विज्ञापन
विज्ञापन
कार्य बाधा एवं परेशानियों को दूर करने हेतु कामाख्या शक्तिपीठ में कराएं बगलामुखी विशिष्ट पूजा
Navratri Special

कार्य बाधा एवं परेशानियों को दूर करने हेतु कामाख्या शक्तिपीठ में कराएं बगलामुखी विशिष्ट पूजा

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

विज्ञापन
Digital Edition

हाथरस: शारदीय नवरात्र के पांचवें दिन भी मंदिरों में बही श्रद्धा, भक्ति की बयार

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, हाथरस
शारदीय नवरात्र के पांचवें दिन घर-घर में देवी स्कंदमाता की पूजा की गई। मंदिरों में भी सुबह से ही भक्तों की भीड़ देखी गई। शाम को विशेष सजावट भी हुई और देवी मंदिरों में मनोहारी शृंगार किए गए।
शहर के रमनपुर स्थित चामुंडा मंदिर, बौहरे वाली देवी, तारागढ़ वाली देवी, सासनी के निकट कंकाली देवी, हाथुरसी देवी, किला गेट स्थित पथवारी मंदिर, शीतला माता मंदिर सहित ज्यादातर देवी मंदिरों पर सुबह से ही भक्तों की भीड़ उमड़ने लगी।
भक्तों ने मंदिरों में जलाभिषेक किया और प्रसादी चढ़ाई। घरों में पूजा-अर्चना की गई और उपवास रखा। शाम के समय यह मंदिर रंग-बिरंगी रोशनी में सराबोर नजर आए।
... और पढ़ें

हाथरस: धान खरीद का एक भी केंद्र अभी तक शुरू नहीं, डीएम नाराज

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, हाथरस
वित्तीय वर्ष 2020-21 में क्रय केन्द्रों पर की जा रही धान खरीद की प्रगति की डीएम प्रवीण कुमार लक्षकार ने समीक्षा की। जनपद में बनाए गये 14 केंद्रों में से एक केंद्र अभी तक शुरू नहीं किए जाने डीएम ने नाराजगी जताई।
उन्होंने कहा कि जिन किसानों का रजिस्ट्रेशन नहीं हुआ है यदि वह मंडी पर धान बिक्री के लिए आएं तो तत्काल उसका रजिस्ट्रेशन कराते हुए धान क्रय करना सुनिश्चित करें। इसमें किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।
उन्होंने कहा कि किसी भी क्रय केंद्र पर कोई भी समस्या नहीं होनी चाहिए और न ही किसी प्रकार की शिकायत प्राप्त होनी चाहिए।
... और पढ़ें

हाथरस: फोन पर क्यूआर कोड भेजकर खाते से 86 हजार रुपये पार

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, हाथरस
फोन पर क्यूआर कोड बताना एक व्यक्ति को भारी पड़ गया। हैकर ने उसके और उसके बेटे के खाते से दो बार में 86 हजार रुपये पार कर दिए। शिकायत के आधार पर पुलिस ने इस मामले में धोखाधड़ी सहित आईटी एक्ट में मुकदमा दर्ज किया है।
कोतवाली सदर क्षेत्र के रुई की मंडी निवासी विजयपाल सिंह पुत्र हजारी के पास एक व्यक्ति ने फोन नंबर से क्यूआर कोड भेजा। क्यूआर कोड भेजने वाले ने विजयपाल सिंह के खाते से 38 हजार रुपये और उनके बेटे के खाते से 50 हजार रुपये ऑनलाइन पार कर दिए। इसकी जानकारी पीड़ित को फोन पर आए मैसेज से हुई तो उसके होश उड़ गए।
उसने इस संबंध में इलाका पुलिस को जानकारी दी और फिर वह अपनी शिकायत लेकर एसपी के पास पहुंचा। पुलिस ने इस मामले में अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ धारा 420 और आईटी एक्ट में मुकदमा दर्ज किया है।
... और पढ़ें

हाथरस: सीबीआई फिर पहुंची बिटिया के गांव, पीड़ित परिवार, आरोपी पक्ष से की पूछताछ

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, हाथरस
बिटिया के मामले में सीबीआई की पूछताछ और छानबीन लगातार जारी है। सीबीआई की टीम बुधवार की शाम को फिर गांव पहुंची। टीम करीब तीन घंटे तक गांव में रही। बिटिया के अलावा आरोपी पक्ष के यहां जाकर भी पूछताछ की। खुद को चश्मदीद बताने वाले छोटू से भी पूछताछ की। इस दौरान मीडियाकर्मियों को दूर रखा गया। इधर, चंदपा कोतवाली में टीम ने तत्कालीन एसएसआई जगवीर सिंह सहित कई लोगों से पूछताछ की।
सीबीआई की टीम अब तक कई स्थानों पर जा चुकी है। बुधवार की शाम करीब साढ़े चार बजे यह टीम फिर बिटिया के गांव पहुंची। टीम ने वहां आरोपी रामू, रवि और संदीप के घर जाकर उनके परिजनों से पूछताछ की और गहनता से छानबीन की। यह तीनों एक ही परिवार के सदस्य हैं और इनके मकान एक ही परिसर में हैं। टीम ने चौथे आरोपी, जिसे नाबालिग बताया जा रहा है, उसके घर पर जाकर भी पूछताछ की। मार्कशीट में उसकी आयु 18 वर्ष से कम है। इसकी मार्कशीट को भी टीम पहले ही कब्जे में ले चुकी है।
खुद को इस मामले का चश्मदीद बताने वाले छोटू से भी टीम ने पूछताछ की। इसके अलावा टीम गांव में बिटिया के घर भी पहुंची। वहां टीम ने बिटिया के परिजनों से कई बिंदुओं पर जानकारी हासिल की और पूछताछ की। करीब तीन घंटे उपरांत टीम वहां से लौट आई। इससे पहले टीम ने थाना चंदपा में निलंबित दरोगा जगवीर सिंह से भी पूछताछ की। जगवीर सिंह घटना के समय थाना चंदपा के एसएसआई थे। टीम ने उनसे यह भी पूछा कि बिटिया को जब थाने लाया गया, तब उसकी स्थिति क्या थी। टीम ने वहां रिकॉर्ड भी देखे। वहीं दो युवकों ने 14 सितंबर को बिटिया का वीडियो भी बनाकर वायरल किया था। उस समय बिटिया घायल अवस्था में थी। इन युवकों से भी टीम ने पूछताछ की।
... और पढ़ें
हाथरस: बिटिया के गांव में पूछताछ करने पहुंची सीबीआई की टीम। हाथरस: बिटिया के गांव में पूछताछ करने पहुंची सीबीआई की टीम।

जानलेवा हमले के दोषी को कोर्ट ने सुनाई दस साल कैद की सजा

संवाद न्यूज एजेंसी, हाथरस।
न्यायालय ने जानलेवा हमले के एक आरोपी को दोषी मानते हुए हुए दस साल कैद और अर्थदंड की सजा सुनाई है। अर्थदंड नहीं देने पर उसको अतिरिक्त कारावास भोगना होगा।
अभियोजन पक्ष के अनुसार मीरा पत्नी पप्पू निवासी भूरापीर थाना कोतवाली सदर हाथरस ने कोतवाली में यह तहरीर दी कि 14 जनवरी 2011 को मोहल्ले का ही प्रदीप उर्फ गटुआ पुत्र किशोरी लाल रोजाना की तरह भूरापीर गली नंबर एक में शराब पीकर अश्लील छींटाकशी और हुड़दंग कर रहा था। मीरा ने अपने पति को यह बात जाकर बताई तो पति ने प्रदीप को हुड़दंग करने से मना किया। इस पर गटुआ ने चाकू निकालकर पप्पू के घोंप दिया, जिससे वहां भीड़ एकत्रित हो गई। नशे में गिरने पर गटुआ के भी चोट आई।
घायल पप्पू को उपचार के लिए अलीगढ़ रेफर कर दिया गया। इस मामले में प्रदीप उर्फ गटुआ के विरुद्ध मुकदमा दर्ज किया गया। पुलिस ने विवेचना के उपरांत प्रदीप के खिलाफ आरोप पत्र न्यायालय में दाखिल किया। इस मामले की सुनवाई अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश कोर्ट संख्या-5 रेखा सिंह के न्यायालय में हुई। न्यायालय ने आरोपी को दोषी माना है। कोर्ट ने उसे दस साल की कैद और अर्थदंड की सजा सुनाई। अर्थदंड नहीं देने पर दोषी को अतिरिक्त कारावास भोगना होगा। अभियोजन पक्ष की ओर से एडीजीसी नीलकमल कुलश्रेष्ठ ने पैरवी की।
... और पढ़ें

हाथरस: बिटिया के गांव में जारी हैं सुरक्षा बंदोबस्त

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, हाथरस
एनएच से बिटिया के गांव को जाने वाले रास्ते पर आवाजाही तो शुरू हो गई है, लेकिन बिटिया के गांव और घर पर काफी पुलिस बल अभी भी तैनात है। रोजाना पुलिसकर्मियों की ड्यूटी बदली जा रही है और ड्यूटी चेक भी की जा रही है।
करीब तीन सप्ताह से बिटिया के गांव में काफी पुलिस व पीएसी ने डेरा डाल रखा था। शुरू में तो एनएच से बिटिया के गांव को जाने वाले रास्ते पर भी काफी पुलिस और पीएसी तैनात थी और वहां आवाजाही पूरी तरह से रोक दी गई थी, लेकिन अब रास्ते खोल दिए गए हैं।
वहां पुलिस व पीएसी तो है, लेकिन आवागमन चालू है। बिटिया के गांव और घर पर अभी भी काफी पुलिस बल ने डेरा जमा रखा है। मेटल डिटेक्टर और सीसीटीवी कैमरे लगे हुए हैं।
... और पढ़ें

हाथरस: पशुओं के चारे और अन्य सामान की अब कर लें व्यवस्था

हाथरस: बिटिया के घर बच्ची की तबियत खराब होने पर जानकारी करतीं एसडीएम।
न्यूज डेस्क, अमर उजाला, हाथरस
बिटिया के परिवार वालों से प्रशासन ने अपना सामान्य जीवन फिर से शुरू करने के लिए कह दिया है। बिटिया के भाई का कहना है कि अधिकारियों ने उनसे यह भी कह दिया है कि वह अपने पशुओं के लिए चारे आदि की व्यवस्था करें। वहीं बिटिया के भाई का यह भी कहना था कि वह गाजियाबाद में एक पैथ लैब में नौकरी करता है। ऐसी स्थिति में वह वहां नहीं जा सकता।
बिटिया की मौत को तीन सप्ताह से ज्यादा का समय हो चुका है। ऐसे में अब प्रशासन ने भी बिटिया के परिवार वालों से अपनी सामान्य दिनचर्या फिर से शुरू करने के लिए कह दिया है। बिटिया के छोटे भाई का कहना है कि सुबह एसडीएम आई थीं और वह कह रही थीं कि अब वह अपने पशुओं के लिए चारे के अलावा अन्य सामान की व्यवस्था कर लें। बिटिया के भाई ने बताया कि वह गाजियाबाद में एक पैथ लैब में नौकरी करता था। गाजियाबाद में ही एक किराये के कमरे पर रहता था। 14 सितंबर को जब उसे घटना की जानकारी मिली तो वह सीधे वहां से अलीगढ़ ही आया था। उसकी बहन को जब मेडिकल कॉलेज से दिल्ली रेफर किया गया था तो भी वह अपनी बहन के ही साथ था।
बिटिया के भाई का कहना है कि बड़े भाई कोरोना फैलने से पहले गाजियाबाद में ही काम करते थे। कोरोना फैलने के बाद वह गांव में आ गए, लेकिन मैं वहीं पैथ लैब में नौकरी करता रहा। उसका कहना है कि हम दोनों भाई वहीं एक कॉलोनी में रहते थे, लेकिन अब वह भी करीब सवा महीने से वह अपने कमरे पर नहीं गया है। कमरे का तीन हजार रुपये महीने का किराया है। ऐसी स्थिति में वह जल्दी ही वहां जा भी नहीं सकता है। किराया और चढ़ रहा है। खाते में कितनी रकम है या फिर खाते सीज कर दिए हैं, के बारे में उसने कुछ भी जानकारी होने से इंकार कर दिया।
वहीं इस सिलसिले में एसडीएम अंजलि गंगवार ने कहा है कि हमने परिजनों से यह कहा है कि वह अपनी सामान्य दिनचर्या शुरू करें। उनका यह भी कहना है कि इनके राशन के अलावा पशुओं के चारे की सारी व्यवस्था प्रशासन करा रहा है। तीन दिन पहले भी प्रशासन ने ही यह व्यवस्था कराई थी। जरूरत पड़ने पर प्रशासन फिर यह व्यवस्था कराएगा। उनका कहना है कि प्रशासन ने इन्हें फसल काटने की भी अनुमति दे दी है।
फसल काटने के लिए नहीं मिल रहे मजदूर
हाथरस। बिटिया के परिवार वालों का कहना है कि उनकी काफी फसल बर्बाद हो गई है। आज भी फसल नहीं कट पाई। अभी मजदूर ही नहीं मिल रहे हैं। परिवार वालों का कहना है कि यदि मजदूर मिल जाएंगे तो फसल भी कटवाना शुरू कर देंगे। प्रशासन भी इन्हें फसल काटने की अनुमति दे चुका है।
... और पढ़ें

हाथरस: 60 हजार कार्डधारकों को हुआ खाद्यान्न का वितरण

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, हाथरस
जिले में बुधवार से राशन कार्डधारकों को खाद्यान्न का वितरण शुरू हो गया। शासन के निर्देश पर इस बार अंत्योदय कार्डधारकों को एक कार्ड पर तीन किलो चीनी का भी वितरण किया गया। जिला पूर्ति अधिकारी ने खाद्यान्न वितरण के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखने के निर्देश जारी किए हैं।
बुधवार को जिले में 60,000 कार्डधारकों को खाद्यान्न का वितरण किया गया। इस बार जिले के 16,851 कार्डधारकों को चीनी का वितरण करने के निर्देश जारी किए गए थे। इन कार्डधारकों को नियमानुसार चीनी का भी वितरण किया गया। बुधवार को चार हजार अंत्योदय कार्डधारकों को चीनी का वितरण किया गया।
जिले में खाद्यान्न का वितरण पर्यवेक्षकों की निगरानी में किया गया। पर्यवेक्षकों ने कोरोना महामारी के चलते सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने की भी कोशिश की। डीएसओ सुरेंद्र यादव ने बताया कि सभी राशन डीलरों को खाद्यान्न वितरण में सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ध्यान रखने के निर्देश जारी किए हैं।
... और पढ़ें

हाथरस: कर्मचारियों पर कार्रवाई के आश्वासन पर धरना समाप्त

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, हाथरस
दि कलेक्ट्रेट बार एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने कलेक्ट्रेट परिसर में धरना प्रदर्शन किया। डिस्ट्रिक्ट बार एसोसिएशन व दि बार एसोसिएशन सादाबाद, रेवेन्यू बार एसोसिएशन हाथरस के पदाधिकारी भी इसमें शामिल हुए।
इस दौरान जिलाधिकारी ने एक कमेटी का गठन किया। जिसमें अपर जिलाधिकारी व प्रभारी अधिकारी कलेक्ट्रेट व जिला शासकीय अधिवक्ता रेवेन्यू को अधिवक्ताओं से बात कर उनकी समस्या के समाधान के लिए आदेशित किया।
दि कलेक्ट्रेट बार एसोसिएशन के साथ साथ बाहर से आए पदाधिकारियों ने इस कमेटी से बातें की। अधिवक्ताओं ने कहा कि कुछ बाबू वादकारियों व अधिवक्ताओं के साथ दुर्व्यवहार करते हैं। ऐसे भ्रष्ट कर्मचारियों को इस कलेक्ट्रेट कैंपस से बाहर भेज दिया जाए। एडीएम द्वारा इस कार्रवाई के आश्वासन पर अधिवक्ताओं ने धरना प्रदर्शन को समाप्त कर दिया।
... और पढ़ें

हाथरस: 56 हजार लोगों के कट सकते हैं राशन कार्डधारकों की सूची से नाम

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, हाथरस
जिले के 56 हजार लोगों के नाम राशन कार्डधारकों की सूची से काटे जा सकते हैं। इन लोगों ने अभी तक अपने राशन कार्डों के साथ आधार नंबर की फीडिंग नहीं कराई है। अब शासन स्तर से इस पर सख्त रुख अपनाया गया है तो जिला पूर्ति अधिकारी ने सभी डीलरों को जल्द से जल्द राशन कार्ड में सभी के आधार नंबर फीड कराने के निर्देश जारी कर दिए हैं।
गौरतलब है कि शासन स्तर से राशन कार्ड में आधार नंबर की शत-प्रतिशत फीडिंग कराने के निर्देश दिए गए हैं। इस क्रम में यहां जिला पूर्ति अधिकारी ने सभी राशन डीलरों को निर्देशित किया है कि वह अपने क्षेत्र के राशन कार्डों में आधार कार्ड की सीडिंग व फीडिंग पूरी करा लें। उन्होंने बताया कि जिले में 56 हजार लोग ऐसे हैं, जिनके आधार नंबर राशन कार्डों के साथ फीड नहीं हैं।
ऐसे लोगों की सूची दुुकानवार सभी राशन डीलरों को दे दी गई है। डीएसओ ने चेतावनी दी है कि आधार नंबर की फीडिंग नहीं कराने वाले लोगों का अगले माह से राशन कार्डधारकों की सूची से नाम काटने की कार्यवाही शुरू कर दी जाएगी। शासन स्तर से नेशनल पोर्टेबिलिटी सिस्टम शुरू किया जाना है। इसी वजह से यह सख्ती बरती जा रही है।
... और पढ़ें

हाथरस: वेदांता अस्पताल संचालक के खिलाफ दो और लोगों ने दी तहरीर

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, हाथरस
वेदांता अस्पताल के संचालक के खिलाफ बुधवार को दो और लोगों ने तहरीर दी है। तहरीर में पीड़ितों ने इलाज में लापरवाही बरतने और अवैध वसूली करने का भी आरोप लगाया है। इससे पहले अस्पताल के खिलाफ पहले से ही चार मुकदमे दर्ज हैं। गौरतलब है कि इस अस्पताल को पिछले दिनों एसडीएम सदर ने छापामारी कर सीज करा दिया था।
कोतवाली सदर इलाके के अहियापुर निवासी शांति स्वरूप ने कोतवाली हाथरस गेट में वेदांता अस्पताल के संचालक के खिलाफ तहरीर दी है, जिसमें उसने कहा है कि 21 सितंबर को उन्होंने अपनी पत्नी को अस्पताल में भर्ती कराया था। चार दिन तक इलाज चलने पर भी उसको फायदा नहीं हुआ, जबकि पत्नी के उल्टी दस्त के इलाज में 80-90 हजार रुपये खर्च हो गए। छुट्टी कराने की बात पर अस्पताल प्रबंधक टालमटोल करते रहे। ज्यादा तबियत बिगड़ने पर आईसीयू में दाखिल कर दिया, फिर भी कोई फायदा नहीं हुआ। वह लोग जबरन पत्नी को अस्पताल से निकालकर दूसरे अस्पताल में ले गए। तब तक उसकी पत्नी की हालत ज्यादा खराब हो गई और 28 सितंबर को उसकी मौत हो गई। इस मामले में शांति स्वरूप ने पुलिस को तहरीर देते हुए अस्पताल प्रबंधक व अन्य कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।
अस्पताल के खिलाफ दूसरी तहरीर रविकुमार पुत्र नेमसिंह निवासी नगरिया नंदराम ने दी है, जिसमें कहा गया है कि उनकी मां शकुंतला देवी और उनके साथ कुछ महिलाएं 15 मार्च 2020 को केला देवी की यात्रा के लिए पैदल जा रही थीं। इस दौरान सड़क हादसे में वह और उनके साथ की अन्य महिलाएं घायल हो गईं। उनको वेदांता अस्पताल में राहगीरों और श्रद्धालुओं की मदद से भर्ती कराया गया। अस्पताल के एक डॉक्टर और कथित डॉक्टर मोहित अग्रवाल ने कहा कि इनकी हालत गंभीर है। इन्हें आईसीयू में भर्ती करना पड़ेगा। पैसा ज्यादा खर्च नहीं होने की बात भी कही, लेकिन उससे 45 हजार रुपये ले लिए गए। जमा कराए गए रुपयों का बिल भी नहीं दिया गया।
इस मामले को लेकर पुलिस को तहरीर देते हुए मुकदमा दर्ज कराए जाने की मांग पीड़ित ने की है। हाथरस गेट के कोतवाली निरीक्षक चतर सिंह राजौरा ने कहा है कि वेदांता अस्पताल संचालक के खिलाफ दो तहरीर प्राप्त हुईं हैं, उनकी जांच की जा रही है। जांच के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी। हॉस्पिटल संचालक व कर्मचारियों के खिलाफ चार मुकदमे पहले भी दर्ज किए जा चुके हैं।
... और पढ़ें

हाथरस: बाल विवाह कराने वाले पंडित को भी हो सकती है जेल

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, हाथरस
अगर 18 साल से कम उम्र की लड़की या 21 वर्ष से कम उम्र के लड़के का विवाह कराना अब उनके अभिभावकों को ही नहीं, बल्कि पंडित को भी भारी पड़ सकता है। बाल विवाह प्रतिषेध अधिनियम के अंतर्गत विवाह में सम्मिलित अभिभावक और विवाह कराने वाले पंडित के लिए भी सजा का प्राविधान किया गया है।
इस मामले में छह माह से दो वर्ष तक का कारावास और एक लाख रुपये तक जुर्माना देना पड़ सकता है। यह जानकारी जिला प्रोबेशन अधिकारी डीके सिंह ने मुरसान ब्लॉक के ग्राम नगला गोपी में मिशन शक्ति अभियान के अंतर्गत आयोजित महिला जागरूकता शिविर में दी।
शिविर में महिला कल्याण अधिकारी मोनिका गौतम, ग्राम प्रधान राजकुमार, सामाजिक कार्यकर्ता प्रतिष्ठा शर्मा, कंचन यादव और परामर्शदाता ज्योति तोमर, अरविंद कुमार, प्रवीण यादव, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता मानमती एवं ग्रामीण महिलाएं उपस्थित रहीं।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X