बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

बरुआ कुठारा पहुंचे वनकर्मियों को ग्रामीणों ने दौड़ाया

ब्यूरो /पीलीभीत Updated Sun, 21 May 2017 10:32 PM IST
विज्ञापन
बरुआ कुठारा पहुंचे वनकर्मियों को ग्रामीणों ने दौड़ाया
बरुआ कुठारा पहुंचे वनकर्मियों को ग्रामीणों ने दौड़ाया

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
 बराही रेंज के बरुआ कुठारा गांव में वन विभाग ने राजस्व प्रशासन की मदद से 110 हेक्टेअर जमीन पर कब्जा हासिल किया था। दूसरे दिन रेंजर के  नेतृत्व मेें टीम लगाए गए पिलर ठीक कर खाई खोदने पहुंची लेकिन ग्रामीणों ने महिलाओं की मदद से टीम को दौड़ा लिया। विरोध को देखते हुए वनकर्मी बिना कुछ किए लौट गए। टाइगर रिजर्व की बराही रेंज से सटे गांव बरुआ कुठारा की 110 हेक्टेअर जमीन पर काफी समय से 73 परिवार काबिज हैं। हाईकोर्ट से केस जीतने के बाद शनिवार को वन विभाग के अधिकारियों ने एसडीएम कलीनगर सूरज यादव के नेतृत्व में पहुंची राजस्व और पुलिस टीम की मदद से जमीन पर कब्जा ले लिया। पैमाइश के बाद वन विभाग ने पिलर भी लगा दिए। हालांकि ग्रामीण विरोध के मूड में थे लेकिन भारी फोर्स को देख हिम्मत नहीं जुटा सके थे साथ ही एसडीएम ने भी वार्ता कर उन्हें पैमाइश व कब्जा छोड़ने को राजी कर लिया था। रविवार को मामला एक बार फिर पलट गया। बराही रेंजर के नेतृत्व में वन विभाग की टीम जेसीबी लेकर गांव पहुंची। टीम एक दिन पूर्व लगाए गए पिलर को पक्का करने के साथ खाई खोदने के लिए गई थी लेकिन वन विभाग की टीम को आता देख ग्रामीण एकत्र हो गए। महिलाएं लाठी डंडे लेकर खेतों पर खड़ी हो गई। ग्रामीणों का आरोप है कि पैमाइश गलत तरीके से की गई है। जमीन पर वह काबिज हैं जब तक उन्हें पट्टा और आवास नहीं मिल जाता वह जमीन नहीं छोड़ेंगे। महिलाओं ने कहा यदि जबरन जमीन कब्जानी है तो पहले हमें गोली मार दो। ग्रामीणों का आक्रोश देखकर वनकर्मी कुछ दूरी पर स्थित सेमल के पेड़ के नीचे खड़े रहे और कुछ देर बाद लौट आए। 
विज्ञापन

राजस्व प्रशासन ने ग्रामीणों से वार्ता के बाद जमीन की पैमाइश का कब्जा दिलाया था। इस पर टीम पहुंची थी लेकिन ग्रामीणों ने काम नहीं करने दिया। पुलिस फोर्स की मदद से पुन: कार्रवाई की जाएगी। - कैलाश प्रकाश, डीएमओ, टाइगर रिजर्व

वार्ता के बाद ग्रामीण ने जमीन जंगल की होना मानकर खाली करने का आश्वासन दिया था। इसी के चलते उनकी झोपड़ियों की जमीन छोड़ दी गई थी। कुछ लोगों को पहले ही आवासीय पट्टे मिल चुके हैं। जिसके पट्टे नहीं हैं उनकी जांच कराकर पट्टा दिलाया जाएगा। - सूरज यादव, एसडीएम, कलीनगर

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us