विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

देश में 28 बार फैला बर्ड फ्लू, लेकिन राजस्थान में पहली बार दस्तक, अब तक 522 पक्षियों की मौत

कोरोना महामारी के साथ-साथ अब देश में बर्ड फ्लू का खौफ पसरने लगा है। अब तक राजस्थान, मध्यप्रदेश, झारखंड, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश और केरल में पक्षियों की मौत के मामले सामने आए हैं। गौर करने वाली बात यह है कि देश में पिछले नौ साल के दौरान अब तक 28 बार बर्ड फ्लू फैल चुका है, लेकिन राजस्थान में इस खौफनाक वायरस ने पहली बार दस्तक दी है। इसके चलते राज्य में अब तक 522 पक्षियों की मौत भी हो चुकी है, जिनमें 250 कौओं के अलावा कबूतर, कोयल, बत्तख, किंगफिशर और मेगपाई आदि पक्षी शामिल हैं। 


राजस्थान में बर्ड फ्लू पहली बार
बता दें कि देश में बर्ड फ्लू का पहला मामला साल 2006 के दौरान सामने आया था। तब से अब तक देश में कुल 28 बार बर्ड फ्लू फैल चुका है, जिससे अलग-अलग राज्यों में कुल 74 लाख 30 हजार पक्षियों की मौत हो चुकी है। हालांकि, राजस्थान में पहली बार बर्ड फ्लू ने दस्तक दी है। ऐसे में प्रशासन मुस्तैद हो गया है। साथ ही, चिड़ियाघर में भी एहतियात बरती जा रही है। इसके मद्देनजर प्रशासन ने चिड़ियाघर में पक्षियों के पिंजरों में दवा का छिड़काव कराया। साथ ही, विजिटर्स ट्रैक पर भी दवा का छिड़काव कराने की बात कही जा रही है।




मेगपाई पक्षी ने भी गंवाई जान
गौरतलब है कि बर्ड फ्लू का असर कौओं और बत्तख के अलावा दूसरे पक्षियों पर भी दिखने लगा है। दरअसल, इस खौफनाक वायरस के चलते सकतपुरा में मेगपाई पक्षी ने भी दम तोड़ दिया। एक वन्य जीव प्रेमी ने बताया कि यह पक्षी अचानक गिर गया था और कुछ ही देर में उसने दम तोड़ दिया।

वन विभाग ने जारी किया हेल्पलाइन नंबर
बता दें कि बर्ड फ्लू के संक्रमण को देखते हुए वन मंडल कोटा के कर्मचारियों को भी सतर्कता बरतने के निर्देश दिए गए हैं। उन्हें वन क्षेत्रों के जलाशयों पर नियमित रूप से गश्त करने और किसी पक्षी के बीमार दिखने या उसकी मौत होने पर तुरंत सूचना देने के लिए कहा गया है। साथ ही, मंडल स्तर पर एक कंट्रोल रूम बनाया गया है, जिसका हेल्पलाइन नंबर 9829267941 है। इस नंबर पर पक्षियों से संबंधित सूचनाएं दी जा सकती हैं।
... और पढ़ें
प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर

राजस्थान में 31 दिसंबर को लगेगा नाइट कर्फ्यू, नए साल का जश्न रहेगा फीका, कार्यक्रमों पर भी रोक

कोरोना महामारी के खतरे के मद्देनजर राजस्थान सरकार सतर्क हो गई है। नए साल की पूर्व संध्या पर होने वाले कार्यक्रमों से वायरस के फैलने का खतरा है। ऐसे में राज्य सरकार ने इन कार्यक्रमों पर रोक लगाते हुए, प्रदेश के जिन भी शहरों की आबादी एक लाख से अधिक है, वहां 31 दिसंबर से एक जनवरी तक नाइट कर्फ्यू लागू करने का फैसला किया है।
एक जनवरी की सुबह छह बजे तक रहेगा लागू
राज्य सरकार के आदेश के मुताबिक, नाइट कर्फ्यू 31 दिसंबर रात आठ बजे लेकर एक जनवरी की सुबह के छह बजे तक जारी रहेगा। सरकार के निर्णय के मुताबिक, जिन भी शहरों की आबादी एक लाख से अधिक होगी, वहां नाइट कर्फ्यू लागू होगा। सरकार के इस फैसले से राजधानी जयपुर समेत जोधपुर, कोटा, उदयपुर, अजमेर, बीकानेर, भीलवाड़ा, नागौर, पाली, टोंक आदि शहरों में नाइट कर्फ्यू लागू होगा। 
 


गौरतलब है कि राजस्थान के कई प्रमुख पर्यटक शहरों में बड़ी संख्या में लोग नए साल का जश्न मनाने के लिए आते हैं। ऐसे में कोरोना संक्रमण के फैलने की आशंका अधिक हो गई है। वहीं, कई होटलों में लोगों ने पहले से ही बुकिंग की हुई है, लेकिन सरका के निर्णय के चलते होटलों की बुकिंग रद्द हो सकती है। 




कर्नाटक में भी लागू हुआ नाइट कर्फ्यू
इससे पहले, कर्नाटक सरकार ब्रिटेन में मिले कोरोना के नए रूप (स्ट्रेन) के चलते सतर्क हो गई। इससे बचने के लिए राज्य सरकार ने फैसला किया कि राज्य में नाइट कर्फ्यू लागू किया जाएगा। कर्नाटक सरकार के निर्णय के मुताबिक, नाइट कर्फ्यू 23 दिसंबर से लेकर दो जनवरी तक लागू होगा। नाइट कर्फ्यू की अवधि 10 बजे रात से लेकर सुबह छह बजे तक होगी। 

कर्नाटक के स्वास्थ्य मंत्री डॉ के सुधाकर ने कहा, यह (नाइट कर्फ्यू) ब्रिटेन में पाए जाने वाले नए कोरोना वायरस से बचने और रोकने के लिए किया गया है। हम राज्य में पहुंचने वाले अंतरराष्ट्रीय यात्रियों की निगरानी भी कर रहे हैं। 

स्वास्थ्य मंत्री से पूछा गया कि क्या क्रिसमस का जश्न मनाने की अनुमति दी जाएगी। इस पर उन्होंने कहा कि 23 दिसंबर से दो जनवरी के बीच, रात 10 बजे के बाद कोई भी समारोह या उत्सव मनाने की अनुमति नहीं है। यह हर तरह के कार्यों पर लागू होता है। 

लोगों के लिए चलेंगे ये परिवहन
कर्नाटक के परिवहन मंत्री लक्ष्मण सावदी ने कहा, बंगलूरू मेट्रोपॉलिटन ट्रांसपोर्ट कॉर्पोरेशन और केरल स्टेट रोड ट्रांसपोर्ट कॉरपोरेशन की बसें, ऑटोरिक्शा और टैक्सी नाइट कर्फ्यू (11 बजे-शाम 5 बजे) के दौरान चलेंगी, जो आज रात से शुरू होगा। 
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X