कर्ज माफी का क्या फायदा, अभी भी हर रोज मर रहे हैं किसान!

ब्यूरो/अमर उजाला, फिरोजपुर(पंजाब) Updated Tue, 04 Jul 2017 09:18 AM IST
Farmer Suicide
Farmer Suicide
विज्ञापन
ख़बर सुनें
कस्बा मल्लांवाला के पास स्थित गांव खच्चर में एक किसान ने कर्ज से आहत हो जहर निगलकर खुदकुशी कर ली। किसान पर करीब 12 लाख रुपये कर्ज था। पुलिस के मुताबिक किसान गुरदेव सिंह (35) ने बैंक और आढ़ती से कर्ज लिया था।
विज्ञापन


पत्नी परमजीत कौर ने पुलिस को दिए बयानों में कहा कि उनके पास 3 से 4 एकड़ भूमि थी। गुरदेव कर्ज उतारने में असमर्थ था। इस वजह से वह परेशान रहता था। रविवार रात को वह खेत से करीब डेढ़ घंटे तक वापस घर नहीं लौटा। इसके बाद परिजन उसे देखने खेत चले गए तो वह वहां बेहोशी की हालत में पड़ा था। 


परिजन उसकी नाजुक हालत को देखते अस्पताल लेकर पहुंचे। वहां पर डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। परिजनों का आरोप है कि सरकारी एंबुलेंस को फोन किया था, लेकिन पहुंचने में देरी होने पर वे निजी वाहन में गुरदेव को लेकर अस्पताल पहुंचे। एएसआई सोना सिंह ने बताया कि शव को परिजनों के हवाले कर दिया है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00