की जल्द गिरफ्तारी का दावा किया जा रहा है। जबकि रेवेन्यू क्लर्क भर्ती परीक्षा में एक अभ्यर्थी की जगह राहुल ने परीक्षा दी थी, जिसकी जल्द गिरफ्तारी हो सकती है।

फिलहाल पुलिस धरे गए चारों आरोपियों को रिमांड पर लेकर पूछताछ कर रही है। एसपी लोकेंद्र सिंह ने कहा कि जो भी तथ्य सामने आ रहे हैं, उसी अनुसार पुलिस जांच आगे बढ़ रही है। पुलिस ने दूसरे युवकों को अपनी जगह परीक्षा में बैठाने वाले अभ्यर्थियों की पहचान कर ली है। उनकी जल्द ही गिरफ्तारी की जाएगी।

परीक्षाओं में हुई गड़बड़ी पर सरकार और आयोग दे जवाब : सुरजेवाला

भर्तियों में गड़बड़ी को लेकर कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि एक के बाद एक प्रतियोगी परीक्षाओं में गड़बड़ी उजागर हो रही है। हाल ही पुलिस भर्ती और रेवेन्यू क्लर्क भर्ती परीक्षा में अभ्यर्थियों के स्थान पर अन्य के परीक्षा देने की बात सामने आई है। उन्होंने कहा कि कर्मचारी चयन आयोग के साथ ही सरकार को भी इस पर जवाब देना चाहिए और मामले में राज्य की एजेंसी से इतर उच्चस्तरीय जांच होनी चाहिए। वहीं पूर्व मुख्य संसदीय सचिव रामपाल माजरा ने कहा कि इस तरह के फर्जीवाड़े से स्पष्ट हो चुका है कि भर्तियों में लगातार धांधली चल चल रही है। विदित हो कि इससे पहले भर्तियों में गड़बड़ी को लेकर कांग्रेसियों ने सदन में भी हंगामा कर उच्चस्तरीय जांच की मांग की थी। 
... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00