विज्ञापन
विज्ञापन
घर बैठें बनवाएं फ्री जन्मकुंडली, जानें बनते काम बिगड़ने का कारण
Kundali

घर बैठें बनवाएं फ्री जन्मकुंडली, जानें बनते काम बिगड़ने का कारण

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

विज्ञापन
Digital Edition

Kaushambi News:  नहाते वक्त गंगा की लहरों में समाए किशोर व युवक

शक्तिपीठ कड़ा धाम के कुबरी घाट पर सोमवार सुबह नहाते वक्त एक किशोर गंगा नदी में समा गया। करीब घंटे भर की कड़ी मशक्कत के बाद उसका शव बाहर निकाला जा सका। वहीं, लेहदरी घाट पर भी एक युवक डूब गया है। उसकी तलाश की जा रही है। घटना से पीड़ित परिवारों में कोहराम मच गया है। 

सैनी कोतवाली क्षेत्र के गरई गांव का प्रदीप कुमार (15) पुत्र राकेश आठवीं का छात्र था। रक्षाबंधन के त्योहार पर सोमवार सुबह वह साथियों के साथ गंगा नहाने कुबरी घाट गया था। बताया जाता है कि स्नान करते वक्त अचानक पैर फिसल गया और प्रदीप गहरे पानी में समा गया। यह देख आसपास रहे लोग चीख पड़े। शोर-शराबा सुन मौके पर पहुंचे स्थानीय गोताखोर मकबूल ने कड़ी मशक्कत कर करीब घंटे भर बाद किसी तरह प्रदीप के शव को बाहर निकाला।
... और पढ़ें

कौशाम्बी के कोखराज में ट्रक की टक्कर से कार सवार सगे भाइयों की मौैत, मिर्जापुर के थे रहने वाले

कोखराज कोतवाली के समीप शनिवार भोर ट्रक की टक्कर से कार सवार सगे भाइयों की मौत हो गई। ट्रैवल एजेंसी का काम करने वाले दोनों भाई बिजनेस के सिलसिले में कानपुर से वापस अपने घर मिर्जापुर जा रहे थे। घटना के बाद ट्रक चालक गाड़ी छोडक़र भाग निकला। राहगीरों की सूचना पर पहुंची पुलिस ने गाड़ी के कागजात व मृतक के पास मिले मोबाइल से उनकी शिनाख्त कराई। हादसे की जानकारी पर परिवार के लोग भी आ गए हैं। घटना से पीड़ित परिवार में कोहराम मचा हुआ है। पुलिस ने दोनों शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

मिर्जापुर जिले के कोतवाली देहात अंर्तगत शाहपुर चौसा गांव निवासी विजयराज मिश्रा (32) पुत्र स्व. श्यामजीत मिश्रा ट्रैवल्स एजेंसी चलाता था। विजयराज के साथ उसका छोटा भाई विकास मिश्रा (27) भी कारोबार में हाथ बंटाया करता था। शुक्रवार को दोनों भाई कारोबार के चक्कर में अपनी कार से कानपुर गए थे। रात को दोनों अपने घर लौट रहे थे।
 
बताया जा रहा है कि कोखराज कोतवाली के समीप जैसे ही उनकी कार पहुंची तभी सामने चल रहे ट्रक के चालक ने बिना इंडीकेटर दिए गाड़ी मोड़ दिया। इससे पीछे आ रहे कार सवार ट्रक में भिड़ गए। घटना देख कानपुर-प्रयागराज हाईवे से गुजर रहे राहगीरों ने तत्काल पुलिस को खबर दी। मौके पर कोखराज इंस्पेक्टर बलराम सिंह फोर्स के साथ पहुंचे। घायलों को इलाज के लिए ले जाने की व्यवस्था किया जा रहा था।
 
इस दौरान दोनों ने दम तोड़ दिया। पुलिस ने गाड़ी ने गाड़ी के कागजात व मृतक के पास मिले मोबाइल फोन से शव की शिनाख्त की। घटना की जानकारी परिजनों को दे दिया गया। सुबह करीब नौ बजे मृतकों के घरवाले भी आ गए हैं। मामले में विजयराज के साले दीप नरायण की तहरीर पर पुलिस ने घटना की रिपोर्ट दर्ज कर लिया है। इंस्पेक्टर का कहना है ट्रक कब्जे में ले लिया गया है। घटना की रिपोर्ट दर्ज कर शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। जल्द की चालक की पहचान कर उसकी गिरफ्तारी किया जाएगा।
 

घटना से परिजनों का हाल-बेहाल, बिलखते रहे मासूम

कोखराज कोतवाली के समीप ट्रक की टक्कर से कार सवार कारोबारी भाइयों की मौत से उनके परिवार का हाल-बेहाल है। दोनों की कच्ची गृहस्थी है। मौत का शिकार हुए विजयराज की पत्नी सुषमा देवी की रो-रोकर हालत खराब है। विजय की पांच वर्षीय बेटी किट्टू व तीन साल के बेटे बजरंगी भी अपने आंसू नहीं रोक पा रहे हैं। यहीं हाल विकास की पत्नी राधिका का है। विकास के सिर्फ एक साल की बेटी काव्या है। परिवार वालों का रोना देख मौके पर जुटी भीड़ भी गमजदा रही।
... और पढ़ें

Kaushambi News: भूमि विवाद में अधेड़ को गोली मारने वाले ने पुलिस टीम पर झोंका फायर

इलाके के खानपुर गांव में सोमवार रात घर के बाहर सो रहे एक अधेड़ को गोली मारने वाले बेखौफ बदमाश ने गुरुवार सुबह घेेराबंदी कर रही पुलिस टीम पर फायर झोंक दिया। गनीमत ये रही कि गोली किसी को लगी नहीं। पुलिस ने घटना में शामिल पिता-पुत्रों सहित तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

खानपुर निवासी लालचंद्र (45) पुत्र सुखदेव किसानी करके परिवार का खर्च चलाता है। सोमवार रात वह ड्योढ़ी पर चारपाई डालकर सो रहा था। आरोप है कि इस दौरान भूमि विवाद के चलते पड़ोसी दबंग बन्ने मियां उर्फ उस्मान पुत्र सफी मोहम्मद व उसके बेटों रिजवान तथा मानक ने उसे गोली मार दी थी। सीने में गोली लगने से घायल लालचंद्र जिला अस्पताल में भर्ती है। मामले में उसकी पत्नी कंचन देवी की तहरीर पर तीनों आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज हुआ था। पुलिस आरोपियों की तलाश कर रही थी।

इसी बीच गुरुवार सुबह सरायअकिल कोतवाली के एसएसआई राकेश चंद्र शर्मा को सूचना मिली कि आरोपी नंदा के पुरवा के समीप खड़े हैं। वे यमुना पार कर भागने की तैयारी में हैं। खबर मिलते ही पुलिस टीम ने घेराबंदी कर दी। प्रभारी कोतवाल के मुताबिक आरोपी बन्ने मियां उर्फ उस्मान ने देखते ही तमंचे से पुलिस पर फायर झोंक दिया। अच्छा ये रहा कि गोली किसी को लगी नहीं। बाद में जवानों ने दौड़ाकर तीनों आरोपियों को पकड़ लिया। पूछताछ के बाद उन्हें जेल भेज दिया गया है।
... और पढ़ें

अंध विश्वास: जीवित होने की आस में 12 घंटे तक शवों की कराते रहे झाड़-फूंक

स्थानीय कस्बे में सर्पदंश से पिता-पुत्र की मौत होने के बाद उनके शवों की 12 घंटे तक अंत्येष्टि नहीं की गई। घरवाले झाड़-फूंक कराते रहे और शव बर्फ में रखवाकर इलाके के ओझा व तांत्रिक से संपर्क साधते रहे। परिजनों का दावा था कि ओझा दोनों को जिंदा कर देंगे। देर शाम तक सारे प्रयास असफल होने पर पुलिस ने शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

पश्चिमशरीरा थाने के स्थानीय कस्बा निवासी मुकेश (45) पुत्र स्व. धनराज लोक निर्माण विभाग में कर्मचारी था। सोमवार रात मुकेश और उसका एकलौता बेटा दीपू (12) घर के बाहर अलग-अलग चारपाई पर सो रहे थे। भोर में पिता-पुत्र ने सर्प के डसने का शोर मचाया। इसके बाद परिजन और पड़ोसियों को घटना की जानकारी हुई। घरवाले दोनों को अस्पताल ले जाने की बजाय स्थानीय लोगों से झाड़-फूंक कराने लगे। इस बीच पिता-पुत्र की मौत हो गई। घटना की जानकारी पर पहुंचे कोतवाली के उपनिरीक्षक देवव्रत पांडेय दोनों को मृत बताकर शव पोस्टमार्टम के लिए भेजना चाहा।

इस पर परिवार के लोग हंगामा करने लगे। उन लोगों का कहना था कि उन्होंने तांत्रिकों से संपर्क किया है और वे दोनों को जिंदा कर देंगे। इसे लेकर पुलिस पंचनामा भरकर वापस लौट गई। तांत्रिकों के इंतजार में घरवाले पिता-पुत्र के शवों को बर्फ में रखवाकर झाड़-फूंक कराते रहे। मंगलवार शाम छह बजे तक जब तांत्रिक नहीं आए और सारे प्रयास असफल हो गए तो परिजनों ने पुलिस को प्रार्थना पत्र देकर शव का पोस्टमार्टम कराने को कहा। देर शाम पुलिस ने शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।
... और पढ़ें
प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर

पुलिस का ‘हमदर्द’ बनने में मारा गया था पत्रकार फराज असलम

पुलिस का ‘हमदर्द’ बनना पत्रकार फराज असलम की जान के लिए आफत बन गया। गोकशी के आरोप में पकड़े गए आरोपी ने मुखबिरी के शक में फराज से दुश्मनी पाल रखी थी। जमानत पर छूटने के बाद उसने फराज को ठिकाने लगाने का फैसला ले लिया था। पूरामुफ्ती पुलिस और एसओजी की टीम ने आरोपी को गिरफ्तार कर सोमवार को उसका चालान कर दिया। आरोपी के पास से वारदात में इस्तेमाल तमंचा भी बरामद हुआ है।

सोमवार को पुलिस ऑफिस में मीडिया से मुखातिब एसपी अभिनंदन ने बताया कि सात अक्तूबर को पूरामुफ्ती कोतवाली के मलाक मोहीउद्दीनपुर निवासी फराज असलम की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। फराज असलम एक दैनिक समाचार पत्र के संवाददाता थे। इस मामले में घरवालों की तरफ से अज्ञात के खिलाफ हत्या का केस दर्ज कराया गया था। एएसपी समर बहादुर व सीओ चायल केजी सिंह के नेतृत्व में पूरामुफ्ती पुलिस व एसओजी को खुलासे के लिए लगाया गया था। इस मामले में विवेचना के दौरान महगांव के सीबू उर्फ सैफुलहक पुत्र रेहानुलहक का नाम प्रकाश में आया। सीबू को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो उसने हत्या की बात कुबूल कर ली।

सीबू ने बताया पिछले दिनों वह पिपरी कोतवाली से गोवध के मामले में जेल गया था। उसे यकीन था कि फराज असलम ने उसकी मुखबिरी की है। इसी के बाद से उसने ठान लिया था कि फराज को मौत के घाट उतार देगा। इसी के तहत सात अक्तूबर को उसने फराज को बुलाया और गोली मार दी। एक ही गोली में उसकी मौत हो गई। पुलिस ने सीबू की निशानदेही पर वारदात में प्रयुक्त तमंचा बरामद कर लिया है। सोमवार को सीबू को न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेज दिया गया है। सीबू पर इससे पहले पूरामुफ्ती कोतवाली में ही जानलेवा हमले का एक केस दर्ज था।
... और पढ़ें

तकादा करने गए किसान की मौत, नाश्ते में जहर देकर मार डालने का आरोप

महेवाघाट कोतवाली क्षेत्र के हिनौता गांव में तकादा करने गए एक किसान को दबंग ने नाश्ते में जहर दे दिया। जिससे उसकी मौत हो गई। घटना से पीड़ित परिवार में कोहराम मच गया है। मृतक की पत्नी की तहरीर लेकर पुलिस मामले की जांच कर रही है। पुलिस का कहना है कि विसरा केस दर्ज करने के लिए विसरा रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है। 

महेवाघाट के टिकरा गांव की मेनका सिंह ने बताया कि उसका पति रतन सिंह किसानी करके परिवार का खर्च चलाता था। पीड़िता की माने तो पति ने करीब आठ महीना पहले हिनौता निवासी एक व्यक्ति के हाथ अपनी ढाई बीघा जमीन बेची थी। जमीन बेचने के बाद कुछ रुपया खरीदार पर बकाया था। बताया कि मंगलवार को पति जमीन खरीदने वाले के घर तकादा करने गए थे। आरोप है कि क्रेता ने उसको नाश्ते में जहर दे दिया। जिससे हालत बिगड़ गई। महिला का कहना है कि पति ने घर आकर उसको पूरी बात बताई थी।

इसके बाद बेटा और भतीजा पति को लेकर निजी अस्पताल गए। जहां से हालत नाजुक देख डॉक्टर ने जिला अस्पताल रेफर कर दिया। संयुक्त जिला चिकित्सालय में रतन सिंह की सांसें थम गई। किसान की मौत के बाद से पीड़ित परिवारीजनों की रो-रोकर हालत खराब है। पोस्टमार्टम में मौत पर स्थिति साफ नहीं हो सकी, इस कारण डॉक्टरों ने विसरा सुरक्षित कर दिया है। पुलिस का कहना है कि इसकी रिपोर्ट जल्द मंगवाने का प्रयास किया जा रहा है। 
  • पीएम में मौत की स्थिति साफ नहीं है। डॉक्टरों ने विसरा प्रिजर्व किया है। विसरा रिपोर्ट जल्द मंगवाने का प्रयास किया जा रहा है। उसी के आधार पर रिपोर्ट लिखकर आरोपियोेंके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। केपी सिंह-इंस्पेक्टर, महेवाघाट
... और पढ़ें

कोरोना संक्रमण से मुक्त हुआ जिला कारागार, डीजीपी ने की सराहना

जिला कारागार के बंदी व स्टाफ पूरी तरह से कोरोना संक्रमण से मुक्त हैं। बुधवार को डीजीपी जेल आनंद कुमार ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए कोविड-19 को लेकर कराई जाने वाली जांच की समीक्षा की तो कौशांबी का कारागार मंडल में पहले स्थान पर आया। यहां बंद व स्टाफ की सौ फीसदी जांच हो चुकी है।
जेल अधीक्षक बीएस मुकुंद ने बताया कि बुधवार को सूबे के सभी जनपदों की समीक्षा की गई थी। जिसमें कई जनपदों में बंदी व स्टाफ की कोविड-19 की जांच काफी कम पाई गई। इस पर डीजीपी ने नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि कम से कम 50 फीसदी जांच हर जेल में होनी चाहिए। इसके बाद कौशाम्बी में इसका पूरी तरह अमल किया गया।
इस बाबत जेल अधीक्षक का कहना है कि कौशांबी कारागार कोरोना टेस्ट के मामले में पहले स्थान पर रहा। बताया कि जिला कारागार में आठ सौ बंदी और 66 स्टाफ हैं। सभी की लगभग दो बार जांच हो चुकी है। सभी की रिपोर्ट निगेटिव है। इसके अलावा नए बंदियों को जेल के सामने बने अस्थाई जेल आईटीआई में रखा जाता है। वहां आने वाले बंदी की एंटीजन किट से जांच कराई जाती है।
इसके बाद उसे वहीं पर 14 दिन तक क्वारंटीन रखा जाता है। 14 दिन की अवधि पूरी होने पर स्वॉब सैंपल की जांच कराने के बाद ही नए बंदी को जिला कारागार में भेजा जाता है। अस्थाई कारागार के अंदर की व्यवस्था जेल प्रशासन की होती है। बाहरी व्यवस्था पुलिस करती है। यही कारण है कि 14 अगस्त के बाद से लेकर अब तक कारागार के बंदी व स्टाफ संक्रमित नहीं हुए। इससे पहले जो 14 लोग संक्रमित मिले थे, वह भी इलाज के बाद अब पूरी तरह से स्वस्थ होकर कारागार आ गए हैं।
... और पढ़ें

अनदेखी की आंच में झुलसकर मुरझा गए 40 % पौधे

जिले में पौधरोपण अभियान के तहत हरियाली बिखेरने के दावे लापरवाही की आंच में झुलस गए हैं। यहां जुलाई-अगस्त में वृहद पौधरोपण अभियान के तहत लगाए गए पौधों में 40 फीसदी से ज्यादा सूख गए हैं। इसकी वजह अनदेखी और सुरक्षा उपकरणों का पर्याप्त इंतजाम नहीं होना है। ऐसा नहीं कि विभागीय अधिकारियों को इसकी जानकारी नहीं है। अफसर सबकुछ जानकर भी अंजान बने हुए हैं।
कौशाम्बी जनपद के विभिन्न स्थानों पर पिछले वर्ष पांच जुलाई को 18 लाख 42 हजार 706 पौधे रोपे गए थे। जबकि लक्ष्य 17 लाख 91 हजार 600 का ही था। इसके बाद अगस्त में एक लाख 67 हजार 633 पौधों का रोपण किया गया। वन विभाग ने यहां पौधे तो लक्ष्य से कई कदम आगे बढ़कर रोपित करा दिए मगर, रोपण के बाद इनकी देखभाल करना भूल गए । परिणाम रहा कि 40 फीसदी से अधिक पौधे सूख गए। विभाग का मानना है कि 10 फीसदी पौधे सूखते हैं, लेकिन जमीनी हकीकत बताने को काफी है।
जिले में पहले से ही वन क्षेत्र शून्य है। बावजूद इसके ट्री गार्ड, ईंट का सुरक्षा कवच आदि का इंतजाम कर पौधों को बचाने का प्रयास नहीं किया जा रहा है। खुद डीएफओ बताते हैं कि जिले भर में करीब 150 ट्री गार्ड और छह सौ के आसपास ईंट के सुरक्षा कवच बनाए गए हैं। बाकी स्थानों पर पौधों की हिफाजत भगवान भरोसे है। हालांकि अफसर इसके लिए स्कूलों की चहारदीवारी, तालाब की बाउंड्री आदि का हवाला देते हैं। बड़ी बात यह है कि जिलाधिकारी कार्यालय परिसर में लगे पौधों को भी नहीं बचाया जा सका है। अन्य कार्यालयों का भी यही हाल है। तमाम पौधे पशुओं का निवाला बन गए तो अधिकतर सूख गए हैं।
अफसर के पौधे भी सूखे
मंझनपुर। जिले के प्रभारी मंत्री चंद्रिका प्रसाद उपाध्याय ने पांच जुलाई को मंझनपुर स्थित निर्माणाधीन बस डिपो में पौधरोपण किया था। यहां जनपद के सभी विधायक व अन्य नेता तथा अफसर मौजूद थे। प्रभारी मंत्री के द्वारा रोपा गया पौधा सूखकर गायब हो चुका है। ऐसे ही नोडल अफसर नीना शर्मा (सचिव अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास) ने लेहदरी गांव के समीप गंगा किनारे पौधरोपण किया था। उनके रोपित पौधे का भी कहीं नामोनिशान नहीं मिल रहा है।
... और पढ़ें

Prayagraj News: प्यार के जाल में फांस की कोर्ट मैरिज, फिर युवती का धर्म बदलवा देने लगा यातनाएं

कौशाम्बी के समदानी खान ने गुजरात जाकर एक युवती से कोर्ट मैरिज कर ली। इस दौरान उसका धर्म परिवर्तन भी करा दिया। लॉकडाउन के दौरान वह युवती के साथ घर लौट आया। इस बीच युवती ने अपने मायके फोन कर पति व ससुराल के लोगों द्वारा प्रताड़ित करने का आरोप लगाया। युवती ने गुजरात के तमाम अधिकारियों के साथ हिंदू युवा वाहिनी के पदाधिकारियों को भी ट्वीट कर दिया। बुधवार को युवती के मायके वाले गुजरात पुलिस के साथ आए और युवती को लेकर चले गए। समदानी नहीं मिला। गुजरात में एफआईआर दर्ज हुई है। उसे वहीं बुलाया गया है। 

 कौशाम्बी के कड़ा का रहने वाला समदानी खान करीब सात साल पहले रोजगार के लिए गुजरात गया था। वह नौसारी में एक होटल में काम करता था। होटल के पास रहने वाली एक युवती से उसकी नजदीकियां बढ़ीं तो करीब छाई साल पहले दोनों ने सूरत जाकर कोर्ट मैरिज कर ली। युवती का आरोप है कि समदानी ने शादी करने के बाद उसका नाम और धर्म बदलवा दिया।

कुछ दिनों तक वह युवती को लेकर गुजरात में ही इधर-उधर रहते हुए होटलों में नौकरी करता रहा। लॉकडाउन में होटल बंद हुआ तो वह युवती को लेकर अपने घर कड़ा चला आया। घर आने के बाद समदानी का रवैया बदल गया। वह परिजनों के साथ मिलकर बात-बात पर उसके साथ गालीगलौज करता था। विरोध करने पर कमरे में बंद कर पिटाई भी करता था। एक बार तो उसने गर्म चिमटे से जला दिया था।

युवती के मुताबिक वह सात माह की गर्भवती है। इसकी जानकारी होने के बाद भी पति व ससुराल वालों को उस पर तरस नहीं आ रहा था। दो दिन पहले उसने मौका देखकर किसी तरह मायके फोन किया और आपबीती बताई। हिंदू युवा वाहिनी और गुजरात के कुछ अधिकारियों को भी ट्वीट किया। इतना ही नहीं, उसने गुजरात के डीजीपी और गृहमंत्री को भी ट्वीट कर जानकारी दी। जिसके बाद परिजनों ने नौसारी में एफआईआर दर्ज कराई। बुधवार को गुजरात के नौसारी थाने से दरोगा एमपी पटेल के साथ उसके मायके वाले आए और युवती को साथ ले गए। मामले में कड़ा कोतवाली में किसी तरह का कोई केस नहीं दर्ज कराया गया है।

हिंदू जागरण मंच और युवा वाहिनी ने कराया शुद्धिकरण

धर्म परिवर्तन से जुड़े मामले की जानकारी के बाद हिंदू जागरण मंच और हिंदू युवा वाहिनी भी सक्रिय हो गई। संगठन के लोगों को जैसे ही इसकी जानकारी मिली, महानगर अध्यक्ष राजेश त्रिपाठी के नेतृत्व में गई एक टीम गुजरात पुलिस के साथ कड़ा पहुंच गई। इसके बाद चंद्र नारायण, राजू उपाध्याय, विपुल मणि, श्रीमती अंजलि और महेंद्र नाथ सिंह आदि ने युवती से बात कर उसको सुरक्षा का भरोसा दिलाया। संगठन युवती को कड़ा धाम लेकर भी गई, जहां विधि विधान से पूजन किया। संगठन का कहना है कि युवती का शुद्धि करण भी कराया गया।
  • गुजरात की पुलिस युवती के परिजनों के साथ आई थी और उसे साथ लेकर चली गई है। युवक को भी वहां बुलाया गया है। युवती के परिजनों ने यहां कोई केस दर्ज नहीं कराया है। युवती का बयान भी गुजरात की पुलिस ने ही लिया है। - राकेश तिवारी, कड़ा कोतवाल
... और पढ़ें

Kaushambi News: कौशाम्बी में कोविड-19 की जांच करने पहुंची स्वास्थ्य टीम से अभद्रता, एंबुलेंस फूंकने की कोशिश

कोविड-19 की जांच करने करारी इलाके के अगियौना गांव पहुंची स्वास्थ्य टीम से गुरुवार को दबंगों ने अभद्रता की। यहां तक कि चिकित्सा कर्मचारियों का वाहन फूंकने का भी प्रयास किया। डॉक्टरों ने किसी तरह मौके से हटकर अपनी जान बचाई। मामले में एक नामजद व दस अज्ञात के खिलाफ रिपोर्ट लिखी गई है। पुलिस आरोपियों की तलाश कर रही है। 

मंझनपुर प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र के डॉ. अरुण केसरवानी व डॉ. अलीमा खातून बुधवार को भी अपनी टीम के साथ कोरोना की जांच करने अगयिौना गए थे। तब वहां एंजीटन किट की जांच में चार लोग पॉजिटिव पाए गए थे। गुरुवार को डॉक्टरों की टीम संक्रमित मिले इन मरीजों के परिजनों की जांच करने पहुंची थी।

डॉ. अरुण ने बताया कि गांव पहुंचते ही एक दबंग ने करीब दस साथियों के साथ मिलकर अपशब्द कहना शुरू कर दिया। उसने मिट्टी का तेल छिड़ककर वाहन फूंकने की कोशिश की। महिला चिकित्सकों तक से अभद्रता की। माहौल बिगड़ता देख डॉक्टरों की टीम जान बचाकर वहां से भाग निकली। साथ ही डॉ. अरुण ने मामले की जनकारी सदर एसडीएम राजेश चंद्रा व करारी पुलिस को दे दी। खबर मिलते ही एसडीएम पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे।

अफसरों की मौजूदगी में डॉक्टरों ने कोविड जांच करने का प्रयास किया लेकिन इसके लिए सिर्फ सात लोग ही राजी हुए। बाकी का कहना था कि जांच फर्जी तरीके से की जा रही है। संक्रमितों के परिजनों तथा संपर्कियों की भी जांच नहीं हो पाई है। घटना को लेकर जिले भर के कोरोना वॉरियर्स में आक्रोश है। उनका कहना है कि लोग सहयोग नहीं करेंगे तो फिर संक्रमण से जंग जीतना मुश्किल हो जाएगा। उधर, करारी पुलिस ने दबिश देकर आरोपियों को पकड़ने का भी प्रयास किया, पर कामयाबी नहीं मिल सकी। 
  • डॉक्टर की तहरीर पर मास्टर नाऊ के खिलाफ नामजद व दस अज्ञात के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। आरोपियों की तलाश में संभावित ठिकानों पर दबिश दी जा रही है। जल्द ही सभी को पकड़कर जेल भेजा जाएगा। अशोक कुमार-इंस्पेक्टर, करारी
... और पढ़ें

कौशाम्बी में वज्रपात से सगी बहनों समेत तीन की मौत

इलाके में मंगलवार की दोपहर बारिश के दौरान गिरी बिजली की चपेट में आने से दो सगी बहनों की मौत हो गई, जबकि मां-बेटी गंभीर रूप से झुलस गईं। दोनों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इसी तरह एक अन्य घटना में बकरी चराने गया किशोर भी बिजली की चपेट में आ गया, जिससे उसकी मौके पर जान चली गई। पुलिस ने पंचनामा भरकर शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। हादसे के बाद से पीड़ित परिवारों में कोहराम मचा हुआ है।

चायल तहसील के गौसपुर गांव निवासी शंकरलाल मजदूरी कर परिवार का गुजारा करता है। मंगलवार की दोपहर तकरीबन दो बजे उसकी पत्नी सरला देवी (45) अपनी बेटियों अर्चना (17), संजना (10) तथा आंचल (6) के साथ बस्ती से बाहर खेत में धान की निराई करने जा रही थी। रास्ते में अचानक तेज बारिश होने के साथ ही गरज के साथ बिजली गिरी, जिसकी चपेट में आने से आंचल की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि सरला व दो अन्य बेटियां गंभीर रूप से झुलस गईं।

मौके पर पहुंचे ग्रामीणों ने आननफानन झुलसी मां-बेटियों को इलाज के लिए नजदीकी अस्पताल पहुंचाया। अस्पताल में इलाज शुरू होने के घंटे भर बाद ही संजना की भी मौत हो गई। इसी तरह चायल तहसील के ही जुनैदपुर काजीपुर गांव निवासी हीरालाल ईंट-भट्ठे पर मजदूरी करता है। बताया जा रहा है कि हीरालाल का बेटा रामकरन (15) मंगलवार की शाम चार बजे बस्ती के बाहर महुआ की बाग में बकरी चराने गया था। वह भी बिजली की चपेट में आ गया, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। 
... और पढ़ें

Prayagraj Crime News: मूकबधिर किशोरी को अगवा किया, दरिंदगी के बाद मार डाला

पूरामुफ्ती कोतवाली इलाके में गुरुवार को अपहरण कर दरिंदगी के बाद एक मूकबधिर किशोरी की गला घोटकर हत्या कर दी गई। घटना के करीब छह घंटे बाद पुलिस ने घेरकर आरोपी को पैर में गोली मार दी। फिर उसे गिरफ्तार कर लिया। मृतका के पिता की तहरीर पर दरिंदे के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की गई है। सनसनीखेज वारदात को लेकर ग्रामीणों में आक्रोश है।

पूरामुफ्ती कोतवाली इलाके का एक व्यक्ति किसानी करके परिवार का खर्च चलाता है। गुरुवार को उसकी 16 वर्षीय मूकबधिर बेटी अपनी मां व बहन के साथ खेत गई थी। दोपहर करीब दो बजे मां ने मूकबधिर किशोरी को पानी लाने के लिए घर भेजा। वह काफी देर तक नहीं लौटी तो सभी परेशान हो गए।

खोजबीन के दौरान देर शाम गांव के बाहर झाड़ियों के बीच किशोरी का खून से लथपथ शव मिला। लाश के आसपास ही ग्रामीणों ने गांव के एक युवक को परेशान हालत में देखा। उससे पूछताछ करने का प्रयास किया गया तो वह भाग निकला। किशोरी के कपड़े उतरे हुए थे। उसके चेहरे पर खरोचे जाने के निशान थे।

लिहाजा ग्रामीणों को दुष्कर्म के बाद हत्या की आशंका हो गई। उधर, घटना की जानकारी मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने जांच कर मृतका का शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। पुलिस ने ग्रामीणों के बताए जाने के अनुसार लाश के इर्द-गिर्द मंडरा रहे युवक को पकड़ने का प्रयास किया तो वह भागने लगा।

लिहाजा पुलिस वालों ने घेरकर उसे पैर मेें गोली मार दी। फिर गिरफ्तार कर लिया। सीओ चायल केजी सिंह के मुताबिक आरोपी युवक ने रास्ते से अगवा कर दुष्कर्म के बाद दुपट्टे से गला घोटकर हत्या करने का जुर्म कुबूल किया है। उसको जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उपचार के बाद जेल भेजा जाएगा। एसपी अभिनंदन ने भी कई कोतवाली की फोर्स तथा फील्ड यूनिट के साथ घटनास्थल का निरीक्षण किया है।
... और पढ़ें

Prayagraj Crime News: करोड़ों की संपत्ति हड़पने के लिए जीजा ने ही की थी एयरपोर्टकर्मी की हत्या

एयरपोर्ट के संविदाकर्मी राजीव उर्फ राजू हत्याकांड का पुलिस ने मंगलवार को खुलासा कर दिया। राजीव की हत्या उसके जीजा ने करोड़ों की जमीन हड़पने के इरादे से अपने अपने तीन दोस्तों के साथ मिलकर की थी। पुलिस ने आरोपी व उसके दोस्त को गिरफ्तार कर मृतक की बाइक, जला हेलमेट और आल्टो कार बरामद कर ली। पुलिस ने मामला दर्ज कर आरोपियों को जेल भेज दिया। दो अन्य फरार आरोपियों की तलाश की जा रही है।

पिपरी कोतवाली के जलालपुर घोषी का रहने वाला राजीव उर्फ राजू पुत्र रामनाथ कुशवाहा बम्हरौली एयरपोर्ट पर संविदाकर्मी था। सात अगस्त को वह घर से ड्यूटी के लिए निकला था। देर शाम तक घर नहीं लौटने पर परिजनों ने मोबाइल पर संपर्क किया तो वह बंद मिला। खोजबीन के बाद भी कोई सुराग नहीं मिलने पर घरवालों ने कोतवाली में गुमशुदगी दर्ज कराई। इसी बीच नौ अगस्त को फतेहपुर जनपद के असोथर क्षेत्र में नहर किनारे एक अधजला शव मिला।

सूचना पर पहुचे राजीव के परिजनों ने शव कीशिनाख्त की।इस पर एसपी अभिनंदन ने हत्या के खुलासे के लिए इंस्पेक्टर विजय कुमार राय के साथ ही एसओजी को लगाया। पुलिस ने मृतक राजीव समेत आधा दर्जन लोगों के मोबाइल नंबर सर्विलांस पर लगाए तो सुराग मिलने लगे। घटना के दिन राजीव के जीजा फतेहपुर जनपद के नरैनी निवासी वीरेंद्र की लोकेशन उसके साथ मिली। यह भी पता चला कि घटना के बाद से वीरेंद्र घर से फरार है। इस पर पुलिस का शक यकीन में बदल गया। मुखबिर की सूचना पर पुलिस टीम ने मंगलवार सुबह वीरेंद्र को घर से दबोच लिया। कड़ाई से पूछताछ करने पर उसने अपने साले राजीव की हत्या का जुर्म कुबूल कर लिया।

वीरेंद्र ने पुलिस को बताया कि सात अगस्त को वह फतेहपुर के मुराइन टोला निवासी अपने दोस्त राजू वैरागी के साथ बम्हरौली पहुंचा था। छोटी बहन के लिए रिश्ता देखने के बहाने वह राजीव को अपनी आल्टो कार से फतेहपुर ले गया। वहां शहर में पानी टंकी के पास दो अन्य दोस्त विपिन व मुलायम मौर्य पहले से मौजूद थे। सभी ने वहां शराब पी। इसके बाद राजीव की झलवा स्थित करोड़ों की जमीन को लेकर सौदेबाजी शुरू हुई। विरोध करने पर उसकी हत्या कर कार शव को नहर किनारे फेंक दिया। पहचान छिपाने के लिए अगले दिन फिर जाकर शव पर पेट्रोल छिड़ककर आग लगा दी। पुलिस ने वीरेंद्र के साथ उसके दोस्त विपिन को भी गिरफ्तार कर लिया। एएसपी समर बहादुर ने मंगलवार को प्रेस कांफ्रेंस कर घटना का खुलासा किया।
... और पढ़ें
Ishwardin
Ishwardin
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X