बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

महिला सिपाही और कमांडो पति की मौत  

ब्यूरो/अमर उजाला, मुजफ्फरनगर Updated Sun, 21 May 2017 01:07 AM IST
विज्ञापन
महिला आरक्षी सरिता
महिला आरक्षी सरिता - फोटो : amar ujala

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
मुजफ्फरनगर के छपार में नेशनल हाईवे पर हरिद्वार से कार से लौट रहे शहर कोतवाली में तैनात महिला आरक्षी और उसके कमांडो पति की सड़क दुर्घटना में मौत हो गई। महिला सहित तीन अन्य लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। घायलों को मेरठ रेफर कर दिया गया है। दुर्घटना में दंपति की नौ वर्ष की बेटी बाल-बाल बच गई है। एसएसपी ने मौके पर पहुंचकर घटना की जानकारी ली। पुलिस ने दंपति के शवों को पंचनामा भरकर उन्हें पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया। शाम को दोनों के शव परिजनों को सौंपे गए।    
विज्ञापन
             
शहर कोतवाली में तैनात मुरादनगर के थाना दुहाई निवासी महिला आरक्षी सरिता (28) अपने कमांडो पति गाजियाबाद के ढिंढार निवासी रोहित (30) के साथ शुक्रवार शाम कार से हरिद्वार गंगा स्नान के लिए गई थी। कार में दंपति के परिवार के ही संदीप पुत्र राजकुमार, उसकी पत्नी रजनी और अंकित पुत्र तेजवीर भी सवार थे।  शनिवार तड़के सभी कार से लौट रहे थे। कार रोहित चला रहा था। सुबह करीब छह बजे इनकी कार नेशनल हाईवे पर छपार थाना क्षेत्र में मेदपुर गांव के पास डिवाइडर से टकरा गई। टक्कर लगने से कार क्षतिग्रस्त हो गई। हादसे में आरक्षी सरिता की मौके पर ही मौत हो गई। रोहित, संदीप, रजनी और अंकित गंभीर रूप से घायल हो गए। सूचना पर पहुंची पुलिस ने सभी घायलों को जिला चिकित्सालय भिजवाया, जहां से गंभीर हालत के चलते सभी घायलों को मेरठ रैफर कर दिया गया। बाद में रोहित की भी मौत हो गई। मृतक कमांडो की नौ वर्ष की बेटी ईशिका दुर्घटना में बाल-बाल बच गई। घटना का पता चलने पर एसएसपी बबलू कुमार ने घटनास्थल पर जाकर मामले की जानकारी ली। पुलिस ने दोनों के शवों का पंचनामा भरकर उन्हें पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया। मोर्चरी पर दोनों ओर के परिजनों की भीड़ जुट गई थी। मृतका के भाई दीपक ने दुर्घटना को लेकर छपार थाने में तहरीर दी है। शाम को दोनों के शव परिजनों को सौंप दिए गए।       

रोहित को आज जाना था वापस                  
मुजफ्फरनगर। नेशनल हाईवे पर दुर्घटना में मौत का शिकार हुए दंपति में सरिता शहर कोतवाली में आरक्षी थी। दुर्घटना में मौत का समाचार मिलते ही कोतवाली में शोक की लहर दौड़ गई। पूरा स्टाफ घटनास्थल की ओर दौड़ पड़ा।  कोतवाल पीपी सिंह पूरे दिन साथ मौजूद रहे। सरिता के साथ मौत का शिकार बने रोहित अर्द्धसैनिक बल में कमांडो के पद पर तैनात था। फिलहाल उसकी तैनाती आगरा में थी। छुट्टी लेकर शहर में पत्नी के पास आया हुआ था। अचानक ही रात में हरिद्वार जाने का कार्यक्रम बन गया और दोनों मौत का शिकार हो गए। शनिवार को रोहित को वापस आगरा ड्यूटी पर जाना था।                   

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us