इटली से मंगवाए सेब पौधे सूखे निकले, 15 करोड़ का नुकसान

राकेश शर्मा, अमर उजाला, सोलन Updated Sat, 18 Aug 2018 12:28 PM IST
Apple plants imported from Italy are dry 15 crore loss
विज्ञापन
ख़बर सुनें
बागवानी मिशन प्रोजेक्ट के तहत करोड़ों रुपये खर्च कर हिमाचल ने इटली से जो सेब के पौधे आयात किए वे सूखे निकले हैं। बताया जा रहा है तीन साल पुराने और मृत पौधों की सप्लाई हिमाचल बागवानी विभाग को हुई। 2016 से लगातार सूखी टहनियों को 400 रुपये प्रति पौधे के हिसाब से खरीदा जाता रहा। रोपने के बाद इन पौधों में लगातार पानी और खाद देने के बावजूद इन पौधों में जान नहीं आई।
विज्ञापन


इस प्रोजेक्ट में अब तक करीब 30 करोड़ रुपये के पौधे आयात किए गए हैं और इन पौधों को नालागढ़ स्थित कोल्ड स्टोर में रखा गया है। इन पौधों में से 15 करोड़ के पौधे ऐसे हैं जो तीन साल से पुराने थे और इनकी टहनियों या जड़ों में कोई हलचल नहीं थी। आयात किए पौधों की विशेषज्ञों ने जांच नहीं की और वर्ष 2016 से लगातार ऐसे पौधे खरीदे जाते रहे।


योजना के तहत करीब साढ़े सात लाख पौधे आयात किए। सिंचाई एवं बागवानी मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर ने पौधों की जांच के लिए शुक्रवार को नौणी विश्वविद्यालय का औचक निरीक्षण किया। मंत्री ने उन सभी अधिकारियों की जानकारी तलब की है जो इन पौधों की खरीद-फरोख्त से जुड़े हैं। पौधे खरीदने के लिए बनी परचेजिंग कमेटी और प्रोजेक्ट डायरेक्टर को इसमें जवाबदेह बनाया गया है।

पौधे बर्बाद होने के बाद नौणी विवि में आती रही सप्लाई 
इटली से आयात साढ़े सात लाख पौधों में से एक लाख 40 हजार पौधे नौणी विवि में तैयार करने थे। एक लाख पौधे रोपे जा चुके हैं और उनमें से सिर्फ 50 हजार ही जड़ पकड़ पाए हैं। नौणी विवि में विशेषज्ञों की रिपोर्ट देने के बावजूद जून से सप्लाई आ रही थी। ऐसे में सवाल यह उठ रहा है कि इन पौधों की खरीद पर रोक क्यों नहीं लगी। नौणी विवि पौधों की देखभाल पर करीब दस लाख रुपये खर्च कर चुका है।  

पाई-पाई का हिसाब लेंगे
बागवानी मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर ने दो टूक शब्दों में कहा है कि लोगों के टैक्स का पैसा विदेश घूमने के लिए नहीं है। प्रोजेक्ट पर खर्च एक-एक पाई का हिसाब लेंगे। जिन लोगों ने प्रोजेक्ट के माध्यम से पैसे बनाए हैं, उनके चिट्ठे खोले जाएंगे। 20 अगस्त को शिमला में एक बैठक होगी, जिसमें मामले से जुड़े विभागीय अधिकारियों व अन्य से जवाब मांगा जाएगा।

पौधे बागवानों को न बेचें नौणी विवि 
मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर ने नौणी विवि को पौधे बागवानों को न बेचने की सलाह दी है। कहा कि जो पौधे फल देने की हालत में नहीं हैं, उन्हें हटा दें और जो संदेहजनक हैं, उन पर लाल निशान लगाएं, ताकि बिक्री से पहले इनकी परख हो सके।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00