विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
सर्वपितृ अमावस्या को गया में अर्पित करें अपने समस्त पितरों को तर्पण, होंगे सभी पूर्वज प्रसन्न, 28 सितम्बर
Astrology Services

सर्वपितृ अमावस्या को गया में अर्पित करें अपने समस्त पितरों को तर्पण, होंगे सभी पूर्वज प्रसन्न, 28 सितम्बर

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

अयोध्या प्रकरणः कल्याण सिंह बतौर आरोपी 27 को अदालत में तलब, विशेष न्यायाधीश ने दिया आदेश

अयोध्या प्रकरण के विशेष न्यायाधीश सुरेंद्र कुमार यादव ने पूर्व मुख्यमंत्री व राजस्थान के पूर्व राज्यपाल कल्याण सिंह को बतौर आरोपी तलब किया है।

22 सितंबर 2019

विज्ञापन
विज्ञापन

रायबरेली

रविवार, 22 सितंबर 2019

दस लाख कीमत की अवैध शराब, रैपर, ढक्कन बरामद

रायबरेली। बछरावां थाना क्षेत्र के कुशलीखेड़ा मजरे खैरहनी गांव में संचालित अवैध शराब फैक्टरी पकड़ी गई है। पुलिस और आबकारी विभाग की टीम की छापेमारी में फैक्टरी से करीब 10 लाख कीमत की अवैध शराब, भारी मात्रा में रैपर, ढक्कन और एक वैन बरामद हुई हैं। मौैके से पुलिस ने एक महिला को गिरफ्तार किया है, जबकि चार फरार हैं।
पुलिस की मानें तो रायबरेली के अलावा पड़ोसी जनपदों में भी यहां तैयार की गई शराब की सप्लाई की जाती थी। मुखबिर की सूचना पर सीओ महराजगंज विनीत सिंह की अगुवाई में एसओ रवेंद्र सिंह, आबकारी निरीक्षक कीर्ति प्रकाश पांडेय ने टीम के साथ बुधवार रात कुशलीखेड़ा गांव स्थित एक मकान में छापा मारा। मकान में अवैध शराब बनाई जा रही थी।
पुलिस उपाधीक्षक ने बताया कि फैक्टरी से 9739 लीटर अवैध शराब बरामद हुई है। जिसकी कीमत करीब 10 लाख रुपये बताई जा रही है। इसके अलावा ढक्कन, रैपर व एक वैन बरामद की गई हैं। उन्होंने बताया कि मौके से कुशलीखेड़ा गांव की रहने वाली सरोजनी पत्नी सुरेंद्र प्रताप को गिरफ्तार किया गया।
जबकि अमावां निवासी सुनील कुमार, रामसजीवन और दो अज्ञात फरार हैं, जिनकी गिरफ्तारी के लिए प्रयास किए जा रहे हैं। रायबरेली के अलावा अमेठी, उन्नाव, लखनऊ आदि जनपदों में भी यहां पर तैयार की गई शराब सप्लाई किए जाने की जानकारी मिली है। मामले में केस दर्ज कर जांच की जा रही है।
सीओ के मुताबिक धंधेबाज पंजाब से देशी शराब लाकर यहां पर मस्तीह, पावर हाउस ब्रांड के रैपर व ढक्कन लगाकर अवैध शराब तैयार कर अलग-अलग स्थानों पर वैन में लादकर सप्लाई करते थे। सीओ का कहना है कि भारी मात्रा में मस्तीह व पावर हाउस ब्रांड के ढक्कन व रैपर मिले हैं। शराब भरने के लिए काफी शीशियां भी मिली हैं।
शराब की फैक्टरी पकड़े जाने के बाद बछरावां पुलिस पर सवालिया निशान लग गए हैं। थाने से यह गांव करीब छह किमी. दूर है। यहां पर पुलिस की गश्त भी रहती है। बावजूद इसके यह शराब की फैक्टरी अरसे से संचालित की जा रही थी। क्षेत्रीय लोगों की मानें तो पुलिस की मिली भगत के चलते ही यहां पर कई ऐसे गांव हैं, जहां पर अवैध शराब बनाई जा रही है। मामले की जांच कराई जाए तो कई पुलिस कर्मी और सफेदपोश नेता भी लपेटे में आ सकते हैं।
पकड़ी महिला सरोजनी ने पुलिस की पूछताछ में बताया कि उसका पति दिल्ली में रहकर नौकरी करता है। गांव के रामसजीवन ने पति से बात करके कहा था कि अपने मकान का कमरा कुछ दिनों के लिए दे दो। इसमें अमावां निवासी सुनील कुमार अवैध शराब का कारोबार करेगा। उनके साथी मिलकर पंजाब प्रांत से कच्ची शराब लाकर यहां पर अन्य ब्रांड के रैपर, ढक्कन लगाकर बिक्री करेंगे। जो मुनाफा होगा हम लोग बराबर बांट लेंगे। पति गांव आए थे और कमरा देकर दिल्ली चले गए थे।
मुखबिर की सूचना मिलने पर बछरावां क्षेत्र के कुशलीखेड़ा गांव में अवैध शराब की फैक्टरी पकड़ी गई है। एक महिला को पकड़ा गया है। अन्य धंधेबाजों की गिरफ्तारी के लिए प्रयास किया जा रहा है। जिलेे में शराब का कारोबार कतई नहीं होने दिया जाएगा। सीओ व थानेदारों को अपने-अपने क्षेत्रों पर शराब बनाने वाले धंधेबाजों को चिह्नित करके कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए हैं। इसमें किसी पुलिस कर्मी की संलिप्ता मिली तो कार्रवाई होगी। -स्वप्निल ममगाई, एसपी
शहर के साथ ही देहात क्षेत्रों में अवैध शराब के धंधे पर अंकुश लगाने के लिए छापेमारी कराई जाती है। छह माह में भारी मात्रा में शराब बरामद करके केस दर्ज कराए गए हैं। सभी आबकारी निरीक्षकों को निर्देश दिए गए हैं कि वे अपने-अपने क्षेत्र में छापेमारी करके धंधेबाजों पर शिकंजा कसे।- राजेश्वर मौर्या, जिला आबकारी अधिकारी
... और पढ़ें

भुगतान की अड़ंगेबाजी से भी मुंह मोड़ रहे अस्पताल

रायबरेली। आयुष्मान योजना में मरीजों का इलाज करने वाले अस्पतालों को भुगतान मिलने में लंबा वक्त लग रहा है। कुछ न कुछ कमियां निकाल कर फाइलें लौटा दी जाती हैं। ऐसे में अस्पताल संचालकों को भुगतान कराने के लिए अतिरिक्त कर्मचारी लगाने पड़ रहे हैं। इस वजह से भी वे मरीजों का इलाज करने से मुंह मोड़ रहे हैं।
स्वास्थ्य विभाग भी इसमें सुधार लाने का प्रयास नहीं कर रहा है। इसका खामियाजा गरीबों को ही भोगना पड़ रहा है। जिले में चार सरकारी और मात्र सात निजी अस्पताल आयुष्मान योजना में पंजीकृत हैं। इन अस्पतालों ने अभी तक 1103 मरीजों का इलाज किया है। इसमें से अब तक 671 केस में ही भुगतान किया गया है। इलाज होेने के बाद भी अब तक 432 मामलों में अस्पतालों को भुगतान नहीं दिया गया है।
जिले के दो लाख से अधिक गरीबों को आयुष्मान भारत योजना के तहत पांच लाख रुपये तक मुफ्त इलाज की सुविधा देने के लिए चिह्नित किया गया है। लाभार्थियों को प्लास्टिक कार्ड दे दिया गया है, लेकिन अब गोल्डन कार्ड वाले गरीबों को ही योजना के तहत इलाज कराने की सुविधा दी जा रही है। जिले में 60 हजार गरीबों को ही अब तक गोल्डन कार्ड जारी किए जा सके हैं।
आयुष्मान भारत योजना के माध्यम से जिले के चार सरकारी और सात निजी अस्पतालों को लाभार्थियों को इलाज की सुविधा मुहैया कराने के लिए संबद्ध किया गया है। जिले के सिटी नर्सिंगहोम, सरयूदेवी हॉस्पिटल, जेएन हॉस्पिटल, रिलीफ आर्थोपेडिक सेंटर आदि को शामिल किया गया है। अब तक जिले में 1103 गरीबों को योजना के तहत मुफ्त इलाज का लाभ मिल चुका है।
इसमें अस्पतालों ने 1016 केस में भुगतान के लिए डिमांड भी कर दी है, लेकिन अब तक 671 केस में ही भुगतान किया गया है। इलाज देने के बाद भी अब तक 432 मामलों में अस्पतालों को भुगतान नहीं दिया गया है। आयुष्मान भारत योजना के तहत गरीबों को इलाज का लाभ देेने के बाद अस्पतालों को भुगतान के लिए ऑनलाइन डिमांड करनी पड़ती है।
कई बार आवेदन में खामियां होने के कारण भुगतान समय से नहीं मिल पाता है, लेकिन सत्यापन होने के बाद ही भुगतान दिया जाता है। कमियां मिलने पर उसे सुधारने का मौका अस्पतालों को दिया जाता है। आवेदन पूरी तरह से कंप्लीट होने के बाद ही भुगतान होता है। हालांकि कई मामलों में प्रक्रिया पूरी होने के बाद ही शासन स्तर से अब तक भुगतान अस्पतालों को नहीं दिया गया है।
आयुष्मान भारत योजना के तहत जिले में 1103 गरीबों को योजना के तहत मुफ्त इलाज का लाभ मिल चुका है। इसमें अस्पतालों ने 1016 केस में भुगतान के लिए डिमांड की है। इसमें से 671 केस में ही भुगतान किया गया है। सत्यापन के बाद जल्द ही अन्य केस में भी भुगतान हो जाएगा।- डॉ. नागेंद्र प्रसाद, एसीएमओ/ नोडल अधिकारी आयुष्मान भारत
... और पढ़ें

बस अड्डे पर कैडेट्स ने लगाई झाड़ू, यात्रियों को भी समझाया

जीवीके के खिलाफ भड़के कर्मी, कल एंबुलेंस सेवा ठप करने की धमकी

रायबरेली। जीवनदायिनी 102, 108 व एएलएस एंबुलेंस के संचालन में अहम भूमिका निभाने वाले 350 कर्मचारियों का गुस्सा भड़क गया है। समय से वेतन न मिलने, ज्यादा काम लेने के साथ ही फर्जी केस के दबाव से नाराज कर्मचारियों ने जीवीके कंपनी के खिलाफ बहिष्कार की घोषणा की है।
डीएम, एसपी व सीएमओ को ज्ञापन देकर 23 सितंबर से एंबुलेंस सेवा ठप करने की चेतावनी दी है। साथ ही राजकीय कॉलोनी के मैदान में एकत्र होकर शांतिपूर्वक धरने की घोषणा की है। जिले में करीब 80 एंबुलेंस 102 व 108 के साथ ही पांच एएलएम भी काम कर रही हैं।
एंबुलेंस का संचालन जीवीके कंपनी को सौंपा गया है। कंपनी ने करीब 350 पायलट और एमटी रखे गए हैं। कर्मचारियों का आरोप है कि कई महीने इंतजार के बाद वेतन मिलता है। इसके अलावा निर्धारित समय से अधिक काम लिया जाता है। आरोप लगाया कि कंपनी की ओर से फर्जी केस बनाने का दबाव भी बनाया जाता है।
इससे नाराज एंबुलेंस कर्मचारियों ने डीएम, एसपी व सीएमओ को ज्ञापन देकर 23 सितंबर से एंबुलेंस सेवा ठप करने की चेतावनी दी है। साथ ही राजकीय इंटर कॉलेज में एकत्र होकर शांतिपूर्वक धरना करने की भी चेतावनी दी है।
डीएम को ज्ञापन देने में जीवनदायिनी 108, 102 एंबुलेंस यूनियन के अध्यक्ष अतुल सिंह, जिला उपाध्यक्ष विजय दुबे, सुनील कुमार वर्मा, भानू प्रताप सिंह, मो. हारून, पीयूष पाठक, आलोक वर्मा व सुल्तान अहमद आदि मौजूद रहे।
सभी कर्मचारियों को जुलाई तक का वेतन दिया जा चुका है। जल्द ही अगस्त महीने का भी वेतन दे दिया जाएगा। कर्मचारियों की समस्याओं को निस्तारित कराया जा रहा है। रोगियों को किसी भी प्रकार की समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा। प्रयास किया जा रहा है कि एंबुलेंस सेवा प्रभावित न हो।
- संजीव गुप्ता, कार्यक्रम प्रबंधक, जीवीके
... और पढ़ें

फरियादी अधिक और शिकायतों का निपटारा कम

रायबरेली। जिले के थानों में शनिवार को आयोजित समाधान दिवस में फरियादियों की संख्या अधिक रही, लेकिन शिकायतों का निपटारा कम रहा। समाधान दिवस में शिकायत करने के बाद भी अधिकतर लोगों की समस्या का हल नहीं हो सका।
डीएम नेहा शर्मा, एसपी स्वप्निल ममगाई ने भदोखर थाने में पहुंचकर समाधान दिवस में लोगों की शिकायतें सुनीं। यहां पर आई चार शिकायतों में सभी का निस्तारण कर दिया गया। डीएम-एसपी ने कहा कि समाधान दिवस में जो भी शिकायतें आईं, वहां पर टीमों का मौके पर भेजकर निस्तारण जरूर कराएं।
मिल एरिया थाने में आई पांच शिकायतों में से तीन शिकायतों का निपटारा हुआ। महराजगंज प्रतिनिधि के मुताबिक एसडीएम विनय कुमार सिंह और सीओ महराजगंज विनीत सिंह की अगुवाई में समाधान दिवस हुआ। दो शिकायतें आई, जिन्हें निपटारे के लिए राजस्व टीम को मौके पर भेजा गया।
एसडीएम-सीओ ने कहा कि शिकायतों के निस्तारण में कतई ढिलाई न बरती जाए। इस मौके पर थाना प्रभारी श्याममचंद्र यादव, उप निरीछक विभाकर शुक्ला, संजय यादव मौजूद रहे। सलोन प्रतिनिधि के मुताबिक, कोतवाली में समाधान दिवस हुआ।
मायाराम का पुरवा निवासी राममनोहर ने खेत में पत्थरगढ़ी की शिकायत दर्ज कराई। करहिया चौकी के कमालुद्दीनपुर निवासी मंगरे राम खलिहान में कोठारी का निर्माण कर रहे थे। निर्माण कार्य को राजस्व टीम ने रोकवा दिया। ख़्वाजपुर निवासी राम निहोर ने प्रार्थना पत्र दिया कि विपक्षी ने उनकी जमीन पर हैंडपंप लगा दिया है।
मौके पर जांच के दौरान हैंडपंप वन विभाग की जमीन पर पाया गया। उमरन निवासी सूरजकली ने प्रार्थना पत्र देकर बताया कि दबंगों ने उसकी जमीन पर मकान निर्माण शुरू कर दिया। मौके पर टीम भेजकर निर्माण कार्य रुकवा दिया गया।
गदागंज प्रतिनिधि के मुताबिक, एसओ राकेश त्रिपाठी और एसआई की देखरेख में आयोजित समाधान दिवस में 11 शिकायतें आईं, जिसमें से केवल एक का निस्तारण कराया गया। ज्यादातर शिकायतें दाउदपुर, जलालपुर धई, चंदई चरुहार आदि गांवों से आईं।
जगतपुर प्रतिनिधि के अनुसार, थाने में तहसीलदार शालिनी सिंह ने जनसमस्याओं को सुना। चार शिकायतें आईं, जिसमें से मौके पर एक का भी निस्तारण नहीं हो सका। इस दौरान जगतपुर थाने के प्रभारी एसओ अरविंद पांडेय व अन्य पुलिसकर्मी मौजूद रहे।
कार्यवाहक कोतवाल इंसाफ अली ने बताया कि समाधान दिवस में आए कुल पांच शिकायतों में चार का निस्तारण कर दिया गया। गदागंज प्रतिनिधि के मुताबिक, थाने में आयोजित समाधान दिवस में एसओ धीरेंद्र यादव ने लोगों की समस्याएं सुनीं। यहां पर 11 शिकायतें आईं, जिसमें से एक शिकायत का निपटारा मौके पर किया गया।
... और पढ़ें

दरवाजे पर बंधी 15 बकरियों को जीप पर लादकर भागे चोर

रायबरेली। गुरुबख्शगंज थाना क्षेत्र के रसूलपुर गुंडा गांव में शुक्रवार रात चोरों ने दरवाजे पर बंधी बकरियों को जीप पर लादकर भाग गए। घटना की जानकारी पर यूपी 100 पुलिस ने मौके पर पहुंचकर पड़ताल की।
चोरी गईं बकरियों की कीमत करीब 40 हजार रुपये है। पीड़ित पक्ष ने थाने में तहरीर देकर कार्रवाई की मांग की है। रसूलपुर गुंडा गांव निवासी जागेश्वर पासी की 15 बकरियां दरवाजे के बाहर बंधी थी। रात में जीप सवार चोरों ने बकरियां गाड़ी में भर लिया। इसी बीच जागेश्वर पासी की नींद खुली तो उसने शोरगुल मचाया।
इससे पहले कि ग्रामीण मौके पर पहुंचते चोर अंधेरे का फायदा उठाकर भाग गए। जागेश्वर का कहना है कि आए दिन गांव में चोरी की घटनाएं हो रही हैं। पुलिस की ढिलाई की वजह से चोरी की घटनाएं बढ़ रही हैं। थानेदार राकेश सिंह का कहना है कि चोरों की धरपकड़ के लिए प्रयास किया जा रहा है।
... और पढ़ें

अज्ञात वाहन की टक्कर से एक किसान की मौत

फुरसतगंज (रायबरेली)। मिल एरिया थाना क्षेत्र में शुक्रवार शाम वाहन की टक्कर से एक किसान की मौत हो गई। इसकी सूचना पर परिवारीजनों में कोहराम मच गया।
अमेठी जिले के फुरसतगंज थाना क्षेत्र के रामपुर मजरे जमालपुर गांव निवासी शिव बहादुर मौर्या (55) पुत्र रामबली मौर्या मिल एरिया क्षेत्र के अंतर्गत एक मिल में ड्यूटी करता था। शुक्रवार की शाम मिल के पास ही किसी वाहन ने उसे टक्कर मार दिया, जिससे वह घायल हो गया।
उसे जिला अस्पताल पहुंचाया गया, जहां उसने दम तोड़ दिया। शिव बहादुर की मौत से पत्नी रज्जो और बेटा अनित, सर्वेश, धर्मेश, सूरज के आंसू नहीं थम रहे हैं। मिल एरिया थानेदार हरिश्चंद्र प्रजापति का कहना है कि तहरीर मिलने पर कार्रवाई होगी।
शादी का निमंत्रण देकर लौट रहे युवक समेत दो घायल
सलोन। अपनी शादी का निमंत्रण देकर घर वापस आ रहे युवक की सामने से आ रही बाइक से जोरदार टक्कर हो गई। इससे दोनों युवक गंभीर रूप से घायल हो गए। ग्रामीणों ने आननफानन दोनों युवकों को सलोन पीएचसी में इलाज के बाद जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया।
पृथ्वीपुर निवासी पुताई लाल (22) पुत्र राजाराम अपनी शादी का कार्ड देने ऊंचाहार रिश्तेदारी में गया था। शनिवार सुबह सलोन ऊंचाहार रोड पर आशियाना नगर के समीप सलोन से बसंतगंज की ओर जा रहे नफीस (55) पुत्र अब्दुल मजीद की आमने सामने जोरदार टक्कर हो गई। इसके बाद ग्रामीणों ने परिवारीजनों को फोन करने के बाद घायलों को सलोन पीएचसी में भर्ती कराया।
डॉक्टरों ने घायल युवकों का इलाज करने के बाद जिला अस्पताल रिफर कर दिया। परिवारीजनों ने बताया कि पुताई लाल की पांच अक्टूबर को शादी है। अपने शादी का कार्ड ऊंचाहार रिश्तेदारी में देने गया था। कोतवाली प्रभारी राम आशीष उपाध्याय ने बताया कि घायलों को इलाज के बाद जिला अस्पताल रेफर किया गया।
... और पढ़ें

खड़े वाहन से भिड़ा ट्रक, खलासी की मौत, चालक घायल

फुरसतगंज (रायबरेली)। अमेठी जिले के फुरसतगंज थाना क्षेत्र में शनिवार की सुबह सड़क किनारे खड़े वाहन में ट्रक ने पीछे से टक्कर मार दी, जिससे खलासी की मौत हो गई और ट्रक चालक घायल हो गया। पुलिस ने इलाकाई लोगों की मदद से दुर्घटनाग्रस्त ट्रक में फंसे खलासी व चालक को बाहर निकाला। चालक को प्राथमिक इलाज कराने के बाद जिला अस्पताल ले जाया गया।
कानपुर से पशु आहार लादकर चालक गाजीपुर के लिए ट्रक लेकर जा रहा था। रायबरेली-सुल्तानपुर हाईवे पर डिघिया चौराहे के पास पहले से हाईवे के किनारे खड़े एक ट्रक में पीछे से टकरा गया। इस हादसे में पशु आहार लदे ट्रक का चालक घुरऊ निवासी गाजीपुर घायल हो गया, जबकि खलासी दिनेश कुमार (35) निवासी पुरैनिया जिला गाजीपुर की मौके पर मौत हो गई।
दुर्घटना वाले ट्रक में लदा पशु आहार सड़क पर आ गिरा। टक्कर से खलासी का शव ट्रक में फंस गया। चालक व खलासी को किसी तरह बाहर निकाला गया। किसी तरह खलासी के भाई राजेश को सूचना दी गई, जो दूसरे ट्रक से आगे जा रहा था।
राजेश ने बताया कि उसके भाई की शादी हो चुकी है। चार बच्चे हैं। परिवारीजनों को सूचना दे दी गई है। एसओ राजीव सिंह ने बताया कि घटना की जानकारी हुई है। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। तहरीर मिलने पर लिखा-पढ़ी की जाएगी।
... और पढ़ें

इधर दरोगा ने चोर को पकड़ा, उधर पूछताछ के नाम पर छोड़ा

रायबरेली। सदर कोतवाली पुलिस के भी खेल निराले हैं। ऐसा ही एक मामला सामने आया है, जिसमें कोतवाली में तैनात दरोगाओं की सेटिंग-गेटिंग को उजागर कर दिया है। चोरी के मामले में युवक को एक दरोगा ने पकड़ा, लेकिन दूसरे दो दरोगाओं ने पूछताछ के बहाने अपने सुपुर्दगी में ले लिया।
इसके बाद कोई कार्रवाई नहीं की और मामले से यह कहते हुए पल्ला झाड़ लिया कि वह कोतवाली के पीछे से भाग गया। दो दरोगाओं के इस खेल की जानकारी होने पर सीओ सदर भी अवाक रह गए। मामले को गंभीरता से लेते हुए सीओ ने प्रकरण में जांच के आदेश दिए हैं। यह वही दरोगा है, जिसको लापरवाही के मामले में तत्कालीन एसपी सुनील कुमार सिंह ने सस्पेंड किया था।
दरअसल, दो दिन पहले कोतवाली में तैनात उपनिरीक्षक गोपाल मणि मिश्रा ने जिला कारागार के पास से एक युवक को संदिग्ध दिखने पर पकड़ा था। उस युवक का चोरी की घटनाओं में हाथ होने की बात सामने आई। कुछ लोग युवक को छुड़वाने पहुंचे। रुपये भी दे रहे थे, लेकिन दरोगा ने युवक को नहीं छोड़ा।
मामला चौकी इंदिरा नगर क्षेत्र का होने के कारण दरोगा ने युवक को इंदिरा नगर चौकी में तैनात दरोगा हरिसरन सिंह के सुपुर्द कर दिया। जानकारी होने पर कोतवाली में गठित विशेष टीम के दो दरोगा चौकी पहुंच गए। यह कहते हुए दरोगा हरिसरन से पकड़े गए युवक को अपने सुपुर्दगी में ले लिया कि इससे हम पूछताछ करेंगे।
इस मामले में विशेष टीम के दो दरोगाओं ने युवक की पहचान पर कई अन्य लोगों को भी हिरासत में लिया। कहा जा रहा है कि सेटिंग-गेटिंग होने के बाद विशेष गठित टीम के दोनों दरोगाओं ने यह कहते हुए अन्य दरोगाओं को गुमराह कर दिया कि वह कोतवाली के पीछे से भाग गया।
ऐसे कैसे ठीक होगी शहर की पुलिसिंग व्यवस्था
रायबरेली। कोतवाली में तैनात को कुछ दरोगाओं की इसी लापरवाही की वजह से शहर में चोरी और चेन स्नेचिंग की घटनाएं बढ़ रही हैं। पिछले एक हफ्ते में चेन स्नेचिंग की चार से ज्यादा घटनाएं हो चुकी हैं। बावजूद पुलिस इसको लेकर गंभीर नहीं है।
यही नहीं कुछ ऐसे दरोगा हैं, जो यहां पर काफी अरसे से तैनात हैं। उन पर कार्रवाई नहीं की जा रही है। यही वजह है कि पुलिसिंग व्यवस्था ध्वस्त है। इसका खामियाजा आम जनता को उठाना पड़ रहा है। दिनदहाड़े शहर में चेन स्नेचिंग की घटनाएं हो रही हैं।
युवक को छोड़ने का मामला गंभीर, कराएंगे जांच
चोरी के मामले में पकड़े गए युवक को छोड़े जाने की जानकारी नहीं है। यदि ऐसा किया गया है तो गलत है। प्रकरण की जांच सीओ सदर से कराई जाएगी। आरोप सही पाए जाने पर संबंधित दरोगाओं को निलंबित किया जाएगा।
-स्वप्निल ममगाई, एसपी
... और पढ़ें

ठेकों पर नकली शराब की आपूर्ति के गोरखधंधे का पर्दाफाश

रायबरेली। शराब की दुकानों पर नकली शराब की आपूर्ति करने के गोरखधंधे का शक्रवार को पर्दाफाश हुआ है। लालगंज पुलिस व आबकारी टीम ने 285 शीशी शराब के साथ पांच आरोपियों को दबोचा है। उनके पास से दो कार व एक स्कूटी भी बरामद की है। पुलिस को चकमा देकर चार लोग भाग निकले।
पुलिस कार्यालय में शुक्रवार को एएसपी शशिशेखर सिंह ने नकली शराब के कारोबार का खुलासा करते हुए बताया कि आबकारी व लालगंज कोतवाली पुलिस की टीम ने सूचना पर बढ़ई का पुरवा तिराहा पर वाहनों को रोककर चेक किया गया तो एक वैन से शराब बरामद की गई।
पकड़े गए पांच आरोपियों में लालगंज कोतवाली क्षेत्र के रघुनाथपुर निवासी राज किशोर जयसवाल, गांधी नगर मजरे मौरा रूपई निवासी मोहनलाल पासी, उन्नाव जिले के आपमऊ मजरे टिनई निवासी कुलदीप सिंह, नसीराबाद थाना क्षेत्र के ओदारी निवासी आशीष जायसवाल और मिलएरिया थाना क्षेत्र के राही निवासी सत्यम गौड़ शामिल हैं।
टीम को चकमा देकर भागने में रुस्तमपुर मिलएरिया निवासी अंकित उर्फ कोमल जायसवाल, राही मिलएरिया निवासी अमन जायसवाल, प्रेमराजपुर मिलएरिया निवासी रवि प्रताप सिंह, हरचंदपुर निवासी बब्लू उर्फ देवेंद्र जायसवाल शामिल हैं। आरोपियों के पास से 285 शीशी नकली शराब बरामद की गई है।
आरोपी नकली शराब को लालगंज, शहर व मिलएरिया क्षेत्र की दुकानों में बेचने की फिराक में थे। आबकारी निरीक्षक लालगंज नरेंद्र श्रीवास्तव, आबकारी निरीक्षक ऊंचाहार राजेश गौतम, कोतवाल लालगंज विनोद कुमार सिंह आदि की टीम को यह सफलता मिली है।
... और पढ़ें

सीएम का फरमान बेअसर, न थम रहा भ्रष्टाचार न रुक रही कच्ची शराब की बिक्री

सीएम का फरमान भी जिले में बेअसर हो रहा है। न भ्रष्टाचार रुक रहा है और न ही कच्ची शराब की बिक्री। शनिवार को सोशल मीडिया पर वायरल दो वीडियो इसकी हकीकत बयां कर रहे हैं। एक वीडियो में लालगंज कोतवाली क्षेत्र के बहाई चौकी में तैनात चौकी प्रभारी पीड़ित से घूस ले रहे हैं तो गुरुबख्शगंज थाना क्षेत्र में खुलेआम किराना व सब्जी दुकान की तरह कच्ची शराब की बिक्री करने का खेल चल रहा है। जिनके कंधों पर इसकी रोकथाम की जिम्मेदारी सौंपी गई है, वह भी लापरवाह साबित हो रहे हैं। 

इन वीडियो वायरल से जाहिर है कि थानों और चौकियों पर भ्रष्टाचार की जड़ें आज भी गहरी हैं। इसकी रोकथाम को लेकर सख्त एक्शन लेने की जरूरत है। अब देखना ये है कि इन दो मामलों सिर्फ जांच होती है या फिर कार्रवाई को लेकर अफसर तेजी दिखाते हैं।
... और पढ़ें

मैटरनिटी विंग के 24 संविदा स्टाफ को छह माह का सेवा विस्तार

रायबरेली। जिला अस्पताल स्थित 100 बेड के मैटरनिटी विंग में आउट सोर्सिंग से रखे गए 24 संविदा स्टाफ की नौकरी छह माह के लिए बढ़ गई है। संविदा खत्म होने के बाद संविदा कर्मियों के सामने समस्या आ गई थी।
हालांकि शासन से संविदा को छह महीने के लिए बढ़ाने के संबंध में पत्र आ गया है। मैटरनिटी विंग प्रबंधक को संविदा कर्मियों से नियमित काम लेने के निर्देश दिए गए हैं। जल्द ही मानदेय के लिए बजट की व्यवस्था होगी।
जिला महिला अस्पताल के स्टाफ के साथ ही मैटरनिटी विंग में आउटसोर्सिंग से भी संविदा स्टाफ की व्यवस्था की गई है। इसमें नर्सिंग स्टाफ के अलावा डायटीशिन, कंप्यूटर ऑपरेटर, रजिस्ट्रेशन क्लर्क, स्टोर कीपर, मेडिकल रिकॉर्ड कीपर व वार्ड आया सहित 24 लोगों का स्टाफ रखा गया है।
संविदा स्टाफ की संविदा 15 सितंबर को खत्म होने के बाद कर्मचारियों के सामने समस्या खड़ी हो गई थी। मामले में अस्पताल की प्रबंधक मृणालिनी उपाध्याय ने बताया कि आउटसोर्सिंग से रखे गए स्टाफ की संविदा को छह महीने के लिए बढ़ाने के संबंध में एनएचएम के निदेशक का पत्र आ गया है। जल्द ही मानदेय के लिए बजट भी आ जाएगा। सभी कर्मचारी काम भी कर रहे हैं।
... और पढ़ें

जिला अस्पताल के बच्चा वार्ड में बुखार से तीन बच्चों की मौत

रायबरेली। जिले में संक्रामक रोगों का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। 24 घंटे में जिला अस्पताल में बुखार व डायरिया की चपेट में आने के बाद भर्ती कराए गए बच्चों में तीन की मौत हो गई है।
बुखार से पीड़ित 30 से अधिक बच्चों को बच्चा वार्ड में इलाज किया जा रहा है। इसके अलावा ग्रामीण क्षेत्र के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (सीएचसी) और प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र (पीएचसी) में भी लगातार रोगियों की संख्या बढ़ रही है।
मौसम में बदलाव के साथ ही संक्रामक रोगों का कहर बढ़ गया है। समय रहते स्वास्थ्य विभाग ने लोगों को मच्छरों से बचाने के लिए बंदोबस्त नहीं किए। इसी का नतीजा है कि जिले में लोगों को संक्रामक रोगों की चपेट में आकर अपनी जान गवां रहे हैं।
जिला अस्पताल में लालगंज क्षेत्र के टटियापुर गांव के विनोद कुमार ने अपने छह साल के बच्चे युवराज को जिला अस्पताल में भर्ती कराया था। उसकी इलाज के दौरान बृहस्पतिवार देर राम मौत हो गई।
इसके अलावा सलोन क्षेत्र के कांजीहार निवासी आंचल (9) और रोहनियां निवासी मनीष कुमार (10) की भी बुखार की चपेट में आने के बाद जिला अस्पताल में इलाज के दौरान शुक्रवार को मौत हो गई।
जिला अस्पताल में इलाज के दौरान एक माह के अंदर 20 से अधिक नवजात भी दम तोड़ चुके हैं। जिला अस्पताल के बच्चा वार्ड के सभी बेड फुल हैं।
बच्चा वार्ड में शिवांशु, आरोही, निशांत, अर्पित, राकेश, संजय, अंकुर, सीमा, आरती समेत 30 से अधिक बच्चों का इलाज किया जा रहा है। मैटरनिटी विंग में नवजातों के इलाज के लिए स्थापित न्यू सिक बॉर्न केयर यूनिट (एसएनसीयू) के भी सभी 10 बेड पांच दिनों से फुल हैं।
ऐसे में नवजातों को भी इलाज के लिए लखनऊ भेजा जा रहा है। तमाम लोग नवजातों को लखनऊ न ले जाकर जिला अस्पताल में भर्ती करवा रहे हैं।
जिला अस्पताल के डॉ. बीरबल का कहना है कि बदलते मौसम में लोग सतर्क रहें। खानपान का विशेष ख्याल रखें। बच्चों और बुजुर्गों का विशेष ध्यान रखें।
कहा कि बुखार या डायरिया होने पर लोग स्वयं डॉक्टर न बने। तबियत खराब होने पर तुरंत डॉक्टर को दिखाएं और सलाह लें। इलाज में देरी या लापरवाही जानलेवा हो सकती है।
जिला अस्पताल में इलाज की समुचित व्यवस्था है। दवाएं भी पर्याप्त हैं। तमाम रोगियों को यहां लाकर भर्ती कराने में देरी हो जाती है। यदि समय से रोगियों को यहां लाकर भर्ती करा दिया जाए तो उनका इलाज आसानी से हो जाएगा। खासकर बच्चा वार्ड में एक चिकित्सक को हर समय रहने के आदेश दिए गए हैं।- डॉ. एनके श्रीवास्तव, सीएमएस जिला अस्पताल
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree