बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

फोटो- 03 सीकेटीपी- 10 परिचय- सीएचसी मानिकपुर में घटना की जानकारी देता मेठ प्रमोद कुमार।

Updated Sat, 03 Jun 2017 11:16 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
डाकू बबुली गैंग ने दिनदहाड़े मेठ को पीट मांगी रंगदारी
विज्ञापन


अमर उजाला ब्यूरो
मानिकपुर(चित्रकूट)। कुख्यात इनामी डाकू बबुली कोल गैंग ने पुलिस की सख्ती के दावों की पोल खोल दी है। शनिवार को दिनदहाड़े गैंग के आधा दर्जन सदस्यों ने गांव में घुसकर बुंदेलखंड पैकेज से कुआं खुदाई करा रहे एक मेठ को जमकर पीटा। यह देखकर वहां दहशत फैल गई और मजदूर काम छोड़कर भाग गए। इसके बाद डाकू बिना रंगदारी पहुंचाए निर्माण काम न कराने की धमकी देकर जंगल की ओर भाग गए। सूचना पर पहुंची पुलिस ने डकैतों की तलाश में आस-पास के क्षेत्र में कांबिंग की लेकिन सफलता नहीं मिली। घायल मेठ को सीएचसी में भर्ती कराया गया है।
जानकारी के अनुसार थानाक्षेत्र के सकरौंहा गांव के पास रामशिरोमणि के खेत में बुंदेलखंड पैकेज के तहत कुआं खुदाई का काम चल रहा था। इसी बीच वहां एक दर्जन मजदूर मौजूद थे और मेठ सकरौंहा निवासी प्रमोद कुमार त्रिपाठी पुत्र रेवती पीने का पानी लेने के लिए कुछ दूर हैंडपंप के पास आया तो अचानक आधा दर्जन असलहाधारी डाकुओं ने उसे घेर लिया। डकैतों ने उससे कुआं निर्माण के एवज में रंगदारी मांगी और कहा कि पहले इस काम को बंद कराया गया था और अभी तक रंगदारी नहीं पहुंची तो इसे कैसे शुरू करा दिया गया। मेठ ने बताया कि इसके बाद डाकुओं ने कहा कि 20 प्रतिशत रंगदारी नहीं पहुंचाई है और पिटाई शुुरू कर दी। उसके चिल्लाने की आवाज सुनकर कुछ दूरी पर मौजूद मजदूर भयभीत होकर काम छोड़ भाग निकले।

घायल मेठ वहां काफी देर तक पड़ा कराहता रहा। इसके बाद पहुंचे कुछ ग्रामीणों ने पुलिस सूचना दी और मौके पर अपर पुलिस अधीक्षक बलवंत चौधरी व थानाध्यक्ष अजय यादव मय फोर्स पहुंचे। घायल मेठ को सीएचसी मानिकपुर में भर्ती कराया और फिर डकैतों की तलाश में कांबिंग की। घायल मेठ ने बताया कि यह डाकू बबुली कोल गैंग था। डकैतों ने रंगदारी न पहुंचाने पर जान से मारने की धमकी दी है। थानाध्यक्ष ने बताया कि मेठ की तहरीर पर डाकू बबुली कोल गैंग के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की गई है।


क्यों खुद रहे कुएं
चित्रकूट। दरअसल बुंदेलखंड पैकेज से पाठा समेत जंगली इलाकों में जल संचयन के लिए कुआं खुदाई का निर्माण सरकार ने शुरू कराया है। यह वर्ष 2012-13 की योजना है जिसमें एक कुआं सवा तीन लाख के सरकारी अनुदान पर बनता है। किसान की स्वीकृति पर उसके खेत में ही सरकार कुआं खुदवाती है। यह काम जिले में लघु सिंचाई विभाग करा रहा है। अभी तक चार साल पहले की योजना के पूरे कुआें की खुदाई नहीं हो सकी है। विभाग के जेई ईश्वर प्रसाद ने बताया कि सकरौंहा में भी इसी योजना से कुआं खुदाई का काम चल रहा था।

- बुंदेलखंड पैकेज योजना से चल रहा था कुआं खुदाई का काम
- डकैतों द्वारा मेठ की पिटाई देख काम छोड़ भागे मजदूर, रिपोर्ट

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us