विज्ञापन
विज्ञापन
मौनी अमावस्या पर गया में कराएं तर्पण, हर तरह के ऋण से मिलेगी मुक्ति : 24 जनवरी 2020
Astrology Services

मौनी अमावस्या पर गया में कराएं तर्पण, हर तरह के ऋण से मिलेगी मुक्ति : 24 जनवरी 2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

बिजनौर

मंगलवार, 21 जनवरी 2020

देश भर में फैला है सॉल्वर गैंग का जाल, पद के हिसाब से एक करोड़ तक लेते हैं रकम, गढ़ बना यह जिला

बिजनौर में सॉल्वर गैंग कई सालों से सक्रिय है। बैंक में नौकरी लगवाने से लेकर एमबीबीएस की परीक्षा पास कराने के लिए गैंग मोटी रकम लेता है। गैंग के सदस्यों के तमाम बड़े लोगों से ताल्लुक हैं। गैंग चोरी छिपे अपने काम को अंजाम देता रहता है। हर विभाग में पद के हिसाब से भर्ती की रकम तय की जाती थी।

मुजफ्फरनगर में लोअर पीसीएस परीक्षा पास कराने में पकड़े गए गैंग में बिजनौर के भी युवक शामिल हैं। बिजनौर की कुटिया कॉलोनी निवासी अमित कुमार, विशेषांक, हरेंद्र सिंह को पुलिस ने दबोचा है, जबकि विवेक फरार हो गया। बिहार के रोहताश जिले का मुकेश बिजनौर के हीमपुरदीपा थाने के गांव टुंगरी के ऋषभ कुमार की जगह परीक्षा दे रहा था। मुकेश को पकड़ने पर ही गैंग का खुलासा हुआ। पुलिस ने ऋषभ को भी दबोच लिया है।

पुलिस सूत्रों के मुताबिक गैंग का पूरे देश में जाल फैला हुआ है। किसी भी परीक्षा को पास कराने का गैंग ठेका ले लेता है। कई सालों से बिजनौर में गैंग सक्रिय है। गैंग के सदस्य मेरठ में भी दबोचे जा चुके हैं। शेरकोट में हरेवली मार्ग पर राकेश कुमार का दुर्गा महाविद्यालय है। महाविद्यालय का वह खुद प्रधानाचार्य है। 19 नवंबर 2018 को एसटीएफ मेरठ ने राकेश को यूपी टीईटी का फर्जी पेपर बनाते हुए दबोचा था। उसके कई साथी भी बाद में पकड़े गए थे।
... और पढ़ें

रिमांड पर बड़े राज खोलेगा गिरोह का सरगना, विदेशों में फैला था नेटवर्क, सामने आएगी असली सच्चाई

बसपा नेता मर्डर केस: शूटरों की मदद करने वाले दो दबोचे, ऐसे दिया था वारदात को अंजाम

बिजनौर जिले में बसपा नेता एवं प्रॉपर्टी डीलर मोहम्मद अहसान और उनके भांजे के हत्यारोपियों की मदद करने वाले दो आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। गिरफ्तार युवकों में से एक हत्यारोपी के खाते में बैंक के माध्यम से धनराशि जमा कराने का आरोप है।

नजीबाबाद में दिनदहाड़े शार्प शूटरों ने बसपा नेता मो.अहसान की गुरुद्वारे के निकट उनके प्रतिष्ठान पर गोली मारकर हत्या की थी। अहसान का भांजा शादाब खान भी घटना में मारा गया था। दोहरे हत्याकांड में पुलिस ने कनकपुर निवासी शाहनवाज अंसारी, राहूखेड़ी निवासी दानिश, उब्बनवाला निवासी जब्बार व दानिश को चिह्नित किया था। एक आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार किया था। तीन मुख्य आरोपी फरार हैं। 

यह भी पढ़ें: 
तस्वीरें: बदमाशों ने अपनाया ये शातिराना अंदाज, ऐसे किया बसपा नेता और भांजे का मर्डर

वहीं पुलिस ने शाहनवाज अंसारी के खाते में नकदी डालकर उसकी आर्थिक रूप से मदद करने वाले टांडा माईदास और किशनपुर के दो युवकों को गिरफ्तार किया है। पुलिस पहले भी हत्यारोपियों के कुछ मददगारों को गिरफ्तार कर चुकी हैं। 28 मई को हुए दोहरे हत्याकांड के आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस कई राज्यों की खाक छान चुकी है। सीओ महेश कुमार, थाना प्रभारी संजय पांचाल के निर्देशन में कई टीमें हत्यारोपियों के ठिकानों की तलाश में लगी हैं।

नोट- इन खबरों के बारे आपकी क्या राय हैं। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं।

शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें


https://www.facebook.com/AuNewsMeerut/
... और पढ़ें

डबल मर्डर: हत्यारोपियों ने आखिरी दम तक किए वार, पोस्टमार्टम रिपोर्ट से खुला कत्ल का राज

दोनों सगे भाइयों के फाइल फोटो दोनों सगे भाइयों के फाइल फोटो

बदला लेने के लिए बिजनौर CJM कोर्ट में बरसीं ताबड़तोड़ गोलियां, पेशी पर आए हत्यारोपी का मर्डर

सीजेएम कोर्ट में कुख्यात शाहनवाज की हत्या

यहां छिपे हैं कमलेश तिवारी के हत्यारे, देर रात मचा हड़कंप, ढूंढने में जुटे पुलिस अधिकारी

बसपा नेता हत्याकांड: दबोचे गए आरोपियों ने उगला गहरा राज, सरगना देता था करोड़पति बनने का लालच

बिजनौर जिले में नजीबाबाद के प्रॉपर्टी डीलर व बसपा नेता हाजी अहसान व उनके भांजे शादाब की हत्या में शामिल 25 हजार के इनामी बदमाश, दो प्रॉपर्टी डीलर सहित छह लोगों को पुलिस ने दबोचा है। इनमें से तीन आरोपी रंगदारी मांगते थे। अब तक दस लाख रुपये से ज्यादा की रंगदारी वसूल चुके थे। इन लोगों के मोबाइल फोन से कई बड़े लोगों के नंबर मिले हैं। गैंग का सरगना अपने साथियों को करोड़पति बनने का लालच देता था। 

एसपी संजीव त्यागी ने बताया कि गत 28 मई को प्रॉपर्टी डीलर हाजी अहसान व उनके भांजे शादाब की नजीबाबाद में गोलियां बरसाकर हत्या कर दी गई थी। इस मामले में गांव कनकपुर निवासी शूटर दानिश सहित कई लोगों को पुलिस दबोच चुकी है। दिल्ली पुलिस ने गैंग के सरगना शाहनवाज व शूटर अब्दुल जब्बार को गिरफ्तार किया था। हत्या की साजिश रचने में शामिल नजीबाबाद के गांव उब्बनवाला निवासी शूटर इकरार, नगीना देहात के गांव टांडा माईदास निवासी अफजाल, गांव कनकपुर निवासी दानिश उर्फ सोनू, नजीबाबाद के मोहल्ला पठानपुरा जाफ्तागंज निवासी आसिफ, गांव पाना हीमपुर निवासी असलम व गांव अलावलपुर निवासी इरशाद को दबोचा है। इकरार के पास से एक तमंचा, दो कारतूस व इरशाद के पास से बाइक व उसके पुर्जे बरामद हुए हैं। बाइक को कटवा दिया गया था।

यह भी पढ़ें: 
डबल मर्डर: बसपा नेता हाजी अहसान का था बड़ा कारोबार, बनना चाहते थे विधायक, देखें ये 11 तस्वीरें
... और पढ़ें

पेद्दा ट्रिपल मर्डर केस: 12 आरोपियों को हाईकोर्ट से मिली जमानत, तीन साल से बंद थे जेल में

बिजनौर जनपद में करीब तीन वर्ष पूर्व गांव पेद्दा में हुए ट्रिपल मर्डर के मामले में जेल में बंद 12 आरोपियों को शनिवार को हाईकोर्ट से जमानत मिल गई। यह आरोपी तीन साल से जेल में बंद थे। 

गत 16 सितंबर 2016 को ग्राम पेद्दा में लड़की से छेड़छाड़ पर हुए विवाद में गोली लगने से गांव के ही तीन लोगों की मौत हो गई थी और 12 लोग घायल हो गए थे। इस मामले में 27 लोगों को नामजद किया गया था। बाद में भाजपा नेता ऐश्वर्य चौधरी एडवोकेट एवं अरुण कबाड़ी का भी नाम विवेचना के दौरान शामिल किया गया था। इस मामले में अरुण चौधरी की पहले ही जमानत हो चुकी है और ऐश्वर्य उर्फ मौसम चौधरी को अदालत ने बरी कर दिया है। 

हाईकोर्ट के अधिवक्ता भुवनेश कुमार सिंह ने बताया कि शनिवार को संसार सिंह, सोनी उर्फ राहुल, राजू उर्फ राजीव, नितिन, ओमपाल, अनुज, पंकज, सोमपाल उर्फ रिंकू, राजपाल सिंह, कैलाश, तेजपाल, कोमल सिंह को इस मामले में हाईकोर्ट से जमानत मिली है।

यह भी पढ़ें: 
भाजपा विधायक के पति ने चिकित्सक को पीटा, पेद्दा कांड को लेकर सुर्खियों में रहे थे ऐश्वर्य
... और पढ़ें

मौलाना ने की थी घोषणा, कमलेश का सिर कलम करने वाले को दूंगा 51 लाख

हिंदू महासभा के पूर्व अध्यक्ष कमलेश तिवारी की लखनऊ में हुई हत्या के मामले में बिजनौर जिले के मौलाना अनवारूल हक व मुफ्ती नईम कासमी भी जांच के घेरे में आ सकते हैं। कमलेश के विवादित बयान के बाद इन्होंने उनका सिर कलम करने वाले को इनाम देने की घोषणा की थी।

हिंदू महासभा के अध्यक्ष कमलेश तिवारी की लखनऊ में हत्या कर दी गई। विवादित बयान को लेकर कमलेश तिवारी चर्चा में रहे हैं। उनकी हत्या के बाद बिजनौर के जामा मस्जिद के तत्कालीन इमाम मौलाना अनवारूल हक व किरतपुर के गांव भनेड़ा के मुफ्ती नईम कासमी जांच के घेरे में आ सकते हैं। अनवारूल हक ने चार दिसंबर 2015 को बिजनौर में एसपी ऑफिस के सामने एक प्रदर्शन के दौरान कमलेश तिवारी का सिर कलम करने वाले को 51 लाख रुपये का इनाम देने का एलान किया था। 

किरतपुर क्षेत्र के गांव भनेड़ा के मुफ्ती नईम कासमी ने भी कमलेश तिवारी का सिर कलम करने वाले को करोड़ों रुपये का इनाम देने की घोषणा की थी। कमलेश तिवारी की हत्या के बाद दोनों मौलानाओं के समर्थकों में खलबली मची है। सिर कलम करने पर इनाम का एलान करते वक्त दोनों मौलानाओं ने कभी नहीं सोचा होगा कि यह एलान किसी दिन उनके लिए आफत बनकर आ जाएगा।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन