अवैध शराब बनाने को कैंटर से एक करोड़ का एल्कोहल निकालते एक दबोचा

Moradabad Bureau Updated Mon, 09 Oct 2017 01:47 AM IST
गांव मोहम्मदाबाद के जंगल की घटना, दो कैंटर, 50 हजार लीटर एल्कोहल, 5 ड्रम, पाइप, यूरिया बरामद
अमर उजाला ब्यूरो
गजरौला।
थाना क्षेत्र में अवैध शराब का निर्माण करने के लिए अवैध रूप से कैंटर से करीब एक करोड़ की कीमत का एल्कोहल निकालते हुए एक आरोपी को पुलिस ने रंगे हाथों दबोच लिया है। अपर पुलिस अधीक्षक ब्रजेश सिंह ने घटना का खुलासा करते हुए बताया कि मौके से दो कैंटर, 50 हजार लीटर एल्कोहल, 5 ड्रम, दो पाइप, भारी मात्रा में एल्कोहल में मिलाया जाने वाला यूरिया बरामद किया गया है। हालांकि मौके से पांच आरोपी फरार हो गए। जिनकी तलाश पुलिस कर रही है। घटना ब्रजघाट चौकी के पास जीरो प्वाइंट बंधा पर गांव मोहम्मदाबाद के पास जंगल की है।
थानाध्यक्ष अरविंद मोहन शर्मा ने बताया कि कई दिनों से सूचना मिल रही थी कि हाईवे पर कैंटरों से एल्कोहल निकालकर उसे अवैध शराब बनाने में प्रयुक्त किया जाता है। मौके की तलाश में पुलिस की टीम लगी हुई थी। शनिवार रात करीब साढ़े नौ बजे पुलिस को सूचना मिली कि ब्रजघाट चौकी के पास मोहम्मदाबाद के जंगल में भारी मात्रा में कैंटर से एल्कोहल निकाला जा रहा है। सूचना मिलते ही थानाध्यक्ष अरविंद मोहन शर्मा, ब्रजघाट चौकी इंचार्ज संजय कुमार, एसआई अमित कुमार, सिपाही विनीत कुमार, राशिद अली व गौरव तौमर मौके पर पहुंच गए। यहां रंगे हाथों कैंटर से एल्कोहल निकालते हुए एक आरोपी को दबोच लिया गया। जबकि पांच आरोपी रात के अंधेरे का फायदा उठाकर भाग गए। यहां से पुलिस ने दो कैंटर जिनमें करीब 50 हजार लीटर एल्कोहल भरा था और जिसे ड्रम में पाइप के सहारे निकाला जा रहा था। पांच ड्रम जिसमें अपमिश्रित करीब पांच सौ लीटर शराब। दो पाइप, आधा ड्रम यूरिया, एक कीप, दो सौ पॉलीथिन बरामद की गईं। अपर पुलिस अधीक्षक ब्रजेश सिंह ने रविवार को थाने में घटना का खुलासा करते हुए बताया कि पकड़ा गया आरोपी गांव मोहम्मदाबाद निवासी मेहंदी हसन है। जबकि दो कैंटर चालकों समेत पांच आरोपी फरार होने में कामयाब हो गए। पुलिस की टीम फरार आरोपियों को तलाश कर रही है। जल्द ही वह पुलिस गिरफ्त में होंगे। क्षेत्र में अवैध शराब का कारोबार किसी कीमत पर नहीं चलने दिया जाएगा।

रामपुर से मेरठ जा रहा थे कैंटर
गजरौला। थानाध्यक्ष अरविंद मोहन शर्मा के मुताबिक दोनों ट्रक रामपुर से मेरठ जा रहे थे। दोनों ट्रकों पर मधु ट्रांसपोर्ट लिखा हुआ है। इसकी जांच कराई जा रही है। किस केमिकल फैक्ट्री से ट्रक निकाले गए थे। अब क्षेत्र में एल्कोहल से अवैध शराब का निर्माण नहीं होने दिया जाएगा।

शराब बनाने में प्रयुक्त होता था यूरिया
गजरौला। एल्कोहल में पानी मिलाकर शराब बनाने में यूरिया भी मिलाया जा रहा था। मौके से बरामद करीब आधा ड्रम यूरिया इसका गवाह है। यूरिया की थोड़ी सी मात्रा ही एल्कोहल में मिलाई जा रही थी। थानाध्यक्ष अरविंद मोहन शर्मा ने बताया कि यूरिया शरीर के लिए बहुत हानिकारक है। एल्कोहल में नशा की मात्रा बढ़ाने के लिए यूरिया मिलाया जाता है।

मिथाइल एल्कोहल होता है जानलेवा
गजरौला। अपर पुलिस अधीक्षक ब्रजेश सिंह ने घटना का खुलासा करते हुए बताया कि एल्कोहल व यूरिया मिश्रण से बनाई गई शराब जानलेवा हो सकती है। बताया कि अमूमन फैक्ट्रियों से दो प्रकार का एल्कोहल बनाया जाता है। जिसमें एक इथाइल एल्कोहल होता है। इसमें यूरिया का मिश्रण कर कच्ची शराब तैयार की जाती है। यदि यूरिया अधिक मात्रा में मिल जाए तो खतरनाक हो सकता है। लेकिन केमिकल फैक्ट्रियों में मिथाइल एल्कोहल भी बनाया जाता है। आमतौर पर कैंटर चालकों को नहीं मालूम होता है कि इसमें इथाइल एल्कोहल है या मिथाइल एल्कोहल है। यदि मिथाइल एल्कोहल को शराब के रूप में इस्तेमाल कर लिया गया, तो खतरनाक हो जाता है। इसी तरह की एक घटना वर्ष 2004 में बरेली क्षेत्र में हुई थी। जहां मिथाइल एल्कोहल के सेवन से करीब 39 लोगों की मौत हो गई थी।
फोटो भी है।

Spotlight

Most Read

National

सिरफिरे ने स्कूली छात्रा का काटा गला, मौके पर मौत

स्कूल के गेट के बाहर 11वीं की छात्रा का तलवार से गला काटकर हमलावर भाग गया।

23 फरवरी 2018

Related Videos

पुलिस ने सुनाई इस सीरियल रेपिस्ट की घिनौनी करतूत

यूपी के अमरोहा से सीरियल रेपिस्ट को गिरफ्तार किया गया है। 24 साल के आरोपी युवक पर 14 महिलाओं और मासूमों के साथ दुष्कर्म का आरोप है। पुलिस फिलहाल पूरे मामले की तफ्तीश कर रही है।

15 फरवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen