गैंगरेप मामले में जानकारी छिपाने के लिए पुलिस ने एक और फौजी का उड़ीसा से किया गिरफ्तार

Rohtak Bureauरोहतक ब्यूरो Updated Wed, 26 Sep 2018 12:37 AM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
अमर उजाला ब्यूरो
विज्ञापन

महेंद्रगढ़/कनीना/रेवाड़ी। गैंगरेप मामले में एसआईटी ने एक अन्य आरोपी नवीन उर्फ निक्कू फौजी को उड़ीसा से गिरफ्तार किया है। वहीं निशु की चार दिन की रिमांड मंगलवार खत्म हो गई। जिससे निशु और नवीन दोनों को कनीना कोर्ट में सब डिविजन ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट पीयूष शर्मा के समक्ष पेश किया। जहां पर न्यायाधीश ने दोनों को 5 अक्टूबर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया। वहीं आरएमपी डॉ. संजीव के अधिवक्ता द्वारा एसडीजेएम कोर्ट में लगाई जमानत याचिका को न्यायाधीश ने खारिज कर दिया है। वहीं गैंगरेप मामले में एसआईटी ने मुख्य आरोपी मनीष के जीजा सहित दो लोगों को गिरफ्तार किया है।
जानकारी अनुसार निक्कू उर्फ नवीन पीड़िता के गांव का रहने वाला है और वह फौज में ट्रेंनिंग कर रहा था। सामूहिक दुष्कर्म वाले दिनों में छुट्टी आया था और वारदात के समय निक्कू भी कुएं के कोठड़े पर गया था लेकिन उसे भगा दिया गया। क्योंकि उसने जानकारी को छुपाया था। एसआईटी ने उसे आर्मी सेंटर गोपालपुर उड़ीसा से गिरफ्तार किया है। मंगलवार को कनीना न्यायालय में पेश किया गया जिसे 5 अक्टूबर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। उल्लेखनीय है कि आरोपी निक्कूूूउर्फ नवीन छह माह पूर्व ही फौज में भर्ती हुआ था, जो ट्रेनिंग के दौरान 28 दिन की छुट्टी पर घर आया था।
वहीं जबकि पुलिस रिमांड पर चल रहे मुख्य आरोपी सेना के जवान पंकज और मनीष को 27 सितंबर को कोर्ट में पेश किया जाएगा। एसआईटी इन आरोपियों से निशानदेही के अलावा मोबाइल आदि बरामद करेगी। इस दोनों पंकज व मनीष को एसआईटी ने रात में महेंद्रगढ़ की अदालत में पेश किया था। रिमांड पूरा होने के बाद निशु को कोठड़े के मालिक दीनदयाल और पीड़िता का उपचार करने वाले आरएमपी डॉक्टर के पास नसीबपुर जेल में भेजा गया है। जिनकी सुनवाई आगामी 5 अक्टूबर को वीसी के जरिए होगी। वहीं, दीनदयाल के अधिवक्ता राकेश लांबा ने कहा कि आरोपियों की ओर से एसआईटी की ओर से की गई जांच संदेह के घेरे में है वे मामले को उच्च न्यायालय तक लेकर जाएंगे।
एसआईटी ने आरोपी मनीष के जीजा सहित दो को किया गिरफ्तार
गैंगरेप मामले में एसआईटी ने मुख्य आरोपी मनीष के जीजा सहित दो लोगों को गिरफ्तार किया है। बुधवार को दोनों को कनीना कोर्ट में पेश किया जाएगा। एसआईटी में शामिल एएसआई रामचंद्र ने बताया कि टीम ने अभिषेक निवासी महेंद्रगढ़ और मंजीत निवासी बवानिया को गिरफ्तार कर लिया है। अभिषेक मनीष का जीजा है जबकि मंजीत अभिषेक का रिश्ते में भाई है। इन दोनों ने वारदात के बाद आरोपी को शरण दी थी। इसी वजह से एसआईटी ने मंगलवार को गिरफ्तार कर लिया है। दोनों आरोपियों को बुधवार को एसडीजेएम पीयूष शर्मा की अदालत में पेश किया जाएगा।

पंकज और मनीष ने पूछताछ में निक्कू को बताया
अमर उजाला ब्यूरो
रेवाड़ी। पुलिस के अनुसार 12 सितंबर को कोचिंग के लिए कनीना जाने वाली कोसली थाना क्षेत्र के एक गांव निवासी छात्रा का अपहरण कर लिया गया था। आरोपियों उसे गांव में ही बने एक कोठड़े में ले जाकर उसके साथ दुष्कर्म किया था। इस मामले में पीड़िता की तरफ से तीन को नामजद कराया गया था और अन्य लोगों पर भी दुष्कर्म का आरोप लगाया था। पुलिस की जांच में पता चला कि घटना के बाद कोठड़े पर अन्य लोगों की भी मौजूदगी थी। इसके बाद जब पुलिस गिरफ्तार मुख्य आरोपी पंकज और मनीष को गिरफ्तार करके उनको रिमांड पर लिया तो उन्होंने बताया कि इस वारदात के दौरान एक और सेना का जवान कोठड़े पर आया था। आरोपी सेना के जवान निक्कू उर्फ नवीन पर आरोप है कि वह घटना के दौरान कोठड़े पर पहुंचा था और उसको इस बात की जानकारी होने के बाद भी उसने मामले की जानकारी पुलिस को नहीं दी। जिसके बाद उसे गिरफ्तार किया गया।
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X
  • Downloads

Follow Us