विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020
Astrology Services

हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

Coronavirus in UP Live Updates: प्रदेश में सोमवार को 28 नए कोरोना संक्रमितों की हुई पुष्टि, बढ़ सकती है लॉकडाउन की अवधि

यूपी में सोमवार को 28 कोरोना पॉजिटिव मरीजों के साथ संक्रमितों की संख्या बढ़कर 311 हो गई है।

7 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

सीतापुर

मंगलवार, 7 अप्रैल 2020

जमात से लौटे 13 मौलाना घर में मिले

सिधौली (सीतापुर)। कोतवाली इलाके में घरों में मिले 13 जमातियों की जांच कराई गई। जुमे के दिन पुलिस प्रशासन की मस्जिद में चेकिंग के दौरान इन लोगों के बारे में पता चला। सभी की सिधौली सीएचसी में जांच कराई गई। इनमें कोरोना के लक्षण नहीं मिले हैं।
एसडीएम सिधौली संतोष कुमार राय ने बताया कि शुक्रवार को जुमे के दिन मस्जिदों में कोई नमाज नहीं पढ़ रहा है, इसे लेकर कस्बे की जामा, गौरैया, मरकज मस्जिद की चेकिंग की गई। वहां पर तीन लोग पाए गए। उन लोगों से पूछताछ में सामने आया कि कुछ दिन पूर्व उड़ीसा के कटक से जमात से लोग लौटे हैं।
इनसे पूछताछ के बाद कई और जमातियों के नाम सामने आए, जो घरों में थे। इसके बाद पुलिस की मदद से इलाके के गड़िया हसनपुर कयूम, ताहिद, प्रेमनगर मोहल्ले के रफात अली को बुलाया गया। इन्होंने बताया कि मरकज जमात में कटक गए थे, जहां से आठ फरवरी को वापस आ गए थे।
इसके बाद संदना के सहोली निवासी रफी को घर से बुलाया गया। बताया कि वह उड़ीसा के बाद दिल्ली भी गया था। प्रेमनगर मोहल्ले के कय्यूम, अबरार, गड़िया हसनपुर के किश्मत अली, अजीज, सादिक, भंडिया के निसार कटक से आए थे। वहीं, भंडिया के सलीम, असीम मुंबई से 22 मार्च, जुबेर 23 मार्च को हैदराबाद से वापस आए हैं।
एसडीएम ने बताया कि इन सभी को सिधौली सीएचसी लाया गया, जहां पर स्वास्थ्य टीम ने सभी में कोरोना के लक्षणों को देखा और पूछा, लेकिन ऐसी कोई परेशानी नहीं होने की सभी ने बात कही है। सभी को घर भेज दिया गया है। लोगों से दूरी बनाकर रहने की सलाह दी गई है।
... और पढ़ें

टूरिस्ट वीजा पर कर रहे थे धर्म प्रचार, दस बांग्लादेशियों पर केस

खैराबाद (सीतापुर)। तब्लीगी जमात में आए दस बांग्लादेशियों पर गुरुवार देर रात खैराबाद पुलिस ने पासपोर्ट उल्लंघन का केस दर्ज किया है। ये सभी टूरिस्ट वीजा लेकर धर्म का प्रचार कर रहे थे। दरोगा की तहरीर पर एफआईआर दर्ज कर पुलिस ने जांच शुरू कर दी है।
सीओ सिटी योगेंद्र सिंह ने बताया कि बांग्लादेश के ढाका जिले के मतिउर्रहमान, अब्दुल मलिक, मोहम्मद जहीरुल, हारुन रशीद, मोहम्मद दिलवाड, हाजी मोहम्मद, मोहम्मद मोहसिन, जानी हुसैन, मोहम्मद शाह, मोहम्मद अबू सईद तब्लीगी जमात में आए थे। ये सभी छह मार्च को जिले में आए थे। सबसे पहले पुराना सीतापुर के कोट में रुके थे। बताया जाता है कि इसके बाद खैराबाद के पुरानी बाजार मरकज, चिल्लांय सरांय, अर्जुनपुर में रुके।
कोरोना वायरस को लेकर दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज का मामला अचानक उछलने के बाद इन दसों बांग्लादेशी, आसाम के अहमद अली, महाराष्ट के शेख नबी को खैराबाद के जेएलएडी इंटर कॉलेज में क्वारंटीन किया गया था। पड़ताल के दौरान सभी बांग्लादेशियों के पासपोर्ट टूरिस्ट के पाए गए, जबकि ये लोग तब्लीगी जमात में शामिल होकर मस्जिदों में जाकर धर्म का प्रचार कर रहे थे। मामले से डीएम-एसपी को अवगत कराया गया।
अफसरों के आदेश पर मामले को लेकर देर रात खैराबाद कस्बा इंचार्ज देवेंद्र सिंह ने पुलिस को तहरीर दी। सीओ सिटी सिंह ने बताया कि दरोगा की तहरीर पर 10 बांग्लादेशियों पर पासपोर्ट उल्लंघन समेत अन्य संबंधित धाराओं में केस दर्ज कर लिया गया है। जांच कर आवश्यक कार्रवाई की जाएगी।
एसपी एलआर कुमार का कहना है कि तब्लीगी जमात में आए दस बांग्लादेशी टूरिस्ट वीजा लेकर धर्म का प्रचार कर रहे थे। मामले में सभी पर पासपोर्ट उल्लंघन का केस दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है।
... और पढ़ें

तब्लीगी जमात में आए 37 का होगा टेस्ट

सीतापुर। जिले में क्वारंटीन तब्लीगी जमात में आए सभी जमातियों में कोरोना वायरस का टेस्ट कराने की तैयारी हो रही है। हालांकि, सभी स्वस्थ बताए जा रहे है। किसी में भी कोरोना के लक्षण नहीं है। एहतियातन ये कार्रवाई की जाएगी। शुक्रवार को डीएम, एसपी और सीएमओ ने क्वारंटीन सेंटरों में पहुंचकर हालात का जायजा भी लिया।
बिसवां में एल्पिस स्कूल में असम से आए 19 और बस्ती जिले के खलीलाबाद निवासी छह जमातियों को क्वारंटीन किया गया है। जबकि खैैराबाद के जेएलएमडी इंटर कॉलेज में 12 लोग क्वारंटीन हैं। शुक्रवार को डीएम अखिलेश तिवारी, एसपी एलआर कुमार ने खैराबाद स्थित कॉलेज में पहुंचकर क्वारंटीन सेंटर का जायजा लिया। यहां रखे गए सभी जमातियों के बारे में जानकारी ली। इसके बाद डीएम ने बताया कि सभी जमाती ठीक हैं।
सीएमओ डॉक्टर आलोक वर्मा ने बिसवां पहुंचकर एल्पिस स्कूल में क्वारंटीन 25 जमातियों के लक्षण देखें। सभी स्वस्थ मिले हैं। किसी में महामारी के लक्षण नहीं है। डीएम, एसपी ने जिले में क्वारंटीन सभी 37 जामतियों का कोरोना टेस्ट कराने के आदेश सीएमओ को दिए हैं।
सीएमओ ने बताया कि जांच में जमातियों में कोरोना के कोई लक्षण नहीं मिले हैं, लेकिन एहतियात के तौर पर सभी का कोरोना वायरस का टेस्ट कराया जाएगा। किट मंगाई गई है। उसका इंतजार किया जा रहा है। किट आते ही सैंपल लेकर जांच के लिए भेजा जाएगा।
... और पढ़ें

जमातियों के संपर्क में आने वालों की तलाश

सीतापुर। जमातियों की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आने के बाद इनके संपर्क में आने वालों की तलाश तेज हो गई हैं। पुलिस, प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग की 30 टीमें बनाकर ऐसे लोगों को चिह्नित किया जा रहा है। अब तक 61 लोग ट्रेस किए गए हैं। ये खैराबाद और शहर कोतवाली इलाके के रहने वाले हैं। अभी आधिकारिक तौर पर इसकी पुष्टि नहीं की गई है।
विभागीय सूत्रों के अनुसार ये वे लोग हैं, जो 6 मार्च से 31 मार्च तक इन जमातियों के संपर्क में आए थे। एक अप्रैल के बाद जमातियों को क्वारंटीन कर दिया गया था। इसके बाद इनसे कोई नहीं मिल पाया था, लेकिन अभी इनके संपर्क में आने वाले अन्य लोगों की तलाश की जा रही है। इन्हें चिह्नित करने को करीब 30 टीमें लगी हुईं हैं। इसके लिए एसडीएम, सीओ सिटी और अन्य बड़े अफसरों को भी लगाया गया है।
संपर्क में आने वालों की लिस्ट बनाई जा रही है। अभी तक प्रशासन ये बता पाने की स्थिति में नहीं है कि अब तक इन जमातियों के सीधे संपर्क में आने वाले कितनों को चिह्नित कर लिया गया है। एएसपी साउथ महेंद्र प्रताप सिंह ने बताया कि खैराबाद के अलावा जमाती शहर में जिन-जिन मस्जिदों में रुके हैं, उन मस्जिदों के साथ वहां से तीन किमी. के दायरे को सैनिटाइज कराया जाएगा।
संपर्क में आने वाले लोगों उनके परिवार के सदस्यों से लेकर ये लोग अब तक किस-किस से मिले, इसकी जानकारी जुटाकर, पूछताछ कर सूची तैयार की जा रही है। इसके बाद सभी को होम आइसोलेट किया जाएगा। लक्षण और कोई समस्या मिलने पर सैंपल भेजकर जांच कराई जाएगी। अस्पताल में भर्ती किया जाएगा।
... और पढ़ें

सीतापुर : जमातियों की हरकतों से सहमा स्टाफ

सीतापुर/खैराबाद। खैराबाद सीएचसी में भर्ती कोरोना पॉजिटिव जमाती माहौल को खराब करने की कोशिश कर रहे हैं। सूत्रों की माने तो ये लोग मोबाइल मांग रहे हैं। डॉक्टरों को पकड़कर उनके पैर छू रहे थे।
ये अस्पताल की दूसरी मंजिल पर भर्ती हैं। इसके बावजूद बांग्लादेशी उतरकर पहली मंजिल पर आ गए। उन्हें नीचे देखकर सीएचसी का स्टाफ घबरा गया। सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची।
खुलेआम घूम रहे जमातियों को डांटकर दूसरी मंजिल पर ले जाया गया। अस्पताल के डॉक्टर से लेकर पूरा स्टाफ इनकी हरकतों से डरा और सहमा है। किसी तरह इन लोगों को वार्ड में भर्ती किया गया।
इनके साथ भर्ती कोरोना पॉजिटिव महाराष्ट्र के मरीज को वे परेशान करने लगे। उसे अलग करने की बात कहने लगे। अस्पताल प्रशासन ने इन्हें शांत करने के लिए महाराष्ट्र के जमाती को अलग वार्ड में भर्ती कर दिया है, लेकिन इनकी हरकतों से अस्पताल का स्टाफ सहमा हुआ है।
सीएमओ डॉक्टर आलोक वर्मा ने बताया कि महाराष्ट्र के जमाती को अलग रखा गया है। अन्य सभी की गतिविधियों पर नजर है। गड़बड़ी करने वालों पर कानूनी कार्रवाई होगी।
जांच के लिए घर जा रही टीमों से अभद्रता, नहीं खोल रहे दरवाजा
कोरोना पॉजिटिव जमातियों के मिलने के बाद सोमवार को आशा कार्यकर्ता, आंगनबाड़ी, एएनएम को लगाकर खैराबाद के सभी वार्डों में जांच के लिए भेजा गया था। सूत्रों की माने तो जांच को गई टीम के साथ खैराबाद के तुरसावां, सुजावलपुर, कजियारा समेत कई वार्डों में अभद्रता की गई। जांच के नाम लोग दरवाजा तक नहीं खोल रहे थे।
टीम के बार-बार कहने पर लोग अभद्रता और गाली-गलौज कर रहे थे। ऐसे में कई घरों से टीमें बिना जांच के ही लौट गई थीं। टीम ने बताया कि जांच की बात कहने पर लोग बेवजह उलझ रहे थे। दरवाजे से चले जाने की धमकियां दे रहे थे। ऐसे हालात में वार्ड-वार्ड जाकर जांच करना मुमकिन नहीं है। घटना से संबंधित अफसरों को भी बताया गया है।
... और पढ़ें

खैराबाद की एक लाख आबादी घरों में कैद

सीतापुर। खैराबाद में जमातियों के कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद से पुलिस प्रशासन ने सख्ती दिखानी शुरू कर दी थी। चेतावनी देती हुईं पुलिस की गाड़ियां लोगों को घर से नहीं निकलने की सख्त हिदायत दे रही हैं। मस्जिदों से भी अनाउंस कराया गया कि जो जहां है, वहीं रहे। किसी को भी बाहर निकलने की जरूरत नहीं है। ऐसे में खैराबाद की करीब एक लाख आबादी घरों में कैद हो गई है।
खैराबाद कस्बे में 25 वार्ड हैं। करीब 40 हजार वोटर हैं, लेकिन आबादी एक लाख के आसपास है। सभी लोग घर में ही हैं। सुबह से शाम तक मोहल्लों, कस्बे की सड़कों और गलियों में सन्नाटा ही पसरा रहे। घरों के दरवाजे बंद रहे। कहीं भी चहल-पहल नहीं दिखी।
ईओ खैराबाद हृदयानंद उपाध्याय ने बताया कि नगर पालिका के दो और फायर ब्रिगेड का एक टैंकर पूरे कस्बे को सैनिटाइज करने में लगा हुआ है। सभी मस्जिदें भी सैनिटाइज कराई जा रही हैं। देर शाम तक ये काम पूरा कर लिया जाएगा। अफसरों की माने तो अर्जुनपुर मोहल्ले में घर में ही रहने के दौरान बांग्लादेशियों के संपर्क में असम, महाराष्ट्र के जमाती आए थे। इसके बाद सभी को क्वारंटीन किया गया था।
इन मस्जिदों में रुके थे
तब्लीगी जमात के 10 बांग्लादेशी जिले में छह मार्च को आए थे। ये सभी शहर में 19 मार्च तक रुके। इस दौरान जमाती कोट स्थित मरकज मस्जिद, चौबे टोला मस्जिद, फत्तन सरांय मस्जिद के अलावा तरीनपुर स्थित मस्जिद में भी ठहरे थे। 20 मार्च को खैराबाद की हाजी सिफत मस्जिद में आने के बाद 22 तक रहे। इसके बाद कमाल सरायं स्थित बड़ी मस्जिद में 23 व 24, चिल्लांय सरायं स्थित आइस मस्जिद में 25 व 26 मार्च को रुके।
इसी तरह अर्जुनपुर मोहल्ले में स्थित अब्दुल्लाह बिंसलाम मस्जिद में 27 व 28 मार्च को रहे। इसके बाद अर्जुनपुर मोहल्ले में ही मोहम्मद सिद्दीक के खाली पड़े घर में ये जमाती 29, 30 व 31 मार्च तक रहे। एक अप्रैल को पुलिस, प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग ने इन सभी को अर्जुनपुर में घर से उठाकर जेएलएमडीजे इंटर कॉलेज में क्वारंटीन किया था।
... और पढ़ें

खैराबाद में सभी प्रवेश मार्ग बंद, चप्पे-चप्पे पर पुलिस तैनात

सीतापुर। आठ जमातियों की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आने के बाद जिले की सरकारी मशीनरी हरकत में आ गई है। मामले की गंभीरता को देखते हुए कस्बे के सभी प्रवेश मार्ग बंद कर दिए गए हैं। जमातियों के मिलने के स्थान से लेकर खैराबाद के तीन किमी. के दायरे को सील कर दिया गया है। हर घर की थर्मल स्क्रीनिंग कराने की तैयारी शुरू कर दी गई है। डीएम ने कस्बे को नौ की सुबह 10 बजे तक सील रखने के आदेश दिए हैं।
जिले में क्वारंटीन 37 तब्लीगी जमात के 33 मौलानाओं का सैंपल जांच के लिए भेजा गया था। सोमवार सुबह सात बांग्लादेशी और महाराष्ट्र के एक जमाती की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आते ही अफसरों के होश उड़ गए। आननफानन में डीएम अखिलेश तिवारी, एसपी एलआर कुमार, एडीएम, सीएमओ, एएसपी, एसडीएम, सीओ सिटी योगेंद्र सिंह से लेकर कई थानों की फोर्स, पुलिस और अन्य प्रशासनिक अफसर मौके पर पहुंचे।
जेएलएमडीजे इंटर कॉलेज में क्वारंटीन आठ जमातियों को वहां से खैराबाद कोविड एल-1 अस्पताल में भर्ती कराया गया। इसके बाद डीएम, एसपी ने खैराबाद में प्रवेश के सभी रास्तों को बंद करने का आदेश दे दिया। इसके अलावा जिस अर्जुनपुर मोहल्ले के एक घर में रह रहे जमातियों को यहां से उठाया गया था, उस जगह से लेकर पूरे खैराबाद कस्बे का तीन किमी. के दायरे को पूरी तरह से सील कर दिया गया है।
सीओ सिटी योगेंद्र सिंह, एसओ खैराबाद अजय यादव ने बताया कि तीन किमी. के परिधि में आने वाले सभी घरों के लोगों को बाहर नहीं निकलने की कड़ी हिदायत दी गई है। अनाउंस के जरिए सभी से घरों में ही रहने की अपील की जा रही है।
दिल्ली के निजामुद्दीन से जिले में 42 लोगों की सूची आई थी। नौ लोग अभी निजामुद्दीन में हैं। बिसवां, खैराबाद में क्वारंटीन जमातियों में 33 का सैंपल जांच को भेजा गया था। आठ की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। सभी को कोविड एल-1 खैराबाद में भर्ती कराया गया है। खैराबाद में प्रवेश पर रोक लगा दी गई है। आवागमन पूरी तरह बंद कर दिया गया है। साफ-सफाई, छिड़काव, सैनिटाइज का काम शुरू हो गया है। लोगों को डरने व घबराने की जरूरत नहीं है, लेकिन लोगों से अपील है कि जो भी इन लोगों के संपर्क में आएं हैं, वह खुद सामने आ जाएं, जिससे उनके लक्षण देखने के बाद इलाज कराया जा सके।
- अखिलेश तिवारी, डीएम
खैराबाद में क्वारंटीन आठ जमाती कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। पूरे इलाके को सैनिटाइज कर सील कर दिया गया है। फोर्स की तैनाती की गई है। सभी को सुरक्षा के उपकरण मुहैया करा दिए गए हैं।
- एलआर कुमार, एसपी
... और पढ़ें

सीतापुर : तब्लीगी जमात के आठ मौलाना कोराना संक्रमित

सीतापुर। जिले के लोगों के लिए ये परेशान करने वाली खबर है। एक महीने से महामारी से अछूते चल रहे जिले में भी आखिरकार कोविड-19 (कोरोना वायरस) ने दस्कत दे दी है। तब्लीगी जमात के आए आठ मौलानाओं की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आने से जिले में हड़कंप मच गया है। सभी मरीजों को क्वारंटीन सेंटर से खैराबाद सीएचसी में भर्ती करा दिया गया है। स्वास्थ्य टीमें इलाज में जुट गई हैं।
जिले में तब्लीगी जमात से आए मौलानाओं की संख्या 37 है। इसमें 6 मार्च को सीतापुर के कोट कजियारा में आए 10 बांग्लादेशी और बिसवां में असम के 19, बस्ती जिले के खलीलाबाद के छह जमाती हैं। बांग्लादेशी जमाती कोट के अलावा शहर समेत खैराबाद की कई मस्जिदों में भी रुके थे। बांग्लादेशी के संपर्क में असम, महाराष्ट्र का एक जमाती आया था।
इस बीच दिल्ली की निजामुद्दीन मरकज का मामला उछलने के बाद इन सभी को आश्रय स्थलों में क्वारंटीन किया गया था। बिसवां के एल्पिस स्कूल में क्वारंटीन 21 और खैराबाद के जेएलएमडीजे इंटर कॉलेज में क्वारंटीन 12 जमातियों का सैंपल रविवार सुबह चार बजे लखनऊ लैब भेजा गया था। देर रात 25 की रिपोर्ट निगेटिव आने से प्रशासन ने राहत की सांस ली थी, लेकिन सोमवार की सुबह आठ अन्य की कोरोना वायरस रिपोर्ट पॉजिटिव आते ही सरकारी अमले के होश उड़ गए।
जिन मौलानाओं में कोरोना पाया गया है, उनमें सात बांग्लादेशी और एक महाराष्ट्र का है। ये सभी खैराबाद स्थित जेएलएमडीजे इंटर कॉलेज में क्वारंटीन थे। सभी को यहां से खैराबाद कोविड लेबल-1 (खैराबाद सीएचसी) में भर्ती कराया गया है। सीएमओ डॉक्टर आलोक वर्मा ने बताया कि 33 जमातियों का सैंपल गया था। आठ की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है। सभी को अस्पताल में भर्ती कराकर इलाज शुरू कर दिया गया है।
... और पढ़ें

बहराइच : दीपक व मोमबत्ती की रोशनी ने बिखेरी अलौकिक छटा

सीतापुर। घड़ी की सुई ने जैसे ही नौ बजने का संकेत दिया, हर कोई अपने घर की लाइटें बंद करते हुए बालकनी, दरवाजे या रेलिंग पर पहुंच गया। किसी ने दीपक, मोमबत्ती जलाई तो कोई टार्च व मोबाइल जलाकर खड़ा हो गया। लाइटें बंद होने के बाद अंधियारे को चीरते हुए दीपकों, मोमबत्ती, टार्च व मोबाइल की रोशनी से प्रकाश पुंज की अद्भुत, अलौकिक व अविस्मरणीय छटा हर ओर बिखर गई।
हर तरफ बिखरी रोशनी ने कोरोना महामारी के खिलाफ देश वासियों की एकजुटता का संदेश दिया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर रविवार रात नौ बजे अंधेरे से उजाले की ओर कार्यक्रम का भागीदार व साक्षी बनने का उत्साह हर किसी के चेहरे पर साफ झलक रहा था। शहर से लेकर कस्बों और गांवों में प्रत्येक नागरिक नौ बजे अपने घरों के दरवाजे, बालकनी पर खड़ा दिखाई दे रहा था। किसी ने हाथ में दिया, मोमबत्ती तो किसी ने टार्च व मोबाइल हाथ रखा था।
इस अनूठे कार्यक्रम के दौरान एक-दूसरे को निहारते हुए लोगों ने भारत माता का स्मरण किया। नौ मिनट बाद लोग भारत माता का जयघोष करने लगे। शहर के आवास विकास निवासी रवि मिश्र बेहद रोमांचित नजर आए। उन्होंने कहा यह जीवन का एक यादगार लम्हा बन गया है। सिविल लाइन निवासी राकेश चड्ढा ने कहा, यह तारीख इतिहास में दर्ज हो गई है।
इस कार्यक्रम ने हम सबको संकट की घड़ी में एक-दूसरे के साथ होने का अहसास दिलाया है। कमलापुर निवासी पंकज भदौरिया ने इस कार्यक्रम को अद्भुत व अविस्मरणीय बताते हुए कहा, लॉकडाउन में घरों से नहीं निकल पाने पर बोझिल मन को इस टिमटिमाहट ने नए उत्साह से सराबोर कर दिया है।
... और पढ़ें

डॉक्टर और स्टाफ 15 दिन के लिए होंगे क्वारंटीन

सीतापुर। कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों का इलाज करने वाले चिकित्सक भी अब 15 दिनों के लिए क्वारंटीन किए जाएंगे। जल्द ही जिले में ये व्यवस्था लागू होने जा रही है। जिले में अब तक कोई मरीज कोरोना पॉजिटिव नहीं पाया गया है। लेकिन गैर राज्यों, महानगरों से जिले में काफी तादात में लोग आए हैं। ऐसे में इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता कि वह कोरोना पॉजिटिव नहीं होंगे।
कोरोना के लक्षण मिलने पर ऐसे लोगों को जिला अस्पताल में बने आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया जाता है, जहां पर डॉक्टर ऐसे मरीजों का इलाज करते है। जानकार बताते हैं कि जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग ने स्वास्थ्य कर्मियों की सुरक्षा को लेकर ये प्लान तैयार किया है। इसके तहत कोरोना संदिग्ध, संक्रमित मरीजों का इलाज करने वाले डॉक्टर, टीम में शामिल कर्मियों को 15 दिन के लिए पैसिव क्वारंटीन किया जाएगा।
स्वास्थ्य विभाग के सूत्रों की माने तो कोरोना संक्रमित मरीजों को क्वारंटीन करने के लिए तीन श्रेणियां बनाई गई हैं। कोविड लेबल-1 को खैराबाद सीएचसी बनाया गया है, जहां सामान्य हालत के मरीजों को रखा जाएगा। जिला अस्पताल को कोविड लेबल-2 बनाया गया, जहां गंभीर मरीजों को रखा जाएगा।
वहीं अटरिया में स्थित हिंद मेडिकल कॉलेज को कोविड लेबल-3 का अस्पताल चुना गया है, जहां पर अभी 100 बेडों का इंतजाम है। इसे बढ़ाकर 200 बेड किए जाएंगे। 20 वेंटीलेटरों की व्यवस्था होगी। यहां पर सीरियस कंडीशन के मरीजों को शिफ्ट किया जाएगा।
सीएमओ डॉक्टर आलोक वर्मा ने बताया कि कोरोना संदिग्धों का इलाज करने से डॉक्टरों, स्वास्थ्य कर्मियों में वायरस की चपेट में आने की आशंका रहती है। उन्हें महफूज रखने के लिए ये व्यवस्था लागू हो रही है। कोरोना मरीजों का 15 दिन तक इलाज करने वाला स्टाफ अगले 15 दिन तक क्वारंटीन में रहेगा। परिवार के लोग संपर्क में न आएं। क्वारंटीन का समय पूरा करने के बाद कर्मचारी घर जा सकेंगे।
ड्यूटी का रूट चार्ट तैयार
जिला अस्पताल में बने आइसोलेशन वार्ड में भर्ती होने वाले मरीजों का इलाज करने वाले डॉक्टर और स्वास्थ्य कर्मियों की लिस्ट बना ली गई है। ड्यूटी का चार्ट भी तैयार हो चुका है। 24 घंटे तीन शिफ्टों में टीम ड्यूटी करेगी।
इस दौरान डॉक्टर समेत 25 कर्मचारी कोरोना मरीजों का इलाज करेंगे। मसलन, एक शिफ्ट यानी आठ घंटे में आठ लोगों की टीम रहेगी। ड्यूटी करने का 15 दिन का समय पूरा करने के बाद 25 लोगों को बदल कर 15 दिन के लिए क्वारंटीन किया जाएगा। इसके बाद दूसरे टीम यहां तैनात होगी।
रंजीत होटल में क्वारंटीन होंगे चिकित्सक
कोरोना के मरीजों का इलाज करने के बाद डॉक्टर और टीम को क्वारंटीन करने के लिए जगह की तलाश कर ली गई है। जिला अस्पताल के स्टॉफ को शहर के रंजीत होटल में 15 दिनों तक क्वारंटीन किया जाएगा। यहां पर इनके खाने-पीने से लेकर इलाज, नियमित जांच की व्यवस्था की गई है।
... और पढ़ें

खैराबाद और बिसवां में तीन किलोमीटर का दायरा सैनिटाइज

सीतापुर। जिले के तब्लीगी जमात के आए मौलानाओं में कोरोना टेस्ट के लिए भेजी गई रिपोर्ट अभी भले ही नहीं आई लेकिन स्वास्थ्य विभाग चौकन्ना हो गया है। रिपोर्ट आने से पहले ही रविवार को एहतियातन जमातियों के मिलने वाले स्थान से तीन किमी के दायरे को सैनिटाइज कराकर घरों और सदस्यों की लिस्ट बनाने की तैयारी शुरू कर दी गई है।
बिसवां और खैराबाद में शनिवार शाम क्वारंटीन सेंटर पहुंचकर टीमें 12 बजे रात में सैंपल जुटा पाईं थी। सू़त्र बताते हैं कि सुबह चार बजे सैंपल लैब पहुंच गया था। हालांकि, शाम तक रिपोर्ट नहीं सकी थी, लेकिन रिपोर्ट आने से पहले जिले का प्रशासन रविवार को चौकन्ना दिखा। अगर रिपोर्ट पॉजिटिव आती है तो बाद में कोई समस्या न हो, इसलिए स्वास्थ्य विभाग पहले से ही जुट गया है।
रविवार को स्वास्थ्य विभाग ने खैराबाद और बिसवां में उस तीन किलोमीटर के दायरे को सैनिटाइज करा दिया है, जहां से इन जमातियों को पकड़ने के बाद क्वारंटीन किया गया था। साथ ही उस स्थान से तीन किलोमीटर के दायरे में आने वाले सभी घरों, उन घरों के सदस्यों के नाम की लिस्ट बनाने की तैयारी भी शुरू हो गई। इसके अलावा जिन आश्रय स्थलों में जमातियों को क्वारंटीन किया गया है, उसे भी सैनिटाइज किया गया है।
रिपोर्ट पर टिकी निगाहें, वक्त के साथ बढ़ीं धड़कनें
33 जमातियों का सैंपल लैब पहुंचने के बाद रविवार देर शाम तक अफसरों की निगाहें रिपोर्ट आने पर टिकी रहीं। हालांकि, खबर लिखे जाने तक रिपोर्ट नहीं सकी थी, लेकिन वक्त गुजरने और घड़ी की टिकटिक करती सुईयों के साथ जिला, पुलिस प्रशासन, स्वास्थ्य विभाग के अफसरों, कर्मियों से लेकर लोगों की भी धड़कनें तेज होती रहीं।
खैराबाद में 800 घर, पांच हजार लोग चिन्हित
खैराबाद के अर्जुनपुर में एक घर से जमातियों को पकड़कर क्वारंटीन किया गया था। प्रशासन ने अर्जुनपुर के आसपास तीन किमी के दायरे में आने वाले घरों और रहने वालों की लिस्ट तैयार कर ली है। विभागीय सू़त्रों की मानें तो 800 घर और पांच हजार लोग अब तक चिन्हित किए जा चुके हैं। ठीक इसी तरह बिसवां में भी लिस्ट बनाकर घरों और आबादी को चिन्हित करने की कार्यवाही चल रही है।
... और पढ़ें

क्वारंटीन तीन मौलानाओं की हालत बिगड़ी

सीतापुर। खैराबाद और बिसवां इलाके के आश्रय स्थलों में क्वारंटीन तीन मौलानाओं की शनिवार रात को हालत बिगड़ गई। प्रशासन ने सभी को जिला अस्पताल में भर्ती कराया। चिकित्सकों ने सभी मौलानाओं की हालत सामान्य बताई है। इलाज किया जा रहा है।
तब्लीगी जमात में आए 25 मौलानाओं को बिसवां, खैराबाद में 12 और इसके बाद इनके संपर्क में आए दो और को भी आइसोलेट किया गया है। शनिवार देर रात खैराबाद स्थित कॉलेज में क्वारंटीन दो जमाती और बिसवां में क्वारंटीन एक जमाती की हालत बिगड़ गई।
इसकी सूचना डीएम अखिलेश तिवारी, एसपी एलआर कुमार, सीएमओ डॉ. आलोक वर्मा को दी गई। अफसरों के आदेश पर रात में ही तीनों को जिला अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कराया गया है, जहां पर तीनों का इलाज जारी है। बताया गया कि उन्हें डायबिटीज, हार्ट की समस्या है।
इसलिए मामले की गंभीरता को देखते हुए अस्पताल में शिफ्ट किया गया है। इनकी भी कोरोना टेस्ट के लिए रिपोर्ट भेजी गई है। जिला अस्पताल के सीएमएस डॉक्टर अनिल अग्रवाल ने बताया कि खैराबाद, बिसवां में क्वारंटीन तीन जमातियों को आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया गया है। तीनों को फिजीशियन देख रहे हैं। इलाज चल रहा है। हालात सामान्य है।
... और पढ़ें

महिला सफाईकर्मी को पीटने पर दो को जेल

तंबौर (सीतापुर)। कोरोना महामारी के बीच अपनी परवाह किए बिना जिम्मेदारी निभा रही महिला सफाई कर्मचारी को तीन लोगों ने लात-घूसों से पीट दिया। उसकी झाड़ू फेंक उसे भगा दिया। पीड़िता की तहरीर पर पुलिस ने मामला दर्ज कर दो आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। पुलिस तीसरे आरोपी की तलाश कर रही है।
नगर पंचायत तंबौर की संविदा सफाईकर्मी तारादेवी रविवार सुबह आजादनगर मोहल्ले में रोज की तरह सफाई करने पहुंची थी। मोहल्ला निवासी कोंकण व सहरयार व शबनम ने अकारण सफाई से मना किया। इसका विरोध करने पर तीनों लोगों ने महिला सफाईकर्मी की लात-घूसों से पिटाई कर दी। झाड़ू छीनकर फेंक दी। मौके पर पहुंचे लहरपुर विधायक सुनील वर्मा ने घटना की जानकारी ली।
थानाध्यक्ष अमित भदौरिया ने बताया कि तहरीर मिलते ही सभी आरोपियों के विरुद्ध एससी एसटी व सरकारी कार्य में बाधा डालने की धाराओं में मामला दर्ज कर लिया है। पुलिस ने शबनम व कोंकण को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया। इदरीश की खोज की जा रही है। घटना से नगर पंचायत के सफाई कर्मियों में रोष व्याप्त है।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us