विज्ञापन
विज्ञापन
मौनी अमावस्या पर गया में कराएं तर्पण, हर तरह के ऋण से मिलेगी मुक्ति : 24 जनवरी 2020
Astrology Services

मौनी अमावस्या पर गया में कराएं तर्पण, हर तरह के ऋण से मिलेगी मुक्ति : 24 जनवरी 2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

बेटियों ने दिया पिता की अर्थी को कंधा और मुखाग्नि, देखने वालों की आंख हुई नम

बेटियों ने बेटे का फर्ज निभाते हुए पिता को न केवल कंधा दिया, बल्कि मुखाग्नि भी दी। यह देखकर सभी की आंखें नम हो गईं।

21 जनवरी 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

फैजाबाद

मंगलवार, 21 जनवरी 2020

सर्द हवा से छूट रही कंपकंपी

अयोध्या। मौसम का मिजाज रविवार को फिर बदल गया। सुबह से बादलों का डेरा रहा और सर्द हवा ने कंपकंपी का अहसास कराया। दिनभर लोग आसमान की ओर टकटकी लगाए रहे, लेकिन सूर्यदेव के दर्शन नहीं हुए। इससे पारा लुढ़का और गलन फिर बढ़ गई।
गुरुवार व शुक्रवार को हुई बारिश के बाद शनिवार को मौसम खुला तो लोगों ने राहत की सांस ली। शनिवार दोपहर बाद धूप खिलने से लोगों ने अच्छे मौसम का अंदाजा लगाया था, लेकिन रविवार को मौसम का मिजाज फिर बदल गया। सुबह लोग उठे तो बादल नजर आए।
करीब चार किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से चल रही पछुआ हवाओं से कंपकंपी छूट गई। बर्फीली हवाओं से गलन और ठिठुरन में इजाफा हुआ। लोग संडे होने के कारण देर तक बिस्तर में दुबके रहे। उठने के बाद भी लोग घर से निकलने का साहस नहीं जुटा सके। रविवार होने के कारण नौकरीपेशा लोगों व स्कूली बच्चों के लिए तो राहत रहा, लेकिन मजदूरी पेशा लोग ठंड में कांपते हुए घर से निकलने को विवश हुए।
लोग सूर्यदेव को निकलने की आस में दिनभर आसमान की ओर टकटकी लगाए रहे, लेकिन सूर्यदेव के दर्शन न होने से मायूसी ही हाथ लगी। ठंडक के सितम का असर रहा कि रविवार को तापमान में और कमी देखी गई। शनिवार की अपेक्षा दो डिग्री लुढ़ककर दिन का तापमान 16.5 डिग्री सेल्सियस पहुंच गया, जो सामान्य से 4 डिग्री कम रहा। वहीं, न्यूनतम तापमान भी 2.5 डिग्री लुढ़ककर 9 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।
सर्द हवा व सूर्यदेव के दर्शन न होने से अधिकतम आर्द्रता बढ़कर शत प्रतिशत पहुंच गई। हालांकि, मौसम विभाग ने अब वर्षा की संभावना से इंकार किया है, लेकिन ठंड से फिलहाल राहत न मिलने की संभावना जताई जा रही है। आचार्य नरेंद्र देव कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, कुमारगंज के मौसम वैज्ञानिक डॉ. अमरनाथ मिश्रा ने बताया कि अगले 24 घंटे में हल्के से मध्यम छाए रहेंगे। अधिकतम तापमान सामान्य से कम रहने से दिन में ठंड बरकरार रहेगी।
... और पढ़ें

अनियमितता में जिला आबकारी अधिकारी सस्पेंड

अयोध्या। जिला आबकारी अधिकारी पार्थ रंजन घोष को आबकारी आयुक्त ने सस्पेंड कर दिया है। यह कार्रवाई आबकारी उपायुक्त, एसपी राव की शिकायत पर हुई। उन्होंने जिला आबकारी अधिकारी द्वारा उनके निर्देशों का पालन न करने व कार्य में अनियमितता की शिकायत की थी। डिप्टी कमिश्नर की शिकायत पर आबकारी इंस्पेक्टर आलोक कुमार पहले ही सस्पेंड हो चुके हैं।
आबकारी आयुक्त गुरु प्रसाद ने आबकारी उपायुक्त की शिकायत पर जिला आबकारी अधिकारी पार्थ रंजन घोष को निलंबित कर दिया है। यह कार्रवाई बीते 15 जनवरी को हुई थी। आदेश मिलने के बाद शनिवार को जिला आबकारी अधिकारी सहायक आयुक्त, डिस्टलरी पारसनाथ पाल को कार्यभार सौंप रिलीव हो गए।
पूर्व में आबकारी उपायुक्त की लिखापढ़ी पर बीकापुर सर्किल के आबकारी निरीक्षक आलोक कुमार को अवैध शराब बेचने के आरोप में निलंबित हैदरगंज की एक शराब की दुकान को स्वयं के हस्ताक्षर से रिन्यू करने के आरोप में विभाग ने सस्पेंड कर दिया था। इस मामले में आबकारी उपायुक्त ने जिला आबकारी अधिकारी के खिलाफ भी शिकायत की थी। इसके अलावा उन्होंने उन पर आदेश न मानने का भी आरोप लगाया था।
जांच के बाद आबकारी आयुक्त गुरु प्रसाद ने बीते 15 जनवरी को जिला आबकारी अधिकारी के निलंबन का आदेश जारी कर दिया था। जिला आबकारी अधिकारी पार्थ रंजन घोष ने कहा कि उन पर लगाए गए आरोप बेबुनियाद हैं। डिप्टी कमिश्नर उनसे व्यक्तिगत अदावत रखते थे। उन्होंने उनकी शिकायत द्वेषपूर्ण की है। आगे की जांच में सब स्पष्ट हो जाएगा। ध्यान रहे कि निलंबन की संस्तुति करने वाले डिप्टी कमिश्नर एसपी राव पर एक महिला ने अश्लील वीडियो चैटिंग के आरोप में केस दर्ज कराया है।
... और पढ़ें

हिंदू बनकर लिव इन रिलेशन में रह रहा था गैर समुदाय का युवक, गर्भवती हुई तो हो गया फरार

नई पेंशन योजना के खिलाफ शिक्षकों ने दिया धरना

अयोध्या। साकेत महाविद्यालय में नवनियुक्त प्राध्यापकों और कर्मचारियों ने नई पेंशन योजना के तहत महाविद्यालय द्वारा की जा रही कटौती के खिलाफ सोमवार को धरना दिया।
महाविद्यालय में सितंबर 2017 के बाद नियुक्ति पाए हुए प्राध्यापकों के वेतन से हर महीने दस प्रतिशत की कटौती महाविद्यालय कर रहा है। मगर ये रकम प्राध्यापकों के खाते में जमा नहीं की जा रही है। जिसकी वजह से सरकार द्वारा दिए जाने वाली उतनी ही राशि का लाभ भी प्राध्यापकों को नहीं मिल रहा है। इसके अलावा महाविद्यालय द्वारा की जा रही कटौती पर आयकर भी देना पड़ रहा है। इस तरह त्रिस्तरीय नुकसान हो रहा है।
यही हाल महाविद्यालय में मानदेय से नियमित हुए प्राध्यापकों का भी है। महाविद्यालय के पचास से ज्यादा प्राध्यापक और लगभग 30 कर्मचारी ऐसे हैं जिनके वेतन से एनपीएस के नाम पर महाविद्यालय कटौती कर रहा है। मगर उनके खाते में जमा नहीं कर रहा है। इस संबंध में प्राध्यापकों और कर्मचारियों ने कई बार प्राचार्य से शिकायत भी दर्ज कराई लेकिन सुनवाई नहीं हुई।
सोमवार को ज्ञापन सौंपने पर प्राचार्य ने कहा कि वह क्षेत्रीय उच्च शिक्षा अधिकारी से बात कर मामले का समाधान जल्द निकालने का प्रयास करेंगे। धरने में डॉ. बीके सिंह, डॉ. प्रभात श्रीवास्तव, डॉ. अखिलेश, डॉ. संतलाल, डॉ. विजय सिंह, डॉ. जन्मेजय तिवारी, डॉ. अभिषेक दत्त त्रिपाठी, डॉ. संतोष, डॉ. रामलाल, कर्मचारी संघ के महामंत्री सुशांत आदि उपस्थित रहे।
... और पढ़ें

इंटर स्टेट कराटे चैंपियनशिप में अयोध्या को तीन गोल्ड मेडल

अयोध्या। कराटे चैंपियनशिप में जिला कराटे संघ का दबदबा कायम रहा। युद्ध ज्ञान कराटे एसोसिएशन ऑफ उत्तर प्रदेश के तत्वावधान में फिरोजाबाद में आयोजित द्वितीय इंटर स्टेट कराटे चैंपियनशिप में अयोध्या के तीन खिलाड़ियों ने गोल्ड मेडल जीता। इसके अलावा एक खिलाड़ी ने सिल्वर व दो ने कांस्य पदक पर कब्जा किया। इनकी इस सफलता पर अयोध्या जनपद के खिलाड़ियों ने हर्ष व्यक्त किया है।
कराटे एसोसिएशन अयोध्या के महासचिव प्रदीप कुमार मौर्य ने बताया कि 18-19 जनवरी को फिरोजाबाद में आयोजित इस प्रतियोगिता में अयोध्या के सतीश कुमार ने 40 किलो भार वर्ग में, रविंद्र यादव ने 50 किलो भार वर्ग में व इंद्रप्रकाश ने 55 किलो भार वर्ग में गोल्ड मेडल जीता।
इसके अलावा रामू यादव ने 60 किलो में सिल्बर मेडल व अभिषेक निषाद ने 40 किलो में व विनीत कुमार ने 53 किलो में कांस्य पदक जीत जिले का नाम रोशन किया। जिला कराटे संघ टीम के कोच प्रशांत कुमार व टीम मैनेजर नीरज कुमार थे। इस उपलब्धि पर उमाशंकर गुप्ता, आशीष प्रजापति, पवन, अंकित, डॉ सूर्य प्रकाश, विवेक कुमार, डॉ सुरेंद्र समेत अन्य ने खिलाड़ियों को बधाई दी।
... और पढ़ें

गैंग रेप में दो को आजीवन कारावास

अयोध्या। चौदह वर्षीय किशोरी को बहला फुसलाकर अपहरण कर उसके साथ गैंग रेप करने के मामले में दो युवकों को आजीवन कठोर कारावास की सजा सुनाई गई है। अपहरण में सहयोग करने के आरोप में दुष्कर्मी युवक की मां और पिता को भी 5-5 साल की सजा सुनाई गई है चारों आरोपियों पर कुल 154000 रुपये जुर्माना भी हुआ है। फैसला विशेष न्यायाधीश पॉक्सो एक्ट के जज असद अहमद हाशमी की अदालत से हुआ है।
पॉक्सो एक्ट के विशेष लोक अभियोजक विनोद उपाध्याय ने बताया कि घटना 17 जनवरी 2015 की है। तारुन थाना क्षेत्र के एक गांव की किशोरी अपने घर से मां को कुछ कार्य बता कर बाहर अपनी सहेली के पास गई थी। वहां से लौटते वक्त उसके गांव के ही धीरेंद्र कुमार मौर्य ने उसका अपहरण कर लिया और अपने घर में बंधक बनाकर उसके साथ दुष्कर्म किया।
इस घटना के 3 दिन बाद उसी गांव का पिंटू भी धीरेंद्र मौर्य के घर गया और उसने भी किशोरी के साथ दुष्कर्म किया ।अपहरण और दुष्कर्म में धीरेंद्र की मां मालती और पिता श्यामलाल भी सहयोग करते थे। इसकी रिपोर्ट पीड़िता के पिता ने दर्ज कराई थी। सुनवाई के बाद कोर्ट ने धीरेंद्र कुमार मौर्य व पिंटू तिवारी को दोषी पाते हुए आजीवन कठोर कारावास व धीरेंद्र मौर्य की मां मालती देवी वा उनके पिता श्यामलाल को पांच 5 साल के कठोर कारावास की सजा से दंडित किया। सजा भुगतने के लिए सभी को जेल भेज दिया गया।
... और पढ़ें

किसान की गला रेत कर हत्या

अयोध्या। खंडासा थाना क्षेत्र के नंदौली पूरे नया गांव में रविवार रात घर के बरामदे में सोए एक किसान की गला रेतकर हत्या कर दी गई। सोमवार सुबह जब परिवारीजन सोकर उठे तो उन्हें घटना की जानकारी हुई। वारदात की सूचना मिलने पर सीओ मिल्कीपुर, थानाध्यक्ष खंडासा समेत फोरेंसिक टीम ने घटनास्थल की जांच की लेकिन मौके से कोई सुराग हासिल नहीं हुआ। पुलिस ने शव पोस्टमर्टम के लिए भेज दिया है। मृतक के भाई की तहरीर पर पुलिस ने अज्ञात के विरुद्ध हत्या का मुकदमा पंजीकृत कर मामले की जांच शुरू कर दी है।
खंडासा थाना क्षेत्र के नंदौली पूरे नया गांव निवासी किसान राजकरन (47) रविवार रात घर के बरामदे में सोया था जबकि पत्नी और बच्चे घर के अंदर सोए थे। सोमवार सुबह करीब छह बजे जब राजकरन की पत्नी सोकर उठी और कमरे से बाहर निकली तो देखा कि बरामदे में चारपाई पर पति का खून से लथपथ शव पड़ा था। चारपाई व आसपास खून फैला था। उसके चीखने की आवाज सुनकर घर व आसपास के लोग दौड़े और पुलिस को घटना की सूचना दी गई।
पुलिस ने घटनास्थल का जायजा लिया तो पता चला कि किसी धारदार हथियार से राजकरन का गला रेता गया है। मौके पर जांच के लिए फोरेंसिक टीम भी बुलाई गई, मगर कोई अहम सुराग नहीं मिल सका। जांच के दौरान पुलिस टीम को बगल के एक मकान के पास शराब की खाली बोतलें मिली हैं। पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। सीओ मिल्कीपुर राजेश राय ने बताया कि किसान की हत्या की गई है, मृतक के भाई सती प्रसाद की तहरीर पर अज्ञात के खिलाफ हत्या का केस दर्ज कर जांच की जा रही है।
मृतक किसान राजकरन अपने अच्छे व्यवहार के चलते क्षेत्र में लोकप्रिय था, उसकी किसी से कोई दुश्मनी भी नहीं थी। उसकी पत्नी किसमता पैरालाइसिस से पीड़ित है। राजकरन के तीन बेटे व दो बेटियां हैं। इनमें से बड़ी बेटी की शादी हो चुकी है, वह अपनी ससुराल में रहती है। दूसरी बेटी कांति (20) की शादी तय है और इसी वर्ष मार्च महीने में उसकी बारात आनी थी। तीन बेटों में विकास (18) सूरत में काम करता है जबकि विवेक (12) व विशाल (8) उसके साथ रहते हैं।
राजकरन के पिता रामदीन खेत में ही झोपड़ी बनाकर रहते हैं जबकि मां उसके भाई के साथ गांव में ही दूसरे मकान में रहती हैं। ग्रामीणों का कहना है कि राजकरन खेती किसानी कर अपने परिवार का पालन पोषण करता था, उसकी किसी से कोई दुश्मनी नहीं थी।
... और पढ़ें

जूनियर हाईस्कूल के हेड मास्टर और लेखपाल को किया निलंबित

अयोध्या। सोमवार को मंडलायुक्त एमपी अग्रवाल ने विकासखंड मया बाजार की अमसिन ग्राम सभा के मजरे दहलवा में बनी गौशाला का आकस्मिक निरीक्षण किया। गोशाला में साफ-सफाई और पशुओं की देखभाल व्यवस्था से वह संतुष्ट दिखे तथा ग्राम प्रधान की पीठ थपथपाई।
मंडलायुक्त ने क्षेत्रीय लेखपाल पुनीत सिंह के अनुपस्थित रहने के कारण उन्हें निलंबित करने का आदेश दिया। इसके अलावा जूनियर हाईस्कूल दहलवा के प्रधानाध्यापक रवीश कुमार को अनुपस्थित रहने के कारण निलंबित करने का आदेश दिया।
इस दौरान उन्होंने पशुओं के खिलाने के लिए चारे और अन्य व्यवस्थाओं का जायजा लिया तथा गौशाला में और शेड के निर्माण के लिए अधिकारियों को निर्देशित किया। ग्राम प्रधान प्रतिनिधि अरूणांश तिवारी को आश्वस्त करते हुए उन्होंने कहा कि पशुओं के रखरखाव और खानपान के लिए धन की कमी आड़े नहीं आने दी जाएगी।
कहा कि जहां पर दवा काम नहीं करती है वहां पर दुआ काम आती है इसी स्लोगन को ध्यान में रखते हुए पशुओं की नियमित तौर पर सेवा और उनकी चारे पानी की व्यवस्था की जानी चाहिए। मौके पर प्रभारी निरीक्षक गोसाईगंज आशुतोष मिश्र, पशु चिकित्सक डॉ अजय कुमार, ग्राम विकास अधिकारी विनोद आचार्य, क्षेत्र पंचायत सदस्य विकास वर्मा, सलाउद्दीन अंसारी, रामपाल वर्मा सहित तमाम लोग उपस्थित रहे।
गौशाला में निरीक्षण करने के उपरांत मंडलायुक्त एमपी अग्रवाल रास्ते से गुजर रहे थे इसी बीच उनकी नजर जूनियर हाईस्कूल दहलवा पर पड़ी तो वह गाड़ी रोककर विद्यालय में दाखिल हो गए। इस दौरान प्रधानाध्यापक रवीश कुमार सिंह मौके पर नहीं मिले जबकि दो सहायक अध्यापक चार बच्चों को पढ़ा रहे थे।
उन्होंने छात्र उपस्थित पंजिका का भी निरीक्षण किया और अधिक बच्चों की हाजिरी लगाए जाने पर भी फटकार लगाई। प्रधानाध्यापक रवीश कुमार को अनुपस्थित रहने के कारण मंडलायुक्त ने निलंबित करने का आदेश दिया जबकि अमसिन गौशाला में निरीक्षण के दौरान क्षेत्रीय लेखपाल पुनीत सिंह के अनुपस्थित रहने के कारण उन्हें भी निलंबित करने का आदेश दिया।
... और पढ़ें

सरयू के रूप में प्रवाहित हैं भगवान के आंसू

अयोध्या। योगी कैबिनेट ने घाघरा का नाम सरयू करने का प्रस्ताव पास किया है। अब राजस्व अभिलेखों में इसका नाम सरयू दर्ज किया जाएगा अभी तक राजस्व अभिलेखों में घाघरा दर्ज थी। योगी सरकार के इस निर्णय ने एक बार फिर अयोध्या की गरिमा-महिमा को बढ़ाने का काम किया है।
मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम के अवतरण व लीला परमधाम-गमन की साक्षी रही सरयू नदी का उद्गम स्थल कैलास मानसरोवर माना जाता है। मान्यता है कि सरयू के रूप में भगवान के आंसू अयोध्या में प्रवाहित हैं।
सरयू की कुल लंबाई करीब 160 किमी है। भगवान श्रीराम के जन्मस्थान अयोध्या से होकर बहने से हिंदू धर्म में इस नदी का विशेष महत्व है। सरयू नदी का वर्णन ऋग्वेद में भी मिलता है।
पौराणिक कथाओं के अनुसार सरयू, घाघरा व शारदा नदियों का संगम तो हुआ ही है। सरयू व गंगा का संगम श्रीराम के पूर्वज भगीरथ ने कराया था। पुराणों में वर्णित है कि सरयू भगवान विष्णु के नेत्रों से प्रगट हुई हैं। आनंद रामायण के यात्रा कांड में उल्लेख है कि प्राचीनकाल में शंकासुर दैत्य ने वेद को चुराकर समुद्र में डाल दिया और स्वयं वहां छिप गया था।
तब भगवान विष्णु ने मत्स्य रूप धारण कर दैत्य का वध किया और ब्रह्मा को वेद सौंपकर अपना वास्तविक स्वरूप धारण किया। उस समय हर्ष के कारण भगवान विष्णु की आंखों से प्रेमाश्रु टपक पड़े। ब्रह्मा ने उस प्रेमाश्रु को मानसरोवर में डालकर उसे सुरक्षित कर लिया।
इस जल को महा पराक्रमी वैवस्वत महाराज ने बाण के प्रहार से मानसरोवर से बाहर निकाला। यही जलधारा सरयू नदी कहलाई। बाद में भगीरथ अपने पूर्वजों के उद्धार के लिए गंगा को पृथ्वी पर लाये और उन्होंने ही गंगा व सरयू का संगम करवाया।
अवधपुरी मम पुरी सुहावनि, उत्तर दिशि बह सरयू पावनि... तुलसी कृत मानस की इस चौपाई में सरयू नदी को अयोध्या की पहचान का प्रमुख प्रतीक बताया गया है। राम की जन्मभूमि अयोध्या उत्तर प्रदेश में सरयू नदी के बाएं तट पर स्थित है। रामायण के अनुसार, भगवान राम ने इसी नदी में जल समाधि ली थी।
मान्यता है कि हिमालय पर कैलाश पर्वत है, जिससे लोकपावन सरयू निकली हैं। यह अयोध्यापुरी से सटकर बहती हैं। वामन पुराण के 13वें अध्याय, ब्रह्म पुराण के 19वें अध्याय और वायु पुराण के 45वें अध्याय में गंगा, यमुना, गोमती, सरयू और शारदा आदि नदियों का हिमालय से प्रवाहित होना बताया गया है।
अयोध्या में सरयू स्नान की महत्ता शास्त्रों में वर्णित है। अनुमान है कि विभिन्न पर्वों एवं तिथियों पर वर्ष भर में सरयू में करीब एक करोड़ लोग स्नान करते हैं। मान्यता है कि तीर्थराज प्रयाग भी हर वर्ष रामनवमी में सरयू स्नान करने पहुंचते हैं। कहा जाता है कि सरयू में स्नान से जन्म जन्मांतर के पाप धुल जाते हैं।
पावन सलिला सरयू के विभिन्न घाट बड़ी संख्या में लोगों के लिए रोजगार के भी साधन भी हैं। फूल, माला, पंडा समाज, नाविकों आदि का रोजगार सरयू पर ही निर्भर है। सरयू तट पर प्रतिदिन बड़ी संख्या में लोग फूल-माला का रोजगार करते हैं।
यही नहीं लक्ष्मणघाट से लेकर संत तुलसीदास घाट तक तीर्थ पुरोहित भी श्रद्धालुओं को पूजन-अर्चन, गोदान कराकर अपना जीवन यापन करते हैं। नौकायन के माध्यम से नाविकों को भी रोजगार सरयू ही दे रही हैं।
... और पढ़ें

