विज्ञापन

बहिबल गोलीकांड व कोटकपूरा फायरिंग की एसआईटी जांच शुरू

Panchkula bureau Updated Wed, 12 Sep 2018 10:20 PM IST
विज्ञापन
ख़बर सुनें
बहिबल गोलीकांड व कोटकपूरा फायरिंग की एसआईटी जांच शुरू
विज्ञापन
पंजाब सरकार ने गठित की है विशेष जांच टीम
जिला पुलिस ने सौंपा दोनों घटनाओं का रिकार्ड
अमर उजाला ब्यूरो
फरीदकोट। पंजाब सरकार ने बेअबदी मामले की जांच करने वाले जस्टिस रणजीत सिंह आयोग की रिपोर्ट पेश होने के बाद बहिबल कलां गोलीकांड व कोटकपूरा फायरिंग मामले की जांच के लिए हाल ही में डायरेक्टर ब्यूरो आफ इंवेस्टीगेशन प्रबोध कुमार की अध्यक्षता में एसआईटी गठित की थी। इस एसआईटी ने अधिकारिक रूप से जांच का काम शुरू कर दिया है और जिला पुलिस ने इन दोनों घटनाओं से संबंधित रिकार्ड अपने पास मंगवा लिया है।
पुलिस के अनुसार बहिबल गोलीकांड व कोटकपूरा गोलीकांड से सम्बंधित सभी चार एफआईआर समेत उससे सम्बंधित तमाम दस्तावेज व सुबुत एसआईटी के सुपर्द कर दिए गए है। इनमें से दो एफआईआर थाना बाजाखाना और दो एफआईआर थाना सिटी कोटकपूरा से सम्बंधित है। 14 अक्टूबर 2015 से संबंधित बहिबल गोलीकांड में तो पुलिस की गोली लगने से दो सिख नौजवानों किशन भगवान सिंह व गुरजीत सिंह की मौत हो गई थी। कोटकपूरा में पुलिस फायरिंग व लाठीचार्ज में कई लोग गंभीर घायल हुए थे। एसआईटी को सौंपी थाना बाजाखाना की एफआईआर नंबर 129,2015 में पुलिस ने थाना प्रभारी के बयान पर करीब 600 अज्ञात प्रदर्शनकारियों पर इरादा ए कत्ल समेत अन्य गंभीर धाराओं के तहत नामजद किया था। इसी थाने की एफआरआई नंबर 130,2015 में उस समय की एसआईटी के प्रमुख और डायरेक्टर ब्यूरो आफ इन्वेस्टीगेशन इकबालप्रीत सिंह सहोता के ब्यान पर अज्ञात पुलिस पार्टी को हत्या के आरोप में नामजद किया था।
हाल ही में पुलिस ने एफआईआर नंबर 130 में चार पुलिस अधिकारियों को नामजद भी किया था। कोटकपूरा की एफआईआर नंबर 192,2015 को पुलिस ने अपने थाना प्रभारी के ब्यान पर कोटकपूरा में धरने की अगुवाई कर रहे सिख प्रचारकों पंथप्रीत सिंह खालसा,अमरीक सिंह अजनाला,रणजीत सिंह ढढरियां वाले व सरबजीत सिंह समेत अन्य प्रदर्शनकारियों पर दर्ज की थी। दूसरी एफआईआर नंबर 129,2018 पिछले माह जस्टिस रणजीत सिंह रिपोर्ट पेश होने के बाद घटना में घायल हुए एक नौजवान के ब्यान पर अज्ञात पुलिस अधिकारियों पर दर्ज की थी। इन चार एफआईआर में से प्रदर्शनकारियों पर दर्ज दो को उस समय की अकाली भाजपा सरकार ने वापस लेने का ऐलान कर दिया था। पुलिस रिकार्ड में यह दोनों मामले अभी भी जांच के अधीन थे। एसएसपी राजबचन सिंह ने कहा कि जिला पुलिस ने पंजाब सरकार व डीजीपी की हिदायतों पर सारा रिकार्ड एसआईटी को सौंप दिया है।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें  

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News App अपने मोबाइल पे|
Get all crime news in Hindi. Stay updated with us for all breaking hindi news.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Bareilly

दबंग ससुर रेप करता रहा, पुलिस लिखती रही मारपीट 

रेप से घबराकर दहशत में बहेड़ी से भागकर बानखाना में छुपी तो यहां भी घर में घुसा, पड़ोसियों ने बचाया 

20 सितंबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

लेडी खली कविता ने खोला राज, बताया कैसे पहुंची WWE तक

WWE में पहुंचनेवाली पहली भारतीय महिला कविता देवी ने अपने इंटरव्यू में की कई अहम मुद्दों पर खुलकर बात। कविता ने बताया कि उन्हें द ग्रेट खली से कितना सपोर्ट मिला और उन्हें ट्रेनिंग के कितने कड़े शेड्यूल से होकर गुजरना पड़ा।

21 अक्टूबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree