बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
TRY NOW
विज्ञापन
विज्ञापन
बगलामुखी जयंती पर परिवार की सुरक्षा के लिए, कराएं कामख्या सुरक्षा अनुष्ठान
Myjyotish

बगलामुखी जयंती पर परिवार की सुरक्षा के लिए, कराएं कामख्या सुरक्षा अनुष्ठान

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

विज्ञापन
Digital Edition

कोरोना संकट के बीच इस नए खतरे से सहमा राजस्थान, 50 कौवों की मौत

देश भर में कोरोना वायरस का कहर जारी है। कोरोना संकट के बीच राजस्थान के झालावाड़ में एक नए खतरे ने दस्तक दी है। झालावाड़ की राड़ी के बालाजी क्षेत्र में 50 ये अधिक कौवों की अचानक से मौत हो गई है।  इतनी बड़ी संख्या में कौवों के मरने की खबर की प्रशासन ने भी पुष्टि की है। 





झालावाड़ में इतने सारे कौवों की मौत के कारण जिला प्रशासन और लोगों के बीच भय का वातावरण बन गया है। प्रशासन ने राड़ी के बालाजी क्षेत्र में एक किलोमीटर के क्षेत्र में कर्फ्यू लगा दिया गया है। इसके साथ ही रैपिड रिस्पांस टीम का गठन भी कर दिया गया है।

प्रशासन ने जांच के लिए जुटाए नमूने 
जिला प्रशासन बड़ी संख्या में कौवा की मौत के कारण को जानने में जुटा है। रैपिड रिस्पांस टीम ने नमूने की जांच शुरू कर दी है। प्रशासन की ओर से मिली जानकारी के अनुसार संबंधित क्षेत्र के पोल्ट्री फार्म और पोल्ट्री शॉप से भी सैंपल लिए जा चुके हैं।

जिला कलेक्टर एन. गोहाएन ने प्रभावित इलाके में जीरो मोबिलिटी लागू कर सभी पोल्ट्री फार्म में जांच के निर्देश दिए हैं। मंदिर परिसर में 25 दिसंबर को अचानक कौओं की असामान्य मौतें हुईं। वन विभाग और पशुपालन विभाग की संयुक्त टीम ने बीमार कौओं का उपचार किया और नमूने राष्ट्रीय उच्च सुरक्षा पशुरोग संस्थान, भोपाल भेजे। 

जांच में कौओं में एवियन इंफ्लुएंजा की पुष्टि हुई है। इसके बाद झालावाड़ जिला कलक्टर गोहाएन ने त्वरित कार्यवाही दल गठित किया, जिसमें एसडीएम, झालावाड, उप वन संरक्षक झालावाड, पुलिस उप अधीक्षक, पशुपालन विभाग के संयुक्त निदेशक, सीएमएचओ और झालावाड नगर परिषद के आयुक्त को शामिल किया गया है। उन्होंने निर्देश दिए कि त्वरित कार्यवाही दल जीरो मोबिलिटी क्षेत्र में बैरिकेडिंग कर प्रचार-प्रसार करेगा।

कैसे फैलता है बर्ड फ्लू
सामान्यत: बर्ड फ्लू इंफ्लुएन्जा ए वायरस से फैलता है। यह फ्लू संक्रमित पक्षियों से फैलता है। एवियन इंफ्लुएन्जा बीमार पक्षियों के संपर्क में आने वाले इंसानों नें भी आसानी से फैल जाता है। फिर यह संपर्क में आने वालों को भी चपेट में ले लेता है। 

झालावाड़ में एवियन फ्लू की पुष्टि, धारा 144 लागू
राजस्थान के झालावाड़ जिले में बड़ी संख्या में कौवों की मौत के बाद एवियन फ्लू की पुष्टि हुई और पूरे इलाके में धारा 144 लागू कर दी गई। झालावाड़ के कलेक्टर गिक्या गोहेन ने बताया कि रैपिड रिसपॉन्स टीम का गठन किया गया है जो राडी इलाके से पोल्ट्री फार्म और दुकानों से सैंपल एकत्रित करेगी। उन्होंने बताया कि अगर मुर्गियों में भी संक्रमण फैला होगा तो पूरे इलाके की मुर्गियों को मारना पड़ेगा ताकि यह संक्रमण आगे न फैले। इससे पहले जिला मजिस्ट्रेट ने एवियान फ्लू की पुष्टि की थी। 
 
... और पढ़ें

कोटा: पूर्व क्रिकेटर अजहरुद्दीन की तेज रफ्तार कार का टायर निकला, पलटकर ढाबे में जा घुसी गाड़ी

राजस्थान के चार शहरों में पारा माइनस से नीचे, मध्यप्रदेश में शीतलहर

राजस्थान: बंसल क्लासेज के संस्थापक वीके बंसल का निधन, कोटा को बनाया था 'कोचिंग सिटी'

राजस्थान के कोटा शहर से एक दुखद खबर सामने आई है। दरअसल, यहां प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कराने वाले जाने-माने बंसल क्लासेज के संस्थापक विनोद कुमार बंसल का सोमवार (3 मई) को निधन हो गया। बंसल 70 साल के थे और पिछले कुछ दिनों से कोरोना वायरस से संक्रमित थे।

वी के बंसल के निधन पर लोकसभा स्पीकर ओम बिरला ने ट्वीट कर शोक जताया है। उन्होंने बंसल के निधन को समूचे शैक्षणिक जगत के लिए अपूर्णीय क्षति बताया है।
झांसी में जन्मे बंसल ने लखनऊ में रहकर की थी पढ़ाई
वीके बंसल का जन्म झांसी में हुआ था। उन्होंने लखनऊ में पढ़ाई पूरी करने के बाद कोटा में नौकरी की शुरुआत की और फिर धीरे-धीरे कोटा को दुनियाभर में एजुकेशन सिटी के रूप में पहचान दिलाई। बंसल की मेहनत से जब कोटा को पहला आईआईटियंस और आईआईटी-जेईई का टॉपर मिला तो उसके बाद कोटा कोचिंग हब की प्रसिद्धि बढ़ती गई। और आज 25 साल बाद भी कोटा का जलवा बरकरार है।

फैक्ट्री बंद होने पर कोचिंग सेंटर चलाने लगे थे बंसल
वीके बंसल साल 1981 तक कोटा में जेके सिंथेटिक लिमिटेड नाम की कंपनी में काम करते थे, लेकिन जब फैक्टरी कुछ कारणों से बंद हो गई तब उन्होंने शहर में आठवीं क्लास के बच्चों को ट्यूशन पढ़ाना शुरू किया। इसके चार साल बाद 1985 में अचानक वे तब सुर्खियों में आए जब पहली बार उनके यहां से ट्यूशन लेने वाले एक बच्चे ने आईआईटी-जेईई क्लीयर किया।

साल 1991 में हुई थी  बंसल क्लासेज की शुरुआत
साल 1991 में आईआईटी की तैयारियों के लिए बंसल क्लासेज की शुरुआत हुई। इसके बाद इसी संस्थान में पढ़ाने वाली फैकल्टी ने अलग होकर अन्य कोचिंग संस्थान शुरू किए। आज कोटा में करीब आधा दर्जन से अधिक बड़े संस्थान हैं, जो बड़ी संख्या में विद्यार्थियों को प्रतियोगी परीक्षाओं को क्वालीफाई करने की तैयारी कराते हैं।
... और पढ़ें
कोटा में बंसल क्लासेज के संस्थापक निदेशक वीके बंसल का निधन कोटा में बंसल क्लासेज के संस्थापक निदेशक वीके बंसल का निधन

खौफनाक: दादा-दादी को कोरोना हुआ तो सताने लगी पोते की चिंता, ट्रेन के आगे कूद दे दी जान

कोरोना संक्रमण के वजह से राेज हजारों लोगों की जान जा रही है। खौफ इतना की कोरोना की पॉजिटिव रिपोर्ट आने पर लोग खुद ही अपनी जान ले रहे हैं। ऐसा ही एक हादसा रविवार को राजस्थान के कोटा शहर में हुआ। यहां के रहने वाले एक बुजुर्ग दंपति ने ट्रेन के आगे कूदकर अपनी जान दे दी। 

दिल्ली-मुंबई रेलवे ट्रैक पर मिला दंपति का शव
घटनास्थल पर मौजूद डिप्टी एसपी कोटा सिटी बीएस हिंगड ने मीडिया को बताया कि उन्हें आज दिल्ली-मुंबई रेलवे ट्रैक पर मृत बुजुर्ग दंपति के बारे में जानकारी दी गई थी। जानकारी मिलने के तुरंत बाद उन्होंने घटनास्थल पर जाकर आत्महत्या करने वाले बुजुर्ग दंपति के शवों को बरामद किया। पुलिस जांच में यह पता चला कि बुजुर्ग दंपति कोरोना संक्रमित थे और उन्हें इस बात का डर सता रहा था कि कहीं उनकी वजह से उनके परिवार के सदस्यों, खासकर उनके 19 वर्षीय पोते को कुछ न हो जाए। 

आठ साल पहले एक हादसे में खो दिया था बेटा
मृतक के परिवार ने पुलिस को बताया कि आठ साल पहले बुजुर्ग दंपति ने अपने इकलौते बेटे को एक हादसे में खो दिया था, जिसके बाद से ही वे अन्य सदस्यों को खोने के बारे में सोचकर ही डर जाते थे।

... और पढ़ें

कोटा: शराब पिलाई, खाना खाया और कर दिया ट्रिपल मर्डर, लड़की भगाने का विवाद सुलझाने आए थे तीनों

राजस्थान के कोटा जिले से एक दिल दहलाने वाला मामला सामने आया है। जिले के खातौली थाना क्षेत्र के बालुपा गांव में तीन लोगों की हत्या करने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। ऐसा बताया जा रहा है कि लड़की भगाने के चक्कर में विवाद हुआ और दूसरे पक्ष ने कुल्हाड़ी और धारदार हथियार से हमला बोल दिया। 

इस मामले में दिलचस्प बात यह है कि जिनकी हत्या हुई, वो लोग लड़के पक्ष के पास मामला सुलझाने आए थे। दोनों पक्षों ने साथ मिलकर साथ शराब पी और खाना खाया। इसके बाद अचानक से विवाद शुरू हुआ और लड़के पक्ष के लोगों पर खून सवार हो गया। 

पुलिस की माने तो खातौली थाना क्षेत्र के बालुपा गांव के मोग्या जाति के लोग बूंंदी जिले के दबलाना कस्बा निवासी श्योजीलाल की लड़की को भगाकर ले आए थे। जैसे ही इस मामले के बारे में पता चला, श्योजीलाल, मुकेश और गोपाल बातचीत करने के लिए बालुपा पहुंचे। इस बीच दोनों पक्षों के बीच बातचीत चल रही थी। दोनों पक्षों ने बैठकर साथ में शराब पी और खाना खाया। इसके बाद दोनों पक्षों के बीच विवाद गहराने लगा। 

मौके पर मौजूदा हंसराज और उसके साथियों ने कुल्हाड़ी और धारदार हथियार की मदद से हमला कर दिया, जिसके बाद श्योजीलाल, मुकेश और गोपाल ने मौके पर ही दम तोड़ दिया। जबकि महिला अचेतावस्था में मिली थी। यह घटना गांव से दूर सुनसान जंगल की है। 

घटना के बाद पांच-छह घंटे बाद पुलिस को इसकी जानकारी मिली। जैसे ही पुलिस मौके पर पहुंची तो देखा कि एक शव चारपाई पर पड़ा है तो दो शव जमीन पर थे। शवों के आस-पास खून बिखरा हुआ था, जो पूरी तरह से सुख चुका था। इस घटना के बाद से ही हंसराज और उसके साथी फरार हैं। बता दें कि मोग्या जाति के ज्यादातर लोग खेतों में रखवाली का काम करते हैं, इनका स्थायी पता नही होता है।
... और पढ़ें

नृशंस हत्या: नाबालिग ने हिस्ट्रीशीटर पिता को कुल्हाड़ी से काट दिया, रोज-रोज की पिटाई से तंग आकर की वारदात

राजस्थान के कोटा जिले में 16 साल के किशोर ने शुक्रवार तड़के अपने शराबी पिता की कुल्हाड़ी से काटकर नृशंस हत्या कर दी। यह किशोर पिता द्वारा शराब के नशे में उसकी रोज-रोज की जाने वाली पिटाई से तंग आ गया था। 

कोटा जिले के इटावा थाने के एसएचओ बजरंग लाल ने बताया कि घटना तड़के करीब साढ़े तीन बजे हुई। किशोर ने घर से कुल्हाड़ी लेकर अपने पिता पर कई वार किए, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। घटना के वक्त घर के अन्य सदस्य दूसरे कमरे में सो रहे थे।

शुरुआती जांच में सामने आया है कि मरने वाला आबिद अली (45) हिस्ट्री शीटर था और उसके खिलाफ हत्या और लूट सहित 27 आपराधिक मामले दर्ज थे। वह कुछ मामलों में दोषी भी करार दिया गया था और उसे शराब पीने की लत थी।

परिजनों की करता था पिटाई
यह बात भी सामने आई है कि मृतक अली नशे में अपनी पत्नी, दोनों बेटों और बेटी की पिटाई किया करता था। एसएचओ ने बताया कि पहली नजर में मामला यह है कि 10वीं में पढ़ने वाले नाबालिग किशोर ने रोज-रोज की पिटाई से तंग आकर अपने पिता की हत्या कर दी। पोस्टमॉर्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया गया। अली के भाई की शिकायत पर किशोर के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर लिया गया। किशोर को अभी तक पकड़ा नहीं गया है।
... और पढ़ें

राजस्थान : बारां में सांप्रदायिक हिंसा भड़कने के बाद लगाया गया कर्फ्यू , इंटरनेट सेवा निलंबित

प्रतीकात्मक तस्वीर
राजस्थान के बारां जिले के छबड़ा शहर में दो युवकों को छुरा घोंपे जाने के बाद रविवार को सांप्रदायिक हिंसा फैल गई एवं भीड़ ने दर्जनों वाहन एवं दुकानों में आग लगा दी तथा तोडफोड़ की। प्रशासन ने शहर में कर्फ्यू लगा दिया है एवं इंटरनेट सेवा निलंबित कर दी है।

पुलिस ने हिंसक भीड़ को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले दागे लेकिन दो समुदायों के लोग हाथों में डंडे, लोहे की छड़ें एवं हथियार लेकर देर शाम तक उपद्रव करते रहे। उन्होंने एक दमकल गाड़ी में भी आग लगा दी और पुलिस एवं सरकारी वाहनों समेत सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाया ।

घटनास्थल पर मौजूद बारां के पुलिस अधीक्षक विनीत बंसल ने कहा, ‘‘ स्थिति तनावपूर्ण है । भीड़ की हिंसा जारी है और हम स्थिति नियंत्रित करने का प्रयास कर रहे हैं।’’ वैसे हिंसा में किसी के हताहत होने की कोई आधिकारिक जानकारी सामने नहीं आयी है।

अधिकारियों ने बताया कि अतिरिक्त सुरक्षाबलों को बुलाया गया है तथा कोटा रेंज के डीआईजी रवि गौड़ समेत वरिष्ठ अधिकारी हिंसा प्रभावित क्षेत्र में गये हैं। सूत्रों के अनुसार शनिवार शाम को धरनावाड़ा सर्किल में कमल गुर्जर (32) और राकेश धाकड़ (21) को एक अन्य समुदाय के चार पांच युवकों ने हमले में घायल कर दिया था।

घायल युवकों को अस्पताल में भर्ती कराया गया और उसके बाद उनके परिवारों एवं जाट और गुर्जर समुदायों के सदस्यों ने पांच आरोपियों की तत्काल गिरफ्तारी की मांग करते हुए शनिवार रात को धरनावाड़ा सर्किल पर धरना दिया।

पुलिस ने शनिवार देर रात तीन आरोपियों को पकड़ा जबकि मुख्य आरोपी की गिरफ्तारी नहीं हुई। सूत्रों के अनुसार रविवार सुबह फिर प्रदर्शनकारी प्रदर्शन करने लगे और उन्होंने दुकानें बंद करने की मांग की। जब प्रदर्शनकारियों ने अलीगंज और एजाज नगर से गुजरते हुए व्यापारियों से दुकानें बंद करने को कहा तब हिंसा फैल गयी और वह अन्य क्षेत्रों तक जा पहुंची।

धरनावाड़ा सर्किल, स्टेशन रोड, एजाज नगर और अलीगंज क्षेत्रों में करीब 10-12 दुकानें जला दी गयीं और एक निजी यात्री बस, कारों एवं अन्य वाहनों के साथ-साथ एक दमकलगाड़ी भी आग के हवाले कर दी गयी। बारां के जिलाधिकारी ने छबड़ा के नगरपालिका क्षेत्र में रविवार को शाम चार बजे से कर्फ्यू लगाने का आदेश दिया। अधिकारियों के अनुसार जिले में 13 अप्रैल को शाम चार बजे तक इंटरनेट सेवा निलंबित कर दी गई है।
... और पढ़ें

राजस्थान : दाऊद की ड्रग फैक्टरी चलाने वाला दानिश चिकना कोटा से गिरफ्तार, छह मामले दर्ज

हैवानियत : 15 साल की लड़की से आठ दिन तक नौ लोगों ने किया बलात्कार, आरोपियों में दो नाबालिग

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर जब दुनिया भर में नारी शक्ति की उपलब्धियों गुणगान हो रहा था। ठीक उसी दिन राजस्थान के झालावाड़ में एक नाबालिग लड़की के साथ हुईं हैवानियत की रूह कंपा देने वाली घटना सामने आई है। झालावाड़ में 15 साल की लड़की को कथित तौर पर नशीली दवा पिलाकर नौ लोगों ने आठ दिन तक बलात्कार किया। पुलिस ने मामले की जानकारी देते हुए बताया कि आरोपियों में से दो नाबालिग हैं। अभी तक चार आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है।

पुलिस ने बताया कि झालावाड़ में नौ लोगों ने कथित तौर पर 15 साल की लड़की के साथ आठ दिनों में अलग-अलग जगहों पर कई बार बलात्कार किया। पीड़िता शुक्रवार को किसी तरह आरोपियों के चंगुल से भाग निकलने में कामयाब हो गई। इसके बाद किसी तरह मदद मांगते हुए अपने घर पहुंची और परिजनों का आपबीती सुनाई। इसके बाद परिजनों ने थाने पहुंच कर शिकायत दर्ज कराई। 

डीएसपी मंजीत सिंह ने बताया कि पीड़िता की शिकायत के बाद चार आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है, इनमें से दो आरोपी नाबालिग हैं।  
... और पढ़ें

कोटा चिड़ियाघर में चल रहा चूहे-बिल्ली का खेल, मुसीबत में पड़ा जू प्रशासन

इस बात से तो सभी वाकिफ हैं कि यदि कहीं पर चूहों का आतंक बढ़ जाए तो बिल्लियां काफी मददगार साबित होती हैं, लेकिन क्या हो अगर चूहों को भगाने के चक्कर में उल्टा बिल्लियां ही उत्पात मचाने लगें? इन दिनों कोटा के चिड़ियाघर में कुछ ऐसा ही हाल है। यहां बिल्लियों का आतंक काफी बढ़ गया है। दरअसल, चिड़ियाघर में काफी संख्या में चूहे बढ़ गए थे, जिनसे अन्य जानवरों को इंफेक्शन हो जा रहा था। उदयपुर बायो पार्क में तो चूहों के इंफेक्शन से कुछ वन्य जीवों की मौत तक हो गई थी।

ऐसे में यहां चूहाें की भनक लगते ही आसपास के इलाके से उनका शिकार करने के लिए कई बिल्लियां आ गई थीं। इन बिल्लियों की वजह से चूहे तो काफी कम हो गए, लेकिन अब मसला यह है कि इन बिल्लियों की तादाद भी बढ़ गई है। इतना ही नहीं यह बिल्लियां मौका मिलते ही वन्यजीवों के लिए रखा खाना-राशन सब चट कर जाती हैं। यह एक तरफ वुल्फ के बच्चों के लिए रखा जाने वाला दूध पी जाती हैं तो दूसरी तरफ पैंथर और हायना की खुराक खा जाती हैं। इससे वन्यजीव भूखे रह जाते हैं। अब उनकी सेहत पर भी इसका असर पड़ने लगा है।

इस मसले से चिड़ियाघर प्रशासन काफी परेशान चल रहा है। ऐसे में उसने समस्या से निजात पाने के लिए एक तरकीब निकाली। असल में चिड़ियाघर प्रशासन ने इन दिनों बिल्ली पकड़ाे अभियान छेड़ दिया है। इसके तहत जाेधपुर से एक पिंजरा मंगाया गया है। इस अभियान के तहत चिड़ियाघर प्रशासन ने अब तक आठ बिल्लियाें काे पकड़ने में सफलता पाई है। बता दें, इन बिल्लियों को जंगल में छोड़ दिया गया है। हालांकि, अब चिड़ियाघर के अधिकारियों को डर है कि यहां चूहों का आतंक फिर से न बढ़ जाए। उन्हें डर है कि चूहों से फैलने वाला इंफेक्शन वन्य जीवों के लिए खतरा बन सकता है।

... और पढ़ें

राजस्थान: किशोरी से दुष्कर्म के मामले में आरोपी को मिली सजी, 20 साल के लिए गया जेल

राजस्थान में कोटा की एक पॉक्सो अदालत ने शहर की ही रहने वाली 13 साल की  एक लड़की का अपहरण कर उससे दुष्कर्म करने के मामले में आरोपी को 20 साल की जेल की सजा सुनाई है।

अदालत ने 23 वर्षीय दोषी मोनू महावर पर 30 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया है। आरोपी ने 27 मार्च, 2019 को पढ़ाई करके घर लौट रही लड़की का अपहरण कर लिया था और उसे कोटा में एक रिश्तेदार के घर में रखा और उसके साथ कई बार दुष्कर्म किया।

पीड़िता के पिता ने उसके घर नहीं पहुंचने के बाद लापता होने की शिकायत दर्ज कराई थी। पुलिस ने 19 दिन के बाद उसका पता लगाया और महावर को हिरासत में लिया। 

शहर की पॉक्सो (यौन अपराधों से बच्चों को संरक्षण) अदालत-तीन ने सोमवार को महावर को दोषी करार दिया। लोक अभियोजक ने बताया कि इस मामले की सुनवाई के दौरान कम से कम 22 गवाहों के बयान दर्ज किए गए।

... और पढ़ें

राम मंदिर के लिए चंदा इकट्ठा कर रहे आरएसएस जिला संघचालक को मारी गोली, तीन गिरफ्तार

अयोध्या में बनने जा रहे भव्य राम मंदिर निर्माण के लिए चंदा इकट्ठा किया जा रहा है। इसी अभियान के तहत राजस्थान के कोटा में भी जिला संघ संचालक दीपक शाह चंदा इकट्ठा कर थे कि मंगलवार को कुछ अज्ञात लोगों ने उन्हें गोली मार दी। कुछ लोगों ने दीपक शाह को चंदा इकट्ठा पर रोक लगाने की चेतावनी दी थी लेकिन दीपक शाह ने यह काम नहीं रोका।

ये घटना कोटा के रामगंज मंडी की है। इस घटना पर तीन आरोपियों को झालवाड़ से गिरफ्तार कर लिया गया है। वहीं दीपक शाह को कोटा के एमबीएस अस्पताल में भर्ती कर दिया गया है। इस हमले के दौरान दीपक शाह को एक गोली पैर में तो दूसरी गोली जांघ पर लगी है। यह घटना देर रात की है.

जिला संघ संचालक दीपक शाह को गोली मारने के बाद आरोपी झालवाड़ की तरफ भागे। कोटा ग्रामीण पुलिस ने उनका पीछा किया और पकड़ लिया। पुलिस ने घटना की जानकारी देते हुए कहा कि जिला संघ संचालक दीपक शाह राम मंदिर निर्माण के लिए चंदा इकट्ठा करने शाम 6-7 बजे निकले थे। 

इसी बीच तीन बदमाश बाइक पर सवार होकर आए और दीपक शाह पर ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी। इस हमले में एक गोली दीपक शाह को पैर पर तो दूसरी गोली जांघ पर लगी। पुलिस ने बताया कि कुछ दिन पहले दीपक शाह को एक हिस्ट्रीशीटर ने धमकी दी थी। दीपक शाह ने इसकी शिकायत पुलिस में की थी। 

इस हिस्ट्रीशीटर का नाम आशु पाया बताया जा रहा है। शाम को दीपक शाह जब चंदा इकट्ठा करने निकले तो आशु पाया ने अपने साथियों के साथ मिलकर दीपक शाह पर गोलीबारी की। फिलहाल दीपक की हालत सामान्य है, बुधवार को पुलिस ने इलाके में फ्लैग मार्च भी निकाला। इस घटना के बाद से रामगंज मंडी में हड़कंप मच गया था और घटना की गंभीरता को देखते हुए पुलिस की तैनाती और बढ़ा दी है। 
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X