महिला बंदी की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत

Rohtak Bureau Updated Fri, 08 Dec 2017 01:09 AM IST
अमर उजाला ब्यूरो
सिरसा।
जिला जेल में महिला बंदी की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। महिला बंदी कई दिनों से बीमार थी लेकिन जेल प्रशासन ने उसे उचित उपचार उपलब्ध नहीं करवाया। वीरवार को मजिस्ट्रेट ने महिला के परिजनों का बयान दर्ज किया। परिजनों ने अपने बयानों में जेल प्रशासन पर लापरवाही का आरोप लगाया है।
मृतका महिला की बेटी कोमल का कहना है कि छह माह पहले उसकी मां सती देवी के खिलाफ पुलिस ने केस दर्ज किया था। तभी से उसकी मां जेल में बंद थी। पिछले दो-तीन दिन से उसकी मां की तबियत खराब थी, लेकिन जेल प्रशासन ने उपचार में लापरवाही की, जिससे उसकी मां की मौत हो गई। परिजनों का आरोप है कि जेल प्रशासन कैदियों को उचित उपचार मुहैया नहीं करवा रहा है, जिसके कारण काफी कैदी बीमार हैं। जांच अधिकारी पूनम चंद का कहना है कि महिला बंदी की मौत बीमारी के कारण हुई है। मजिस्ट्रेट ने परिजनों का बयान दर्ज किया है। वीरवार दोपहर शव का पोस्टमार्टम करके परिजनों को सौंप दिया गया।

अचानक हुई तबियत खराब
महिला बंदी को सांस की बीमारी थी। गत दिवस उसे अस्पताल में उपचार के लिए लाया गया था। तबियत ठीक होने पर उसे वापस जेल में ले जाया गया। रात को अचानक उसकी तबियत खराब हुई, उसे अस्पताल में लाया गया। उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई। जेल प्रशासन पर लगाए गए आरोप निराधार हैं।
-अमित भादू, जेल अधीक्षक सिरसा।

Spotlight

Most Read

Dehradun

ढ़ाबे पर हो रहा था गलत काम, अब ये भुगतेंगे अंजाम

एक ढ़ाबे पर लंबे समय से गलत काम हो रहा था। सूचना पर पुलिस ने छापा मारा तो वहां गलत काम होता मिला।

25 फरवरी 2018

Related Videos

61 दिन बाद डेरा लौटा राम रहीम का शाही परिवार, बेटे ने संभाली कमान

साध्वियों से रेप मामले में जेल में बंद डेरा प्रमुख राम रहीम का शाही परिवार अपने डेरा परिसर में वापस लौट आया है। 25 अगस्त को राम रहीम के दोषी करार होने के बाद से ही परिवार ने डेरा छोड़ दिया था।

29 अक्टूबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen