विज्ञापन

मुजफ्फरनगर

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

यूपी में ताबड़तोड़ हत्याएं: मंत्री और अफसरों के दावों की खुल रही पोल, हाईवे पर हो रहे दिनदहाड़े कत्ल, सबूत हैं ये तस्वीरें

योगी सरकार के मंत्री और पुलिस अधिकारी भले ही सुरक्षा व्यवस्था को लेकर लाख दावे करते हो लेकिन, पश्चिमी यूपी में हुई ताबड़तोड़ हत्याओं ने दावों की पोल खोलकर रख दी है। पश्चिमी यूपी में बदमाश बेखौफ हैं और दिनदहाड़े वारदात को अंजाम दे रहे हैं। जहां मुजफ्फरनगर जिले में बदमाशों ने दो दिनों में दो लोगों की हत्या कर डाली तो वहीं सहारनपुर जनपद में आज यानी गुरुवार सुबह बदमाशों ने दो सगे भाइयों को मौत के घाट उतार दिया। दोनों जिलों में पुलिस तीनों घटनाओं की जांच में जुटी है। पुलिस का दावा है कि जल्द ही इन तीनों घटनाओं का खुलासा किया जाएगा। 

मर्डर केस - 1
हत्यारों ने दोनों युवकों को रोकने के बाद सीधे की फायरिंग
मुजफ्फरनगर में दिल्ली-देहरादून हाईवे पर बुधवार देर रात हुई पब्लिक शूटआउट की घटना ने हाईवे पर पुलिस गश्त के साथ ही थाना पुलिस की मुस्तैदी पर भी गंभीर सवाल खड़े कर दिए हैं। थाने से सिर्फ सौ मीटर की दूरी पर बाइक सवार दो बदमाश पैदल जा रहे दो युवकों पर फायरिंग कर फरार हो गए और थाना पुलिस को इसकी भनक तक नहीं लगी। शोर मचाने पर राहगीरों ने पुलिस को घटना की सूचना दी, जिसके बाद थाना पुलिस मौके पर पहुंची और घायल नरेश व सुदर्शन को जिला अस्पताल भेजा, जहां नरेश को मृत घोषित कर दिया गया।
... और पढ़ें

कातिल भाई: सच जानकर अफसर भी हैरान, शर्म से झुके परिजनों के सिर, आरोपी ने उगला कत्ल का पूरा राज

मेरठ में रेड कारपेट बैंक्वेट हॉल में दूल्हे की भांजी की हत्या का बुधवार को सनसनीखेज खुलासा हुआ। हत्यारोपी कोई और नहीं बल्कि पिलखुआ निवासी मौसेरा भाई विशाल गुप्ता निकला। युवती के साथ उसी ने दुष्कर्म करने का प्रयास किया था और विरोध करने पर गला घोंटकर हत्या कर दी थी। भावनपुर पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर क्राइम सीन भी दोहराया। घटनास्थल पर सिपाही रवि बालियान भी मौजूद था, जिसकी जांच करने का पुलिस दावा कर रही है। 

सोमवार रात बैंक्वेट हॉल में दूल्हे की भांजी की हत्या हो गई थी। परिवार ने सामूहिक दुष्कर्म के बाद हत्या होने का आरोप लगाया था। एसएसपी प्रभाकर चौधरी व एसपी देहात केशव कुमार ने पुलिस लाइन में बताया कि विशाल गुप्ता ने शादी समारोह में युवती को कमरे में बुलाकर दुष्कर्म का प्रयास किया था, विरोध करने पर उसकी हत्या कर दी। वारदात के बाद आरोपी मंडप से बाहर आ गया और करीब दो घंटे बाद वापस शादी समारोह में पहुंचा। युवती का पता न लगने पर विशाल और युवती के भाई के बीच कहासुनी भी हुई थी। विशाल ने परिवार के साथ मिलकर युवती को ढूंढने का नाटक भी किया था।
... और पढ़ें

मुजफ्फरनगर में मुठभेड़: दबोचे गए दो सगे भाई गोकश, पैर में गोली लगने से घायल, 50 किलो गोमांस बरामद

मुजफ्फरनगर जनपद के जानसठ में पुलिस ने मुठभेड़ में दो सगे भाई गोकशों को पकड़ लिया। मुठभेड़ में पुलिस की गोली दोनों गोकश के पैर में लगी। गोली लगने से दोनों गोकश घायल हो गए। पुलिस ने गोकशों के कब्जे से 50 किलो गोमांस बरामद किया है।

सीओ शकील अहमद ने पत्रकारों को बताया कि बुधवार शाम करीब सात बजे मुखबिर के द्वारा कस्बा पुलिस चौकी प्रभारी को सूचना दी गई कि गांव अहरोड़ा पुलिया के पास से दो शातिर गोकश बाइक पर बोरे में गोमांस लेकर गुजरने वाले हैं। चौकी प्रभारी ने पुलिस इंस्पेक्टर को इसकी सूचना दी। इंस्पेक्टर पुलिस बल को साथ लेकर पुलिया पर पहुंचे और घेराबंदी कर दी। पुलिया पर पहुंचते ही बाइक सवार दोनों गोकशों ने पुलिस टीम पर फायरिंग शुरू कर दी। पुलिस ने भी जवाबी कार्रवाई में गोलियां चलानी शुरू कर दी। पुलिस की गोलियां दोनों गोकशों के पैरों में लगी। गोलियां लगते ही दोनों गोकश बाइक सहित गिर गए। 

यह भी पढ़ें:
यूपी: कैराना में गरजे सीएम योगी, बोले- किसी अपराधी ने दुस्साहस किया तो दूसरे लोक भेज देंगे

पुलिस ने दोनों को दबोच लिया। पुलिस ने इनके कब्जे से बाइक, 50 किलो गोमांश, दो तमंचे और कारतूस बरामद किए हैं। पकड़े गए गोकशों ने अपने नाम थाना व गांव ककरौली निवासी राशिद व अरशद हाशिम बताए हैं। दोनों गोकश सगे भाई हैं। पुलिस ने घायल गोकशों को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया। जहां से उनको जिला अस्पताल के लिए रेफर कर दिया। 

यह भी पढ़ें: मौत का खौफ: कैंसर ने छीनीं इतनी जिंदगियां, हर तरफ फैला डर... जान की दुश्मन बनी ये बड़ी वजह, सरकार से मदद की गुहार

इंस्पेक्टर ने बताया कि दोनों गोकश शातिर किस्म के अपराधी हैं। दोनों पर गोकशी के अलावा अन्य संगीन धाराओं में भी अलग अलग थानों में एक-एक दर्जन मुकदमे दर्ज हैं।
... और पढ़ें

Rohtak: नारनौल से मेरठ जा रहे ट्राला चालक और परिचालक से लूट, चाय पीने के लिए रुके थे दोनों

नारनौल से यूपी के मेरठ में डस्ट भरकर जा रहे ट्राला चालक व परिचालक को सांपला के पास हाईवे पर कार सवार दो युवकों ने चाकू से हमला करके लूट लिया। लुटेरे 20 हजार की नकदी व दो मोबाइल फोन लेकर फरार हो गए। इस संबंध में सांपला थाने में केस दर्ज कराया गया है।

पुलिस के मुताबिक यूपी के मुजफ्फनगर जिले के गांव जोला, तहसील बुढाना निवासी 30 वर्षीय मोहम्मद हसन ने बताया कि वह मेरठ की ए टू जेड कालोनी निवासी अनंत राठी के 18 टायरी  ट्राले पर ड्राइवर व उसी के जिले के गांव गंदोर निवासी मोहसिन परिचालक के तौर पर नौकरी करता है। 23 अक्तूबर की रात को दोनों हरियाणा के नारनौल करेसर (डस्ट) लेने गया था। वे रात को डस्ट भरकर मेरठ के लिए चल पड़े। रात करीब 3 बजे सांपला के नजदीक भैंसरू गांव के पास पहुंचे, जहां ट्राला रोककर चाय पीने के लिए रुक गए।

दोनों ने दुकान से चाय बनवाई और ट्राले में बैठकर पीने लगे। इसी बीच सफेद रंग की कार आकर रुकी। उसमें से एक युवक नीचे उतरा और ट्राले में चढ़कर पैसे मांगने लगा। उसने आनाकानी की तो गाली-गलौच करने लगा। इसी बीच दूसरा युवक भी ट्राले में चढ़ गया। दोनों ने जबरदस्ती उससे 17 हजार रुपये, मोबाइल फोन व परिचालक से 3 हजार की नकदी व मोबाइल फोन छीन लिया। जाते समय एक युवक उसके पैर में चाकू मारकर फरार हो गया।
... और पढ़ें
CRIME SCENE CRIME SCENE

खौफनाक: युवक की अधजली लाश मिलने से सनसनी, मौके पर पहुंचे एसएसपी, जल्द खुलेगा राज

मुजफ्फरनगर में भोरा कला थाना क्षेत्र के कस्बा सिसौली में एक युवक की अधजली लाश मिलने से सनसनी फैल गई। मृतक की पहचान नई आबादी निवासी अंकुर (25) के रूप में हुई है। वहीं दिन निकलने पर लोगों को इसकी जानकारी मिली।

घटना की जानकारी लगने पर कस्बे के सैकड़ों लोग मौके पर एकत्र हो गए। गोली मारकर हत्या की आशंका जताई जा रही है। वारदात के बाद हत्यारों ने शव को जलाने की भी कोशिश की है। युवक का शव श्मशान घाट पर अधजली हालत में पड़ा मिला। पुलिस मामले की जांच में जुटी है।

यह भी पढ़ें: 
खौफनाक मंजर: भरभराकर गिरा दो मंजिला मकान, इलाके में मची चीख-पुकार, देखिए हादसे की तस्वीरें

उधर, जानकारी मिलने पर एसएसपी अभिषेक यादव भी पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे और संबंधित थाना पुलिस को जांच के निर्देश दिए।

यह भी पढ़ें: मर्डर की तस्वीरें: गोलियों से भूनकर पूर्व प्रधान की हत्या, फिर गांव में मनाया जश्न, आरोपी बोले- जो भी सामने आएगा मार देंगे
... और पढ़ें

प्रधान के भाई का मर्डर: दो जिलों में तीन हत्याएं... एक व्यक्ति ने किया सुसाइड, खौफनाक हैं ये बड़ी वारदातें

उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर और शामली जनपद में शनिवार को दो खौफनाक वारदात सामने आई। जहां मुजफ्फरनगर में प्रधान के भाई की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई। वहीं शामली में एक व्यक्ति ने अपने दो बच्चों को मौत के घाट उतार दिया। बच्चों की हत्या करने के बाद आरोपि पिता ने खुद भी फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। 

बताया गया कि मुजफ्फरनगर में प्रधान का भाई मोहनवीर पाल शुक्रवार को काम करने के लिए फैक्टरी गया था। लेकिन वह शनिवार तक भी वापस घर नहीं लौटा। इसके बाद परिजनों ने उसकी तलाश की लेकिन वह कही नहीं मिला। वहीं शनिवार शाम को उसकी लाश जंगल में पूर्व प्रधान के खेत में मिली। उधर, शामली हुई सनसनीखेज घटना के बारे में पता चला कि सवित कुछ दिनों पहले अपने दोनों बच्चों को लेकर घर से चला था। वहीं शनिवार को उसने पहले दोनों को बच्चों को मौत के घाट उतार दिया और फिर खुद भी जान दे दी।
... और पढ़ें

मर्डर: प्रधान के भाई की पीट-पीटकर हत्या, खेत में मिली लाश, घर से काम के लिए गया था मोहनवीर

मुजफ्फरनगर जनपद में सिखेड़ा क्षेत्र के गांव भिक्की के जंगल में प्रधान कपिल पाल के चचेरे भाई मोहनवीर पाल उर्फ मोनू (24) की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई। उसका शव पूर्व प्रधान के गन्ने के खेत में पड़ा मिला। 

मोहनपाल उर्फ मोनू क्षेत्र में स्थित कीर्ति फैक्टरी में मजदूरी करता था। शुक्रवार दोपहर में वह फैक्टरी में जाने के लिए घर से कहकर गया था। इसके बाद वह वापस नहीं आया। परिजन सोचते रहे कि वह फैक्टरी में है। 

यह भी पढ़ें: 
शादी की खुशियों में मातम: भीषण हादसे में पति-पत्नी और बेटी की मौत, कार के उड़े परखच्चे, देखिए दर्दनाक तस्वीरें

वहीं शनिवार शाम को गांव के पूर्व प्रधान इस्तकार अपने मजदूरों को लेकर खेत पर गया तो उन्होंने खेत में एक युवक का शव पड़ा देखा। शव के ऊपर गन्ने भी पड़े थे। सूचना मिलने के बाद मौके पर ग्रामीणों की भीड़ जुट गई और पूर्व प्रधान की सूचना पर पुलिस भी पहुंच गई। बाद में शव की शिनाख्त मोनू के रूप में हुई। उसके सिर व शरीर पर चोटों के निशान थे। मृतक के पिता देवेंद्र की तहरीर पर पुलिस ने अज्ञात में मामला दर्ज कर लिया है।

यह भी पढ़ें: वारदात से दहला इलाका: पहले बच्चों को उतारा मौत के घाट, फिर खुद उठाया खौफनाक कदम, देखें मौके की तस्वीरें
... और पढ़ें

मर्डर: अवैध संबंध के शक में पत्नी को उतारा मौत के घाट, चाकू से गर्दन पर किए वार, हत्यारोपी पति गिरफ्तार

हत्या का मामला।
उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले में एक सनसनीखेज वारदात को अंजाम दिया गया। एक व्यक्ति ने अनैतिक संबंध के शक में अपनी पत्नी की गर्दन काटकर हत्या कर डाली। पुलिस ने आरोपी पति को गिरफ्तार कर मामले की जांच शुरू कर दी है। 

ये है मामला

मुजफ्फरनगर के बुढ़ाना में कोतवाली क्षेत्र के गांव शाहडब्बर निवासी ग्राम प्रधान नीरज राठी का बुढ़ाना मुजफ्फरनगर मार्ग पर टाइल्स बनाने का कारखाना है। कारखाने में बिहार निवासी गुलशाद अपनी पत्नी रिफत खातून (30) के साथ मजदूरी का कार्य करता है। गुलशाद को अपनी पत्नी पर शक हुआ। बताया गया कि उसका लगा कि उसकी पत्नी के किसी अन्य व्यक्ति के साथ अनैतिक संबंध है। इसी शक में गुलशाद ने गुरुवार देर रात में अपनी पत्नी रिफत खातून की गर्दन में चाकू से वार कर हत्या कर दी। 

यह भी पढ़ें: 
व्यापारी की मौत का मामला: तेजी से वायरल हो रहा ऑडियो, बहनोई ने पत्नी को लेकर खोला ये बड़ा राज

हत्यारोपी पति गिरफ्तार

उधर, घटना की सूचना मिलते ही इंस्पेक्टर संजीव कुमार पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे। देर रात में ही पुलिस ने शव का पंचनामा भरने के बाद पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया। इस दौरान पुलिस ने मौके से हत्यारोपी पति गुलशाद को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने मौके से चाकू भी बरामद किया है।

यह भी पढ़ें: अडानी समूह बनाएगा गंगा एक्सप्रेसवे : अमरोहा से प्रयागराज तक मिला तीन चरणों का काम
... और पढ़ें

गिरोह का पर्दाफाश: ट्यूबवेल पर बनाते थे तमंचे, पुलिस ने पांच आरोपी दबोचे, तूछताछ में खोले बड़े राज

अवैध हथियार बनाने के नाम से बदनाम मुजफ्फरनगर के जौला गांव में तमंचे और बंदूक बनाने का प्रशिक्षण लेने के बाद जिले के बिसौला गांव में ट्यूबवेल पर फैक्टरी लगाई थी। एक कारीगर दिन में तीन तमंचे बना देता था। मेरठ में इंचौली पुलिस ने गिरोह का खुलासा कर पकड़े गए पांच आरोपियों को कोर्ट में पेश किया। वहां से उन्हें जेल भेज दिया गया। गिरोह में 20 से अधिक लोगों के शामिल होने की जानकारी मिली है।

सीओ सदर देहात पूनम सिरोही ने पांचों आरोपियों को मीडिया से रूबरू कराया। सीओ ने बताया है कि लावड़ क्षेत्र के बिसौला गांव के जंगल में पिंकल अपनी ही ट्यूबवेल पर साथियों के साथ मिलकर तमंचे और बंदूक बनाने का काम करा रहा था। एक सूचना पर एसओ इंचौली श्योराज सिंह और लावड़ चौकी इंचार्ज प्रवीण चौधरी की टीम ने छापा मारा। टीम ने यहां चल रही फैक्टरी से 10 तमंचे, चार बंदूक, हथियार बनाने के औजार, अधबने तमंचे और बंदूकों को बरामद किया।

जौला के सलीम का नाम आया सामने 
गिरोह का सरगना सुल्तान गुर्जर निवासी नैडू फलावदा है। पुलिस के मुताबिक सुल्तान गुर्जर ने जौला में तमंचे-बंदूक बनाना सीखा था। वहां के सलीम नाम के युवक इस नेटवर्क में सामने आया है। सुल्तान अवैध हथियार बनाने के मामले में फलावदा और मोदीनगर से दो बार जेल जा चुका है। 

चुनाव से पहले बढ़ रही हथियारों की मांग
आरोपियों ने बताया कि विधानसभा चुनाव को देखते हुए हथियारों की मांग बढ़ रही थी। इसके चलते वह तेजी से तमंचे और बंदूक बना रहे थे। 3-4 हजार रुपये में तमंचा, 8-10 हजार रुपये में बंदूक बेच रहे थे। मेरठ, मुजफ्फरनगर, बागपत व शामली सहित अन्य जिलों में हथियारों की सप्लाई की गई है।

यह भी पढ़ें: 
कलेजा चीर रहीं ये तस्वीरें: आंखों के सामने जिंदा जल गईं मासूम बेटियां, खौफनाक मंजर देख बेहोश हुईं दोनों मां, सदमे में परिवार
... और पढ़ें

दहेज के लिए हत्या: अदालत ने आरोपी पति को सुनाई उम्रकैद की सजा, सास-ससुर भी होंगे सलाखों के पीछे

उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जनपद में दहेज हत्या के मामले में आरोपी पति को उम्रकैद की सजा सुनाई गई है। सिखेड़ा थाना क्षेत्र के भगवानपुरी में दहेज के लिए विवाहिता की हत्या की गई थी। इस मामले में अदालत ने बुधवार को आजीवन कारावास की सुनवाई हुई। मृतका के ससुर को दस और सास को तीन साल कैद की सजा सुनाई है। फास्ट ट्रैक कोर्ट प्रथम सुमित पंवार ने प्रकरण की सुनवाई की।

एडीजीसी फौजदारी वीरेंद्र नागर ने बताया कि 2016 में दहेज के लिए हत्या की वारदात अंजाम दी गई थी। मृतका के परिवार ने पति, सास-ससुर के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था। पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की। प्रकरण की सुनवाई फास्ट ट्रैक कोर्ट प्रथम सुमित पंवार ने की। 

यह भी पढ़ें: 
खौफनाक मंजर: भरभराकर गिरा दो मंजिला मकान, इलाके में मची चीख-पुकार, देखिए हादसे की तस्वीरें

वहीं बुधवार को तीनों आरोपियों पर दोष सिद्ध हुआ। अदालत ने अभियुक्त पति राजू को उम्र कैद और तीन हजार रुपये अर्थदंड, अभियुक्त सोमपाल को दस साल की सजा और आठ हजार रुपये अर्थदंड, शशि को तीन साल कारावास और तीन हजार रुपये अर्थदंड की सजा सुनाई गई है।

यह भी पढ़ें: भीषण आग से मचा हाहाकार : दुकान के भीतर जलती रहीं तीन जिंदगी, गूंजती रही बेबस परिजनों की चीत्कार
... और पढ़ें

यूपी: अदालत ने पिता-पुत्र को सुनाई उम्रकैद की सजा, बेरहमी से की गई थी कक्षा सात के छात्र की हत्या

मुजफ्फरनगर जनपद में बाबरी थाना क्षेत्र के कैड़ी गांव में खेत में पानी चलाने को लेकर हुए विवाद में कक्षा सात के छात्र की हत्या के मामले में पिता-पुत्र को अदालत ने उम्रकैद की सजा सुनाई है। अभियुक्तों ने छात्र पर छुरी से वार किए थे। अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश कोर्ट संख्या-10 अशोक कुमार ने फैसला सुनाया।

सहायक जिला शासकीय अधिवक्ता परविंदर कुमार और सहायक जिला शासकीय अधिवक्ता कुलदीप कुमार ने बताया कि शामली जिले के बाबरी थाना क्षेत्र के कैड़ी गांव निवासी बिल्लू और अरविंद शर्मा के बीच खेत में पानी चलाने को लेकर विवाद हुआ था। 22 अप्रैल, 2014 को बिल्लू का लड़का कुलदीप गांव के इंटर कॉलेज से कक्षा सात की परीक्षा देकर वापस लौट रहा था। रंजिश के चलते गांव में पहुंचते ही अरविंद शर्मा और उसके बेटे जोनी उर्फ श्रीकांत शर्मा ने छात्र को पकड़ लिया और छुरे से उसके सीने पर कई वार कर हत्या कर दी थी। वारदात के बाद आरोपी फरार हो गए थे। 

यह भी पढ़ें: 
यूपी में ताबड़तोड़ हत्याएं: मंत्री और अफसरों के दावों की खुल रही पोल, हाईवे पर हो रहे दिनदहाड़े कत्ल, सबूत हैं ये तस्वीरें

बताया गया कि वादी घनश्याम ने पिता-पुत्र के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया। पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की। प्रकरण की सुनवाई अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश कोर्ट संख्या-10 अशोक कुमार ने की। धारा 302 में पिता-पुत्र को उम्रकैद और 50-50 हजार रुपये अर्थदंड की सजा सुनाई गई है। शस्त्र अधिनियम में जोनी को तीन साल की सजा और पांच हजार रुपये के अर्थदंड की सजा सुनाई गई।

यह भी पढ़ें: मर्डर की तस्वीरें: सराफ को दिनदहाड़े चाकू से गोदकर मार डाला, सामने आई अनैतिक संबंध की बात, खौफनाक है वारदात

इस तरह हुआ था विवाद
मुकदमे के वादी घनश्याम के चाचा बिल्लू के चक से पड़ोसी अरविंद शर्मा अपने खेत के लिए पानी लेकर जाता था। पानी के रुपयों को लेकर बिल्लू और अरविंद शर्मा के बीच विवाद हो गया। इसी वजह से अरविंद शर्मा और उसके लड़के जोनी ने इस वारदात को अंजाम दिया था। बिल्लू को सबक सिखाने के लिए उसके बेटे कक्षा सात के छात्र कुलदीप की हत्या कर दी गई थी।
... और पढ़ें

यूपी: कोर्ट ने कुख्यात सुशील मूंछ व ब्लॉक प्रमुख समेत पांच पर तय किए आरोप, 18 साल पुराना है ये मामला

मुजफ्फरनगर जनपद के भोपा थाना क्षेत्र में करीब 18 साल पहले अवैध शराब का जखीरा बरामद होने के मामले में कुख्यात सुशील मूंछ, ब्लॉक प्रमुख अनिल राठी सहित पांच आरोपियों पर आरोप तय हो गए हैं। प्रकरण की सुनवाई गैंगस्टर कोर्ट एडीजे-पांच ने की। सबूत के लिए 15 दिसंबर की तिथि तय की गई है। उधर, बचाव पक्ष की ओर से सुशील मूंछ की जमानत अर्जी भी दाखिल की गई है, जिस पर तीन दिसंबर को सुनवाई होगी।

भोपा थाना पुलिस ने 26 फरवरी, 2003 को एक शराब ठेके से हरियाणा निर्मित अवैध शराब बरामद की थी। मौके से दो सेल्समैनों को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया था। इसी मामले में गांव मथेड़ी निवासी कुख्यात माफिया सुशील मूंछ, वर्तमान ब्लॉक प्रमुख मोरना अनिल राठी, ब्रजपाल, गांव करहेड़ा निवासी राजीव व ब्रह्मपाल, गांव बेहड़ा सादात निवासी उदयवीर, रामपुर तिराहा निवासी राजेंद्र व नेपाल के जनपद लुंबिनी निवासी किशन को भी आरोपी बनाते हुए उनके खिलाफ गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई की थी। 

यह भी पढ़ें: 
भीषण आग से मचा हाहाकार : दुकान के भीतर जलती रहीं तीन जिंदगी, गूंजती रही बेबस परिजनों की चीत्कार

आरोपियों ने हाईकोर्ट से गिरफ्तारी पर स्टे ले लिया था। करीब एक साल पूर्व स्टे अवधि खत्म होने पर गैंगस्टर कोर्ट ने सभी आरोपियों के समन जारी कर दिए थे, जिसके बाद ब्लॉक प्रमुख अनिल राठी सहित छह आरोपियों ने कोर्ट में सरेंडर कर दिया था। अन्य आरोपियों के खिलाफ कोर्ट ने गैर जमानती वारंट जारी किए थे। 

यह भी पढ़ें: खौफनाक मंजर: भरभराकर गिरा दो मंजिला मकान, इलाके में मची चीख-पुकार, देखिए हादसे की तस्वीरें

सुशील मूंछ के खिलाफ कुर्की वारंट भी जारी कर दिए गए थे, जिसके बाद सुशील मूंछ ने छह नवंबर को कोर्ट में सरेंडर कर दिया था। एडीजीसी दिनेश पुंडीर ने बताया कि बुधवार को प्रकरण के सभी आरोपी कोर्ट में पेश हुए, जिसके बाद आरोपियों पर अदालत ने आरोप तय कर दिए हैं। नेपाल के किशन की फाइल अलग चल रही है।
... और पढ़ें

मुजफ्फरनगर:  पुलिस और बदमाशों के बीच मुठभेड़, गिरफ्तार बदमाशों ने की थी रेस्टोरेंट कर्मचारी की हत्या

यूपी के मुजफ्फरनजर में मंसूरपुर क्षेत्र में नावला कोठी के पास पुलिस और बदमाशों के बीच मुठभेड़ हुई। फायरिंग कर भाग रहे बदमाशों पर पुलिस ने जवाबी कार्रवाई की। जिसमें गोली लगने से दोनों बदमाश घायल हो गए। पकड़े गए बदमाशों ने पुलिस को बताया कि बाइक टकराने के विवाद में उन्होंने ही रेस्टोरेंट कर्मचारी नरेश मलिक की हत्या कर दी थी।

मंसूरपुर में नेशनल हाईवे-58 पर 17 नवंबर को अज्ञात बदमाशों द्वारा फायरिंग कर नवैद्यम रेस्टोरेंट के कर्मचारी नरेश मलिक पुत्र कमलाकांत की हत्या कर दी गई थी। साथ ही सुदर्शन पुत्र डुल गोविंद गंभीर रूप से घायल हुए थे। 

रविवार को मंसूरपुर पुलिस नावला कोठी के पास गश्त कर रही थी। इसी दौरान दो बदमाशों से पुलिस की मुठभेड़ हो गई। जिसमें पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार करने में सफलता पाई। पकड़े गए आरोपी वंश आनंद पुत्र सुभाष चंद्र निवासी सैनी नगर माल गोदाम रोड खतौली व रवीश नवाज कुरैशी उर्फ नंदू पुत्र मोहम्मद दिलशाद निवासी ग्राम कवाल थाना जानसठ हैं। मुठभेड़ में दोनों घायल हुए हैं।
... और पढ़ें
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00