एक साथ उठी तीन अर्थियां, सैकड़ों आंखें हो गईं नम 

अमर उजाला ब्यूरो खजुरिया। Updated Fri, 13 Jan 2017 11:28 PM IST
Woke up with a three Arthiyan, hundreds of eyes were moist
सड़क हादसा
गमगीन माहौल में शारदा नदी तट पर किया गया अंतिम संस्कार
आजमगढ़ के पास हुए सड़क हादसे में मारे गए कमलापुर गांव के एक ही परिवार के तीन लोगों के शव घर पहुंचते ही परिवार में कोहराम मच गया। शुक्रवार सुबह जब तीन अर्थियां उठीं तो वहा मौजूद सैकड़ों लोगों की आंखें भर आईं। गमगीन माहौल में हजारा शारदा नदी के किनारे शवों का अंतिम संस्कार कर दिया गया।
तीन दिन पहले कमलापुर निवासी पुलकेश अपने निजी चार पहिया वाहन से पत्नी ज्योति चारो और बेटी चाहत को लेकर घर से मिहिपुरवा (बहराइच) गए थे। यहां पर उन्होंने अपने बहनोई महेश सोनी, बहन रजनी सोनी, भांजे मयंक, भांजी दर्पण और शिवान्या को साथ लेकर बनारस अपने रिश्तेदारी में जा रहे थे। इस दौरान बुधवार रात 11 बजे आजमगढ़ से पहले कस्बा कप्तान गंज के पास घना कोहरे के कारण उनकी कार ट्रक से टकरा गयी। हादसे  में कमलापुरी निवासी पुलकेश, उनकी पत्नी ज्योति, पुत्री चाहत के अलावा बहनोई महेश, भांजे मयंक,  भांजी दर्पण की मौके पर मौत हो गई थी। शुक्रवार की सुबह शवों के घर पहुंचते ही कोहराम मच गया और ग्रामीणों की भीड़ उनके घर पर जमा हो गई। एक साथ तीन शव को देखकर सभी की आंखें नम हो गई। गमगीन माहौल में उनका अंतिम संस्कार हजारा की शारदा नदी के किनारे किया गया।

Spotlight

Most Read

National

शादी के उपहार में आई शुभकामना ने बनाया दुल्हन को विधवा

ओडिशा के बोलांगिर जिले के पटनागढ़ में शादी की खुशी में अचानक मातम पसर गया यहां रिसेप्शन समारोह में किसी ने गिफ्ट पैक में विस्फोटक भेज दिया।

24 फरवरी 2018

Related Videos

पर्यटन को बढ़ाने से मिलेगा युवाओं को रोजगार: सीएम योगी

शुक्रवार को दुधवा नेशनल पार्क के टाइगर हैवेन के पास तीन दिवसीय अंतरराष्ट्रीय बर्ड फेस्टिवल का उद्घाटन करने के बाद सीएम योगी ने लोगों को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने पर्यटन को बढ़ावा देकर हजारों युवाओं को रोजगार देने की बात कही।

10 फरवरी 2018

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen