तस्वीरें: गोरखपुर की सरयू व राप्ती नदी उफनाई, आधा दर्जन गांव पानी से घिरे, ग्रामीणों के उड़े होश

अमर उजाला ब्यूरो, गोरखपुर। Published by: vivek shukla Updated Sun, 12 Jul 2020 08:39 AM IST
gorakhpur river
1 of 5
विज्ञापन
उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में सरयू व राप्ती नदी के जलस्तर में बढ़ोतरी से कछार क्षेत्र के आधा दर्जन गांव पानी से घिर गए हैं। ग्रामीण बाढ़ की आशंका से भयभीत हैं। आलम यह है कि नदियों का पानी अब गांवों के संपर्क मार्गों पर बह रहा है जिससे आवागमन बाधित हो रहा है।
gorakhpur river
2 of 5
सरयू नदी के उफान के चलते तटवर्ती गांव के ग्रामीण दहशत में हैं। जलस्तर बढ़ने के साथ पानी गांवों की ओर बढ़ रहा है। क्षेत्र के रामनगर, डेरवा, डुमरी, अजयपुरा, खैराटी, बल्थर, सीधेगौर, गायघाट सहित अन्य तटवर्ती गांवों की ओर सरयू का पानी बढ़ रहा है। कोलखास, बगहा देवार होते हुए सरयू नदी का पानी नेतवारपट्टी में रामजानकी मार्ग के किनारे तक पहुंच गया है। पटना के कोलखास, नई बस्ती व जैतपुर सहित आधा दर्जन गांव पानी से घिर गए हैं। यहां नेतवारपट्टी गांव के संपर्क मार्ग पर सरयू का पानी ओवरफ्लो हो रहा है।
विज्ञापन
gorakhpur river
3 of 5
वहीं राप्ती नदी का जलस्तर बढ़ने से हिंगुहार, खोहिया पट्टी, मोहन पौहरिया, जगदीशपुर, खुटभार, ददरी, मझवलिया, आछीडीह, नवलपुर व सेमरा गांव की ओर पानी तेजी से बढ़ रहा है। बिहुआ उर्फ अगिलगौवा व सूबेदारनगर माझा के संपर्क मार्ग पर भी राप्ती का पानी ओवरफ्लो कर रहा है जिससे आवागमन बाधित हो रहा है। इनके सहित अन्य गांवों की सैकड़ों एकड़ फसलें बाढ़ के पानी से पूरी तरह डूब चुकी हैं। ग्रामीणों का कहना है कि नदियों का जलस्तर बढ़ने से बाढ़ की आशंका उत्पन्न हो गई है।
इसे भी पढ़ें
पांच नदियों से घिरा है गोरखपुर, बाढ़ से बचाव के लिए बनीं 86 चौकियां, एनडीआरएफ की दो कंपनी अलर्ट
gorakhpur river
4 of 5
इस संबंध में उपजिलाधिकारी गोला राजेंद्र बहादुर का कहना है कि नदियों के जलस्तर बढ़ने की सूचना है। सरयू का पानी खतरे के निशान को पार कर गया है। बाढ़ चौकियों को सक्रिय किया जा चुका है। जलस्तर पर लगातार नजर रखी जा रही है। गांवों में अभी नाव लगाने की स्थिति नहीं है।
विज्ञापन
विज्ञापन
गोला बाजार के पास घाघरा नदी का जलस्तर।
5 of 5
जगदीशपुर व गोपलामार में कटान तेज
राप्ती व घाघरा नदी ने जगदीशपुर व गोपलामार में कटान और तेज कर दी है। यही गति रहा तो जल्द ही जगदीशपुर गांव का नामों निशान मिट जाएगा। ग्रामीणों का कहना है की किसी भी नेता ने अब तक हम लोगों की सुध नहीं ली। ग्रामीण रंजीत यादव, पटेल विश्वकर्मा, सतीश, दिनेश, राजू, कमलावती, राजू सहित अन्य लोगों का कहना है की बाढ़ में हम लोगों की मुश्किलें बढ़ जाती हैं। इससे निजात पाने का एक ही उपाय है कि कछरांचल की समस्त सड़कों की ऊंचाई 3 फीट बढ़ा दी जाय। इससे बाढ़ का खतरा कुछ हद तक कम हो जाएगा लेकिन किसी जनप्रतिनिधियों की नजर इस समस्या पर नहीं पड़ती है।
इसे भी पढ़ें
घाघरा नदी पहुंची खतरे के निशान के करीब, दहशत में हैं लोग, बोले- दर्जनों घर नदी में समा जाएंगे
अगली फोटो गैलरी देखें
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00