बरेली के दो लाख किसानों पर 15.53 अरब का बैंक लोन

बरेली Updated Sat, 11 Apr 2015 01:58 AM IST
ख़बर सुनें
बेमौसम बारिश से फसलों की तबाह झेल रहे बरेली के दो लाख किसानों पर बैंकों का साढ़े पंद्रह अरब रुपये का कर्जा भी है। करीब 2400 साहूकारों तथा व्यापारियों का कई अरब रुपये का कर्जा अलग रहा। कर्ज चुकाने का अब किसानों को कोई रास्ता नहीं सूझ रहा है। केंद्र और प्रदेश सरकार की ओर से दी जाने वाली मदद कर्ज की इस रकम की भरपाई नहीं कर पाएगी। अभी तक तो प्रदेश सरकार ने मदद के रूप में बरेली के किसानों को 16 करोड़ 67 लाख रुपये ही दिए हैं। 20 करोड़ रुपये और मांगे गए हैं। 25 से 50 फीसदी नुकसान वाले किसानों को शामिल किया जाए तो 25 करोड़ रुपये और मिल जाएंगे लेकिन कर्जा जस का तस बने रहने के आसार हैं।
पिछले वित्तीय वर्ष में किसानों को क्रेडिट कार्ड के आधार पर दिए गए फसली ऋण का बैंकों ने ब्योरा तैयार कर लिया है। हालांकि रिजर्व बैंक आफ इंडिया तथा केंद्र सरकार ने कर्जे की इस साल वसूली स्थगित करने के आदेश दिए हैं। सरकार के इस फैसले से किसानों को थोड़ी सी राहत तो मिली है लेकिन भविष्य में इस राशि को ब्याज सहित वसूला जाएगा या फिर ब्याज माफ होगा। इस बारे में स्थिति स्पष्ट नहीं हो पाई है।  मुआवजे की इस रकम को किसान खेत में बोए गए बीज और खाद की राशि से कम मान रहे हैं। उनका तर्क है कि इससे ज्यादा रकम तो बीज और खाद में खर्च हो गई, जबकि जुताई और सिंचाई की रकम अलग से है। किसानों का कहना है कि मुआवजा इतना हो कि कम से कम लागत की भरपाई हो जाए।


बैंक का नाम             किसानों की संख्या          कर्ज की राशि करोड़ों में
बैंक आफ बड़ौदा          35000                       282
पंजाब नेशनल बैंक         13500                       117
स्टेट बैंक                   20000                        165
यूको बैंक                   09800                        088
सहकारी बैंक                30200                        182
ग्रामीण बैंक                 55000                         417
सेंट्रल बैंक                  06000                         045
ओबीसी                     03400                         085
यूनियन बैंक                 1500                           032
अन्य बैंक                    25600                         240
-------------------------------------------------------
                            200000                       1553
----------------------------------------------------------


‘ जिले में साहूकारी के 2400 लाइसेंसी हैं। इन्हें किसान तथा अन्य लोगों को जरूरत के अनुसार उनका सामान गिरवी रखकर कर्जा देने के लिए अधिकृत किया गया है। ’ मनोज कुमार एडीएम फाइनेंस

‘बैंकों ने आरबीआई के निर्देश पर वसूली टाल दी है। आरबीआई के नए निर्देशों पर ही ब्याज आदि के बारे में  फैसला हो सकेगा’ एमएम श्रीवास्तव
 

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Madhya Pradesh

मध्यप्रदेश : देवी अहिल्या विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति प्रो. एए अब्बासी का निधन 

मध्यप्रदेश के इंदौर स्थित देवी अहिल्या विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति प्रो. एए अब्बासी का मंगलवार को निधन हो गया है।

19 जून 2018

Related Videos

#FATHERSDAY: पिता की मेहनत से दिव्यांग ने जीता ऑस्ट्रेलिया में पदक!

आज फादर्स डे पर हम आपको एक ऐसे पिता की कहानी बताने जा रहे है जिन्होंने सरकारी नौकरी में रहते हुए अपने एक दिव्यांग बच्चे को स्पेशल बना दिया। देखिए ये खास रिपोर्ट।

17 जून 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen