लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

विज्ञापन
Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Unnao News ›   Unnao girl murder case Former minister s son killed girl and buried her body in plot

उन्नाव में युवती की हत्या का मामला: पूर्व मंत्री के बेटे ने की थी हत्या, पिता के आश्रम के पीछे प्लॉट में दफनाया था शव

संवाद न्यूज एजेंसी, उन्नाव Published by: प्रशांत कुमार Updated Thu, 10 Feb 2022 10:06 PM IST
सार

गुरुवार को पुलिस ने आरोपी की निशानदेही पर गड्ढे में दबे युवती के शव को बाहर निकालकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा है। एसपी शशि शेखर सिंह, सीओ सिटी कृपाशंकर, सीओ लाइन सोनम सिंह समेत अन्य अधिकारी भी घटनास्थल पर मौजूद रहे।

Unnao girl murder case Former minister s son killed girl and buried her body in plot
उन्नाव हत्याकांड - फोटो : अमर उजाला

विस्तार

दो माह पहले घर से लापता युवती की हत्या कर शव को गड्ढे में दबा दिया गया था। हत्या किसी और ने नहीं, युवती को अगवा करने में जेल भेजे गए पूर्व मंत्री के बेटे ने अपने एक साथी के साथ मिलकर की थी। स्वाट टीम ने हत्यारोपी के दोस्त को उठाया तो सच सामने आ गया। गुरुवार को गड्ढे में दबे शव को बाहर निकाला गया तो परिजनों में कोहराम मच गया। पूर्व मंत्री के बेटे ने युवती की किसी दूसरे से नजदीकी की आशंका पर लापता होने वाले दिन ही उसकी गला दबाकर हत्या के बाद शव को गड्ढे में दबा दिया था। मां से शव की पहचान कराने के बाद पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के लिए भेजा है।



शहर के एक मोहल्ला निवासी 22 वर्षीय युवती 8 दिसंबर 2021 को रहस्यमय हालात में लापता हो गई थी। मां ने पूर्व मंत्री दिवंगत फतेहबहादुर सिंह के बेटे कल्याणी देवी निवासी अरुण कुमार उर्फ रजोल सिंह पर बेटी को अगवा करने का आरोप लगाया था। पुलिस ने गुमशुदगी दर्ज कर मामला ठंडे बस्ते में डाल दिया था। उच्चाधिकारियों के आदेश के बाद 10 जनवरी को रजोल के खिलाफ युवती को अगवा करने की रिपोर्ट दर्ज हुई थी।


पुलिस की दो टीमें युवती की तलाश कर रही थीं
आरोपी से  पूछताछ न होने पर लापता युवती की मां ने 24 जनवरी को लखनऊ में पूर्व सीएम अखिलेश यादव के काफिले के सामने आत्मदाह का प्रयास किया था। मामले ने तूल पकड़ा तो पुलिस ने आरोपी रजोल को गिरफ्तार कर जेल भेजा था। पुलिस की दो टीमें युवती की तलाश कर रही थीं। काल डिटेल में युवती व रजोल सिंह में नजदीकी की पुष्टि होने पर स्वाट टीम ने जांच शुरू की। सर्विलांस के जरिए स्वाट टीम प्रभारी गौरव कुमार ने आरोपी रजोल सिंह के दोस्त मूलत: हरदोई के नयागांव मुबारकपुर व मौजूदा समय में खजुरिहा बाग नई बस्ती निवासी सूरज सिंह को उठाकर पूछताछ की तो उसने राजोल के साथ मिलकर युवती की हत्या कर शव पूर्व मंत्री के कब्बबाखेड़ा स्थित दिव्यानंद आश्रम के पीछे प्लाट में खुदे टैंक के गड्ढे में दबाए जाने की पुलिस को जानकारी दी। एसपी शशि शेखर सिंह ने बताया कि शुक्रवार को शव का पोस्टमार्टम होगा। जो भी रिपोर्ट सामने आएगी उसी आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।

युवती ने फोन कर बुलाया, तो उसे विश्वास में लेकर आरोपी ले गया आश्रम
पुलिस सूत्रों के अनुसार, 8 दिसंबर की शाम युवती ने रजोल सिंह को फोन कर हरदोई ओवरब्रिज पर बुलाया। कार से रजोल वहां पहुंचा और युवती को भरोसे में लेकर दिवंगत पिता के कब्बाखेड़ा स्थित आश्रम लेकर पहुंचा। यहां पहले से मौजूद दोस्त सूरज के साथ मिलकर पहले युवती के सिर में डंडों से वार किया। फिर गला दबाकर हत्या कर दी और वहां से चले गए। तडक़े लगभग 3 बजे दोनों आश्रम पहुंचे और शव को वहां से निकाल कर पीछे खाली प्लॉट में खुदे टैंक के गड्ढे में मिट्टी से दबा दिया। दूसरे दिन सुबह मजदूर बुलाकर पूरी तरह से उसे मिट्टी से पाट दिया। टैंक का गड्ढा लगभग 7 फीट गहरा था।

 

रिमांड पर भी पुलिस आरोपी से कुछ न उगलवा पाई थी
जेल भेजे गए पूर्व मंत्री के बेटे रजोल सिंह से पूछताछ के लिए सीओ सिटी कृपाशंकर ने उसे 8 घंटे की कस्टडी रिमांड पर लिया था लेकिन पूछताछ में आरोपी ने युवती से नजदीकी की बात तो स्वीकार की थी पर हत्या की बात से इंकार कर दिया था। कुछ ना मिलने पर पुलिस ने उसे फिर से जेल भेज दिया था।

 

हत्या से पर्दा उठने के बाद खोली आरोपी की हिस्ट्रीशीट
युवती के हत्यारोपी राजोल सिंह पर पूर्व में जानलेवा हमले मारपीट समेत तीन मामले दर्ज थे। जिसमें 2 में वह दोषमुक्त हो गया था। मारपीट का एक मामला अभी कोर्ट में चल रहा है। हत्या की बात सामने आने के बाद पुलिस ने उसकी हिस्ट्रीशीट खोली है।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय Hindi News वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

क्षमा करें यह सर्विस उपलब्ध नहीं है कृपया किसी और माध्यम से लॉगिन करने की कोशिश करें

Followed