विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020
Astrology Services

हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

Coronavirus in UP Live Updates: प्रदेश में सोमवार को 28 नए कोरोना संक्रमितों की हुई पुष्टि, बढ़ सकती है लॉकडाउन की अवधि

यूपी में सोमवार को 28 कोरोना पॉजिटिव मरीजों के साथ संक्रमितों की संख्या बढ़कर 311 हो गई है।

7 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

बरेली

मंगलवार, 7 अप्रैल 2020

मुर्गे वाली गली में जमात लगाए बैठे थे लोग सिपाही ने टोका तो घेरकर की हाथापाई

गली के बाहर मौजूद अन्य पुलिस कर्मियों ने सिपाही को बचाया

बरेली। कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए लागू लॉकडाउन का लोग जमकर उल्लंघन कर रहे हैं। सोमवार को चेकिंग के दौरान मुर्गे वाली गली में इकट्ठा भीड़ को एक सिपाही ने टोका तो लोगों ने उसे घेर लिया और हाथापाई करने लगे। वहां पास ही मौजूद अन्य पुलिस कर्मियों ने सिपाही को वहां से निकाला। सूचना पर बारादरी इंस्पेक्टर टीम के साथ मौके पर पहुंचे तो लोग भाग निकले। पुलिस अब वीडियो से उपद्रवियों की पहचान कर रही है।
शहर में लॉकडाउन और धारा 114 लागू होने के चलते पुलिस प्रशासन लगातार लोगों को घरों में रहने को कह रही है। इसके बावजूद कुछ लोग नियमों को ताक पर रखते हुए मनमानी कर रहे हैं। पुलिस की सख्ती का भी इन पर कोई असर नहीं पड़ रहा। इतना ही नहीं सख्ती के दौरान कुछ मोहल्लों में पुलिस कर्मियों से अभद्रता भी की जा रही है। सोमवार को बारादरी क्षेत्र की मुर्गे वाली गली में कुछ सिपाही लॉकडाउन के दौरान चेकिंग करने पहुंचे तो वहां उन्हें बड़ी संख्या में लोग इकट्ठा नजर आए। इनमें एक सिपाही अतुल गाड़ी से उतरकर गली में लोगों को समझाने पहुंचा तो वह लोग उग्र हो गए। यहां लाठी-डंडे लेकर मौजूद 50-60 लोगों की भीड़ ने उसे घेर लिया। महिलाएं भी मौजूद थीं। गालीगलौज करते हुए लोग सिपाही के साथ हाथापाई करने लगे। शोर सुनकर बाहर मौजूद अन्य सिपाही भी दौड़कर अंदर पहुंचे और अतुल को वहां से निकाला जा सका। यहां महिलाएं भी पुलिस कर्मियों से अभद्रता करती नजर आईं। एक पुलिस कर्मी ने इसका वीडियो भी बना लिया। इसकी सूचना मिलने पर इंस्पेक्टर बारादरी नरेश कुमार त्यागी भी टीम के साथ मौके पर पहुंचे। लेकिन तब तक सभी लोग गली का गेट बंद करके वहां से भाग निकले थे। पहली भी इसी गली में बड़ा सांप्रदायिक विवाद हो चुका है।
... और पढ़ें

लॉकडाउन: अस्पताल के चक्कर काटते रहे परिजन, थम गईं गर्भवती की सांसें

परिजनों का आरोप- निजी अस्पताल ने नहीं किया भर्ती, महिला अस्पताल के स्टाफ ने भगाया

बरेली। लॉक डाउन में इलाज न मिल पाने के कारण सोमवार को एक गर्भवती की मौत हो गई। परिजनों का आरोप है कि वह तीन दिन से गर्भवती के इलाज के लिए अस्पतालों के चक्कर लगा रहे थे, मगर कहीं भी उसका इलाज नहीं हुआ। किसी भी निजी अस्पताल ने महिला को भर्ती नहीं किया और महिला अस्पताल के स्टाफ ने भी उन्हें भगा दिया।
रोंधी टोला निवासी अब्दुल हसन के मुताबिक पत्नी सायरा नौ माह की गर्भवती थी। प्रसव काल नजदीक आने पर उसे भर्ती कराने के लिए पहले घर के पास के अस्पताल ले गए मगर कोई मदद नहीं मिली। किसी तरह वाहन की व्यवस्था कर शनिवार को वह जिला महिला अस्पताल पहुंचे। यहां पता चला कि अस्पताल की ओपीडी बंद है। पास ही मौजूद गार्ड से उन्होंने पत्नी के इलाज के बारे में पूछा। आरोप है कि गार्ड ने लॉक डाउन की वजह से इलाज न मिल पाने की बात कही। ऐसे में वह मायूस होकर वापस लौट आए। रविवार की देर रात पत्नी के प्रसव पीड़ा शुरू हुई तो उसे लेकर मीरा की पैठ स्थित एक अस्पताल गए। अस्पताल के गेट पर ताला था। वह लगातार डॉक्टर और स्टाफ को आवाज देते रहे मगर कोई मदद नहीं मिली। दर्द से कराह रही पत्नी को लेकर दूसरे अस्पताल जाने लगे तभी रास्ते में सांसें थम गईं।
महिला अस्पताल की सीएमएस डॉ. अलका शर्मा ने आरोपों को तथ्यहीन और निराधार बताया। कहा कि महिला के परिजनों ने किसी बाहरी व्यक्ति से अस्पताल में सेवाओं के बारे में सूचना ली होगी इसलिए गलत जानकारी होने से वह अस्पताल से चले गए। जबकि महिला अस्पताल में इमरजेंसी सेवाएं चल रही है और हर दिन करीब 7 से 10 ऑपरेशन हो रहे हैं।
... और पढ़ें

बरेली में ट्रेस किए गए 245 लोग, जमात के दिनों में निजामुद्दीन मरकज मोबाइल टावर की रेंज में थे मौजूद 

बरेली जोन में अब तक निजामुद्दीन से लौटे 245 तब्लीगी जमात शामिल लोग मिले हैं।  प्रशासन इस मामले में लगातार बरेली जोन को अपडेट दे रहा है, जिसके चलते यह कामयाबी हाथ लगी है। अब तक मुरादाबाद में 50, बिजनौर में 150, रामपुर में 15 , अमरोहा में 4, संभल में 18 व बरेली रेंज के शाहजहांपुर में 8 जमाती ट्रेस किए गए हैं। इन लोगों के मोबाइल जमात के दिनों में निजामुद्दीन मरकज के मोबाइल टावर की रेंज में आए थे। 

एडीजी बरेली जोन अविनाश चंद्र ने बताया कि इन सभी का सत्यापन कराया जा रहा है। कई लोग अपने घरों के अलावा दूसरे शहरों में भी हो सकते हैं। जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग से संपर्क कर सभी को क्वारंटीन में रखना प्राथमिकता होगी। गंभीर स्थिति होने पर चेकअप और उपचार आदि स्वास्थ्य विभाग कराएगा।
... और पढ़ें

लॉकडाउन तोड़ने पर युवक को पीटा तो उपद्रवियों ने चौकी घेरी, एएसपी जख्मी

पुलिस ने हंगामा करने वालों को दौड़ाकर पीटा, महिलाओं समेत 47 लोग पकड़े
डीजीपी-मुख्यमंत्री दफ्तर ने लिया लिया संज्ञान, हो सकती है एनएसए की कार्रवाई

बरेली। इज्जतनगर क्षेत्र में लॉकडॉउन तोड़ने पर युवक की पिटाई के बाद आक्रोशित भीड़ ने बैरियर वन चौकी घेर ली। भीड़ चौकी में घुसकर युवक को पीटने वाले सिपाहियों को तलाशने लगी। समझाने पर भी नहीं माने तो पुलिस ने भीड़ पर लाठियां भांजनी शुरू कर दीं। चौकी घेरने वालों को पुलिस ने दौड़ा दौड़ाकर पीटा। इस दौरान फिसलने के कारण एएसपी अभिषेक वर्मा जख्मी हो गए। पुलिस ने करमपुर चौधरी गांव की प्रधान और उसके पति समेत करीब 47 लोगों को पकड़ा है। मुख्यमंत्री दफ्तर ने भी इस घटना का संज्ञान लिया है। आरोपियों के खिलाफ एनएसए के तहत कार्रवाई हो सकती है।
त्रिशूल हवाई अड्डे से सटे करमपुर चौधरी गांव में सोमवार दोपहर साढ़े 12 बजे लॉकडाउन तोड़ने पर पुलिस ने कश्मीर खां नामक युवक की पिटाई कर दी। युवक ने बेहोशी का नाटक किया तो उसके समर्थन में कई ग्रामीण आ गए। इस पर सिपाही मौके से चले आए। कुछ देर बाद करीब चार सौ लोगों की भीड़ बैरियर वन चौकी पर आ गई। कुछ लोग चौकी प्रभारी दिनेश कुमार से उलझ गए तो कुछ चौकी के कमरों में घुसकर सिपाहियों को तलाश करने लगे। भीड़ सिपाहियों को उनके हवाले करने की मांग कर रही थी। लगातार दबाव बढ़ता देख पुलिस की सूचना पर एएसपी अभिषेक वर्मा आसपास के कई थानों की पुलिस के साथ पहुंच गए।
उन्होंने भीड़ को समझाने की कोशिश की, मगर लोग नहीं मान रहे थे। इस पर एएसपी ने पुलिस के साथ लाठियां भांजनी शुरू कीं तो मौके पर भगदड़ मच गई। पुलिस ने चौकी घेरने वालों को दौड़ा दौड़ाकर पीटा। दौड़ते वक्त धक्कामुक्की में एएसपी खुद भी सड़क पर गिर पड़ा और उनके बांये हाथ-पैर में काफी चोटें आ गईं। इससे पहले प्रधान के पति तसव्वर खां के साथ इंस्पेक्टर केके वर्मा कश्मीर खां को जिला अस्पताल लाए तो डॉक्टरों ने उसे ठीक पाया। थोड़ी देर बाद पुलिस प्रधान के पति को भी पकड़ ले गई। देर शाम तक करीब 47 लोगों को पुलिस ने पकड़ लिया था। इनमें प्रधान सुगरा बेगम और उनके परिवार के लोग भी शामिल थे। डीआईजी ने भी मौका मुआयना कर पुलिस और ग्रामीणों ने से बात की। डीआईजी ने कहा कि लॉकडाउन तोड़ने का मामला था। भीड़ ने चौकी घेर ली तो लाठीचार्ज करना पड़ा। आरोपियों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें
पुलिस को घेरे खड़े बवाली। पुलिस को घेरे खड़े बवाली।

अभयारण्यों, पार्कों में लोगों के जाने पर रोक, जानवरों को कोरोना से बचाने की कवायद

अमेरिका में एक बाघिन में कोरोना वायरस का संक्त्रस्मण मिलने के बाद सरकार ने जारी की गाइडलाइन
पशु चिकित्सक, फील्ड मैनेजर और फ्रंटलाइन स्टाफ के साथ किया जाएगा टास्क फोर्स का गठन

बरेली। पर्यावरण मंत्रालय ने नेशनल पार्क, अभयारण्यों और टाइगर रिजर्व को लेकर आज नए सिरे से एक एडवाइजरी जारी की है। इसके तहत सभी राज्यों से कहा गया है कि वे जंगली जानवरों को लेकर फौरी तौर पर जरूरी कदम उठाएं। आईवीआरआई निदेशक डाक्टर आरके सिंह ने बताया कि पत्र मिल गया है। वह जांचों के लिए तैयार हैं। वन विभाग सैंपल देंगे तो टीम जांच करेगी।
जारी पत्र में संयुक्त सचिव डॉक्टर आर गोपीनाथ ने कहा है कि जिस तरह से अमेरिका में एक बाघिन में कोरोना वायरस के लक्षण पाए गए हैं उसके बाद एहतियातन जरूरी कदम उठाए जाने चाहिए जिससे जानवरों को वायरस के संक्त्रस्मण से सुरक्षित किया जा सके। डॉक्टरों को भी इसकी आशंका सताने लगी है कि यह संक्त्रस्मण इंसान से जानवर में फैलने का खतरा है। लिहाजा इसी को ध्यान में रखते हुए सरकार ने तुरंत इसे रोकने के लिए एहतियाती कदम उठाए जाने की बात कही है।
इसके तहत इस तरह के पार्क, अभयारण्यों और टाइगर रिजर्व में तुरंत लोगों की आवाजाही पर रोक लगाने के निर्देश दिए गए हैं। इसके अलावा पशु चिकित्सकों के साथ फील्ड मैनेजर और फ्रंटलाइन स्टाफ की एक टास्क फोर्स का गठन भी किया जाएगा। वहीं 24 घंटे निगरानी के साथ एक रिपोर्टिंग मेकैनिज्म भी तैयार किया जाएगा। साथ ही वन्य प्राणियों की आपात चिकित्सा के लिए जरूरी सुविधाओं की व्यवस्था भी की जाएगी। कहा गया है कि वह दिशानिर्देशों का पालन करते हुए सभी तरह के कदम उठाने के बाद मंत्रालय को इसका पूरा ब्योरा दें। आईवीआरआई निदेशक डॉक्टर आरके सिंह में बताया कि इस संबंध में सभी को निर्देशित कर दिया गया है। सभी निर्देशों का पालन किया जाएगा।
... और पढ़ें

85 साल के बुजुर्ग को नहीं पा रहा राशन

किला छावनी की 85 साल की रमाकांति का मशीन में अंगूठा न लग पाने से कोटेदार ने वापस लौटाया

बरेली। लॉकडाउन में बड़ी संख्या में गरीब बुजुर्ग कोटे की दुकान से राशन पाने के लिए दौड़ ही लगाते रहे गए, लेकिन उन्हें मदद नहीं मिली। वजह ये है कि अंगूठे की लकीरें मिट जाने के कारण बायोमीट्रिक मशीन में अगूंठा पंच नहीं हो पा रहा है। कोटेदार से लेकर अधिकारियों तक दौड़ लगाने के बावजूद उनकी कोई सुनवाई नहीं हो रही है।
किला छावनी होली चौराह मस्जिद वाली गली में रहने वाली करीब 85 वर्षीय रमाकांति के पति को गुजरे काफी समय हो गया। कार्ड पर अकेला उनका ही नाम चढ़ा है। कोटे की दुकान पर पहले पांच किलो राशन मिलता था, लेकिन कई महीने से कोटेदार राशन ही नहीं दे रहा। बायोमीट्रिक मशीन पर उनका अंगूठा ही नहीं लग पा रहा है।

कार्ड पर ऐसी राइटिंग की कुछ समझ में न आए

कार्डधारकों को कितनी मात्रा और किस रेट पर गेहूं-चावल का वितरण हुआ है, इसके छिपाने के लिए तमाम कोटेदार कार्डों पर ऐसी राइटिंग लिखते हैं कि कुछ समय में ही न आए। बड़ी संख्या में उपभोक्ता कोटेदारों पर कम राशन देने के साथ ज्यादा दाम वसूलने की शिकायत कर चुके हैं।
... और पढ़ें

जनधन में आए 500 रुपये निकालने को भीड़ भूल गई कोरोना का खतरा

कई बैंकों के बाहर, तो कुछ बैंकों में अंदर परिसर में इकट्ठा हो रही भीड़

बरेली। जनधन खातों में पहुंचे 500 रुपये की खातिर लोग कोरोना से संक्रमण के खतरे को भी नजरअंदाज कर बैंकों में बड़ी संख्या में पहुंच रहे हैं। कुछ जगहों पर तो चार से पांच लोग ही बैंक के भीतर जा पा रहे हैं, लेकिन कुछ बैंकों के परिसर में ग्राहकों की भीड़ सामाजिक दूरी को नजरअंदाज कर जुट रही है। ऐसे में बैंक स्टाफ पर भी संक्रमण का खतरा बना हुआ है।
सरकार ने कुछ दिन पहले करीब छह लाख जनधन योजना के महिला खाताधारकों के खातों के साथ सवा लाख गरीबों की पेंशन स्कीमों, 2.60 लाख मनरेगा जॉब कार्डधारक और पंजीकृत मजदूरों के खाते में भी आर्थिक सहायता जारी की है, जिसे निकालने के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में बैंकों के बाहर जबरदस्त भीड़ लग रही है। यूनियन बैंक की ठिरिया निजावत खां शाखा में सुबह से ही बड़ी संख्या में लोग जुटना शुरू हो गए थे। बाद में बड़ी संख्या में लोग सामाजिक दूरी का उल्लंघन करते हुए बैंक परिसर के अंदर भी घुस गए। जब स्टाफ ने निकालने की कोशिश की तो वे अभद्रता पर आमादा हो गए। इसी तरह पीएनबी की मढ़ीनाथ शाखा में बड़ी संख्या में रेती व मलूकपुर के लोग भीड़ लगाए थे।
एसबीआई किला ब्रांच में भी पैसा निकालने के लिए काफी भीड़ लगी थी। लोगों ने बताया कि सुबह छह बजे आ गए थे और 11 बजने वाले हैं, पैसा नहीं निकल सका है। बाकरगंज में बैंक ऑफ बड़ौदा और किला छावनी बैंक में भी काफी भीड़ लगी होने से संक्रमण फैलने का खतरा बना रहा। कर्मचारीनगर में बैंक ऑफ बड़ौदा में सुबह से लाइन लगाए खड़े लोग अंदर घुसने का प्रयास करने लगे। हालांकि पुलिस के आने के बाद कुछ स्थिति नियंत्रित हो सकी। इसकी तरह सिविल लाइंस में यूको बैंक, मालियों की पुलिया के सामने बैंक के बाहर ग्राहकों की काफी भीड़ लगी रही।

आधा स्टाफ आने और काम बढ़ने से खराब हो रही स्थिति

कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए बैंकों में 50 प्रतिशत ही स्टाफ बुलाया जा रहा है, जबकि कई लाख खातों में भेजी कई आर्थिक सहायता निकालने के लिए लोग बड़ी संख्या में पहुंच रहे हैं। इसलिए स्थिति और ज्यादा बेपटरी हो रही है।
... और पढ़ें

डॉ. पीसी ऐरन फाउंडेशन से भोजन वितरण जारी

बैंक के भीतर लगी ग्राहकों की भीड़।

महानगर के विभिन्न इलाकों में जरूरतमंदों को बांटा गया भोजन

बरेली। लॉक डाउन के बीच दिहाड़ी मजदूरों, रिक्शा चालकों, फड़ व ठेला वाले जिनको रोज कमाना रोज खाना होता है वह सबसे ज्यादा प्रभावित हुए हैं। इनके परिवारों को बहुत मुश्किल का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे जरूरतमंदों के लिए कांग्रेसी भी प्रशासन से कंधा से कंधा मिला कर उन जरूरतमंदों तक पहुंच कर उनकी हर संभव मदद कर रहे हैं।
इसी कड़ी में पूर्व सांसद प्रवीण सिंह ऐरन व पूर्व महापौर सुुप्रिया ऐरन के सहयोग से डा. पीसी ऐरन फाउंडेशन एवं जवाहर लाला नेहरू राष्ट्रीय नेहरू युवा केंद्र के माध्यम से महानगर विभिन्न पिछड़े क्षेत्रों में जरूरतमंदों को खाने के पैकेट पहुंचाने का कार्य किया गया। भाभी जी की रसोई की ओर से यह अभियान 28 मार्च से शुरू हुआ है जो 14 अप्रैल तक जारी रहेगा। जरूरत पड़ने पर इस अभियान को आगे भी बढ़ाया जा सकता है।
इस अभियान से तहत के सोमवार को नेकपुर और यहीं के लतिता देवी मंदिर, मुनि मंदिर, गल्ला मंडी, गणेश नगर, चौरासी घंटा मंदिर, सुभाष नगर शांति विहार, बदायूं रोड से जुड़े मोहल्ले, सदर कैंट, बीआई बाजार, धोपेश्वर नाथ मंदिर, मढ़ीनाथ, अशोक नगर, बंशी नगला, सिटी शमशान भूमि मंदिर, बाकरगंज, यहीं की बाल्मीकि बस्ती आदि में भोजन वितरण किया गया। इसी तरह कालीबाड़ी, रबड़ी टोला, मीरा की पैंठ, पीली मिट्टी, कटरा चांद खां, हरिजन बस्ती, नवादा शेखान, मौर्य बस्ती, हरुनगला, एजाज नगर गौटिया, आकाशपुरम आदि में खाने के पैकेट बांटे गए। इसमें जिलाध्यक्ष अशफाक सकलैनी, मखदूम हुसैन अंसारी, सीबी शर्मा, प्रिंस, अनुज गंगवार, हरवीर सिंह बॉबी, दीपक बाल्मीकि, फरहत, कुलदीप गुप्ता, राकेश सक्सेना आदि शामिल रहे।
... और पढ़ें

राशन लेने जाना है, गंदगी के बीच से होकर जाएं

वार्ड 43 के शान अली की कोठी के पास नाला जाम होने से मोहल्ले की नालियां ओवरफ्लो

बरेली। कोेरोना संक्रमण के चलते जहां नगर निगम अधिकांश क्षेत्रों में साफ-सफाई और सैनिटाइजेशन का काम करा रहा है, वहीं शहर के कुछ ऐसे इलाके भी हैं जहां निगम की टीम पहुंच ही नहीं पा रही। यहां पसरी गंदगी और ओवरफ्लो नालियों के बीच से होकर लोगों को मजबूरी में निकलना पड़ रहा है। स्थानीय लोगों ने कई बार निगम के कंट्रोल रूम में शिकायत भी की, लेकिन अब तक समस्या का समाधान नहीं हुआ।
ऐसा ही एक क्षेत्र वार्ड 43 में शान अली की कोठी के पास का है। यहां से आगे निकलने वाला एक नाला जाम हो चुका है। सीवर लाइन भी चोक हैं। इसके आसपास के मोहल्लों में गंदा पानी सड़कों पर बह रहा है, जिसके चलते लोगों का आना जाना दूभर है। क्षेत्रीय लोगों के अनुसार कई सप्ताह से यहां पानी भरा है। बताया कि इसी गंदे पानी से होकर पास की राशन की दुकान में जाना होता है। पहले तो राशन की दुकान तक पहुंचना ही मुश्किल था पर बाद में बांस और अन्य चीजों से एक ऊंचा प्लेटफार्म बनाया गया, जिससे होकर लोग दुकान तक पहुंचने लगे। कई बार महिलाएं इस प्लेटफार्म से गुजरने के दौरान गिर तक जाती हैं। क्षेत्र के लईक अहमद, आरिफ, मो. यामीन, रायीन ने बताया कि नाले की सफाई के लिए निगम के अधिकारियों से कई बार शिकायत की गई है। पर अब तक समाधान नहीं हुआ।
इस संबंध में क्षेत्र के पार्षद यामीन रजा ने बताया कि पिछले दिनों इस बारे में निगम के अधिकारियों से बात कर ली गई है। वहीं, निगम के स्वास्थ्य अधिकारी संजीव प्रधान ने कहा कि मौके पर कर्मचारी भेजकर जल्द ही समस्या का समाधान किया जाएगा।
... और पढ़ें

झुंड बनाकर बैठे लोगों को दौड़ाया तो पिटाई के बहाने चौकी पर चढ़ आए

सिपाहियों को सौंपने पर अड़े थे, पुलिस एक्शन में आई तो सड़कों पर गिरते पड़ते भागे
पुलिस ने कराई वीडियोग्राफी, फोटो वीडियो देखकर खोले जाएंगे बाकी हमलावरों के नाम

बरेली। लॉकडाउन उल्लंघन के मामलों में पुलिस पर हमलावर होने से भी लोग नहीं चूक रहे। इज्जत नगर की घटना इसी का नतीजा रही। साथी युवक को पीटने पर झुंड बनाकर बैठे लड़के सिपाहियों पर सीधे हो गए तो वह बचकर निकल आए। इन्हीं को सबक सिखाने चौकी आई भीड़ काफी आक्रामक थी। पुलिस के एक्शन से मामला उल्टा हो गया। इनमें से अधिकांश हिरासत में ले लिए गए तो देर शाम इन पर रिपोर्ट भी हो गई।
पुलिस के मुताबिक चीता पुलिस के सिपाही राजीव, अंकित, संजय और मनोज दोपहर के वक्त दो बाइक से करमपुर गांव पहुंचे। वहां मदरसे के चबूतरे पर कुछ लड़के समूह बनाकर चकल्लस में लगे थे। पुलिस को देखकर भागने लगे तो इनमें से 22 वर्षीय कश्मीर खां को पकड़कर पुलिस ने डंडे लगा दिए। इसके बाद वह गिर पड़ा और बेहोशी का नाटक करने लगा। तब उसके साथियों ने टीम को घेर लिया। इससे सिपाहियों के हाथ पैर फूल गए और वह बाइक लेकर भाग आए। पुलिस की पिटाई से युवक के बेहोश होने की सूचना पर इंस्पेक्टर जब तक आए, प्रधान के पति तसव्वर खां मौके पर आ चुके थे। इंस्पेक्टर के साथ वह कश्मीर खां को जिला अस्पताल लाए। इस बीच भीड़ ने बैरियर वन चौकी पर कूच कर दिया और बात बिगड़ती चली गई। कुछेक लोगों के हाथ में डंडे थे तो कुछ ने पत्थर उठा रखे थे। जो पुलिस कुछ देर पहले तक लोगों को घर लौटने के लिए उनकी मनुहार कर रही थी, वही एएसपी के आने पर कहर बनकर टूटी और लोगों को जमकर पीटा।

गांव में पुलिस ने की तोड़फोड़, एसपी सिटी गरजे- सामने आए माई का लाल

बरेली। चौकी पर बवाल करने वालों की गिरफ्तारी के लिए एसपी सिटी रविंद्र कुमार, एएसपी अभिषेक वर्मा के साथ कई अधिकारी और आसपास के थानों की पुलिस ने करमपुर में धावा बोल दिया। फोर्स को देखकर आरोपी फरार हो गए। गांव के अधिकांश पुरुष भी अंडरग्राउंड हो गए। एसपी सिटी ने माइक से ऐलान किया कि पुलिस पर हमला करने वाले जो भी माई के लाल हैं, सामने आ जाएं। इसके बाद प्रधान समेत कुछ चिह्नित घरों में पुलिस ने आरोपियों की तलाश की। प्रधान, उनकी दो देवरानी व देवर को हिरासत में ले लिया। कुछ ग्रामीणों का आरोप था कि उनका झगड़े से मतलब न होने के बाद भी पुलिस ने घर के दरवाजों से लेकर फर्नीचर, टीवी जैसा सारा सामान तोड़ दिया।
... और पढ़ें

बरेलीः लॉकडाउन तोड़ने वालों पर पुलिस ने फटकारी लाठियां

दो युवकों को पकड़कर थाने ले गए, परिजनों ने हाथ पांव जोड़े पर नहीं हुई सुनवाई

बरेली। अभी तक मुख्य मार्गों, चौराहों और बाजारों में गश्त चल रही थी, लेकिन अब गली महोल्लों में भी लॉक डाउन का पालन कराया जा रहा है। सोमवार को कटरा चांद खां में लॉक डाउन तोड़ने पर दो युवकों को पुलिस ने उठा लिया।
दोपहर करीब एक बजे कटरा चांद खां में पुलिस की टीम ने अचानक निरीक्षण किया। इस दौरान सभी दुकानें खुली हुई मिली और हर दुकान पर लोगों की भीड़ मौजूद रही। पुलिसकर्मियों ने लाठियां फटकार कर उन्हें खदेड़ा और दो लोगों को पकड़कर थाना ले गए। पकड़ने के बाद उनके परिजनों ने पुलिस के हाथ पांव जोड़े लेकिन फरियाद की कोई सुनवाई नहीं हुई। पुलिस की गाड़ी के पीछे काफी दूर तक परिजन दौड़ते रहे। इसके बाद वहां पर सन्नाटा पसर गया। थोड़ी देर बाद फिर लोग अपने घरों से निकले और पुलिस की कार्रवाई पर चर्चा शुरू कर दी। ब्यूरो
... और पढ़ें

बरेलीः फॉगिंग मशीन खराब होने पर भड़के लोग

निगम कर्मचारियों के साथ गाली-गलौज की, पार्षद से भी भिड़े
कर्मचारियों ने नगर स्वास्थ्य अधिकारी को पत्र लिखकर मुकदमा दर्ज कराने की मांग की

बरेली। इंद्रा नगर में निगम कर्मचारियों द्वारा की जा रही फॉगिंग एकाएक रुक गई है, जिसे लेकर स्थानीय लोगों ने हंगामा शुरू कर दिया। निगम के कर्मचारियों के साथ गाली गलौज की। स्थानीय पार्षद पर उनके क्षेत्र में फॉगिंग रुकवाने का आरोप लगाया। हालांकि निगम कर्मचारियों ने मशीन के खराब होने की बात कही। हंगामे की सूचना पर मौके पर पुलिस भी पहुंच गई, जिसके बाद किसी तरह निगम कर्मचारी वहां से निकल सके।
इंद्रा नगर क्षेत्र में गुरुद्वारे के पास स्थानीय पार्षद सतीश कातिब निगम के कर्मचारियों के साथ विभिन्न मोहल्लों में फॉगिंग करा रहे थे। इसी दौरान फॉगिंग मशीन बंद हो गई। आरोप है कि तभी क्षेत्र के कुछ लोग मौके पर आ पहुंचे और निगम के सफाई नायक राजेंद्र कुमार समदर्शी समेत अन्य कर्मचारियों के साथ गाली गलौज शुरू कर दी। आरोप लगाया कि कॉलोनी के लोगों ने मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री के पोर्टल पर क्षेत्र में काम न होने की शिकायत की थी। इसलिए इनके क्षेत्र में फॉगिंग नहीं कराई जा रही है।
उधर, सफाई नायक राजेंद्र कुमार समदर्शी ने इसे लेकर नगर स्वास्थ्य अधिकारी को एक शिकायती पत्र दिया, जिसमें घटना में मौजूद कई लोगों पर उनके साथ मारपीट पर उतारू होेने, सरकारी काम में बाधा पहुंचाने और लॉकडाउन के बीच लोगोें को इकट्ठा करने जैसे आरोप लगाए। साथ ही एफआईआर दर्ज कराने की मांग की है।
उधर, क्षेत्रीय पार्षद सतीश कातिब के अनुसार, निगम के कर्मचारियों के साथ गाली गलौज करना गलत है। वह साथ थे तो लोगों ने उन पर भी आरोप लगाए। बदसलूकी की। अपने ऊपर लगे आरोपों को उन्होंने सिरे से खारिज किया।

निगम क्षेत्र में जो भी छिड़काव हो रहा है, वह हमारे सफाई इंस्पेक्टर करा रहे हैं। उसकी पूरी जिम्मेदारी भी निगम की है। ऐसे में यदि किसी क्षेत्र मेें छिड़काव न हो पाए या मशीन खराब हो जाए तो इसकी जानकारी कंट्रोल रूम को दें। समस्या का हर संभव समाधान किया जाएगा।
- अभिषेक आनंद, नगर आयुक्त

... और पढ़ें

जमातियों के खिलाफ पोस्ट डाली तो भाजपा नेता को धमकाया

फेसबुक पर ही तमाम कमेंट किए, नेता ने एसएसपी से की शिकायत तो जांच शुरू

बरेली। भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के बरेली महानगर अध्यक्ष अनीस अंसारी ने फेसबुक पर तब्लीगी जमात के विरोध में पोस्ट क्या डाली, उनके खिलाफ कट्टरपंथियों ने मोर्चा खोल दिया। लोगों ने सोशल मीडिया पर अनीस के खिलाफ तीखे कमेंट किए। अनीस ने गुस्से में कमेंट तो डिलीट कर दिए पर धमकाने के मामले में एसएसपी से शिकायत की। अब साइबर सेल मामले की जांच कर रही है।
गोल्डन ग्रीन पार्क निवासी भाजपा नेता अनीस अंसारी राष्ट्रवादी छवि के नेता हैं। संघ व शाखा की संस्कृति से शुरूआत करने वाले अनीस अब भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के महानगर अध्यक्ष हैं। हाल ही में तब्लीगी जमात के लोगों की वजह से फैल रही कोरोना महामारी को लेकर मुस्लिम समाज का बुद्धिजीवी वर्ग भी आहत हुआ है। इन्हीं में शुमार अनीस ने एक अप्रैल को अपनी फेसबुक आईडी से एक पोस्ट डाल दी। इसमें उन्होंने ‘निजामुद्दीन: शर्मनाक कृत्य, जमात वालों के विरुद्ध देशद्रोह का मुकदमा दर्ज’ लिख दिया। एक लाइन के विरोध से ही तब्लीगी जमातियों और कट्टरपंथी संगठनों के लोग अनीस पर भड़क उठे। फेसबुक पर ही इन लोगों ने उन्हें जमकर बुराभला कहा और देख लेने की चेतावनी दी। शनिवार को वह एसएसपी से मिले और उन्हें अपने साथ हुई घटना के बारे में बताया। एसएसपी ने मामला साइबर सेल को जांच के लिए भेज दिया है।

‘अनीस अंसारी ने घटनाक्रम के बारे में बताया था। साइबर सेल से उनके आरोपों की जांच कराई जा रही है। पुष्टि हुई तो आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।’- शैलेश पांडेय, एसएसपी
‘मैं एक देशभक्त व्यक्ति हूं। देश को जोखिम में डालने वाला मेरे समुदाय या परिवार का भी हो तो उसके खिलाफ आवाज उठाऊंगा। ऐसी धमकी से मैं डरने वाला नहीं।’- अनीस अंसारी

... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us