विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
सुखी वैवाहिक जीवन के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में कराएं राधा-कृष्ण युगल पूजा, 24 अगस्त को
Astrology Services

सुखी वैवाहिक जीवन के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में कराएं राधा-कृष्ण युगल पूजा, 24 अगस्त को

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

जम्मू और श्रीनगर नगर निगम के मेयर को मिला राज्य मंत्री स्तर का दर्जा

जम्मू और श्रीनगर नगर निगम के मेयर को राज्य मंत्री स्तर का दर्जा दिया गया है। सामान्य प्रशासन विभाग के अतिरिक्त सचिव सुभाष छिब्बर की ओर से बुधवार को इस आशय का आदेश जारी किया गया। 

21 अगस्त 2019

विज्ञापन
विज्ञापन

श्रीनगर

बुधवार, 21 अगस्त 2019

जम्मू-कश्मीरः पाकिस्तान ने फिर किया संघर्षविराम का उल्लंघन, एक जवान शहीद, चार घायल

पाकिस्तान की सेना ने मंगलवार सुबह करीब 11 बजे पुंछ जिले के कृष्णा घाटी सेक्टर में संघर्ष विराम का फिर उल्लंघन किया। पाक सेना ने भारी गोलाबारी की, नियंत्रण रेखा के पास अग्रिम चौकियों और गांवों पर मोर्टार दागे। पाकिस्तानी सेना द्वारा की गई भारी गोलीबारी में भारतीय सेना के जवान रवि रंजन कुमार सिंह(36) ने शहादत प्राप्त की। वह बिहार के रहने वाले थे। साथ ही चार अन्य जवान घायल हो गए हैं, जिनका उपचार चल रहा है।

भारतीय सेना जवाबी कार्रवाई करते हुए पाक की नापाक हरकतों का मुंहतोड़ जवाब दे रही है। आपको बता दें कि अनुच्छेद 370 हटाने के बाद से पाकिस्तान बौखलाया हुआ है। इसी कारण आए दिन सीमा पार से संघर्ष विराम का उल्लंघन कर रहा है।

इससे पहले पाकिस्तानी सेना ने रविवार को पुंछ जिले के मेंढर सब डिवीजन में संघर्षविराम का उल्लंघन किया था। इतना ही नहीं पाक सेना ने सीमा पर बसे गांवों पर गोले दागे। इस कारण से सीमा से सटे गांवों में लोग दहशत में आ गए थे। इसी दौरान मनकोट तहसील के एक गांव निवासी 10 साल की बच्ची गंभीर रूप से घायल हो गई थी जिसे उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। भारतीय सेना इसका मुंहतोड़ जवाब देते हुए जवाबी कार्रवाई कर रही है।

यह भी पढ़ेंः जम्मू-कश्मीर में अफवाह फैलाने वाला निकला ‘डॉन’, लोगों से बोला- जंग हो जाएगी, फिर ऐसे हो गए थे हालात

जम्मू कश्मीर में राजौरी जिले के नौशेरा सेक्टर में पाकिस्तान ने शनिवार सुबह सीजफायर का उल्लंघन किया था। इस दौरान पाकिस्तानी सेना की तरफ से भारी गोलाबारी और मोर्टार शेलिंग की गई। भारतीय सेना ने भी जवाब दिया। वहीं, भारतीय सेना का एक जवान शहीद भी हो गया था।

यह भी पढ़ेंः अटल किस्साः जब भारत माता की जय कहने पर अब्दुल्ला को दिखाए गए जूते, दिल को छू लेने वाला फारूक का जवाब

आपको बता दें कि पाकिस्तान आतंकियों को घुसपैठ कराने के लिए सीमा पर लगातार फायरिंग कर रहा है साथ ही आतंकियों को कवर फायर भी दे रहा है।
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीर में पाबंदियां खत्म होने दीजिए असलियत का पता चलेगा: अकबर लोन

नेशनल कांफ्रेंस के सांसद अकबर अहमद लोन ने जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा प्रदान करने वाले अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को निरस्त करने के केंद्र के कदम को असांविधानिक तथा विश्वासघाती करार देते हुए कहा कि आने वाले दिनों में केंद्र को अहसास होगा कि उन्होंने यह कदम क्यों उठाया।

उन्होंने कहा कि घाटी के हालात बिल्कुल भी सामान्य नहीं हैं। अब जम्मू और लद्दाख से भी आवाजें उठने लगी हैं। पाबंदियां हटने के बाद ही असलियत का पता चलेगा। उन्होंनेकहा कि जिस प्रकार अनुच्छेद 370 को हटाया गया वह बिल्कुल गलत है। इसका हम जितना विरोध करें वह कम है। इस वक्त आवाम घरों में कैद है, बाजार बंद है, पाबंदियां हैं। केंद्र सरकार द्वारा क्षेत्रीय दलों पर लोगों को भड़काने के सवाल पर लोन ने कहा कि यह आरोप बिल्कुल गलत है। हम तो केवल अपनी तरह से राजनीति कर रहे हैं। हम देश के खिलाफ कुछ नहीं बोलते। लेकिन 370 को हटाकर हमारे जख्मों को कुरेदा गया है इसका अहसास उन्हें (केंद्र को) बाद में होगा।

यह पूछे जाने पर कि केंद्र का कहना है कि हालात काबू में हैं उन्होंने कहा पाबंदियां खत्म होने दीजिए आपको हकीकत का पता चल जाएगा। राजनेताओं को नजरबंद किए जाने को गलत बताते हुए उन्होंने कहा कि तीन पूर्व मुख्यमंत्री नजर बंद हैं। ऐसा पहली बार हो रहा है। इसकी चारों तरफ निंदा हो रही है।

उन्होंने कहा कि कश्मीर के लोग केंद्र के इस कदम से चिंतित हैं क्योंकि उन्होंने न केवल अपना विशेष दर्जा खो दिया बल्कि अपनी पहचान भी खो दी।  यह पूछे जाने पर कि क्या नेशनल कांफ्रेंस के तीनों लोकसभा सांसद केंद्र के इस कदम का विरोध में इस्तीफा देंगे। उन्होंने कहा, इसका फैसला पार्टी नेतृत्व को लेना है जो फिलहाल नजरबंद हैं।

एक अन्य सांसद रिटायर्ड जस्टिस हसनैन मसूदी ने कहा कि घाटी के हालात बिल्कुल सामान्य नहीं हैं। किसी तरह की कारोबारी गतिविधियां नहीं हो रही हैं। 370 हटाने के बाद अब जम्मू में डोमिसाइल रूल और लद्दाख से भी ट्राइबल कानूनों के दायरे में लाने की मांग उठने लगी है। पाबंदियां हटने के बाद केंद्र को अहसास होगा कि उन्होंने यह क्या किया। ... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीर में अफवाह फैलाने वाला निकला ‘डॉन’, लोगों से बोला- जंग हो जाएगी, फिर ऐसे हो गए थे हालात

पेट्रोल पंप और कई दिनों तक बंद रहने की अफवाह फैलाने वाले को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। पुलिस ने यह भी पता लगा लिया कि रविवार को कहां से अफवाह फैली थी। पुलिस ने खुलासा करते हुए बताया कि खौड़ के जसवीर सिंह उर्फ बादशाह उर्फ डॉन नाम के व्यक्ति ने यह अफवाह फैलाई थी। बादशाह के खिलाफ पूर्व में कई आपराधिक केस दर्ज हैं। एसएसपी तेजिंदर सिंह ने बताया कि रविवार शाम को कुछ लोग खौड़ इलाके में खड़े थे। तभी वहां बादशाह दौड़ता आया और लोगों से कहा कि जंग होने वाली है। कल पेट्रोल पंप भी बंद हो जाएंगे। सब कुछ बंद होने वाला है।

यह भी पढ़ेंः अटल किस्साः जब भारत माता की जय कहने पर अब्दुल्ला को दिखाए गए जूते, दिल को छू लेने वाला फारूक का जवाब
... और पढ़ें

भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष खन्ना ने कहा-जम्मू-कश्मीर के ऐतिहासिक सुद्धमहादेव, मानतलाई का हो विकास

भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं प्रदेश प्रभारी अविनाश राय खन्ना ने राज्यपाल सत्यपाल मलिक और केंद्रीय पर्यटन मंत्री प्रहलाद पटेल को पत्र लिखकर चिनैनी विधानसभा क्षेत्र के ऐतिहासिक धार्मिक स्थलों सुद्धमहादेव, मानतलाई का विकास करने पर जोर दिया है। 

खन्ना ने राज्यपाल व पर्यटन मंत्री को लिखे अलग अलग पत्रों में अपने हालही में सुद्धमहादेव, मानतलाई स्थलों के दौरे का वर्णन करते हुए कहा है कि उन्हें श्रीमद् जगतगुरु शंकराचार्य अनंत, श्री स्वामी अमृतानंद देव ट्रस्ट और चिनैनी की स्थानीय कमेटी के प्रतिनिधिमंडल ने ऐतिहासिक सुद्धमहादेव, मानतलाई की वर्तमान दशा के बारे में बताया। 

खन्ना ने कहा कि ऐतिहासिक धार्मिक स्थलों के दौरे के दौरान उन्होंने पाया कि श्रद्धालुओं के लिए बुनियादी सुविधाओं को अभाव है। इस क्षेत्र में पर्यटन की अपार संभावना मौजूद हैं। इस क्षेत्र को विकसित करने से स्थानीय लोगों को रोजगार के अवसर पर मुहैया हो पाएंगे। 

खन्ना ने राज्यपाल और केंद्रीय मंत्री से आग्रह किया है कि वह क्षेत्र में बेहतर सड़क संपर्क के अलावा पेयजल, शौचालय और धर्मशाला और सराय की व्यवस्था श्रद्धालुओं के लिए करवाएं। वहीं प्राचीन मंदिर का पर्र्याप्त संरक्षण भी किया जाए।  ... और पढ़ें
भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं प्रदेश प्रभारी अविनाश राय खन्ना भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं प्रदेश प्रभारी अविनाश राय खन्ना

जम्मू और श्रीनगर नगर निगम के मेयर को मिला राज्य मंत्री स्तर का दर्जा

जम्मू और श्रीनगर नगर निगम के मेयर को राज्य मंत्री स्तर का दर्जा दिया गया है। सामान्य प्रशासन विभाग के अतिरिक्त सचिव सुभाष छिब्बर की ओर से बुधवार को इस आशय का आदेश जारी किया गया। 

आदेश में कहा गया है कि जम्मू और श्रीनगर नगर निगम के मेयर को उनके अधिकार क्षेत्र के अंतर्गत राज्यमंत्री स्तर का दर्जा दिया गया है। प्रोटोकॉल विभाग सक्षम प्राधिकारी की मंजूरी के बाद इस दिशा में जरूरी कदम उठाएगा। 

ज्ञात हो कि गत वर्ष अक्तूबर महीने में 13 साल बाद नगर निगम के चार चरणों में चुनाव हुए थे। इसके बाद भाजपा के चंद्रमोहन गुप्ता जम्मू और पीपुल्स कांफ्रेंस के जुनैद अजीम मट्टू श्रीनगर नगर निगम के मेयर चुने गए थे। 
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीरः माहौल खराब करने वाले नेताओं को हिरासत में रखना सरकार का सही निर्णयः कांग्रेस

जम्मू में कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को नजरबंद कर केंद्र सरकार ने आवाज दबाने का प्रयास किया है। आजाद देश में हर किसी को अपनी बात रखने का अधिकार है। ऐसे में किसी को नजरबंद कैसे किया जा सकता है। जम्मू में हालात ठीक होने के बावजूद मोबाइल इंटरनेट सेवा बंद रखना भी निंदनीय है। यह बातें कांग्रेस नेता सुमित मगोत्रा ने मंगलवार को कही।

उन्होंने कहा कि जब से सरकार ने अनुच्छेद 370 हटाया है, तब से किसी को अपनी बात रखने का मौका नहीं दिया जा रहा है। जो भी अपनी बात रखने का प्रयास कर रहा है तो उसको हाउस अरेस्ट किया जा रहा है। उधमपुर की कांग्रेस पार्टी इसकी कड़े शब्दों में निंदा करती है। इसके साथ मोबाइल इंटरनेट सेवा को बंद किए जाने की भी निंदा करती है।

कश्मीर में सेना पर पत्थर बरसाने व माहौल खराब करने वाले नेताओं को हिरासत में रखना सरकार का सही निर्णय है, लेकिन अब जम्मू में ऐसा माहौल बना दिया गया है कि जो भी भाजपा के खिलाफ बोलता है, उसको देशद्रोही समझा जाता है।

उन्होंने कहा कि उनकी केंद्र सरकार से अपील है कि अनुच्छेद 370 हटाने के बाद अब जम्मू कश्मीर में संपत्ति खरीदने का अधिकारी उसी को दिया जाए, जोकि करीब 15 वर्ष से राज्य में रह रहा हो। इसके अलावा सरकारी नौकरियों में स्थानीय युवाओं को ही प्राथमिकता दी जाए। अनुच्छेद 370 हटने के बाद डोगरा समुदाय की पहचान व सम्मान नहीं मिटना चाहिए।
... और पढ़ें

ज्वाला मां के जयकारों से गूंजी वादियां, अंगारों पर निकले पुजारी, माता के भक्त जरूर पढ़ें यह इतिहास

बनी के दूरदराज ढ़ग्गर इलाके में मंगलवार तड़के पूरा इलाका मां ज्वाला के जयघोष से गूंज उठा। पारंपरिक ढोल और बांसुरी की धुन पर श्रद्धालु रातभर झूमते हुए मां का आह्वान करते रहे। दूरदराज के पहाड़ों पर मशाल ऐसे जल रही थीं मानो किसी ने एक बड़ी ज्योति प्रज्ज्वलित की हो। मां ज्वाला के तीनों मंदिरों की परिक्रमा और फिर एक साथ मशाल को जलाकर उठे अंगार के बीच से गुजरे मंदिर के 95 वर्षीय पुजारी भगत राम ने लोगों को अचंभित कर दिया। इसी के साथ बनी के ढ़ग्गर में ज्वाला मां की वार्षिक यात्रा संपन्न हो गई। क्षेत्र की सुख स्मृद्धि और मां ज्वाला की कृपा क्षेत्र के लोगों पर बनी रहे इसी की कामना लिए सैकड़ों भक्त यात्रा में शामिल हुए।
... और पढ़ें

फारूक अब्दुल्ला की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, आजादी की मांग करने का आरोप, हाईकोर्ट ने दिए यह आदेश

जम्मू हाईकोर्ट के न्यायधीश धीरज सिंह ठाकुर की अदालत ने पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला के आजादी के समर्थन में दिए भाषणों पर एफआईआर दर्ज करने की याचिका पर न्यूज पेपर की कटिंग और बयानों की डिस्क तैयार कर कोर्ट में जमा करवाने के आदेश दिए हैं।

सामाजिक कार्यकर्ता सुकेश सी खजूरिया ने डॉ. फारूक के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के लिए हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी। डॉ. अब्दुल्ला के खिलाफ आरपीसी के सेक्शन 124-ए के तहत मामला दर्ज करने की मांग की थी।

आरोप है कि शेख अब्दुल्ला की जयंती पर पूर्व सीएम फारूक अब्दुल्ला ने 24 फरवरी 2017 को कथित रूप से आजादी पर भाषण दिया था। इस संबंध में एसएसपी श्रीनगर और एसएचओ ने भी प्रारंभिक जांच की प्रगति रिपोर्ट कोर्ट में जमा नहीं करवाई। अब कोर्ट ने अगली तारीख पर न्यूज पेपर कटिंग और बयानों की डिस्क तैयार कर कोर्ट में पेश करने को कहा है।
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीर तवी रिवर फ्रंट के लिए अतिरिक्त बजट की डिमांड, जेडीए ने भेजा 400 करोड़ का प्रस्ताव

पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. फारूक अब्दुल्ला
अहमदाबाद की साबरमती नदी की तर्ज पर बनने वाले तवी रिवर फ्रंट के काम के लिए जम्मू डेवलपमेंट अथारिटी ने अतिरिक्त बजट की डिमांड एशियन डेवलपमेंट बैंक से की है। इसके लिए जेडीए ने 400 करोड़ रुपये का प्रस्ताव बैंक को भेजा है। मौजूदा समय में जेडीए के पास 150 करोड़ की राशि जमा है। इस राशि में काम करवाने के लिए कोई भी कंपनी आगे नहीं आ रही है।
 
मार्च 2018 में तवी रिवर फ्रंट के निर्माण के लिए कार्रवाई शुरू हुई थी। इसके बाद टेंडर प्रक्रिया भी चली। 150 करोड़ में काम करवाने के लिए कंपनियां राजी नहीं हुईं। इस कारण काम शुरू नहीं हो पाया है। अब बैंक से अतिरिक्त बजट की डिमांड की गई है।

पहले चरण में नगरोटा तक होना है काम

तवी रिवर फ्रंट कुल दस किलोमीटर बनना है। पहले चरण में चौथे पुल से लेकर डीसी कार्यालय (साढ़े तीन किमी) तक काम शुरू होगा। वहीं दूसरे चरण में डीसी कार्यालय से नगरोटा तक काम होगा। तवी रिवर फ्रंट बनने से पर्यटकों की संख्या में भी इजाफा होगा। साढ़े तीन किलोमीटर तवी रिवर फ्रंट में पहले प्रोटेक्शन दीवार लगाई जानी है। इसमें दस फुट पैदल रास्ता तैयार किया जाएगा। इसके साथ ही सुंदर पार्क बनेंगे। यहां पर फूल और पौधे लगाए जाएंगे। इस बीच एक रिटेनिंग दीवार भी लगाई जाएगी। नदी किनारे शापिंग मॉल, होटल और रेस्टोरेंट का निर्माण भी होगा। पार्क में काफी शॉप, लाइब्रेरी, बुक शॉप, फूड कार्नर भी बनाएं जाएंगे।

एनओसी लेने पर भी चल रहा काम

पर्यावरण विभाग और खनन विभाग से एनओसी लेने के लिए प्रक्रिया जारी है। पहले एनओसी के लिए अप्लाई किया गया था। इसमें कुछ खामियों को पूरा करने को कहा गया था। जेडीए ने कमियों को ठीक कर दोबारा एनओसी के लिए अप्लाई किया है।

तवी रिवर फ्रंट के निर्माण के लिए एशियन डेवलपमेंट बैंक से बजट की डिमांड की गई है। इसके लिए चार सौ करोड़ का प्रस्ताव भेजा गया है। बजट स्वीकृत होने के बाद काम शुरू किया जाएगा। कम बजट में कंपनियां काम करने को तैयार नहीं हैं। राविंद्र सिंह, एसई, जेडीए

... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीरः अब अफवाह फैलाने वालों की खैर नहीं, बस लोगों को करना होगा यह काम

पुलिस ने अफवाहों पर नियंत्रण के लिए जनता से सहयोग मांगा है। इसके लिए 100 नंबर के अलावा पांच अन्य हेल्प लाइन नंबर जारी किए गए हैं। पुलिस का कहना है कि वह माहौल खराब करने वाली किसी भी अफवाह के बारे में इन नंबरों पर फोन करें अथवा नजदीकी पुलिस स्टेशन को जानकारी दें, पुलिस सख्त कार्रवाई करेगी।

आम जनता टेलीफोन नंबर 0191-2542001, 2542000, 2560401, 2544581 के अलावा हेल्प लाइन नंबर 2560244 और 100 पर जानकारी दे सकती है। इतना ही नहीं लोग नजदीकी थाने या फिर पुलिस पोस्ट से भी संपर्क कर सूचना दे सकते हैं। शिकायत मिलते ही शरारती तत्व के खिलाफ कड़ी करार्रवाई की जाएगी।

पुलिस ने सोमवार को अफवाह फैलाने पर अखनूर पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज कर एक शरारती तत्व को हिरासत में लिया है। दो मामले राजोरी में भी दर्ज हुए हैं। दोनों ने फेसबुक पर अफवाह भरे मैसेज पोस्ट किए। रविवार को ऐसी ही एक अफवाह के कारण पेट्रोल पंपों पर अचानक भीड़ उमड़ आई थी। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक तेजिंद्र सिंह के अनुसार, लगभग दो सप्ताह के बाद शनिवार को लो स्पीड इंटरनेट सर्विस शुरू की गई थी, परंतु रविवार को अफवाहों के कारण इसे फिर बंद करना पड़ा।
... और पढ़ें

तस्वीरेंः यह वो हाथ हैं जो मिट्टी को छू लें तो भगवान बना दें, इनकी कारीगरी के कायल हुए लोग

दो सितंबर को गणेश चतुर्थी है। इसके लिए जम्मू शहर के बाजारों में गणपति बप्पा की मूर्तियां सजने लगी हैं। मिट्टी को मूर्ति का आकार देता यह बच्चा सुर्खियों में है। लोग इसकी कारीगरी और कौशल के कायल हैं। गणेश चतुर्थी की तैयारियों को लेकर बाजार भी सज गए हैं।

जम्मू-कश्मीर की अन्य महत्वपूर्ण खबरें पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लाइक बटन को क्लिक करें--
Related image
  ... और पढ़ें

आरक्षण पर संघ प्रमुख के बयान से जम्मू-कश्मीर में सियासी घमासान, नेशनल कांफ्रेंस के निशाने पर भागवत

नेशनल कांफ्रेंस (नेकां) के वरिष्ठ नेता अजय सडोत्रा ने कहा कि आरएसएस प्रमुख आरक्षण विरोधी सोच बना रहे हैं। अगर ऐसा होता है तो यह देश में एससी/एसटी/ओबीसी समुदाय के लिए नुकसानदायक होगा। इससे पिछड़े वर्ग के लोगों के हितों का हनन होगा। आरएसएस प्रमुख आरक्षण के खिलाफ बातें कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि बाबा साहेब डॉ. बीआर आंबेडकर ने एससी, एसटी, ओबीसी समुदाय को संविधान में आरक्षण का अधिकार दिया था। प्रधानमंत्री सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास का नारा दे रहे हैं, जबकि दूसरी ओर पिछड़े वर्ग के लोगों के खिलाफ आरक्षण विरोधी मुहिम चलाई जा रही है।

आपको बता दें कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत ने एक बार फिर आरक्षण पर चर्चा करने की वकालत की है। उन्होंने रविवार को कहा कि जो आरक्षण के पक्ष में हैं और जो इसके खिलाफ हैं, उन्हें सौहार्दपूर्ण वातावरण में इस पर विमर्श करना चाहिए।

संघ प्रमुख ने कहा कि उन्होंने आरक्षण पर पहले भी बात की थी, लेकिन तब इस पर काफी बवाल मचा था और पूरा विमर्श असली मुद्दे से भटक गया था। भागवत ने कहा कि जो आरक्षण के पक्ष में हैं, उन्हें इसका विरोध करने वालों के हितों को ध्यान में रखते हुए बोलना चाहिए। वहीं जो इसके खिलाफ हैं उन्हें भी वैसा ही करना चाहिए। 

ज्ञान उत्सव के समापन सत्र में उन्होंने कहा कि आरक्षण पर बहस का परिणाम हर बार तीव्र क्रिया और प्रक्रिया के रूप में देखा गया है। इस मसले पर समाज के विभिन्न वर्गों में सौहार्द बनाने की जरूरत है। गौरतलब है कि इससे पहले संघ प्रमुख ने आरक्षण नीति की समीक्षा करने की वकालत की थी, जिसका विभिन्न दलों और जातियों ने कड़ा विरोध किया था। 

उन्होंने कहा कि आरएसएस, भाजपा और पार्टी के नेतृत्व वाली सरकार तीनों का अलग अस्तित्व है और किसी एक के काम के लिए दूसरे को जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता। मोदी सरकार पर संघ के प्रभाव पर उन्होंने फिर कहा कि क्योंकि भाजपा और सरकार में संघ के कार्यकर्ता हैं, वे आरएसएस की सुनते हैं, लेकिन उनका हमसे सहमत होना जरूरी नहीं है।
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीरः आतंकियों से मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने मार गिराया एक आतंकी, एसपीओ शहीद

जम्मू-कश्मीर के बारामुला में मंगलवार रात सुरक्षाबलों ने आतंकियों की मौजूदगी की सूचना पर इलाके की घेराबंदी की। आतंकियों ने खुद को घिरा हुआ देख सुरक्षाबलों पर फायरिंग शुरू कर दी। जिसके बाद दोनों तरफ से गोलीबारी शुरू हुई। न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक, मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने एक आतंकवादी को मार गिराया, जबकि मुठभेड़ में एक विशेष पुलिस अधिकारी (SPO) शहीद हो गया।

यह भी पढ़ेंः तस्वीरेंः यह वो हाथ हैं जो मिट्टी को छू लें तो भगवान बना दें, इनकी कारीगरी के कायल हुए लोग

आतंकियों के छिपे होने की सूचना पर सेना, सीआरपीएफ और एसओजी की संयुक्त टीम ने इलाके में घेराबंदी की। बीते दिनों जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटने के बाद से पिछले एक पखवाड़े के दौरान सुरक्षा एजेंसियों ने आतंकियों पर बेहद सख्त शिकंजा कसा है। इस दौरान आतंकवादी घटनाएं बिल्कुल बंद थीं, न तो कोई आतंकी हमला हुआ और न ही कोई एनकाउंटर।

यह भी पढ़ेंः अटल किस्साः जब भारत माता की जय कहने पर अब्दुल्ला को दिखाए गए जूते, दिल को छू लेने वाला फारूक का जवाब

दरअसल, सुरक्षाबलों के भारी दवाब के चलते आतंकी तथा उनके मददगार ओवर ग्राउंड वर्कर (ओजीडब्ल्यू) मांद में छिप गए हैं। सुरक्षाबलों ने ऐसी रणनीति बनाई है कि आम लोगों के साथ उसका संपर्क ही न होने पाए। इसके चलते पथराव की घटनाएं भी कम हुई हैं। 

यह भी पढ़ेंः जम्मू-कश्मीर में अफवाह फैलाने वाला निकला ‘डॉन’, लोगों से बोला- जंग हो जाएगी, फिर ऐसे हो गए थे हालात

सुरक्षा एजेंसियों के पास मौजूद इनपुट के अनुसार, घाटी में फिलहाल 300 आतंकी सक्रिय हैं। ओजीडब्ल्यू की संख्या छह हजार से अधिक है। यह ओजीडब्ल्यू ही आतंकियों को मदद पहुंचाने के साथ घाटी में हिंसा तथा पत्थरबाजी को भी बढ़ावा देते हैं।

यह भी पढ़ेंः जम्मू-कश्मीर में पाबंदियां खत्म होने दीजिए असलियत का पता चलेगा: अकबर लोन

इनकी गतिविधियों पर सुरक्षाबलों की पैनी निगाह होने की वजह से यह गड़बड़ी नहीं फैला सके। बताते हैं कि सुरक्षाबलों के दबाव के चलते आतंकियों का मूवमेंट बिल्कुल बंद हो गया है। गांव छोड़कर ये सुरक्षित ठिकाने की ओर चले गए हैं। कई ओजीडब्ल्यू तो घाटी से बाहर भी निकल गए हैं।

यह भी पढ़ेंः तस्वीरेंः चार युवक तवी नदी में डूबे, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी, सेना का शौर्य देख लोगों ने लगाए नारे
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीर के बारामुला में आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़, दो आतंकी घिरे

जम्मू-कश्मीर के बारामुला में मंगलवार रात सुरक्षाबलों को आतंकियों के छिपे होने की सूचना पर इलाके की घेराबंदी की गई। आतंकियों ने खुद को घिरा हुआ देख सुरक्षाबलों पर फायरिंग शुरू कर दी। जिसके बाद से दोनों तरफ से गोलीबारी जारी है। न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक एक से दो आतंकी घिरे हुए हैं। 


आतंकियों के छिपे होने की सूचना पर सेना, सीआरपीएफ और एसओजी की संयुक्त टीम इस ऑपरेशन को लीड कर रही है। आपको बता दें की बीते दिनों जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटने के बाद से पिछले एक पखवाड़े के दौरान सुरक्षा एजेंसियों ने आतंकियों पर बेहद सख्त शिकंजा कसा है। इस दौरान आतंकवादी घटनाएं बिल्कुल बंद थी, न तो कोई आतंकी हमला हुआ और न ही कोई एनकाउंटर।

दरअसल सुरक्षाबलों के भारी दवाब के चलते आतंकी तथा उनके मददगार ओवर ग्राउंड वर्कर (ओजीडब्ल्यू) मांद में छिप गए हैं। सुरक्षाबलों ने ऐसी रणनीति बनाई है कि आम लोगों के साथ उसका संपर्क ही न होने पाए। इसके चलते पथराव की घटनाएं भी कम हुई हैं। 

सुरक्षा एजेंसियों के पास मौजूद इनपुट के अनुसार, घाटी में फिलहाल 300 आतंकी सक्रिय हैं। ओजीडब्ल्यू की संख्या छह हजार से अधिक है। यह ओजीडब्ल्यू ही आतंकियों को मदद पहुंचाने के साथ घाटी में हिंसा तथा पत्थरबाजी को भी बढ़ावा देते हैं। इनकी गतिविधियों पर सुरक्षाबलों की पैनी निगाह होने की वजह से यह गड़बड़ी नहीं फैला सके। बताते हैं कि सुरक्षाबलों के दबाव के चलते आतंकियों का मूवमेंट बिल्कुल बंद हो गया है। गांव छोड़कर ये सुरक्षित ठिकाने की ओर चले गए हैं। कई ओजीडब्ल्यू तो घाटी से बाहर भी निकल गए हैं। 
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree