विज्ञापन
विज्ञापन
आज ही बनवाएं फ्री जन्म कुंडली और पाएं समस्त परेशानियों के ज्योतिष्य समाधान
Kundali

आज ही बनवाएं फ्री जन्म कुंडली और पाएं समस्त परेशानियों के ज्योतिष्य समाधान

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

विज्ञापन
Digital Edition

Corona In Mathura: एसएसपी, सीओ समेत 49 कोरोना पॉजिटिव, संक्रमितों की संख्या एक हजार पार

मथुरा में कोरोना का संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है। बुधवार को एसएसपी, क्षेत्राधिकारी भी कोरोना वायरस की चपेट में आ गए। वहीं जिले में 49 और नए केस मिले हैं। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार जनपद में अब कोरोना मरीजों की संख्या बढ़कर 1018 हो गई है।
 
बुधवार को एसएसपी, सीओ रिफाइनरी की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। वहीं झिकिन गांव से 53 वर्षीय व्यक्ति, मथुरा रिफाइनरी से 47 वर्षीय व्यक्ति और 37 वर्षीय व्यक्ति की रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई। अडुकी की 58 वर्षीय महिला, मिठोली के 37 वर्षीय व्यक्ति, केसीआर टाउन के 43 वर्षीय व्यक्ति, छत्ता बाजार की 56 वर्षीय महिला, ऑफिसर कॉलोनी की 55 वर्षीय महिला, गोवर्धन की 52 वर्षीय महिला भी संक्रमित मिलीं। 

फरह की 12 वर्षीय बालिका, 22 वर्षीय युवती,  26 वर्षीय महिला, जैंत का 12 वर्षीय बालक, श्रीजी हाइट का 31 वर्षीय व्यक्ति, राया का 22 वर्षीय युवक, कोटवन का 54 वर्षीय व्यक्ति भी पॉजिटिव मिला। 
... और पढ़ें

Krishna Janmashtami: जन्मोत्सव में शिरकत नहीं कर सकेंगे कृष्णभक्त, लाइव देखकर मनेगा जन्मदिन

Ram Janmabhoomi Mandir: ब्रज में हाई अलर्ट, संवेदनशील स्थानों पर पुलिस तैनात, चप्पे-चप्पे पर नजर

एयर इंडिया विमान हादसा : मथुरा के को-पायलट अखिलेश शर्मा की मौत, परिवार में मचा कोहराम

को-पायलट अखिलेश शर्मा को-पायलट अखिलेश शर्मा

Corona In Mathura: संक्रमित वृद्ध की मौत, दो साल की मासूम सहित परिवार के छह सदस्य पॉजिटिव

मथुरा में शुक्रवार को 37 नए कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। निजी अस्पताल में भर्ती 62 वर्षीय वृद्ध की कोरोना संक्रमण से शुक्रवार की शाम मौत हो गई। मंडी रामदास निवासी वृद्ध को तीन दिन पहले ही पॉजिटिव मिलने पर भर्ती कराया गया था। अब तक जिले में कोरोना से 42 लोगों की मौत हो चुकी हैं। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर 1116 हो गई है। 

कोटवन कोसीकलां से 25 वर्षीय व्यक्ति, मदन विहार कॉलोनी से 38 वर्षीय व्यक्ति, बाजना से 54 वर्षीय महिला, एमआर नगर से 59 वर्षीय व्यक्ति, 45 वर्षीय महिला, 32 वर्षीय व्यक्ति, प्रिया नगर से 43 वर्षीय व्यक्ति, नयति हॉस्पिटल में भर्ती 43 वर्षीय व्यक्ति, जैत से 18 वर्षीय युवक, दामोदरपुरा से 68 वर्षीय व्यक्ति, फरह से 30 वर्षीय व्यक्ति, शाहपुरा गोसना में 28 वर्षीय महिला, गताश्रम टीला से 63 वर्षीय महिला, मथुरा से 27 वर्षीय व्यक्ति, गोवर्धन से 72 वर्षीय महिला, कृष्णा नगर से 32 वर्षीय महिला, सिकंदरा आगरा निवासी 28 वर्षीय व्यक्ति की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। 

ये भी पढ़ें-  Corona Virus In Kasganj: पुलिसकर्मियों सहित 17 कोरोना पॉजिटिव मिले

गोवर्धन रोड से 50 वर्षीय महिला, 26 वर्षीय युवक, नरसी विहार से 26 वर्षीय व्यक्ति, कोसीकलां से 24 वर्षीय व्यक्ति, मांट से 32 वर्षीय व्यक्ति, 55 वर्षीय व्यक्ति, गोवर्धन से 50 वर्षीय महिला और  रेपुरा जाट से 30 वर्षीय महिला की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।  ... और पढ़ें

'मैं तुम्हें चाहती हूं, तुम भी मुझे चाहते हो न...' डॉक्टर दीप्ति की मौत की कहानी, पन्नों की जुबानी

कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद इलाके को सैनिटाइज करता कर्मचारी

कृष्ण के प्रेम में दीवानी हुई युवती, मेहंदी और सिंदूर लगाकर पहुंची कान्हा के द्वार

कान्हा की लीलाओं ने ऐसा जादू किया कि इटावा की युवती कृष्ण कन्हैया की प्रेम दीवानी हो गई। कान्हा के नाम का मांग में सिंदूर और हाथों में मेहंदी लगाकर घरवार छोड़कर वृंदावन में ठाकुर श्रीबांकेबिहारी के द्वार आ गई। पुलिस के सहयोग से वृंदावन पहुंचे परिजन शुक्रवार को युवती को समझा-बुझाकर घर लेकर गए।

इटावा की रहने वाली 18 साल की युवती कृष्ण की ऐसी दिवानी हुई कि उसने घर छोड़कर मथुरा की राह पकड़ ली। वो पैदल मथुरा पहुंच गई। युवती यहां के रास्तों से अनजान थी। टेंपो और बस चालक गोवर्धन के लिए आवाज लगा रहे थे तो गोवर्धन पहुंच गई। 


जब यहां बाजार बंद देखा तो युवती ने वृंदावन की राह पकड़ ली। श्रीबांकेबिहारी मंदिर के आसपास घूमते हुए आश्रम की तलाश करने लगी, लेकिन कोई सहारा न मिला तो फिर मंदिर के पास ही आकर बैठ गई। यहां एक व्यक्ति ने उसे कनकधारा फाउंडेशन की संस्थापक डॉ लक्ष्मी गौतम तक पहुंचाया। 
... और पढ़ें

Krishna Janmashtami: नंदभवन में 11 अगस्त को मनाया जाएगा कान्हा का जन्मदिन, बधाई का दौर शुरू

इस बार दो दिन मनेगी जन्माष्टमी, नंदगांव में 11 और श्री कृष्ण जन्मस्थान पर 12 को उत्सव

इस बार श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का त्योहार दो दिन मनाया जाएगा। ऐसा तिथि और नक्षत्र में अंतर के कारण होगा। इस बार नंदगांव में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी 11 अगस्त और श्री कृष्ण जन्मभूमि, ठाकुर बांकेबिहारी मंदिर, द्वारिकाधीश मंदिर में 12 अगस्त को कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा। श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के लिए ब्रज में तैयारी शुरू हो गई है और मंदिरों को सजाया-संवारा जा रहा है।

श्री कृष्ण जन्मस्थान सेवा संस्थान के सचिव कपिल शर्मा ने बताया कि श्री कृष्ण जन्मभूमि में श्री कृष्ण जन्माष्टमी 12 अगस्त को मनाई जाएगी। महोत्सव को भव्य और आकर्षक बनाने को लेकर संस्थान सदस्यों की बैठक में निर्णय लिया जाएगा। इधर, द्वारिकाधीश मंदिर के विधि और मीडिया प्रभारी राकेश तिवारी एडवोकेट ने बताया कि मंदिर में 12 अगस्त को श्री कृष्ण जन्माष्टमी मनाई जाएगी।

वहीं ठाकुर बांकेबिहारी मंदिर में भी 12 अगस्त को श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा। इससे इतर विश्व प्रसिद्ध नंदबाबा मंदिर में 11 अगस्त को परंपरा अनुरूप श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर्व मनाया जाएगा। मंदिर के सेवायत मुकेश गोस्वामी ने बताया कि पूर्णिमा से बधाइयों को दौर शुरू हो गया है। इसी दिन से ही रात्रि से नंदभवन में बधाई गायन कर उत्सव मनाया जाना शुरू हो जाता है।

12 अगस्त को मनाएं श्रीकृष्ण जन्माष्टमी
पंचांग के अनुसार, प्रतिवर्ष श्रीकृष्ण जन्माष्टमी भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि और रोहिणी नक्षत्र में मनाया जाता है। कई बार ज्योतिष गणना में तिथि और नक्षत्र में समय का अंतर रहता है। इस कारण तारीखों में मतभेद होता है। आचार्य श्यामदत्त चतुर्वेदी ने बताया कि भाद्रपद कृष्ण अष्टमी तिथि का प्रारंभ 11 अगस्त सुबह 9 बजकर 6 मिनट से हो रहा है, जो 12 अगस्त को दिन में 11 बजकर 16 मिनट तक रहेगी। वहीं रोहिणी नक्षत्र का प्रारंभ 13 अगस्त को तड़के 3 बजकर 27 मिनट से हो रहा है और समापन सुबह 5 बजकर 22 मिनट पर होगा। ऐसे में 12 अगस्त को जन्माष्टमी मनाना उचित रहेगा।

जन्माष्टमी पूजा का समय
जन्माष्टमी की पूजा के लिए इस बार 43 मिनट का समय मिलेगा। 12 अगस्त की रात 12 बजकर 5 मिनट से 12 बजकर 48 मिनट तक श्रीकृष्ण जन्म की पूजा करना शुभ है।

जन्माष्टमी व्रत
श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का व्रत सभी आयु वर्ग के लोग कर सकते हैं। हालांकि स्वास्थ्य समस्या पर व्रत नहीं करें। ज्योतिषीय मान्यताओं के अनुसार, जन्माष्टमी का व्रत करने से व्यक्ति को बाल कृष्ण जैसी संतान प्राप्त होती है।
... और पढ़ें

भूमि पूजन समारोह के मुख्य पुरोहित बोले, प्रधानमंत्री देते दक्षिणा तो मांगता मथुरा-काशी के साथ गौ हत्या से मुक्ति

अयोध्या में भगवान श्रीराम के मंदिर का भूमि पूजन कराने वाले मुख्य पुरोहित गंगाधर पाठक बृहस्पतिवार को वृंदावन लौट आए। कार्यक्रम को चक्रवर्ती सम्राट के अश्वमेध यज्ञ की संज्ञा देते हुए उन्होंने कहा कि भूमि पूजन के यजमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उनसे दक्षिणा की पूछते तो वह मथुरा-काशी के साथ गो माता की वध से मुक्ति मांगते।

ब्राह्मण सेवा संघ द्वारा आयोजित स्वागत-सत्कार कार्यक्रम में गंगाधर पाठक ने कहा कि देश में विद्वान लोग बहुत हैं, लेकिन उन्हें इस राष्ट्रीय अनुष्ठान में यह मौका मिला, जो कि उनके किसी पूर्व जन्म का संस्कार रहा होगा। उन्होंने कहा कि राजा, महाराजाओं ने मंदिर तो बहुत बनवाए हैं लेकिन लोकतांत्रिक व्यवस्था में किसी शासक ने मंदिर की नींव नहीं रखी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सनातनियों के प्राण हैं और नए भारत की नींव रख रहे हैं। ऐसे चक्रवर्ती सम्राट को दक्षिणा के बारे में पुरोहित से पूछना चाहिए था लेकिन हमारे यजमान ने दक्षिणा के बारे में हमसे नहीं पूछा। हालांकि उन्होंने कहा यदि प्रधानमंत्री उनसे दक्षिणा की पूछते तो वह गो माता को वध से मुक्त करने की दक्षिणा मांगते। वहीं अयोध्या के बाद मथुरा और काशी की मुक्ति की दक्षिणा प्रधानमंत्री से मांगता। 
हालांकि उन्होंने यह भी बताया कि प्रदेश सरकार ने उन्हें श्रीराम मंदिर के धार्मिक अनुष्ठान का पारिश्रमिक प्रदान किया है, जिसे वे दक्षिणा नहीं मानते हैं। इधर, हरिदास धाम में आयोजित सम्मान समारोह में अविनाश शर्मा, सत्यभान शर्मा, महेश बाबा, अशोक यज्ञ, श्रुतिधर पाठक, सर्वेश तिवारी, जानकी शरण, जगदीश शर्मा, विमल चैतन्य, जगदीश नीलम, रमाकांत शुक्ल, प्रिया शरण आदि ने उन्हें सम्मानित किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता पंडित चंद्रलाल शर्मा और संचालन आनंद बल्लभ गोस्वामी ने किया।
... और पढ़ें

यूपीः वृंदावन के आचार्य ने कराया श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए भूमिपूजन

अयोध्या में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा भगवान श्रीराम के मंदिर की नींव रखे जाने के दौरान वृंदावन के लोगों की निगाहें उस वक्त ठहर गईं, जब उन्हें दिखाई दिया कि कैलाश नगर के गंगाधर पाठक यहां आचार्य की भूमिका में हैं। वे प्रधानमंत्री से मंदिर की नींव के लिए मुख्य आयोजन स्थल पर धार्मिक अनुष्ठान करा रहे थे।

कैलाश नगर सेक्टर दो निवासी आचार्य गंगाधर ने अमर उजाला से फोन पर हुई बातचीत में बताया कि भगवान श्रीराम के मंदिर के लिए गठित ट्रस्ट के कोषाध्यक्ष गोविंद गिरी महाराज ने पांच अगस्त के लिए मंदिर निर्माण का शुभ मुहूर्त निकालने की जिम्मेदारी एक माह पहले दी थी। तय समय को लेकर कुछ आपत्तियां आईं लेकिन उसका समाधान करने के बाद पूजन का तय हुआ। 

ये भी पढ़ें- 
आसमान में गूंजा श्रीराम का उद्घोष, मंदिर जगमगाए, घरों में दीप जलाए, मुस्लिमों ने बांटी मिठाई

उनके साथ भगवान श्रीराम के मंदिर निर्माण की नींव के पूजन कार्यक्रम में शामिल होने के लिए पुत्र श्रुति पाठक भी अयोध्या गए। बताया कि श्रीराम मंदिर ट्रस्ट के कोषाध्यक्ष गोविंद गिरी महाराज का आश्रम वृंदावन में भी है, जहां उनसे संपर्क हुआ था। कैलाश नगर निवासी प्रशांत कौशिक बताते हैं कि वे भूमिपूजन का सीधा प्रसारण देख रहे थे। इस दौरान आचार्य पाठक को देखकर खुशी हुई है। ... और पढ़ें
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us