अयोध्या: चारपाई पर सो रहे युवक की गला काटकर हत्या, सुबह मिला खून से सना शव

विहिप के ही मॉडल पर बने भव्य राममंदिर

अयोध्या। विहिप के केंद्रीय मार्गदर्शक मंडल की बैठक सोमवार को प्रयागराज में हुई। बैठक में विहिप के मॉडल के तर्ज पर भव्य राममंदिर का निर्माण व रामजन्मभूमि न्यास को मंदिर निर्माण की जिम्मेदारी सौंपे जाने की मांग को लेकर प्रस्ताव रखा गया। रामनगरी के संतों का भी मानना है कि विहिप के मॉडल के अनुरूप ही अयोध्या में दिव्य-भव्य राममंदिर का निर्माण होना चाहिए।
रामनगरी के संतों ने कहा कि ट्रस्ट गठन में सरकार को अब देरी नहीं करनी चाहिए। शीघ्र ही ट्रस्ट का स्वरूप तय कर राममंदिर निर्माण शुरू होने की आवश्यकता है।
संतों ने यह भी कहा कि विहिप ने लंबे समय तक राममंदिर के लिए आंदोलन किया है, उनकी भूमिका को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। संतों का कहना है कि विहिप के मंदिर मॉडल को ही विस्तारित कर दिव्य-भव्य स्वरूप प्रदान किया जाए लेकिन राममंदिर इसी तर्ज पर बने क्योंकि करोड़ों हिंदुओं के मन में राममंदिर का यही मॉडल वर्षों से बसा हुआ है।
दिगंबर अखाड़ा के महंत सुरेश दास ने कहा कि रामजन्मभूमि न्यास को ही मंदिर निर्माण की जिम्मेदारी सौंपी जानी चाहएि। शीघ्र ही ट्रस्ट गठन की प्रक्र िया भी अब पूरी हो। रामनवमी में राममंदिर का शिलान्यास हो जाए हम सभी की यह इच्छा है। कहा कि राममंदिर विहिप के प्रस्तावित मॉडल के अनुरूप ही बनना चाहिए। ट्रस्ट में राममंदिर आंदोलन में भूमिका निभाने वाले संत-धर्माचार्यों को भी स्थान मिलना चाहिए।
संत समिति के अध्यक्ष महंत कन्हैयादास रामायणी ने भी कहा है कि रामजन्मभूमि न्यास को ही राममंदिर निर्माण की जिम्मेदारी सौंपी जानी चाहिए। रामजन्मभूमि न्यास से राममंदिर के लिए लंबे समय तक आंदोलन किया है, इसलिए राममंदिर निर्माण का अधिकार न्यास को ही मिलना चाहिए। महंत नृत्यगोपाल दास की अगुवाई में राममंदिर का निर्माण होने की आवश्यकता है। सरकार को बस अब शीघ्र ट्रस्ट का गठन कर मंदिर निर्माण की तिथि घोषित करनी चाहिए।
निर्वाणी अनी के श्रीमहंत धर्मदास ने कहा कि रामजन्मभूमि न्यास और विहिप कुछ नहीं है। वह राममंदिर मामले में भी पार्टी नहीं थे। इसलिए उनको दूर ही रखना चाहिए। कहा कि विहिप की दुकानदारी बंद हो रही है इसलिए वह अपने प्रचार प्रसार के लिए बैठकें कर रही है। राममंदिर सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के अनुसार बनना चाहिए। सरकार जल्द ट्रस्ट गठन की कार्रवाई पूरी कर राममंदिर निर्माण प्रारंभ करें ताकि रामलला टेंट से अतिशीघ्र बाहर आ सकें।
नाका हनुमानगढ़ी के महंत रामदास कहते हैं कि अयोध्या में बनने वाला मंदिर दिव्य-भव्य व अलौकिक होना चाहिए। विहिप के मॉडल केा ही विस्तार देकर उसी अनुरूप मंदिर का निर्माण रामजन्मभूमि न्यास के निर्देशन में होना चाहिए। राममंदिर के तराश गए पत्थरों से ही मंदिर बनना चाहिए क्योंकि तराशे गए पत्थर करोड़ों हिंदुओं की आस्था के गवाह हैं।
रामजन्मभूमि के पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास भी कहते हैं कि विहिप व रामजन्मभूमि न्यास की भूमिका नजर अंदाज नहीं की जा सकती है। विहिप का मंदिर मॉडल लोगों के मन में घर कर गया है, करोड़ों की आस्था जुड़ी है। इसलिए इसी मॉडल से मंदिर निर्माण होना ठीक रहेगा। रामजन्मभूमि न्यास को यदि मंदिर निर्माण की जिम्मेदारी सौंपी जाती है तो संतों के मार्गदर्शन में मंदिर भव्य बनेगा।
निर्मोही अखाड़ा के महंत दिनेंद्र दास ने कहा कि सरकार जो करेगी उसका स्वागत है। ट्रस्ट का गठन व मंदिर निर्माण कैसे होगा यह सब केंद्र सरकार को ही तय करना है। सरकार यदि रामजन्मभूमि न्यास को राममंदिर निर्माण की जिम्मेदारी देती है तो भी हमें कोई ऐतराज नहीं है। विहिप ने लंबे समय तक राममंदिर के लिए लड़ाई लड़ी है। किसी भी मॉडल पर राममंदिर बने लेकिन हम चाहते हैं कि ऐसा मंदिर हो जो दुनिया भर में अलौकिक और आकर्षण का केंद्र हो।
... और पढ़ें

राममंदिर मॉडल वाले अयोध्या रेलवे स्टेशन का काम बेहद सुस्त

अयोध्या। श्रीरामजन्मभूमि मंदिर मॉडल के अनुरूप रामनगरी के रेलवे स्टेशन के सौंदर्यीकरण की केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी योजना की रफ्तार सुस्त काम का नया रिकार्ड बना रही है।
करीब 104 करोड़ की लागत से इस रेलवे स्टेशन का कायाकल्प करने का शिलान्यास रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा ने यहां आकर 21 फरवरी 2018 को रखा था, इसे पूर्ण करने की अवधि दिसंबर 2020 है। मगर अब तक सिर्फ 10 करोड़ के काम हो पाए हैं। धनाभाव के अभाव में एजेंसी ने करीब चार माह से काम बंद कर रखा है।
केंद्र व प्रदेश में भाजपा सरकार गठन के बाद से ही अयोध्या को पर्यटन की तर्ज पर विकसित करने के लिए योजनाओं का पिटारा खोल दिया था। वहीं,रामनगरी में भव्य मंदिर निर्माण की संभावना को भांपते हुए अयोध्या रेलवे स्टेशन का विस्तारी व सुंदरीकरण वर्ष 2018 में ही शुरू कर दिया गया था।
इसके निर्माण की अवधि दिसंबर 2020 तय की गई थी। योजना के तहत श्रीरामजन्मभूमि मॉडल के तर्ज पर अयोध्या रेलवे स्टेशन का निर्माण किया जाना है। इस योजना का शिलान्यास 21 फरवरी 2018 को हुआ था, उस समय इसके निर्माण की लागत 80 करोड़ तय की गई थी।
प्रस्तावित योजना के तहत रेलवे स्टेशन के चारों कोनों को मंदिरों के ऊपर बड़े गुंबद व बीच-बीच में कुछ छोटे गुंबद भी लगाए जाने हैं। स्टेशन के बीचों-बीच मुकुटनुमा ढांचा व खंभे भी मंदिरों की तरह ही होंगे। इसके अलावा मुख्य भवन के भीतर एयरकंडीशनर, वाई फाई जैसी अत्याधुनिक सुविधाएं होंगी।
दीवारों पर रामायण से जुड़ी चौपाइयां, प्रसंग से यहां अयोध्या के संस्कृति की झलक दिखाने की योजना है। यहां के तीनों प्लेटफार्मों को जोडने के लिए जहां दो पैदल पुल बनाए जाएंगे, इनमें से एक तैयार हो चुका है, जिसे यात्रियों के लिए खोल दिया गया है।
वहीं बुजुर्गों व महिलाओं की सुविधा के लिए लिफ्ट व एस्केलेटर भी लगाए जाएंगे। इसके अलावा स्टेशन परिसर व प्लेटफार्मों का विस्तार किया जाएगा, जिससे करीब एक लाख तक की भीड़ यहां रुक सकेगी। इसके अलावा पूरे स्टेशन को एलईडी लाइट्स से जगमगाने, दो दर्जन पेयजल बूथ, श्रद्धालुओं के बैठने के लिए 150 से अधिक स्टील की बेंचें, प्रतीक्षालय, विश्रामालय बनाए जाने की योजना है।
कार्य शुरू होने के 14 माह बाद आज तक एक फुट ओवरब्रिज व कर्मचारियों का आवास बनकर तैयार हुआ है। इनमें से फुट ओवरब्रिज तो जनता के लिए खोला जा चुका है लेकिन कर्मचारियों के आवास के लिए बने तीन मंजिला भवन अभी फिनशिंग का इंतजार कर रहे हैं। एक लाख यात्रियों के बैठने वाले यात्रि विश्रामालय काम अभी तक शुरू ही नहीं हुआ है, जबकि मुख्य भवन को राममंदिर मॉडल जैसा लुक देने समेत अन्य काम अभी हवा में ही हैं।
सिर्फ एक फुट ओवरब्रिज का निर्माण पूरा
जम्मू में कटरा रेलवे स्टेशन का निर्माण करने वाली संस्था राइट्स अयोध्या जंक्शन के नए भवन का निर्माण कार्य करा रही है। कार्य के प्रथम चरण में कर्मचारियों के आवास के लिए बन रहे तीन मंजिला भवन लगभग तैयार है, लेकिन अभी फिनशिंग का कार्य नहीं हुआ है जिसके चलते यह भवन हैंड ओवर नहीं हो पाया है। इसके अलावा मुख्य भवन की नींव कुछ हद तक डाली गई साथ ही कुछ खंभों का निर्माण किया गया है।
दो लाख वर्ग मीटर जमीन का होना है अधिग्रहण
अयोध्या रेलवे स्टेशन के प्रोजेक्ट व डिजाइन में अब परिवर्तन भी होने की संभावना है। नए प्रोजेक्ट के तहत रेलवे स्टेशन के दक्षिणी दिशा में मणि पर्वत की ओर 140 मीटर तक करीब दो लाख वर्ग मीटर जमीन एक्वॉयर की जानी है। इस रेल प्रशासन द्वारा 9 नई रेल लाइन व प्लेटफार्म का निर्माण किया जाना है। इसके अलावा यहां पर नया रिजर्वेशन काउंटर, टिकट घर, पार्किंग समेत अन्य सुविधाएं भी दी जाएंगी।
... और पढ़ें

ट्रिपलिंग कर रहे बाइक सवारों को ट्रॉली ने मारी टक्कर, एक की मौत

मसौधा। पूरा कलंदर थानाक्षेत्र में अयोध्या-प्रयागराज हाईवे पर जमूरतगंज बाजार में रविवार रात करीब 9 बजे बाइक पर ट्रिपलिंग कर रहे युवकों को पीछे से आ रही गन्ना लदी ट्रैक्टर-ट्रॉली ने रौंद दिया। हादसे में एक युवक की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि दो को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। मृतक की अभी शिनाख्त नहीं हो पाई है। जबकि दो अन्य की पहचान हो गई है।
प्रयागराज हाईवे पर जमूरतगंज बाजार के सामने एक ही बाइक पर सवार तीन युवक सुल्तानपुर से अयोध्या शहर की ओर जा रहे थे। जमूरतगंज बाजार के सामने गन्ना लदी ट्रॉली ने बाइक में टक्कर मार दी। जिसमें एक की घटनास्थल पर ही मौत हो गई।
जबकि दो को एंबुलेंस से जिला अस्पताल ले जाया गया। घायलों की पहचान मुकेश कुमार (28) निवासी तिवारी का पुरवा रामनगर चौराहा कोतवाली बीकापुर व अंकित कुमार (24) निवासी राम नगर चौराहा कोतवाली बीकापुर के रूप में हुई है।
मृतक भी बीकापुर के रामनगर का रहने वाला बताया जा रहा है। दोनों युवकों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पूरा कलंदर थाना प्रभारी मार्कंडेय सिंह ने बताया कि एक युवक की मौके पर मौत हो गई, उसकी शिनाख्त नहीं हुई है। जबकि दो को गंभीर हालत में जिला अस्पताल पहुंचाया गया।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us