बिना बताए पानी पीने गए छात्र को शिक्षक ने बेरहमी से पीटा

Lucknow Bureau Updated Sun, 17 Sep 2017 10:03 PM IST
इकौना (श्रावस्ती)। विद्यालय में बिना बताए पानी पीने जाना कक्षा छह के छात्र को काफी भारी पड़ा। नाराज शिक्षक ने उसकी बेरहमी से जमकर पिटाई कर दी। इससे छात्र गंभीर रूप से घायल हो गया। अन्य शिक्षकों ने इसकी जानकारी छात्र के परिवारीजनों को दी। मौके पर पहुंचे परिवारीजनों ने छात्र को सीएचसी इकौना पहुंचाया। जहां पर हालत गंभीर देख चिकित्सकों ने उसे जिला अस्पताल बहराइच रेफर कर दिया। छात्र के भाई ने इकौना थाने में शिक्षक के खिलाफ तहरीर दी है। वहीं शिक्षक आरोपों को निराधार बता रहा है। मामले में पुलिस तहरीर मिलने व जांच की बात कह रही है।
इकौना के जोरडीह में एडीआरएस गौतमबुद्ध इंटर कॉलेज संचालित है। स्कूल में विशुनापुर निवासी जिलेदार का पुत्र मुकेश कक्षा छह का छात्र है। शनिवार को मुकेश रोज की तरह विद्यालय में पढ़ने आया था। इस दौरान प्यास लगने पर वह बिना शिक्षक को बताए विद्यालय परिसर में ही लगे हैंडपंप पर पानी पीने पहुंच गया। इसके बाद जब वह वापस कक्षा में लौटा तो साइंस के टीचर बलवीर का पारा चढ़ गया। नाराज अध्यापक ने मुकेश की बेरहमी से जमकर पिटाई कर दी। इससे मुकेश गंभीर रूप से घायल हो गया। पास में मौजूद अन्य शिक्षकों ने मुकेश की हालत देखकर उसके परिवारीजनों की इसकी जानकारी दी। स्कूल पहुंचे परिवारीजनों ने घायल मुकेश को सीएचसी इकौना पहुंचाया। जहां पर चिकित्सकों ने छात्र की हालत गंभीर देखकर उसे बहराइच जिला अस्पताल रेफर कर दिया। रविवार को पीड़ित छात्र के भाई मोहित मिश्रा ने इकौना थाने में शिक्षक बलवीर के विरुद्ध तहरीर दी है। वहीं इस संबंध में शिक्षक बलबीर का कहना है कि मुझ पर लगाए गए सारे आरोप निराधार व मनगढ़ंत हैं। मैने छात्र को नहीं पीटा। जबकि प्रभारी निरीक्षक बीके सिंह बताते हैं कि मामले की तहरीर छात्र के भाई ने दी है। जांच कर आवश्यक कार्रवाई की जाएगी।

Spotlight

Most Read

Delhi NCR

दिल्ली पुलिस की गिरफ्त में आया एक लाख का इनामी बदमाश, करता था ये काम

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने रविवार को एक लाख के इनामी बदमाश को गिरफ्तार किया है।

25 फरवरी 2018

Related Videos

देश को आगे बढ़ाने के लिए महिला सशक्तिकरण जरूरी: नाइक

यूपी के गोरखपुर स्थित सिद्धार्थ यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह में बोलते हुए राज्यपाल राम नाइक ने कहा कि युवा भारत की सबसे बड़ी पूंजी हैं। इस पूंजी का सही ढंग से इस्तेमाल करना एक चुनौती है।

15 दिसंबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen