सड़कें लबालब, घरों में घुसा पानी

Lucknow Bureau लखनऊ ब्यूरो
Updated Sat, 25 Sep 2021 10:20 PM IST
आदर्श नगर में लोगों के घरों के अंदर भरा पानी। - संवाद
आदर्श नगर में लोगों के घरों के अंदर भरा पानी। - संवाद - फोटो : SITAPUR
विज्ञापन
ख़बर सुनें
सीतापुर। जिले में शनिवार सुबह से शुरू हुई तेज बारिश लोगों के लिए आफत बनकर बरसी। शहर में जलभराव होने से आवागमन प्रभावित रहा। कई वीआईपी मोहल्ले पानी से लबालब हो गए। उधर, बारिश से किसानों की गन्ने की फसल खेत में गिर गई। उरद व धान की फसल को भी काफी नुकसान पहुंचा है। इससे किसानों के माथे पर भी चिंता की लकीरें खिंच गई है।
विज्ञापन

शनिवार तड़के सुबह से ही जिले में जोरदार बरसात शुरू हो गई। कुछ ही देर में हर तरफ पानी ही पानी नजर आया। कलेक्ट्रेट परिसर में पानी भर गया। फरियादी कार्यालय तक पहुंचने के लिए जूझते रहे। विकास भवन जाने वाले मार्ग व उसके सामने पानी भरा रहा। सदर तहसील जाने वाले मार्ग पर भी पानी भर गया। मोहल्लों में सबसे अधिक दिक्कतें आई।

विकास नगर मोहल्ले में जलभराव होने से मार्गों पर कीचड़ भर गया। खाली पड़े प्लाट तालाब नजर आए। पुलिस लाइन से नैपालापुर तक जाने वाले मार्ग पर गड्ढे होने के कारण इनमें पानी भर गया। शहर के नैपालापुर में जलभराव होने से वाहन पलट गए। कई जगहों पर पानी के बीच लोग निकलने को मजबूर हुए। नारायण टाकीज के सामने वाले मोहल्ले के कई घरों के अंदर तक पानी पहुंच गया।
नगर पालिका ने यहां पर जनरेटर चलवाकर पानी निकलवाने का प्रयास किया। इसी प्रकार पुराने सीतापुर के मिरदही टोला, मुंशीगंज, गल्ला मंडी, कांशीराम कालोनी, आदर्श नगर, नगर पालिका सहित कई मोहल्लों में पानी भर गया। इसके कारण लोग बहुत ही परेशान दिखे। बारिश के कारण फसलों को काफी नुकसान हुआ।
गन्ने की फसल अधिक बारिश के चलते खेतों में गिर गई। अगेती धान की फसल तैयार हो गई है। यह कुछ ही दिनों बाद कटने वाली है। बारिश के कारण खेतों में पानी भरने से धान की फसल को नुकसान हुआ है। उरद की फसल भी तैयारी की कगार आ गई थी। इस फसल में भी पानी पहुंचने से घाटे का सौदा साबित हुआ है।
बारिश से गिर गईं फसलें
औरंगाबाद इलाके के अशरफनगर निवासी राजेश का कहना है कि गन्ने की फसल खेत में खड़ी थी। शनिवार को जोरदार बारिश से फसल खेत में गिर गई है। लोधौरा निवासी रामकुमार का कहना है, तिल्ली की फसल पकने में कुछ ही दिन बाकी थे। बारिश के कारण फूल व निकली हुई बालिया नष्ट हो गई है।
मिश्रिख के नौहसहरा निवासी सरजू व बिरजू का कहना है, चार एकड़ में धान की फसल तैयार खड़ी थी। हवा व अधिक बारिश के कारण फसल गिर गई है। इससे भारी नुकसान पहुंचा है। किसानों ने प्रदेश सरकार से बारिश के कारण हुए नुकसान का सर्वे कराकर आर्थिक मदद दिलाने की मांग की है।
लड़खड़ाई बिजली आपूर्ति
बारिश के चलते जिले में विद्युत आपूर्ति व्यवस्था भी लड़खड़ा गई है। शहर के भवानीपुर फीडर की विद्युत आपूर्ति सुबह करीब पांच बजे गुल हो गई। 10 बजे के बाद आपूर्ति बहाल हो सकी। इसकी वजह से लोगों के घरों में लगे इन्वर्टर डिस्चार्ज हो गए। सुबह के समय जब आपूर्ति गुल रही तो लोगों के सामने पेयजल का संकट खड़ा हो गया।
बाशिंदों ने किसी तरह निजी हैंडपंप के जरिये अपनी जरूरतें पूरी की। इसी प्रकार बिसवां, पिसावां, महोली, मिश्रिख, सिधौली, लहरपुर, रामपुर मथुरा, रेउसा आदि इलाकों में आपूर्ति बाधित रही।
बारिश के कारण जिले की कई जगहों पर विद्युत आपूर्ति बाधित हुई। पेट्रोलिंग कराकर आपूर्ति बहाल करा दी गई है। कुछ जगहों पर मरम्मत का काम चल रहा है।
- नंदलाल, अधीक्षण अभियंता

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00