बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

दिन भर बाघ का हल्ला, पदचिह्न निकले कुते के

Updated Sat, 28 Jul 2018 12:31 AM IST
विज्ञापन
ख़बर सुनें
बॉटम
विज्ञापन

27 पीबीटीपी 26
दिनभर बाघ का हल्ला, पदचिह्न निकले कुत्ते के
तीन घंटे तक वनकर्मी करते रहे पड़ताल, जुटी रही भीड़
गजरौला थाना क्षेत्र के लालपुर गांव का मामला
अमर उजाला ब्यूरो
जराकोठी/गजरौला। जंगल से करीब दो किमी दूरी पर स्थित गन्ने के खेत में बाघ छिपा होने की सूचना से लालपुर गांव में दहशत फैल गई। यही नहीं ग्रामीणों ने बाघ के दहाड़ लगाने की बात भी कह डाली। इसके बाद कई घंटों तक गांव में बाघ की मौजूदगी को लेकर अफवाहें उड़ीं तो हाहाकार मचा रहा। मौके पर पहुंचे वनकर्मियों ने ग्रामीणों के बताए अनुसार खेत में पड़ताल की। इसमें खेत पर न तो बाघ मिला और न ही उसकी मौजूदगी का साक्ष्य। ट्रेस किए गए पगमार्क भी कुत्ते के निकले। इस पर टीम वापस चली गई। हालांकि अधिकांश ग्रामीण अब भी बाघ के होने की बात कहकर दहशतजदा हैं।
टाइगर रिजर्व की माला रेंज के जंगल से करीब दो किमी की दूरी पर स्थित लालपुर गांव में आबादी के नजदीक बाघ के पहुंचने का शोर मच गया। गांव निवासी लल्तू सिंह के गन्ने के खेत में बाघ के दहाड़ने की सूचना कुछ ही देर में आग की तरह फैल गई। खेत और आसपास के इलाके में पगचिह्न होने की बात कहते हुए सूचना वन विभाग को दी गई। इधर, ग्रामीण एकजुट होकर गन्ने के खेत के पास पहुंच गए। कुछ ही देर में वन दरोगा वजीर हसन, बीट प्रभारी सत्यवीर सिंह टीम के साथ गांव पहुंचे। ग्रामीणों से जानकारी जुटाई। इसमें ग्रामीणों ने दी गई सूचना के मुताबिक बाघ के दहाड़ने और खेत के पास पगचिह्न मिलना बताया। ग्रामीणों को खेत से पीछे हटाने के बाद वनकर्मियों ने पड़ताल शुरू की। करीब तीन घंटे चली छानबीन के बाद न तो खेत में बाघ मिला, न ही पगमार्क। ग्रामीणों ने जो पगमार्क बताए वह ट्रेस किए गए तो कुत्ते के निकले। ग्रामीणों को आश्वस्त कर वन टीम वापस लौट गई। हालांकि कई ग्रामीण बाद में पगमार्क बाघ के होने की बात कहते हुए टीम पर औपचारिकता निभाने का आरोप लगाते रहे। वन दरोगा वजीर हसन ने बताया कि सूचना पर टीम के साथ मौके पर गए थे। पड़ताल में स्पष्ट है कि खेत पर मिले पगचिह्न बाघ के नहीं हैं।

000
छुट्टी पर आए फौजी को दिखा तेंदुए का शावक
जराकोठी। माला रेंज से सटे बानगंज गांव में एक बार फिर तेंदुए की दस्तक हुई। इस बार मादा तेंदुआ नहीं, बल्कि उसका शावक दिखाई दिया है। गांव के निवासी गुलाब सिंह ने बताया कि उनके भाई गुरजन सिंह फौज में हैं और इन दिनों वह छुट्टी पर गांव आए हुए हैं। बृहस्पतिवार शाम करीब छह बजे गुरजन सिंह छत पर टहल रहे थे। इस बीच उनको मकान के पीछे की तरफ तेंदुए का शावक दिखा। शावक पास के गन्ने के खेत से निकलकर बाहर आया और करीब एक मिनट बाद ही वापस खेत में चला गया। सूचना मिलने पर पर वनकर्मियों ने मौके पर पहुंच जानकारी जुटाई। ग्रामीणों ने बताया कि करीब 20 दिन पहले भी गांव में मादा तेंदुआ और उसके शावक देखे गए थे।
000
27 पीबीटीपी27
गजरौला फार्म पर फिर मिले बाघिन के पगचिह्न
अमरिया। तहसील क्षेत्र के गजरौला फार्म पर अभी एक दिन पहले ही खेत पर काम करने गए मजदूरों को देख बाघिन ने दहाड़ लगा दी थी। इसकी दहशत अभी कम नहीं हो सकी थी कि शुक्रवार को फार्म हाउस के एक रास्ते पर बाघिन ने अपनी मौजूदगी का अहसास करा दिया। फार्म हाउस स्वामी पूर्व ब्लॉक प्रमुख श्रवण दत्त सिंह ने बताया कि उनका चौकीदार नरेश कुमार सुबह छह बजे खेत से लौटकर फार्म हाउस की तरफ आ रहा था। इस बीच परिसर में एक रास्ते पर बाघिन के पगचिह्न दिखाई दिए। इसकी सूचना वनकर्मियों को दी गई। निगरानी टीम के चेतन कुमार मौके पर पहुुंचे और पड़ताल की, इसमें पगमार्क बाघिन के निकले हैं।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X