विज्ञापन
विज्ञापन
आज ही बनवाएं फ्री जन्मकुंडली, और जानें कुंडली पर सूर्य का प्रभाव
Kundali

आज ही बनवाएं फ्री जन्मकुंडली, और जानें कुंडली पर सूर्य का प्रभाव

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

विज्ञापन
Digital Edition

हाथरस: ग्राम पंचायतों में दोबारा तैनाती के नाम पर चल रहा खेल

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, हाथरस
विकास भवन स्थित डीपीआरओ व विकास विभाग कार्यालय में इस समय तबादलों को लेकर खेल चल रहा है। तबादला सत्र शून्य होने के बावजूद भी अफसर अपनी मनमानी से तबादले कर रहे हैं। यहां तक की एक-एक स्थान पर नियमानुसार कार्य अवधि पूरी होने के बावजूद भी कुछ समय के लिए तबादला कर उन अधिकारियों को दोबारा उन्हीं की ग्राम पंचायतों में तैनाती दी जा रही है।
शासन के निर्देशों पर एक ही ग्राम पंचायतों में व पदों पर कार्यरत कर्मचारियों के तीन साल पूरे होने के बाद उनके तबादले के निर्देश जारी किए गए थे। इन निर्देशों के क्रम में यहां विकास विभाग, पंचायती राज विभाग सहित अन्य विभागों की ओर से कर्मचारियों के तबादले किए गए थे। यहां पंचायती राज विभाग व विकास विभाग में इन तबादलों को लेकर नया खेल सामने आया है।
विभाग की ओर से ग्राम पंचायत अधिकारियों व ग्राम विकास अधिकारियों के तीन साल पूरे होने पर उन ग्राम पंचायतों से तबादले किए गए और दूसरे स्थानों पर तैनाती दी गई लेकिन फिर कुछ ही दिनों बाद इन ग्राम पंचायत अधिकारियों व ग्राम विकास अधिकारियों की उन्हीं वापस ग्राम पंचायतों में दोबारा तैनाती दे दी गई है। यह सब उच्चाधिकारियों के संज्ञान में है लेकिन इस ओर से सभी अधिकारी अपनी आंखें मूंद कर बैठे हुए हैं।
... और पढ़ें

हाथरस: जनरथ बस में सुविधा के साथ सुरक्षा की गारंटी

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, हाथरस
यदि आप हाथरस डिपो की एसी बस में सफर कर रहे हैं तो इस बस में सुरक्षा की गारंटी है। इस बस में मूलभूत सुविधाओं के साथ पैनिक बटन लगा हुआ है। कोरोना काल के चलते शहरवासी इस बस खासियत नहीं जान सके हैं। यात्रियों के अभाव में ये बसें खाली दौड़ रही है। इस कारण डिपो के लिए ये बस घाटे का सौदा साबित हो रही है। इसे लेकर डिपो के अधिकारी खासे परेशान हैं।
उल्लेखनीय है कि हाथरस डिपो में फरवरी माह में जनरथ एसी बसें आई हैं। उसके बाद कोरोना संक्रमण ने दस्तक दे दी। लॉकडाउन लग गया। इस कारण इन बसों में शहरवासी इसमें सफर नहीं कर सके। इस बस में पैनिक बटन लगा हुआ है। यदि कोई यात्री असुरक्षा महसूस करे तो वह पैनिक बटन दबा सकता है। जिससे संबधित थाने को सूचना पहुंच जाएगी।
इसके अलावा प्रत्येक सीट पर मोबाइल चार्ज करने के लिए प्वाइंट लगा हुआ है। दुर्घटना के समय शीशा तोड़ने के लिए जगह जगह प्लास्टिक के हथौड़े लगे हुए हैं। टीवी लगी हुई है। ये बस वर्तमान में मुरादाबाद व सहारनपुर के चल रही है। इस मामले में डिपो की एआरएम शशी रानी का कहना है कि एसी बसों में यात्रियों का अभाव है। इस कारण घाटा दे रही है।
... और पढ़ें

हाथरस: ध्वस्त कानून व्यवस्था को लेकर सपाइयों ने सौंपा ज्ञापन

हाथरस: शहर के आबादी वाले इलाके में लगी आग, मची अफरा-तफरी

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, हाथरस
कोतवाली सदर के आबादी वाले इलाके मोहल्ला मधुगढ़ी में सोमवार की दोपहर को अचानक आग लग गई। इस स्थान से अचानक आग की ऊंची लपटें उठती देखकर लोगों के होश उड़ गए। मौके पर अफरा-तफरी मच गई। मौके पर फायर ब्रिगेड की दमकल भी पहुंच गई। स्थानीय लोगों की मदद से फायर ब्रिगेड के कर्मियों ने कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया, जिसके बाद लोगों ने राहत की सांस ली।
कोतवाली सदर क्षेत्र के मोहल्ला मधुगढ़ी निवासी इलियास पुत्र उमर पुराने टायरों का काम करते हैं। पुराने टायरों को उन्होंने मधुगढ़ी में ही मोहम्मद अज्जू के घर के पास खाली पड़े एक प्लॉट में जमा कर रखा था। सोमवार की दोपहर को टायरों में अचानक भीषण आग लग गई, जिससे आसपास के इलाके में अफरा-तफरी मच गई।
सूचना पर ज्वाइंट मजिस्ट्रेट प्रेमप्रकाश मीणा व सदर कोतवाली निरीक्षक जगदीश चंद्र पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच गए। लोग पानी आदि डालकर आग पर काबू पाने का प्रयास करने लगे, लेकिन आग इतनी तेज थी कि काबू में आने का नाम नहीं ले रही थी। इस बीच मौके पर फायर ब्रिगेड की दो गाड़ियां पहुंच गईं। फायर ब्रिगेड के कर्मी आग को बुझाने में जुट गए। आग काफी देर बाद शांत हुई, जिसके बाद लोगों ने राहत की सांस ली। आग लगने के कारण का पता नहीं चल सका है।
... और पढ़ें
हाथरस: शहर के मधुगढ़ी इलाके में लगी आग। हाथरस: शहर के मधुगढ़ी इलाके में लगी आग।

वेदांता हॉस्पिटल संचालक के खिलाफ दो रिपोर्ट दर्ज

संवाद न्यूज एजेंसी, हाथरस।
मथुरा रोड स्थित वेदांता हॉस्पिटल के संचालक के खिलाफ दो और मुकदमे दर्ज किए गए हैं। इस मामले में पुलिस अस्पताल संचालक सहित चार लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी है। अन्य आरोपियों की तलाश में भी पुलिस जुट गई है।
कोतवाली हाथरस गेट क्षेत्र के मथुरा रोड स्थित गांव गांव हतीसा के निकट वेदांता हॉस्पिटल व ट्रोमा सेंटर का संचालन हो रहा था। यहां मरीजों को जबरन रखकर उनके तीमारदारों से रुपये ऐंठने की शिकायतें जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग तक लगातार पहुंच रही थीं। इसी प्रकार की एक शिकायत पर ज्वाइंट मजिस्ट्रेट प्रेमप्रकाश मीणा और सीओ सिटी रुचि गुप्ता ने दो थानों की पुलिस फोर्स स्वास्थ्य विभाग की टीम के साथ वेदांता हॉस्पिटल पर छापा मारा था। यह कार्रवाई रविवार की देर रात को की गई। यहां पर अस्पताल के कथित संचालक मोहित अग्रवाल बिना किसी डिग्री के मरीजों का इलाज करते हुए मिला था। उस पर मरीजों से इलाज के नाम पर मोटी रकम वसूलने का भी आरोप था। आईसीयू के साथ ही ऑपरेशन थियेटर भी संचालित किया जा रहा था। इलाज करने के लिए प्रशिक्षित नहीं होने के बावजूद प्रबंधक मोहित अग्रवाल लोगों का इलाज कर रहा था। अन्य कई अनियमितताएं देखकर अधिकारियों ने मौके पर मौजूद प्रबंधक सहित चार लोगों को गिरफ्तार लिया था और हॉस्पिटल को सीज करा दिया गया था।
इस मामले में कोतवाली हाथरस गेट में हॉस्पिटल संचालक मोहित अग्रवाल, डॉ. सुरेश छावड़ा, डॉ. विवेक कुमार, अस्पताल के स्टाफ शशीकांत, रोहित, किशन कुमार, रश्मी, अतुल, विकास और केहरी सिंह के खिलाफ जसपाल निवासी आवास-विकास कॉलोनी की तहरीर पर धारा 420, 384, 504, 506 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। मौके से गिरफ्तार अस्पताल के संचालक मोहित अग्रवाल, कर्मचारी रोहित, किशन और शशिकांत को पुलिस ने जेल भेज है। अब दो और लोगों ने अस्पताल संचालक के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई है। राघवेंद्र सिंह निवासी नाखुर गोंडा जिला अलीगढ़ द्वारा दर्ज कराई गई रिपोर्ट में आरोप लगाया गया है कि वह अपनी पत्नी का इलाज वेदांता अस्पताल में कराने आए थे। फायदा न होने पर पत्नी को डिस्चार्ज करने को कहा तो उन पर अवैध वसूली के लिए दबाव बनाया गया। वहीं रानी पुत्री कुंवरपाल सिंह निवासी मऊ मुरसान ने हॉस्पिटल संचालक के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराते हुए कहा है कि उनके पुत्र के उपचार के लिए अस्पताल में 50 हजार रुपये जमा करा लिए गए। इलाज से बेटे को फायदा नहीं हुआ तो उसे रेफर करने की कहने पर रानी के साथ गाली-गलौज की गई और 40 हजार रुपये मांगे गए।
- वेदांता अस्पताल के संचालक के खिलाफ अब तक तीन लोगों द्वारा एफआईआर दर्ज कराई जा चुकी है। संचालक, दो डॉक्टर व सात कर्मचारियों के खिलाफ विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है। संचालक सहित चार आरोपियों को मौके से गिरफ्तार कर जेल भेजा जा चुका है। अन्य की तलाश जारी है। - चतर सिंह राजौरा, एसएचओ कोतवाली हाथरस।
... और पढ़ें

कोरोना पॉजिटिव महिला की इलाज के लिए ले जाते समय मौत

संवाद न्यूज एजेंसी, सासनी।
क्षेत्र के एक गांव निवासी 56 वर्षीय महिला स्वास्थ्य केंद्र पर जांच में कोरोना संक्रमित पाई गई। जांच में महिला के अन्य परिवार वाले भी कोरोना संक्रमित निकले। चिकित्सकों ने उसको कोविड वन अस्पताल के लिए रेफर कर दिया। एंबुलेंस आने में देरी होने पर परिवार वालों ने वहां हंगामा कर दिया, जिससे वहां अफरा-तफरी मच गई। हालांकि एंबुलेंस आने के बाद जब महिला को उपचार के लिए हाथरस ले जाया जा रहा था तो रास्ते में उसकी मौत हो गई।
दरअसल, क्षेत्र के एक गांव निवासी महिला अपने परिवार वालों के साथ स्वास्थ्य केंद्र पर जांच कराने आई थी। जहां में महिला कोरोना संक्रमित पाई गई। चिकित्सकों के अनुसार महिला अन्य बीमारी से भी ग्रसित थी। इस कारण उसकी हालत बिगड़ गई थी। जांच में महिला का पुत्र भी कोरोना संक्रमित पाया गया, लेकिन पीड़ित पक्ष रिपोर्ट से सहमत नहीं था। इस कारण दोबारा जांच कराई गई थी। कोराना संक्रमित महिला को चिकित्सकों ने रेफर तो कर दिया, लेकिन सामान्य एंबुलेंस वाला महिला को जिला अस्पताल ले जाने को तैयार नहीं हुआ। विभाग ने जिला मुख्यालय से एंबुलेंस मंगवाई, लेकिन एंबुलेंस को आने में देरी हो गई, जिससे महिला के परिवार वाले गुस्से में आए। प्रभारी चिकित्साधिकारी डॉ. एसपी सिंह ने बताया कि एंबुलेंस नहीं आने के कारण देरी हो गई थी। इस कारण परिजन नाराज हो गए थे। महिला को कोरोना संक्रमित निकलने के कारण रेफर किया गया था।
... और पढ़ें

हाथरस: हाईस्कूल की छात्रा की संदिग्ध हालात में मौत

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, हाथरस
कोतवाली चंदपा क्षेत्र के गांव महमूदपुर ब्राह्मणान में संदिग्ध हालात में एक छात्रा की मौत हो गई। परिवार के लोग उसको जिला अस्पताल लेकर पहुंचे, जहां उसको मृत घोषित कर दिया गया। पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम कराया।
गांव महमूदपुर ब्राह्मणान निवासी बृजेश कुमार शर्मा की बेटी साक्षी हाईस्कूल में पढ़ती थी। सोमवार की सुबह करीब पौने पांच बजे साक्षी की अचानक तबियत खराब हुई और वह बेहोश हो गई। परिवार के लोग सुबह करीब सवा पांच बजे उसे लेकर जिला अस्पताल पहुंचे। यहां पर डॉक्टर ने साक्षी को मृत घोषित कर दिया, जिसके बाद परिजन छात्रा का शव लेकर गांव चले गए।
इसकी जानकारी पुलिस को हुई तो पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम कराया। पोस्टमार्टम के बाद पुलिस ने शव को परिजनों को सौंप दिया। एसएचओ लक्ष्मण सिंह ने बताया कि महमूदपुर ब्राह्मणान में दसवीं की छात्रा की मौत हो गई थी। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

हाथरस: हमारा तो देश निकाला ही हो जाएगा

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, हाथरस
बिटिया के परिजन अपनी सुरक्षा को लेकर फिर चिंतित दिखे। बिटिया के पिता ने कहा कि एक तरह से इस गांव से हमारा ‘देश निकाला’ ही हो जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि वह और पूरा परिवार इस दौरान केस में उलझे रहे और फसल भी बर्बाद हो गई। अब वह मंगलवार से खेत में फसल की कटाई कराएंगे। सरकार द्वारा आर्थिक मदद मिलने की बात भी उन्होंने स्वीकार की है।
अभी तो बिटिया के घर पर काफी पुलिस फोर्स तैनात है, लेकिन भविष्य में जब सुरक्षा नहीं रहेगी, तब क्या होगा, यह सोचकर परिजन चिंतित हैं। बिटिया के पिता का कहना है कि एक तरह से हमारा इस गांव से ‘देश निकाला’ ही हो गया है। जब तक रहा जा रहा है, तब तक रह रहे हैं। भविष्य में कहां जाकर बसना है, इसके बारे में अभी नहीं सोचा है। उन्होंने यह भी कहा कि सरकार ने जो आर्थिक मदद दी थी, वह हमें मिल गई है।
उल्लेखनीय है कि सरकार ने उन्हें कुल 25 लाख रुपये की आर्थिक मदद दी थी। राहुल गांधी द्वारा दिए गए चेक पर उन्होंने कुछ भी नहीं बताया। केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले सहित अन्य कई नेता भी उन्हें सरकारी मदद की घोषणा कर गए थे। इस बारे में उन्होंने कहा कि उन्हें इसकी कोई जानकारी नहीं है। उन्होंने यह भी कहा कि हम इस पूरे मामले में उलझे रहे। ऐसे में हमारी पूरी फसल बर्बाद हो गई है। जो कुछ बची है, उसकी मंगलवार से कटाई कराएंगे। हमने इस बार पांच बीघा खेत में बाजरे की फसल की थी। अस्थियों के विसर्जन के बारे में उन्होंने कहा कि जब तक न्याय नहीं मिलेगा, तब तक अस्थियां विसर्जित नहीं करेंगे।
ज्यादातर रिश्तेदार जा चुके हैं बिटिया के घर से
हाथरस। बिटिया के घर से ज्यादातर रिश्तेदार भी अब चले गए हैं। घर में पीड़ित परिवार और कुछ सगे संबंधी ही बचे हैं। बिटिया के पिता ने बताया कि उनका छोटा बेटा बाहर नौकरी करता था, लेकिन इस केस के चक्कर में वह भी यहीं पर है। अभी तो केस की तारीख पड़ेंगी। ऐसे में बेटा कहां बाहर जा पाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि सीबीआई हमसे पूछताछ कर चुकी है, फिर आने की बात भी कह चुकी है।
... और पढ़ें

हाथरस: बिटिया के गांव में रही पुलिस बल की तैनाती

हाथ्ररस: बिटिया के गांव में ड्यूटी दे रहे हेड कांस्टेबल की अचानक बिगड़ी तबियत

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, हाथरस
बिटिया के गांव में ड्यूटी दे रहे पुलिस कर्मी की सोमवारको अचानक तबियत बिगड़ गई और वह बेहोश होकर वहीं पर गिर पड़े। यह देख अफरा-तफरी मच गई। आनन-फानन बेहोशी की हालत में पुलिस कर्मी को जिला अस्पताल पहुंचाया गया। यहां पर कई घंटे चले इलाज के बाद पुलिस कर्मी को स्वास्थ्य लाभ हुआ और फिर वह अपने साथियों के साथ चंदपा थाने चला गया।
कोतवाली चंदपा के हेड कांस्टेबल राजकुमार की ड्यूटी बिटिया के गांव में लगे सीसीटीवी कैमरों की निगरानी में लगी है। सोमवार को इस बीच उनको चक्कर आए और बेहोश होकर मौके पर ही गिर गए। यह देखकर उनके साथ मौजूद अन्य पुलिस कर्मियों के होश उड़ गए। मौके पर काफी भीड़ लग गई। पुलिस के बज्र वाहन से बेहोशी की हालत में एचसी को जिला अस्पताल पहुंचाया गया।
यहां पर उनके जानने वाले भी आ गए। डॉ. नवनीत अरोड़ा ने उनका इलाज शुरू किया। काफी देर तक चले इलाज के बाद उन्हें होश आया और फिर स्वस्थ होकर अपने साथियों के साथ थाने चले गए। एसएचओ लक्ष्मण सिंह ने बताया कि एचसी की ड्यूटी सीसीटीवी कैमरों की निगरानी में लगी है। वहीं पर उनकी थोड़ी तबियत खराब हो गई थी, लेकिन अब वह ठीक हैं।
... और पढ़ें

मारपीट कर वृद्ध को छत से फेंका

संवाद न्यूज एजेंसी, सिकंदराराऊ।
नगर के मोहल्ला नौखेल में रविवार की रात चार लोगों ने घर में घुसकर एक वृद्ध की जमकर पिटाई कर दी। आरोपियों ने वृद्ध को छत से नीचे फेंक दिया। जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गया। गंभीर स्थिति में इलाज के लिए उसे रेफर कर दिया गया। पुलिस ने मामला दर्ज कर विवेचना शुरू कर दी।
जानकारी के अनुसार श्रीमती रामबेटी पत्नी जानकी लाल के फूफा सूरज पुत्र जानकी प्रसाद का मोहल्ले में अपना मकान है। मोहल्ला नौरंगाबाद निवासी नितिन कुमार पुत्र मक्शन सिंह, कोकी पुत्र मक्खन सिंह, अनीता देवी पत्पी मक्खन सिंह, मक्शन सिंह पुत्र केदारी लाल उनसे रंजिश मानते हैं। रविवार की रात में चारों उसके घर में घुसे और पीट पीट कर घायल करने के बाद छत से नीचे फेंक दिया। इससे जानकी दास को गंभीर चोटें आई हैं। इन्हें इलाज के लिए रेफर किया गया है।
... और पढ़ें

हाथरस: हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट के चक्कर में एआरटीओ कार्यालय से बैरंग लौट रहे लोग

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, हाथरस
हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट ने एआरटीओ कार्यालय में कामकाज की रफ्तार को रोक दिया है। सोमवार को कार्यालय में काम के लिए पहुंचे लोग बैरंग लौट आए। लोगों को दिक्क्तों से जूझना पड़ा। एआरटीओ ने सभी डीलरों को नंबर प्लेट उपलब्ध कराने के लिए पत्र भी लिखा है। ताकि लोगों को कामकाज कराने में राहत मिल सके।
उल्लेखनीय है कि हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट को लेकर परिवहन विभाग काफी गंभीर है। अब बिना नंबर प्लेट के व्यापारिक के अलावा कोई काम नहीं होगा। सोमवार से बिना नंबर प्लेट के काम पर रोक लग गई है। इस कारण सोमवार को विभिन्न कार्यों के लिए किए जाने वाले आवेदन, पता परिवर्तन, पंजीयन का नवीनीकरण, अनापत्ति प्रमाण पत्र, मोटरयान का थर्ड रजिस्ट्रेशन आदि कामकाज नहीं हुआ।
इस कारण कार्यालय पहुंचे लोगों को बैरंग लौटना पड़ा। पुराने वाहन स्वामियों को भी यह नंबर प्लेट लगवानी होगी। इस संबंध में एआरटीओ प्रशासन नीतू सिंह ने डीलरों को पत्र लिखते हुए पूछा है कि कंपनियां कितनी हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट बना रही है। ताकि वाहनों पर जल्द से जल्द लगाया जा सके।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X