विज्ञापन
विज्ञापन

राहे आला हजरत गेट पर नहीं बनी बात

ब्यूरो, अमर उजाला बरेली Updated Thu, 23 Jun 2016 02:06 AM IST
ख़बर सुनें

विज्ञापन
राहे आला हजरत गेट बनाए जाने पर शहर में दो वर्गों में विवाद के बाद प्रशासन ने बैठक बुला कर हल ढूंढने का प्रयास किया लेकिन लंबी वार्ता के बाद भी दोनों पक्षों के बीच सहमति नहीं बन पायी। कलेक्ट्रेट में बैठक के दौरान सपा के पार्षदों ने भी गेट के विरोध पर एतराज किया। उधर पुलिस-प्रशासन के अधिकारियों का कड़ा रुख देखते हुए शिवसेना के नेताओं समेत दूसरे पक्ष के लोग बैठक का बहिष्कार करके चले गए। एहतियातन मौके पर पुलिस फोर्स तैनात कर दी गई है।  रामपुर रोड बाकरगंज क्रासिंग के सामने जवाहर पैलेस से बराबर से टक्कर वाली पुलिया से दरगाह आला हजरत की तरफ जाने वाले रास्ते पर नगर निगम ने तीन जनवरी को पार्षद रूबी सलीम के प्रस्ताव पर राहे आला हजरत(दरगाह आला हजरत जाने वाला रास्ता) के नाम से गेट बनाने को मंजूरी दी थी। मंगलवार को गेट का काम शुरू हुआ तो गली में रहने वाले दूसरे पक्ष के लोगों ने गड्ढे पाट दिए। इसे लेकर आला हजरत दरगाह से जुड़े लोग मौके पर पहुंच गए। तनाव को देखते हुए पुलिस ने काम रुकवाकर आला अधिकारियों को बता दिया। 
 बुधवार को कलेक्ट्रेट सभागार में दोनों पक्षों के लोगों को बुलाकर गेट बनाए जाने के लिए आम सहमति बनाने की कोशिश की गई। एडीएम सिटी आलोक कुमार सिंह और एसपी सिटी की मौजूदगी में दोनों पक्षों के बीच बातचीत शुरू हुई। विरोध करने वालों में मनोज सक्सेना का कहना था कि राहे आला हजरत गेट बनाना गलत है। गेट बनना ही है तो किसी शहीद के नाम से बना दिया जाए। इस पर अफसरों ने कहा कि नगर निगम ने गेट को मंजूरी दी है। शहर में और भी तमाम महापुरुषों के नाम के गेट बनाए जा रहे हैं। इसलिए आला हजरत के नाम के गेट बनाए जाने का विरोध उचित नहीं है। वह भी देश के बड़े महापुरुष हैं। नगर निगम बोर्ड में प्रस्ताव स्वीकृत होते समय विरोध होना चाहिए था। गेट का निर्माण रुकवाना है तो आप कोर्ट चले जाइए। मनोज ने कहा कि गेट बना तो कानून व्यवस्था बिगड़ सकती है। इस पर अफसरों ने दो टूक कह दिया कि इससे निपटा जाएगा। इस पर मनोज सक्सेना के साथ उनके पक्ष के लोग बैठक का बहिष्कार करके चले गए। बैठक में दरगाह आला हजरत से जुड़े सलमान मियां, नासिर कु रैशी, खलील कादरी, अकलीम बेग, ताज खां आदि मौजूद थे। 
शहर में 150 गेट प्रस्तावित हैं
बैठक में आला हजरत गेट बनाए जाने के पक्ष में सपा के पार्षद दल के नेता राजेश अग्रवाल के अलावा पार्षद रूबी सलीम, शमीम अहमद, अच्छे मियां मौजूद थे। उनका कहना था कि शहर में करीब 150 गेट महापुरुषों के नाम से प्रस्तावित हैं। राहे आला हजरत गेट का विरोध होगा तो शहर में बाकी गेट किस तरह से बन पाएंगे।   
विज्ञापन

Recommended

आखिर भारतीयों को क्यो पसंद है रमी खेलना?
Junglee Rummy

आखिर भारतीयों को क्यो पसंद है रमी खेलना?

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा और घर बैठें पाएं प्रसाद : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा और घर बैठें पाएं प्रसाद : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Bareilly

कमलेश तिवारी हत्याकांड: बरेली से पकड़ा गया आरोपी मौलाना, जांच के लिए लखनऊ ले गई एटीएस

हिंदूवादी नेता कमलेश तिवारी हत्याकांड में मुजरिमों की धर-पकड़ के लिए दिनरात एक कर लगी पुलिस ने मंगलवार दोपहर उत्तर प्रदेश के बरेली जिले से एक शख्स को गिरफ्तार किया है।

22 अक्टूबर 2019

विज्ञापन

कमलेश तिवारी हत्याकांड में ATS को मिली कामयाबी, दोनों मुख्य आरोपी गिरफ्तार

कमलेश तिवारी हत्याकांड में फरार दोनों आरोपियों को गुजरात एटीएस ने गिरफ्तार कर लिया है. दोनों आरोपियों के नाम अश्फाक और मुईनुद्दीन है.

22 अक्टूबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree