विज्ञापन
विज्ञापन
घर बैठें निशुल्क जन्मकुंडली बनवाने हेतु अभी क्लिक करें !
Kundali

घर बैठें निशुल्क जन्मकुंडली बनवाने हेतु अभी क्लिक करें !

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

जम्मू-कश्मीरः 300 करोड़ की हेरोइन तस्करी केस में इंटरपोल से जुड़ा शख्स गिरफ्तार, आज हो सकता है खुलासा

अंतरराष्ट्रीय सीमा से सटे अरनिया इलाके से 300 करोड़ की हेरोइन बरामदगी मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। जम्मू-कश्मीर और पंजाब से छह गिरफ्तारियां करने के बाद पुलिस ने अब इंटरपोल से जुड़े एक शख्स को पकड़ा है। 

प्रदेश में अब तक का सबसे बड़ा रैकेट बताए जा रहे इस केस में पुलिस ने आधिकारिक रूप से नाम उजागर नहीं किए हैं, लेकिन सूत्रों ने बताया कि शुक्रवार को पकड़ा गया शख्स इंटरपोल से जुड़ा हुआ है। यह रैकेट पाकिस्तान से आने वाली हेरोइन को देशभर के अलावा दूसरे देशों में भी सप्लाई करता है। 

सूत्रों ने बताया कि जम्मू-कश्मीर पुलिस शुक्रवार को जानकारी सार्वजनिक करने की तैयारी में थी, लेकिन इंटरपोल से जुड़े शख्स की गिरफ्तारी के बाद अब शनिवार को आधिकारिक रूप से खुलासा किया जा सकता है। पहले से गिरफ्तार पांच लोगों में दो आरोपियों का नाम दिल्ली धमाकों में शामिल रहा है। आरोपी तिहाड़ जेल में रह चुके हैं। 

वहीं, अखनूर से गिरफ्तार एक आरोपी किसी विभाग में दैनिक वेतन भोगी की सेवाएं दे रहा था। अरनिया में 20 सितंबर को बीएसएफ ने 300 करोड़ रुपये की हेरोइन और दो पिस्टल बरामद की गई थीं। 

इसके बाद पुलिस ने पंजाब, जम्मू-कश्मीर और अन्य जगहों पर छापे मारकर पांच लोगों को गिरफ्तार कर लिया। रैकेट के कुछ सदस्य पुराने तस्कर हैं, जिनके आतंकी हमलों से तार जुड़े होने का भी शक है।
... और पढ़ें
सांकेतिक तस्वीर सांकेतिक तस्वीर

जीएमसी डोडा में 100 एमबीबीएस सीटों को मंजूरी, एनएमसी ने मेडिकल कोर्स शुरू करने की अनुमति दी

राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग (एनएमसी) की मंजूरी के बाद जीएमसी डोडा में एमबीबीएस कोर्स की 100 सीटों के साथ शुरू करने का रास्ता साफ हो गया है। नया बैच इसी सत्र से दाखिला लेगा। इसके साथ जम्मू कश्मीर में एमबीबीएस सीटों की संख्या बढ़कर 1100 हो गई है। गत अगस्त में जम्मू विश्वविद्यालय ने जीएमसी डोडा को 100 एमबीबीएस सीटों के लिए मान्यता प्रदान की थी। जम्मू - कश्मीर में एमबीबीएस भर्ती नीति के तहत 50 फीसदी सीटें महिला उम्मीदवारों को मिलेंगी।

अनंतनाग और बारामूला जीएमसी के लिए पहले ही दूसरे बैच के लिए 100-100 सीटों की अनुमति दी गई है। इसके अलावा राजोरी और कठुआ मेडिकल कालेजों के लिए क्रमश 115 और 100 सीटों की अनुमति दी गई है। वर्ष 2018-19 में जम्मू कश्मीर में एमबीबीएस सीटों की संख्या 500 थी, जो नए मेडिकल कालेजों के निर्माण के बाद 2019-20 में 985 हो गई और अब यह संख्या 1100 पहुंच गई है।

जीएमसी डोडा की 100 सीटों के लिए एनएमसी नई दिल्ली से स्वास्थ्य व चिकित्सा शिक्षा विभाग जम्मू-कश्मीर को पत्र (लेटर आफ परमीशन) प्राप्त हुआ है। जीएमसी को डोडा में नए बैच को शुरू करने के लिए लेक्चरर थियेटर, लैब, डिसेक्शन हाल, लाइब्रेरी, म्यूजियम, फैकल्टी रूम, प्रशासनिक ब्लाक आदि को उपकरणों के साथ स्थापित किया गया है।

पैरा मेडिकल कोर्सों के लिए भी 60 सीटें
जीएमसी डोडा में जम्मू विश्वविद्यालय की ओर से पैरा मेडिकल कोर्सों के लिए 60 सीटों की भी मान्यता दी गई है। इसमें मेडिकल लैब टेक्नोलाजी, डायलिसिस टेक्नोलाजी और आपरेशन थियेटर टेक्नोलाजी की 20 सीटें शामिल हैं।
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीरः डोडा में पहाड़ी से 400 फुट नीचे गिरी सूमो, तीन की मौत, आठ घायल

मरमत तहसील के हंबल इलाके में शुक्रवार दोपहर तीखे मोड़ पर सवारियों से भरा सूमो वाहन 400 फीट नीचे गिरने से तीन लोगों की मौत हो गई। मृतकों की पहचान चालक मोहम्मद अयूब पुत्र मोहम्मद सदीक, ओम राज पुत्र प्रेमनाथ और इश्तियाक अहमद पुत्र मोहम्मद अकरम सभी निवासी देदनी के रूप में हुई है। कई पलटे खाकर सूमो नीचे दूसरी सड़क पर रुक गई। हादसे में आठ लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। सभी घायलों का उपचार जीएमसी डोडा में चल रहा है।
 
दोपहर बाद करीब ढाई बजे सीआरएफ के तहत तैयार की जा रही खलैनी से देदनी की तरफ जा रही कच्ची सड़क पर सूमो नंबर जेके06-5717 जैसे ही हंबल इलाके में तीखे मोड़ पर पहुंची तो अचानक चालक वाहन से नियंत्रण खो बैठा, जिससे वाहन कई बार पलटने के बाद गोहा मरमत मार्ग पर जा गिरा। वाहन के नीचे गिरने के बाद आसपास मौजूद लोग मौके पर पहुंच गए और बचाव कार्य शुरू कर दिया। कुछ समय बाद पुलिस कर्मी भी मौके पर पहुंच गए। वाहन के अंदर से जब लोगों को बाहर निकाला गया। तब तक तीन लोगों की मौके पर ही मौत हो चुकी थी, जबकि आठ लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। 

बचाव कार्य में सहयोग करने के लिए भाजपा के मंडल प्रधान सुरेश शर्मा भी कार्यकर्ताओं के साथ पहुंच गए थे। मौके पर मौजूद लोगों के अनुसार अगर वाहन दूसरी सड़क पर नहीं रुकता और खाई में गिर जाता तो कई और लोगों की जान जा सकती थी। 

घायलों के नाम 
जमीला बेगम (28) पत्नी इश्तियाक अहमद, गीता देवी (35) पत्नी ओमराज, सुरेश कुमार (32) पुत्र कुलदीप सिंह, नईबा बानो (5) पुत्री इश्तियाक अहमद, प्रतीक्षा ठाकुर (12) पुत्री रामप्रसाद, रामप्रसाद (42) पुत्र गोरी लाल, मंजू देवी (40) पत्नी राम प्रसाद, और इश्तियाक अहमद के छह माह के पुत्र के रूप में हुई है। सभी घायलों का इलाज जीएमसी डोडा में चल रहा है।
... और पढ़ें

महबूबा का विवादित बयान, बोलीं- जम्मू-कश्मीर के झंडे के अलावा नहीं उठाऊंगी कोई और झंडा

जम्मू -कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने करीब 14 महीनों की रिहाई के ठीक 11 दिन बाद श्रीनगर में शुक्रवार को पत्रकारों से कहा कि मैं तब तक कोई भी झंडा हाथ में नहीं उठाएंगी जब तक जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा और उनका संविधान वापस नहीं लौटाया जाएगा। लोगों को नाउम्मीद नहीं होना चाहिए, हम अनुच्छेद 370 और अपना विशेष दर्जा वापस लेकर ही रहेंगे। 

पीडीपी अध्यक्ष ने अपने आवास पर आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि केंद्र शासित प्रदेश में होने वाले चुनावों में पार्टी भाग लेगी अथवा नहीं यह अब नवगठित गठबंधन तय करेगा। उन्होंने कहा कि व्यक्तिगत तौर पर वह स्टेटहुड और जम्मू-कश्मीर के झंडे की वापसी तक चुनाव नहीं लड़ना चाहतीं हैं। मैं अपने ध्वज और अपने संविधान के बिना कोई शपथ लेने के लिए तैयार नहीं हूं । 

उन्होंने कहा कि मैं सत्ता लिए बहुत लालायित नहीं हूं। अगर मुझे सत्ता का कोई लालच होता तो हम कांग्रेस छोड़कर पीडीपी नहीं बनाते। हम केवल सत्ता के लिए नहीं हैं। हम 2014 के चुनावों के बाद कांग्रेस के साथ सरकार बना सकते थे परंतु हमने भाजपा के साथ एक कारण के लिए गठबंधन किया ताकि जम्मू-कश्मीर का विकास हो सके। 

जब उनसे पूछा गया कि क्या उनकी पार्टी और पीपुल्स एलायंस डिस्ट्रिक्ट डेवलपमेंट काउंसिल्स (डीडीसी) चुनाव लड़ेगी? तो उन्होंने कहा कि गठबंधन की बैठक शनिवार को हो रही है वहां जहां इन मुद्दों पर चर्चा की जाएगी। जब आगे पूछा गया कि क्या चुनाव नहीं लड़ना भारतीय जनता पार्टी के लिए खाली मैदान छोड़ना नहीं होगा तो उन्होंने इसे काल्पनिक सवाल करार दिया। कहा, हम सभी पक्षों को ध्यान में रखते हुए फैसला लेंगे। फारूक अब्दुल्ला हमारे नेता हैं, इसलिए बैठक में सबकी राय जानने के बाद ही फैसला होगा। 

 इससे पहले उन्होंने कहा कि जिस दौरान मैं बंद थी तो मुझे लगता था कि इन लोगों (केंद्र सरकार) ने पीडीपी को खत्म कर दिया है लेकिन बाहर आने पर जिस तरह से मैंने अपने पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ बात की उससे यह साफ  लगता है कि पीडीपी का हर कार्यकर्ता मुफ्ती साहब के एजेंडे के साथ खड़ा हुआ है।

जम्मू-कश्मीर के लोग सदमे में हैं, नाउम्मीद हो चुके हैं। यही कारण है कि मैं मीडिया के माध्यम से लोगों को पैगाम देना चाहती हूं कि कितना भी बड़ा और खूंखार चोर-डाकू हो जो चीज़ वो डाका डालकर ले जाता है उसे वो चीज़ उसे लौटानी ही पड़ती है। इसलिए 5 अगस्त 2019 को जिस प्रकार डाकाजनी कर अनुच्छेद 370 को हटाया गया, वो किसी कानून के तहत नहीं लिया गया। कहा कि दिल्ली के लोग जिस संविधान की कसम खाते हैं उसी की उन्होंने धज्जियां उड़ा दीं।  

एक तरफ चीन दूसरी तरफ पाकिस्तान
महबूबा ने यह भी कहा कि कश्मीर मसले का भी हल निकालने की ज़रूरत है। कश्मीर एक मसला है और हमारी पार्टी जो का यही मकसद है कि जम्मू कश्मीर को इस दलदल से निकालकर इसे एक अमन का वातावरण बनाना है। आज एक तरफ  चीन हमारे बार्डर पर बैठा है और दूसरी ओर पाकिस्तान के साथ गतिरोध जारी है। इसका हल मुफ़्ती साहब के एजेंडे के तहत बातचीत से ही निकालने की ज़रूरत है। 

अब हम जैसे नेताओं के खून देने की बारी
आज तक यहां के लोगों का खून बहा और अब हम जैसे लीडरों की खून देने की बारी है। हम हिंसा नहीं चाहते हैं वो लोग हिंसा चाहते हैं। 370 के हाटने के बाद भी यहां ऐसे कानून लागू करने में कोई कसर नहीं छोड़ी गई जिससे जम्मू कश्मीर में लोग हिंसा पर उतार आएं।  चाहे  वो उर्दू भाषा की बात हो, डोमिसाइल कानून की बात हो या फिर कोई और कानून हो।

आज के भारत के साथ हम सहज नहीं  
महबूबा ने कहा कि 5 अगस्त को दिल्ली ने वो रिश्ता तोड़ दिया जिसकी वजह से हमने इनके साथ गठजोड़ किया था। हमने उदारवादी, लोकतांत्रिक और धर्मनिरपेक्ष भारत के साथ हाथ मिलाया था लेकिन आज के भारत के साथ हम सहज नहीं है। आज के भारत में अल्पसंख्यक, दलित,आदि सुरक्षित नहीं हैं। महबूबा ने कहा कि कहा कि यह एक सियासी जंग है जो कि डॉ, फारूक, उमर या सज्जाद लोन अकेले नहीं लड़ सकते एक साथ होकर भी नहीं लड़ सकते हमें लोगों का साथ चाहिए।

मेज पर नजर आया पुराना झंडा
 प्रेस कांफ्रेंस के दौरान पार्टी के वरिष्ठ  नेता अब्दुल रेहमान वीर, ग़ुलाम नबी लोन हंजूरा, सुहेल बुखारी आदि मौजूद थे। प्रेस कांफ्रेंस के दौरान महबूबा ने अपने सामने पीडीपी और जम्मू-कश्मीरा का पुराना झंडा भी रखा था।
... और पढ़ें

लेह परिषद चुनाव में इस बार भी 65 फीसदी वोटिंग, नतीजे सोमवार को

महबूबा मुफ्ती
केंद्र शासित प्रदेश बनने के बाद लद्दाख की लेह स्वायत्त पहाड़ी विकास परिषद की 26 सीटों के चुनाव में 65.07 फीसदी मतदान हुआ। चुनाव मैदान में उतरे 94 उम्मीदवारों के भाग्य के फैसले के लिए कुल 89,789 मतदाताओं में से 58430 ने मतदान किया। चुनाव में भाजपा और कांग्रेस में सीधी टक्कर होने की उम्मीद है। 

26 अक्तूबर को मतगणना के साथ ही नतीजे भी घोषित होंगे। पिछली बार लेह परिषद चुनाव में 65.01 फीसदी मतदान हुआ था। जिला उपायुक्त लेह सचिन वैश्य ने बताया कि लेह परिषद के चुनाव शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हुए हैं। कहीं से कोई गड़बड़ी की सूचना नहीं है। इस बार भी पिछली बार की तरह 65 फीसदी मतदान हुआ है। 

सर्दी के बीच वीरवार सुबह 8 बजे मतदान शुरू होकर शाम चार बजे तक चला। मतदान के लिए सुबह मतदाताओं में कम जोश दिखा, लेकिन दिन चढ़ने के साथ मतदान केंद्रों पर मतदाताओं की भीड़ बढ़ने लगी। दोपहर को सबसे ज्यादा संख्या में मतदाता वोट डालने पहुंचे। 

दुर्गम क्षेत्र होने के कारण कई मतदान केंद्रों पर भारतीय वायुसेना के हेलिकॉप्टर की मदद से मतदान कर्मियों और चुनाव सामग्री को पहुंचाया गया था। कुल 294 मतदान केंद्र स्थापित किए गए थे, जिनके बाहर भाजपा, कांग्रेस, आम आदमी पार्टी और निर्दलीय उम्मीदवारों के समर्थक जुटे रहे। इस चुनाव के लिए भाजपा ने पूरी ताकत झोंककर चार केंद्रीय मंत्रियों को प्रचार के लिए उतारा था। चुनाव पर लेह जिले में सार्वजनिक अवकाश घोषित किया गया था।
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीरः सीमापार से आई 300 करोड़ की हेरोइन मामले में पांच गिरफ्तार

पाकिस्तान से भेजी गई 300 करोड़ रुपये की हेरोइन के मामले में पुलिस ने वीरवार को पांच लोगों को गिरफ्तार किया है। आरोपियों में अरनिया आरएसपुरा, अखनूर और पड़ोसी राज्य पंजाब के दो लोग शामिल हैं। दो संदिग्धों को पूछताछ के लिए जम्मू भेज दिया गया है। एसपी हेडक्वार्टर राजा आदिल का कहना है कि जल्द इसकी आधिकारिक जानकारी दी जाएगी।

सूत्रों के अनुसार, सीमावर्ती इलाकों के रहने वाले आरोपी पंजाब के तस्करों और आतंकी संगठनों के साथ मिलकर काम कर रहे थे। 20 सितंबर को सीमा पार से नशे की जो खेप भेजी गई थी, उसे इन लोगों द्वारा मौके से उठाकर पंजाब और अन्य जगहों पर भेजा जाना था, लेकिन बीएसएफ ने पहले ही नशे की खेप को पकड़ लिया। पूरे मामले की जांच पुलिस को सौंपी गई है।

20 सितंबर को बीएसएफ ने अरनिया की बीएसएफ पोस्ट के पास 62 पैकेट हेरोइन, 2 पिस्टल, 100 राउंड बरामद किए थे। पुलिस ने कुछ मोबाइल नंबरों की काल डिटेल निकाली और उनकी व्हाट्सएप पर हुई बात को चेक किया। जांच में सामने आए नाम से पुलिस आरोपियों तक पहुंच गई। 

अखनूर के एसडीपीओ वरुण जंडियाल ने बताया कि बुधवार की रात जम्मू से आई पुलिस ने स्थानीय पुलिस के सहयोग से परगवाल सेक्टर के पंचायत गडखाल के गांव सिदड़ा में छापा मार कर दो लोगों को गिफ्तार किया। उनकी पहचान बिशन कुमार और सुनील कुमार के रूप में हुई है। बिशन कुमार तिहाड़ जेल में एक केस में सजा काट आया है। सूत्रों के अनुसार शुक्रवार को आईजी जम्मू मुकेश सिंह इस मामले में प्रेस वार्ता कर सकते हैं।

दो के नाम दिल्ली बम धमाकों से जुड़ रहे, एक दैनिक वेतन भोगी
हेरोइन तस्करी मामले में पकड़े गए आरोपियों से बड़े खुलासे हो सकते हैं। सूत्रों के अनुसार पंजाब के रहने वाले दो आरोपियों के नाम वर्ष 2005 में दिल्ली में हुई बम धमाकों से जुड़े बताए जा रहे हैं। हालांकि अभी इस पर जांच की जा रही है। वहीं, परगवाल सेक्टर से पकड़ा गया एक आरोपी दैनिक वेतनभोगी कर्मचारी बताया जा रहा है।
... और पढ़ें

Indian Railway: पूजा स्पेशल समेत 44 ट्रेनें पूरी तरह रद्द, 34 के रूट में बदलाव, क्लिक कर देखें- पूरी लिस्ट

जम्मू-कश्मीरः पुंछ में पुलिस वाहन पर आतंकियों ने फेंका ग्रेनेड, सुरक्षा व्यवस्था की गई सख्त

Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X