विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
सर्वपितृ अमावस्या को गया में अर्पित करें अपने समस्त पितरों को तर्पण, होंगे सभी पूर्वज प्रसन्न, 28 सितम्बर
Astrology Services

सर्वपितृ अमावस्या को गया में अर्पित करें अपने समस्त पितरों को तर्पण, होंगे सभी पूर्वज प्रसन्न, 28 सितम्बर

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

अयोध्या प्रकरणः कल्याण सिंह बतौर आरोपी 27 को अदालत में तलब, विशेष न्यायाधीश ने दिया आदेश

अयोध्या प्रकरण के विशेष न्यायाधीश सुरेंद्र कुमार यादव ने पूर्व मुख्यमंत्री व राजस्थान के पूर्व राज्यपाल कल्याण सिंह को बतौर आरोपी तलब किया है।

22 सितंबर 2019

विज्ञापन
विज्ञापन

फतेहपुर

रविवार, 22 सितंबर 2019

कब्जाधारकों का विरोध देख लौटी राजस्व टीम

जाफरगंज। खजुहा विकासखंड के ककोरा मौजे में नाली चकरोड विवाद निपटाने पहुंची राजस्व टीम को विरोध हो गया। कब्जा जमाए लोगों का गुस्सा देख टीम को वापस लौटना पड़ा। इसकी शिकायत बरवा गांव निवासी प्रेम नारायण ने समाधान दिवस जाफरगंज में जिलाधिकारी से की थी।
ककोरा मौजे में किसानों के रकबे दबे होने की शिकायत ग्राम प्रधान छत्रपाल सिंह यादव ने 2018 में जिलाधिकारी से की थी। चक सीमांकन के दौरान सैकड़ों किसानों की हजारों बीघे जमीनों की पैमाइश हुई। पूरे मौजे की पैमाइश पूरी होने के बाद किसी किसान को पैमाइश से किसी प्रकार की समस्या नहीं थी। कानूनगो गोविंद सिंह, हल्का सहायक चकबंदी अधिकारी चंद्रभान यादव, हल्का लेखपाल भगवती प्रसाद की टीम ने पहुंचकर
सबसे पहले प्रेमनारायण के चक की पैमाइश शुरू की। उधर, सेक्टर बांधकर पूरी पैमाइश करने के लिए जुटी टीम से लोगों ने विरोध कर नोकझोंक शुरू कर दी। अपने चक की पैमाइश ना करा कर विवाद करने लगे। राजस्व टीम को बैरंग लौटना पड़ा। टीम ने रिपोर्ट तैयार कर जिलाधिकारी को दी है। मौके पर पहुंचे ग्राम प्रधान छत्रपाल सिंह यादव, किसान रामकिशोर वर्मा, रतीराम, उमाकांत तिवारी, केशव प्रसाद, रमेश चंद्र तिवारी, सौरभ, अशोक वर्मा,
शिव बदन ने बताया कि अधिक रकबा जोते जाने की वजह से अपने चकों की पैमाइश नहीं करा रहे हैं। किसानों ने जिला अधिकारी से चक रोड नाली खाली करवाए जाने की मांग की है। जिला अधिकारी संजीव ने कहा कुछ लोग फ र्जी शिकायती पत्र देकर अधिकारियों को भ्रमित कर रहे हैं। राजस्व टीम की रिपोर्ट के आधार पर मुकदमा दर्ज होगा।
-------------------------
... और पढ़ें

करंट लगने से किसान की मौत, कोहराम

करंट लगने से किसान की मौत
स्टार्टर चलाते समय लगा करंट
अमर उजाला ब्यूरो
खखरेरू(खागा)। रात को खेत में पानी भरने के लिए पहुंचे एक युवक की करंट लगने से मौत हो गई। वह दूसरे के नलकूप पर स्टार्टर चलाने का प्रयास कर रहा था। तभी करंट ने उसे चपेट में ले लिया। परिवार को खबर मिली तो कोहराम मच गया।
खखरेरू थाना क्षेत्र के बिछियावां गांव निवासी रामराज सिंह का पुत्र मनोज कुमार सिंह (32) खेती से परिवार का पालन पोषण करता था। बुधवार की रात वह अपने खेत में पानी भरने के लिए गया था। पानी भरने के लिए उसने गांव के ही ननकू सिंह के नलकूप जो खेत के पास है वहां पहुंचा। उसने नलकूप स्टार्ट करने के लिए स्टार्टर के पास पहुंच कर बटन दबाने का प्रयास किया। वह करंट की चपेट में आ गया। करंट लगने से उसकी मौके पर ही मौत हो गई। कुछ देर बाद जब लोगों को इसकी जानकारी हुई तो उसने मनोज के घर में सूचना दी तो परिजन बिलख पड़े। गुरुवार को सुबह पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा।
निशुल्क कोचिंग की हुई शुरुआत
हथगाम। गणेश शंकर विद्यार्थी इंटर कालेज के पास गुरुवार को निशुल्क कोचिंग की शुरुआत हुई। ठा. जय नारायण सिंह पीजी कॉलेज के प्राचार्य रमेश चंद्र ने फीता काटकर कोचिंग का शुभारंभ किया। इस मौके पर शिक्षक शिव अग्रिहोत्री, कवि एवं शायर शिवशरण बंधु, शुभम, गौरव गुप्ता, श्रीकांत साहू, तिलक गुप्त, देवेंद्र कुमार, साफिया, नमिता, आरती मौजूद रहे। ब्यूरो
... और पढ़ें

ड्राइविंग लाइसेंस के लिए बढ़ा लोड, लंबी हुई वेटिंग

फतेहपुर। यातायात नियमों के उल्लंघन पर कार्रवाई की सख्त हिदायत के चलते एआरटीओ दफ्तर में ड्राइविंग लाइसेंस के लिए आवेदकों की भीड़ बढ़ गई है। अभी तक ऑनलाइन परीक्षा की तारीख दो से तीन दिन में मिल जाती थी, अब आवेदन बढ़ने से दो माह बाद की तारीख मिल रही है।
यातायात नियमों के उल्लघंन में जून माह से जुर्माना बढ़ाने का प्रावधान लागू हुआ। नए नियम में ड्राइविंग लाइसेंस न होने में पकड़े जाने पर जुर्माना ढाई हजार रुपये रखा गया है। एक सितंबर से एआरटीओ, यातायात पुलिस ने कार्रवाई शुरू की है। ऐसे में वाहन चालकों में ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए एआरटीओ कार्यालय में भीड़ लग रही है। ऑनलाइन(सारथी एप) आवेदन रजिस्ट्रेशन के बाद भी दो माह बाद की परीक्षा तारीख मिल रही है। पहली
बार परीक्षा में फेल होने पर दोबारा रजिस्ट्रेशन कराना पड़ता है। दोबारा में आवेदक को और बाद की तारीख मिलती है। ड्राइविंग लाइसेंस की परीक्षा के लिए करीब डेढ़ से दो हजार आवेदन लंबित पड़े हैं। एआरटीओ विभाग में चार कंप्यूटर सिस्टम का इंतजाम आवेदकों की परीक्षा के लिए है। प्रतिदिन 80 अधिकतम आवेदकों की परीक्षा हो
सकती थी। चार दिन से विभाग ने 80 से बढ़ाकर एक सैकड़ा लर्निंग आवेदक बैठाने का इंतजाम किया है। हालांकि ड्राइविंग लाइसेंस के ऑनलाइन आवेदन में 80 से 100 आवेदकों को साफ्टवेयर टेस्ट स्लाट में जगह मिलती है। सौ पूरे होने के बाद आवेदन स्वीकार किया जाएगा लेकिन टेस्ट स्लॉट की की तारीख भी कई दिन बाद में मिल रही है। जिससे विभाग में मारामारी बढ़ी है।
... और पढ़ें

मौसम विभाग की भविष्यवाणी, यूपी के कई शहरों में आज से 27 सितम्बर तक होगी झमाझम बारिश

झमाझम बारिश झमाझम बारिश

मौरंग कारोबारी व लेखपाल की हत्या में दो को उम्रकैद

फतेहपुर। मौरंग ठेकेदारी के विवाद में लेखपाल व मौरंग कारोबारी की दिन दहाड़े हत्या के मामले में दो लोगों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई है। अदालत के आदेश के बाद दोनों को जेल भेजा गया। हालांकि इसी मामले में सबूतों के अभाव में एक आरोपी को दोषमुक्त किया गया। एक अन्य आरोपी के घटना के घटना के वक्त नाबालिग होने से उसका मामला जुवेनाइल कोर्ट में विचाराधीन है।
मामला धाता थानाक्षेत्र के दामपुर गांव का है। यहां के मौरंग ठेकेदार ओम प्रकाश का इलाके के सुमन पाठक, मुन्ना केवट और शंकर दयाल से मौरंग की ठेकेदारी को लेकर विवाद था। 14 सितंबर 2008 की सुबह ग्यारह बजे ओम प्रकाश अपने लेखपाल साथी राजकरन के साथ धाता बाजार से गांव दामपुर लौट रहे थे। तभी गांव से थोड़ा पहले गांव के सुमन पाठक, मुन्ना केवट और शंकर दयाल मिल गए। दोनो पक्षों में मौरंग ठेकेदारी को लेकर कहासुनी होने लगी। सुमन और मुन्ना ने तमंचे से गोली चलाई। गोली लगने से ओमप्रकाश और लेखपाल राजकरन दोनों की मौत हो गई। राजकरन के भाई अवध नरायन ने इस मामले में धाता थाने में एफआईआर लिखाई थी। घटना के अगले दिन पुलिस ने तीनों आरोपियों को कोट गांव के यमुना घाट से गिरफ्तार किया था। तीनों ने गिरफ्तारी के बाद पुलिस को हत्या में प्रयोग किए गए तमंचे भी बरामद कराए थे। इसके बाद से यह आरोपी जमानत पर रिहा चल रहे थे। प्रकरण अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश राकेशधर दुबे की अदालत में विचाराधीन था। मामले की पैरवी सहायक शासकीय अधिवक्ता प्रमिल कुमार श्रीवास्तव कर रहे थे। उन्होंने बताया कि इस मामले में अदालत के समक्ष एक के बाद एक सात गवाह प्रस्तुत किए। इन्हीं गवाहों के बयान और साक्ष्यों को मद्देनजर अपर जिला जज राकेशधर दुबे ने सुमन पाठक और मुन्ना केवट को आजीवन कारावास की सजा मुकर्रर कर दी। इसके साथ ही दोनों पर 11-11 हजार रुपये का अर्थदंड भी लगाया। इसी मामले में हत्यारों एवं घटना से किसी प्रकार का संबंध प्रमाणित न होने पर अदालत ने तीसरे आरोपी शंकर दयाल को दोषमुक्त कर दिया है। शंकर दयाल के बचाव में वरिष्ठ अधिवक्ता तारिक फरीदी पैरवी कर रहे थे। चौथे आरोपी का प्रकरण जुवेनाइल कोर्ट में विचाराधीन है। अदालत का फैसला आने के बाद हत्याभियुक्त सुमन पाठक और मुन्ना केवट को जेल भेज दिया गया।
... और पढ़ें

बदमाशों ने किसान को लूटकर कुएं में फेंका

खागा (फतेहपुर)। बेटी के घर से लौट रहे भट्ठा मजदूर को शुक्रवार रात दो बदमाशों ने मारपीट कर लूट लिया। विरोध करने पर कुएं में फेंक दिया। चीख पुकार सुन सुबह ग्रामीणों ने रस्सी के सहारे कुएं से बाहर निकाला। 100 नंबर की सूचना पर पुलिस पहुंची। पुलिस ने जांच के बाद घायल को जिला अस्पताल भेजा।
खागा कोतवाली क्षेत्र के मझिलगांव निवासी बलवंत भट्ठा मजदूरी करते हैं। वह बरक्कतपुर गांव में अपनी बेटी रानू की तबियत खराब होने पर उसके पास गए थे। बलवंत ने बताया कि शुक्रवार रात लगभग साढ़े दस बजे साइकिल से घर लौट रहे थे। मझिलगांव के किनारे मंदिर के पास दो लोगों ने उसे रुकवाया। असलहा सटाकर जेब तलाशने लगे। जेब में कुछ नकद रुपये थे, धमकी देकर निकाल लिए। साइकिल छीनकर भागने लगे। शोर मचाकर विरोध किया। दोनों ने उसकी पिटाई की। मारपीट के बाद पास के सूखे कुएं में फेंक दिया। पूरी रात कुएं में पड़ा रहा। कुएं से चीख सुनाई देने पर ग्रामीणों ने बलवंत को बाहर निकाला गया। कोतवाल परशुराम ने बताया कि 100 नंबर की सूचना पर पुलिस गई थी। चौकी इंचार्ज से जांच कराई जा रही है।
... और पढ़ें

खतरे के निशान से नीचे ,यमुना का जलस्तर

फतेहपुर। यमुना के बाढ़ का पानी खतरे के निशान के करीब पहुंचकर लौटना शुरू हो गया है। चौबीस घंटे में 220 सेमी यमुना का जलस्तर घटना से लोगों ने राहत की सांस ली है। हालांकि अभी तक कानपुर बांदा हाईवे समेत जिले के अंदर की सड़कों में जलभराव है। जिला मुख्यालय से इनका संपर्क कटा हुआ है। यहां आने जाने के लिए नावों की मदद ली जा रही है। जलस्तर घटना शुरू होने से अभी तटवर्ती क्षेत्र के लोगों में दहशत है। ललौली और किशनपुर कस्बों में अभी तक बड़ी तादाद में दुकानों और घरों में पानी घुसा हुआ है। प्रशासनिक और राजस्व विभाग के अधिकारी बराबर भ्रमण कर रहे हैं। क्षेत्रीय पुलिस टीमें भी लगी हैं। कटरी क्षेत्र के तीन दर्जन गांवों के स्कूलों का रास्ते बंद होने के कारण स्कूलों में ताले बंद हैं। शनिवार को बांदा की तरफ से आई बाढ़ के पानी में फंसी इनोवा कार सवारों को मशक्कत से साथ ललौली पुलिस ने बचाने में सफलता हासिल की। ललौली कस्बे में बांदा-सागर हाईवे पर यमुना नदी के बाढ़ का कई फीट की ऊंचाई से बहने के कारण अभी तक हाईवे से आवागमन बंद है। जलस्तर शुक्रवार की रात से घटने लगा है। ललौली कस्बे व पलटूपुर गांव के लोगों ने घरों को लौटना शुरू कर दिया है।
यमुना के रौद्र रूप के कारण तराई क्षेत्र में हजारों हेक्टेयर में बोई गई तिल, अरहर, बाजरा के फसल बर्बाद हो गई है। उधर, तहसीलदार सदर विदुषी सिंह ने पलटूपुर, ललौली, उरौली, दसौली, अढ़ावल गांवों में जाकर बाढ़ पीड़ितों का हाल जाना। पूर्वमंत्री अमरजीत सिंह जनसेवक ने ललौली के बाढ़ क्षेत्र में पहुंचकर वहां का हाल जाना। राजस्व निरीक्षक रघुवीर सिंह, लेखपाल अनिल कुमार, लेखपाल रामभवन, लेखपाल मनोज रिपोर्ट तैयार करने में लगे रहे। बाढ़ पीड़ितों को तहसीलदार लंच पैकेट भी वितरित कराया।
.........................
जलस्तर पर एक नजर:-
शुक्रवार को जल स्तर-102.480 मीटर
शनिवार को जल स्तर-102.220 मीटर
घटा जल स्तर-220 सेमी
खतरे का निशान-103 मीटर
.................................
चालक की लापरवाही से डूबते बचे इनोवा सवार
बहुआ। मध्यप्रदेश के सतना निवासी चालक दीनदयाल के साथ इनोवा सवार सतना निवासी मोहम्मद यूनुस कुरैशी अपनी बुजुर्ग मां और दो बेटियों को लेकर कानपुर इलाज के लिए जा रहे थे। चिल्ला पुल से चालक कार लेकर ललौली के लिए घुस आया। पुल पार करते ही कार गहरे पानी में डूबने लगी। दूर खड़े लोगों ने कार पानी में डूबती देख पुलिस को सूचना दी। सूचना पर पहुंचे ललौली थानाध्यक्ष केशव वर्मा ने 100 नंबर डायल को बुलाने के साथ चिल्ला बांदा पुलिस को सूचना दी। ललौली एसओ सिपाहियों रूप सिंह, अंकित यादव, राजकुमार पटेल पानी मे तैरते हुए मौके में पहुंचे और कार में फंसे लोगों की जान बचाई। बाद में इनोवा भी सकुशल निकाल ली गई। सूचना पर चिल्ला थानाध्यक्ष विनोद कुमार सिंह, सीओ बांदा राघवेंद्र सिंह मौके पर पहुंच इनोवा सवारो को बचाने में ललौली पुलिस की मदद की।
.................................
बाढ़ पीड़ितों के मुआवजे के लिए सर्वे शुरू
फतेहपुर। बाढ़ से प्रभावित और विस्थापित होने वाले लोगों को राहत पहुंचाने और उनके लिए मुआवजे सुनिश्चित कराने के लिए जिला प्रशासन ने काम शुरू कर दिया है। मंडलायुक्त प्रयागराज आशीष गोयल और राहत आयुक्त गौरीशंकर प्रियदर्शी प्रतिदिन जनपद में बाढ़ की स्थितियों और उससे प्रभावित होने वाले लोगों को राहत देने के प्रयासों की समीक्षा कर रहे हैं। जिलाधिकारी संजीव सिंह ने बाढ़ प्रभावितों को राष्ट्रीय आपदा राहत कोष से त्वरित मुआवजा दिए जाने के आदेश दिए हैं। अपर जिलाधिकारी पप्पू गुप्ता ने तीनों तहसीलो में लेखपालों को बाढ़ प्रभावित लोगों और उनके नुकसान का आंकलन करने के निर्देश दिए हैं। एडीएम ने बताया कि लेखपालों को सर्वे के लिए लगाया गया है। रिपोर्ट आने के चौबीस घंटे के अंदर सभी बाढ़ पीड़ितों को मुआवजा दिया जाना सुनिश्चित किया जाएगा।
.............................
बाढ़ से प्रभावित हुए काफी लोग
बाढ़ से अब तक 11 गांवों के 173 परिवारों को अपना घर छोड़कर बाहर आना पड़ा है। इसमें से 151 परिवार ललौली के, 6 परिवार खागा के और 16 परिवार बिंदकी क्षेत्र के हैं। बाढ़ से कुल अब तक कुल 58 मकान प्रभावित होने की सूचना है। जिसमें से 23 मकान सदर, 19 खागा और 16 बिंदकी तहसील क्षेत्र के हैं।
.................................
एसडीआरएफ के मानक पर इस तरह मिलेगा मुआवजा
- असिंचित फसलों के डूबने पर- 6800 रुपये प्रति हेक्टेयर
- सिंचित फसलों के डूबने पर- 13,500 रुपये प्रति हेक्टेयर
- पक्का मकान क्षतिग्रस्त होने पर- 5200 रुपये
- कच्चा मकान क्षतिग्रस्त होने पर- 3200 रुपयेे
- झोपड़ी क्षतिग्रस्त अथवा गिरने पर- 4100 रूपये
- पक्का मकान पूरी तरह से गिरने पर- 95,100 रुपये
- पशु हानी में भेड़, बकरी और सुअर के लिए - 3000 रुपये
- गाय, भैंस, घोडा सहित बड़े जानवरों के लिए- 30,000 रुपये
............................
कलक्ट्रेट में बनाया गया कंट्रोल रूम
फतेहपुर। बाढ़ प्रभावित क्षेत्र के लोगों की मदद के लिए डीएम ने कलक्ट्रेेट के संयुक्त कार्यालय में एक कंट्रोल रूम बनाया है। जिसका नंबर 05180-224414 है। बाढ़ प्रभावित इलाकों से किसी भी प्रकार की मदद के लिए इस नंबर पर कोई भी-कभी भी फोन कर सकता है। हर फोन कॉल पर प्रतिक्रिया देने के लिए 8-8 घंटे की तीन शिफ्ट में कलक्ट्रेट कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई है।
फतेहपुर। यमुना कटरी क्षेत्र के तीन दर्जन परिषदीय स्कूलों में तीन दिन से ताला बंद हैं। कुछ में तो पानी घुस गया है, तो कुछ स्कूलों के पहुंच मार्ग बंद हो गए हैं। यह स्कूल अढ़ौली, दसौली, ललौली, कोर्राकनक, सरवल, सेवरामऊ, रमशोलेपुर, कंसापुर, कौंहन, जरौली, सैंबसी, लक्ष्मनपुर, सरकंडी खास, रायपुर भसरौली, मंडौली, गुरवल, एकड़ला, कोट के झुर्रा का पुरवा आदि गांवों में हैं। इन गांवों को खरीफ की हजारों हेक्टेयर फसलें डूब गईं।
किशनपुर में अभी तक नहीं है राहत
किशनपुर। कस्बे में अभी तक बाढ थमने के बाद कोई खास राहत नहीं मिली है। करीब चार दर्जन घरों में पानी घुसा हुआ है। दूर से कई घरों की दीवारें ढही दिखाई पड़ रही हैं। बांदा जिले को जाने वाले कमासिन मार्ग पर कस्बे में बना पुल बैठ गया है। इससे आवागमन पूरी तरह रोक दिया गया है।
... और पढ़ें

सरकारी जमीन के कब्जे में 22 कब्जेदारों पर एफआईआर

हुसैनगंज (फतेहपुर)। सरकारी जमीन पर कब्जे के मामले में लेखपाल ने 22 लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई है। आरोपियों को छह माह पहले अतिक्रमण हटवाया गया था। उसके बाद दोबारा काबिज हो गए थे।
दोबारा कब्जे की शिकायत सीएम से आईजीआरएस पोर्टल में हुसैनगंज थाने के मिश्रामऊ गांव निवासी वासुदेव की ओर से गई थी। लेखपाल ज्ञान सिंह ने पुलिस को बताया कि पशुचर, तालाब, ग्राम पंचायत की जमीन में कब्जा किया हुआ है। आरोपियों को 22 फरवरी टीम ने हटाया था। मामले में गांव के बाबू सिंह, ननकाई, सुखलाल, सोमनाथ, विनोद, पप्पू, कामता, मनोहर, मुन्ना, रामभवन, रामखेलावन, राममिलन, विश्वनाथ, गोरेलाल, सुंदरलाल, भोला, संतोष, सोनू, बृजलाल, रामरती, ध्यान सिंह, वेद प्रकाश को नामजद किया गया है। थानेदार निशिकांत राय ने बताया कि लोक संपत्ति भूमि अधिनिवारण अधिनियम के तहत रिपोर्ट दर्ज की गई है। मामले की जांच की जाएगी।
... और पढ़ें

सेंट्रल यूपी: फर्जी शस्त्र लाइसेंस मामले में आरोपी ने किया समर्पण समेत इन खबरों ने बटोरी सुर्खियां

सेंट्रल यूपी में शनिवार को फर्जी शस्त्र लाइसेंस मामले में फरार चल रहे कारीगर जितेंद्र ने सीएमएम कोर्ट में सरेंडर कर दिया। वहीं घर पर सो रहे चौकीदार की धारदार हथियार से हत्या की खबर ने खूब सुर्खियां बटोरीं। पढ़िए कौन-कौन सी खबर लोगों की जुबान पर रहीं...

फर्जी शस्त्र लाइसेंस मामला: जमानत अर्जी खारिज होने के बाद जितेंद्र ने सीएमएम कोर्ट में किया सरेंडर
कानपुर में फर्जी शस्त्र लाइसेंस मामले में फरार चल रहे कारीगर जितेंद्र ने शनिवार को सीएमएम कोर्ट में सरेंडर कर दिया। सत्र न्यायालय से जितेंद्र की अग्रिम जमानत अर्जी खारिज होने के बाद उसने हाईकोर्ट में गुहार लगाई थी लेकिन हाईकोर्ट से भी उसे राहत नहीं मिली।
पढ़ें पूरी खबर

घर पर सो रहे चौकीदार की धारदार हथियार से हत्या, जांच में जुटी पुलिस
कानपुर देहात के रसूलाबाद थाना क्षेत्र में चौकीदार की निर्मम हत्या का मामला सामने आया है। यहां कहिंजरी चौकी अंतर्गत जिंदा निवादा गांव में घर में सो रहे वंशलाल (50) को आज्ञात लोगों ने धारदार हथियार से हमला कर गंभीर रूप से घायल कर दिया। पढ़ें पूरी खबर

बेटी के घर से लौट रहे पिता को बदमाशों ने पीटकर कुएं में फेंका, साइकिल और नकदी लूटकर भाग निकले
यूपी के फतेहपुर खागा कोतवाली क्षेत्र के बुदवन गांव में बेटी के घर से लौट रहे पिता बलवंत को बदमाशों ने पीट-पीटकर कुएं में फेंका। यही नहीं बदमाश साइकिल और नकदी लूटकर भाग निकले। घटना की जानकारी मिलते ही संबंधित थाने की पुलिस मौके पर पहुंची। पढ़ें पूरी खबर ... और पढ़ें

जमीन पर कब्जे को लेकर दो पक्ष भिड़े

फतेहपुर। शहर के कलक्टरगंज इलाके में जमीन पर कब्जे के लिए दो पक्षों में हंगामा हुआ। पुलिस ने पहुंचकर निर्माण कार्य रुकवा दिया। विवाद में कांग्रेस व भाजपा के पक्ष जुटने से मामला गर्माया। पुलिस ने दोनों भाइयों को कोतवाली में समझौते की बातचीत के लिए रोका है। पुलिस ने दोनों पक्षों से करीब बीस लोगों को पाबंद किया है। फायरिंग की अफवाह से सैकड़ों लोगों की भीड़ भी इस दौरान जमा हुई।
कलक्टरगंज निवासी संजय उर्फ पप्पू तिवारी कांग्रेस नेता हैं। पप्पू ने बताया कि उनके घर के पीछे बंटवारे में करीब सौ फिट रोड पर और एक सौ बीस फिट जगह पड़ी है। उस जमीन के हिस्सेदार वह (पप्पू तिवारी) और उनके चचेरे भाई धनंजय तिवारी हैं। जमीन में कुछ हिस्से पर एक होटल संचालक के कुछ नौकर टिनशेड डालकर रहते हैं। कोर्ट में केस चल रहा था। कुछ माह पहले केस वापस लेकर समझौता हुआ। इधर, धनंजय ने भाजपा नेता आनंद मान सिंह से जमीन का सौदा तय किया और हिस्से की जमीन का एग्रीमेंट कराया। आनंद अपने कुछ लोगों के साथ शुक्रवार को जमीन पर कब्जा करने पहुंचे। भनक लगने पर पप्पू तिवारी भी अपने पक्ष के लोगों के साथ पहुंच गए। विरोध और देखते ही देखते विवाद होने लगा। 100 नंबर की सूचना पर कोतवाल जितेंद्र सिंह, राधानगर चौकी इंचार्ज हेमेंद्र सिंह समेत पुलिस बल पहुंचा। मौके पर हंगामा को शांत कराया। आनंद मान सिंह ने बताया कि जमीन का सौदा तय किया गया है। किसी की जमीन पर कब्जा नहीं किया जा रहा है। जमीन मालिक धनंजय कब्जा दिलाने में मौजूद हैं।
उधर, पप्पू तिवारी ने आरोप लगाया कि बीजेपी के आधा सैकड़ा लोग हथियारों से लैस होकर कब्जा लेने आए हैं। परिवार की जमीन में सरकारी बंटवारा नहीं है। जिससे जमीन का हिस्सा स्पष्ट नहीं है। उनके हिस्से में आने वाली 15 फिट जमीन में तीसरे पक्ष ने कब्जा कर रखा है। उनके हिस्से की जमीन विवादित छोड़ी जा रही है। कोतवाल जितेंद्र सिंह ने बताया कि दोनों पक्षों के लोगों को पाबंद करते हुए निर्माण रुकवाया गया है। सभी पक्षों के बीच बातचीत की जा रही है।
... और पढ़ें

चोरों ने काटी सिग्नल केबल, एक घंटे रुकी रहीं ट्रेनें

फतेहपुर। दिल्ली-हावड़ा रूट पर गुरुवार की रात फतेहपुर से कानपुर की ओर पांच किमी. की दूरी पर चोरों ने सिग्नल केबल काट लिया। इससे एक घंटे तक अप व डाउन ट्रैकों पर संचालन ठप हो गया। घटना रात लगभग आठ बजकर पचास मिनट की है। पुरी से नई दिल्ली जा रही पुरुषोत्तम एक्सप्रेस व कानपुर से फतेहपुर आ रही मेमू ट्रेन पीछे के स्टेशनों पर खड़ी हो गई। तार जोड़ने के बाद ट्रेनों का संचालन शुरू कराया जा सका। आरपीएफ ने चोरों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की।
फतेहपुर-कुरस्तीकला स्टेशन के बीच बुधइयापुर गांव के पास चोरों ने सिग्नल का छह स्क्वाट का केबल काट लिया। ट्रेनों का आवागमन ठप होने पर जब टेलीकॉम, सिग्नल टीम के साथ आरपीएफ ने ट्रैक का निरीक्षण किया तब इसका पता चला। अप व डाउन लाइन के सिग्नल फेल हो गए थे। आरपीएफ उप निरीक्षक संजय तिवारी ने बताया कि फतेहपुर स्टेशन से करीब पांच किमी. दूर कानपुर की ओर सिग्नल की केबल कटी मिली। टेलीकॉम के जेई उमेश व सिग्नल के जेई राकेश पंडोले ने कटी हुई केबल को जोड़ा, तब सिग्नल ठीक हुआ। इसके बाद ट्रेनों का आवागमन शुरू हुआ। आरपीएफ प्रभारी प्रवीण सिंह ने बताया कि सिग्नल की केबल काट कर रेलवे को नुकसान पहुंचाने व चोरी की रिपोर्ट अज्ञात में दर्ज की गई है। सिग्नल की केबल काटने व एक घंटा के रूट प्रभावित होने से करीब एक लाख 25 हजार रुपये का नुकसान हुआ।
... और पढ़ें

मौरंग की गुणवत्ता ठीक न होने पर केंद्रीय मंत्री ने जताई नाराजगी

अल्लीपुर (फतेहपुर)। अल्लीपुर कताई मिल परिसर में बन रहे मेडिकल कालेज का निर्माण कार्य केंद्रीय राज्यमंत्री साध्वी निरंजन ज्योति को संतोषजनक नहीं मिला। मौरंग की गुणवत्ता ठीक नहीं थी तो फर्श के नीचे डाली गई सामग्री भी कमजोर दिखी। इस पर साध्वी ने नाराजगी जताई और परियोजना निदेशक को काम में सुधार लाने की हिदायत दी।
जिले की सांसद व केंद्रीय ग्रामीण विकास राज्य मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति दोपहर लगभग एक बजे अलीपुर कताई मिल पहुंचीं। उन्हें लोगों ने सूचना दी थी कि कार्य शिथिल व गुणवत्ताविहीन हो रहा है। इस पर साध्वी अचानक निर्माणाधीन मेडिकल कालेज का काम देखने पहुंचीं थीं। उन्होंने फर्श के नीचे पड़ने वाली सामग्री को कमजोर पाया। मौरंग अच्छी गुणवत्ता की न होने पर उन्होंने कार्यदायी संस्था सीएनडीएस के परियोजना निदेशक भूपेंद्र सिंह से नाराजगी जताई। साध्वी को परिसर में देख वहां काम कर रहे कुछ मजदूर भी उनके पास पहुंच गए। मजदूरों ने बताया कि छह महीने से काम कर रहे हैं और अभी तक मजदूरी का भुगतान नहीं किया गया। इस पर साध्वी ने श्रमिकों का भुगतान तत्काल करने के निर्देश दिए। उन्होंने बताया कि मेडिकल कालेज के निर्माणाधीन भवन में केन और बेतवा की मौरंग का प्रयोग करने के निर्देश गए हैं ताकि अच्छी सामग्री पड़ेगी तो निर्माण कार्य भी अच्छा होगा।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree