विज्ञापन

सिरमौर

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

चकमा देकर घर पहुंच गई रेड जोन मुंबई से लौटी युवती, मामला दर्ज

कोरोना वायरस के चलते होम क्वारंटीन के नियमों की अवहेलना करने, लापरवाही बरतने व पुलिस को गुमराह करने पर रेणुका पुलिस ने दो लोगों के विरुद्ध मामला दर्ज किया है। साथ ही उनके परिवार के एक अन्य सदस्य सहित तीन लोगों को क्वारंटीन सेंटर कालाअंब भेज दिया है। यहां तीनों को 14 दिनों तक संस्थागत क्वारंटीन किए जाने के साथ उनके कोविड-19 टेस्ट के लिए सैंपल भी लिए जाएंगे। क्वारंटीन किए गए तीनों लोगों में रेड जोन से लौटी एक युवती सहित उसका भाई, भाभी शामिल हैं।

जानकारी के अनुसार ददाहू निवासी एक युवती सोमवार को मुंबई से ददाहू अपने घर पहुंची थी। अंबाला रेलवे स्टेशन पर उसका भाई उसे लेने गया। लेकिन, उन्होंने वापसी में कालाअंब नाके पर पूछताछ के दौरान पुलिस कर्मियों को गुमराह करते हुए क्वारंटीन किए जाने के डर से खुद को चंडीगढ़ से आने की बात कही। नियमों के तहत दोनों को बाद में घर पर ही होम क्वारंटीन किया गया। लेकिन, शनिवार को वह बाजार में घूमते दिखाई दिए। इसकी शिकायत पंचायत प्रधान ने पुलिस से की। पुलिस के घर पहुंचने के बाद खुलासा हुआ कि वह चंडीगढ़ से नहीं बल्कि रेड जोन एरिया मुंबई से लौटी है।

होम क्वारंटीन किए जाने के बाद नियमों की अवहेलना करने पर पुलिस ने दोनों भाई-बहन के विरुद्ध विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज करने के साथ ही परिवार की एक अन्य सदस्य सहित तीनों को संस्थागत क्वारंटीन सेंटर कालाअंब भेज दिया। यहां तीनों को क्वारंटीन केंद्र में भर्ती किए जाने के साथ ही उनके कोविड टेस्ट के लिए सैंपल लिए जाएंगे। रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद उन्हें दोबारा होम क्वारंटीन किया जाएगा। 

रेणुका थाने के एसएचओ देवी सिंह नेगी ने मामला दर्ज होने की पुष्टि करते बताया कि ग्राम पंचायत प्रधान की शिकायत पर दो सगे बहन-भाई के विरुद्ध नियमों की अवहेलना करने, पुलिस को चकमा देने व महामारी फैलाने की आशंकाओं के तहत मामला दर्ज करके कार्रवाई शुरू कर दी गई है। उधर, तहसीलदार ददाहू रमन ठाकुर ने बताया कि मामला गंभीर है। युवती रेड जोन से ददाहू पहुंची थी इसके तहत उसको क्वारंटीन केंद्र भेजा गया है।
... और पढ़ें

चेकिंग को रोका तो बाइक सवार पुलिस कर्मी को दूर तक घसीटता ले गया

पांवटा साहिब के बातापुल में जांच के दौरान एक बाइक सवार चालक द्वारा पुलिस कर्मी को साथ घसीटने का मामला सामने आया है। इस घटना में मुख्य आरक्षी कुलदीप कुमार घायल हो गए। पांवटा पुलिस टीम ने आरोपी बाइक चालक के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। बताया जा रहा है कि सरकार द्वारा पारित कर्फ्यू के आदेशों की अनुपालना को मुख्य आरक्षी बातापुल चौक पांवटा साहिब में अपनी ड्यूटी पर तैनात था।

इन बीच एक बाइक बाता मंडी की तरफ से चौक की तरफ पहुंची। नाके में जांच को रोककर सड़क पर घूमने का कारण पूछा गया। बाइक के चालक ने कहा कि गेहूं की फसल काट कर अपने घर जा रहा है। इस बीच पुलिस जवान को युवक की जेब में कुछ संदिग्ध सामान दिखाई दिया। जेब में रखे सामान के बारे में पुलिस जवान ने पूछा, जिसके बाद बाइक चालक मौके से भागने का प्रयास करने लगा। नाके पर तैनात मुख्य आरक्षी कुलदीप कुमार ने दौड़ने का प्रयास करने वाले बाइक सवार को रोकने का प्रयास किया तो, जवान घसीटते हुए सड़क पर गिरा।

मुख्य आरक्षी कुलदीप कुमार को चोटें भी आई हैं। पुलिस के अनुसार बाइक  चालक का नाम अर्जुन सिंह निवासी बातापुल तहसील पांवटा साहिब बताया जा रहा है। डीएसपी पांवटा सोमदत्त ने इसकी पुष्टि की है। आरोपी बाइक सवार अर्जुन सिंह के खिलाफ लॉकडाउन के दौरान सरकार के आदेशों की अवहेलना करने पर विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया है। पुलिस थाना पांवटा साहिब टीम मामला दर्ज कर तलाश में जुटी है।
... और पढ़ें

एएसआई ने रेहड़ी संचालक को जड़ा थप्पड़, पांवटा बाजार में हंगामा

पांवटा साहिब में कर्फ्यू और लॉकडाउन के बीच मिलने वाली छूट के दौरान बाजार में रेहड़ी लगा रहे व्यक्ति को एएसआई ने थप्पड़ जड़ दिया। इसके बाद पांवटा बाजार में खूब हंगामा हुआ। व्यापार मंडल ने इस पर संज्ञान लेते हुए एएसआई के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की। हंगामे के बीच कारोबारियों ने जरूरी वस्तुओं की दुकानें भी बंद करनी शुरू कर दीं। स्थानीय विधायक और डीएसपी ने मौके पर पहुंचकर कारोबारियों को शांत करवाया और निष्पक्ष जांच का आश्वासन दिया। इसके बाद ही कारोबारियों ने दुकानें खोलीं। 

जानकारी के अनुसार पांवटा साहिब मुख्य बाजार में रेहड़ी संचालक विजय कुमार (58) फलों की रेहड़ी लेकर शनिवार को पहुंचा। बाजार में जरूरी सामान की दुकानों के खुलने का समय सुबह 10 बजे से दोपहर 2 बजे तक है। बताया जा रहा है कि वक्त से पहले ही गीता भवन मुख्य बाजार में पहुंचने पर रेहड़ी संचालक को एक एएसआई ने उसे थप्पड़ जड़ दिए। रेहड़ी संचालक की पिटाई से पांवटा बाजार में तनाव हो गया। इसकी सूचना लिखित में जिला सिरमौर अधीक्षक नाहन को भी भेज दी गई है।

नाराज व्यापारी डीएसपी कार्यालय के बाहर एकत्रित हो गए। व्यापारियों ने एएसआई के खिलाफ कार्रवाई की मांग रखी है। व्यापार मंडल अध्यक्ष अनिंद्र सिंह नौटी ने कहा कि मारपीट करने वाले एएसआई को लाइन हाजिर किया जाए या फिर सस्पेंड किया जाए। वहीं, मामले की गंभीरता को देखते हुए पांवटा विस क्षेत्र के विधायक सुखराम चौधरी भी मौके पर पहुंच गए।

व्यापारियों और एएसआई के बीच पनपे माहौल को शांत करने का प्रयास किया। उधर, डीएसपी पांवटा सोमदत्त ने कहा कि पावंटा व्यापार मंडल का प्रतिनिधिमंडल शनिवार को मिला है। डीएसपी ने कहा कि शिकायत की निष्पक्ष जांच होगी। इस बारे में उच्चाधिकारियों को भी सूचित कर दिया गया है।
... और पढ़ें

केदार सिंह जिंदान हत्याकांड: दो दोषियों को आजीवन कारावास, तीसरे को कठोर जेल

विशेष न्यायाधीश सिरमौर आरके चौधरी की अदालत ने हाईकोर्ट में अधिवक्ता रहे आरटीआई एक्टिविस्ट एवं दलित नेता केदार सिंह जिंदान की हत्या के दो दोषियों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। तीसरे दोषी को तीन साल का कठोर कारावास मिला। अदालत में मामले की पैरवी जिला न्यायवादी बीएन शांडिल ने की। उन्होंने बताया कि केदार सिंह जिंदान की मौत के दोषी जयप्रकाश को भादंसं की धारा 302 और एससी एसटी एक्ट के तहत आजीवन कारावास एवं एक लाख रुपये के जुर्माने की सजा सुनाई है। जुर्माना अदा न करने की सूरत में एक वर्ष का अतिरिक्त कारावास भुगतना होगा।

धारा 201 के तहत पांच वर्ष का कारावास और 25000 रुपये जुर्माने की सजा सुनाई गई है। हत्या के दूसरे दोषी गोपाल सिंह को भादंसं की धारा 302 और एससी एसटी एक्ट के तहत आजीवन कारावास और 50 हजार रुपये जुर्माने की सजा सुनाई है। धारा 201 के तहत पांच वर्ष की जेल और 25000 रुपये जुर्माना भुगतना होगा। तीसरे दोषी कर्म सिंह को अदालत ने धारा 323 के तहत एक वर्ष कठोर कारावास और एक हजार रुपये के जुर्माने की सजा सुनाई।

धारा 325 के तहत तीन वर्ष कारावास और पांच हजार जुर्माने की सजा सुनाई है। मामला 7 सितंबर, 2018 का है। शिलाई में केदार सिंह जिंदान की बेरहमी से हत्या कर दी गई थी। जिला न्यायवादी ने बताया कि केदार सिंह जिंदान, रघुवीर सिंह एवं जगदीश चंद्र बीआरसीसी कार्यालय शिलाई से बाहर निकले तो आरोपी जयप्रकाश, कर्म सिंह एवं गोपाल सड़क के नीचे खड़े थे। जयप्रकाश ने केदार सिंह जिंदान को आवाज लगाई।

केदार सिंह जिंदान गाड़ी के पास पहुंचा तो आरोपी के साथ किसी बात पर बहस हो गई। तीनों आरोपियों जयप्रकाश, गोपाल व कर्म सिंह ने स्कॉर्पियो से डंडे निकालकर केदार सिंह के साथ मारपीट शुरू कर दी। केदार सिंह सड़क पर गिर गया। उठने की कोशिश करते वक्त जयप्रकाश ने लोहे की रॉड से सिर पर चार-पांच बार हमला किया। फिर जयप्रकाश ने गाड़ी स्टार्ट की, जबकि गोपाल ने केदार सिंह को गाड़ी के सामने सड़क पर रखा। जयप्रकाश ने गाड़ी केदार सिंह पर चढ़ा दी। इसके बाद पुलिस ने अदालत में चालान पेश किया। अदालत में 44 गवाहों के बयान एवं साक्ष्यों के आधार पर तीन आरोपियों को यह सजा सुनाई। उप जिला न्यायवादी एकलव्य और उपजिला न्यायवादी संजय पंडित ने भी पैरवी के दौरान सहयोग किया।
... और पढ़ें
केदार सिंह जिंदान (फाइल फोटो) केदार सिंह जिंदान (फाइल फोटो)

वन विभाग ने कसा शिकंजा: अवैध खनन करते सात वाहन पकड़े, 43 हजार जुर्माना

वन मंडल नाहन के तहत आने वाले क्षेत्रों में विभाग की टीम ने दबिश देकर अवैध खनन करने के मामले में कार्रवाई की। विभाग की टीम ने कालाअंब-पांवटा साहिब नेशनल हाईवे पर कार्रवाई करते हुए सात वाहन संचालकों पर साढ़े 43 हजार का जुर्माना ठोका। विभाग ने हरिपुरखोल और साथ लगते हिस्सों में कार्रवाई को अंजाम दिया। इससे अवैध खनन कर सामग्री ले जा रहे वाहन संचालकों में हड़कंप मच गया। 

जानकारी के मुताबिक वन विभाग नाहन मंडल की टीम गश्त पर तैनात थी। इस बीच वन विभाग की टीम ने अवैध रूप से खनन सामग्री ले जा रहे सात वाहनों को पकड़ा, जिसमें चार टिपर, दो पिकअप व एक ट्रैक्टर शामिल है। वन विभाग की टीम ने संबंधित सभी वाहनों पर कार्रवाई करते हुए 43500 का जुर्माना किया।

वन विभाग की इस कार्रवाई में वन रक्षक विशाल कुमार, विनोद कुमार व अनिल कुमार शामिल रहे। मामले की पुष्टि करते हुए वन विभाग के एसीएफ वेद प्रकाश ने बताया कि सात वाहनों से 43500 का जुर्माना वसूला गया है। सभी वाहन अवैध रूप से खनन सामग्री ले जाते हुए टीम ने पकड़े हैं। उन्होंने कहा कि भविष्य में भी इस तरह की कार्रवाई जारी रहेगी।

गौरतलब है कि जिला सिरमौर में खासकर पांवटा साहिब में यमुना व गिरि नदियों के साथ-साथ नाहन के आसपास के नदी नालों में लंबे समय से अवैध खनन किया जा रहा है। हालांकि समय-समय पर संबंधित विभाग की ओर से कार्रवाई अमल में लाई जाती रही है लेकिन बावजूद इसके अवैध खननकारियों के हौसले बुलंद हैं।
... और पढ़ें

रात्रि कर्फ्यू तोड़ने पर तीन युवकों को हवालात में काटनी पड़ी रात

सिरमौर में लागू रात्रि कर्फ्यू का उल्लंघन करना तीन युवकों को महंगा पड़ गया। रात के समय नेशनल हाईवे पर बिना किसी कारण नशे की हालत में घूम रहे तीनों युवकों को पुलिस ने हिरासत में लेकर मामला दर्ज कर उन्हें पूरी रात हवालात में रखा। इन्हें अदालत में पेश करने की प्रक्रिया चल रही है।

शनिवार देर रात पांवटा साहिब पुलिस टीम सुरजपुर की तरफ गश्त पर थी। इस दौरान पुलिस ने देखा कि सुरजपुर के पास रिशु, कादिर खान और अमित नशे की हालत में सड़क पर घूम रहे थे। पुलिस ने उनसे घूमने का कारण पूछा तो वे सही जवाब नहीं दे सके। इसके बाद पुलिस ने तीनों को रात्रि कर्फ्यू के उल्लंघन पर हिरासत में लेकर पूरी रात हवालात में रखा। पांवटा साहिब के डीएसपी वीर बहादुर ने इसकी पुष्टि की है।
... और पढ़ें

जुड़वा भाइयों पर लगे दुराचार के आरोप, दोनों से शादी करने के लिए पीड़िता पर बनाया दबाव

हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिले के गिरिपार क्षेत्र की एक युवती ने जुड़वा भाइयों पर दुराचार का आरोप लगाते हुए पुरुवाला थाना में शिकायत दर्ज करवाई है। शिकायत में शादी का झांसा देकर दो सगे भाइयों पर दुराचार करने के आरोप लगाए हैं। शिकायत मिलने पर पुरुवाला थाना पुलिस टीम ने एफआईआर दर्जकर मामले की गहनता से तफ्तीश शुरू कर दी है। मिली जानकारी के अनुसार गिरिपार की एक युवती ने पुरुवाला थाना में शिकायत दर्ज करवाई है।

पीड़िता ने शिकायत में कहा कि शिक्षा पूरी करने के बाद पांवटा निजी क्षेत्र में नौकरी करनी शुरू कर दी थी। वर्ष 2015 में कफोटा में पहली बार एक युवक से मुलाकात हुई, जिसके बाद दोनों आपस में बातचीत करने लगे। आरोपी युवक ने खुद को सेना में होने की बात कही। साथ ही विवाह रचाने का वायदा भी किया। आरोपी हर बार जब घर अवकाश पर आता तो शादी का झांसा देकर शारीरिक संबंध बनाता रहा। आरोपी ने कहा कि उसका एक जुड़वा भाई भी है। दोनों सेना में कार्यरत हैं। स्थानीय रीति रिवाज के मुताबिक जोड़ीदार में शादी की बात भी कही।

युवती ने इसके लिए इनकार कर दिया था। आरोपी के छोटे भाई ने भी बातचीत करने का दबाव बनाया और उसने भी जबरन दुराचार किया। शिकायत मिलने पर आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है। इसके बाद डीएसपी पांवटा बीर बहादुर सिंह, थाना प्रभारी पुरुवाला विजय रघुवंशी, अतिरिक्त थाना प्रभारी पुरुवाला प्रताप सिंह और महिला पुलिस टीम तफ्तीश के लिए मौके पर पहुंची। डीएसपी पांवटा साहिब बीर बहादुर सिंह ने शिकायत मिलने की पुष्टि की है। पीड़िता की शिकायत पर आईपीसी की धारा-376 और 34 के तहत मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। 
... और पढ़ें

पत्नी से अवैध संबंध के शक पर दोस्त की बेरहमी से हत्या

दुष्कर्म(सांकेतिक)
पत्नी से अवैध संबंध के शक पर एक व्यक्ति ने शराब पिलाकर अपने ही दोस्त का गला रेतकर उसकी हत्या कर दी। सनसनीखेज वारदात को अंजाम देकर आरोपी फरार है। तलाश के लिए बैरियरों पर पुलिस का पहरा बढ़ा दिया गया है। दूसरे राज्यों की पुलिस को भी इसकी सूचना दे दी गई है। मृतक की पहचान मान सिंह (23) जिला हाथरस गांव दूदाधारी, उत्तर प्रदेश (यूपी) के रूप में हुई है। आरोपी दशरथ भी इसी गांव का रहने वाला है और फेरी लगाने का काम करता है।

पुलिस अधीक्षक डॉ. केसी शर्मा ने बताया कि आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। जल्द ही आरोपी पुलिस की गिरफ्त में होगा। पुलिस के अनुसार वारदात शनिवार रात 11:30 बजे नाहन-पांवटा साहिब नेशनल हाईवे पर रुखड़ी गांव के समीप अंजाम दी गई। दशरथ ने योजनाबद्ध तरीके से कत्ल किया है। उसने मान सिंह और अपने एक और दोस्त जीत सिंह के लिए शराब का इंतजाम किया।

इसके बाद आरोपी मान सिंह को बाइक पर बैठाकर रुखड़ी गांव में एक निर्माणाधीन होटल के समीप ले गया, जहां उसने अपने दोस्त मान सिंह का गला रेत डाला। जब तक जीत सिंह वहां पहुंचा, तब तक मान सिंह दम तोड़ चुका था। अपने दोस्त की हत्या हो जाने के बाद जीत सिंह ने इसकी सूचना पुलिस को दी। सूचना मिलते ही नाहन पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस ने घटनास्थल से शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए मेडिकल कॉलेज नाहन पहुंचाया। साथ ही मृतक के परिजनों को भी इसकी सूचना दी।
... और पढ़ें

सिरमौर: खोखे में आग लगाकर व्यक्ति को जिंदा जलाने का प्रयास

 हिमाचल प्रदेश के पांवटा साहिब की शिवपुर पंचायत के काहनूवाला गांव में खोखे में आग लगाकर व्यक्ति को जिंदा जलाने का प्रयास किया गया। नकाबपोशों ने वारदात को अंजाम दिया। इनकी पहचान नहीं हो सकी है। भीतर सोए व्यक्ति ने जब बाहर निकलने का प्रयास किया तो दो नकाबपोशों ने उसे भीतर धकेलने का भी प्रयास किया। आगजनी में पालतू कुत्ता जिंदा जल कर मर गया। पुरूवाला पुलिस ने मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है।पांवटा साहिब की काहानूवाला शिवपुर पुल के छोर पर एक झोपड़ीनुमा कच्चा खोखा बना था। 

खोखे में संजय कुमार निवासी काहनूवाला रहता है। जो चाय, बिस्कुट और अंडे बेच कर अपना गुजर बसर करता है। शुक्रवार देर रात को कुछ शरारती तत्वों ने उसके खोखे में आग लगा दी। संजय का कहना है कि जब आग  की लपटें उठती देखी तो उसने बाहर भागने का प्रयास किया। लेकिन, मुंह को ढक कर मौके पर दो लोगों ने उसे आग की तरफ धकेलने का प्रयास किया। किसी तरह से वह बाहर निकला। हालांकि, पीड़ित व्यक्ति के बयान में कितनी सत्यता है, इसका पता जांच के बाद ही चल सकेगा। आगजनी की इस घटना में भीतर सोया कुत्ता जलकर मर गया हे। खोखे में रखा सामान भी जल गया। डीएसपी पांवटा साहिब बीर बहादुर ने बताया कि शिकायत मिली है।  पुरुवाला पुलिस टीम इस मामले की गहनता से जांच कर रही है। 
... और पढ़ें

सिरमौर: जेई, पूर्व महिला प्रधान समेत तीन के खिलाफ चार्जशीट दाखिल

पंचायत के विकास कार्यों में अनियमितताएं बरतने और सरकारी धन के दुरुपयोग के मामले में विजिलेंस ने एक जेई, पूर्व महिला प्रधान और तकनीकी सहायक के खिलाफ नाहन की विशेष अदालत में चार्जशीट दाखिल की है। मामला सिरमौर जिले की ठोंठा जाखल पंचायत से जुड़ा है।  2012 के इस मामले में तत्कालीन महिला पंचायत प्रधान, बीडीओ कार्यालय के जेई व तकनीकी सहायक के खिलाफ यह चार्जशीट दायर हुई है। आरोप है कि पंचायत में विकास कार्यों के नाम पर तत्कालीन पंचायत प्रधान ने जेई व तकनीकी सहायक के साथ मिलकर तकरीबन पांच लाख रुपये की धनराशि का गबन किया। उस दौरान विकास कार्यों में गड़बड़ी की आशंका को लेकर इसकी शिकायत विजिलेंस से की गई थी। लिहाजा, विजिलेंस ने मामला दर्ज कर मामले की छानबीन शुरू कर की।

मामले की तफ्तीश पूरी करने के बाद विजिलेंस ने तीनों आरोपियों के खिलाफ विशेष न्यायाधीश नाहन की अदालत में चार्जशीट दाखिल की है। आरोप थे कि ठोंठा जाखल पंचायत प्रधान ने बीडीओ कार्यालय पांवटा साहिब में तैनात पंचायत सहायक और जेई के साथ साजिश रची तथा पंचायत में विभिन्न विकास कार्यों के लिए धन स्वीकृत कराया।जांच के बाद पता चला है कि तीनों आरोपियों ने जाली वाउचर व बिल बनवाए और मेजरमेंट बुक में गलत प्रविष्टियां कीं। यही नहीं, पूर्व पंचायत प्रधान ने सरकारी धन से एक सुरक्षा दीवार का निर्माण अपने घर की सुरक्षा के लिए कराया, जिसका केवल निजी हित था। जबकि, कागजों पर इसका निर्माण कहीं और दिखाया गया।  उधर, विजिलेंस के डीएसपी तरणजीत सिंह ने मामले की पुष्टि की है।
... और पढ़ें

दो दिन ट्रंक में ताला लगाकर रखा पत्नी का शव, पति को हिरासत में लिया

हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिले के पांवटा की कांशीवाला पंचायत के एक घर में पुलिस ने ताला लगे ट्रंक में नवविवाहिता का शव बरामद किया है। प्रारंभिक जांच के बाद पुलिस ने हत्या के शक के आरोप में पति को हिरासत में लिया है। पति ने पुलिस को दिए बयान में कहा कि उसकी पत्नी ने आत्महत्या की है। डर के मारे उसने शव ट्रंक में रखने के बाद ताला लगा दिया था। मृतका के दो दिनों से बाहर नहीं निकलने पर पड़ोसियों को शक हुआ। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने यह सनसनीखेज खुलासा किया। एफएसएल की टीम को मौके पर बुलाकर वैज्ञानिक साक्ष्य भी जुटाए गए हैं। पोस्टमार्टम और एफएसएल की रिपोर्ट के बाद ही मृत्यु के कारणों का पता चल सकेगा।

जानकारी अनुसार आरोपी सुनील कुमार (24) निवासी लखीमपुर खीरी, उत्तर प्रदेश पिछले कुछ वर्षों से पांवटा में औद्योगिक इकाई में कार्यरत है। करीब छह माह पहले प्रवासी युवक ने उत्तर प्रदेश के बिजनौर निवासी युवती ममता (21) से विवाह किया था। दोनों कुछ माह से कांशीपुर मे ठेकेदार के पास किराये के कमरे में रह रहे थे। पुलिस के अनुसार दोनों में नोकझोंक होती रहती थी। दो दिनों से पड़ोसियों ने ममता को बाहर व घर पर नहीं देखा। संदेह होने पर माजरा थाना पुलिस को सूचित किया गया। पुलिस टीम ने मौके पहुंचकर कमरे की तलाशी ली तो खुलासा हुआ कि आरोपी सुनील कुमार ने अपनी पत्नी ममता का शव एक ट्रंक में रखा हुआ है। शव दो दिनों से ट्रंक में रहने से काफी बदबू आने लगी थी।  

डीएसपी पांवटा बीर बहादुर, एसएचओ माजरा सेवा सिंह, पंचायत प्रधान पुरुवाला सुषमा देवी व उपप्रधान इरफान मलिक मौके पर आए। मामले की गंभीरता को देखते हुए एसपी सिरमौर डॉ. खुशहाल चंद शर्मा भी मौके पर पहुंचे। डीएसपी पांवटा साहिब बीर बहादुर ने बताया कि शव को कब्जे में लिया गया है। एफएसएल की टीम ने मौके पर सैंपल लिए हैं। पोस्टमार्टम के बाद ही मृत्यु के कारणों का पता चल सकेगा। उन्होंने बताया कि पति ने शव को ट्रंक में ताला लगाकर रखा हुआ था। प्रथमदृष्टया शक की सुई पति के ऊपर ही घूम रही है। हत्या की आशंका के चलते उसे हिरासत में लिया गया है।
... और पढ़ें

शिमला के गुड़िया दुष्कर्म और हत्याकांड के आरोपी चरानी नीलू को अन्य मामले में उम्रकैद

शिमला के बहुचर्चित गुड़िया दुष्कर्म और हत्याकांड का आरोपी चरानी अनिल कुमार उर्फ नीलू नाहन में हत्या के प्रयास के दूसरे अन्य मामले में दोषी साबित हुआ है। अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश जसवंत सिंह की अदालत ने दोषी नीलू को धारा 307 में उम्रकैद के अलावा 20 हजार रुपये जुर्माना और धारा 354 के तहत दोषी को दो साल का कारावास व 5 हजार रुपये जुर्माना भरने की सजा सुनाई है। जुर्माना न भरने पर दोषी को अतिरिक्त कारावास होगी। सभी सजाएं एक साथ चलेंगी। उप जिला न्यायवादी एकलव्य ने मामले की पैरवी की। उन्होंने बताया कि मामला 6 सितंबर 2015 का है। 

पच्छाद के दसाना गांव में रमन की जमीन पर काम करने वाला संजय बहादुर और उसकी मां चंद्रकला जंगल में पशु चराने अलग-अलग निकले। थोड़ी देर बाद गांव के समीप ग्रामीण रामलाल ने संजय बहादुर को उसकी मां के घायल होने की सूचना दी। जब वह घटनास्थल पर पहुंचा तो देखा कि उसकी मां के होंठ, माथे, नाक व गले से खून बह रहा था। दायें हाथ का अंगूठा और अंगुली कटकर अलग हो चुकी थी।

संजय ने अपनी मां को सिविल अस्पताल सराहां पहुंचाया। जहां से उसे सोलन रेफर किया गया। संजय ने पुलिस थाना पच्छाद में मामला दर्ज कराया। मामले में घायल चंद्रकला के बयान होने के बाद पुलिस ने आरोपी अनिल कुमार उर्फ नीलू के खिलाफ धारा 323, 324, 326, 354 व 307 के तहत मामला दर्ज किया। गिरफ्तारी के दौरान उसने कबूला कि उसने दराट से हमला किया था। तफ्तीश में पुलिस ने पाया कि आरोपी ने नशे की हालत में महिला से बीड़ी मांगी।

इसी बीच उसने महिला से किसी बहाने दराट मांगा, जिसे उसने थोड़ा दूर फेंक दिया। आरोपी ने उससे छेड़छाड़ की। विरोध करने पर आरोपी ने डंडे से महिला के सिर पर वार किया। इसके बाद दराट से हमला कर जख्मी किया और फरार हो गया। पुलिस ने काटी गई अंगुली और अंगूठे के साथ महिला के बाल और दराट एसएफएल भेजे।


डीएनए में महिला के खून के सैंपल से उसकी कटी अंगुली और अंगूठे का मिलान हुआ। हत्या के प्रयास के इस मामले में अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश जसंवत सिंह की अदालत ने अनिल कुमार उर्फ नीलू पुत्र देशराज निवासी मथान, थाना बैजनाथ (कांगड़ा) को दोषी पाकर उम्रकैद सहित अन्य सजाएं सुनाईं हैं। बता दें कि शिमला में हुए गुड़िया दुष्कर्म एवं हत्याकांड मामले में भी अनिल कुमार आरोपी है। 
... और पढ़ें

11.700 किलो चरस के साथ दो गिरफ्तार, गाड़ी की खिड़कियों में छुपाकर ले जा रहे थे

नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) की चंडीगढ़ से पहुंची टीम को नाहन शहर के मालरोड में मंगलवार रात को बड़ी सफलता मिली। टीम ने ऑल्टो कार की खिड़कियों में अंदर की प्लास्टिक शीट निकालकर छुपाई गई 11.700 किलोग्राम चरस बरामद की है। टीम ने करीब दस बजे कार को रोककर तलाशी ली। मामले में दो लोगों को गिरफ्तार किया है। आरोपियों में एक मंडी, जबकि दूसरा कुल्लू जिले का बताया जा रहा है। इसके बाद स्थानीय पुलिस को इसकी सूचना दी गई।

एनसीबी की टीम ने चरस तस्करों को दबोचने के लिए जाल बिछाया था। रात करीब दस बजे स्थानीय पुलिस को लेकर नाकाबंदी की गई। एनसीबी के लगभग आधा दर्जन कर्मचारियों ने मालरोड के समीप नाका लगाया। इस दौरान एक ऑल्टो कार को तलाशी के लिए रोका गया। इसमें मंडी जिले की करसोग तहसील के कुंधा महरोग निवासी सतराम और कुल्लू की आनी तहसील के कुंडार निवासी देवेंद्र सवार थे।

तलाशी लेने पर गाड़ी में 11.700 किलोग्राम चरस बरामद की गई। शातिरों ने चरस को गाड़ी की खिड़कियों के भीतर की प्लास्टिक शीट को निकालकर चरस छुपाकर रखी गई थी। लिहाजा, पूरी कार्रवाई होने में काफी देर लगी। चरस की बरामदगी के बाद बाकायदा स्थानीय पुलिस को भी इसकी सूचना दी गई।

दोनों से बरामद चरस की कीमत लाखों रुपये में बताई जा रही है। चरस की खेप लेकर यह कहां से आए और कहां जा रहे थे, इसका अभी खुलासा नहीं हो पाया है। एएसपी बबिता राणा ने बताया कि यह मामला एनसीबी की टीम ने पकड़ा है। स्थानीय पुलिस से टीम ने जो सहयोग मांगा था वह दिया गया। 
... और पढ़ें
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00